ग्रीनहाउस गैसों और उनके उत्सर्जन को कैसे कम करे

How to Reduce Greenhouse Gases and their Emissions in Hindi

ग्रीनहाउस गैसों को सूर्य प्रकाश से निकलने वाले विकिरण को अवशोषित करने तथा पर्यावरण के सभी जीवित प्राणियों के लिए असहनीय सीमा तक गर्मी पैदा करने वाले हानिकारक गैसों के रुप में जाना जाता है। कार्बन डाइऑक्साइड और क्लोरोफ्लोरोकार्बन (सीएफसी) गैसों को पर्यावरण में हानिकारक गैसों को उत्पादित करने वाले प्रमुख कारक के रुप में संदर्भित किया जाता है। हालांकि ये दोनों हानिकारक गैसे पहले से ही पर्यावरण में उपस्थित हैं परन्तु मनुष्यों के गतिविधियों के कारण इनकी मात्रा और अधिक बढ़ जाती हैं। मनुष्यों द्वारा किए गए विभिन्न गतिविधियों के कारण कार्बन डाइऑक्साइड के अतिरिक्त नाइट्रस ऑक्साइड, मीथेन, ओजोन सीएफसी इत्यादि जैसे ग्रीनहाउस गैसों का भी अत्यधिक उत्सर्जन होने लगता है।

सभी जीवित प्राणियों के अस्तित्व के लिए ग्रीनहाउस गैसों के उत्सर्जन को कम करना अति आवश्यक है। वास्तव में ग्रीनहाउस गैसें विभिन्न प्रकार की गैसों को उत्सर्जित कर पृथ्वी को गर्म रखने में मदद करती हैं। हालांकि औद्योगिक क्रांति के बाद ग्रीनहाउस गैसों के प्रभावों में कई गुना वृद्धि हुई है। दुनिया भर के लोगों को ग्रीन हाउस गैसों के हानिकारक प्रभावो के कारण भीषण गर्मी का सामना करना पड़ रहा है। अततः ग्लोबल वार्मिंग को रोकने के लिए ग्रीनहाउस गैसों के उत्सर्जन को कम करने की आवश्यकता है।

ग्रीनहाउस गैसों के उत्सर्जन को कम करने के तरीके (Ways to Reduce Greenhouse Gases)

ग्रीनहाउस गैसों के सबसे हानिकारक प्रभावों को पर्यावरण प्रदूषण के बढते स्तर के कारण जीवित प्राणियों की समयपूर्व मौत की बढ़ती संख्या के रूप में देखा जा सकता है। इनके संयुक्त प्रभावों के कारण जलवायु में भी काफी परिवर्तन हुए है, इसलिए हमें पर्यावरण में ग्रीनहाउस गैसों के उत्सर्जन को कम करने के लिए निम्नलिखित तरीकों का सख्ती से पालन करना चाहिए:

  1. अगर हम ग्रीनहाउस गैसों के प्रभाव को कम करना चाहते हैं तो सबसे पहले हमें कार्बन फुटप्रिंट को कम करने के लिए उपाय करना चाहिए। ग्रीनहाउस गैसों के प्रभाव को कम करने के लिए, "चीजों का कम दुरपयोग, उनकी पुनरावृत्ति और पुन: उपयोग करें", का एक मंत्र दिया गया है। अधिकांश घरेलू अपशिष्ट की पुनरावृत्ति करके हम कार्बन डाइऑक्साइड को कम करने में अपना महत्वपूर्ण योगदान दे सकते हैं।
  2. खासकर प्रकाश के संसाधनो के लिए, हमें बिजली बचाने वाले उत्पादों का उपयोग करना चाहिए।
  3. ग्रीनहाउस गैसों के उत्सर्जन को कम करने के लिए हमें वैकल्पिक सार्वजनिक परिवहनों या साईकल का अधिक से अधिक उपयोग करना चाहिए। हालांकि ये देखा गया है कि ईंधन दहन के कारण कार्बन डाइऑक्साइड का अत्यधिक उत्सर्जन होता है, इसलिए हमें अपनी ड्राइविंग आकांक्षाओं को सीमित करके सार्वजनिक परिवहन का अधिक उपयोग करना चाहिए।
  4. हमें अधिक से अधिक वृक्षारोपण करके पृथ्वी को ग्रीनहाउस गैसों के हानिकारक प्रभावों से बचाना चाहिए। चूंकि पेड़ पर्यावरण में कार्बन डाइऑक्साइड गैस को अवशोषित करते है और हमे जीवित रहने के लिए आवश्यक ऑक्सीजन गैस प्रदान करते है, इसलिए हमें बड़े पैमाने पर वनो की कटाई को रोक कर अधिक से अधिक पेड़ लगाने चाहिए औऱ दुसरो को भी इसके लिए प्रोत्साहित करना चाहिए।
  5. अधिकांश उद्योग भारी मात्रा में पर्यावरण में ग्रीनहाउस गैसों को उत्सर्जित करने में योगदान देते हैं, हालांकि पर्यावरण में नियंत्रित केवल उपचारित गैसों के उत्सर्जन के लिए उचित मानदंड बनाए गए हैं। ग्रीनहाउस गैसों के औद्योगिक उत्सर्जन को कम करने के लिए कारखानों में प्रदूषण नियंत्रण तंत्र का उपयोग किया जाना चाहिए।

अपने घरो से ग्रीनहाउस गैसों के उत्सर्जन को कैसे कम करें (How to Reduce Greenhouse Gases Emissions in Your Home)

हमारे घरों के वातावरण जहां हम अपने दैनिक दिनचर्या का अधिकतम समय बिताते हैं, वे भी अब ग्रीनहाउस गैसों के बढ़ते मात्रा के कारण प्रभावित हो गयी हैं। इस स्थिति के लिए हमारी खुद की गतिविधियां सबसे ज्यादा ज़िम्मेदार हैं। हमारे घरों में ग्रीनहाउस गैसों को कम करने के लिए हमें निम्नलिखित उपायों का पालन करना चाहिए:

  1. हमें अपने घरों में स्टार रेटिंग के साथ ऊर्जा कुशल विद्युत उत्पादों का उपयोग करना चाहिए। ये रेटिंग या ऊर्जा स्टार लेबल प्रमाणित करते हैं कि ये उत्पाद कम ऊर्जा का उपयोग करने के साथ पृथ्वी पर कार्बन फुटप्रिंट को कम करने में अपना योगदान देते है।
  2. आवश्यकता न होने पर हमें एयर कंडीशनर या अन्य बिजली उपकरणों को बंद कर देना चाहिए। एयर कंडीशनर और फ्रिज दोनों कार्बन मोनोऑक्साइड गैस निर्वहन करते है जो स्वास्थ विकार के लिए हानिकारक रुप से जिम्मेदार होते है।
  3. घरों में ग्रीनहाउस गैस के प्रभावो को कम करने के लिए सीएफएल और एल ई डी प्रकाश बल्बों का उपयोग करना चाहिए, क्योंकि सीएफएल और एल ई डी पर्यावरण में गर्मी और ग्रीनहाउस गैसों का उत्सर्जन किए बिना कम बिजली का उपयोग करते हैं और बहुत उज्ज्वल प्रकाश देते हैं।
  4. खाना पकाने के लिए कोयले के बजाये प्राकृतिक गैस का उपयोग करना, ग्रीनहाउस गैसों के उत्पादन को कम करने में योगदान दे सकता है।
  5. ऊर्जा आवश्यकताओं के लिए सौर पैनलों का उपयोग करना ग्रीनहाउस गैसों को कम करने में काफी मददगार साबित हो सकता है। सौर ऊर्जा आवश्यक हीटिंग और प्रकाश व्यवस्था की आवश्यकताओं को पुरा करने का एक उत्कृष्ट माध्यम है और सबसे अच्छी बात तो यह है कि ये ग्रीनहाउस गैसों को उत्सर्जित नहीं करता है।

 

कृषि क्षेत्र में ग्रीनहाउस गैसों के उत्सर्जन को कैसे कम करे (How to Reduce Greenhouse Gases Emissions in Agriculture)

मृदा पारिस्थितिक तंत्र पशुधन आवश्यकताओं के साथ मिलकर कृषि से ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन के लिए जिम्मेदार जटिल वातावरण बनाते है। कृषि में ग्रीन हाउस गैस के उत्सर्जन को कम करने के लिए नाइट्रोजन के उपयोग को सीमित करना आवश्यक है। अच्छी खेती और पैदावार को सुनिश्चित करने के लिए तथा फसलों के विकास के लिए मिट्टी में नाइट्रोजन का अत्यधिक उपयोग किया जाना चाहिए। हालांकि, कृषि में ग्रीनहाउस गैसों के उत्सर्जन को कम करने के निम्नलिखित तरीके हैं:

  1. अधिकांश उर्वरकों में नाइट्रोजन की मात्रा या तो अधिक होती है या कम इसीलिए किसानों को खेतों में उर्वरकों के स्तर को कम करने की आवश्यकता पड़ती है। इसके अलावा, किसानों को कृषि में उत्पादों के उपयोग को भी सीमित करना चाहिए।
  2. किसानों को अपने खेतों में जैविक खाद का अत्यधिक मात्रा में उपयोग करना चाहिए। कार्बनिक उर्वरक सब्जी पदार्थ, पशु पदार्थ और पौधों की सूखी पत्तियों से बने होते हैं जो ग्रीनहाउस गैसों के उत्पादन के स्तर को सीमित करने तथा ग्रीनहाउस गैसों के उत्पादन को कम करने में सहायक होते है।
  3. खेतों की मिट्टी में जीवाणुओं को छोड़ना कृषि मिट्टी से ग्रीनहाउस गैस के उत्सर्जन को कम करने में सहायक होते है।
  4. ग्रीनहाउस गैस का एक महत्वपूर्ण घटक मीथेन गैस मवेशियों के लिए खाद्य का उत्सर्जन करता हैं। मवेशियों को भोजन देते समय उसमें नाइट्रेट के सीमित मात्रा को मिलाकर ग्रीनहाउस गैसों के उत्सर्जन को नियंत्रित किया जा सकता है, क्योंकि नाइट्रेट मीथेन उत्सर्जन को कम करने में मदद करता है।
  5. ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन को कम करने का एक और अच्छा तरीका पशुधन खाद्य पदार्थों भी है, इनके भोजन में पर्याप्त मात्रा में लिपिड या वसा संग्रहित होता है।

वाहनों द्वारा ग्रीनहाउस गैसों के उत्सर्जन को कैसे कम करें (How to Reduce Greenhouse Gases Emissions from Cars)

ग्रीनहाउस गैसों के भारी उत्सर्जन के लिए कारो से उत्सर्जित होने वाले धुएं सबसे अधिक जिम्मेदार होते हैं। कार चलाने के लिए ईंधन का अत्यधिक उपयोग ग्लोबल वार्मिंग पर हानिकारक रुप से नकारात्मक प्रभाव डालते हैं। हमें निम्नलिखित तरीकों द्वारा कारों से ग्रीनहाउस गैसों के उत्सर्जन को कम करने की आवश्यकता है:

  1. हमें ग्रीनहाउस गैसों के नकारात्मक प्रभावो को कम करने के लिए ईंधन कुशल वाहनों का उपयोग करना चाहिए।
  2. विद्युत कार ग्रीनहाउस गैसों के उत्सर्जन को कम करने के लिए सबसे अधिक सहायक होते हैं। नवीकरणीय स्रोतों के माध्यम से उत्पादित बिजली वाली विद्युत कारों का हमे अत्यधिक उपयोग करना चाहिए। सरकार को भी इसकी खरीद पर सब्सिडी प्रदान करके इन कारों को जनता के बीच लोकप्रिय बनाना चाहिए।
  3. कारों में क्लीनर ईंधन का उपयोग ग्रीनहाउस गैसों के प्रभाव को कम करने में सहायक हो सकता है।
  4. सेल्यूलोसिक जैव ईंधन का उपयोग करके भी ग्रीन हाउस गैसो के उत्सर्जन को कम किया जा सकता हैं।
  5. ग्रीनहाउस गैसों के उत्सर्जन को कम करने के लिए हमे कार का सही ढंग से रखरखाव करना चाहिए। ईंधन की खपत तथा ग्रीनहाउस गैसों के उत्सर्जन को कम करने के लिए कार के इंजन का समय-समय पर निरीक्षण किया जाना चाहिए तथा टायरों पर उचित दबाव बनाकर उसकी जांच की जानी चाहिए।

 

स्कूल में ग्रीनहाउस गैसों के उत्सर्जन को कैसे कम करे (How to Reduce Greenhouse Gases Emissions at School)

स्कूल ग्रीनहाउस गैसों के उत्पादन को कम करने में अपना महत्वपूर्ण योगदान दे सकते हैं। हालांकि यह देखा गया है कि ज्यादेतर स्कूलो में छात्रों, कर्मचारियों तथा अन्य सदस्यों की दैनिक गतिविधियां ग्रीनहाउस गैसों के उत्सर्जन को बढ़ावा देती हैं। स्कूलों में ग्रीनहाउस गैसों के उत्सर्जन को कम करने के निम्नलिखित तरीके यहां दिए गए हैं:

  1. स्कूल प्रबंधको को अपशिष्ट रोकथाम या अपशिष्ट पुनरावृत्ति द्वारा उचित एवं ठोस अपशिष्ट प्रबंधन पर जोर देना चाहिए जिससे स्कूलों में ग्रीनहाउस गैसों के उत्सर्जन को कम किया जा सके।
  2. छात्र परिवहन के लिए स्कूलों को कुशल ईंधन वाहनों का उपयोग करना चाहिए।
  3. स्कूल ग्रीन हाउस गैस उत्सर्जन के बारे में बच्चों के बीच जागरूकता फैलाने के साथ-साथ इसे नियंत्रित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकता हैं। ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन को कम करने के लिए स्कूलों द्वारा छात्रों को मानक व्यवहार का पालन करने के लिए प्रोत्साहित करना चाहिए जैसे उन्हें कम लंच लाने या बोतलबंद पानी तथा अन्य हानिकारक सामग्रियों का कम उपयोग करने के लिए सलाह देनी चाहिए।
  4. स्कूल प्रबंधको को समय-समय पर अपने परिसर में अपशिष्ट कमी सप्ताह का आयोजन करना चाहिए तथा बच्चों के साथ-साथ उनके माता-पिता को भी ग्रीनहाउस गैस के हानिकारक प्रभावों के बारे में जागरुक करना चाहिए।
  5. स्कूलों में अधिक से अधिक सीएफएल और एल ई डी का उपयोग कर ऊर्जा की बचत करनी चाहिए।

बिजली स्टेशनों से ग्रीनहाउस गैसों के उत्सर्जन को कैसे कम करे (How to Reduce Greenhouse Gases Emissions from Power Stations)

कोयला या परमाणु ऊर्जा पर चलने वाले पावर स्टेशन ग्रीनहाउस गैसों का अत्यधिक उत्पादन करते हैं। कोयले पर चलने वाले पावर स्टेशन कार्बन डाइऑक्साइड और कार्बन मोनोऑक्साइड जैसे गैस ग्रीनहाउस गैसों को उत्सर्जित करते हैं, वहीं परमाणु ऊर्जा संचालित बिजली संयंत्र कई हानिकारक ग्रीनहाउस गैसों को उत्पादित करते है। बिजली स्टेशनों से ग्रीनहाउस गैसों को नियंत्रित करने के लिए हमें निम्नलिखित बातो पर जोर देने की आवश्यक्ता है:

  1. बिजली स्टेशनों से ग्रीनहाउस गैसों को कम करने के लिए बिजली संयंत्रों को अपनी सर्वोत्तम दक्षता पर संचालित करने की आवश्यक्ता है ताकि कम ईंधन का उपयोग करके अधिक से अधिक बिजली उत्पादन को हासिल किया जा सके।
  2. बिजली उत्पादन के लिए हाइड्रो पावर प्लांट का उपयोग कर बिजली स्टेशनों से ग्रीनहाउस गैसों के उत्सर्जन को कम किया जा सकता है।
  3. ऊर्जा को बचाने के लिए लोगों को प्रोत्साहित किया जाना चाहिए।
  4. पर्यावरण तक पहुंचने से पहले कार्बन डाइऑक्साइड गैस को अवशोषित करने के लिए बिजली स्टेशनों पर विभिन्न तकनीकों का उपयोग करना चाहिए।
  5. पवन और सौर संचालित बिजली स्टेशनों का उपयोग करके भी ग्रीनहाउस गैसों को काफी हद कम किया जा सकता हैं।

उद्योगो में ग्रीनहाउस गैसों के उत्सर्जन को कैसे कम करे (How to Decrease Greenhouse Gases Emissions in Industry)

उद्योग बड़ी मात्रा में ग्रीनहाउस गैसों का उत्सर्जन कर पर्यावरण को प्रदूषित करते है। उद्योगो द्वारा विभिन्न वस्तुओं और सामग्रियों का उत्पादन करते समय अनेक हानिकारक ग्रीनहाउस गैसों का उत्सर्जन करते हैं। उद्योग में ग्रीनहाउस गैसों के उत्सर्जन को निम्न तरीको द्वारा कम किया जा सकता हैं:

  1. बिजली स्टेशनों से ग्रीनहाउस गैसों को कम करने के लिए बिजली संयंत्रों को उसकी सर्वोत्तम दक्षता पर संचालित करना चाहिए ताकि कम ईंधन का उपयोग करके प्रत्येक यूनिट बिजली उत्पादन को हासिल किया जा सके।
  2. ग्रीनहाउस गैसों को कम करने के लिए समय-समय पर विशेष उद्योग के कार्बन पदचिह्नों का आकलन करने और नियमित आधार पर उन्हें नियंत्रित करने के उपायों का पालन करना चाहिए।
  3. ग्रीन हाउस गैसों के उत्सर्जन को प्रत्यक्ष रुप से नियंत्रित करके इसके हानिकारक प्रभाव को कम किया जा सकता हैं।
  4. किसी भी उद्योग द्वारा ग्रीनहाउस गैसों की अत्यधिक रिहाई पर प्रतिबंध लगाकर निश्चित रूप से ग्रीनहाउस गैसों के उत्सर्जन को कम किया जा सकता है – और यह प्रतिबंध उद्योगो को ग्रीनहाउस गैसों गैसों के उत्सर्जन को नियंत्रित करने के लिए प्रोत्साहित करेंगे।
  5. उद्योग अपनी कार्यप्रणाली जारी रखने के लिए हरित ऊर्जा में निवेश करके ग्रीनहाउस गैसों के उत्सर्जन को नियंत्रित कर सकता हैं।

ग्रीनहाउस गैसों के उत्सर्जन को कम करने के अन्य तरीकेः

ग्रीनहाउस गैसों को नियंत्रित करने के निम्नलिखित अन्य तरीके हैं जिन्हें हर किसी द्वारा पालन करने की आवश्यक्ता है:

  1. ऊर्जा और एयर कंडीशनिंग का उपयोग कम करना चाहिए।
  2. प्रत्येक व्यक्ति को कम से कम एक पेड़ प्रति वर्ष लगाना चाहिए।
  3. ग्रीनहाउस गैसों के उत्सर्जन तथा ऊर्जा संरक्षण और ग्रीनहाउस गैसों के हानिकारक प्रभावों के बारे में लोगों को अवगत कराना चाहिए।
  4. पर्यावरण में ग्रीनहाउस गैसों की कुल मात्रा को कम करने के लिए कारपूलिंग, बाइकिंग या सार्वजनिक परिवहन का उपयोग करना चाहिए।
  5. उद्योगों को पर्यावरण प्रदूषण ग्रीनहाउस गैसों के स्तर को कम करने के लिए सरकार द्वारा किए गए सभी नियमों और कानूनो का पालन करना चाहिए।

निष्कर्ष

हमें समझना होगा कि ग्रीनहाउस गैसों का उत्सर्जन कई हानिकारक पर्यावरणीय मुद्दों को उजागर कर रहा हैं। समय आ गया है जब हमें पर्यावरण में ग्रीनहाउस गैसों के उत्सर्जन को कम करने के लिए महत्वपूर्ण उपायो को अपनाना चाहिए तथा इस उद्देश्य के लिए उद्योगों और आम लोगों समेत सभी हितधारकों को संयुक्त प्रयास करने के लिए प्रोत्साहिक करना चाहिए। इन संयुक्त प्रयासों से न केवल हम पर्यावरण में ग्रीनहाउस गैसों के उत्सर्जन को कम कर सकते हैं, बल्कि हम अपनी पृथ्वी माँ को भी ग्लोबल वार्मिंग के हानिकाकर प्रभाव से बचा सकते हैं।