विश्व ओज़ोन दिवस

ओजोन परत के संरक्षण के लिए अंतर्राष्ट्रीय दिवस एक वार्षिक अनुरक्षण है। यह हर साल 16 सितंबर को जागरूकता फैलाने और ओजोन परत की कमी की ओर ध्यान खींचने के लिए मनाया जाता है। इस दिन को विश्वव्यापी संगोष्ठी, भाषण और राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय प्रदर्शनियों के आयोजन के द्वारा मनाया जाता है। स्कूलों में वार्षिक विज्ञान दिवस भी आयोजित किए जाते हैं और मीडिया के माध्यम से भी जागरूकता फैलाई जाती है। यह दिन बहुत महत्वपूर्ण है क्योंकि यह परिवार, दोस्तों और परिचितों के साथ अपने ग्रह 'पृथ्वी' को अपना योगदान देने के लिए एक मंच के रूप में कार्य करता है। विभिन्न अभियानों को भी शुरू किया गया है जो लोगों की मदद से ओजोन परत की जागरूकता को बड़े पैमाने पर फ़ैलाता है। वर्ल्ड ओज़ोन डे हानिकारक गैसों के उत्पादन और रिहाई को सीमित करने के अंतरराष्ट्रीय प्रयासों पर जोर देता है।

विश्व ओज़ोन दिवस (वर्ल्ड ओज़ोन डे) 2018 - World Ozone Day in Hindi

ओजोन लेयर के संरक्षण के लिए अंतर्राष्ट्रीय दिवस 16 सितंबर 2018 रविवार को मनाया जाएगा।

ओजोन परत सुरक्षित नहीं होने पर धरती का क्या होगा?

ओजोन परत ओजोन अणुओं की एक परत है जो विशेष रूप से 20 से 40 किमी के बीच के वायुमंडल के समताप मंडल परत में पाई जाती है। ओजोन परत वातावरण में बनती है जब सूरज से पराबैंगनी किरण ऑक्सीजन परमाणुओं को तोड़ती है। ऑक्सीजन परमाणु ऑक्सीजन के साथ मिल जाते हैं और इस तरह ओजोन अणु बनाते हैं। समस्या जो इस परत की कमी का कारण बनती है वह यह है जब पृथ्वी की सतह पर चिपक जाने के बाद हानिकारक सूर्य के विकिरण वातावरण से निकलने में असमर्थ हो जाते हैं।

अधिकांश वैज्ञानिक मानते हैं कि ओजोन परत के बिना पृथ्वी पर जीवन का अस्तित्व समाप्त हो जाएगा। ओजोन परत के सुरक्षित ना होने से लोगों, पौधों और पशुओं के जीवन पर बहुत बुरा असर पड़ेगा। यहां तक ​​कि पानी के नीचे का जीवन भी ओजोन की कमी के कारण नष्ट हो जाएगा। ओज़ोन परत कमी से प्राकृतिक संतुलन बिगड़ता है, सर्दियों की तुलना में अधिक गर्मी होती है, सर्दियां अनियमित रूप से आती हैं और हिमखंड गलना शुरू हो जाते हैं। इसके अलावा ओज़ोन परत की कमी स्वास्थ्य और प्रकृति के लिए खतरा है।

विश्व ओज़ोन दिवस (वर्ल्ड ओज़ोन डे) का इतिहास

1994 से 16 सितंबर को सालाना ओजोन परत के संरक्षण के लिए अंतर्राष्ट्रीय दिवस के रूप में सभी देशों में बहुत उत्साह के साथ मनाया जाता है। इस दिन को एक घोषणा के रूप में नामित किया गया था जो संयुक्त राष्ट्र द्वारा बनाया गया था। 19 दिसंबर 2000 को ओजोन परत की कमी के कारण मॉन्ट्रियल कन्वेंशन पर हस्ताक्षर करने के लिए यह दिवस संयुक्त राष्ट्र द्वारा नामित किया गया था। मॉन्ट्रियल कन्वेंशन दुनिया भर के हानिकारक पदार्थों और गैसों को समाप्त करके ओजोन परत की रक्षा करने हेतु एक अंतरराष्ट्रीय संधि है। ओजोन परत की रक्षा के लिए 1995, जो पहला वर्ष था जब इस दिन को दुनिया भर में मनाया गया था, के बाद से अंतर्राष्ट्रीय दिवस में भागीदारी ने भारी वृद्धि देखी है।

विश्व ओज़ोन दिवस (वर्ल्ड ओज़ोन डे) क्यों मनाया जाता है?

यह दिन न केवल उस तारीख जब मॉन्ट्रियल कन्वेंशन पर हस्ताक्षर किए गए थे उसे याद करने के लिए मनाया जाता है बल्कि मुख्य रूप से यह जागरूकता फ़ैलाने के लिए भी मनाया जाता है कि ओजोन परत कितनी तेजी से कम हो रही है। इस दिन को एक अंतरराष्ट्रीय अवसर के रूप में देखने का मुख्य उद्देश्य ओजोन परत के बारे में जागरूकता की भावना पैदा करना है कि यह कैसे बनती है और इसमें पैदा हुई कमी को रोकने के क्या तरीके हैं। इस दिन विद्यालयों, कॉलेजों, संगठनों और मीडिया के लोगों के माध्यम से एक दूसरे से जुड़कर उनके विचारों को साझा किया जाता है और यह बताया जाता है कि हमारी धरती को नष्ट करने वाले खतरे को नियंत्रित किया जा सकता है। यह दिवस जनता के बारे में पर्यावरण के महत्व और इसे सुरक्षित रखने के महत्वपूर्ण साधनों के बारे में शिक्षित करता है।

विश्व ओज़ोन दिवस (वर्ल्ड ओज़ोन डे) की थीम

ओजोन लेयर के संरक्षण के लिए अंतर्राष्ट्रीय दिवस के वार्षिक उत्सव की अपनी थीम है और यह थीम साल-दर-साल बदलती रहती है। एक साल के थीम को दोबारा दोहराया नहीं जाता और हर साल अधिकारियों द्वारा एक नई और अलग थीम रखी जाती है। ओजोन लेयर के संरक्षण का अंतर्राष्ट्रीय दिवस 16 सितंबर 2017 को 'सूर्य के तहत सभी जीवन की देखभाल' थीम के साथ मनाया गया था। थीम को इस उद्देश्य पर रखा गया है कि सभी के जीवन का सम्मान करना चाहिए और मनुष्य को निस्वार्थ रूप से पर्यावरण और वातावरण को स्वच्छ बनाने के लिए काम करना चाहिए ताकि न केवल इंसान बल्कि पौधें और जानवर भी स्वस्थ जीवन जी सकें। पिछले वर्षों की थीम इस प्रकार हैं:

  • 2016 की थीम - "ओजोन और जलवायु - विश्व द्वारा पुनर्स्थापित"
  • 2015 की थीम - "30 साल - हमारी ओजोन का एक साथ इलाज करना"
  • 2014 की थीम - "ओजोन परत संरक्षण - मिशन चल रहा है"
  • 2013 की थीम - "ओजोन दिवस - एक स्वस्थ वातावरण जो हम भविष्य में चाहते हैं"
  • 2012 की थीम - "आने वाली पीढ़ियों के लिए हमारे वातावरण की रक्षा करना"
  • 2011 की थीम - "HCFC फेज़-आउट: एक अनूठा अवसर"
  • 2010 की थीम - "ओजोन परत संरक्षण: शासन और अनुपालन"
  • 2009 की थीम - "सार्वभौमिक भागीदारी: ओजोन संरक्षण विश्व को एकदम से जोड़ता है"
  • 2008 की थीम - "मॉन्ट्रियल प्रोटोकॉल - वैश्विक लाभ के लिए वैश्विक भागीदारी"
  • 2007 की थीम - "2007 में 20 साल की प्रगति का जश्न"
  • 2006 की थीम - "ओजोन परत को सुरक्षित रखें, पृथ्वी पर सहेजें जीवन"
  • 2005 की थीम - "ओजोन दोस्ताना अधिनियम - सफ़र रहें सुरक्षित!"
  • 2004 की थीम - "हमारे आकाश को बचाएं: ओजोन फ्रेंडली प्लैनेट, हमारा टारगेट"
  • 2003 की थीम - "हमारे आकाश को बचाएं: हमारे बच्चों के लिए छेद बहुत अधिक है"
  • 2002 की थीम - "हमारे आकाश को बचाएं: खुद को सुरक्षित रखें; ओजोन परत की रक्षा करें"

विश्व ओज़ोन दिवस (वर्ल्ड ओज़ोन डे) कैसे मनाया जाता है?

1994 से ओजोन परत की कमी के परिणाम के बारे में जागरूकता और समझ को बढ़ाने के लिए तथा इसके संरक्षण के लिए अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर विश्व ओजोन दिवस (वर्ल्ड ओज़ोन डे) मनाया जाता है। इस दिन हानिकारक गैसों के उत्सर्जन को कम करने के लिए प्रयासों के साझा, जो मुख्यतः पर्यावरणीय मुद्दों का कारण बनते हैं, को प्रोत्साहित किया जाता है। ये लोग दूसरों को जागरूकता बढ़ाने वाले अभियानों में शामिल होने और इस अंतर्राष्ट्रीय अवसर के जश्न के लिए आयोजित की जाने वाली गतिविधियों की एक विस्तृत श्रृंखला का विस्तार करने के लिए प्रेरित करते हैं। विभिन्न गैर सरकारी संगठनों के कार्यकर्ता इस दिवस के फायदों को फैलाने के लिए जागरूकता रैलियाँ करते हुए नारे लगाते हैं। इस मुद्दे पर मीडिया ने कई स्वयंसेवक कार्यक्रमों को ऑनलाइन आयोजित करने के लिए विभिन्न गैर-सरकारी संगठनों में योगदान करके महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है ताकि लोगों को शिक्षित करने हेतु इस मुद्दे के बारे में महत्वपूर्ण सामग्री वितरित कर सकें। ओजोन परत के संरक्षण के अंतर्राष्ट्रीय दिवस की थीम को बढ़ावा देने के लिए आजकल युवाओं ने फेसबुक, इंस्टाग्राम और अन्य सोशल मीडिया साइटों का उपयोग शुरू किया है। वे अपने क्षेत्र में घटनाओं, प्रसिद्ध पर्यावरण उद्धरण और तथ्यों को साझा करते हैं। युवा वर्ग उस वर्ष की विशेष थीम के आधार पर चित्रकारी करते हैं और ओजोन की कमी और उसके नतीजों से संबंधित महत्वपूर्ण विषयों पर ऑनलाइन भाषण देते हैं। ओज़ोन पर अंतर्राष्ट्रीय दिवस का जश्न अलग-अलग देशों में अलग-अलग तरह से मनाया जाता है:

भारत

ओजोन परत के संरक्षण के लिए भारत में अंतर्राष्ट्रीय ओज़ोन दिवस बहुत उत्साह से छात्रों द्वारा मनाया जाता है। इस दिन शहर की सड़कों पर विशाल रैलियां गठित की जाती हैं, छात्रों को वार्षिक ओजोन दिवस पर भाषण देने का मौका दिया जाता है। महाविद्यालय के छात्र इस विषय पर अधिवेशन के लिए राज्य स्तर के अभियानों को आयोजित करते हैं और इस तरह से ओजोन परत में छेद को कम करने के लिए विभिन्न उपायों को इस्तेमाल में लाते हैं। भारतीय सरकार उन बुद्धिमान लोगों को मान्यता और छात्रवृत्ति प्रदान करती है जो हानिकारक गैसों और पदार्थों के उत्सर्जन को कम करने के लिए रचनात्मक तरीकों का आविष्कार करते हैं जो न केवल सुविधाजनक बल्कि स्थायी भी है। पर्यावरण और सार्वजनिक स्वास्थ्य मंत्रालय ने कुछ कार्यक्रमों को लॉन्च करने और मानव जाति के लिए वातावरण में मौजूद हानिकारक गैसों के आंकड़ों को इकट्ठा किया जिनका बुरा प्रभाव धरती पर पड़ रहा है। ये अद्यतन आंकड़े विभिन्न विश्वविद्यालयों को व्यापक रूप से अध्ययन करने और इस मुद्दे पर पर्याप्त समाधान प्रदान करने के लिए दिए जाते हैं।

ऑस्ट्रेलिया

अन्य देशों के साथ ऑस्ट्रेलिया विभिन्न कार्यक्रमों के माध्यम से अंतर्राष्ट्रीय प्रयासों में भाग लेकर ओजोन परत के संरक्षण के लिए अंतर्राष्ट्रीय दिवस मनाता है। छोटे समूहों के रूप में राष्ट्र के युवा लोगों से संपर्क करते हैं और उनसे बात करते हैं। युवा उन्हें बताते हैं कि हमारी लापरवाही के कारण हमारे पर्यावरण को कीमत चुकानी पड़ रही है तथा कुछ सकारात्मक बदलाव लाने की आशा को भी प्रज्वलित करते हैं। दिन रोजमर्रा गतिविधियों से भरा है। छात्रों को आम तौर पर अपने संस्थानों में निबंध, पैराग्राफ या लेख लिखने के लिए विषय मिलते हैं ताकि शिक्षकों को यह समझ आए कि वे इस तकनीकी दुनिया में पर्यावरण के प्रति कितने गंभीर हैं। थीम पर आधारित क्षेत्रीय गतिविधियों को सरकार द्वारा आयोजित किया जाता है ताकि जागरूकता फैल सके।

यूरोप

यूरोप एक बड़ा महाद्वीप है और यही कारण है कि इस महाद्वीप का योगदान जनसंख्या वृद्धि और जनसँख्या नियंत्रण में अधिक है। ओजोन परत के संरक्षण के लिए अंतर्राष्ट्रीय ओजोन दिवस पर संपूर्ण विश्व लोगों को इस लड़ाई में शामिल होने के लिए वास्तविक वातावरण स्थितियों से अवगत कराने और ओजोन के खिलाफ एक प्रभावी कार्यक्रम में भागीदार होने का निवेदन करता है। स्कूलों, कॉलेजों और विश्वविद्यालयों में विभिन्न गतिविधियों के माध्यम से इस उत्सव को मनाया जाता है ताकि इस खतरे के बारे में सभी को चेताया जा सके जिसने जलवायु परिस्थितियों में काफी समस्या पैदा की है।

अफ्रीका

अफ्रीका में विश्व ओज़ोन दिवस को विभिन्न गतिविधियों के रूप में मनाया जाता है। इन गतिविधियों में पर्यावरणीय संकटों के बारे में ज्ञान बढ़ाने के लिए लोगों द्वारा अकादमिक और व्यावसायिक क्षेत्रों में आयोजित होने वाली घटनाएं शामिल हैं। विभिन्न पर्यावरण अनुसंधान समितियों के स्वयंसेवक और कर्मचारी आम लोगों को ओजोन परत की कमी के बारे में बताते हैं ताकि इससे धन जुटाया जा सके और उस धन को उन आविष्कारों में वितरित कर सकें जो हानिकारक पदार्थों के उत्सर्जन को कम कर सकते हैं।

भारत में ओजोन परत के संरक्षण के लिए अंतर्राष्ट्रीय दिवस का आयोजन करने के लिए सुझाव

पर्यावरण एक बहुत ही विस्तृत शब्द है। इसमें हमारे ऊपर और नीचे की सभी चीजें शामिल हैं। हमारे ऊपर के वातावरण में विभिन्न परतें शामिल हैं जिसमें एक परत स्ट्रैटोस्फियर है और उसे ओज़ोन परत भी कहा जाता है। आज के माहौल में बहुत समस्याएँ होने के कारण हमारे ऊपर और नीचे के बीच का संतुलन बेहद बिगड़ गया है। हमारे देश में विकास और आधुनिकीकरण ने हमारे लोगों के लिए पर्यावरण के खतरे को बढ़ा दिया है। इसका प्रभाव हमारे जैविक संसाधनों जैसे कि मिट्टी, भूमि, जंगलों और पानी पर पड़ता है। भारत में ओजोन परत के संरक्षण के लिए अंतर्राष्ट्रीय दिवस को मनाने के लिए निम्न सुझाव शामिल हैं:

  • विश्व ओजोन दिवस पर अधिकतम आबादी को पेड़ों की व्यापक खेती का अभ्यास करना चाहिए। इससे उन पदार्थों के स्रोतों को कम करने में मदद मिलेगी जो ओजोन कमी में योगदान करते हैं। सभी लोगों को केवल जैविक उत्पादों का इस्तेमाल करने और ओजोन परत की कमी के कारण उत्पादों के उपयोग को कम करने की प्रतिज्ञा करनी चाहिए।
  • उच्च स्तर की बजाए क्षेत्रीय स्तरों पर पर्यावरण संबंधी समस्याओं की पहचान करने से ध्यान स्थानांतरित किया जाना चाहिए। इसके अलावा लोगों, यदि वे किसी भी गतिविधि में शामिल हैं, को कानून लागू करने वाली एजेंसियों के लिए उत्तरदायी होना चाहिए जो पर्यावरण के मुद्दों को जन्म देती है।
  • इस दिन के माध्यम से स्वच्छ प्रौद्योगिकियों का परिचय प्रोत्साहित किया जाना चाहिए।
  • आग बुझाने की सामग्रियों को ख़रीदने से पहले लोगों को उनकी जांच करनी चाहिए, लोगों को एरोसोल उत्पादों को खरीदने से बचना चाहिए जिसमें क्लोरोफ्लोरोकार्बन होते हैं। धीरे-धीरे हर किसी को 1990 के दशक से चले आ रहे रेफ्रिजरेटर, फ्रीजर और एयर कंडीशनर का इस्तेमाल कम कर देना चाहिए।
  • भारत जैसे एक विकासशील देश में निजी वाहन ड्राइविंग को सीमित करने पर अधिक जोर दिया जाना चाहिए, पर्यावरण के अनुकूल उत्पादों का अधिक उपयोग होना चाहिए, कीटनाशकों पर प्रतिबंध होना चाहिए जो ओजोन की परत घटने में योगदान दे रहे हैं, रॉकेट लॉन्च पर कठोर मानदंडों और शर्तों को लागू किया जाना चाहिए और इस दिन रसायन के कम से कम उपयोग को बढ़ावा देना चाहिए।

निष्कर्ष

हमारे ग्रह पृथ्वी पर सब कुछ एक दूसरे से जुड़ा हुआ है। धरती मां हमें इतनी बहुमूल्य पर्यावरण सुविधाएं प्रदान करती है जिनके बिना हम जीवन की कल्पना भी नहीं कर सकते। इसलिए हमें इसका उपयोग करने के लिए अधिक कार्बनिक और समग्र रूप अपनाना चाहिए जहां सबको बिना किसी विनाश के लाभ मिलेगा। आज की जलवायु परिस्थितियों के लिए ओजोन की कमी मुख्य कारण है। यह आज एक विशाल आयाम में मौजूद नहीं है लेकिन यदि इस पर काबू नहीं पाया गया तो यह विकासशील और विकसित देशों के लिए कुछ गंभीर विनाश का कारण हो सकता है। विश्व ओजोन दिवस लोगों के बीच बड़ा मंच प्रदान करता है ताकि उन्हें जागरूक कर सके। यह सही समय है और हमें ओजोन परत को बचाए रखने के लिए अपने सर्वश्रेष्ठ प्रयासों को अवश्य जारी रखना चाहिए।