वन-कटाई के समाधान

बढ़ती आबादी की जरूरतों को पूरा करने के लिए दुनिया भर में वनों की कटाई हो रही है। पर्यावरण के क्षेत्र में प्राकृतिक संतुलन को बनाए रखने के लिए पूरे मानव समुदाय हेतु वन बहुत आवश्यक हैं। हालांकि मनुष्य के लालच ने उन्हें लकड़ी को जलाकर कोयला बनाने के लिए और पेड़ों को काटने या खेतों, आवासीय, वाणिज्यिक प्रयोजनों के लिए भूमि प्राप्त करने के अलावा विभिन्न रूपों में वस्तुओं का उपयोग करने के लिए उन्हें अग्रसर किया है।

बिगड़ती स्थिति मनुष्य की स्वार्थ को दर्शाती है क्योंकि वे नए पेड़ लगाकर उन्हें फिर से जीवंत करने के लिए कदम न उठाते हुए जंगलों को लगातार काट रहे हैं। अफसोस की बात है कि वनों की कटाई फिर से पेड़ लगाने की तुलना में तेज दर पर हो रहा है। नतीजतन प्राकृतिक आवास और जैव विविधता को भारी क्षति उठानी पड़ी है। जंगलों के अंधाधुंध विनाश के कारण वातावरण में आर्द्रता बढ़ी है। इसके अलावा उन क्षेत्रों में जहां पेड़ों को हटाया जा रहा है वे धीरे-धीरे बंजर भूमि में बदल रहे हैं।

वनों की कटाई की वजह से कई खतरनाक प्रभाव देखने को मिले है जिनमें प्रमुख है जानवरों के आश्रयों का विनाश, ग्रीनहाउस गैसों में वृद्धि, बर्फ के ढक्कन, ग्लेशियरों का पिघलना जिसके कारण समुद्र के स्तर में वृद्धि हो रही है, ओजोन परत कम हो रही है और तूफान, बाढ़, सूखा आदि जैसी प्राकृतिक आपदाओं की बढ़ती घटनाएं।

वनों की कटाई को रोकने के उपाय (Solutions of Deforestation in Hindi)

वनों की कटाई को रोकने के उपाय

पृथ्वी पर जीवन को बचाने के लिए वनों की कटाई को रोकने के लिए क्या किया जा सकता है? वन आवरण को बचाने के कुछ तरीके निम्नलिखित हैं:

वन प्रबंधन

कई शताब्दियों से वनों की कटाई को रोकने या कम करने के लिए वैश्विक प्रयास किये जा रहे हैं क्योंकि लंबे समय से यह सबको पता है कि जंगलों की कटाई ने पर्यावरण को नष्ट कर दिया और कुछ मामलों में तो यह देश के पतन का कारण भी बनता जा रहा है। टोंगा में, दक्षिण प्रशांत क्षेत्र के एक इलाके में 170 से अधिक द्वीपों का एक फैला हुआ समूह, सरकार ने वन को कृषि भूमि में बदलने को लेकर अल्पकालिक लाभ (जिसके परिणामस्वरूप और भी दीर्घकालिक समस्याएं उत्पन्न हो सकती हैं) से बचने के लिए उपयुक्त नीतियां बनाई हैं। 17वीं और 18वीं शताब्दियों के दौरान जापान में शोगन ने अगली शताब्दी में वनों की कटाई को रोकने और फिर से जंगलों को विकसित करने के लिए एक उच्च तकनीक प्रणाली विकसित की। यह लकड़ी के अलावा किसी अन्य उत्पाद का उपयोग करके और सदियों से कृषि के लिए इस्तेमाल होने वाली जमीन का प्रभावी उपयोग करके किया गया था।

सोलहवीं शताब्दी में जर्मनी के भूमि मालिकों ने वनों की कटाई की समस्या से निपटने के लिए रेशम की खेती पद्धति विकसित की। हालांकि यह सब नीतियां सीमित थी क्योंकि वे पर्यावरण के अधीन हैं जैसे कि अच्छी बारिश, शुष्क मौसम का न होना और अच्छी मिट्टी का होना (ज्वालामुखी या ग्लेशियरों के माध्यम से)। इसका कारण यह है कि पुरानी और कम उपजाऊ जमीन के पेड़ इतनी धीरे-धीरे विकसित होते हैं कि वे आर्थिक लाभप्रद साबित नहीं होते हैं। इसके अलावा चरम शुष्क मौसम वाले क्षेत्रों में परिपक्व होने से पहले फसल को जलाने का खतरा भी है।

वनों की कटाई को रोकने के नए तरीके

उन क्षेत्रों में जहां "स्लेश-एंड बर्न" प्रक्रिया (जो पर्यावरण की दृष्टि से स्थायी नहीं है) को अपनाया गया है, स्लेश-एण्ड-चार विधि तीव्र वनों की कटाई को रोकता है और मिट्टी की गुणवत्ता में गिरावट भी बंद हो जाती है क्योंकि यह परंपरागत स्लेश-एंड बर्न विधि के नकारात्मक चरित्रों को उजागर करती है। इस प्रकार उत्पादित जैवचर को फिर से मिट्टी में डाल दिया जाता है। यह न केवल एक टिकाऊ कार्बन सिकुड़न विधि है बल्कि यह मिट्टी संशोधन के संदर्भ में भी बहुत फायदेमंद है। बायोमास के मिश्रण से यह टेरा प्रीता, जो ग्रह पर सबसे अच्छी मिट्टी, का उत्पादन करती है। यह एकमात्र मिट्टी का ज्ञात प्रकार है जो मिट्टी को पुनर्जीवित करती है।

 

वनों का कायाकल्प

दुनिया के कई हिस्सों में विशेष रूप से पूर्वी एशियाई देशों में वृक्षारोपण वन भूमि का क्षेत्र बढ़ रहा है। दुनिया के सबसे बड़े 50 देशों में से 22 देशों में जंगलों के क्षेत्र में उल्लेखनीय वृद्धि हुई है। एशिया में 2000 और 2005 के बीच 1 मिलियन हेक्टेयर जंगल में वृद्धि हुई है। एल साल्वाडोर में उष्णकटिबंधीय जंगलों ने 1992 और 2001 के बीच 20 प्रतिशत की वृद्धि की। इन प्रवृत्तियों के आधार पर 2050 तक वैश्विक वनों के क्षेत्र में आच्छादन में 10 प्रतिशत की वृद्धि होने की उम्मीद है।

चीन में वनीकरण

पीपुल्स रिपब्लिक ऑफ चाइना में, जहां बड़े पैमाने पर जंगलों का विनाश किया गया है, सरकार ने हर सक्षम नागरिक को 11 से 60 वर्ष की उम्र के बीच हर साल 3 से 5 पौधों को लगाने का आदेश सुनाया है या इसी तरह की वन सेवाएं करने को कहा है। सरकार का दावा है कि 1982 से चीन में कम से कम 1 अरब पेड़ लगाए गए हैं। हालाँकि अब इसकी आवश्यकता नहीं है क्योंकि चीन में हर साल 12 मार्च “पौधें लगाने के दिवस” के रूप में मनाया जाता है।

इसके अलावा इससे चीन की ग्रीन वॉल नामक परियोजना की शुरूआत भी हुई है जिसका उद्देश्य पेड़ के रोपण के विस्तार से गोबी रेगिस्तान को बढ़ने से रोकना है। हालांकि लगभग 75 प्रतिशत पेड़ों के जलने से यह परियोजना बहुत सफल नहीं रही है, और लचीली प्रणाली (लचीले तंत्र) के माध्यम से कार्बन का नियमित रूप से मुआवजा एक बेहतर विकल्प होगा। 1970 के दशक से चीन में वन क्षेत्र में 47 मिलियन हेक्टेयर की वृद्धि हुई है। चीन की कुल भूमि के 4.55 प्रतिशत में लगभग 35 अरब पेड़ों की वृद्धि हुई है। दो दशक पहले वनों का क्षेत्र 12 प्रतिशत था जो अब 16.55 प्रतिशत है।

पश्चिम में वनीकरण प्रयास

पश्चिमी देशों में लकड़ी के उत्पादों की बढ़ती मांग, जिसे अच्छी तरह से तैयार किया गया है, ने वन प्रबंधन और वन उद्योगों द्वारा लकड़ी के उपयोग में वृद्धि को जन्म दिया है।

वन संरक्षण में स्वैच्छिक संगठनों का योगदान

आर्बर डे फाउंडेशन द्वारा वर्षावनों के बचाव के लिए शुरू किया गया कार्यक्रम पुण्य का कार्य है जो वनों की कटाई को रोकने में मदद करता है। फाउंडेशन वर्षावन भूमि को मौद्रिक धन से खरीदता है और इससे पहले कि लकड़ी की कंपनियां इसे खरीदें फाउंडेशन इसे संरक्षित करता है। आर्बर डे फाउंडेशन भूमि को कटाई से बचाता है। यह भूमि पर रहने वाले जनजातियों के जीवन के तरीकों की रक्षा करता है। संगठन जैसे कि सामुदायिक वानिकी इंटरनेशनल, प्रकृति संरक्षण, वर्ल्ड वाइड फंड फॉर नेचर, संरक्षण इंटरनेशनल, अफ्रीकी संरक्षण फाउंडेशन और ग्रीनपीस भी वन निवासों के संरक्षण पर ध्यान देते हैं।

विशेष रूप से ग्रीनपीस ने भी वनों के नक्शे बनाये हैं जो अब भी बरकरार हैं और यह जानकारी इंटरनेट पर चित्रित की गई है। वेबसाइट HowStuffWorks ने अधिक सरल विषयगत नक्शा बनाया है जो मानव उम्र (8000 साल पहले) से मौजूद वनों की मात्रा का प्रतिनिधित्व करता है। वर्तमान में यह भी जंगलों के कम स्तर को दर्शाता है। ग्रीनपीस मैप और HowStuffWorks के नक़्शे इस प्रकार वृक्षारोपण की मात्रा को चिन्हित करते हैं जो मनुष्यों द्वारा की गई जंगलों की क्षति की मरम्मत के लिए जरूरी है।

 

क्योटो प्रोटोकॉल

वनों की कटाई को नियंत्रित करने के मामले में क्योटो प्रोटोकॉल बहुत महत्वपूर्ण है। क्योटो प्रोटोकॉल और इसके क्लीन डेवलपमेंट मैकेनिज्म (CDM) ने "वनीकरण और पुनर्वनरोपण" को उठाया है। वनों से ग्रीन हाउस गैस उत्सर्जन को कम करने के प्रयासों को मापने और रिपोर्ट करने में क्योटो प्रोटोकॉल की महत्वपूर्ण भूमिका है। इसके तहत नब्बे के दशक के बाद से भूमि के वह क्षेत्र जिसमें कोई वन-आश्रय नहीं किया जा सकता उसे वाणिज्यिक या स्वदेशी पेड़ प्रजातियों से बदला जाता था। संयुक्त राज्य अमेरिका भी जंगलों में शुद्ध ग्रीनहाउस गैस जब्ती पर उपाय और रिपोर्ट बना कर कार्य करता है।

जलवायु परिवर्तन पर संयुक्त राष्ट्र फ्रेमवर्क कन्वेंशन (UNFCC) ने वनों की कटाई और गिरावट से कम किए गए उत्सर्जन के रूप में जाना जाने वाले बेहतर वन प्रबंधन पर बातचीत की। इसका उद्देश्य ग्रीनहाउस गैसों के उत्सर्जन को कम करने के लिए वनों की कटाई और वन गिरावट और जलवायु परिवर्तन को कम करना है। यह विकासशील देशों में जंगलों के स्थायी प्रबंधन और वन कार्बन के भंडार को बढ़ाने की भूमिका पर जोर देती है।

सार्वजनिक सहकारिता और जागरूकता

सार्वजनिक सहकारिता और वन संरक्षण के लिए जागरूकता भी आवश्यक है। वन संरक्षण के लिए हम जरूरी कदम उठा सकते हैं जैसे कि बरसात के मौसम में सामुदायिक वानिकी के माध्यम से पौधों को बढ़ावा देना, जंगलों के रोपण और जंगलों के संरक्षण के लिए प्रचार और जागरूकता कार्यक्रम चलाने के द्वारा वन क्षेत्र में वृद्धि करना। सरकार को गांवों में वन सुरक्षा समितियाँ बनाने और जागरूकता फैलाने और वनों की कटाई को रोकने के लिए काम करना चाहिए।

प्रदूषण से लोगों को बचाने के लिए लोगों को जंगलों के संरक्षण के साथ अधिक से अधिक पेड़ लगाने की जरूरत है। अगर इसे ध्यान में नहीं रखा गया तो हम सभी के लिए शुद्ध हवा और पानी प्राप्त करना मुश्किल होगा।

1973 में पर्यावरणवादी, सुंदर लाल बहुगुणा और चंडी प्रसाद भट्ट, ने पहाड़ी इलाकों में चिपको आंदोलन शुरू किया जिसमें पहाड़ी इलाके की महिलाएं पेड़ों को गले लगा कर उन्हें जंगल माफियों द्वारा कटने से बचाती थी। इसी तरह 1993 में पांडुरंग हेगड़े के नेतृत्व में कर्नाटक में अप्पीको आंदोलन शुरू किया गया था जिसके तहत वनों को संरक्षित करने का एक सक्रिय प्रयास किया गया था।

भारत में वन संरक्षण के लिए कदम और कानून

भारत में वनों की सुरक्षा के लिए 1981 में फारेस्ट सर्वे ऑफ़ इंडिया (FSI) की स्थापना की गई थी। FSI वन और पर्यावरण मंत्रालय, भारत सरकार के तहत काम कर रहा एक संगठन है। इसका प्राथमिक कार्य वनों के क्षेत्र को मापने के लिए देशव्यापी सर्वेक्षण के माध्यम से देश के वन धन को इकट्ठा और मूल्यांकन करना है। किसी भी संगठन के विशेष अनुरोधों पर FSI अपने कर्मियों के लिए परियोजना आधारित विशेष प्रशिक्षण कार्यक्रम भी आयोजित करता है। इन सभी के अलावा इसमें डाटा प्रोजेक्ट रिपोर्ट का एक बड़ा संग्रह भी है जो पर्यावरणवादियों के लिए बहुत उपयोगी है।

देश को जंगलों की गंभीर कमी और इसके प्रतिकूल पर्यावरणीय प्रभाव का सामना करना पड़ रहा है। वन सुरक्षा कानून 1980 और इसके संशोधन 1981 और 1991 में किए गए ताकि वनों को संरक्षित किया जा सके। राष्ट्रीय वन नीति 1988 में अस्तित्व में आई। इसका निर्माण करने का मुख्य उद्देश्य पर्यावरण की रक्षा करते हुए पारिस्थितिक संतुलन को संरक्षित करना है। नीति का उद्देश्य वनों के संरक्षण और देश भर में गहन वन कार्यक्रमों को लागू करना है।

जंगलों को आग से बचाने के लिए इंटीग्रेटेड फारेस्ट प्रोटेक्शन स्कीम (IFPS) तैयार की गई। इसे वन संरक्षण के साथ वन संरक्षण और प्रबंधन तकनीक के संयोजन से बनाया गया था। यह योजना पूर्वोत्तर राज्यों और सिक्किम के लिए बहुत फायदेमंद साबित हुई है और इन क्षेत्रों में जंगलों को बचाने के लिए संसाधनों की कमी भी पूरी हुई है। यह योजना 100% केंद्र प्रायोजित है। इसका मुख्य उद्देश्य राज्यों और संघ शासित प्रदेशों को बुनियादी ढांचा प्रदान करना है और आग से जंगलों को बचाने और इसके उचित प्रबंधन करना है।

वन शिक्षा निदेशालय वन और पर्यावरण मंत्रालय के अधीन है और इसका प्राथमिक कार्य राज्यों को, वन अधिकारियों और क्षेत्रीय वन अधिकारियों को प्रशिक्षण देना है। वर्तमान में तीन केंद्रीय वन अकादमियां देश में मौजूद हैं। ये क्रमशः ब्य्र्निहत (असम), कोयंबटूर (तमिलनाडु) और देहरादून (उत्तराखंड) में हैं और साथ ही कुर्सियांग के रेंजर्स कॉलेज भी (पश्चिम बंगाल) पूर्व वन क्षेत्र में हैं। भारत सरकार वन रेंजर्स कालेजों का संचालन करती है। हालांकि वन शिक्षा निदेशालय ने गैर-वन संगठनों को प्रशिक्षण देने का कार्य भी शुरू कर दिया है।

पर्यावरण के विकास में सक्रिय लोगों की सहायता से पारिस्थितिक पुनर्स्थापना, पर्यावरण संरक्षण, प्राकृतिक संसाधनों के संरक्षण, पर्यावरण विकास, भूमि में गिरावट, वनों की कटाई और जैव विविधता को नुकसान की जांच के उद्देश्य से राष्ट्रीय वनीकरण कार्यक्रम (NAP) शुरू किया गया था।

भारत 1.4 अरब लोगों का देश है जहां घनी आबादी वाले क्षेत्रों में जंगलों पर लगातार दबाव रहता है और लोग सीमांत भूमि पर खेती करने को मजबूर हो रहे हैं जहां की घास अधिक से अधिक क्षेत्र को बंजर बनाने में योगदान दे रही है। देश के जंगलों पर जबरदस्त सामाजिक-आर्थिक दबाव है। भारत ने कृषि भूमि की सुरक्षा के लिए परिधि बाड़ लगाने और सुरक्षा के साथ मिट्टी के क्षरण और मरुस्थलीकरण को रोकने के लिए एक बागान प्रणाली की स्थापना की है।

वन्यजीवों को संरक्षित करने की आवश्यकता

हमें हमारे वन्य जीवन को अमूल्य संपत्ति के रूप में देखना होगा। उनके बचाव के बारे में सोचना तभी संभव है अगर हम न केवल वन्य जीवन को बचाए बल्कि उन्हें पनपने का अवसर भी प्रदान करें। यदि आवश्यक हो तो हमें उन्हें उचित वातावरण में रखकर उनकी संख्या बढ़ाने में योगदान देना होगा।

राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्तरों पर अभ्यारण्य, वन्यजीव पार्क, राष्ट्रीय उद्यान आदि शामिल हैं। भारत में वनों और वन्यजीवों की सुरक्षा के लिए 'पर्यावरण संरक्षण अधिनियम', 'वन संरक्षण अधिनियम', 'राष्ट्रीय वन्य जीव कार्य योजना', 'टाइगर परियोजना', 'राष्ट्रीय उद्यान और अभयारण्य', 'जैव-क्षेत्रीय रिजर्व कार्यक्रम' आदि चल रहे हैं।

इन योजनाओं के कारण कुछ प्रजातियों को विलुप्त होने से बचाया गया है। इसमें शेर, बब्बर शेर, एक सींग वाला गेंडा, हाथी, मगरमच्छ आदि शामिल हैं। न केवल ये सब पशु बल्कि कई प्रकार के पौधे और पेड़ों ने भी एक नया जीवन प्राप्त करना शुरू कर दिया है। अब उन सभी के जीवन को बचाए रखना आवश्यक है।

भारत में वन्यजीवों की रक्षा के उपाय

पर्यावरण और वन मंत्रालय ने देश में वन्य जीवन को बचाने और संरक्षण के लिए कई उपाय किए हैं। ये उपाय निम्नानुसार हैं: -

  1. वन्यजीव (संरक्षण) अधिनियम 1972 के प्रावधानों के तहत वन्यजीवों के शिकार के खिलाफ कानूनी संरक्षण प्रदान किया गया है जिसमें उनके शोषण और वाणिज्यिक शोषण शामिल हैं। सुरक्षा और खतरे की स्थिति के अनुसार जंगली जानवरों को कानून के विभिन्न कार्यक्रमों में रखा गया है। मोरों को कानून के अनुसूची 1 में रखा जाता है जो उन्हें कानून के तहत उच्चतम संरक्षण देता है।
  2. वन्यजीव (संरक्षण) अधिनियम 1972 अपने प्रावधानों के उल्लंघन से संबंधित अपराधों के लिए दंड के प्रावधान प्रदान करता है। जंगली जानवरों के खिलाफ अपराध करने के लिए इस्तेमाल किए गए किसी उपकरण, वाहन या हथियार को जब्त करने हेतु एक प्रावधान इस कानून में भी है।
  3. वन्यजीव (संरक्षण) अधिनियम 1972 के प्रावधानों के तहत संरक्षित क्षेत्र तैयार किए गए हैं जिनमें देश भर में राष्ट्रीय उद्यानों, अभयारण्यों, महत्वपूर्ण वन्यजीवों के आवास शामिल हैं ताकि वन्यजीव और उनके निवास सुरक्षित हो सकें।
  4. वन्यजीव अपराध नियंत्रण ब्यूरो को वन्यजीव, जंगली जानवरों और उनके उत्पादों के अवैध व्यापार के नियंत्रण के लिए गठित किया गया है।
  5. केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) को वन्यजीव संरक्षण अधिनियम 1972 के तहत वन्य जीवन के खिलाफ अपराध करने वाले लोगों को गिरफ्तार करने का अधिकार दिया गया है।
  6. राज्य / केंद्र शासित सरकारों से अनुरोध किया गया है कि वे संरक्षित क्षेत्रों में और आसपास के इलाकों में गश्ती बढ़ाएं।
  7. अधिकारियों द्वारा राज्य के जंगल और वन्यजीव विभागों पर बारीकी से निगरानी की जा रही है।

निष्कर्ष

आज जिस तरह से मानवीय दोष के कारण पर्यावरण ख़राब हो रहा है उसके लिए जंगलों को सख्ती से बचाने और बनाए रखने की बहुत बड़ी जरूरत है। केवल ऐसा करने से हम सभी जीवों के भविष्य को बचा सकते हैं।

दुनियाभर के वैज्ञानिक, सभी समझदार लोग, पर्यावरण विशेषज्ञ, आदि वन संरक्षण की आवश्यकता पर जोर दे रहे हैं। सरकारों ने जंगली प्रजातियों की रक्षा के लिए अभयारण्य और भंडार भी बनाए हैं जहां घास उखाड़ना भी प्रतिबंधित है।

जंगल संरक्षण जैसे महत्वपूर्ण काम संभवतः 'वृक्षारोपण' सप्ताह देखकर किया नहीं जा सकता। इसके लिए वास्तव में महत्वपूर्ण योजनाओं की तर्ज पर काम करने की आवश्यकता है। यह भी एक या दो सप्ताह या महीनों के लिए नहीं बल्कि सालों के लिए। यह एक बच्चे को सिर्फ जन्म देने जैसा ही नहीं बल्कि बच्चे की परवरिश और देखभाल के लिए उचित व्यवस्था करना, न केवल दो से चार साल तक, जब तक वह परिपक्वता प्राप्त न कर ले। तभी तो पृथ्वी का जीवन उसके पर्यावरण और हरियाली की सुरक्षा संभव हो सकती है।

प्रकृति हमारे लिए सभी आवश्यक संसाधन प्रदान करती है। वैश्विक जलवायु परिवर्तन के दुष्प्रभावों को देखना समय की आवश्यकता है। ग्रीनहाउस गैसों के उत्सर्जन को रोकने के लिए हमें भोजन, पानी और वायु की अनिवार्य आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए केवल प्रकृति की मात्रा का उपयोग करना चाहिए। इस संदर्भ में पर्यावरण सुधार के लिए वनों की कटाई को नियंत्रित करना बहुत आवश्यक है।