खुशी पर निबंध

ख़ुशी वह है जिसे शब्दों में वर्णन करना मुश्किल है। इसे केवल महसूस किया जा सकता है। अच्छा जीवन जीने के लिए खुश होना बेहद जरूरी है लेकिन दुर्भाग्य से ज्यादातर लोगों के जीवन से ख़ुशी गायब हो चुकी है। अलग-अलग लोगों के पास खुशी के विभिन्न विचार हैं। कुछ लोग मानते हैं कि यह पैसे में पाई जा सकती है, कुछ लोग प्यार में होते हैं तो ख़ुशी का अनुभव महसूस करते हैं और कुछ को ख़ुशी और संतुष्टि तब महसूस होती है जब वे पेशेवर जिंदगी में अच्छा काम करते हैं। आपकी परीक्षा में इस विषय पर आपकी मदद करने के लिए हमने यहाँ अलग-अलग लंबाई के ‘खुशी पर निबंध’ उपलब्ध करवाएं हैं। आप अपनी आवश्यकता के अनुसार किसी भी ‘ख़ुशी पर निबंध’ का चयन कर सकते हैं:

खुशी पर निबंध (Essay on Happiness in Hindi)

खुशी पर निबंध – 1 (200 शब्द)

खुशी एक बहुत ही सरल शब्द है जिसका सामान्यतः उपयोग किया जाता है। यहां तक ​​कि एक छोटा बच्चा भी खुशी का अर्थ बता सकता है लेकिन हम में से कितने सच में खुशी का अर्थ जानते हैं और यह किस प्रकार प्राप्त की जा सकती है? ज्यादा कुछ नहीं! अधिकांश लोग बाहर खुशी की तलाश करते हैं। उनका मानना ​​है कि अगर उनके पास कुछ चीजें हो या कुछ लोगों का साथ हो या अपने पेशे में ऊंचाई तक पहुंच जाएँ तो वे खुश रह सकते हैं। यह उन्हें बचपन से सिखाया जाता है। सभी उल्लेखनीय चीजें एक अच्छी ज़िंदगी के लिए जरूरी हैं लेकिन जरुरी नहीं कि वे खुशी भी ला सके।

खुशी वह है जो केवल आप ही अपने लिए ला सकते है। यदि आप खुश रहना पसंद करते हैं और तदनुसार विचारों को अभ्यास में लाना चाहते हैं तो आपको खुशी प्राप्त होगी। हालांकि यह उतना आसान नहीं है जितना लगता है। आपको यह काम करने के लिए प्रयास करने की आवश्यकता है। दूसरा यह एक बार की गतिविधि नहीं है। आपको इस स्थिति को प्राप्त करने के लिए दैनिक रूप से कुछ चीजों का अभ्यास करना होगा।

अब जब आपको खुद के भीतर खुशी की तलाश करनी पड़ रही है तो आपको अपने परिवार और दोस्तों से सहायता प्राप्त करने की आवश्यकता है। कई लोग आजकल अवसाद से पीड़ित हैं क्योंकि वे अपनी समस्याओं से खुद निपटना चाहते हैं बजाए दूसरों को शामिल करने के। यह गलत है! सच्ची खुशी पाने के लिए खुद के अंदर झांकना महत्वपूर्ण है लेकिन सकारात्मक लोगों के साथ रहना भी उतना ही महत्वपूर्ण है।


 

खुशी पर निबंध – 2 (300 शब्द)

प्रस्तावना

ख़ुशी आनंद की एक अवस्था है। यदि आप इस स्थिति में रहने के लिए अपने मस्तिष्क को प्रशिक्षित करते हैं तो वह उसी तरह रहना सीख जाएगा। ऐसा इसलिए है क्योंकि आपका मन जो कुछ भी कहता है आपका दिमाग वही मानता ​​है। हालांकि यह उतना आसान नहीं है जितना लगता है। आप समय-समय पर खुशी का अनुभव कर सकते हैं लेकिन इस अवस्था में बने रहने के लिए महीनों या साल भी लग सकते हैं।

खुशी को आकर्षित करने के तरीके

कुछ हालिया अध्ययनों के अनुसार कुछ आदतें खुशी को आकर्षित करती हैं और इसे हमेशा के लिए बनाए रखती है:

  1. संतुष्ट रहें

विभिन्न स्थितियों में अति-उत्साहित या उदास होने के बजाए आपको इन सक्रिय भावनाओं जैसे शांति और संतोष को निष्क्रिय करने में परिवर्तन करना चाहिए। इन भावनाओं को स्वस्थ बनाए रखना भी आसान है।

  1. वर्तमान में रहना

आपको अपनी पिछली गलतियों के बारे में सोचना बंद कर देना चाहिए। गलतियां सबसे होती हैं। कोई भी हर काम में पूरी तरह कुशल नहीं होता। अपने आप को दोष देने या अपने जीवन में किए गए सभी बुरे फैसलों के लिए खुद को दोषी करार देना बंद करिए। इसके अलावा अपने भविष्य के बारे में चिंता करना बंद करें। वर्तमान पल में जिएं। अच्छे समय को हाथ से ना जाने दें।

  1. आभारी होना

अपने सभी पिछले क्षणों और निर्णयों को याद रखें जिनसे आपको ख़ुशी मिलती है और आपको आनंदित करती है। ऐसी खुशी के क्षणों को पाने के लिए भगवान के आभारी रहें।

  1. सकारात्मक सोच लाएं

आपके विचार आपकी वास्तविकता बनाते हैं। सकारात्मक विचार और सकारात्मक मन जीवन में सकारात्मक चीजों को आकर्षित करते हैं और नकारात्मक विचार नकारात्मक अनुभवों का अहसास कराते हैं। इसलिए खुशी का अनुभव करने का एकमात्र तरीका है कि आप अपने आस-पास सभी के बारे में अच्छा सोचें।

  1. सकारात्मक सोच वाले व्यक्तियों के आस-पास रहें

उन लोगों से दूर रहें जो नकारात्मक बातें या आपको हतोत्साहित करते हैं। इसके बजाए सकारात्मक सोच के लोगों के साथ रहें।

निष्कर्ष

नकारात्मक विचारों को मन में पालना और जीवन में कई चीजों के कारण चिंता और तनाव की स्थिति में रहना आसान है। आपको हमेशा अपने आप को अच्छे समय और सभी अच्छी चीजों के बारे में याद दिलानी चाहिए। यह आपके मूड को नकारात्मक से सकारात्मक अवस्था तक स्थानांतरित करने का एक अच्छा तरीका है।

खुशी पर निबंध – 3 (400 शब्द)

प्रस्तावना

खुशी वास्तव में खुश और संतुष्ट होने की स्थिति है। कई दार्शनिकों ने इस विषय पर अलग-अलग विचार दिये हैं हालांकि सबसे प्रभावशाली तथ्य यह है कि सुख को भीतर से महसूस किया जा सकता है और बाहरी दुनिया में इसकी खोज नहीं की जानी चाहिए।

पैसा ख़ुशी नहीं खरीद सकता

यह दुख की बात है कि लोग बाहर खुशी की तलाश करते हैं। बहुत से लोग पैसे के साथ खुशियाँ एकत्रित करते हैं। अगर ऐसी बात थी तो अमीर लोग कभी उदास महसूस नहीं करते लेकिन इसके विपरीत हम देखते हैं कि अमीर लोग ही हैं जो अधिक चिंतित, भयभीत, तनावपूर्ण और अक्सर संबंधों से जुड़ी समस्याओं का अनुभव करते हैं और अवसाद से पीड़ित होते हैं। फ़िल्म सितारों, गायकों और मंत्रियों जैसे मशहूर लोगों के पास बहुत पैसा होता है पर फिर भी इन लोगों में तलाक की दर आम जनता से काफी अधिक होती है। ये लोग लगातार डर में रहते हैं और इसलिए इन्हें हर समय सुरक्षा की आवश्यकता होती है। इनको अपने बच्चों की सुरक्षा के बारे में भी अधिक चिंता होती हैं। इन लोगों को 24 घंटे चोरी और डकैती का डर लगा रहता है। इनके पास इतना अधिक धन होता है कि उन्हें लगातार यह चिंता सताती है कि इस धन को कहाँ निवेश करें या कहाँ छिपाएं। दूसरी तरफ गरीब वर्गों के लोग अक्सर चिंता रहित और खुश होते हैं।

यह बात नहीं है कि अमीर होना एक बुरी चीज है। धन होने का मतलब है कि आपके पास बहुत सी चीज़ें हैं। आप छुट्टियों पर जा सकते हैं, सामाजिक समारोहों की योजना बना सकते हैं, अच्छे कपड़े खरीद सकते हैं, संपत्ति खरीद सकते हैं, अच्छे इलाके में रह सकते हैं और इसके अलावा बहुत कुछ कर सकते हैं जो खुश होने के लिए महत्वपूर्ण कदम है। हालांकि जरुरी नहीं है कि यदि आपके पास इतना सब कुछ है तो आप खुश रहेंगे । भौतिकवादी बातें आपको क्षणभर खुश कर सकती हैं लेकिन सच्ची खुशी पाने में मदद नहीं कर सकती।

ख़ुशी अंदर से आती है

किसी ने ठीक ही कहा है कि "आपको जीवन में सच्ची खुशी तब मिलेगी जब आपको यह पता चलेगा कि ख़ुशी का उद्देश्य केवल आपको खुश करना है”। सच्ची खुशी अपने भीतर होती है यह दूसरों से नहीं आती है। इस बिंदु पर कई बार जोर दिया गया है लेकिन ज्यादातर लोग इसे अप्रासंगिक मानते हैं। हमें यह समझने की जरूरत है कि खुशी मूलतः मन की अवस्था है। यह उन चीजों से हासिल नहीं की जा सकती है जिसे हम बाहर देखते हैं। हमारे पास सकारात्मक भावनाओं की सहायता से इस अवस्था को बनाने की शक्ति है जो अच्छे विचारों से प्राप्त की जा सकती है।

निष्कर्ष

मूल रूप से हमारे विचार है जो हमारी भावनाओं को बनाते हैं। इसलिए हमें सकारात्मक विचारों और जीवन के प्रति सकारात्मक दृष्टिकोण के निर्माण पर काम करने की जरूरत है और अंत में यही खुशी का कारण बनेगी।


 

खुशी पर निबंध – 4 (500 शब्द)

प्रस्तावना

खुशी वह चीज़ है जिसके लिए हर इंसान तरसता है लेकिन बहुत कम व्यक्ति इसे पाने में सक्षम हो पाते हैं। जितना सरल इसे परिभाषित करना है उतना ही मुश्किल इसे प्राप्त करना है। ऐसा इसलिए है क्योंकि लोग अक्सर इसे लोगों और चीजों के साथ जोड़ते हैं। खुशी ऐसी चीज़ है जो आपके साथ शुरू होती है और आपके साथ समाप्त होती है। केवल जो लोग यह महसूस करते हैं वे ही सच्ची खुशी प्राप्त करने में सक्षम हो पाते हैं।

खुशी के बारे में अरस्तू का तर्क

अरस्तू एक ऐसे दार्शनिक थे जिन्होंने खुशी के बारे में बहुत कुछ लिखा था। उनका मानना ​​था कि खुशी हमारे अपने स्वयं पर निर्भर करती है। उनके अनुसार खुशी मानव जीवन का मुख्य उद्देश्य है। उन्होंने कहा कि खुशी अपने आप में एक लक्ष्य है और यह पुण्य पर निर्भर करती है। हालांकि अरस्तू के नैतिक गुण सामान्यतया सामाजिक गुणों की बजाए व्यक्तिगत अधिक हैं।

अरस्तू के अनुसार वास्तव में एक सुखी जीवन को शारीरिक और मानसिक रूप से फिट होने जैसी कई स्थितियों की पूर्ति की जरूरत है। उन्होंने अपने सबसे प्रभावशाली कार्य निकोमैकियन एथिक्स में खुशी के सिद्धांत को प्रस्तुत किया है। अरस्तू का यह सिद्धांत आज के परिदृश्य में भी प्रासंगिकता रखता है। उनके अनुसार सभी जरूरतों को पूरा करना ही ख़ुशी का अंत है। उन्होंने कहा कि लगभग सभी चीजें, अच्छे रिश्ते, पैसा, सफलता या शक्ति, हम चाहते हैं क्योंकि हम मानते हैं कि ये हमें खुश कर देंगे। यह कहना सही होगा कि बाकी सब कुछ सिर्फ खुशी को प्राप्त करने का एक साधन है और ख़ुशी अपने आप में सभी का अंत है।

रिश्तों में ख़ुशी

कई लोग खुशी को पैसे से जोड़ते हैं और कई लोग इसे रिश्तों से जोड़ते हैं। वे यह नहीं समझ पाते की जब तक वे खुद खुश नहीं रहेंगे तब तक वे अपने रिश्तों में भी ख़ुशी का अहसास नहीं पाएंगे। रिश्तों की समस्याएं तेजी से बढ़ रही हैं और इसके पीछे मुख्य कारण यह है कि हम दूसरे व्यक्ति से बहुत ज्यादा उम्मीद कर बैठते हैं। हम उम्मीद करते हैं कि वे हमें खुश महसूस कराएँ। हम अपने मस्तिष्क में झूठ भर लेते हैं जैसे, 'अगर हमारा साथी हमें ड्रेस खरीद कर देगा तो हम खुश होंगे' या 'अगर हमारा साथी हमारे लिए किसी सरप्राइज की योजना बना रहा है तो हम खुश होंगे'। यह समस्या सिर्फ दम्पतियों के साथ नहीं है बल्कि ऐसा प्रत्येक रिश्ते के साथ है चाहे वह माता-पिता का रिश्ता हो या भाई-बहन का रिश्ता या दोस्ती का।

यहाँ नीचे कुछ तथ्य दिए गए हैं जो आपको खुश रहने में मदद कर सकते हैं:

  1. अपनी देखभाल करना

अपना ध्यान खुद रखें। दूसरे व्यक्ति को खुद पर प्राथमिकता न दें और उसे भी ऐसा ना करने दें। यदि आप किसी को बहुत अधिक प्राथमिकता देते हैं और बदले में आपको कुछ नहीं मिलता है तो आप अपनी  निराशा के लिए नुस्खा तैयार कर रहे हैं।

  1. शुरुआत करें

अगर आप कहीं जाना चाहते हैं तो स्वयं इसकी योजना बनाएं। अपने साथी, माता-पिता या बच्चे की आपको वहां ले जाने की प्रतीक्षा न करें। उन्हें बताएं कि अगर वे साथ आएंगे तो आपको अच्छा लगेगा। हालांकि अगर वे मना करते हैं तो निराश होने की ज़रूरत नहीं हैं। अपनी योजना को जारी रखें।

  1. व्यक्तिगत समय दें

आपको अपने साथी को समय देने की आवश्यकता है और एक स्वस्थ रिश्ते को बनाए रखने के लिए अपना व्यक्तिगत समय दें।

निष्कर्ष

हम अपने जीवन में अन्य लोगों से अवास्तविक अपेक्षाओं को स्थापित करते हैं और मानते हैं कि अगर वे वास्तव में हमें प्यार करते हैं तो वे उसी तरीके से उसका इज़हार भी करेंगे। यह बिल्कुल गलत है। यह केवल किसी भी अच्छे काम करने के बजाय रिश्तों को नुकसान पहुंचाता है। हमें यह समझने की जरूरत है कि एकमात्र व्यक्ति जो आपको वास्तव में खुश महसूस करा सकता है वह आप खुद हैं।


 

खुशी पर निबंध – 5 (600 शब्द)

प्रस्तावना

खुशी जीवन का एक तरीका है और यह ऐसी चीज़ नहीं जिसे हासिल करके अपने पास रखा जाए। लोग अपना पूरा जीवन खुशी के पीछे लगा देते हैं लेकिन उनको असंतुष्टता भरा मिलता है। उन्होंने यह मान लिया है कि यदि उन्हें अच्छे कॉलेज में प्रवेश मिला या अगर वे एक अच्छी नौकरी हासिल करने में कामयाब हुए या यदि उन्हें समझदार जीवन साथी मिला तो ही वे खुश होंगे। जबकि यह सब अच्छी जिंदगी बनाने में मदद करते हैं जो खुशी पाने के लिए जरूरी है लेकिन ये अकेले सुख नहीं ला सकते। खुशी ऐसी चीज है जिसे भीतर से महसूस किया जा सकता है बाहर से नहीं।

बौद्ध धर्म के अनुसार खुशी

बौद्ध धर्म के अनुसार, "आपके पास क्या है या आप कौन हैं इस पर ख़ुशी निर्भर नहीं करता है।" यह केवल इस बात पर निर्भर करता है कि आप क्या सोचते हैं।

बुद्ध का मानना ​​था कि खुशी पीड़ा के मुख्य कारणों को समझने से शुरू होती है। बुद्ध ने एक आठ सूत्रों से सम्बंधित रास्ता बताया है जिससे दिमाग को नियंत्रित करने में मदद मिलती है और अंततः खुशी को पाने में सहायता मिलती है। हालांकि यह एक बार का कार्य नहीं है। इसका दैनिक तरीके से पालन करने की आवश्यकता है। यह विचार आपको यह सिखाता है कि अतीत या भविष्य के बारे में चिंता ना करें और वर्तमान में जिएं। वर्तमान ही एकमात्र ऐसा स्थान है जहां आप शांति और खुशी का अनुभव कर सकते हैं।

बुद्ध को "हमेशा मुस्कराने" के रूप में वर्णित किया गया है। उनके चित्रण ज्यादातर उन्हें एक मुस्कान के साथ दर्शाते हैं। यह मुस्कुराहट उनके अन्दर की गहराई से आता है। बौद्ध धर्म बताता है कि मानसिक शांति को विकसित करके ज्ञान और अभ्यास द्वारा सच्ची खुशी प्राप्त की जा सकती है और इसे स्वयं की जरूरतों, इच्छाओं और जुनूनों से अलग करके हासिल किया जा सकता है।

हिंदू धर्म के अनुसार खुशी

हिंदू धर्म के अनुसार अपने स्वयं के कार्यों, पिछले कर्मों और भगवान की कृपा से खुशियाँ प्राप्त होती हैं। हिंदू ग्रंथों में तीन प्रकार की खुशी का उल्लेख किया गया है। ये निम्नानुसार हैं:

  • शारीरिक सुख: इसे भौतिक सुखम के रूप में भी जाना जाता है। यह एक आरामदायक जीवन, शारीरिक सुख और कामुक आनंद से प्राप्त किया जा सकता है।
  • मानसिक खुशी: इसे मानसिक आनंदम के रूप में भी जाना जाता है। यह पूर्ति और संतुष्टि की भावना से प्राप्त किया जा सकता है। यह एक ऐसी अवस्था है जिसमें व्यक्ति सभी प्रकार की चिंताओं और दुखों से मुक्त होता है।
  • आध्यात्मिक आनंद: इसे आध्यात्मिक आत्ममनंद भी कहा जाता है। इस प्रकार की ख़ुशी तब प्राप्त की जा सकती है जब कोई व्यक्ति जन्म और मृत्यु के चक्र से बाहर आकर स्वयं के साथ मेल-मिलाप करता है।

हिंदू धर्म के अनुसार जीवित रहने का अंतिम उद्देश्य स्वर्ग में एक स्वतंत्र आत्मा के रूप में सर्वोच्च आनंदों का अनुभव करना है। मनुष्य अपने कर्तव्यों को पूरा करके अस्थायी सुख का अनुभव कर सकते हैं लेकिन हिंदू धर्म के अनुसार, मुक्ति हासिल करके स्थायी सुख स्वर्ग में ही प्राप्त किया जा सकता है।

खुशी - अच्छे जीवन के लिए आवश्यक

चाहे आप एक छात्र, काम करने वाले पेशेवर, एक गृहिणी या एक सेवानिवृत्त व्यक्ति हो - खुशी आप में से हर एक के लिए एक अच्छा जीवन जीने के लिए जरूरी है। यह व्यक्ति के भावनात्मक कल्याण के लिए आवश्यक है। अगर कोई व्यक्ति भावनात्मक रूप से स्वस्थ नहीं होता है तो उसके समग्र स्वास्थ्य में जल्द गिरावट देखने को मिल सकती है।

भले ही खुशी बेहद जरूरी है पर दुर्भाग्यवश लोग उन तरीकों पर ज्यादा ध्यान नहीं देते हैं जिससे वे खुद को खुश रख सकते हैं। वे सब अपने व्यावसायिक जीवन और जिंदगी के अन्य कार्यों में इतने तल्लीन हैं कि वे जीवन में अच्छे क्षणों का आनंद लेना भूल जाते हैं। इसमें कोई आश्चर्य की बात नहीं कि तनाव, चिंता और अवसाद के मामले दिन-प्रतिदिन बढ़ रहे हैं।

निष्कर्ष

खुशी की परिभाषा और पाने के प्रयास अलग-अलग स्थितियों के अनुसार अलग-अलग हो सकते हैं हालांकि इसका एकमात्र उद्देश्य खुश होना है। आप अपने जीवनयापन के लिए जितनी मेहनत करते हैं अगर उतनी मेहनत अपने लिए ख़ुशी हासिल करने के लिए करेंगे तो आपके जीवन के मायने ही बदल जायेंगे।