भारत का पहला राजा कौन था

महान शासक चंद्रगुप्त मौर्य, जिन्होंने मौर्य वंश की स्थापना की, निर्विवाद रूप से भारत के पहले राजा थे क्योंकि उन्होंने न केवल प्राचीन भारत में सभी खंडित राज्यों को जीता बल्कि उन सभी को मिला कर एक बड़ा साम्राज्य खड़ा कर दिया जिसकी सीमाएं अफगानिस्तान और फारस के किनारे तक विस्तृत थी।

चन्द्रगुप्त मौर्य का जन्म पाटलिपुत्र, मगध में 340 ईसा पूर्व में हुआ था जो वर्तमान में बिहार के रूप में जाना जाता है। उनकी उम्र केवल 20 वर्ष थी जब उन्होंने महान अर्थशास्त्री, दार्शनिक और विद्वान ब्राह्मण चाणक्य की मदद से मगध में मौर्य वंश की स्थापना की। वास्तव में यह चाणक्य ही थे जिन्होंने विन्झा वन में चंद्रगुप्त मौर्य की खोज की थी। चाणक्य मगध के तत्कालीन शासक नंदा वंश के राजा धन नंदा से बदला लेना चाहते थे। चाणक्य एक युवा योद्धा की खोज में थे जो नंदा साम्राज्य को खत्म करने में उनकी मदद करें क्योंकि राजा धन नंदा ने एक बार उनकी बदसूरत शक्ल के कारण उनका अपमान किया था। राजा धन नंदा के आदेशों पर उनके सैनिकों ने चाणक्य को विधानसभा से जबरदस्ती बाहर निकलवा दिया था।

अपने उद्देश्य को पूरा करने के लिए चाणक्य ने विभिन्न युद्ध कौशल में चंद्रगुप्त मौर्य को प्रशिक्षण और ज्ञान दिया। इसके साथ ही उन्होंने उन्हें एक शक्तिशाली शासक बनने के लिए आवश्यक मानविकी, शिल्प और सारे राजनीतिक सबक भी सिखायें। इसके बाद 322 ईसा पूर्व में चंद्रगुप्त मौर्य ने सफलतापूर्वक चाणक्य की सहायता से एक मजबूत सेना की स्थापना की और धन नंदा के साम्राज्य को समाप्त कर दिया और मगध में मौर्य वंश स्थापित किया।

चंद्रगुप्त मौर्य ने 298 ईसा पूर्व तक शासन किया और अपने शासनकाल के दौरान उन्होंने लगभग देश के सभी साम्राज्यों पर विजय प्राप्त करके उन्हें अपने साम्राज्य में मिला कर मौर्य वंश को एक बड़े साम्राज्य में बदल दिया। इसके अलावा उन्होंने अपना यह जीत अभियान जारी रखा और मौर्य साम्राज्य की सीमाओं को विस्तारित करने के लिए दक्षिण भारत, बंगाल, असम, कश्मीर, डेक्कन पठार, पूर्वी एशिया के किनारे तक अफगानिस्तान, ब्लूचिस्तान को शामिल किया। हम महान सम्राट चंद्रगुप्त मौर्य के जीवन और प्रमुख उपलब्धियों को निम्नानुसार वर्गीकृत कर सकते हैं:

नंदा वंश पर विजय

प्राकृतिक नेतृत्व प्रतिभा के साथ पैदा हुए साहसी चंद्रगुप्त मौर्य का एक अनोखा आकर्षक व्यक्तित्व था जिसने चाणक्य, किंग मेकर, का ध्यान आकर्षित किया। साथ में उन्होंने एक विशाल सेना की स्थापना की और नंदा साम्राज्य पर हमला किया और इसे सफलतापूर्वक जीत लिया। ऐसा कहा जाता है कि चंद्रगुप्त मौर्य अपनी पहली कोशिश में असफल रहे हालांकि दूसरे प्रयास में उन्होंने सफलतापूर्वक मगध में नंदा साम्राज्य की राजधानी पाटलिपुत्र पर कब्जा कर लिया और मौर्य वंश की स्थापना की।

ग्रीक शासन से मुक्ति

मगध जीतने के तुरंत बाद उन्होंने उत्तर-पश्चिम में यूनानी शासन के खिलाफ लोगों का एक गुप्त विरोध महसूस किया जहां वर्तमान में पंजाब और सिंध स्थित हैं। चंद्रगुप्त ने उन उग्र असंतोषों का फायदा उठाया और यूनानी शासन के खिलाफ युद्ध छेड़ दिया और सिकंदर की मृत्यु के बाद उन क्षेत्रों में शासन किया। ग्रीक जनरलों के बीच बढ़ते संघर्ष से उन्हें उनके जीत के प्रति आश्वस्त होने में मदद मिली और वे पूरे उत्तर-पश्चिम क्षेत्र पर कब्जा करने में सफल हो गए तथा वहां अपना शासन स्थापित किया।

अफगानिस्तान और सिंधु घाटी राज्य का एकीकरण

एक विशाल सेना की मदद से उत्तर-पश्चिमी सीमाओं को जीतने के बाद चंद्रगुप्त सिंधु घाटी राज्यों की तरफ चले गए जिन्हें वर्तमान में अफगानिस्तान, पूर्वी फ़ारस आदि के रूप में जाना जाता है। पूर्वी फ़ारस के साथ पूरी सिंधु घाटी का क्षेत्र ग्रीक शासक सील्यूकस निक्टर के नियंत्रण में था। सील्यूकस ने शुरू में मौर्य सेना के साथ एक भयंकर लड़ाई लड़ी पर वह जल्द ही इसमें हार गया। इस क्षेत्र में शांति स्थापित करने के लिए सील्यूकस ने मौर्य साम्राज्य के साथ एक संधि पर हस्ताक्षर किए और चंद्रगुप्त मौर्य के साथ उनकी बेटी का विवाह भी करवाया। इस तरह अंत में पूरी सिंधु घाटी राज्य मौर्य वंश के शासन के तहत आया था।

भारत/हिंदुस्तान के राजा के रूप में मान्यता

अफगानिस्तान पर कब्जे के साथ उन्होंने हिंदू कुश क्षेत्र, ईरान के साथ-साथ ताजिकिस्तान और किर्गिस्तान के कुछ हिस्सों पर कब्जा कर लिया। भारत में उन्होंने अपने साम्राज्य को आगे बढ़ाकर पश्चिमी भारत के सौराष्ट्र और काठियावाड़ तक विस्तारित किया। इसके साथ ही उन्होंने दक्षिण भारत के साथ-साथ डेक्कन पठार में अपना शासन स्थापित किया। चंद्रगुप्त ने पश्चिम भारत के अवंती और इसकी राजधानी उज्जैन और कोंकण क्षेत्र पर भी कब्जा कर लिया। इस प्रकार उन्होंने एक विशाल साम्राज्य की स्थापना की और अपने राजवंश को प्रभावी ढंग से नियंत्रित करने के लिए उन्होंने अपनी राजधानी पाटलिपुत्र से केंद्रीय प्रशासन प्रदान किया और अंततः भारत के राजा के रूप में मान्यता प्राप्त की।

मजबूत प्रशासन

विभिन्न राज्यों के एक विशाल साम्राज्य पर अपने नियंत्रण के साथ चंद्रगुप्त मौर्य ने एक तरह से पूरे भारतीय उपमहाद्वीप को राजनीतिक एकता प्रदान की जिसके परिणामस्वरूप शांति और समृद्धि का एक लंबा युग प्रारंभ हुआ। उन्होंने एक मजबूत प्रशासन की स्थापना की जो मंत्रियों की परिषद द्वारा प्रदान की गई मार्गदर्शिका के अनुसार चाणक्य द्वारा संचालित थी। मौर्य शासन के तहत व्यापक साम्राज्य को कई प्रांतों में विभाजित किया गया था। प्रांतों का प्रशासन स्थानीय शासकों या शाही राजकुमारों की जिम्मेदारी थी जैसे वाइसरॉय या शाही राजकुमार।

चंद्रगुप्त मौर्य प्रशासन ने अपनी सरकार से संबंधित महत्वपूर्ण मामलों को ध्यान में रखने के लिए विभिन्न विभागों की भी स्थापना की। हर विभाग में काम करने के लिए विस्तृत कार्य था। अपने राजवंश में निर्माण के लिए एक अलग विभाग था जिसमें बुनियादी ढांचे के विकास और व्यापार मार्गों के निर्माण के लिए बड़े पैमाने पर योगदान किया। कई सबूत हैं जो सिंचाई जलाशयों के निर्माण और नागरिक आपूर्ति के लिए चंद्रगुप्त मौर्य प्रशासन के निर्माण के साथ-साथ मौर्य सेना के सुझाव भी देते हैं। कुल मिलाकर उनके प्रशासन में पर्याप्त व्यवस्था थी जिससे उन्हें विभिन्न सामानों के उत्पादन के लिए बड़ी संख्या में केंद्र बनाने में मदद मिली और इसके अलावा मौर्यों ने भी इस युग में खनन शुरू किया था।

कार्यात्मक न्यायिक प्रणाली

एक कार्यात्मक न्यायिक प्रशासन की स्थापना चंद्रगुप्त मौर्य की एक और महत्वपूर्ण उपलब्धि थी। एक महान शासक के रूप में उन्होंने एक न्यायिक प्रणाली के माध्यम से अपने साम्राज्य में न्याय का माहौल बनाया जिसमें अपील के लिए राजा सर्वोच्च न्यायालय के रूप में था। न्यायिक प्रणाली में भी गंभीर दंड के प्रावधान थे और इसलिए अपने शासन के दौरान मौर्य वंश में एक शांतिपूर्ण शासन विधि सफलतापूर्वक स्थापित हो गई। हर गांव में उन्होंने एक मजबूत विवाद निवारण तंत्र के साथ छोटी अदालतें बनाईं। भारत में आज के एक गांव के सरपंच की तरह उन पदों के अध्यक्ष थे जिन्हें विवादों को देखना था और गांवों में तत्काल समाधान प्रदान करना था। यदि हम चाणक्य द्वारा लिखी गई प्रसिद्ध पुस्तक 'अर्थशास्त्र' का उल्लेख करते हैं तो चंद्रगुप्त मौर्य के विभिन्न मंत्रियों के प्रशासन के तहत कुल 22 विभाग थे। इनमें कोस्ता, मुद्रा, गणिका, हस्ती और सुवर्णा आदि शामिल थे। संक्षेप में चंद्रगुप्त मौर्य के शासनकाल के दौरान भारतीय उपमहाद्वीप ने सर्वांगीण विकास, मजबूत प्रशासन और कानून का शासन देखा।

 

सवाल-जवाब

भारत का पहला मुस्लिम राजा कौन था?

उत्तर: दिल्ली सल्तनत के पहले शासक थे कुतुबुद्दीन ऐबक जिन्होंने गुलाम साम्राज्य की स्थापना की। गुलाम वंश जिसे ममुल्क वंश के नाम से भी जाना जाता है। कुतुबुद्दीन ऐबक भारत का पहला मुस्लिम राजा था।

 

भारत का पहला हिन्दू राजा कौन था?

उत्तर: चंद्रगुप्त मौर्य, जिन्होंने मौर्य वंश की स्थापना की और लगभग पूरे भारत पर शासन किया, वह भारत के पहले हिंदू राजा थे। यदि महाकाव्यों पर विश्वास करे तो महाभारत, जो प्राचीन संस्कृत महाकाव्य है, के अनुसार राजा दुष्यंत और शकुंतला का पुत्र भरत भारत का पहला हिंदू राजा था।

 

प्राचीन भारत का पहला राजा कौन था?

उत्तर: चंद्रगुप्त मौर्य प्राचीन भारत का पहला राजा/शासक था।

 

पशु चिकित्सा अस्पताल खोलने वाला प्राचीन भारत का पहला राजा कौन था?

उत्तर: सम्राट अशोक प्राचीन भारत के पहले राजा थे जिन्होंने प्रथम पशु चिकित्सा अस्पताल का निर्माण किया।

 

भारत के पहले राजा और रानी कौन थे?

उत्तर: चंद्रगुप्त मौर्य और उनकी पत्नी दुरधारा भारत के पहले राजा और रानी थे।

 

भारत का पहला ब्राह्मण राजा कौन था?

उत्तर: शूंग राजवंश की स्थापना करने वाले पुष्यभूति शुंग भारत के पहले ब्राह्मण राजा थे।

 

भारत का पहला ब्रिटिश शासक कौन था?

उत्तर: रानी विक्टोरिया भारत की पहली ब्रिटिश शासक थी।

 

भारत का पहला शासक कौन माना जाता था?

उत्तर: चंद्रगुप्त मौर्य भारत का पहला शासक था।

 

शास्त्रीय काल के दौरान शाही भारत का पहला शासक कौन था?

उत्तर: चंद्रगुप्त मौर्य।

 

सहायक गठबंधन को स्वीकार करने के लिए भारत का पहला देशी शासक कौन था?

उत्तर: हैदराबाद के निजाम भारत के पहले मूल शासक थे जिन्होंने वर्ष 1798 ईस्वी में सहायक गठबंधन को स्वीकार किया।

 

भारत का पहला राष्ट्रीय शासक कौन था?

उत्तर: चंद्रगुप्त मौर्य।

 

भारत को एकजुट करने वाला पहला शासक कौन था?

उत्तर: चंद्रगुप्त मौर्य पहले शासक थे जिन्होंने भारत को एकजुट किया।

 

भारत का पहला राजा कौन था?

उत्तर: चंद्रगुप्त मौर्य भारत के पहले राजा थे।

 

भारत की पहली महिला शासक कौन थी?

उत्तरः दिल्ली सल्तनत के गुलाम राजवंश की रजिया सुल्तान भारत की पहली महिला शासक थी।