पर्यावरण को कैसे बचाएं (How to Save our Environment)

पर्यावरण संरक्षण आम तौर पर पेड़ों और हरियाली के संरक्षण को दर्शाता है लेकिन व्यापक अर्थों में इसका तात्पर्य पेड़ों, पौधों, पशुओं, पक्षियों और पूरे ग्रह की सुरक्षा से है। वास्तव में पर्यावरण और जीवन के बीच एक अनूठा संबंध है। पर्यावरण संरक्षण मानव जाति के भविष्य और अस्तित्व के लिए महत्वपूर्ण है।

आज पर्यावरणीय गिरावट और जलवायु परिवर्तन ने संपूर्ण मानव जाति को प्रभावित किया है। इस समस्या को दूर करने के लिए पूरी दुनिया को एक होना चाहिए। लेकिन गरीब देशों, जो मुख्य रूप से अपने अस्तित्व के लिए प्राकृतिक वातावरण पर निर्भर हैं, को पर्यावरणीय चिंताओं से निपटने के लिए विकसित देशों से मदद की आवश्यकता है।

पर्यावरणीय सुरक्षा क्यों आवश्यक है? हम अपने पर्यावरण को कैसे सुरक्षित और संरक्षित कर सकते हैं?

(Why is Environmental Protection Necessary/How can we Protect and Conserve Our Environment)

पर्यावरण संरक्षण बहुत महत्वपूर्ण है क्योंकि मनुष्य, जीवन के लिए प्रकृति पर निर्भर है। ऐसे कई छोटी-छोटी चीजें हैं जिन्हें आप पर्यावरण पर असर को कम करने के लिए उपयोग कर सकते हैं। उदाहरण के लिए जब भी आप कमरे से बाहर निकलते हैं तो बिजली के उपकरणों को बंद करने का नियम बनाएं। कोई काम नहीं होने पर सभी इलेक्ट्रिक यंत्र बंद करें। अन्य पर्यावरण-अनुकूल उपाय नीचे दिए गए हैं:

पर्यावरण संरक्षण के कुछ उपाय (Some Environment Protection Measures)

  1. पर्यावरण सुरक्षा परिवार से शुरू होती है

परिवार सही अर्थों में पर्यावरण के बारे में सीखने का पहला स्कूल है। परिवार के सदस्य बच्चों को कई उदाहरणों के माध्यम से पर्यावरण संरक्षण के बारे में सही तरह के सबक दे सकते हैं। घर में हर पौधे की जिम्मेदारी प्रत्येक सदस्य को दी जा सकती है खासकर बच्चों को। उन्हें पेड़ों और पौधों के नामों को जानने दें और उनसे संबंधित विशिष्ट चीजों को साझा करने दें। पशुओं को घर में संगृहीत किया जाना चाहिए ताकि बच्चे उनके साथ अपने बंधन विकसित कर सकें। उन्हें 'हरबेरियम फाइलें' जैसी परियोजनाएं भी दी जानी चाहिए। उन्हें कंप्यूटर पर गेम खेलने से मुक्त और कमरों की कैद को तोड़ने की ज़रूरत है।

  1. जीवन में सादगी को ग्रहण करें

एक समय था जब बच्चों का पौधों, तितलियों और पक्षियों के साथ गहरा संबंध होता था। घरों की पहचान अक्सर पेड़ों से की जाती थी। फलों की पैदावार भी मौसम से जुड़ी थी लेकिन आजकल 'मौसमी फल' जैसे वाक्यांश पुराने हो चुके हैं। सभ्यता की पत्थर की दीवारें न केवल विभाजित हो गई हैं बल्कि सच्चाई, ईमानदारी और जीवन भी पृथ्वी से खत्म हो गया है। 'उपयोग करने और फेंकने' की बात निर्जीव वस्तुओं से हमारी जीवन शैली में चली गई है। ऐसा लगता है कि सरल जीवन कहीं खो गया है। आज हर समस्या के दस समाधान हैं। हमने अपना जीवन कितना जटिल बना लिया है! हमें कार्बन फुटप्रिंट को कम करने के लिए एक सरल जीवन शैली को अपनाना चाहिए। जब भी आप कमरे से बाहर जाएँ तो बिजली के उपकरणों को बंद कर इस नियम का पालन करने की शुरुआत कर सकते हैं।

  1. वन क्षेत्रों को बचाएं

उद्योगों के विकास को आम तौर पर विकास के आधार के रूप में माना जाता है। खाद्य उत्पादन के लिए कृषि और सिंचाई पर जोर दिया गया है लेकिन वनों के महत्व के बारे में समझने के लिए पर्याप्त ध्यान नहीं दिया जाता है। वनों को सिर्फ उस भूमि को घेरना माना जाने लगा है जिन्हें खेती के लिए काटा जाता है। कृषि का उपयोग आम लकड़ी और ईमारती लकड़ी काटने के लिए भी किया गया है; पेड़ों को अंधाधुंध रूप से काटा गया है; आम तौर पर उन्हें नए पेड़ों के साथ बदलने की आवश्यकता के प्रति एक उदासीन रवैया है। इसलिए आज हम जंगल संपदा के मामले में गरीब हो गए हैं और पर्यावरण के लिए कई गंभीर दुष्प्रभावों का सामना कर रहे हैं।

 

यदि पेड़-वृक्षारोपण की सहायता से पृथ्वी हरी-भरी रहती है तो मनुष्य के पास कई प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष लाभ हैं। ईंधन और लकड़ी से फल-फूलों, दवाइयों, एयर कंडीशनिंग, वर्षा का संतुलन, जैविक उर्वरक, मिट्टी के क्षरण की रोकथाम, बाढ़, फसलों की रक्षा के लिए कीड़े खाने वाले पक्षियों को आश्रय प्रदान करने जैसे अनगिनत लाभ हैं। जैसा कि स्कॉटिश वनस्पतिशास्त्री रॉबर्ट चेंबर्स ने लिखा है अगर जंगल नष्ट हो गया है तो वहां पानी की कमी होगी, भूमि की उर्वरता कम हो जाएगी और फसलों की पैदावार कम हो जाएगी, जानवर मर जाएंगे, पक्षी खत्म हो जायेंगे। वन-विनाश का अभिशाप पांच भयंकर परिणामों को जन्म देगा - बाढ़, सूखा, गर्मी, अकाल और रोग। हम अनजाने में वन संपदा को नष्ट कर देते हैं और जितना अधिक हमको फायदा मिलता उससे कहीं अधिक इससे नुकसान मिलता है।

  1. अधिक से अधिक पेड़ लगाएं

पेड़ ऑक्सीजन का सबसे बड़ा स्रोत है। प्रकाश संश्लेषण की प्रक्रिया में पौधें सबसे आवश्यक ऑक्सीजन का उत्सर्जन करते हैं। इस तरह वृक्ष मनुष्य के जीवन के लिए आधार प्रदान करते हैं। इसके अलावा वनस्पति भी प्राणियों के लिए आहार बनाती है। वनस्पति हमारे लिए पोषण प्रदान करती है।

हम पेड़ काटने की बजाए उन्हें लगाना चाहिए। विशिष्ट अवसरों पर पेड़ को एक अनिवार्य उपहार बनाया जाना चाहिए। यदि हर व्यक्ति पेड़ लगाता है तो पर्यावरण में काफी सुधार होगा। हवा साफ़ होगी, पेड़ों की संख्या में वृद्धि होगी और प्रदूषण, ग्लोबल वार्मिंग और ग्रीनहाउस प्रभाव कम हो जाएगा।

वास्तव में पौधों और पेड़ों का मनुष्य के लिए बहुत महत्व है। वे मानव जीवन का आधार हैं लेकिन आज मनुष्य उनके महत्व और उपयोग को समझने की बजाए उनकी उपेक्षा कर रहा है। उनके माध्यम से माध्यमिक लाभ पर नजर रखने के साथ हम लगातार उनका शोषण कर रहे हैं। पेड़ काटने की बजाए हमें बहुत से पेड़ लगाने चाहिए लेकिन ऐसा हो नहीं रहा है और उनकी संख्या लगातार कम हो रही है। नतीजतन मानव जाति के लिए कई समस्याएं उत्पन्न हुई हैं।

शास्त्रों में तुलसी, बरगद, पीपल, आवंला आदि को दिव्य प्राणियों के रूप में गिना गया है। पेड़ मानव परिवार का हिस्सा हैं। वे जीवन ऊर्जा प्रदान करके हमें जीवित रखते हैं। वे हमारे लिए बहुत अधिक उपयोगी हैं इसलिए हमें अधिक से अधिक पेड़ लगाने की कोशिश करनी चाहिए। आज सभी लोगों को पर्यावरण संरक्षण के उपायों को अपनाने की कोशिश करनी चाहिए।

  1. पैक किए गए भोजन से बचें

पैकेजिंग वस्तुओं के उपयोग को कम करें क्योंकि वे औद्योगिक कचरे का एक-तिहाई हिस्सा हैं। तो कोई भी उत्पाद खरीदने से पहले उसकी पैकेजिंग के बारे में सोचें। अलग-अलग तरह से पैक की गई कैंडी तथा टोफियों से और ज्यादा कचरे का उत्पादन होता है जबकि ताजा फल और सब्जियां स्वस्थ होती हैं और कम कचरे का उत्पादन करती हैं।

 

  1. रेड मीट ना खाएं

बीफ़ और सूअर का मांस की तुलना में, मछली और मुर्गी का मांस पर्यावरण पर बहुत कम प्रभाव डालता है जबकि अन्य प्रोटीन स्रोतों में बादाम, अखरोट और जैव सोया शामिल हैं जो पृथ्वी के लिए कम हानिकारक हैं।

  1. कार्बनिक भोजन को अपनाना

आज जो सब्जियां हम खाते हैं वे रसायनों और कीटनाशकों की मदद से उगाई जाती हैं। यदि हम रसायनों और कीटनाशकों के उपयोग के बिना सब्जियां उगाते हैं तो इससे मिट्टी की उर्वरता बढ़ेगी और हमारे स्वास्थ्य और पर्यावरण दोनों के लिए फायदा होगा।

  1. वन्यजीव और वर्षावन की रक्षा करें

वन्यजीवों की खाल से बने उत्पादों को न खरीदें। जंगल से लाए गए विदेशी पालतू जानवरों को ना खरीदें। जब आप अपने पालतू जानवरों को पालना नहीं चाहते हैं तो उन्हें जाने दें। पालतू खरीदने से पहले यह सुनिश्चित करें कि आप इसकी देखभाल करने के लिए तैयार हैं। पालतू जानवर रखना एक जिम्मेदारी का काम है।

अन्य देशों के लकड़ी के उत्पादों को खरीद तब तक न खरीदें जब तक कि आप यह नहीं जान लेते कि उनका संबंध पर्यावरण के अनुकूल आपूर्तिकर्ताओं से है। यह पता करना कि लकड़ी पर्यावरण के अनुकूल है या नहीं इसके लिए एक अच्छा तरीका है इस पर लगे "प्रमाणीकरण लेबल" को देखना। प्रमाणीकरण लेबल का एक उदाहरण "एफएससी-प्रमाणित" है जिसका अर्थ है कि यह वन संरक्षक परिषद (एफएससी) द्वारा निर्धारित वन संरक्षण मानकों के तहत विश्व स्तर पर मान्यता प्राप्त प्रमाणन प्रणाली का पालन करता है।

वर्षावन और जीवित पौधों और जीवों के बारे में अधिक जानें। अपने दोस्तों और माता-पिता को बताएं कि वर्षावन क्यों महत्वपूर्ण हैं।

  1. कम उपभोग करें, दोहराएं, फिर से उपयोग करें

पर्यावरण सुरक्षा और संरक्षण सही दृष्टिकोण से प्राप्त किया जा सकता है। उपयोग करने और फेंकने के नियम के विपरीत "बचत" सभ्यता को प्रोत्साहित किया जाना चाहिए। अपनी खपत को कम करें। उदाहरण के लिए स्टेशनरी कागजों का दोनों तरफ से उपयोग करें। अपनी थाली में उतना ही भोजन डालें जितना आप खा सकते हैं। सामान और वस्तुओं को घर में एक व्यवस्थित तरीके से एकत्र किया जाना चाहिए ताकि उन्हें व्यर्थ ईधर-उधर पड़े रहने से रोका जा सके। आप ईंधन कुशल कारों को अच्छे तरीके से चला सकते हैं और खुद को गर्म रखने के लिए हीटर पर निर्भर ना रहें।

लगभग सभी चीजों का पुन: उपयोग किया जा सकता है। उन उत्पादों को खरीदने की कोशिश करें जो रीसाइक्लिंग होने में सक्षम हैं। कपड़ों के बैग का प्रयोग करें: पॉलिथीन और प्लास्टिक को ना कहें। ग्लास, पेपर, प्लास्टिक या धातु इन सब चीजों को फिर से इस्तेमाल किया जा सकता है। जार, शराब की बोतलें, टुटा हुआ चश्मा, पुराने अख़बार, कागज़ात, कार्डबोर्ड आदि या कोई अन्य चीज जो अब उपयोगी नहीं हैं उसका पुनर्नवीनीकरण किया जा सकता है।

  1. पानी की खपत कम करें

हमें पानी बर्बाद नहीं करना चाहिए क्योंकि पानी ही जीवन है। स्वच्छ और ताजा पानी हमारे दैनिक जीवन की आवश्यकता है और साथ ही यह समय के साथ अधिक मूल्यवान हो रहा है और अगर हम इसे बचाने के लिए कुछ नहीं कर रहे हैं भविष्य में सोने की तुलना में पानी अधिक मूल्यवान होगा। इसलिए यह बहुत महत्वपूर्ण है कि पानी को बचाएं और जल प्रदूषण को रोकने के लिए हम जो भी कर सकते हैं वह हमें अधिक से अधिक प्रयासों के साथ करना चाहिए। यहां तक ​​कि हमारे छोटे-छोटे कदम भी पर्यावरण संरक्षण में मदद कर सकते हैं। उदाहरण के लिए हमें ब्रश और शेविंग करते वक़्त बेसिन नल को बंद करना चाहिए, स्नान के दौरान कम पानी बर्बाद करना चाहिए और कपड़े धोने की मशीन का प्रयोग तभी करना चाहिए जब गंदे कपड़े पर्याप्त मात्रा में धोने के लिए हो। ठंडे पानी के साथ कपड़े धोएं और ड्रायर का प्रयोग न करें। तेल और रंग को नालियों में ना डालें क्योंकि वे नदियों को दूषित करते हैं और अंत में समुद्र में भी गंदगी फ़ैलाते हैं।

  1. बिजली के उपयोग को कम करें

दिन के दौरान सूर्य के प्रकाश में काम करने की कोशिश करें। जब बिजली की ज़रूरत न हो तो बिजली का स्विच बंद कर दें। एक बार जब आप विद्युत उपकरण का इस्तेमाल कर लें तो आपको इसे बंद करना चाहिए। लैपटॉप चार्जर्स या टोस्टर का इस्तेमाल होने की स्थिति में उनको बंद कर दें क्योंकि ये उपकरण उर्जा की बहुत भारी मात्रा में उपयोग करते हैं। यह कदम न केवल आपके बिजली के बिल को बचाएगा बल्कि ऊर्जा खपत भी कम करेगा। जब प्रकाश बल्ब क्षतिग्रस्त हो जाते हैं तो उन्हें ऊर्जा कुशल बल्बों के साथ बदलें। ऊर्जा बचाने के लिए आजकल एलईडी या सीएफएल बल्ब आ चुके हैं। नए ऊर्जा-बचत वाले उपकरणों को अपने घर के बल्ब की जगह दें। कार्यालय छोड़ने के बाद आपको अपना कंप्यूटर और मॉनिटर बंद करना चाहिए। इसलिए ऊर्जा बचाने के लिए जब भी बिजली का कोई उपयोग ना हो तो सभी यंत्र बंद कर दें चाहे वह बल्ब, टीवी, कंप्यूटर, प्रिंटर चाहे कुछ भी हो।

'बिजली बचत मोड' पर फोन, मोबाइल, लैपटॉप आदि का उपयोग करें। ऐसा करके आप बिजली की खपत को कम करने में मदद करेंगे। एक टाइमर रखें जो रोज़ चलता है और ऑटो मोड पर विभिन्न उपकरणों को बंद कर सकता हो।

बहुत सारी चीजों को एक पॉवर बार के साथ बंद किया जा सकता है। आप अपने सभी उपकरणों को एक क्षेत्र में प्लग कर सकते हैं – जैसे आपका कंप्यूटर - एक पॉवर बार में आप सभी डिवाइस का उपयोग करते हैं अन्यथा बस स्विच पावर बार को बंद कर दें।

  1. अक्षय ऊर्जा स्रोतों का उपयोग करें

संयुक्त राज्य में लगभग 71% बिजली जीवाश्म ईंधन को जलाने से उत्पन्न होती है जो पर्यावरण में ग्रीनहाउस गैसों का उत्सर्जन करती है। एक कोयले उपयोगिता द्वारा संचालित एक औसत घर एक वर्ष में 12,000 पाउंड का कोयला जलाता है जो दो कारों द्वारा उत्पादित प्रदूषण की समान मात्रा के बराबर होता है। प्राथमिक ऊर्जा स्रोत के रूप में अक्षय ऊर्जा का उपयोग इनडोर प्रदूषण को कम करने के लिए 400 पौधों को लगाने के समान होगा।

अक्षय स्रोतों से बिजली उत्पन्न करने के लिए आपको संसाधनों की तलाश करनी चाहिए। सबसे अधिक सौर ऊर्जा का उपयोग करें, कोशिश करें सौर-कुकर का उपयोग अधिक करें। पर्यावरणीय मुद्दों जैसे नवीकरणीय ऊर्जा के उपयोग का समर्थन करें।

  1. स्वस्थ आदतों को अपनाएँ

धूम्रपान हृदय रोग और वायु प्रदूषण को बढ़ाता है। धूम्रपान न करने से वायु प्रदूषण को कम करके पर्यावरण को काफी हद तक बचाया जा सकता है।

  1. वाहनों की नियमित देखभाल करें

वाहन उत्सर्जन के कारण प्रदूषण तेजी से बढ़ रहा है। यदि आप अपने वाहनों की देखभाल करते हैं और समय-समय पर अपने प्रदूषण के स्तर की जांच करते हैं तो आप पर्यावरण सुरक्षा और संरक्षण के लिए योगदान दे सकते हैं। इसके अलावा जितना हो सके जीवाश्म ईंधन को कम से कम जलाएं।

निष्कर्ष

वायु प्रदूषण आज पूरी दुनिया के लिए एक बहुत गंभीर समस्या बन चुका है। शुद्ध हवा की बहुत ज्यादा कमी है। वातावरण में मौजूद स्वच्छ हवा लोगों के जीवन का आधार है। इसकी अनुपस्थिति में अन्य विषाक्त गैसों का अनुपात बढ़ता है और सभी जीवों के लिए तबाही का कारण बनता है। जो लोग प्रदूषित हवा में सांस लेते हैं उन्हें लंबे समय तक नहीं जीने और अस्वस्थ रहने की संभावना होती है। शोध वैज्ञानिकों का मानना ​​है कि पृथ्वी के वातावरण में महत्वपूर्ण हवा कम हो रही है और अन्य हानिकारक तत्व बढ़ रहे हैं। यदि वृक्षों की कटाई की यही गति रही तो वातावरण में दूषित गैस इतने बढ़ जाएँगी कि पृथ्वी पर जीवन मुश्किल हो जाएगा। इस कठिन परिस्थिति का एकमात्र समाधान हरा-भरा वातावरण है। विशेषज्ञों का कहना है कि यदि हरियाली नहीं फैलाई जाती तो ग्लोबल वार्मिंग जैसी समस्याएं भयानक अनुपात में बढ़ सकती हैं।

प्राचीन काल में संतों और भक्तों ने अपने आश्रम के पास पेड़ों को लगाया और उन्हें बढ़ने का मौका दिया। वे पर्यावरणीय सुरक्षा के बारे में सचेत थे। वे वनस्पति को जीवन दायिनी मानते हैं और पेड़ों को लगाने का सर्वोच्च महत्व देते हैं।

दुर्भाग्य से कुछ लोगों का मानना ​​है कि सामान्यतः सरकार और बड़ी कंपनियों को पर्यावरण संरक्षण के लिए कुछ करना चाहिए। यह सच से बहुत दूर है। वास्तव में हर व्यक्ति प्रदूषण, अवशेष, उत्सर्जन, सभी प्रकार के कचरे और बढ़ती आबादी से पर्यावरण की रक्षा के लिए योगदान कर सकता है। पर्यावरण की देखभाल करने के लिए सभी को जिम्मेदारी और अधिकार सौपें जाने चाहिए।