कुत्ते पर निबंध

हम यहाँ विद्यार्थियों की मदद करने के उद्देश्य से विभिन्न शब्द सीमाओं में बहुत से, कुत्ते पर निबंध उपलब्ध करा रहे हैं। आजकल, स्कूल या कॉलेज में विद्यार्थियों के ज्ञान और कौशल को बढ़ाने के लिए किसी पर विषय पर निबंध लेखन और पैराग्राफ लेखन की रणनीति शिक्षकों द्वारा आमतौर पर प्रयोग की जाती है। यहाँ उपलब्ध सभी निबंध पेशेवर लेखकों द्वारा सरल शब्दों और आसान वाक्यों का प्रयोग करके विभिन्न शब्द सीमाओं में विद्यार्थियों की आवश्यकताओं और जरुरतों की पूर्ति के लिए लिखे गए हैं। इसलिए, विद्यार्थी इनमें से कोई भी कुत्ते पर निबंध को चुन सकते हैं।

कुत्ते पर निबंध (डॉग एस्से)

Find here essay on dog in Hindi language in different words limit like 100, 150, 200, 250, 300, and 400 words.

कुत्ते पर निबंध 1 (100 शब्द)

कुत्ते की वैज्ञानिक नाम कैनिस लुपुस फैमिलिरिस है। यह एक घरेलु पालतु जानवर है। यह स्तनधारियों की श्रेणी में आता है क्योंकि यह एक पिल्ले को जन्म देता है और अन्य स्तनधारियों की तरह अपना स्तनपान कराता है। मूल रूप से कुत्ते भेड़ियों की नस्ल के हैं। यह मनुष्य द्वारा सबसे पहले पालतु बनाया जाने वाला जानवर माना जाता है। कुत्तों की बहुत सी नस्लें हैं, जिन्हें मनुष्य द्वारा पालतु पशु के रुप में प्रयोग किया जाता है। इनका स्वभाव बहुत ही मददगार होता है और इसे मनुष्य का सबसे अच्छा मित्र माना जाता है। ये मानव के लिए बहुत साल पहले ही वफादार साबित हो चुके हैं। ये मनुष्य के बोलने के तरीके और स्वभाव को भली-भाँति (अच्छी तरह से) समझते हैं। ये मांस, सब्जियाँ, बिस्कुट, दूध, और अन्य तैयार भोजन जो विशेषरुप से कुत्तों के लिए तैयार किए जाते हैं, को खा सकते हैं। ये बहुत अच्छे से अपने कर्तव्यों का पालन करते हैं, यही कारण है कि, ये फायर डॉग, पुलिस डॉग (पुलिस के कुत्ते), सहायक कुत्ते, सेना के कुत्ते, शिकारी कुत्ते, दूत कुत्ते, बचाव कुत्ते, चरवाहा कुत्ते, आदि के रूप में इस्तेमाल किए जाते हैं।

कुत्ते

कुत्ते पर निबंध 2 (150 शब्द)

कुत्ता एक पालतु जानवर है और मानवता के लिए बहुत ही उपयोगी और आज्ञाकारी जानवर साबित हो चुका है। यह बहुत सी नस्लों में पूरी दुनिया में पाया जाता है। यह बहुत सतर्क जानवर है और बहुत ईमानदारी से अपने कर्तव्यों को पूरा करता है। यह तेज दिमाग और चमकदार आँखों को रखता है। यह सर्वाहारी पशु है जो पेड़-पौधों और जानवर दोनों से उत्पन्न आहार को खा सकता है। यह मांस को फाड़ने, यहाँ तक कि हड्डियों को खाने के लिए नुकीले दाँत रखता है।

इन्हें उचित प्रशिक्षण के माध्यम से आसानी से सिखाया और नियंत्रित किया जा सकता है। कुत्तों की विभिन्न नस्लों के अनुसार, कुछ कुत्तों के पूरे शरीर पर या केवल गर्दन पर बहुत बड़े-बड़े बाल (फर) होते हैं। आमतौर पर, कुत्ते की पूँछ टेड़ी, धुमावदार या मुड़ी हुई और बालों वाली होती है। वे रंग, आकार, और वजन में अलग-अलग होते हैं। यह बहुत ही वफादार जानवर है और कभी भी अपने मालिक को धोखा नहीं देता हैं। यह अपने मालिक के घर की 24 घंटे चोरों से देखभाल करता है। यह बहुत ही मित्रवत होता है हालांकि, पागल होने पर बहुत ही खतरनाक हो जाता है।

 

कुत्ते पर निबंध 3 (200 शब्द)

कुत्ता एक प्रसिद्ध घरेलू जानवर है। यह बहुत वफादार होता है और मनुष्य का सबसे वफादार दोस्त भी होता है। जंगली कुत्ते बहुत ही खतरनाक होते हैं हालांकि पालतु कुत्ते बहुत ही मित्रवत होते हैं। ये बहुत वफादारी से अपने कर्तव्यों को पूरा करते हैं, यही कारण है कि मनुष्य इसे बहुत पसंद करता है। लोग इसकी सेवाओं को बहुत प्यार करते हैं। ये विभिन्न प्रकारों में उपलब्ध है: उनमें से कुछ ग्रे हॉन्ड्स, बुल डॉग, ब्लड हॉन्ड्स, लैप डॉग, आदि है। यह मांस खाता है हालांकि, यह पौधों से उत्पन्न आहार को भी खाता है, इसी वजह से इसे मांसाहारी साथ ही सर्वाहारी भी कहा जाता है। इसके दाँत बहुत ही तेज और नुकीले होते हैं, जो मांस फाड़ने में इसकी मदद करते हैं। कुछ कुत्ते लम्बी पूँछ रखते हैं हालांकि, कुछ की पूँछ छोटी होती है।

इसकी पतली और मजबूत टाँगे तेज दौड़ने में इसकी मदद करती हैं। कुत्ते आमतौर पर, आकार, ऊँचाई, वजन, रंग और व्यवहार में भिन्न होते हैं। कुत्ते बहुत सी चीजें (मुख्य रुप से मांस) खाते हैं हालांकि, एक घरेलु और प्रशिक्षित पालतु कुत्ता मांस खाना छोड़ सकता है और शाकाहारी भोजन के साथ ही जीवित रह सकता है। यूरोपियन और जंगली कुत्ते मांस खाने के बहुत ही शौकीन होते हैं और मांस पर ही जीवित रहते हैं। एक पालतु कुत्ता सामान्य रोटी, ब्रेड, चावल, और दूध भी खा सकता है। कुत्ते बहुत से क्षेत्रों में बहुत ही उपयोगी होते हैं; जैसे – गार्ड (सुरक्षा), पुलिस, सेना आदि में। बच्चे कुत्तों के साथ खेल के मैदान में खेलना पसंद करते हैं। घरेलु कुत्ते परिवारों के साथ परिवार के सदस्य के रुप में रहते हैं क्योंकि वे परिवार के सभी सदस्यों के साथ बहुत जल्दी ही अपनी वफादारी के कारण दिल से जुड़ जाते हैं। प्रशिक्षित कुत्ते अपने मालिक के प्रति बहुत ही वफादार होते हैं और आश्चर्यजनक चीजों को करते हैं।

 

कुत्ते पर निबंध 4 (250 शब्द)

कुत्ता एक पालतु जानवर है और मनुष्य का सबसे अच्छा दोस्त माना जाता है। परिवार के साथ रहने वाला एक प्रशिक्षित कुत्ता सभी का प्रिय मित्र बन जाता है। यह पूरे दिन बिना कुछ भी वापस माँगे घर, कार्यालयों, और व्यक्ति की देखरेख करता है। यह अपने मालिक की इज्जत दिल से करता है और उसकी गंध से उपस्थिति का अनुमान लगा सकता है। कुत्ते बहुत से प्रकार के होते हैं; जैसे – बुल डॉग, ब्लड हॉन्ड्स, ग्रे हॉन्ड्स, लैप डॉग, आदि। एक कुत्ते के तेज और नुकीले दाँत होते हैं, जिससे कि बहुत ही आसानी से मांस खा सकता है। इसकी चार टाँगें, दो कान, दो आँख, अक पूँछ, एक मुँह, और एक नाक होती है। यह बहुत ही चालाक पालतु जानवर है और चोरों व अपराधियों को पकड़ने में बहुत ही उपयोगी साबित हो चुका है। यह ऐसा इसलिए कर पाता है, क्योंकि इसके सुनने और सूँघने की क्षमता बहुत ही शक्तिशाली होती है। इसकी महान सेवा के कारण लोग इसे प्यार करते हैं।

जंगली कुत्ते मांसाहरी होते हैं हालांकि पालतु कुत्ते सर्वाहारी हो सकते हैं क्योंकि वे रोटी, चावल, मछली, मांस आदि खाते हैं। यह बहुत ही बुद्धिमान और अपने मालिक के प्रति बहुत ही वफादार होता है। इसकी बुद्धिमत्ता के कारण पुलिस, सेना द्वारा अपराधियों को सूँघने और अन्य छानबीन करने के लिए प्रयोग किया जाता है। कुत्ते गंध (सूँघने) के माध्यम से चोरों और डाकुओं को बहुत ही आसानी से पकड़ सकते हैं। एक पालतु कुत्ते को परिवार के सदस्य की तरह माना जाता है और उसे बहुत प्यार किया जाता है। पालतु कुत्ता बहुत अच्छा दोस्त और जांचकर्ता साबित हो चुका है। ये जांच विभाग द्वारा समस्याओं का समाधान पाने के लिए सुरक्षा एजेंट के रूप में इस्तेमाल किए जाते हैं। यह बहुत ही चालाक जानवर कहा जाता है क्योंकि यह उचित प्रशिक्षण के माध्यम से कुछ भी आसानी से सीख सकता है।

 

कुत्ते पर निबंध 5 (300 शब्द)

कुत्ते का वैज्ञानिक नाम कैनिस लुपुस फैमिलिरिस है। यह पूरे विश्वभर में पाए जाते है और मुख्य पालतु जानवर माना जाता है और घरों में पालतु जानवर की तरह रखा जाता है। कुत्ते जंगली भी हो सकते हैं और अफ्रीका, एशिया और आस्ट्रेलिया के जंगलों में पाए जाते हैं। कुछ कुत्ते जो पालतु नहीं है और गली में इधर-उधर घूमते रहते है, उन्हें गली के कुत्ते कहा जाता है। जंगली कुत्ते भारत में बहुत ही कम पाए जाते हैं; जैसे – हिमाचल प्रदेश, असम, उड़ीसा, आदि और लोमड़ी और भेड़ियों की तरह होते हैं। वह स्थान जहाँ कुत्ता रहता है, उसे कैनल कहा जाता है। इसके बच्चे को पप्पी, पॉप या पिल्ला कहा जाता है। कुत्ते रंगों, आकारों, वजनों, और आदतों में भिन्न होते हैं, जो उनके प्रकार पर निर्भर करता है। यह चार पैरों वाला मांसाहारी पशु है हालांकि, पालतु कुत्ता सर्वाहारी भी हो सकता है।

कुछ कुत्ते ग्रीनलैंड, साइबेरिया जैसे ठंड़े प्रदेशों में भी पाए जाते हैं। एक मादा कुत्ता एक समय में 3-6 पिल्लों को जन्म दे सकती है। मादा कुत्ता पिल्लों को दूध पिलाती है और आत्मनिर्भर होने तक उनका ध्यान रखती। एक कुत्ते की जीवन अवधि 12 से 15 साल की होती है। कुत्ता दिन में सोता है हालांकि, रात को सक्रिय रहता है, इसी वजह से इसे रात का जानवर कहा जाता है। यह बहुत तरह की आवाजें निकालता है, जो इसके अलग-अलग मूड़ को दर्शाता है, जैसे- चीख (हॉव्ल), गुराना, भौंकना आदि। यह बहुत तेज दौड़ता है, जिसके कारण चोरों और अपराधियों को पकड़ने में पूरी तरह से सक्षम होता है। कुत्ते डिजिटिग्रेड जानवर के रुप में जाने जाते हैं, क्योंकि ये चलते या दौड़ते समय अपने पैरों के अंगूठों का प्रयोग करते हैं। मांस खाने के लिए उनके पूरी तरह से विकसित कैनाइन दाँत होते हैं। उनके सूँघने और सुनने की क्षमता बहुत अच्ची होती है, जिसकी वजह से इन्हें पुलिस और सेना में अपराधियों की पहचान करने के लिए प्रयोग किया जाता है। इसकी दृष्टि और समझने की शक्ति तेज होती है, इस प्रकार इसे बुद्धिमान जानवर कहा जाता है। इसकी जीभ में मीठी ग्रन्थियाँ पाई जाती है, जो हाँफने की प्रक्रिया द्वारा खुद को ठंड़ा रखने में मदद करती हैं।

 

कुत्ते पर निबंध 6 (400 शब्द)

कुत्ता एक पालतू जानवर और मनुष्य का सबसे अच्छा दोस्त माना जाता है। यह एक व्यक्ति को प्यार और ईमानदार से भरा साथ देता है। यह अपने मालिक को बहुत अधिक प्यार करता है और उसको सम्मान देता है और उसके साथ सभी जगह जा सकता है। यह मालिक के सामने पूँछ को हिलाकर और उसके हाथ या मुँह को चाटकर उसके प्रति अपना प्रेम दिखाता है। यह पूरे जीवनभर बहुत तरीकों से अपने मालिक की मदद करता है। यह लोगों के अकेलेपन को उन्हें मित्रवत साथ देकर दूर करता है। यह किसी अंजान व्यक्ति को अपने घर के अन्दर कभी भी प्रवेश नहीं करने देता या मालिक की किसी भी चीज को छूने नहीं देता है। जब कभी भी कोई अजनबी घर की ओर आता है तो यह जोर-जोर से भौंकना शुरु कर देता है।

जब कभी भी अजनबी या चोर इसके भौंकने को नजअंदाज करते हैं या कोई शरारत करते हैं तो यह काट भी सकता है। कुछ लोग आसानी से इससे डर जाते हैं हालांकि कुछ कभी भी इससे नहीं डरते हैं। कुछ लोग जो पालतु भेड़ रखते हैं उनके पास कुत्ते अवश्य होते हैं क्योंकि वे भेड़ों की देखभाल करने के लिए बहुत ही उपयोगी होते हैं। वे किसी भी भेड़ियें या लोमड़ी को भेड़ों के पास या आक्रमण करने की अनुमति नहीं देते हैं। यह बहुत ही देख-रेख करने वाला जानवर है और अजनबियों, चोरों और अपराधियों को पकड़ सकता है, यहाँ तक कि वे कहीं भी छिपे ही क्यों न हो। छिपे हुए चोरों या अपराधियों को खोजने के लिए कुत्ते अपनी सूँघने की क्षमता का प्रयोग करते हैं। इसकी देख-रेख वाले स्वाभव और बुद्धिमत्ता के कारण, पुलिस, सेना या अन्य जांचकर्ता विभाग के द्वारा खूनियों और अपराधियों को पकड़ने के लिए इसका सबसे अधिक प्रयोग किया जाता है। यह पुलिसवालों को उस स्थान तक ले जाता हैं, जहाँ खूनी या अपराधी छिपा हुआ होता है।

यह अपने मालिक को कभी भी नहीं छोड़ता, चाहे वह गरीब, भिखारी या अमीर हो। यह बहुत ईमानदारी से अपने मालिक के सभी आदेशों का अनुसरण करता है। यह सभी समय अपने मालिक की सेवा में सतर्क रहता है, चाहे वह दिन हो या रात। यही कारण है कि, यह बहुत ही वफादार जानवर कहा जाता है। इसका स्वभाव बहुत ही सतर्क रहने वाला होता है और रात में बहुत धीमी आवाज को सुनकर बहुत जल्दी कार्यवाही करता है। यह बहुत दूरी से ही अपने मालिक की उपस्थिति को उसकी गंध के माध्यम से महसूस कर लेता है और उसका घर में स्वागत करने के लिए तैयार हो जाता है। कुत्ते की जीवन अवधि बहुत ही कम होती है हालांकि, यह 12 से 15 साल तक जीवित रहता है। कुत्ते की जीवन अवधि उनके आकार के अनुसार अलग होती है, जैसे – छोटे कुत्तों का अधिक जीवन और बड़े कुत्तों का कम जीवन।

एक मादा कुत्ता पिल्लों को जन्म देती है और अपना दूध पिलाती है, जिसके कारण कुत्तों को स्तनधारियों की श्रेणी में रखा जाता है। कुत्ते के बच्चे को पॉप, पप्पी या पिल्ला कहा जाता है और इसके घर को कैनल कहा जाता है। ठंड़े देशों में लोग कुत्तों को स्लेड्ज़ खींचने के लिए प्रयोग करते हैं। कुत्तों को लोगों की सेवा करने के अनुसार श्रेणीबद्ध किया जाता है; जैसे- गार्ड कुत्ते, हैरडिंग (चरवाहा) कुत्ते, शिकारी कुत्ते, पुलिस के कुत्ते, पथप्रदर्शक कुत्ते, खोजी कुत्ते आदि।