विश्व सुनामी जागरूकता दिवस

वर्ष 2015 में संयुक्त राष्ट्र की महासभा ने 5 नवंबर को विश्व सुनामी जागरूकता दिवस के रूप में नामांकित किया। दुनिया भर में लोगों के बीच सुनामी के बारे में सामान्य जागरूकता फ़ैलाने के लिए इस दिवस को शुरू किया गया है। 5 दिसंबर 2016 को पहला विश्व सुनामी जागरूकता दिवस मनाया गया जिसमें डिजास्टर रिस्क रिडक्शन (DRR) चैंपियंस में AMCDRR (एशियन मिनिस्टर कांफ्रेंस फॉर डिजास्टर रिस्क रिडक्शन) की घटनाओं का आयोजन किया गया। आपदा जोखिम कम करने के लिए संयुक्त राष्ट्र कार्यालय के सहयोग से भारतीय सरकार द्वारा विज्ञान भवन, नई दिल्ली में एक सम्मेलन (3-5 नवंबर) 2016 का आयोजन किया गया।

भले ही सुनामी असामान्य हैं लेकिन यह बहुत से लोग विशेषकर तटीय क्षेत्रों में रहने वाले लोगों को प्रभावित कर सकती है। वर्ष 2004 में हिंद महासागर में भूकंप के कारण सुनामी उत्पन्न हुई जिसने लगभग 15 देशों में करीब पांच लाख लोगों को प्रभावित किया। सुनामी एक वैश्विक समस्या है और इस प्रकार जोखिम कम करने के उपायों को अपनाने की बेहतर जानकारी और मान्यता के लिए अंतर्राष्ट्रीय सहयोग अत्यंत महत्वपूर्ण है। इस वर्ष भी विश्व सुनामी जागरूकता दिवस आपदा न्यूनीकरण के लिए अंतर्राष्ट्रीय दिवस और "सेंडाई सेवेन कैंपेन" के साथ जुड़ रहा है। वर्ष 2017 में विश्व सुनामी जागरूकता दिवस आपदा जोखिम न्यूनीकरण के लिए सेवेन कैंपेन के फ्रेमवर्क के लक्ष्य B पर ध्यान केंद्रित करेगा। अभियान का लक्ष्य दुनिया भर में आपदाओं से प्रभावित लोगों की संख्या को कम करने का है।

विश्व सुनामी जागरूकता दिवस (वर्ल्ड सुनामी अवेयरनेस डे) 2018 - World Tsunami Awareness Day in Hindi

विश्व सूनामी जागरूकता दिवस सोमवार 5 नवंबर 2018 को पूरे विश्व में मनाया जाएगा।

विश्व सुनामी जागरूकता दिवस (वर्ल्ड सुनामी अवेयरनेस डे) का इतिहास

शब्द "सुनामी" का नाम जापानी "tsu" से बना है। इसका अर्थ है बंदरगाह और "nami" का अर्थ है लहर। सुनामी पानी के नीचे उत्पन्न हुई अशांति द्वारा बनी बड़ी लहरों की एक श्रृंखला है। ये लहरें आम तौर पर भूकंप से संबंधित होती हैं जो कि सागर के आसपास या आसपास नजदीक होती हैं।

हालांकि सुनामी तुलनात्मक रूप से प्राकृतिक आपदा का एक असाधारण प्रकार है लेकिन यह दुनिया भर के कई देशों में विनाश का कारण बनता है। सुनामी दुनिया के लिए एक गंभीर खतरा है और यह विकास की उपलब्धि को भी बाधित कर सकती है। मार्च 2015 में संयुक्त राष्ट्र में आयोजित तीसरा WCDRR (World Conference on Disaster Risk Reduction) में आपदा जोखिम को कम करने के लिए सेंडाइ फ्रेमवर्क को अपनाया गया था। सेंडाई में आयोजित सम्मेलन में सस्टेनेबल डेवलपमेंट के लिए 2030 के एजेंडा भी प्रस्तावित किया गया था। इसने जापान और अन्य देशों के साथ एक विशेष दिन को "विश्व सुनामी जागरूकता दिवस" ​​के रूप में समर्पित किया और इसे यूएन द्वारा नामित किया गया।

पांच नवंबर को "इनामुरा-नो-हाय" की प्रसिद्ध जापानी कथा के सम्मान में विश्व सुनामी जागरूकता दिवस के रूप में चुना गया था जिसका अर्थ है "चावल के झुंडों को जलाना"। वर्ष 1854 में एक भूकंप के दौरान एक किसान ने देखा कि ज्वार कम हो रहा है जो कि आने वाली सुनामी का संकेत है। ग्रामीणों को चेतावनी देने के लिए उन्होंने अपनी पूरी फसल आग में लगा दी। परिणामस्वरूप गांव वालों ने तुरंत गांव को खाली कर दिया और सभी उच्च भूमि की तरफ़ चले गए। बाद में उस किसान ने भविष्य में आने वाले ज्वारों के खिलाफ एक बाधा के रूप में पौधों के एक तटबंध का निर्माण किया।

सुनामी क्या है

सुनामी बड़ी लहरें हैं जो समुद्र के किनारों पर उत्पन्न होती हैं जो मुख्य रूप से भूस्खलन या भूकंप से जुड़ी हैं। कई अन्य प्राकृतिक आपदाओं की तरह सुनामी के बारे में भविष्यवाणी करना मुश्किल है लेकिन यह सुझाव दिया जा सकता है कि भूकंपीय सक्रिय क्षेत्रों में इसका जोखिम अधिक होता है।

सुनामी के कारण

सुनामी लहरें अत्यधिक खतरनाक होती हैं और आम तौर पर पानी की मजबूत दीवारों की तरह लगती हैं। मजबूत लहरें समुद्र तट पर घंटों तक हमला करती हैं जिससे हजारों जिंदगियों का नाश हो सकता है। सुनामी के कई कारण हैं जैसे पनडुब्बी भूस्खलन, भूकंप, तटीय पत्थर का टूटना, ज्वालामुखी विस्फोट या अलगाववादी टकराव।

क्या कार्रवाई की जानी चाहिए

प्रतिरक्षात्मक उपायों का फ़ायदा लेने के लिए सुनामी के प्राकृतिक चेतावनी के लक्षणों को पहचानना महत्वपूर्ण है। चूंकि ज़ोरदार भूकंप के कारण सुनामी पैदा हो सकती है इसलिए आपको पृथ्वी पर महसूस होते गंभीर झटकों को समझना चाहिए। सुनामी समुद्र के स्तर में तेजी से गिरावट के कारण भी पैदा हो सकती है। यदि आप पानी में जबरदस्त हलचल देखते हैं या यदि आप पानी में कम्पन महसूस करते हैं तो समझ लीजिए कि यह सुनामी है। सुनामी एक विमान या ट्रेन की तरह एक गड़गड़ाहट "गर्जन" ध्वनि बनाती है। यदि आप इन लक्षणों में से किसी एक को देखते हैं तो जगह को छोड़ने के आदेशों की पालना में देरी न करें और तटीय क्षेत्रों को तुरंत छोड़ दें। सुनामी के संकेत मिलने के तुरंत बाद आपको वह स्थान छोड़ना उचित होगा।

विश्व सुनामी जागरूकता दिवस (वर्ल्ड सुनामी अवेयरनेस डे) क्यों मनाया जाता है

सुनामी से जुड़े जोखिमों और सुनामी के दृष्टिकोण से बचाव के उपाय करने के बारे में लोगों के बीच जागरूकता पैदा करने के लिए विश्व सुनामी जागरूकता दिवस मनाया जाता है। चूंकि प्राकृतिक आपदा अपनी सीमाओं को नहीं जानते इसलिए संयुक्त राष्ट्र ने 5 नवंबर को विश्व सुनामी जागरूकता दिवस का सुझाव दिया और रोकथाम के प्रयासों और सार्वजनिक जागरूकता बढ़ाने में वैश्विक सहयोग के लिए अपील की। हालांकि सुनामी दुर्लभ हैं परन्तु इसके विनाशकारी प्रभाव के कारण कई जीवन बर्बाद हो सकते हैं। 2004 और 2011 के वर्षों की विनाशकारी सुनामी ने यह साबित कर दिया है कि ये प्राकृतिक आपदाएं कितनी घातक हो सकती हैं। इसके साथ ही यह देखने को मिला है कि ज्यादातर लोग सुनामी के शुरुआती संकेतों से अनजान हैं और सुनामी से उत्पन्न होने वाली लहरों के दौरान किए जाने वाली निवारक कार्रवाई की जानकारी नहीं रखते हैं।

विश्व सुनामी जागरूकता दिवस सुनामी को लेकर हमारे ज्ञान और इसके बारे में जागरूकता में सुधार करने में मदद करता है और इससे यह भी पता चलता है कि किसी भी स्थिति में फंसे हो तो हमें कैसे प्रतिक्रिया करनी चाहिए। सुनामी दिवस पर इसके जोखिम से लोगों को जागरूक बनाने के लिए राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर कई सम्मेलनों, बहस, सेमिनार, प्रश्नोत्तरी आदि का आयोजन किया जाता है।

सुनामी आने की स्थिति में लोगों को समय पर और उचित तरीके से मार्गदर्शन करने के लिए राष्ट्रीय सरकार को कदम उठाने चाहिए। प्रारंभिक चेतावनी के संकेत कई जीवन बचा सकते हैं। उन्हें सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया जाना चाहिए और उन्हें भोजन, पानी, कपड़े, आदि जैसी आवश्यक वस्तुओं को सप्लाई किया जाना चाहिए।

भले ही बड़ी इमारतें और यांत्रिक तथा वैज्ञानिक यंत्र सूनामी की चेतावनी दे सकते हैं लेकिन ऐसे यंत्र लोगों को सूनामी से पूरी तरह से नहीं बचा सकते। 2011 की सुनामी के दौरान जापानी शहर मिनमिसनरिकू में कई निकास केंद्रों को समुद्री स्तर से 20 मीटर ऊपर बनाया गया जिसका मकसद आपदाओं को रोकना था। इन केंद्रों पर बुरी तरह से सैलाब ने तबाही मचाई था बड़ी आबादी इससे प्रभावित हुई थी। इस प्रकार अंतरराष्ट्रीय समितियों को अधिक सावधान रहना होगा और बेहतर निवारक तरीके खोजने होंगे।

विश्व सुनामी जागरूकता दिवस (वर्ल्ड सुनामी अवेयरनेस डे) कैसे मनाया जाता है

दिसंबर 2015 में संयुक्त राष्ट्र की महासभा ने 5 नवंबर को विश्व सुनामी जागरूकता दिवस के रूप में नामांकित किया। हर साल इस दिन को मनाने के लिए संयुक्त राष्ट्र सभा ने सभी देशों, सिविल सोसाइटीयों और अंतर्राष्ट्रीय समितियों से अपील की। इस दिवस को सुनामी के बारे में जागरुकता बढ़ाने और इसके जोखिम को कम करने के लिए आविष्कारशील दृष्टिकोण साझा करने के लिए मनाया जाता है।

विश्व सुनामी जागरूकता दिवस शिक्षित और निकासी के अभ्यास पर ध्यान केंद्रित करता है। हर वर्ष 5 नवंबर को दुनिया भर के सभी लोगों के जीवन की रक्षा करने के उद्देश्य से इस दिवस को मनाया जाता है। विश्व सुनामी जागरूकता दिवस सुनामी के खिलाफ होने वाली एहतियाती उपायों के बारे में जागरूकता पैदा करता है। लोगों की बहुमूल्य जिंदगी को बचाने के लिए "इनामुरा-नो-हाय" की कहानी में दिखाए गए अच्छे व्यवहार और सामान्य ज्ञान को हर किसी के द्वारा लागू किया जाना चाहिए।

विश्व सुनामी जागरूकता दिवस को लोगों को सुनामी के लक्षणों से अवगत कराने के लिए मंच के रूप में उपयोग किया जाता है। सुनामी के कारण को पहचानने के लिए महासागरों के समुद्रतट को मानचित्रित करना महत्वपूर्ण है। भूस्खलन की संभावना के साथ खतरनाक भूकंपीय क्षेत्रों और इलाकों की खोज के लिए महासागरों को नक्शा करने के लिए अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर प्रयास करना महत्वपूर्ण हैं। यह महत्वपूर्ण है कि संयुक्त राष्ट्र के सदस्य देशों की सरकार एकजुट हो और महासागरों को पहचानने के लिए सहयोग साझा करे। इससे सुनामी की स्थिति में होने वाले निवारक उपायों के बारे में लोगों को बेहतर ढंग से शिक्षित करने में मदद मिलेगी। विश्व सुनामी जागरूकता दिवस सभी के बीच जागरूकता पैदा करता है विशेष रूप से तटीय इलाकों में रहने वाली जनसंख्या में। जब वे सुनामी का अनुभव करते हैं तो उन्हें आधिकारिक चेतावनियों का इंतजार ना करने की बजाए इसके उन्हें भागना चाहिए।

रोकथाम और शिक्षा में लोगों को जितनी जल्दी हो सके प्रतिक्रिया देने के लिए शिक्षा शामिल है। लोगों बचाव के लिए सबसे अच्छी जगहों को जानना चाहिए। यह समुंदर के किनारे से और ऊंचाई पर होनी चाहिए। सुनामी के दौरान सुरक्षित क्षेत्रों के बारे में लोगों को मार्गदर्शन करने के लिए संकेतक पैनलों को सभी समुंदर का किनारा पर लगा हुआ तय किया जाना चाहिए।

वर्ल्ड कांफ्रेंस ओन डिजास्टर रिस्क रिडक्शन (WCDRR)

वर्ल्ड कांफ्रेंस ओन डिजास्टर रिस्क रिडक्शन (WCDRR) पर विश्व सम्मेलन के मुताबिक सुनामी के जोखिम से लोगों को रोकने के लिए सबसे स्वीकार्य पद्धति "प्रारंभिक चेतावनियों" के माध्यम से आवश्यक जानकारी को तुरंत वितरित और साझा करना है। व्यक्तिगत स्तर पर रोकथाम भी महत्वपूर्ण है। खतरे के क्षेत्र में यात्रा करते समय लोगों को सावधान रहना चाहिए और उन्हें पहचानना चाहिए कि कैसे प्रतिक्रिया दें। समुदाय या सामाजिक स्तर पर हमें उन लोगों को चेतावनी देनी चाहिए जो खतरनाक तटीय क्षेत्रों से यात्रा कर रहे हैं या तस्वीरें लेने या सेल्फी आदि की गतिविधियों में संलग्न हैं। सेंडाइ फ्रेमवर्क ने "बिल्ड बैक बैटर" और डीआरआर में निवेश सहित नई बुनियादी बातों को शामिल किया है। सेंडाइ फ्रेमवर्क से यह भी पता चलता है कि स्वदेशी, पारंपरिक और स्थानीय जागरूकता और प्रथाओं का उपयोग समान रूप से महत्वपूर्ण है। जापान और संयुक्त राष्ट्र का मानना ​​है कि विश्व सुनामी जागरूकता दिवस के माध्यम से इस तरह की जागरूकता फैला कर सुनामी प्रभावित पीड़ितों की संख्या में काफी कमी आएगी।

विश्व सुनामी जागरूकता दिवस (वर्ल्ड सुनामी अवेयरनेस डे) थीम

  • विश्व सुनामी जागरूकता दिवस 2016 की थीम: “प्रभावी शिक्षा और निर्वासन अभ्यास"
  • विश्व सुनामी जागरूकता दिवस 2017 की थीम अभी तक घोषित नहीं की गई है।

निष्कर्ष

2004 में हुई हिंद महासागरीय सुनामी संयुक्त राष्ट्र के विश्व स्तर पर सूनामी चेतावनी संकेतों और प्रणालियों को लागू करने का कारण बना। समुद्र का दबाव सेंसर के नीचे से वास्तविक समय डेटा और अपतटीय पर स्थापित जीपीएस सुनामी चेतावनी केंद्रों को चेतावनी को अधिक तेज़ और सटीक रूप से रद्द करने या जारी करने में सहायता कर रहे हैं। दूरसंदेश सुनामी के लिए एक विनाशकारी सुनामी की घटना की पुष्टि के लिए समुद्र के स्तर और भूकंप के वास्तविक समय की निगरानी महत्वपूर्ण है। ऐसे मामलों में जनता को तत्काल चेतावनी जारी की जानी चाहिए। स्थानीय सुनामी के लिए चेतावनी संकेतों को ज़ारी करने के लिए पर्याप्त समय नहीं मिल पाता है। ऐसी स्थितियों में लोगों को बुद्धिमानी से कार्य करना चाहिए और तुरंत जवाब देना चाहिए।

हालांकि सुनामी असामान्य घटनाएं हैं पर ये बहुत घातक हैं। पिछले 100 सालों में लगभग 58 सुनामी ने करीब 2,60,000 लोगों का विनाश किया है जो लगभग 4,600/आपदा है। यह अन्य सभी प्राकृतिक आपदाओं से ज्यादा है। दिसंबर 2004 में हिंद महासागर की सुनामी में अधिकतम मृत्यु हुई थी। अकेले भारत, इंडोनेशिया, श्रीलंका और थाईलैंड सहित 14 देशों में लगभग 2,27,000 मौतें हुई हैं।