वायु प्रदूषण से जुड़े तथ्य

वायु, जिसमें हम साँस लेते हैं, दिन-प्रतिदिन ज़हरीली बनती जा रही हैं। वायु प्रदूषण स्वास्थ्य और पर्यावरण पर विनाशकारी प्रभाव डालता है। वायु प्रदूषण धीरे-धीरे दुनिया भर में होती इतनी सारी मौतों का कारण बनता जा रहा है। वातावरण में हानिकारक पदार्थों के मिश्रण के कारण मनुष्य, पशु, पक्षियों और पौधों को गंभीर समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है।

वायु प्रदूषण क्या है?

वातावरण में हानिकारक गैसों, धूल, धुआं, रसायन, गंध और अन्य सूक्ष्म कणों की मौजूदगी के कारण वायु प्रदूषण होता है। आम तौर पर वायु प्रदूषण कार्बन मोनोऑक्साइड, सल्फर डाइऑक्साइड, क्लोरोफ्लुओरोकार्बन्स (सीएफसी) और नाइट्रोजन ऑक्साइड जैसे प्रदूषकों के कारण होता है जो उद्योगों और मोटर वाहनों से उत्सर्जित होते हैं। धुआं और धूल के कण सांस लेने के माध्यम से फेफड़ों तक पहुँचते है जिससे कई रोग हो सकते हैं।

विश्व बैंक के अनुमान के मुताबिक, 2013 में 55 लाख लोग अपने जीवन में घर के बाहर और भीतर के  वायु प्रदूषण से जुड़ी बीमारियों से प्रभावित है। वर्तमान स्थिति और भी अधिक भयावह और चिंताजनक है। यहां हम वायु प्रदूषण के बारे में कुछ महत्वपूर्ण तथ्यों के बारे में बता रहें हैं जो आपको को इस समस्या की जड़ के बारे में जानने में मदद करेंगे:

वायु प्रदूषण से जुड़े कुछ महत्वपूर्ण तथ्य

-> दुनिया भर में समय से पूर्व होने वाली मृत्यु के मामले में वायु प्रदूषण सबसे बड़े खतरों में से एक के रूप में उभरा है।

-> मेडिकल जर्नल द लैनसेट के मुताबिक दुनिया भर में वायु प्रदूषण के चलते हर दिन 18,000 लोग मर जाते हैं।

-> एशिया में 65% मृत्यु और भारत में 25% मृत्यु के लिए वायु प्रदूषण जिम्मेदार है।

-> अमेरिका में हर साल वायु प्रदूषण के कारण 50,000 लोग मर जाते हैं।

-> चीन में हृदय रोग और वायु प्रदूषण से पैदा होने वाले फेफड़ों के कैंसर के कारण हर साल 300,000 मरते हैं।

-> इसमें कोई शंका की बात नहीं कि आने वाले वर्षों में प्रदूषण के कारण मृत्यु दर में वृद्धि देखने को मिलेगी।

-> विश्व बैंक का अनुमान है कि वायु प्रदूषण के कारण वैश्विक अर्थव्यवस्था को सालाना 225 अरब डॉलर का नुकसान पहुँचता है।

-> विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) द्वारा जारी आंकड़ों के मुताबिक प्रदूषण के कारण हर साल भारत में 14 लाख लोगों की मौत हो जाती है। औसतन प्रदूषित हवा की वजह से हर मिनट दो भारतीय मारे जाते हैं।

-> दुनिया के सबसे प्रदूषित शहरों में से कुछ शहर भारत में हैं। पटना और नई दिल्ली PM5 के स्तर के साथ जोखिम के मामले में दुनिया के सबसे प्रदूषित शहर हैं।

-> PM बहुत ही सूक्ष्म कण (कण पदार्थ) हैं जो वायु प्रदूषण में मौजूद हैं। वे इतने छोटे हैं कि श्वसन के पथ के माध्यम से वे फेफड़ों तक पहुंच जाते हैं और अस्थमा जैसे श्वसन रोगों का नेतृत्व करते हैं। इसके अलावा वे दिल से संबंधित बीमारियों को भी जन्म देते हैं।

-> वायु प्रदूषण और जलवायु परिवर्तन मोटे तौर पर एक दूसरे से जुड़े होते हैं और उनसे एक साथ निपटा जाना चाहिए।

-> वायु प्रदूषण, जिसके कारण पृथ्वी का तापमान बढ़ रहा है, कार्बन डाइऑक्साइड, मीथेन और नाइट्रस ऑक्साइड जैसी गैसों के साथ सूरज से निकलने वाली गर्मी के साथ मिलकर वातावरण में कहर ढाते है।

-> वायु प्रदूषण ने एसिड रेन (अम्लीय वर्षा) के जोखिम को बढ़ा दिया है जो फसलों, पेड़ों, इमारतों और ऐतिहासिक इमारतों को नुकसान पहुंचाती है।

-> अगर हम प्रदूषित हवा में श्वास करते रहते हैं तो इससे हमारे जीवन की अवधि के कई साल कम होने का खतरा रहता है।

-> भारत में प्रदूषण के मामले में कोयला आधारित ऊर्जा संयंत्र का 50 प्रतिशत योगदान है।

-> हमारे द्वारा उपयोग किए गए ईंधन आज पर्यावरण में कार्बन डाइऑक्साइड, सल्फर डाइऑक्साइड, नाइट्रोजन ऑक्साइड आदि की एक बड़ी मात्रा में उत्सर्जन करता है जिससे हवा को बुरी तरह प्रदूषित होने का खतरा पैदा हो जाता है।

-> वायु प्रदुषण में प्राकृतिक और मानव दोनों ही कारण शामिल हैं। प्राकृतिक स्रोतों में तूफान, जंगलों, धुंध, जंगलों में आग से उत्पन्न धुआं, जंगल में पौधों से हाइड्रोजन यौगिकों, पराग और दलदल और पदार्थों के अपघटन से उत्सर्जित मीथेन गैस आदि शामिल हैं।

 

-> दूसरी ओर प्रदूषण के मानवीय कारण यानी औद्योगिकीकरण, दहन प्रक्रिया (जैसे घरेलू संचालन, वाहन और तापीय ऊर्जा में दहन), औद्योगिक निर्माण, आणविक ऊर्जा, कृषि संचालन में कीटनाशकों का उपयोग और सॉल्वैंट्स, धूम्रपान आदि के उपयोग शामिल है।

-> औद्योगिकीकरण, कार्बन डाइऑक्साइड, कार्बन मोनोऑक्साइड, सल्फर डाइऑक्साइड, हाइड्रोकार्बन, सीसा, क्लोरीन, अमोनिया, धूल, रेडियोधर्मी पदार्थ, आर्सेनिक, बेरिलियम इत्यादि आदि वातावरण के प्रदूषित होने के कारण है।

-> वायु प्रदूषण के कुछ सामान्य कारणों में वाहनों से धुएं, औद्योगिक इकाइयों के धूल कण और धुएं, जंगलों में वृक्षों को जलाने से धुएं और औद्योगिक प्रक्रियाओं में कोयला और तेल जलाने आदि शामिल हैं।

-> घरेलू प्रयोजनों के दहन में कोयले, लकड़ी, गोबर केक, केरोसीन आदि के जलाने से गर्मी उत्पन्न होती है जिससे कार्बन डाइऑक्साइड, कार्बन मोनोऑक्साइड, सल्फर डाइऑक्साइड आदि गैस उत्पन्न होती है। इसी समय मोटरसाइकिल, स्कूटर, ट्रकों, बसों, डीजल ट्रेन इंजन आदि जैसे वाहनों में पेट्रोल और डीजल का उपयोग किया जाता है जो वातावरण में हाइड्रोकार्बन और नाइट्रोजन उत्पन्न करते हैं।

-> सर्दियों में धुएं और कीचड़ के कारण धुंध बनती है जिससे प्राकृतिक दृश्यता कम हो जाती है तथा आंखों में जलन होता है और साँस लेने में कठिनाई होती है।

-> प्रदूषण कई सांस की समस्याओं को जन्म देती है जैसे अस्थमा, ब्रोंकाइटिस, फेफड़े का कैंसर और हृदय रोग। प्रदूषण फेफड़ों को प्रभावित करता है जिसके कारण संपूर्ण श्वसन तंत्र प्रभावित होता है।

-> कारों, बसों, ट्रकों और अन्य वाहनों के प्रदूषण से 80% फेफड़े की बीमारियां होती हैं।

-> इससे अंधापन और सुनने में दिक्कत का सामना करना पड़ सकता है। लंबे समय के बाद प्रदूषण के कारण आनुवंशिक विकृति भी पैदा हो सकती है।

-> प्रदूषण और राख के छोटे कण भी त्वचा से संबंधित बीमारियों का कारण बनते हैं।

-> कुछ गैस वायुमंडल तक पहुँच कर ओजोन परत की मोटाई को कम कर देते हैं। ओजोन परत अंतरिक्ष से हानिकारक किरणों को अवशोषित कर लेती है। ओजोन परत हमारे लिए ढाल के रूप में काम करती है लेकिन जब ओजोन की मोटाई में कमी होती है तो इससे त्वचा के कैंसर जैसी भयंकर बीमारी हो सकती है।

-> वायु प्रदूषण इमारतों, धातुओं और स्मारकों के क्षय का कारण बनता है। ताजमहल भी मथुरा तेल रिफाइनरी द्वारा उत्पन्न खतरे से ग्रस्त है।

-> वायुमंडल में कम ऑक्सीजन का स्तर भी जीवों के लिए घातक है क्योंकि ऑक्सीजन की कमी से जीवित प्राणियों में श्वसन की समस्याओं की उत्त्पति होगी।

 

-> यातायात में ट्रैफिक जाम के दौरान घंटों प्रतीक्षा करने से बाहरी प्रदूषक आपकी कार को घेर लेता है जिससे दिल का दौरा पड़ने की वजह से मौत की संभावना बढ़ जाती है।

-> उच्च यातायात वाली सड़कों के पास रहने वाले लोगों में वायु प्रदूषण से पैदा होने वाली बीमारियाँ जैसे कैंसर, हृदय रोग, अस्थमा और ब्रोन्काइटिस के होने का जोखिम अधिक रहता है।

-> छोटे आकार और फेफड़ों की कम क्षमता के कारण बच्चें जहरीले वायु प्रदूषण के खतरे से अधिक पीड़ित होते हैं।

-> वायु प्रदूषण से डॉल्फ़िन मछली भी प्रभावित होती है और वे ब्लैक फेफड़ों के रोग से ग्रस्त हो जाती है।

-> रासायनिक पदार्थों और कारखानों से निकलने वाली गैसों का अवशोषण जानवरों, फसलों और पेड़ों पर बुरा प्रभाव डालता है।

-> प्राकृतिक गैस जैसे स्वच्छ ईंधन प्रदूषण को कम करने का एक अच्छा विकल्प है। प्राकृतिक गैस पर्यावरण के लिए हानिकारक पदार्थ के कणों का बहुत कम मात्रा का उत्सर्जन करता है।

-> प्राकृतिक गैस निश्चित रूप से सबसे साफ ज्वलनशील जीवाश्म ईंधन है। यह आसानी से उपलब्ध है और कम प्रदूषकों का उत्सर्जन करता है तथा वायु प्रदूषण के स्तर को भी कम रखता है। गैस जैसे कि सीएनजी, पीएनजी सस्ती हैं और फेफड़ों के लिए हानिकारक नहीं हैं।

-> हम ईंधन के उपयोग को रोक नहीं सकते क्योंकि उद्योग का एक बड़ा हिस्सा उन पर चल रहा है लेकिन हम निश्चित रूप से स्वच्छ ऊर्जा स्रोतों का विकल्प चुन सकते हैं।

-> इलेक्ट्रिक वाहन किसी भी हानिकारक गैसों का उत्सर्जन नहीं करते हैं।

-> 2030 तक हवा प्रदूषकों द्वारा वातावरण इतना जहरीला हो जाएगा कि ऑक्सीजन किट के बिना जीवन मुश्किल होगा। लोग अपनी उम्र से कई वर्ष अधिक के दिखाई देने लगेंगे।

-> कारखानों को शहरी क्षेत्र से दूर स्थापित किया जाना चाहिए और ऐसी तकनीक का इस्तेमाल किया जाना चाहिए कि धुआं के अधिकांश भाग को अवशोषित किया जाए और अवशिष्ट सामग्री और गैस अत्यधिक मात्रा में न मिल सके।

-> जनसँख्या वृद्धि की शिक्षा का उचित प्रबंध किया जाना चाहिए ताकि जनसंख्या वृद्धि को आगे बढ़ने से रोका जा सके।

-> शहरीकरण को रोकने के लिए रोजगार, कुटीर उद्योगों और अन्य सुविधाओं को गांवों और कस्बों में भी उपलब्ध कराया जाना चाहिए।

-> वाहनों के ईंधन से निकलने वाले धुंए को कम से कम किए जाने का प्रयास होना चाहिए।

-> धुआं रहित स्टोव और सौर ऊर्जा की तकनीक को प्रोत्साहित किया जाना चाहिए।

-> अनियंत्रित वनों की कटाई रोक दी जानी चाहिए। हर इंसान को, सरकार और गैर-सरकारी संगठनों को जंगलों के विनाश को रोकने और बड़े वृक्षारोपण कार्यक्रमों में भाग लेने में योगदान करना चाहिए।

-> शहरों में अवशिष्ट पदार्थों के निपटान के लिए दक्ष सीवेज प्रणाली होना चाहिए।

-> वायु प्रदूषण को रोकने के लिए बच्चों को जागृत किया जाना चाहिए।

-> वायु प्रदूषण की रोकथाम के बारे में जागरूकता प्रचार माध्यम जैसे कि टीवी, रेडियो और प्रिंट प्रकाशन आदि के माध्यम से प्रचारित किया जाना चाहिए।

-> बड़ी कार खरीदने में कुछ भी गलत नहीं है लेकिन सफाई के मानकों के अनुसार अपनी कार को ना चलाना एक बड़ी गलती है।

-> प्रदूषण से भारत को बचाने का एक प्रभावी तरीका है प्राकृतिक गैस अपनाना। प्रदूषण को उखाड़ने और भारत को प्रदूषण मुक्त बनाने का वचन लेने की जरुरत है।

-> प्राकृतिक गैस का इस्तेमाल करना और अगली पीढ़ी को सफाई के यंत्र देकर हरियाली और खुशहाल भारत का शुभारंभ करना। हमें सीएनजी / बिजली चालित वाहनों, कारपूलिंग और सार्वजनिक परिवहन पर निर्भर होना चाहिए।

-> वायु प्रदूषण को कम करने के सर्वोत्तम तरीकों में से एक साइकिलिंग भी है।

-> वायु प्रदूषण से खुद को बचाने के लिए लोगों को मास्क पहनना चाहिए।

-> जो भी कुछ हम समझते हैं उस हिसाब से भविष्य में हमारी उपेक्षा पश्चाताप का कारण बन जाएगी और जल्द ही वह दिन देखने को मिलेगा जब साँस लेने के लिए साफ हवा नहीं होगी।

-> ज़रा एक बार सोचक कर देखें कि हमें ऑक्सीजन किट लगा कर रात बितानी होगी। यदि हमें हर सांस के बारे में सावधानी बरतनी होगी तो क्या होगा? क्या हमारा जीवन कुछ किलोग्राम ऑक्सीजन तक ही सीमित होगा?