राष्ट्रीय खेल दिवस

अलग-अलग देश अपने राष्ट्रीय खेल दिवस को अपने इतिहास और तिथियों के अनुसार अलग-अलग दिनांक पर मनाते हैं जिन्हें उनके खेल समिति ने घोषित किया है। भारत में राष्ट्रीय खेल दिवस (जिसे नेशनल स्पोर्ट्स डे भी कहा जाता है) हर साल 29 अगस्त को बहुत उत्साह और जोश के साथ मनाया जाता है। सभी आयु वर्ग के लोग खेल में भाग लेते हैं जैसे मैराथन, कबड्डी, बास्केटबॉल, हॉकी आदि। यह दिन न केवल लोगों के लिए मनोरंजन के रूप में काम करता है बल्कि एक व्यक्ति के जीवन में खेल की भूमिका के बारे में भी जागरूकता फ़ैलाता है। इस दिन युवा पीढ़ी की सर्वश्रेष्ठ प्रतिभा को पहचानने के लिए विभिन्न प्रतियोगिताओं का आयोजन किया जाता है। यह कहना भी प्रासंगिक है कि भौतिक गतिविधियों का उपयोग कई देशों द्वारा सांस्कृतिक गतिविधियों के रूप में किया जाता है। इससे यह भी स्पष्ट हो जाता है कि खेल और खेल की अवधारणा की धुन कभी दिमाग से नहीं निकल सकती।

राष्ट्रीय खेल दिवस (ध्यान चंद जन्म दिवस/ राष्ट्रीय खेल दिवस) 2018 - National Sports Day in Hindi

पूरे भारत में राष्ट्रीय खेल दिवस का जश्न बुधवार 29 अगस्त 2018 को मनाया जाएगा।

राष्ट्रीय खेल दिवस (ध्यान चंद जन्म दिवस) का इतिहास

भारत के राष्ट्रीय खेल दिवस (नेशनल स्पोर्ट्स डे) का इतिहास 29 अगस्त 1905 से जुड़ा है जब ध्यानचंद नाम का लड़का उत्तर प्रदेश के इलाहाबाद जिले में एक परिवार में पैदा हुआ था। उन्हें खेल के इतिहास में सबसे महान हॉकी खिलाड़ियों में से एक माना जाता है। उन्होंने 1928, 1932 और 1936 में हॉकी के क्षेत्र में तीन ओलंपिक स्वर्ण पदक अर्जित किये। उन्हें अपनी गेंद नियंत्रण की कला में महारथ के लिए "विज़ार्ड" कहा जाता था। उन्होंने 1948 में अपने अंतिम अंतरराष्ट्रीय मैच खेले। उन्होंने अपने अंतरराष्ट्रीय करियर के दौरान 400 से अधिक गोल किए। भारत सरकार ने 1956 में भारत के तीसरे उच्चतम सम्मान पद्म भूषण के साथ ध्यानचंद को सम्मानित किया। इसलिए उनका जन्मदिन 29 अगस्त भारत में राष्ट्रीय खेल दिवस के रूप में मनाया जाता है।

राष्ट्रीय खेल दिवस क्यों मनाया जाता है

राष्ट्रीय खेल दिवस का महत्व असीम है। यह केवल इस दिन का जश्न मनाने के बारे में ही नहीं है बल्कि देश भर में खेलों और खेलों की भावना का जश्न मनाने के बारे में है। उत्सव का मतलब है कि इस दिन के महत्व पर प्रकाश डालना और खेल के प्रति जनता का ध्यान आकर्षित करना। इस तरह के दिवस युवाओं को मान्यता देते हैं, रोजगार प्रदान करते हैं और विभिन्न प्रतियोगिताओं में भारतीय खिलाड़ियों के प्रदर्शन के बारे में जागरूकता पैदा करते हैं। देश के खेल प्रशंसक सभी विभिन्न खिलाड़ियों के काम की प्रंशसा करते हैं और उन सभी महानतम खिलाड़ियों की याद में इस दिन को बहुत उत्तेजना के साथ मनाया जाता है। राष्ट्रीय खेल दिवस का मुख्य उद्देश्य खेल के महत्व के बारे में जागरुकता पैदा करना और मानव शरीर के अपने फायदे को समझने के लिए लोगों का ध्यान केंद्रित करना है।

राष्ट्रीय खेल दिवस कैसे मनाया जाता है

राष्ट्रीय खेल दिवस विशेष रूप से पूरे विश्व में अकादमिक संस्थानों और खेल अकादमियों में मनाया जाता है। भारत में दो राज्यों, पंजाब और हरियाणा, से आने वाले अधिक खिलाड़ियों की वजह से वहां राष्ट्रीय खेल दिवस का उत्सव मनाना आम बात है। राष्ट्रीय खेल दिवस को विभिन्न प्रकार के खेल और कार्यक्रमों के आयोजन के द्वारा मनाया जाता है। इनमें फुटबॉल, क्रिकेट, लॉन टेनिस, वॉलीबॉल, मैराथन, बास्केटबाल आदि शामिल हैं। विभिन्न देशों ने अपनी ऐतिहासिक पृष्ठभूमि के अनुसार अपने पारंपरिक खेलों का आयोजन किया है। ज्यादातर स्कूल हर साल इस दिन वार्षिक स्पोर्ट्स इवेंट की व्यवस्था करते हैं। खेल में भाग लेने वाले छात्र विभिन्न स्तरों और विजेताओं के माध्यम से अपनी क्षमताओं को दर्शाते हैं प्रतिस्पर्धा की भावना उत्पन्न करते हैं। युवा पीढ़ी को प्रेरित करने के लिए विजेताओं को मूल्यांकित किया जाता है। विभिन्न देशों में राष्ट्रीय खेल दिवस का जश्न किस तरह मनाया जाता है यह नीचे बताया गया है:

भारत

भारत में राष्ट्रीय खेल दिवस हर साल 29 अगस्त को मनाया जाता है। राष्ट्रीय भवन में भारतीय खिलाड़ियों के विशेष पुरस्कार वितरण समारोह को आयोजित किया जाता है। अर्जुन पुरस्कार, राजीव गांधी खेल रत्न और द्रोणाचार्य पुरस्कार जैसे प्रसिद्ध खेल-संबंधी पुरस्कार भारत के राष्ट्रपति द्वारा एक वर्ष के दौरान सर्वोत्तम खेल प्रदर्शन करने वाले खिलाड़ियों को दिए जाते हैं। ध्यानचंद पुरस्कार भारत में खेलों में आजीवन उपलब्धि का सर्वोच्च पुरस्कार है। यह पुरस्कार सालाना आधार पर खेल से संबंध रखने वाले खिलाड़ियों को दिया जाता है जिन्होंने न केवल अपने प्रदर्शन के माध्यम से योगदान दिया है बल्कि सेवानिवृत्त होने के बाद भी खेल के उत्थान के लिए कड़ी मेहनत की है। पूरे देश में कई स्पोर्ट्स इवेंट का आयोजन किया जाता है।

 

मुख्य रूप से पूरे देश के सभी स्कूल इस दिन अपने वार्षिक खेल दिवस का जश्न मनाते हैं। यह युवा बच्चों के मन में खेल के प्रति श्रद्धा और विस्मय के मनोबल को प्रज्वलित करने के उद्देश्य से किया जाता है और इससे उन्हें न केवल भारत की सबसे महत्वपूर्ण खेलों में से एक बल्कि विभिन्न देशों के सभी खिलाड़ियों के बारे में शिक्षा प्रदान की जाती है। महान हॉकी के जादूगर ध्यानचंद के स्मरण के अलावा राष्ट्रीय खेल दिवस पर युवाओं से एक दिन ना केवल खुद के नाम को ऊँचा करने के लिए बल्कि अपने देश का नाम ऊँचा करने की भी उम्मीद की जाती है। राष्ट्रीय खेल दिवस स्वस्थ जीवन शैली का समर्थन करता है और खेल समिति के एजेंडे पर जोर देता है ताकि जितना संभव हो सके उतना लोगों की पहुँच खेल तक हो सके।

मलेशिया

मलेशिया के राष्ट्रीय खेल दिवस को 'हरि सुकन नेगारा' के रूप में भी संबोधित किया जाता है जो अक्टूबर के महीने में दूसरे शनिवार को आयोजित होता है जिसका लोगों के बीच स्वस्थ जीवन शैली के महत्व को वितरित करने का मुख्य उद्देश्य होता है। पहला राष्ट्रीय खेल दिवस 2015 में आयोजित किया गया था। इसके बाद से मलेशियाई लोगों ने अपने खिलाड़ियों के प्रदर्शन को बढ़ाने के लिए न केवल घरेलू खेलों में बल्कि अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भी प्रयास किया है। स्कूलों, कॉलेजों और कंपनियों में पूरे दिन के लिए कई गतिविधियों को इस फिटनेस ड्राइव में शामिल किया जाता है। देश भर से कई लोग मैराथन में हिस्सा लेते हैं और कई किलोमीटर दौड़कर और जागरूकता फैलाने से अपने अनूठे तरीकों के माध्यम से फिटनेस के महत्व को फैलते हैं।

जापान

जापान का राष्ट्रीय स्वास्थ्य और खेल दिवस सालाना 22 अक्टूबर को मनाया जाता है। खेल दिवस का जश्न जापान में 1966 में 1964 के ग्रीष्मकालीन ओलंपिक, जो टोक्यो में आयोजित किया गया था, के उद्घाटन समारोह के दौरान शुरू किया गया। इस दिन दुनिया के कुछ प्रमुख खिलाड़ियों के साथ जापान की खेल समिति खेल में रूचि बढ़ाने के लिए एक साथ मिलकर काम करती है खासकर बच्चों के लिए। यह सार्वजनिक अवकाश नहीं होकर खेल के क्षेत्र में वैश्विक आराधना का दिन है। पुरुषों और महिलाओं दोनों खेल के महत्व को प्रसारित करने में सक्रिय रूप से भाग लेते हैं।

ईरान

ईरान के राष्ट्रीय खेल दिवस 17 अक्टूबर को शारीरिक शिक्षा और खेल दिवस के रूप में मनाया जाता है। ईरान में यह एक दिन का मामला नहीं है बल्कि यह एक साप्ताहिक घटना के रूप में अक्टूबर की 17वीं तारीख से 23वीं तारीख तक मनाया जाता है। इसका मुख्य उद्देश्य एक व्यक्ति के व्यक्तिगत और सामाजिक जीवन में व्यायाम, शारीरिक गतिविधियों के महत्व को प्रदर्शित करना है। यह लोगों के बीच एक स्वस्थ जीवन शैली पर भी जोर देता है। मीडिया के माध्यम से बेहतर बुनियादी ढांचे के लिए सुविधाओं को प्रायोजित करने के लिए सरकारी संस्थानों तक एक दृष्टिकोण बढ़ाया गया है। राष्ट्रीय खेल दिवस पर ये घटनाएं खिलाड़ियों की बुनियादी जरूरतों को पूरा करने के लिए पर्याप्त धन प्रदान करती हैं। प्रतिभाशाली युवाओं के छात्रवृत्ति के लिए धन उपलब्ध कराने के लिए बहुराष्ट्रीय कंपनियां भी गतिविधियों में भाग लेती हैं।

 

भारत में राष्ट्रीय खेल दिवस मनाए जाने के लिए कुछ सुझाव

भारत खेल के प्रतिभागियों का देश बन गया है न कि खेल उपभोक्ता। स्कूल में शारीरिक फिटनेस पर ज़ोर देने की कमी कभी-कभी आत्मविश्वास की कमी बन जाती है। खेल से जुड़े लोगों की एक बड़ी संख्या, विशेष रूप से मामूली पृष्ठभूमि से संबंध रखने वाले लोग, इस माध्यम से अपनी खेल प्रतिभा का उपयोग कर सकते हैं और एक सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनी में नौकरी और आय का एक नियमित स्रोत हासिल कर सकते हैं। ऐसे कई देश हैं जो अपने एथलीटों को अत्याधुनिक खेलों की सुविधा नहीं दे पाते लेकिन वे उन्हें सर्वश्रेष्ठ समर्थन और मार्गदर्शन ज़रूर देते हैं। भारत जैसे देश में उच्चस्तरीय प्रशिक्षण की संस्थागत व्यवस्था, सस्ती कोचिंग और सुस्त प्रशिक्षण शिविरों द्वारा लोगों को फायदा पहुँचने की बजाए नुकसान पहुंचा है। राष्ट्रीय खेल दिवस पर नीचे उल्लिखित कदम उठाए जाने चाहिए;

  • राष्ट्रीय खेल दिवस का जश्न मनाने के लिए और अधिक रचनात्मक तरीके पर ध्यान केंद्रित किया जाना चाहिए जैसे हर राज्य के लिए विशेष थीम तय करना।
  • सरकार को खेल राज्य सरकार की सूची से समवर्ती (कनकरंट) सूची में ले जाना चाहिए ताकि केंद्र सरकार भी इसके प्रति जवाबदेह बन सके और बहुमूल्य संसाधनों के इस्तेमाल पर कड़ी नज़र को सुनिश्चित किया जा सके।
  • राष्ट्रीय खेल दिवस पर भारत को उन घटनाओं की मेजबानी करने की कोशिश करनी चाहिए जो खेल के बारे में जागरुकता बढ़ाने के लिए और वर्तमान में हमारे देश में मौजूद बुनियादी ढांचे को भी बढ़ाए।
  • भारत सरकार को अपने सभी नागरिकों के लिए आर्थिक वर्ग और जाति को दरकिनार करके एक समान प्लेटफार्म और मंच प्रदान करने के लिए सक्षम प्राधिकरण द्वारा एक प्रणाली बनाई जानी चाहिए।
  • लोगों को जोश और उत्साह के साथ खेल आयोजनों में भाग लेना और इनका आयोजन करना चाहिए। स्कूलों को प्रतिभाओं को पहचानने के लिए और प्रायोजकों की सहायता से ऐसे कार्यक्रमों का आयोजन करना चाहिए और इन प्रतियोगिताओं में से सबसे अच्छे लोगों को छात्रवृत्ति प्रदान की जानी चाहिए।

निष्कर्ष

भारत जैसे विशाल देश में प्रतिभा की कोई कमी नहीं है। हमें बस प्रतिभा की पहचान करनी है। खेल स्वस्थ और बीमारी मुक्त लंबी आयु का जीवन जीने का एक तरीका है और राष्ट्रीय खेल दिवस कई प्लेटफार्मों में से एक है जो पूरे देश में इस संदेश को फैलाने में मदद करता है। खेल युवाओं के बीच मित्रता की भावना पैदा करते हैं और उनमें एकता की भावना विकसित होती है। यह न केवल व्यक्ति के दिमाग को तेज़ बनाता है बल्कि मन को मजबूत और सक्रिय भी बनाता है और हमारे देश की ऐतिहासिक पृष्ठभूमि यह भी कहती है कि जो लोग खेल में उत्कृष्ट प्रदर्शन करते हैं वे न केवल खेल में बल्कि जीवन में भी अपना मूल्य साबित करते हैं।