फैशन पर स्पीच

हम सब फैशन पसंद करते हैं लेकिन फैशनेबल होने का हमेशा यह मतलब नहीं होता कि आप महंगे कपड़े या सामान पहनते रहे। आप ट्रेंडी और सरल कपड़े पहन सकते हैं और उनसे भी फैशनेबल दिख सकते हैं। फैशन शो आज ग्लैमरस रैंप तक सीमित नहीं है। यह लोकप्रिय पोशाक डिजाइनर के स्थानीय ब्रांड से निकल कर छोटे शहरों की सड़कों, दुकानों और कस्बों के कोनों तक पहुंच गए हैं। वास्तव में कई कॉर्पोरेट कार्यालयों और कॉलेजों को इन दिनों अपने वार्षिक महोत्सवों और कार्यक्रमों में फैशन शो के आयोजन करते देखा जा रहा है। स्थानीय ब्रांड अपने ब्रांड और कपड़े को लोकप्रिय बनाने के लिए शो का आयोजन करते हैं। आपको कई ऐसे मौकें मिल सकते हैं जहां आपको फैशन पर एक भाषण देने की आवश्यकता पड़ सकती है। फैशन पर भाषण देने के लिए निचे दिए गए हमारे कुछ नमूने ऐसे मौकों के लिए आपको तैयार करेंगे। हमने फैशन पर छोटे और लम्बे भाषण साझा किए हैं जो किसी प्रकार के शो या अवसर के लिए उपयुक्त हो सकते हैं। आप इन्हें उदाहरण के रूप में उपयोग कर सकते हैं और अपने दर्शकों को प्रभावित करने के लिए फैशन पर अपना भाषण तैयार कर सकते हैं।

फैशन पर भाषण/ स्पीच (Speech on Fashion in Hindi)

फैशन पर भाषण/ स्पीच – 1

सुप्रभात दोस्तों

इस फैशन शो का हिस्सा बनने के लिए धन्यवाद। हर साल की तरह हमारी कंपनी डिजाइनर कपड़ों को बढ़ावा देने के लिए इस फैशन शो का आयोजन कर रही है जिन्हें हमारे ब्रांड द्वारा निर्मित किया गया है। इस बार कंपनी ने इस शो से अर्जित 50% कमाई को हमारे साथ जुड़े एक चैरिटी संगठन को दान करने का निर्णय लिया है। मैं आज शाम के लिए आपका मेजबान हूं और आप के साथ फैशन पर अपने विचार साझा करने जा रहा हूं और यह भी बताऊंगा कि इस शब्द का मूलतः मतलब क्या है।

ईमानदारी से कहूँ तो "फ़ैशन" शब्द सभी को आकर्षित करता है। सरल शब्दों में इसकी व्याख्या करें तो यह मूल रूप से सत्तारूढ़ प्रवृत्तियों या अपनी स्वयं की व्यक्तिगत वरीयताओं के अनुसार कपड़े, सामान और गहने पहनने की शैली है। फैशन, संक्षेप में, एक साधारण पोशाक को इस तरह पहनने की कला है कि इंसान सुंदर और सुशोभित दिखे। कुछ के लिए यह डिजाइनर कपड़े पहनने के साथ अलग तरह से स्टाइल और फैंसी वस्त्रों के साथ आकर्षक दिखना है। फैशन का पालन करने वाले लोगों के बीच यह ट्रेंडिंग प्रवृत्ति स्थापित करने में एक प्रमुख भूमिका निभाने में सहायता करता है। फैशन स्टाइलिश कपड़े या सामान आदि पहनने के बारे में ही नहीं है यह पहले किसी विशेष व्यक्ति या जगह पर अवसर, संस्कृति और शैली को समझने के लिए भी है और फिर उसके अनुसार पोशाक को पहनने की अनुमति देता है। इस प्रकार फैशन डिजाइनर कपड़े डिज़ाइन करने से पहले अवसर, जगह, सामग्री और कई अन्य चीजों का अध्ययन करने के लिए बहुत समय लेते हैं। उन्हें कपड़े डिज़ाइन करने से पहले व्यक्ति के आकार, वजन, ऊंचाई और रंग के लिए विशेष रूप से तकनीक का उपयोग करना, सिलाई पद्धति, कपड़े आदि पर विचार करना होता है।

पहले के दिनों में फैशन का इस्तेमाल अक्सर समृद्धि और सुंदरता का प्रतीक होता था लेकिन आज फैशन हर घर तक पहुंच गया है और फैशन से सोच में काफी बदलाव आया है क्योंकि यह आपके कपड़े पहनने और सुंदर दिखने से कही अधिक है चाहे आप किसी भी तरह के कपड़े पहनते हों।

फैशन भारत में तेजी से बढ़ रहा है। यहां तक ​​कि अगर आप खुद को फैशनेबल होने से नज़रंदाज़ कर रहे हो पर आप किसी ऐसे व्यक्ति की उपेक्षा नहीं कर सकते हैं जो फैशनेबल पोशाक पहनता हो। अगर कोई ख़राब पोशाक पहनता है तो आप उसकी पोशाक को याद करेंगे लेकिन अगर कोई व्यक्ति अच्छे कपड़े पहनता है तो आप हमेशा उस व्यक्ति को याद रखेंगे इस तरह फैशन हमारी सोच पर जबरदस्त प्रभाव छोड़ता है।

फैशन सिर्फ कपड़े तक ही सीमित नहीं है। इसकी पहुंच कपड़े और पोशाक से परे है। फैशन से तात्पर्य ऊपर से नीचे तक सुन्दर रूप में बने-ठने रहने से है। फैशन की परिभाषा को सार्थक करने में सही टॉप, मिलान वाले कंगन या चूड़ियाँ, घड़ी, मेकअप, जूते आदि शामिल हैं।

कई अमीर लोग इस व्यवसाय को एक पेशेवर फैशन डिजाइनर या श्रृंगार कलाकार को आउटसोर्स करना चाहते हैं जो व्यक्ति के स्वाद का ख्याल रख सकते हैं और अवसर के अनुरूप एक उपयुक्त और फैशनेबल कपड़ा तैयार कर सकते हैं। फैशन डिजाइनर वास्तव में रचनात्मक लोग हैं और उन्हें अपने ग्राहकों की मानसिकता जाननी चाहिए ताकि उसकी पसन्द और नापसंद आदि का ध्यान रखते हुए एक आरामदायक फैशनेबल वस्त्र तैयार किए जा सके।

लोगों को प्रभावित करने में मीडिया भी एक मजबूत भूमिका निभाती है। कई फैशन-विशिष्ट टेलीविजन चैनल, टेली-धारावाहिक, फिल्में आदि हैं जो लोगों को फैशन पर सुझाव देते हैं। बहुत से लोग फ़िल्मी हस्तियों और प्रसिद्ध व्यक्तियों की नकल करना पसंद करते हैं। ऑनलाइन स्टोर फैशनेबल कपड़े पर विभिन्न प्रकार की छूट प्रदान करते हैं जिससे हर किसी की फैशन तक पहुँच हो।

संक्षेप में कहे तो फैशन हमारे जीवन का एक अनिवार्य हिस्सा है। इस प्रकार यह तर्क देने के बजाए कि फैशन या नवीनतम रुझान हमारी संस्कृति के लिए अच्छा या बुरा है यह नए फैशन नियमों को अपनाने और अपने आप में एक ऐसी चीज़ बनाना है जो एक साथ फैशनेबल और सभ्य है।

धन्यवाद।

फैशन पर भाषण/ स्पीच – 2

आज हमारे बुटीक के शुरुआत करने की घोषणा करते हुए मुझे बहुत खुशी हो रही है। हम पुरुषों, महिलाओं और बच्चों के लिए सभी फैशनेबल कपड़े बनाने का काम करेंगे। हमारा मुख्य लक्ष्य सभी के लिए फैशन को सुलभ और सस्ता बनाना है। इस प्रकार हम अपने व्यवसाय को बढ़ावा देने के लिए सोशल मीडिया की सहायता भी ले रहे हैं।

आज के समय में फैशन हमारे जीवन में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है क्योंकि इसे खुद को व्यक्त करने का एक माध्यम माना जाता है। कपड़े, सामान और गहने एक व्यक्ति को किसी ऐसे समूह की पहचान बनाने में मदद करता है जो पेशे, धर्म या जीवनशैली की एक विशेष सोच का अनुसरण करते हैं। परंपरा और संस्कृति का देश होने के बावजूद भारत में फैशन का बहुत महत्व है। यह एक व्यक्ति के व्यक्तित्व को और अधिक बढ़ा कर दिखाता है। इस प्रकार आज 'फैशन' शब्द पूरी भारतीय आबादी के लिए आम हो गया है। मानिए या ना मानिए अगर बारीकी से देखा जाए तो हर व्यक्ति किसी ना किसी तरीके से फैशनेबल है।

भारत समृद्ध संस्कृति और परंपरा का देश है। यह पांच प्रमुख क्षेत्रों में विभाजित है: उत्तर, दक्षिण, पूर्व, पश्चिम और मध्य। प्रत्येक क्षेत्र की अपनी परंपरा और ड्रेसिंग भावना है। इस प्रकार भारत में फैशन सदियों से विकसित हुआ है। जहाँ उत्तर भारत में महिलाएं सलवार कुर्ता पहनती हैं वहीँ दक्षिण में महिलाएं साड़ियाँ पहनती हैं। पश्चिमी महिलाएं ब्लाउज और स्कर्ट पहनना पसंद करते हैं जिन्हें 'चोली-घाघरा' कहा जाता है। मध्य और पूर्वी भारत में महिलाएं अलग-अलग शैलियों में साड़ी पहनती हैं। लोगों को फैशनेबल रहने के लिए और नवीनतम रुझानों का पालन करने के साथ-साथ अलग-अलग तरीकों और शैलियों में पारंपरिक कपड़ों का प्रयोग करना पसंद है लेकिन अच्छी बात यह है कि लोग एक-दूसरे की शैली और फैशन को अपना रहे हैं जो लोगों के बीच विकासशील बंधन और एकता को दर्शाता है।

कई कारक हैं जो फैशन के विकास में योगदान करते हैं। यद्यपि समृद्ध और प्रसिद्ध लोग, राजनीतिक या शाही हस्तियों ने कई सालों से फैशन के रुझान को बढ़ावा दिया है लेकिन आज फैशन की पहुँच सामान्य लोगों तक हो गई है और विज्ञापन मीडिया ने भी ट्रेंडिंग फ़ैशन के बारे में लोगों को अपडेट करने के लिए बहुत योगदान दिया है।

फैशन का जादू आज लोगों के सिर चढ़ कर बोल रहा है और यह जीवन जीने का भी एक तरीका बन गया है। यह लोगों के लिए आंतरिक सुंदरता और आराम का आईना है। हम सब अच्छे दिखना चाहते हैं और फैशन की दुनिया के पास हमें देने के लिए भी बहुत कुछ है। इस प्रकार हम ट्रेंडिंग और आरामदायक प्रवृत्ति के अनुसार हमारी अपनी शैली को अपना सकते हैं। लोग, विशेष रूप से महिलाएं, फैशन के बारे में अधिक जागरूक होते हैं और उन्हें अलग-अलग बालों का स्टाइल बनाना, कपड़ों को पहनकर देखना इत्यादि का लगातार प्रयोग करते हुए देखा जा सकता है।

फैशन कभी भी स्थिर नहीं रहता। फैशन ट्रेंडिंग बदलती रहती है। फैशन डिजाइनर बहुत रचनात्मक रूप से नए रुझानों के साथ पुराने शैलियों को मिलाते हैं और नए तरीके के फैशन का इजाद करते हैं। हालांकि यह महत्वपूर्ण है कि लोग फैशनेबल रहने के लिए नए रुझानों का पालन करें। यह भी महत्वपूर्ण है कि लोग किसी भी प्रवृत्ति को अपनाने से पहले अपने शरीर और आराम की जरूरतों को समझे क्योंकि फैशन का अंधाधुंध रूप से पालन करने की बजाए अपने आप को अच्छी तरह से जान ले।

भारत वस्त्र विरासत में समृद्ध है और भारत के प्रत्येक भाग में अपनी अनूठी परंपरागत परिधान और वस्त्र हैं। यद्यपि ग्रामीण इलाकों में परंपरागत कपड़े पहने जाते हैं लेकिन शहरी क्षेत्रों में लोगों को फैशन के साथ पारंपरिक कपड़े पहनना पसंद है। उदाहरण के लिए फैशनेबल जीन्स के साथ मिलकर एक पारंपरिक 'कुर्ता' पहनना फैशन ट्रेंड बन जाता है।

यह देखना अच्छा लगता है कि भारतीय कढ़ाई के रूप जैसे जारदोसी, चिखान, क्रेवल इत्यादि की परंपरागत तकनीक आज के फैशन डिजाइनरों द्वारा पुनर्जीवित की जा रही है और ये पारंपरिक शैली के फैशन भी अंतरराष्ट्रीय दुनिया तक पहुंच रहे हैं।

अब कृपया मुझे अपने भाषण को यहाँ खत्म करने की इजाजत दें, क्योकि मैंने आज के विषय पर पर्याप्त बोल लिया है आशा है कि आप सभी हमारे साथ शाम का आनंद उठाएंगे। इसके अलावा कृपया हमारे बुटीक से दिए गए सभी सुझावों के साथ फैशन को बढ़ावा देना जारी रखें।

धन्यवाद।


 

फैशन पर भाषण/ स्पीच – 3

आप सभी को सुप्रभात!

आज इस सभा को हमारे फैशन डिजाइनिंग संस्थान में इस वर्ष के नए विद्यार्थियों का स्वागत करने के लिए आयोजित किया गया है। हमारी संस्था उन लोगों को एक मंच प्रदान करती है जो फैशन के जुनून के साथ अपने भविष्य को उज्ज्वल बनाना चाहते हैं और इस संस्थान के अध्यक्ष के रूप में आप सभी का हमारे संस्थान में स्वागत करते हुए मुझे खुशी हो रही है। इससे पहले कि आप फैशन डिजाइनिंग की दुनिया की ओर कदम बढ़ाए मैं आपके लिए फैशन पर कुछ शब्द कहना चाहूंगा।

इस दुनिया में फैशन हर जगह है और जहाँ कहीं भी हम जाएँ उस जगह के लोगों के हिसाब से फैशन का ट्रेंड अलग-अलग है क्योंकि हर व्यक्ति की फैशन के प्रति अपनी रूचि है। जब हम फैशन के बारे में सोचते हैं तो हमारे दिमाग में आने वाला पहला शब्द कपड़े है। यदि हम भारत के बारे में बात करते हैं तो यह एक ऐसा देश है जिसमें एक विशाल विविधता के साथ-साथ परंपराएं भी हैं। फैशन को बढ़ावा देने में संस्कृतियां बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाती हैं। भारत बदलती संस्कृतियों और परंपराओं के विभिन्न रंगों का प्रतिनिधित्व करता है। यहां फैशन बहुत ही महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है क्योंकि यहां शैली महोत्सवों और अवसरों के लिए अलग-अलग होती है। हर अवसर का अपना खुद का फैशन होता है जैसे "नवरात्र" के दौरान लोग "चानिया चोली" पहनते हैं और "गणेश चतुर्थी" के दौरान महिलाएं "नौवारी साड़ी" आदि पहनती हैं। इस प्रकार लोग हर त्यौहार पर विभिन्न प्रकार के कपड़े पहनते हैं।

फ़ैशन कपड़े तक ही सीमित नहीं है बल्कि जो कुछ भी ट्रेंडिंग में है वह सब कुछ फैशन है। अधिकांश लोग अपने कपड़े, सामान आदि को फैशन के अनुसार तब्दील करते हैं लेकिन दूसरी ओर कुछ लोग अपनी संस्कृति या परंपराओं के अनुसार कपड़े चुनते हैं। कुछ लोग अपनी परंपरागत शैली का तालमेल बनाने के लिए फैशनेबल शैली के साथ मिलाते हैं।

भारत पश्चिमी शैली के जीवन से अत्यधिक प्रभावित है। भारत में अधिकांश लोग पश्चिमी कपड़े पहनते हैं क्योंकि उन्हें उन कपड़ों में अधिक सहज महसूस होता है। 1990 के दशक में भारत ने फैशन में बहुत बड़ा बदलाव देखा। फिल्मों और विज्ञापनों की तरह नए फैशन के विज्ञापनों के नए माध्यम बाजार में थे। नए फैशन को लाने में फिल्में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती हैं। लोग फिल्मों से अत्यधिक प्रभावित होते हैं। फिल्मों में डिजाइन और स्टाइल वाले कपड़े लोगों के मन में उन्हें पहनने की इच्छा पैदा करते हैं और इस तरह यह फैशन को बढ़ावा देता है।

एक सफल फैशन डिजाइनर बनने के लिए आपको ज्ञान की प्राप्ति के लिए दुनिया के ऐतिहासिक फैशन के माध्यम से गुज़रना होगा कि प्रारंभिक अवस्था में फैशन किस प्रकार का था। जिनके लिए हम डिजाइन कर रहे हैं हमें उन लोगों की शैली और स्वाद के अनुसार काम करना है। हम सभी जानते हैं कि फ़ैशन में परिवर्तन बहुत तेज़ी से होता है और हमें सभी रुझानों के बारे में पता होना चाहिए ताकि हम वर्तमान के अनुसार और बेहतर डिजाइन कर सकें।

इसी के साथ मैं अपने भाषण का निष्कर्ष निकालना चाहूंगा और आप सभी का फैशन डिजाइनिंग की दुनिया में स्वागत करूंगा। मुझे उम्मीद है कि आप सभी इस संस्थान में फैशन के अपने जुनून के साथ अपने सपनों को सच करेंगे और एक उज्ज्वल भविष्य बनाएंगे।

धन्यवाद और मैं आशा करता हूँ कि आप सभी का दिन शुभ हो।


 

फैशन पर भाषण/ स्पीच – 4

देवियों और सज्जनों सुप्रभात।

आज हम सब हमारे फैशन ब्रांड की पांचवीं वर्षगांठ मनाने के लिए यहां इकट्ठे हुए हैं। यह हमारे लिए एक बहुत शुभ क्षण है क्योंकि हमने पांच साल की सफलता पूरी कर ली है और इस दिन का जश्न मनाने के लिए हमने आज एक पार्टी आयोजित की है। जैसा कि हम जानते हैं कि हमारे फैशन ब्रांड की वस्तुएं और सामान पूरे भारत में काफी प्रसिद्ध है इसलिए मुझे इस ब्रांड का हिस्सा बनने पर बहुत गर्व महसूस हो रहा है। इस अवसर पर मैं फैशन पर कुछ शब्द कहना चाहूंगा जो हमारे ब्रांड का आधार है। हमारा ब्रांड सामान और कपड़ों का उत्पादन करता है जो बाजार में फैशन के नए रुझानों को स्थापित करता है।

फ़ैशन के सबके साथ कनेक्शन हैं। हमारे कपड़ों से लेकर हमारे सामान तक और लगभग हर चीज जो हम अपने दैनिक जीवन में उपयोग करते हैं फैशन से जुड़ा हुआ है। हर व्यक्ति की दिल में इच्छा होती है अच्छा या सर्वश्रेष्ठ दिखने की। एक व्यक्ति अच्छा तब महसूस करता है जब लोगों द्वारा उसकी अच्छा दिखने के लिए तारीफ़ की जाए। लोग, विशेष रूप से महिलाएं, फैशन को लेकर विभिन्न प्रकार के प्रयोग करते हैं। पश्चिमी शैली के कपड़ों के साथ परंपरागत कपड़े और साज-सजावट के सामान का मिश्रण बहुत बड़ा उपयोग है। एक व्यक्ति का व्यक्तित्व आम तौर पर उसके ड्रेसिंग सेंस और जीवन शैली को दर्शाता है। लोग आम तौर पर वो चीज़ पहनना चाहते हैं जो काफी अलग, आरामदायक और फैशनेबल है।

प्राचीन काल में हमारे पूर्वज पत्तों के साथ अपने शरीर को ढंकते थे। कुछ समय बाद उन्होंने अपने शरीर को जानवरों की त्वचा के साथ ढंकना शुरू कर दिया और उसके बाद पहनने के लिए कपड़ों का आविष्कार किया। समय बीतने के साथ लोगों ने अपने आराम और वरीयताओं के अनुसार कपड़े के साथ नई चीजों का प्रयोग करना शुरू कर दिया।

आज हम शुरुआती फैशन और आज के ट्रेंड के बीच बहुत अंतर देख सकते हैं। हमारी जीवनशैली से संबंधित बहुत सी चीजों में एक बड़ा बदलाव है। हमारी जीवन शैली उच्च प्रौद्योगिकी के उपयोग के द्वारा बदल दी गई है। उदाहरण के लिए आज की दुनिया में स्मार्ट फोन का उपयोग करने का एक फैशन है लेकिन प्रारंभिक समय में सेल फोन के आविष्कार से पहले लोगों ने संचार के लिए कबूतर और फिर मेलबॉक्स का इस्तेमाल किया।

फैशन सामाजिक इतिहास और लोगों के आराम के साथ सांस्कृतिक सौंदर्य को उजागर करता है। भारत अपनी कपड़ा परंपरा में काफी समृद्ध है और यहां हर क्षेत्र में अपने अलग तरह के परंपरागत परिधान और वस्त्र हैं। ग्रामीण भारत में पारंपरिक कपड़े का एक बहुत बड़ा अनुसरण है और लोग अभी भी उनकी संस्कृति और परंपरा के अनुसार कपड़े पहने हुए हैं जबकि शहरी भारत में पश्चिमी परिधान और विशेषकर महानगरीय शहरों में पश्चिमी परंपरा का एक बड़ा प्रभाव है।

हमारे ब्रांड को और अधिक सफल बनाने के लिए हम सभी को लोगों के आराम और भारत की परंपरा को समझना होगा। हमें दुनिया भर में हमारी भारतीय परंपरा को अधिक से अधिक रोशन करने की कोशिश करनी चाहिए क्योंकि हम फैशन में हमारी पारंपरिक भारतीय शैली से दूर हट रहे हैं।

इसी के साथ अपने भाषण को समाप्त करता हूँ और आशा करता हूँ कि हमारा ब्रांड दिन-दुगनी रात चौगनी उन्नति करें।

धन्यवाद! आशा करता हूँ कि आप सभी का दिन शुभ हो।