राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी दिवस

भारत में 11 मई को हर साल राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी दिवस मनाया जाता है जो शक्ति की वर्षगांठ की याद दिलाती है। शक्ति पोखरण परमाणु परीक्षण है जो 11 मई 1998 को आयोजित किया गया था। यह दिन हमारे दैनिक जीवन में विज्ञान की महत्वपूर्ण भूमिका को प्रकाश डालने और छात्रों को एक कैरियर विकल्प के रूप में विज्ञान को अपनाने के लिए प्रोत्साहित करता है। इस दिन को चिह्नित करने के लिए विभिन्न तकनीकी संस्थानों और इंजीनियरिंग कॉलेजों में विभिन्न कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं। विज्ञान के विभिन्न पहलुओं की प्रतियोगिताओं, क्विज़, व्याख्यान, इंटरैक्टिव सेशन और प्रस्तुतीकरण विश्व स्तर पर व्यवस्थित किए जाते हैं। यह दिन इंजीनियरों, योजनाकारों, वैज्ञानिकों और अन्य लोगों के लिए महत्वपूर्ण है जो देश के निर्माण और प्रशासन में लगे हुए हैं।

राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी दिवस (नेशनल टेक्नोलॉजी डे) 2018 - National Technology Day in Hindi

भारत में राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी दिवस 2018, 11 मई शुक्रवार को मनाया जाएगा।

"शक्ति, पोखरण परमाणु परीक्षण" के बारे में

पोखरण में पहले परमाणु परीक्षण को 'स्माइलिंग बुद्ध' नामक एक कोड के साथ मई 1974 में किया गया था। दूसरा परीक्षण पोखरण द्वितीय था जो परमाणु बम विस्फोटों के पांच परीक्षणों की श्रृंखला थी जिसे मई 1998 पोखरण टेस्ट रेंज में भारतीय सेना द्वारा किया गया था। पोखरण द्वितीय में पांच विस्फोट हुए जिनमें से पहला एक संलयन बम था जबकि अन्य चार विखंडन बम थे। इन परमाणु परीक्षणों की वजह से भारत के खिलाफ कई प्रमुख देशों, जिनमें संयुक्त राज्य और जापान प्रमुख हैं, ने विभिन्न प्रतिबंध लगाए दिए।

पोखरण द्वितीय या ऑपरेशन शक्ति 11 मई 1998 को दो विखंडन बमों के विस्फोट और एक संलयन बम (संस्कृत में “शक्ति" शब्द का अर्थ “ताकत” है) के साथ शुरू किया गया था। 13 मई 1998 को दो अतिरिक्त विस्फोट बमों का विस्फोट किया गया और तत्कालीन प्रधान मंत्री अटल बिहारी वाजपेयी द्वारा भारत सरकार ने शीघ्र ही एक पूर्ण विभक्त परमाणु राज्य के रूप में भारत की घोषणा के लिए एक संवाददाता सम्मेलन बुलाया। इन परीक्षणों के लिए विभिन्न नामों को रखा गया जबकि मुख्य नाम "ऑपरेशन शक्ति-98" के रूप में रखा गया था और पांच परमाणु उपकरणों को शक्ति प्रथम से लेकर शक्ति पंचम के रूप में वर्गीकृत किया गया था। हाल ही में किए पूरे ऑपरेशन को पोखरण द्वितीय कहा जाता है और 1974 के विस्फोट को पोखरण प्रथम कहा जाता है।

राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी दिवस (नेशनल टेक्नोलॉजी डे) का इतिहास

11 मई 1998 को पोखरण में आयोजित परमाणु परीक्षण का स्मारक बनाने के लिए राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी दिवस मनाया जाता है। यह भारत के सभी नागरिकों के लिए गर्व का दिन है। यह दिन हमारे जीवन में विज्ञान के महत्व की भी प्रशंसा करता है। 11वीं और 13वीं मई 1998 को भारत ने पोखरण, राजस्थान में पांच परमाणु परीक्षण किए थे। प्रारंभिक पांच परीक्षण 11 मई को आयोजित किए गए थे जब 5.3 रिक्टर पैमाने पर भूकंपीय कंपन दर्ज करते समय तीन परमाणु बम विस्फोट किए गए। 13 मई को बाकी दो परीक्षण किए गए तब से भारत में राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी दिवस मनाया जाता है।

राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी दिवस (नेशनल टेक्नोलॉजी डे) क्यों मनाया जाता है

19 मई 1998 को भारत ने राजस्थान के पोखरण में भारतीय सेना की टेस्ट रेंज में परमाणु मिसाइल-शक्ति-प्रथम को दिवंगत राष्ट्रपति और एयरोस्पेस इंजीनियर डॉ एपीजे अब्दुल कलाम द्वारा संचालित एक ऑपरेशन में सफलतापूर्वक अंजाम दिया। दो दिनों के बाद देश ने सफल रूप से दो अतिरिक्त परमाणु हथियारों का परीक्षण किया। इसके बाद प्रधान मंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने भारत को परमाणु शक्ति के रूप में घोषित कर दिया जो ऐसा करने वाला दुनिया का छठा देश था और भारत पहला देश बन गया जिसने "परमाणु क्लब" के देशों से अलग परमाणु हथियार संधि (एनपीटी) पर हस्ताक्षर नहीं कर रखे। एनपीटी ब्रिटेन, रूस, चीन, फ्रांस और अमेरिका द्वारा हस्ताक्षरित एक वैश्विक संधि है जिसका परमाणु हथियारों की वृद्धि को रोकने और परमाणु निरस्त्रीकरण प्राप्त करने का उद्देश्य हैं।

दुनिया का छठा परमाणु शक्ति वाला देश बनना एकमात्र उपलब्धि नहीं थी जो भारत ने उस दिन हासिल की थी। जब राजस्थान में परमाणु परीक्षणों का आयोजन किया जा रहा था जब भारत के प्रमुख स्वदेशी विमान हंसा-3 को बेंगलुरु में उड़ाया गया था। हंसा-3 को राष्ट्रीय एयरोस्पेस लैबोरेटरीज द्वारा विकसित किया गया था। यह एक दो सीटों वाला हल्का सामान्य विमान था जिसका इस्तेमाल उड़ानों के लिए खेल, पायलट प्रशिक्षण, हवाई फोटोग्राफी, निगरानी और पर्यावरण से संबंधित परियोजनाओं में किया जाता है।

इतना सब कुछ के अलावा 11 मई, 1998 को रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) ने त्रिशूल मिसाइल के आखिरी टेस्ट-फायर को पूरा किया जिसे तब भारतीय वायु सेना और भारतीय सेना ने अपनी सेवा में शामिल किया। सतह से हवा में वार करने वाली, शीघ्र प्रतिक्रिया देने वाली, लघु-सीमा की मिसाइल त्रिशूल भारत के समन्वित गाइडेड मिसाइल विकास कार्यक्रम की एक इकाई थी जिसके परिणामस्वरूप पृथ्वी, आकाश और अग्नि मिसाइल प्रणाली का गठन हुआ है।

देश के इंजीनियरों, वैज्ञानिकों और तकनीशियनों द्वारा इन अपार सफलता की उपलब्धियों के आधार पर अटल बिहारी वाजपेयी ने 11 मई को राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी दिवस के रूप में घोषित किया।

राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी दिवस (नेशनल टेक्नोलॉजी डे) किस तरह मनाया जाता है

हर साल विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्रालय 11 मई को राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी दिवस मनाता है। यह दिन तकनीकी रचनात्मकता, वैज्ञानिक जांच और समाज, उद्योग और विज्ञान के एकीकरण में खोज का प्रतीक माना जाता है। इस महान अवसर को मनाने के लिए तकनीकी संस्थानों और इंजीनियरिंग कॉलेजों में विभिन्न कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं। प्रस्तुतियां, इंटरैक्टिव सत्र, क्विज़, व्याख्यान और प्रतियोगिताओं का भी आयोजन किया जाता है। भारत के राष्ट्रपति विज्ञान के क्षेत्र में अपने योगदान के लिए व्यक्तियों और कंपनियों को राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी पुरस्कार प्रस्तुत करते हैं। प्रौद्योगिकी और विज्ञान मंत्री भी देश में विज्ञान के विकास के लिए विभिन्न प्रकार के कार्यक्रम व्यवस्थित करके इस दिन को मनाते हैं। इस दिन भारत के छात्र आम तौर पर फार्मेसी, विज्ञान और अनुसंधान कार्य के क्षेत्रों में किए गए हाल की प्रगति के बारे में जानकारी प्राप्त करने के लिए विभिन्न प्रयोगशालाओं की यात्रा करते हैं। छात्र इन संस्थानों के हालिया विकास के बारे में ज्ञान प्राप्त करने के लिए अपने शिक्षकों के साथ विभिन्न कंप्यूटर प्रयोगशालाओं, नैनो-प्रौद्योगिकी और प्रौद्योगिकी विकास केंद्रों में भी जाते हैं।

राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी दिवस (नेशनल टेक्नोलॉजी डे) 11 मई 2017 को मनाया गया

11 मई 2017 को विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्रालय ने राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी दिवस के 19वें समारोह को मनाया। यह समारोह नई दिल्ली में विज्ञान भवन में आयोजित किया गया था और इस वर्ष की थीम थी - समावेशी और सतत विकास के लिए प्रौद्योगिकी कार्यक्रम के मुख्य अतिथि थे भारत के राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी और इस समारोह की अध्यक्षता की केंद्रीय विज्ञान और प्रौद्योगिकी तथा पृथ्वी विज्ञान मंत्री – डॉ. हर्षवर्धन ने। विज्ञान और प्रौद्योगिकी तथा पृथ्वी विज्ञान राज्य मंत्री - श्री वाई एस एस चौधरी गेस्ट ऑफ़ हॉनर थे। समारोह में इस बात पर प्रकाश डाला गया कि अविष्कार राष्ट्रीय और वैश्विक विकास के लिए प्रेरणा स्रोत है। आज की दुनिया में अवसरों और प्रतिस्पर्धा को साझा करना है। कृषि, बुनियादी ढांचा, स्वास्थ्य देखभाल, शिक्षा और ऊर्जा में तकनीकी आविष्कारों की आवश्यकता पर भी चर्चा हुई है। यह कार्यक्रम अन्य देशों से आगे जाने के लिए भारत में नई प्रौद्योगिकियों के अनुकूलन के आसपास केंद्रित है।

एक प्रदर्शनी भी आयोजित की गई थी जिसमें भविष्य में विज्ञान विभाग (टेक्निकल डिपार्टमेंट बोर्ड) के बारे में बताया गया था और 2016-17 की अवधि में विज्ञान विभाग द्वारा वित्त पोषित कंपनियों के साथ बातचीत की गई थी। प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी जी की अध्यक्षता वाली कैबिनेट बैठक में सर्वश्रेष्ठ प्रौद्योगिकी और प्रथाओं के बीच अंतर को सुनिश्चित करने के लिए फ्रांस और भारत के बीच एक समझौता भी किया गया था।

बेहतर तरीके से भारत में राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी दिवस का आयोजन करने के लिए सुझाव

एशिया में अनुसंधान और विकास के क्षेत्र में भारत का लगभग 10% पैसा खर्च होता है और इसकी वैज्ञानिक प्रकाशनों की संख्या भी तेजी से बढ़ रही है। हालांकि दुनिया के अन्य विकसित देशों की तुलना में हमारा देश अभी भी विज्ञान और प्रौद्योगिकी में थोड़ा कमतर है। हालांकि हमारे देश की आबादी बहुत ज्यादा है पर देश में वैज्ञानिकों की संख्या बहुत कम है। देश को ग्लोबलाईजेशन रूप से सशक्त बनाने के लिए भारत में तकनीकी उद्योग को आगामी भविष्य की चुनौतियों के साथ मिलान करने के लिए पुन: स्थापित करना जरूरी है।

राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी दिवस भारत के विकास और प्रगति के लिए विज्ञान और प्रौद्योगिकी के महत्व के बारे में जागरूकता फैलाने का सबसे अच्छा मंच है। इस दिन मनाने के लिए यहां कुछ सुझाव दिए गए हैं:

  • माता-पिता को अपने बच्चों को उनकी रूचि के साथ भारत के प्रसिद्ध वैज्ञानिकों के बारे में शिक्षित करना चाहिए। इस तरह के ज्ञान से बच्चों में विज्ञान का महत्व पैदा होता है और उन्हें अपने कैरियर के लिए सही रास्ता चुनने में सहायता मिलती है। बच्चों को विज्ञान मेले, परियोजनाओं और उनकी संस्थाओं में आयोजित की गई प्रतियोगिताओं में भाग लेने के लिए प्रोत्साहित किया जाना चाहिए। वे ऑनलाइन विज्ञान के क्विज़ और गेम भी खेल सकते हैं।
  • देश के लोगों को राष्ट्रीय विज्ञान केंद्र, नेहरू प्लानेटेरियम जैसे देश के विज्ञान और प्रौद्योगिकी संग्रहालयों की यात्रा करनी चाहिए।
  • समाचार चैनलों को उन वैज्ञानिकों के साथ लाइव साक्षात्कार के साथ-साथ विज्ञान और प्रौद्योगिकी के महत्व को प्रस्तुत करना चाहिए जिन्होंने राष्ट्र के लिए महान योगदान दिया है। इस क्षेत्र में प्रसिद्ध हस्तियों के साथ विज्ञान की प्रासंगिकता पर पैनल चर्चा भी होनी चाहिए।
  • लोगों को विज्ञान से संबंधित पत्रिकाओं को पढ़ना चाहिए और यहां तक ​​कि कृषि, फार्मेसी, बुनियादी ढांचे और स्वास्थ्य जैसे कई क्षेत्रों में प्रौद्योगिकी के उपयोग के बारे में दूसरों को पढ़ने के लिए प्रोत्साहित करना चाहिए।

राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी दिवस (नेशनल टेक्नोलॉजी डे) की थीम

1999 से हर साल प्रौद्योगिकी विभाग बोर्ड ने तकनीकी आविष्कारों को सलाम करके राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी दिवस को मान्यता दी है जिसने देश पर सकारात्मक प्रभाव डाला है। प्रौद्योगिकी विभाग बोर्ड हर वर्ष अलग-अलग थीमों का चयन करके इस दिन का जश्न मनाता है।

राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी दिवस 2017 के लिए "समावेशी और सतत विकास के लिए प्रौद्योगिकी" थीम को चुना गया था। थीम विज्ञान और प्रौद्योगिकी के प्रति बेहद योगदान वाले वैज्ञानिकों को श्रद्धांजलि देने के लिए रखी गई है। इस दिन उन औद्योगिक विषयों को भी सम्मानित किया जाता है जो प्राचीन तकनीक के व्यावसायीकरण में श्रेष्ठता प्रस्तुत कर चुके हैं। थीम से यह पता चलता है कि एक राष्ट्र की सफलता के लिए तकनीकी और वैज्ञानिक विकास बहुत महत्वपूर्ण हैं।

भारत बुनियादी शोध के क्षेत्र में दुनिया के शीर्ष क्रम वाले देशों में से एक है। भारत में विज्ञान ने ज्ञान के सबसे मजबूत साधनों के बीच में प्रगति की है। हालांकि आर्थिक विकास में कुछ नई मांगों के मद्देनजर, कृषि, शिक्षा, संचार, बुनियादी ढांचा और स्वास्थ्य सहित प्रत्येक क्षेत्र में विकास की जरूरतों में प्रौद्योगिकी और विज्ञान को बदलने में महत्वपूर्ण है। थीम हाल ही की तकनीकी मांग और प्रगति के अनुरूप रखी गई है।

  • राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी दिवस 2017 की थीम "समावेशी और सतत विकास के लिए प्रौद्योगिकी" थी।
  • राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी दिवस 2016 की थीम 'स्टार्टअप इंडिया के टेक्नोलॉजी इनेबलरर्स' थी।
  • राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी दिवस 2014 की थीम 'भारत के लिए समावेशी अभिनव' थी।
  • राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी दिवस 2013 की थीम "इनोवेशन-फर्क पैदा करने में" थी।

निष्कर्ष

भारत ने विश्व इतिहास के कुछ महान वैज्ञानिक मस्तिष्कों की खोज की है। प्रौद्योगिकी राष्ट्रीय जुनून है चाहे वह प्राचीन परमाणु क्षमताओं का निर्माण से संबंधित हो या अपने स्वयं के लड़ाकू विमानों का निर्माण-तेजस से संबंधित हो, भारत के वैज्ञानिकों ने यह व्यक्त किया है कि हमारी रक्षा प्रौद्योगिकी दूसरों की तुलना में कम नहीं है। अंतरिक्ष अन्वेषण से रक्षा के लिए भारत प्रौद्योगिकी में आगे बढ़ गया है। आइए हम 2008 के वर्ष में चन्द्रमा की कक्षा में पहुंचे अंतरिक्ष की सफलता की तरह कुछ मान्यताप्राप्त उदाहरण लेते हैं - चंद्रयान 1, आप मंगलयान को देख सकते हैं - अत्याधुनिक, कम लागत वाली तकनीक का एक उत्कृष्ट उदाहरण। हमारे भावुक वैज्ञानिकों द्वारा भारत ने स्वदेशी तौर पर 1991 में अपनी अग्रणी सुपर कंप्यूटर PARAM 800 की खोज की जो कि सुपरकंप्यूटिंग दुनिया में एक विशालकाय प्रगति है। भारत में लाखों लोग आज तकनीक की समझ रखने वाले हैं और हमारा देश टेबलेट, स्मार्टफोन और कंप्यूटर के लिए सबसे बड़े बाजारों में से हैं। भारतीयों और भारतीय मूल के तकनीशियनों का एक बड़ा हिस्सा सिलिकॉन वैली में रहता है। पूरी दुनिया अभी भी अधिक तकनीकी समाधान और सफलता के लिए हमारे देश की ओर देखती है।

राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी दिवस नागरिकों को प्रौद्योगिकी की आकर्षित दुनिया का पता लगाने के लिए आगे बढ़ने और दुनिया में तकनीकी खोजों और वैज्ञानिक विकास के नेताओं के रूप में अपना सही स्थान पाने का एक आदर्श अवसर है।