कचरा प्रदूषण के प्रभाव और रोकने के उपाय

कचरा प्रदूषण (Garbage Pollution)

कचरा आज दुनिया में एक गंभीर समस्या बन गया है। नेचर जर्नल में प्रकाशित एक रिपोर्ट के अनुसार कचरा या ठोस अपशिष्ट की समस्या आज भयानक अनुपात तक पहुँच गई है। इस सदी (2100) के अंत तक विश्व स्तर पर 11 मिलियन टन की दर से कचरा इकट्ठा हो जाएगा अर्थात आज की दर से तीन गुना अधिक। इसका अर्थ है कि कचरा जो 2010 में प्रति दिन 3.5 मिलियन टन थी 2025 तक प्रति दिन 60 लाख टन हो जाएगी। वर्तमान में भारत के लोग प्रति वर्ष लगभग 62 मिलियन टन ठोस कचरे का उत्पादन करते हैं। इसमें से 45 मिलियन टन कचरा छोड़ दिया जाता है और नागरिक एजेंसियों द्वारा इसका निपटारा गैरकानूनी तरीके से किया जाता है।

रिपोर्ट के मुताबिक शहरी भारत प्रति दिन 109,589 टन ​​अपशिष्ट उत्पन्न करता है। दिलचस्प बात यह है कि शहरी अमेरिकी प्रति दिन 624,700 टन कचरा पैदा करता है जो दुनिया में सबसे ज्यादा है जबकि दूसरा सबसे बड़ा शहर शहरी चीन है 520,548 टन कचरा प्रति दिन उत्पन्न होता है। 2025 तक भारत की अपशिष्ट पीढ़ी 376,639 टन प्रति दिन होगी। उस समय तक शहरी भारत की आबादी 538 मिलियन तक बढ़ने की उम्मीद है।

कचरा प्रदूषण क्या है? (Meaning of Garbage Pollution in Hindi)

कचरा प्रदूषण तब होता है जब डंपिंग साइट्स में इकट्ठा कचरा सड़ रहा होता है, गंध फ़ैलाता है और आसपास के इलाकों में वायु प्रदूषण का कारण बनता है जो प्रशासनिक स्तर पर भी समस्याएं पैदा करता है। ऐसा अक्सर देखा जाता है कि लौहे के डिब्बे, कागज, प्लास्टिक, कांच के टुकड़े, बचा हुआ भोजन, जानवरों की हड्डियां, सब्जियों के छिलके आदि जैसी अकार्बनिक सामग्री को खुले में फेंक दिया जाता है। ऐसे क्षेत्रों में जहां लोग दुधारू पशुओं, मुर्गी या अन्य जानवरों को पालते हैं उनके मल भी वातावरण को प्रदूषित करते हैं। अक्सर कचरे के इलाकों में जानबूझकर या अनजाने में आग लग जाती है। जब गांवों में खुले में कचरा जलाया जाता है तो इससे वायु प्रदूषण भी फैलता है जिसके परिणामस्वरूप स्वास्थ्य और पर्यावरण के लिए गंभीर खतरा पैदा होता है।

नदियां भी औद्योगिक और घरेलू कचरे द्वारा उत्पन्न विभिन्न प्रकार के प्रदूषण का शिकार हैं। ठोस कचरे और सीवरेज के निपटान में वृद्धि के साथ-साथ जल स्रोतों में औद्योगिक अपशिष्टों का निर्वहन सुंदर स्थलों के परिदृश्य को खराब कर रहा है। पर्यटन की संभावनाएं खत्म हो रही हैं।

कचरे के साथ क्या समस्या है?

पुराने समय में कचरे में आम तौर पर केवल जैविक हिस्सा होता था जो जमीन में चला जाता था लेकिन आज के समय में कचरे में रसायनों के अनुपात में तीव्र गति से वृद्धि हो रही है। भारत जैसे देशों में पहले बैग के रूप में उपयोग किए जाने वाली चीजें हानिकारक नहीं थी। इससे पहले मिट्टी के बर्तनों का द्रव्य पदार्थों के लिए इस्तेमाल किया जाता था और जूट बैग का इस्तेमाल सामान ले जाने के लिए किया जाता था। अब प्लास्टिक ने स्थिति बदल दी है और एक समस्या इसके साथ पैदा हुई है क्योंकि प्लास्टिक कभी भी खत्म नहीं होता। इसकी रीसाइक्लिंग संभव है लेकिन इसके निक्षेप की कोई उचित प्रणाली नहीं है।

हमारे देश में कचरे के डंपिंग मैदानों की वजह से शहरों के इलाकों में कमी हो रही है। कचरा हर जगह मौजूद है चाहे वह गांव हो या शहर, मंदिर या मस्जिद हो। यह समस्या पिछले तीन दशकों से बढ़ रही है जिससे स्वास्थ्य के मुद्दों और पर्यावरण में गिरावट आई है। आज हम घरेलू, कृषि और औद्योगिक कचरे सहित कई प्रकार के कचरों के शिकार हैं। हर साल देश में कचरा या कूड़े का टनों की मात्रा में उत्पादन होता है और इसकी केवल एक प्रतिशत मात्रा का पुनर्नवीनीकरण होता है। शेष कचरे की मात्रा या तो खेतों में या सड़कों में या फिर बरसात के मौसम में जमा हो जाती है। यह नदियों के माध्यम से महासागरों तक पहुंचती है।

कचरे के उत्पादन के लिए कई कारण हैं इसका एक कारण शहरीकरण और समृद्धि है। जितना अधिक आर्थिक रूप से मजबूत देश या शहर होगा उतना ही कूड़ा होगा जो इसे पैदा करेगा। गरीबी और समृद्धि, दक्षता और अक्षमता से भी इसे जोड़कर देखा जा सकता है। इसका मतलब यह है कि जहां आबादी में सुविधाओं के लिए आकांक्षाएं अधिक हैं वहाँ कचरे की मात्रा में भी वृद्धि होगी। आज चीन और भारत दुनिया के प्रमुख उदाहरण हैं। दोनों आर्थिक विकास में प्रगति कर रहे हैं लेकिन इस प्रक्रिया में वे कचरे के ढेर का भी उत्पादन कर रहे हैं। इसके लिए अन्य कारणों में जीवन शैली को बदलने, अपशिष्ट प्रबंधन, विकल्पों की कमी और तेजी से खत्म होती नैतिकता शामिल है। हम मानते हैं कि कचरा बनाना हमारी मजबूरी है और इसका निपटान करना सरकार का काम है। शायद यही वह सोच है जहां हम सबसे बड़ी गलती कर रहे हैं।

 

कचरा वायु प्रदूषण में कैसे योगदान देता है? (How does Garbage Contribute to Air Pollution)

आज भूमि, पानी और वायु प्रदूषित हो गई है। कचरा खुली जगहों में फेंक दिया जाता है। बड़े कारखाने बहुत धुएं का उत्सर्जन करते हैं। धुंए में मौजूद धूल के कणों के कारण हवा दूषित हो जाती है। खराब गंध के फैलने के अलावा रोगाणु भी कचरे को सड़ाकर विभिन्न बीमारियों को जन्म देते हैं। मच्छर, मक्खियों और चूहों के लिए कचरे का ढेर एक उपजाऊ प्रजनन स्थल है। कचरा घरों और औद्योगिक अपशिष्टों से नदियों में आता है। इससे नदियों का पानी प्रदूषित हो जाता है। इस प्रकार घर में या पानी के स्रोतों में कूड़े की बढ़ोतरी ने वायु प्रदूषण की समस्या को बढ़ा दिया है।

कूड़े के जलने से पर्यावरण पर क्या प्रभाव पड़ता है? (How does the Burning of Garbage Affect the Environment)

सूक्ष्म कण या पर्टिकुलेट कण वो विषैले कण होते हैं जिनके आकार इतना छोटा होता है कि वे श्वसन के माध्यम से हमारे शरीर में प्रवेश कर सकते हैं और विशेष रूप से फेफड़ों को नुकसान पहुंचा सकते हैं। भारत और चीन में प्लास्टिक की बोतलों, इलेक्ट्रॉनिक सामान सहित सभी प्रकार के कूड़े जलते हैं। वैज्ञानिकों के अनुसार यह वायु प्रदूषण का मुख्य कारण है।

जलने वाले कूड़े का धुआं न केवल हवा में जहर मिला देता है बल्कि यह रोगों के प्रसार को भी बढ़ाता है। हाल ही के अनुसंधान में कचरे के जलने के कारण कार्बन डाइऑक्साइड और कार्बन मोनोऑक्साइड जैसे विषाक्त गैसों के उत्सर्जन के बारे में जानकारी प्रदान की गई है। इसी के साथ यह भी बताया गया है कि हवा में मौजूद कण भी कई प्रकार की बीमारियों के लिए जिम्मेदार हैं। शोधकर्ता आरडी क्रिस्टीन वाइडिनमीर, कोलोराडो विश्वविद्यालय में विज्ञान के एसोसिएट डायरेक्टर, के मुताबिक अनुसंधान करते हुए उन्होंने यह महसूस किया कि अपशिष्ट प्रबंधन और कचरा जलने के बारे में हमारे पास बहुत कम जानकारी है। ऐसी गतिविधियों से पैदा वाले विभिन्न प्रकार के विषाक्त पदार्थों का गहन अध्ययन करने की आवश्यकता है।

वाइडिनमीर ने पहली बार एक रिपोर्ट तैयार की जिसमें सभी देशों की हवा की गुणवत्ता के बारे में बताया गया है। यह रिपोर्ट सरकारों को अपनी पर्यावरणीय नीतियों को संशोधित करने में मदद करेगी। स्वास्थ्य से संबंधित अधिकांश उपाय हवा में उपस्थित माइक्रोस्कोपिक कणों के अनुसार किए गए हैं जिसमें केवल उनके आकार पर ध्यान दिया गया है न कि वे किस सामग्री से बने हैं। यह रिपोर्ट विभिन्न प्रकार के सूक्ष्म कणों पर केंद्रित है जिनके स्वास्थ्य और पर्यावरण दोनों पर अलग-अलग प्रभाव हैं।

हम कचरा प्रदूषण का नियंत्रण कैसे कर सकते हैं? (How can we Stop or Control Garbage Pollution)

विकसित और विकासशील दोनों प्रकार के देशों में पर्यावरण प्रदूषण का मुख्य कारण अपशिष्ट है। विकास की बढ़ती तीव्रता तेजी से चुनौतीपूर्ण होती जा रही है। कचरे के अयोग्य निपटान के कारण वातावरण खराब हो जाता है लेकिन आधुनिक तकनीक का इस्तेमाल करते हुए कई विकसित देशों ने न केवल अपशिष्ट प्रबंधन के जरिए प्रदूषण को कम किया है बल्कि इसे ऊर्जा के मुख्य स्रोत के रूप में भी अपनाया है। कचरे के रूप में फेंके जाने वाली कई चीजों का पुन: उपयोग करना संभव है। संसाधनों की बर्बादी उनके रीसाइक्लिंग से रोकी जा सकती है और पर्यावरण को संरक्षित किया जा सकता है।

 

भारत के संदर्भ में नगरपालिका सुविधा ग्रामीण क्षेत्रों में उपलब्ध नहीं है। इसलिए छोटे पैमाने पर कचरे के निपटान के लिए निम्नलिखित उपाय किए जा सकते हैं:

  1. खाद
  2. वर्मीकल्चर
  • खाद: यह एक ऐसी प्रक्रिया है जिसके द्वारा घरेलू खाद जैसे कि घास, पत्ते, बचा हुआ भोजन, गाय का गोबर आदि का उपयोग खाद बनाने के लिए किया जाता है। गोबर और कचरे से खाद तैयार करने के लिए एक गड्ढा तैयार किया जाता है। गड्ढे का आकार कचरा और उपलब्ध स्थान की मात्रा से मेल खाता है। आमतौर पर एक छोटा सा ग्रामीण परिवार 1 मीटर लंबा और 1 मीटर चौड़ा और 0.8 मीटर गहरा गड्ढा खोद सकता है। गड्ढे का ऊपरी हिस्सा जमीन स्तर से दो या ढाई फीट ऊंचा होना चाहिए। ऐसा करने से बारिश के पानी का रिसाव नहीं होगा।

गांव के परिवार घरेलू खेती के कचरे और गोबर को गड्ढे में रख सकते हैं। इस तरह खाद लगभग छह महीने में तैयार हो जाती है। इस कार्बनिक खाद को गड्ढे से निकालना चाहिए और मिट्टी से ढका जाना चाहिए। इसका उपयोग खेती के लिए किया जा सकता है।

खाद के फायदे:

  1. गर्मी के कारण खेतों में पाई जाने वाली असाधारण घास के बीज नष्ट हो जाते हैं।
  2. यह कचरे के सड़ने से फैलने वाले प्रदूषण को रोकता है।
  3. कचरे से अच्छी खाद तैयार की जाती है जो कि क्षेत्र की उपज बढ़ाने में सहायक होता है।
  • वर्मीकल्चर: यह नियंत्रित परिस्थितियों में सूक्ष्मजीवों द्वारा कार्बनिक पदार्थों के विघटन की प्रक्रिया है। इसमें खाद जैविक कचरे के अपघटन से तैयार किया जाता है जैसे कि सब्जियों के छिलके, पत्ते, घास, फसल के अवशेष, पशु का अपशिष्ट और खाद्य कचरा इत्यादि। इस विधि के तहत जैविक अपशिष्ट पदार्थ की एक परत एक लकड़ी के बक्से या मिट्टी के गड्ढे में रखी जाती है और कुछ कीटनाशकों को इसके ऊपर छोड़ दिया जाता है। कचरा इसके ऊपर रखा जाता है और गीला बनाए रखने के लिए पानी छिड़का जाता है। कुछ समय बाद केचुएँ बड़ी मात्रा में कार्बनिक कूड़े या कचरे का सेवन करते हैं और खाद बनाते हैं जो कार्बनिक पदार्थ का एक समृद्ध स्रोत है। इस प्रक्रिया से बनी खाद मिट्टी की उर्वरता को बनाए रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है।

ग्रामीण इलाकों में गोबर, घरेलू अपशिष्ट और कृषि कचरे का पूरी तरह उपयोग नहीं किया जाता है। इसलिए यह आवश्यक है कि ग्रामीण क्षेत्रों में प्रदूषण को रोकने के लिए ग्रामीणों को कचरे से उर्वरकों के उत्पादन के बारे में सूचित किया जाना चाहिए। कुल मिलाकर कचरे को सबसे अच्छा इस्तेमाल किया जाता है।

शहरी क्षेत्रों में कूड़ा निपटान:

शहरों में कूड़े के निपटान के लिए उचित व्यवस्था नगरपालिकाओं द्वारा की जाती है लेकिन नागरिकों को यह सुनिश्चित करने के लिए सतर्क रहने की जरूरत है कि काम सुचारू रूप से चले और कचरे को एक विशेष स्थान से नगरपालिका संग्रह केंद्र तक ले जाया जाए जहां से इसका उचित निपटान किया जा सके। यदि कचरा प्रबंधन आधुनिक तकनीकों को अपनाने के द्वारा किया जाता है तो पर्यावरण को प्रदूषण से सुरक्षित किया जा सकता है।

वैज्ञानिक अपशिष्ट प्रबंधन की आवश्यकता (Need for Scientific Waste Management)

कचरे के समुचित प्रबंधन के लिए हमें चार चरणों में इस समस्या से निपटने की तैयारी करनी होगी। पहले चरण में हमें प्रति व्यक्ति द्वारा जारी किए अपशिष्ट की मात्रा को कम करने की कोशिश करनी चाहिए। वास्तव में इस मात्रा में थोड़ी कमी एक बहुत बड़ी सकारात्मक कदम साबित होगी। दूसरा कदम रीसाइक्लिंग और पुन: उपयोग होना चाहिए। एक टन लौह रीसाइक्लिंग करके न केवल लोहे के खनन की आवश्यकता कम हो जाती है बल्कि यह एक टन कार्बन डाइऑक्साइड के उत्सर्जन को भी कम करता है। तीसरे चरण में हमें इस जैविक अपशिष्ट से बायो गैस और कार्बनिक खाद का उत्पादन करना चाहिए जो रीसाइक्लिंग और पुन: उपयोग के बाद रहता है। धातु, बैटरी और बल्ब अलग से एकत्र किए जाने चाहिए। शेष ज्वलनशील कचरे को बिजली बनाने के लिए ईंधन के रूप में इस्तेमाल किया जाना चाहिए जिससे जीवाश्म ईंधन को बचाया जा सके और वातावरण में उत्सर्जित ग्रीनहाउस गैसों की मात्रा कम हो सके।

इस मामले में हम स्वीडन से बहुत कुछ सीख सकते हैं। स्वीडन ने अपने क्षेत्रों में 47 प्रतिशत कचरे का पुन: उपयोग किया है और ऊर्जा उत्पादन के लिए ईंधन के रूप में 50 प्रतिशत कचरे का उपयोग किया है। केवल 3% अपशिष्ट कचरे को छोड़ना आवश्यक है। वहां डंपिंग साइटों से जहरीले पदार्थों के रिसाव से बचने के लिए भी ध्यान रखा जाता है। डंपिंग साइट्स पर जैविक और ज्वलनशील अपशिष्ट डालने पर प्रतिबंध है।

स्वीडन में कचरा एकत्र करने और उपचार करने की जिम्मेदारी इस तरह से वितरित की जाती है कि इसके लिए बहाने बनाने की कोई गुंजाइश नहीं है। यह काम अपशिष्ट उत्पादन उद्योग, व्यापारिक घरानों, नगर पालिकाओं और निजी उद्यमों के बीच विभाजित है। हर कार्य को अलग-अलग लोगों को सौंपा जाता है जैसे कि कचरा संग्रह, उपचार केन्द्रों के लिए परिवहन और इसके वैज्ञानिक उपचार। घरेलू कचरा एकत्र करने की ज़िम्मेदारी नगर पालिकाओं की है। ऐसी कंपनियां जो खतरनाक कचरे का उत्पादन करती हैं जैसे बैटरी, शीशा, बल्ब, इलेक्ट्रॉनिक कचरा आदि को कचरे के समुचित प्रबंधन और उपचार अपनाने की जरूरत है।

नगरपालिका कचरे के लिए भूमिगत टैंकों का निर्माण किया गया है जो बड़ी ट्यूबों से जुड़ा हुआ है। इस नेटवर्क का आखिरी टिप लोडिंग बिंदु तक है। कचरा वैक्यूम दबाव से लोडिंग बिंदु तक धकेल दिया जाता है जहां वाहनों में कूड़ा डाला जाता है और फिर कूड़े को उपचार केन्द्रों में ले जाया जाता है।

विभिन्न प्रकार के उपचार केन्द्रों का एक नेटवर्क स्थापित किया गया है। अनुमान लगाया जाता है कि 2013 में स्वीडन ने 5,67,630 मेगावाट बिजली उत्पादन किया था जिसके लिए 14,74,190 टन घरेलू जैविक अपशिष्ट का इस्तेमाल किया गया था। वाहनों के लिए ईंधन के रूप में बायो गैस का उपयोग किया जाता है। शेष ज्वलनशील कचरे को जलाने के द्वारा बिजली उत्पन्न की जाती है। इसकी तकनीक बहुत उन्नत है जिससे बहुत कम गैस उत्सर्जन होता है। स्वीडन कचरे से बिजली उत्पादन के लिए सबसे उन्नत देश है। यह तीन मेगावाट ऊर्जा को एक टन अपशिष्ट से बनाता है।

2013 में स्वीडन में यूरोप के अन्य देशों से 8,31,400 टन कचरा आयात किया गया ताकि कचरे की समस्या से निपटने में उन्हें मदद मिल सके। भस्मक़ों में कूड़े को जलाने के बाद डंपिंग साइट्स में अवशिष्ट राख निर्माण कार्य में लगाई जाती हैं। कोयले, तेल और प्राकृतिक गैस जैसे जीवाश्म ईंधन के जलने के परिणामस्वरूप ईंधन गैस का उपयोग प्रदूषण दूर करने के लिए भी किया जाता है।

निष्कर्ष

उपरोक्त उदाहरण से पता चलता है कि जब कचरा आय का साधन बन जाता है तो उसके उपचार की व्यवस्था भी मजबूत होती है। श्रमिकों के वेतन और उपचार प्रणाली में लगे स्वच्छता कर्मचारियों पर खर्च करके उनके हालातों में और अधिक सुधार किया जा सकता है। सरकारी खजाने पर बोझ कम हो जाता है और रोजगार के अवसर पैदा होते हैं। यदि इस प्रणाली को अच्छी तरह से व्यवस्थित किया गया है तो इसमें अपनी ताकत के साथ आगे बढ़ने की क्षमता है। एक समाज के रूप में हमें अपशिष्ट की लापरवाही से ऊपर उठना होगा और यहाँ-वहां कचरे को फेंकने की आदत छोड़नी होगी।

यह समस्या तब होती है जब हम अपनी जिम्मेदारी से बचकर सारा दारोमदार सरकार पर छोड़ देते हैं और परिणामस्वरूप समाधान मुश्किल हो जाता है। समग्र समाज की सोच में इस परिवर्तन को जगह बनानी होगी। इसके साथ हम कचरा निपटान की दिशा में गंभीर और सक्रिय कदम उठा सकेंगे। हमें यह याद रखना चाहिए कि गलत जगह में कचरा फेंकना एक गंभीर समस्या है लेकिन सही तरीके से निपटाया कचरा भी एक उपयोगी संसाधन है।

वह समय आ गया है जब हमें अपनी जीवन शैली पर फिर से विचार करना चाहिए। तीन दशक पहले जो भी हमारी आबादी थी उसमें कचरा उत्पन्न करने की मात्रा इतनी बड़ी नहीं थी क्योंकि हमारी आवश्यकताएँ नियंत्रित थी। आज हमारे पास ऐसी कोई गतिविधि नहीं है जो कचरे का उत्पादन नहीं करती है। शहरों यहां तक ​​कि गांवों की भी बात करें, जो अपनी शीतलता, शांति और स्वच्छता के लिए जाने जाते थे, कचरे के प्रभाव में आ गए हैं। इससे पहले गांवों की सभी आवश्यकताओं को स्थानीय स्तर पर प्रबंधित किया गया था। अब शहरीकरण ने ग्रामीण इलाकों में भी प्रवेश कर लिया है। नायलॉन ने पट्टियों के निर्माण में इस्तेमाल रस्सी की जगह ले ली है। अब मिट्टी के बर्तन गायब होने लगे हैं और प्लास्टिक के कंटेनरों ने उनकी जगह ले ली है।

शहरों की तरह मोबाइल, मोटरसाइकिल और अन्य आधुनिक उत्पादों का भी गांवों में इस्तेमाल किया जाने लगा है। इसलिए शहरों और गांवों में उत्पन्न कचरे की मात्रा में कोई अंतर नहीं है। हमने पश्चिमी देशों से बहुत कुछ सीखा है लेकिन हम यह नहीं सीख सकते हैं कि स्वच्छता के संबंध में लोग कितने सचेत हैं जो कि किसी भी नियम या कानून के अनुपालन के रूप में न केवल बनाए जाते हैं बल्कि नैतिक कर्तव्य और सामाजिक दायित्व के भाग के रूप में भी बनाए जाते हैं। विदेश में लोग अपने रहने वाले स्थान के अलावा घर के बाहर की सड़कों और अन्य सार्वजनिक स्थानों को भी अपने रहने की जगह मानते हैं और उनकी सफाई करते हैं लेकिन हमें लगता है कि हमारी जिम्मेदारी सिर्फ हमारे घर को साफ करने की है। तदनुसार हमें अपशिष्ट या कचरे के प्रति हमारे दृष्टिकोण में बदलाव लाने की आवश्यकता है।