• प्राकृतिक आपदा

    प्राकृतिक आपदा पर लेख

    भारत में प्राकृतिक आपदाओं जैसे बाढ़, सूखा, चक्रवात और भूकंप आदि से व्यापक क्षति होती रही है। आपदा प्रबंधन बहुआयामी, बहु-अनुशासनात्मक और क्षेत्रीय दृष्टिकोण, जिसमें इंजीनियरिंग, सामाजिक और वित्तीय आदि ...
  • किसान आत्महत्या पर लेख

    किसानों की आत्महत्या किसी भी समाज के लिए एक बेहद शर्मनाक स्थिति है। आखिर वो कौन सी परिस्थितियां हो सकती हैं जिसकी वजह से किसान, जो सबके लिए अनाज उपजाता ...
  • स्वच्छ भारत अभियान

    स्वच्छ भारत अभियान पर लेख

    एक सर्वेक्षण के अनुसार, भारत में 26 लाख से अधिक लोगों को खुले में शौच करने की आदत है। लगभग 60 प्रतिशत भारतीयों को अभी तक सुरक्षित और निजी शौचालय ...
  • ग्लोबल वार्मिंग

    ग्लोबल वार्मिंग पर लेख

    ग्लोबल वार्मिंग या जलवायु परिवर्तन पूरी दूनिया में चिंता का विषय बना हुआ है। धीरे-धीरे यह समस्या  एक अभूतपूर्व पर्यावरण संकट में विकसित हो रही है जो पिघलते ग्लेसियरों, मौसम ...
  • स्वास्थ्य और तंदरुस्ती

    सेहत एवं तंदुरुस्ती पर लेख

    सेहत एवं तंदुरुस्ती एक लंबे सक्रिय और सुखद जीवन की कुंजी है। सच ही तो कहते हैं कि अच्छी सेहत ही वास्तविक धन है जिसे व्यक्ति संभाल कर रख सकता ...
  • प्रदूषण

    प्रदूषण पर लेख

    प्रदूषण पर्यावरण को हानिकारक बनाने में अपना योगदान देता है और इसके दुष्परिणाम सभी जीव-जंतुओं को भुगतने पड़ते हैं और इस वजह से दुनिया भर में प्रदूषण एक भारी चिंता ...
  • महिला सशक्तिकरण

    महिला सशक्तिकरण पर लेख

    महिला सशक्तिकरण का तात्पर्य है महिलाओं को उनके जीवन एवं कार्य क्षेत्र के संबंध में निर्णय लेने का अधिकार होना एवं उन्हें व्यक्तिगत, सामाजिक, आर्थिक, राजनीतिक एवं  कानूनी सभी क्षेत्रों ...
  • जल संरक्षण

    जल संरक्षण पर लेख

    पूरे ब्रह्मांड में पृथ्वी ही एकमात्र ज्ञात ग्रह है जहां जीवन संभव है और इसकी वजह सिर्फ इतनी है कि यहां जल एवं ऑक्सीजन दोनो ही उपलब्ध हैं। जल पृथ्वी ...