अनुशासन पर भाषण

हमें यह उल्लेख करने की आवश्यकता नहीं है कि हम में से प्रत्येक के लिए जीवन में अनुशासन बहुत महत्वपूर्ण है। यह नियमों या आचार संहिता का पालन करने के लिए लोगों को प्रशिक्षण देने की परंपरा है। अनुशासित जीवन के बिना हम अपने लक्ष्यों की दिशा में काम नहीं कर सकते हैं। यही वजह है कि हमारे बचपन से ही हमें इसका महत्व सिखाया जाता है। वास्तव में कई बार स्कूल और कॉलेज में छात्रों को किसी अवसर पर अनुशासन के सार को समझने या भाषण देने के लिए अनुशासन पर एक छोटे भाषण या स्पीच तैयार करने को कहा जाता हैं। हम यहां इस विषय के व्यापक अर्थ को समझाने वाली स्पीच उपलब्ध करवा रहे हैं। आदर्श रूप में कर्मचारियों में अनुशासन पैदा करना संगठनों की आचरण नीति का कोड है। हमारे द्वारा उपलब्ध करवाई हुई अनुशासन पर स्पीच अत्यधिक प्रभावशाली है जिसका उपयोग संगठनात्मक स्तर पर भी किया जा सकता है।

अनुशासन पर स्पीच (Speech on Discipline in Hindi)

अनुशासन पर भाषण – 1

सम्मानित प्रोफेसरों और प्रिय जूनियर छात्रों!

मुझे मेरे जूनियर छात्रों का हमारे सम्मानित ABC कॉलेज में स्वागत करते हुए बहुत अच्छा लग रहा है। हमारे सभी जूनियर इस भाषण समारोह में आश्चर्यचकित लग रहे हैं और ऐसा लग रहा है कि उत्सुकतापूर्वक अपनी फ्रेशर पार्टी की प्रतीक्षा कर रहे हैं लेकिन मैं आपको यह बता दूँ कि हमारे अंग्रेजी विभाग ने आपकी सहायता करने के लिए इस छोटे से समारोह का आयोजन किया है और हम एक दूसरे को अच्छी तरह से जान सकें और फ्रेशर पार्टी का आनंद भी उठा सकें।

आपके वरिष्ठों में से एक के रूप में मैं यहां आपके साथ एक परस्पर संवादात्मक सत्र आयोजित करने और अनुशासन पर स्पीच देने के लिए यहाँ आपके समक्ष हूं। 'अनुशासन' नामक विषय चुनने के पीछे भी एक कारण है। आपने अपनी सफलतापूर्वक उच्च माध्यमिक शिक्षा को पूरा करके एक लम्बा सफ़र तय किया है और अब आप अपना कॉलेज जीवन शुरू करने के लिए तैयार हैं। मुझे यकीं है कि आप सबको पता है कि यह एक बहुत ही काल्पनिक दुनिया है - कोई प्रतिबंध नहीं, कोई ड्रेस कोड नहीं आदि लेकिन इस चमकदार दुनिया के पीछे - एक छिपी हुई वास्तविकता भी है। क्या आप जानते हैं यह क्या है? आने वाले आपके कॉलेज जीवन के 3 वर्ष आपके भविष्य को निर्देशित करेंगे। या तो इन 3 वर्षों में आप अपना भविष्य बना सकते हैं या इसे तोड़ सकते हैं।

कुल मिलाकर बात यह है कि आप अपने कॉलेज जीवन का आनंद लें क्योंकि यह समय बार-बार वापस नहीं आएगा लेकिन अपने जीवन में उस आवश्यक अनुशासन का भी पालन करिए ताकि आपकी पढ़ाई प्रभावित न हो।

अब क्या मैं आपको यह पूछ सकता हूं कि अनुशासन क्या है? अनुशासन को नियमों और विनियमों के एक सेट के रूप में परिभाषित किया जा सकता है जिसका हर एक को पालन करना चाहिए। हमारे जीवन में अनुशासन बेहद जरूरी है क्योंकि समाज के संतुलन को बनाए रखने के लिए हमें कुछ खास तरह की आचार संहिता में रहना पड़ता हैं ताकि हम अपने आप को एक अच्छे इंसान के रूप में विकसित कर सकें। अनुशासन हमें घर पर और हमारे स्कूल में सिखाया जाता है। स्कूल में हम अपने संबंधित विषयों को कवर करने और उचित तरीके से व्यवहार करने के लिए एक समय सारणी बनाते हैं।

यह कहने की ज़रूरत नहीं कि जीवन के हर दौर में अनुशासन आवश्यक है और यह एक सभ्य समाज की नींव है। यह न केवल हमें एक जिम्मेदार इंसान बनने में मदद करता है बल्कि हमारे लक्ष्यों को प्राप्त करने में भी मदद करता है। इसलिए यदि आप फिर से जीवन में अनुशासन का अभ्यास करें तो आप खुद को अव्यवस्थित नहीं पाएंगे। आप अपनी पढ़ाई का प्रबंधन और आनंद एक ही समय में ले सकेंगे।

इस समय आप एक आज़ाद पंछी की तरह हैं तो कॉलेज भी अपने छात्रों से यह अपेक्षा करता है कि वे एक उच्च स्तर के अनुशासन को सुनिश्चित करें और अपने अध्ययनों के प्रति वफ़ादार रहें। कृपया याद रखें कि अनुशासन आपको अपने कॉलेज के अध्ययनों में बेहतर बनाने में मदद करेगा जैसे आप अपने स्कूल के दिनों के दौरान बेहतर थे। आप कहीं भी जाएँ या आप जो भी व्यवसाय चुने जैसे शिक्षक, डॉक्टर, वकील, खेल आदि अनुशासन हर जगह और जीवन के सभी क्षेत्रों में जरूरी है।

यह एक व्यक्ति की सबसे महत्वपूर्ण गुणवत्ता में से एक है। तो अपने कॉलेज जीवन को अनुशासित करें और अपनी अध्ययन पद्धति को सुदृढ़ करें जिससे आप अपने व्यस्त समय से वक़्त निकालकर एक छात्र के रूप में अपनी भूमिकाएं और जिम्मेदारियों को निभा सकें। है न?

अब मैं आपको फ्रेशर पार्टी का दिन बताता हूँ जिसे आप सब जिसके बारे में आप सभी उत्सुकता से जानना चाहते हैं - आने वाले सप्ताह का बुधवार।

धन्यवाद।

अनुशासन पर भाषण – 2

सम्मानित प्रिंसिपल, सम्मानित शिक्षकगण और मेरे प्यारे दोस्तों!

सबसे पहले मैं आप सभी का हमारे स्कूल के वार्षिकोत्सव में स्वागत करना चाहूंगा। हर साल हम बहुत ख़ुशी और उत्साह के साथ इस दिन का जश्न मनाते हैं। एक तरफ छात्र अगली कक्षा में पदोन्नत होने के लिए उत्साहित हैं वहीं पिछली कक्षा की यादों को छोड़ते हुए दुखी भी है।

मैं इस कार्यक्रम की मेजबानी और स्पीच देने का मौका पाकर बहुत खुश हूँ। इस वर्ष जो विषय मैंने चुना है वह है 'अनुशासन'।

हालांकि हम सभी इस पद के शब्दकोश अर्थ के बारे में जानते हैं लेकिन हम में से कितने लोग वास्तव में हमारी आंतरिक वृत्ति का पालन करते हैं?

अनुशासन का मतलब है 'नैतिक तरीके से काम करना'। घर के बाद स्कूल हमारा दूसरा स्थान है जहां हम अनुशासन सीखते हैं। अनुशासन मूल रूप से हमारी आधार इच्छाओं का दमन है और अक्सर इसे आत्म संयम और नियंत्रण के समान माना जाता है। अनुशासित व्यक्ति किसी की इच्छाओं के बावजूद कार्रवाई का सर्वोत्तम कार्य निर्धारित करता है। ईमानदार व्यवहार अनुशासन का एक और रूप है। इसे तब वर्णित किया जा सकता है जब किसी के मूल्यों और उद्देश्यों को एक दूसरे के साथ गठबंधन किया जाता है।

किसी व्यक्ति के जीवन को सकारत्मक तरीके से चलाने के लिए विद्यालय के अनुशासन की एक महत्वपूर्ण भूमिका होती है। यह एक शिक्षक द्वारा की गई कार्यवाही का एक आवश्यक सेट है अगर छात्र के व्यवहार के चलते शैक्षणिक गतिविधियों में बाधा उत्पन्न हो गई है या छात्र स्कूल के अधिकारियों द्वारा बनाए गए किसी विशेष नियम को तोड़ता है। अनुशासन मूल रूप से बच्चों के व्यवहार की दिशा निर्देशित करता है, सीमा निर्धारित करता है और अंततः उन्हें स्वयं और दूसरों की देखभाल करने में मदद करता है।

अनुशासन के कई रूप होते हैं। स्कूली व्यवस्था कायदा-कानून और नियमों को बनाती है और यदि कोई छात्र इन नियमों को तोड़ता है तो उनको सजा भुगतनी पड़ती हैं। जो अंततः छात्र को अनुशासन सिखाती है। स्कूल के नियमों में अपेक्षित कपड़ों के मानकों, सामाजिक आचरण, टाइमकीपिंग और नैतिक कार्य को परिभाषित करना शामिल हो सकता है।

जहाँ छात्रों को अनुशासन में रहना आवश्यक है वहीं शिक्षकों को भी सावधान रहना चाहिए कि वे इतनी बुरी तरह से छात्रों को ना पीटें कि उन्हें चोट पहुंचे। इसे शारीरिक सजा भी कहा जाता है। कई जगहों से हमें यह सुनने को मिलता है कि कुछ शिक्षक अनुशासन के नाम पर हिंसा करते हैं जिससे छात्रों को शारीरिक और मानसिक रूप से नुकसान पहुंचता हैं। इस वजह से अनुशासन पर से फोकस अब हटता जा रहा है और इन सभी घटनाओं के कारण अन्य विकल्प विकसित हो रहे हैं।

अब कई स्कूल 'सकारात्मक अनुशासन' पर केंद्रित हैं। यह एक अनुशासन का मॉडल है जो व्यवहार के सकारात्मक पहलुओं पर जोर देता है। एक अवधारणा में पाया गया है कि कोई छात्र बुरा नहीं होता सिर्फ बुरा और अच्छा व्यवहार होता है। तदनुसार आप बच्चे को चोट पहुंचाए बिना परामर्श और उदाहरणों के माध्यम से अच्छे व्यवहार को सुदृढ़ कर सकते हैं। सकारात्मक विषयों को बढ़ावा देने वाले लोग समस्याओं को अनदेखा नहीं करते बल्कि समस्या का शांतिपूर्वक ढंग से निपटारा करते हैं।

हमारे व्यावसायिक जीवन में भी अनुशासन की आवश्यकता होती है और इसी वजह से यह सबसे अधिक महत्वपूर्ण है। जैसे एक कंपनी किसी उचित रणनीति के बिना सफल नहीं हो सकती उसी प्रकार हम अपने जीवन में नियमों और अनुशासन के बिना कभी सफल नहीं हो सकते। अच्छी आदतों का पालन करना, जल्दी व्यायाम करना, नियमित व्यायाम करना, स्वस्थ भोजन करना, धूम्रपान, शराब पीना आदि जैसी बुरी आदतों में शामिल ना होकर हम स्वस्थ और फिट रह सकते हैं।

इस प्रकार यह महत्वपूर्ण है कि हम अपने जीवन के हर पहलू में अनुशासित रहें।

धन्यवाद।

---------------------------------

अनुशासन पर भाषण – 3

सभी को सुप्रभात।

आज के सत्र के लिए मेरा विषय है कि 'अनुशासन' का अर्थ क्या है और हम सभी के लिए इसका पालन करना कितना महत्वपूर्ण है।

आप सभी को क्या लगता है कि अनुशासन क्या है? ठीक है जब तक आप लोग कुछ नहीं कहते तब तक मैं इसके बारे में अपने विचार साझा करूंगा।

अनुशासन किसी की प्रगति के लिए एक बहुत ही बुनियादी आवश्यकता है। अनुशासित होने का मतलब यह नहीं है कि आप उन नियमों का पालन करते हैं जिनके बारे में आपसे कहा जाता है। इसका अर्थ है कि स्वयं के नियंत्रण, बदलते रुझान और निर्देशों के अनुसार स्वयं को समायोजित करने की क्षमता रखना। अनुशासित होने के कारण हमेशा आपको स्वतंत्रता का वास्तविक आनंद मिलेगा। अपने आप से पूछिए कोई छात्र या कर्मचारी ऐसा है जो अनुशासित है और उसे कभी संदेह की नज़र से न देखा जाता हो। ऐसे व्यक्ति को हमेशा अपने कार्यों के लिए स्वतंत्रता दी जाती है क्योंकि हर कोई जानता है कि उसका खुद पर पूरा नियंत्रण है और निर्णय के कार्यान्वयन के लिए पर्याप्त परिपक्व है।

हमारे जीवन के सभी क्षेत्रों में अनुशासन अत्यंत आवश्यक है। कल्पना कीजिए क्या यह संभव है कि कोई सेना सख्त अनुशासन के बिना लड़ सके? क्या अनुशासन के बिना कोई शैक्षणिक संस्था चल सकती है? जी नहीं! इसलिए इससे यह साबित होता है कि अनुशासन जीवन का बहुत महत्वपूर्ण और निर्णायक तत्व है।

हमारे व्यक्तिगत और व्यावसायिक जीवन में अच्छी तरह से काम करने के लिए हम सभी को नियत अनुशासनात्मक दिनचर्या चाहिए। हमें हमारी प्रत्येक छोटी सी कार्रवाई की निगरानी करनी चाहिए। समय पर सोने से लेकर खाने तक की व्यवस्था सही होनी चाहिए। एक स्वस्थ और बुद्धिमान जीवन जीने के लिए सब कुछ ध्यान में रखे जाने की जरूरत है। स्वास्थ्य, धन और समग्र समाज के मामले में स्वयं की स्थिति बनाए रखने के लिए खुद को नियंत्रित करना चाहिए।

हम दूसरों को देखकर खुद में अनुशासन उत्पन्न करते हैं। हमारे बचपन से ही हमारे माता-पिता और दादा-दादी हैं जिन्हें देख हम अपनी दैनिक दिनचर्या और दिन-प्रतिदिन गतिविधियों का निर्माण करते हैं। मैंने यह कई बार देखा है कि अनुशासन का पालन करने वाले लोगों को जरूरत के समय दूसरों से जबरदस्त समर्थन प्राप्त होता है। एक प्रगतिशील और स्थिर जीवन के लिए हमें यह सुनिश्चित करना होगा कि हम अनुशासित जीवन का पालन करें। हमें हमारे चारों ओर रहने वाले सभी लोगों के लिए प्रेरणा के रूप में कार्य करना चाहिए। हम अपने विशिष्ट अनुशासित जीवन के प्रवाह के कारण हमारे कार्यों के प्रति स्थिर, शांतिपूर्ण, खुश और दृढ़ संकल्प देखते हुए हम अच्छे लोगों को अपनी ओर आकर्षित कर पाएंगे। हमारा समर्पण हमें हमारी उपलब्धियों के लिए आगे बढ़ने में मदद करता है क्योंकि अनुशासित व्यक्ति अपने कार्यों और कार्य निष्पादन में भी बहुत योजनाबद्ध रहता है।

अगर आप अनुशासित नहीं रहते हैं तो आपके जीवन का कोई स्तर नहीं है जो आपको एक स्वस्थ सुखी जीवन प्रदान कर सकता है। हर दिन अनुशासन का अभ्यास करें और मैं आपको अपने व्यक्तिगत अनुभव के अनुसार आश्वासन देता हूं कि जिस चीज को आप पाना चाहते हैं वह आपको ज़रूर मिलेगी। जब आप अपने जीवन को अनुशासन में ढाल लेते हैं तो आपको हर मुश्किल लगने वाली चीजें बहुत आसानी से और सुविधाजनक तरीके से हल हो जाएगी।

अपना समय निकालकर इस महत्वपूर्ण विषय को सुनने के लिए धन्यवाद। आशा है कि अब आप अपने जीवन में इसे स्वयं लागू करेंगे। अपना ध्यान रखें और शुभकामनाएँ!

---------------------------------

अनुशासन पर भाषण – 4

नमस्कार मित्रों और मेरे प्रिय सहयोगियों,

यह हमारी कम्पनी द्वारा आयोजित अनुशासन के विरासत मूल्य को बेहतर बनाने के लिए एक विशेष कार्यशाला है। अपना समय निकालने और इस सत्र का एक हिस्सा बनने के लिए धन्यवाद।

आप में से कई लोग अनुशासन शब्द का अभ्यास करते हैं और पालन करते हैं लेकिन आप में से कुछ लोगों के लिए यह शब्द नया दिखाई दे सकता है जिस पर पहले ध्यान नहीं दिया गया है। मैं इस मुद्दे को संबोधित करने के लिए यहाँ हूं। जब हम परिपक्वता की बात करते हैं तो हमें आत्म-अनुशासन सीखना होगा। कैसे खुद को और दूसरों पर शासन करना है। यह सभी के लिए सबसे मुश्किल काम है। अनुशासन केवल वांछनीय नहीं बल्कि अपरिहार्य भी है। अनुशासन परिवार का पहला मानदंड होना चाहिए।

अपने अनुभव के अनुसार मैं अनुशासन को अपने लिए सर्वोत्तम परिणामों को पाने हेतु अच्छी तरह से किए गये योजनाबद्ध कार्य के रूप में संबोधित करता हूं। जरुरी नहीं की ये परिणाम मौद्रिक लाभों के लिए हों लेकिन ये स्वस्थ और प्रगतिशील जीवन को पूरा करता है। मेरे लिए अनुशासन आत्म नियंत्रण के बारे में आत्मिकरण है। यह सब हमारे बचपन से हमारे द्वारा प्राप्त किए गए मूल्यों पर निर्भर करता है।

यह घर, कार्यालय, खेल के मैदान या अन्य स्थानों पर या जीवन के चरण में हर किसी के लिए बहुत आवश्यक उपकरणों में से एक है। अगर हम जीवन में अनुशासन का पालन न करें और अभ्यास न करें तो हमारा दैनिक जीवन असंगठित और कुप्रबंधित हो जाएगा।

इस दुनिया में हर किसी से अनुशासन का पालन करने की उम्मीद होती है। हर दिन सूर्य समय पर उगता है और शाम को छिपता है। है न? सूर्य की दिनचर्या कभी इसके विपरीत नहीं होती है। सुबह और शाम रोजाना बिना देर किए आते हैं, नदी हमेशा बहती रहती है और न जाने क्या क्या।

अनुशासित होने के कारण स्वचालित रूप से कोई भी व्यक्ति खुद को प्रेरित महसूस करता है। स्वनियंत्रण के साथ नियोजित कार्यों की एक समर्पित दिनचर्या हमें और अधिक प्रगतिशील बनाती हैं और हमें हमारे रास्ते पर चलने में मदद करती है। हमारे लिए जीवन में अनुशासन का पालन करने के लिए कोई विशिष्ट आयु सीमा नहीं है। छात्रों से लेकर शिक्षकों तक और बच्चों से लेकर माता-पिता तक सबको अनुशासन का पालन करना चाहिए।

आसान शब्दों में कहूँ तो अनुशासन किसी को अपनी स्थिति को समायोजित करने की क्षमता है। अनुशासन प्राथमिकताएं बनाना है। जिसने योजना बनाई उसकी जिंदगी की रेल सही तरीके से दौड़ेगी और उसे कम संख्या में बाधाओं को सहना पड़ेगा। अनुशासित होने से जीवन के प्रवाह को बनाए रखने में मदद मिलती है और भविष्य के लिए बेहतर प्रगति सुनिश्चित होती है। स्वतंत्रता और सफलता जिम्मेदारी के साथ आती है और जिस का खुद पर पूर्ण नियंत्रण होता है वह बड़ी जिम्मेदारी के साथ सबसे बड़ी सफलता और स्वतंत्रता का प्रबंधन करने की क्षमता रखता है।

खुशी और सफलतापूर्वक एक प्रामाणिक जीवन शैली को बनाए रखने के लिए विकर्षण से बचने हेतु नियंत्रण रखना पड़ता है। इसलिए मेरे प्यारे दोस्तों अपने जीवन की स्थितियों पर खुद को समायोजित करना सीखों। खुद को अनुशासित बनाओ और सफलता की प्रेरणादायक विरासत की नई कहानियां लिखों!

मुझे उम्मीद है कि हमारे इस सत्र के बाद आप वास्तव में अपने विचारों को समझने में सक्षम होंगे कि हम में से प्रत्येक के लिए अनुशासित और हमारे जीवन में केंद्रित होना कितना महत्वपूर्ण है।

धन्यवाद!