भ्रष्टाचार मुक्त भारत पर भाषण

भ्रष्टाचार मुक्त भारत में रहना हर भारतीय का सपना है। है न? इसलिए यह हमारे देश के लिए बहुत ज्यादा ख़बरों में रहने वाला मुद्दा है। यह लगभग हर किसी के लिए चर्चा का केंद्र बन जाता है - चाहे वह हमारे राजनीतिक नेता हो, समाचार मीडिया हो, छात्र हो या फिर आम जनता हो। इन सब बातों को ध्यान में रख कर हमने भ्रष्टाचार मुक्त भारत में कुछ भाषणों को कवर किया है ताकि छात्रों या जो लोग किसी भी संभावित कारण के लिए भ्रष्टाचार पर भाषण देना चाहते हैं उन्हें इससे फायदा मिले। भ्रष्टाचार मुक्त भारत पर छोटे और लंबे दोनों भाषणों को हमारे द्वारा विभिन्न संदर्भों को ध्यान में रखते हुए लिखा गया है जिसके तहत हम भ्रष्टाचार नामक विषय को समझ सकते हैं। तो हमारी वेबसाइट के माध्यम से ब्राउज़ करें और अपनी सहायता के लिए प्रासंगिक और साथ ही उपयोगी सामग्री को ढूंढें।

भ्रष्टाचार मुक्त भारत पर स्पीच (Speech on Corruption Free India in Hindi)

भ्रष्टाचार मुक्त भारत पर भाषण/स्पीच – 1

देवियों और सज्जनों! आप सभी को मेरी ओर से नमस्कार।

'भ्रष्टाचार मुक्त भारत' पर अपने भाषण को शुरू करने से पहले, कृपया मुझे आप सभी का संगोष्ठी हॉल में स्वागत करने की अनुमति दें। मैं अपने पिछले सम्मेलनों के सफल समापन के लिए हर किसी को बधाई देना चाहता हूं जहां हम न केवल गंभीर चर्चाओं में शामिल हुए बल्कि हमारी एनजीओ कमेटी ने भी कुछ उपायों पर निर्णय लिया और हमारे समाज के सुधार की दिशा में काम करने के लिए वास्तव में अच्छा प्रयास किया। यह एक और महत्वपूर्ण मुद्दे, जो हमारे समाज और देश में बड़े पैमाने पर कहर ढा रहा है, की चर्चा करने के लिए 21वां आयोजन है।

आज की मेजबानी के लिए मैं राजीव खन्ना, 'भ्रष्टाचार मुक्त भारत' पर एक भाषण देने की जिम्मेदारी लेता हूं ताकि आज की चर्चा इसके बाद शुरू की जा सके। ईमानदारी से बोलते हुए मुझे यह स्वीकार करने में कोई शर्म नहीं है कि जब हम अपने देश के बारे में बात करते हैं और जिस तरह के गंभीर मुद्दों से यह जूझ रहा है तो भ्रष्टाचार का उल्लेख करना कोई नहीं भूल सकता जो स्पष्ट रूप से यहां बहुत बड़े पैमाने पर देखा जा सकता है। अपने देश के नागरिक के रूप में हमारा जीवन निश्चित रूप से इस मुद्दे से अछूता नहीं रह सकता। मुझे यकीन है कि आप सभी इस तथ्य से सहमत होंगे कि कोई भी जगह हम जहां भी जाएं, विशेष रूप से कोई भी सार्वजनिक क्षेत्र चाहे वह एक शैक्षणिक संस्थान हो या कोई प्रशासनिक विभाग, वे सभी भ्रष्टाचार का हमेशा अनुसरण करते हैं। कोई भी सार्वजनिक अधिकारी की जेब को गर्म किए बिना हमारा कोई प्रश्न या समस्या हल नहीं हो सकता। देखा जाए तो हमारे सरकारी अधिकारियों के ढोंग या दोहरे मानकों को विभिन्न पत्रकारों द्वारा बार-बार उजागर किया गया है।

इसके अलावा यदि आप किसी भी शैक्षिक संस्थान, विशेष रूप से शिक्षण प्रवेश के लिए निजी संस्थानों से संपर्क करते हैं, तो यह तब तक संभव नहीं होगा जब तक कि आप विभाग के प्रमुख को एक भारी राशि के रूप में रिश्वत का भुगतान न करें। यह इतना दुर्भाग्यपूर्ण है कि केवल मध्यम वर्ग या गरीब वर्ग है जो इस आघात का सामना करते हैं और समाज की सीढ़ी में ऊपर चढ़ने के बजाए वे सामाजिक बीमारियों का शिकार बन जाते हैं और समृद्ध वर्ग को यह समस्या छू भी नहीं पाती। यह मुख्य कारण है कि अमीर और गरीब के बीच की खाई को खत्म करना असंभव हो जाता है और समृद्ध और अमीर बनता रहता है और गरीब और गरीब बनता जाता है। सरकारी और गैर सरकारी संगठनों द्वारा कई पहल किए जाने के बावजूद हमारी मातृभूमि से सामाजिक बुराइयों को उखाड़ फेंकना बहुत मुश्किल होता जा रहा है। यह हमारे देश की दुखद वास्तविकता है।

हालांकि यह कहकर हम भ्रष्टाचार मुक्त भारत के हमारे सपने को छोड़ नहीं सकते हैं और इसलिए हमें अपने देश को रहने के लिए एक बेहतर स्थान बनाने के लिए निरंतर काम करना चाहिए। भारत को सभी सामाजिक बुराईयों से छुटकारा दिलाने की ज़िम्मेदारी युवाओं के कंधों पर है जो हमारे राष्ट्र के निर्माता हैं। यदि हमारे युवाओं को अच्छे मूल्यों के बारे में सिखाया जाए और उनके व्यक्तित्वों के समग्र विकास को प्रोत्साहित किया जाए तो निश्चित रूप से हम अपने राष्ट्र के विकास में कई ऊँचाईयां हासिल कर सकते हैं। दूसरा हमारे समाज के हाशिए पर बैठे वर्गों की स्थिति को सुधारने और उन्हें शिक्षा के साथ-साथ नौकरी के अवसरों के समान अवसर देना बहुत महत्वपूर्ण है जिससे यह न केवल हमारे देश से गरीबी उन्मूलन में मददगार साबित होगा बल्कि यह देश के सर्वांगीण विकास में भी तेजी लाने में सहायता करेगा।

अब मैं सभी सदस्यों से अपने विचार साझा करने और कुछ ठोस उपाय सुझाने का अनुरोध करता हूं जो भ्रष्टाचार से निपटने के लिए किए जा सकते हैं।

धन्यवाद।

भ्रष्टाचार मुक्त भारत पर भाषण/स्पीच – 2

माननीय प्रधानाचार्य, उपाध्यक्ष, समिति के सदस्य, सम्मानित शिक्षकगण और मेरे प्रिय मित्रों!

मैं हमारे स्कूल सभागार में हर किसी का स्वागत करता हूं और हमारे सम्मानित प्रिंसिपल, उपाध्यक्ष और हमारे सभी शिक्षकों के लिए इस घटना को संभव बनाने और इस अवसर पर उपस्थित होने के लिए विशेष रूप से धन्यवाद देना चाहता हूं।

प्रिय छात्रों मुझे, मोनिका साहा - विद्यालय की हेड गर्ल, स्वतंत्रता दिवस की पूर्व संध्या पर एक चर्चा के आयोजन का मौका दिया है जहाँ हम हमारे देश की सबसे ज्यादा जबरदस्त समस्या, यानी भ्रष्टाचार और इससे कैसे लड़ा जा सकता है ताकि भ्रष्टाचार मुक्त भारत के लिए एक मजबूत नींव रखी जा सके, पर बातचीत करेंगे।

मैं यहां अपनी मातृभूमि की अँधेरा भरी, निराशाजनक तस्वीर देने के लिए नहीं हूं पर हम अपने समाज की सामाजिक बुराइयों की ओर आँख बंद नहीं कर सकते जिसमें भ्रष्टाचार एक अपरिहार्य हिस्सा बन चुका है। यह सच है कि हम एक बहु-सांस्कृतिक भूमि पर रहते हैं जहां विभिन्न धर्म के लोग एक साथ रहते हैं और एक-दूसरे के उत्सव और समारोहों में आनन्दपूर्वक शिरकत करते हैं। हम एक देश के रूप में सांस्कृतिक और ऐतिहासिक रूप से समृद्ध हैं जहाँ विश्व की महान कलाकृतियां और स्मारक दुनिया भर के लोगों को आश्चर्यचकित करती हैं। परन्तु निश्चित रूप से हम अपने देश के दुखद राजनीतिक हालात और आर्थिक हालातों को सुधारने में सफल नहीं हो सके जिसके फ़लस्वरूप भ्रष्टाचार ने हमारी अर्थव्यवस्था और हमारे स्थानीय, राज्य और केंद्र सरकार संगठनों की विश्वसनीयता पर प्रतिकूल प्रभाव डाला है। जाहिर है भ्रष्टाचार ने न केवल हमारे देश की अर्थव्यवस्था को नई ऊंचाइयों को हासिल करने से रोक दिया है बल्कि इसकी व्यापकता ने भारत की विकास नीतियों और उपायों को भी रोक दिया है।

क्या हमने कभी यह महसूस किया है कि भ्रष्टाचार ने हमारे जीवन में किस प्रकार और किस तरह से भ्रम पैदा किया है जिसकी वजह से हम या तो पीड़ित या भ्रष्ट गतिविधियों के सहायक बनते हैं? भारत में भ्रष्टाचार के प्रमुख कारणों में अनुचित नियम, पारदर्शी प्रक्रियाएं और कानून, जटिल कर और लाइसेंसिंग सिस्टम, अपारदर्शी विवेकाधीन और नौकरशाही शक्तियों के साथ-साथ सरकारी नियंत्रण वाली एजेंसियों के वितरण के साथ विभिन्न सार्वजनिक विभागों की वस्तुओं और सेवाओं का वितरण शामिल है। भ्रष्टाचार के स्तर में कोई सीमा नहीं है और देशभर में भ्रष्टाचार की गंभीरता को रोकने के लिए सरकार प्रयासरत है।

वास्तव में हमारे दिन-प्रतिदिन के जीवन में हम भ्रष्टाचार के कई पहलुओं को देखते हैं। उदाहरण के लिए अगर हम किसी अच्छे स्कूल या किसी प्रसिद्ध संस्थान में प्रवेश की कोशिश करते हैं तो ऐसा तब तक नहीं हो सकता जब तक कि हम प्रशासनिक अधिकारियों या कार्यरत कर्मचारियों को रिश्वत नहीं देते। वरना अगर हम एक सार्वजनिक अधिकारी के रूप में काम करने के योग्य हैं तो हम तब तक मेरिट सूची में आने के बावजूद भी प्रवेश नहीं पा सकते हैं जब तक कि हम अधिकारियों को उनकी वांछित राशि नहीं दे देते।

हालांकि कई भ्रष्टाचार विरोधी कृत्यों को सरकार द्वारा इस स्थिति का समाधान करने के लिए पारित किया गया है जैसे कि सूचना का अधिकार अधिनियम, धन शोधन निवारण अधिनियम 2002, आयकर अधिनियम 1961 का अभियोजन अनुभाग, भारतीय दंड संहिता 1860 आदि। यह सरकारी अधिकारियों और हमारे देश के लोगों पर निर्भर करता है कि वे इन निवारक उपायों पर कैसे काम करते हैं और तुरंत किसी अवैध गतिविधियों की संबंधित प्राधिकरण या पुलिस को रिपोर्ट करें जो हमारे सामने घटित हो रही है।

इस तथ्य का कोई दूसरा पहलू नहीं है कि अगर हम एक देश के रूप में भ्रष्टाचार को उखाड़ फेंकने के लिए एक साथ मिलकर काम करते हैं या ब्रिटेन और सिंगापुर जैसी समृद्ध अर्थव्यवस्थाओं के स्तर तक भी कम कर सकते हैं तो वह दिन दूर नहीं होगा जब हम भारत की सकल घरेलू उत्पाद की विकास दर तेजी से बढ़ेगी जैसी पहले कभी नहीं बढ़ी थी।

धन्यवाद!

भ्रष्टाचार मुक्त भारत पर भाषण/स्पीच – 3

आदरणीय प्रधानाचार्य, उप-प्रधानाचार्य, प्रिय सहकर्मियों और मेरे प्रिय विद्यार्थियों आप सभी को मेरी ओर से नमस्कार!

आज इस सभा कक्ष में मुझे, आपका सामाजिक विज्ञान अध्यापक, आप सभी विद्यार्थियों के लिए भ्रष्टाचार मुक्त भारत पर एक भाषण देने के लिए कहा गया है ताकि प्रत्येक बच्चा भ्रष्टाचार को खत्म करने की जिम्मेदारी ले सकें जिससे हमारा समाज रहने के लिए एक बेहतर जगह बन सके।

भ्रष्टाचार निर्विवाद रूप से सबसे ज्यादा खतरनाक बुराइयों में से एक है जो हमारे समाज में गहराई से जमी हुई है। जब से भारत आजाद हुआ है तब से इसने हमारे देश को आर्थिक आधार पर और अधिक  कमजोर कर दिया है। भारतीय प्रशासन के हर स्तर पर दुर्भाग्य से भ्रष्टाचार ने अपना शिकंजा कस लिया है और हमारी अर्थव्यवस्था को खोखला करता जा रहा है। चाहे वह सार्वजनिक क्षेत्र हो या निजी क्षेत्र हो भारतीय लोग अपनी स्थिति या शक्ति का दुरुपयोग करने की कोशिश में लगे रहते हैं ताकि वे अपनी अपेक्षित इच्छाओं को पूरा कर सकें और ज्यादा से ज्यादा मुनाफ़ा कमा सकें। हालांकि उन्हें नहीं पता कि वे हमारे देश और इसके विकास को कितना गंभीर नुकसान पहुंचा रहे हैं क्योंकि ऐसे लोग दिन-प्रतिदिन संख्या में बढ़ रहे हैं और हमारे राष्ट्र की संपत्ति को एक कीड़े की तरह खा रहे हैं।

भ्रष्टाचार मुक्त भारत बनाना निश्चित रूप से आसान नहीं है लेकिन यह असंभव भी नहीं है। सबसे पहले हमारे प्रशासन में खामियों और कमियों की पहचान करना और उन कमियों के पीछे के कारणों की जांच करना तथा हर स्तर पर सख्त जांच और उपायों को लागू करके उन कमियों को भरने की कोशिश करना महत्वपूर्ण है। यदि समय पर निवारक उपाय नहीं किए गए तो हमारे देश और राज्यों की मशीनरी एक दिन पूरी तरह से तहस-नहस हो जाएगी।

भ्रष्टाचार न केवल राष्ट्र की क्षमता को प्रभावित करता है बल्कि गरीबी के स्तर को भी बढ़ाता है तथा श्रम संसाधन की गुणवत्ता को भी खराब करता है। भ्रष्टाचार मुक्त भारत के अपने सपने को प्राप्त करने के लिए हमारे देश को नैतिक आधार पर अपनी नीतियां बनानी होंगी जहां भ्रष्टाचार के लिए शून्य सहिष्णुता का स्तर होना चाहिए और रिश्वत देना या लेना बिलकुल बंद होना चाहिए। हमारे बच्चों को स्कूल भेजते समय वहां के अधिकारियों को रिश्वत देते वक़्त से ही हमारी भ्रष्ट गतिविधियों की शुरूआत हो जाती है और धीरे-धीरे यह समस्या बड़े पैमाने पर फ़ैल जाती हैं। आप अपने आप से पूछें कि आपने कितनी बार किसी भी सरकारी अधिकारी को अपना काम करवाने के लिए रिश्वत दी है और आपको ख़ुद पता चलेगा कि यह स्थिति किस तरह बढ़ रही है। हालात इतने खतरनाक हो गए हैं कि मनुष्य हमारे समाज में आराम से रह नहीं सकता।

ऐसी गंभीर स्थिति के होने की वजह से मैं यहां उपस्थित सभी को समझाना चाहता हूं कि आराम से ना बैठिए। हर व्यक्ति भ्रष्टाचार मुक्त भारत के निर्माण की ओर योगदान दे रहा है और हमारी अगली पीढ़ी के लिए बेहतर कल की नींव रख रहा है। यदि हर कोई एकजुट रहता है, रिश्वत नहीं देने की प्रतिज्ञा करता है और हमारे समाज से भ्रष्टाचार को खत्म करने के लिए कुछ अच्छे उपाए करता है तो मुझे लगता है कि भारत में भ्रष्टाचार से छुटकारा पाने की मजबूत क्षमता है।

सौभाग्य से हम 21वीं शताब्दी में रह रहे हैं जहां हमारे पास वर्तमान परिदृश्य से निपटने के लिए आवश्यक ज्ञान और सिद्ध साधन हैं। इसके अलावा हमें लगातार प्रौद्योगिकी और मीडिया दोनों के जरिए लाखों लोगों की आबादी में जागरूकता फैलाने और संदेश प्रसारित करने के लिए समर्थन मिल रहा है। इसलिए अपनी शक्ति का उपयोग कीजिए और इससे निपटने के प्रति काम कीजिए क्योंकि अगर आप आज प्रभावित नहीं हुए तो आने वाले दिनों में आप ज़रूर प्रभावित होंगे।

धन्यवाद!


 

भ्रष्टाचार मुक्त भारत पर भाषण/स्पीच – 4

नमस्कार! मैं हमारी साप्ताहिक सभा में हमारे समाज के सभी सदस्यों का दिल से स्वागत करता हूं!

जैसे-जैसे हम इन दिनों अजीबोगरीब खबरें देख रहे हैं मैंने अपनी सोसाइटी के सचिव के रूप में एक छोटे से कार्यक्रम की मेजबानी करना उचित समझा ताकि मैं भ्रष्टाचार मुक्त भारत पर भाषण दे सकूं जो मुझे यकीन है कि लगभग प्रत्येक भारतीय ईमानदार नागरिक का सपना है।

भारत निस्संदेह इस धरती के सबसे आकर्षक स्थानों में से एक है जिसकी प्राकृतिक और सांस्कृतिक संपदा कई लोगों के लिए आकर्षण का बड़ा केंद्र है। हालांकि हमारे देश की महानता और सद्भावना भ्रष्ट गतिविधियों से खराब हो गई है जो बहुत तेज़ी से समाज में फ़ैल रही है। लगभग हर कार्य विभाग में हमें भ्रष्ट गतिविधियां देखने को मिलती है जो लोगों के जीवन पर विपरीत प्रभाव डालती हैं क्योंकि इन गतिविधियों के माध्यम से विभाग में कार्यरत लोग किसी भी समय अन्य लोगों की दुखदाई दुर्दशा के प्रति असंवेदनशील होकर इनका फायदा उठाते हैं।

धन ने पुरुषों पर शासन किया है और अब यह एक स्तर पर आया है जहां एक आम आदमी को सत्तारूढ़ दल की किसी भी तरह की मदद की ज़रूरत है, तो उसे / उसके काम के लिए भ्रष्ट तरीकों का सहारा लेना होगा।

हालांकि नैतिकता मूल्यों और सिद्धांतों के बारे में बहुत कुछ कहा गया है लेकिन बंद दरवाजों के पीछे केवल पैसा है जो सब कुछ तय करता है। अगर किसी को कोई काम करवाने की इच्छा है तो उसे पीछे के दरवाज़े से जाना चाहिए और सार्वजनिक अधिकारियों की जेबों में रिश्वत का पैसा डालना सीखना चाहिए। ऐसे राजनेताओं और नौकरशाहों की कोई कमी नहीं है जो आसानी से पैसे से प्रभावित हो जाते हैं और अपने पूरे विभाग को खराब करते हैं। इन कारणों से ऐसे स्थानों में कार्य क्षमता इतनी प्रभावित होती है कि यह देश की अर्थव्यवस्था को अस्थिर कर देती है जिसके फ़लस्वरूप हमारे सकल घरेलू उत्पाद में भारी गिरावट आती है।

भ्रष्टाचार शीर्ष स्तर से शुरू होता है और नीचे तक जाता है। वरिष्ठ अधिकारी से लेकर जूनियर स्तर के कार्यकारी अधिकारी और यहां तक ​​कि क्लर्कों तक भी भ्रष्ट लोगों की पूरी श्रृंखला बनी हुई होती है और आम आदमी के लिए उन्हें पार पाकर तथा तत्काल कार्रवाई करने के लिए अपनी आवाज उठाना मुश्किल हो जाता है। हमारी निराशा को और बढ़ाने के लिए स्थिति इस हद तक बढ़ गई है जहां नैतिक रूप से समाज को बिगाड़ने वाले लोगों की जांच करने के लिए कोई गंभीर कानून नहीं हैं। ऐसे लोगों द्वारा आम आदमी का लगातार इस्तेमाल किया जा रहा है क्योंकि उनके पास भ्रष्टाचार से लड़ने के लिए पर्याप्त साधन नहीं हैं और इसलिए आम आदमी का अस्तित्व बहुत दयनीय है।

इतना सब कहने के बाद मुझे अब भी यह लगता है कि इस सब को तभी बंद किया जा सकता है जब तक हर भारतीय नागरिक अपनी अंतरात्मा से भ्रष्टाचार मुक्त ऐसा भारत बनाने के लिए शपथ नहीं लेता जहाँ नैतिक सिद्धांतों और नैतिक मूल्यों की कीमत हो जिसके लिए भारत ने कई वर्षों से अपनी अलग पहचान बना रखी थी।

अगर हम अपने आप में विश्वास करते हैं और लक्ष्य को साकार करने की दिशा में अपनी सभी शक्तियों के साथ काम करते हैं तो कुछ भी असंभव नहीं है - चाहे वह हमारे व्यक्तिगत उद्देश्य हो या भारत को रहने के लिए एक शांतिपूर्ण स्वर्ग बनाना हो।

अब कृप्या मुझे अपना भाषण खत्म करने की इज़ाज़त दें और मैं मेरे अन्य साथियों से अनुरोध करता हूँ कि मंच पर आएं और इस संदर्भ में कुछ शब्द कहें।

धन्यवाद।