कच्चा आम हमारी सेहत के लिए किस तरह फायदेमंद हो सकता है (How Eating Raw Mango Can Benefit Our Health)

कच्ची केरी का नाम सुनते ही मेरे मुंह में तो पानी भर जाता है और ऐसा सिर्फ मेरे साथ ही नहीं बल्कि उन तमाम लोगों के साथ होता होगा जिन्हें कच्चा आम खाना काफी पसंद है। आम गर्मियों का एक फल है जो मुख्य रूप से एशिया के दक्षिण भाग में पाया जाता है। कच्चा होने पर यह खट्टा और कड़वा भी लगता है और पकने के बाद तो यह शक्कर की तरह मीठा हो जाता है।

ऐसा माना जाता है कि पहली बार 7वीं शताब्दी के मध्य में चीन में इसका अस्तित्व सामने आया था, जब एक चीनी पर्यटक टी"सांग ने इसे भारत से खरीदा था। इसे भारत के राष्ट्रीय फल का खिताब भी मिला हुआ है। भारत के अलावा, यह पाकिस्तान का राष्ट्रीय फल और बांग्लादेश का राष्ट्रीय वृक्ष भी है।

इसमें बीज और खाने में इस्तेमाल किया जाने वाला गुद्देदार हिस्सा होता है। यह विभिन्न आकारों, रंगों और स्वादों में आता है। इसका नाम मैंगो तमिल शब्द "मंगा" से लिया गया है और आगे चलकर यह विभिन्न देशों के लोगों के व्यापार और आगमन के कारण मैंगो में बदल गया। इसे मंगा, मंजी, मंगौ, आम आदि के नाम से भी जाना जाता है।

आम में कई लाभकारी गुण होते हैं और आमतौर पर, हम किसी भी फल को तब खाते हैं जब वह पक जाता है लेकिन आम को दोनों तरह से खाया जा सकता है; कच्चा और साथ ही पकने के बाद भी और खास बात तो ये है कि दोनों ही स्थिति में इसमें अलग-अलग पोषण मूल्य पाए जाते हैं। एक में बहुत अधिक मात्रा में चीनी होती है जबकि कच्चे में चीनी न के बराबर होती है।

कच्चे आम खाने के टिप्स/तरीके और उनके स्वास्थ्य लाभ (Tips/Ways to Eat Raw Mango and their Health Benefits)

ऐसे कई व्यंजन हैं जो कच्चे आम से बनाए जा सकते हैं; यहाँ पर मैंने आपके लिए कुछ सर्वश्रेष्ठ और सबसे स्वस्थ व्यंजनों को पेश किया है।

1. आम का पन्ना

सामग्री

2 कच्चे आम, 1 चम्मच पुदीना पाउडर, 3 चम्मच गुड़ पाउडर, 1 चम्मच भुना जीरा पाउडर, मिर्च पाउडर (आवश्यकतानुसार), काला नमक।

आम का पन्ना कैसे बनाये

  • पहले आम को उबालें और उबालने पर वे हल्के पीले हो जाएंगे।
  • इन्हें छीलकर इसका गूदा निकाल लें और इसे मैश कर लें।
  • अब गूदे में सभी सूखी जड़ी बूटियों को मिलाएं और इसे एक तरफ रखें।
  • गूदे के मिश्रण को आंच पर रखें और थोड़ा पानी डालें और इसे उबलने दें।
  • एक बार पकने के बाद आंच बंद कर दें और इसे ठंडा होने दें।
  • कुछ पुदीने के पत्ते और बर्फ के टुकड़े डालकर अब आप इसे परोस सकते हैं।

आम का पन्ना के स्वास्थ्य लाभ

  • तेज गर्मी के मौसम में यह आपको हाइड्रेट रखता है और बाहरी वातावरण से बचाता है।
  • डिप्रेशन से निपटने के लिए भी अच्छा है।
  • इसमें विटामिन ए, सी, बी1, बी2, बी6, आयरन, आदि पाए जाते हैं।

2. कच्चे आम की दाल

सामग्री

200 ग्राम दाल, तेल, 1 कच्चा आम, हल्दी पाउडर, अदरक का पेस्ट, नमक, लहसुन का पेस्ट, घी, लाल मिर्च, करी पत्ता, 1 चम्मच जीरा, 1 चम्मच सरसों के बीज।

कच्चे आम की दाल कैसे बनाएं

  • सबसे पहले आम को छीलकर उसके छोटे-छोटे टुकड़े कर लें।
  • एक कप दाल लें और इसे 10 मिनट तक भिगोकर रखें, फिर एक कंटेनर में मिर्च पाउडर, हल्दी पाउडर, आम डाल दें और इसे पकाएं।
  • दाल के पक जाने के बाद, एक पैन लें और उसमें थोड़ा सा तेल, करी पत्ता, राई, जीरा और लहसुन डालें और भूनें।
  • इस मिश्रण को दाल में मिलाएं और बस सर्व कर दें।

कच्चे आम की दाल के स्वास्थ्य लाभ

  • निर्जलीकरण को रोकने के लिए आम सबसे बेहतर माना जाता है।
  • इसका सेवन आपको पेट की विभिन्न समस्यायें जैसे पेट फूलना, अपच, पुरानी अपच, मॉर्निंग सिकनेस, आदि से आपको बचाता है।
  • इसमें विटामिन सी की प्रचुर मात्रा पाई जाती है जो आपके शरीर को डिटॉक्स करता है।
  • इसमें विटामिन डी की प्रचुरता भी होती है, जो आपकी हड्डियों और दांतों के लिए बेहतर माना जाता है।
  • दाल में प्रोटीन की प्रचुरता आपके बालों के स्वास्थ्य के लिए अच्छा होता है।

3. कच्चे आम का सलाद

सामग्री

2 टमाटर बारीक कटा हुआ, सलाद की पत्तियाँ, कच्चा आम बारीक कटा हुआ, ककड़ी बारीक कटी हुई, बीन्स बारीक कटी हुई, कुछ अनार के दाने, आम और लीची की चटनी।

कच्चे आम का सलाद कैसे बनाये

  • ऊपर बताई गयी सभी सामग्री को एक साथ ले लीजिये और अच्छी तरह से इसके मिश्रण को मिलाएं।
  • यह स्वादिष्ट बनने के साथ-साथ सेहतमंद भी है।

कच्चे आम के सलाद के स्वास्थ्य लाभ

  • इसमें आयरन, विटामिन ए, सी, प्रचुर मात्रा में पाया जाता है।
  • आप अन्य सब्जियां भी डाल सकते हैं और अपने सलाद को और अधिक पौष्टिक बना सकते हैं।

4. कच्चा आम चावल

सामग्री

2 कप चावल, 1 कच्चा आम, करी पत्ता, आधा चम्मच हल्दी, चना दाल, सरसों 1 चम्मच, अदरक कटा हुआ, तेल, काजू, लाल मिर्च 3, उड़द दाल।

कच्चा आम चावल कैसे बनाये

  • चावल को कुकर में पकाएं और एक बार पकने के बाद, इसे कुकर से निकालें और ठंडा होने के लिए फैला दें।
  • आम को छीलकर कद्दूकस कर लें, फिर एक पैन लें और उसमें थोड़ा सा तेल, राई, लाल मिर्च, अदरक का पेस्ट, काजू, करी पत्ता, उड़द दाल डालें और फिर आंच बंद कर दें।
  • फिर से एक कटोरे में थोड़ा तेल लें और कद्दूकस किया हुआ आम डालें और नरम होने तक उसे पकाएं।
  • मिश्रण को अच्छे से मिलाएं और उसमे थोड़ा नमक डालें और एक बार फिर से अच्छी तरह से मिलाएं।
  • उपरोक्त मिश्रण को चावल के कटोरे में डालें और कद्दूकस किया हुआ आम का मिश्रण भी मिला दें।
  • इन सभी को एक साथ मिलाएं और आपका स्वादिष्ट आम चावल तैयार है।

कच्चे आम के चावल के स्वास्थ्य लाभ

  • इस रेसिपी में 11 ग्राम प्रोटीन होता है जो बच्चों के लिए अच्छा होता है।
  • इसमें विटामिन सी, कैल्शियम, आयरन, आदि भी पाया जाता हैं।
  • बच्चों को आम चावल का स्वाद भी काफी पसंद आता है।

5. आम की चटनी

सामग्री

  • आम 2, मोटी सौंफ 2 चम्मच, लहसुन 2 कली, गुड़ का पाउडर 1 चम्मच, नमक, हरी मिर्च।

मैंगो चटनी कैसे बनाये

  • लहसुन को छोटे क्यूब्स में काटें, इसे ग्राइंडर वाले कटोरे में डाल दें।
  • इसके अलावा भुना हुआ सौंफ, लहसुन, नमक, गुड़ पाउडर, हरी मिर्च मिलाकर पीस लें।
  • पीसने के बाद मिश्रण बना लें और लीजिये आपकी चटनी तैयार है।

कच्चे आम की चटनी के स्वास्थ्य लाभ

  • इसमें आम की सभी अच्छाई मौजूद होती है, और गुड़ का मिश्रण इसे पचाने में आसान बनाता है और इसे आयरन की खूबियों से समृद्ध करता है।
  • इसमें विटामिन ए और सी की प्रचुर मात्रा होती है।

6. आम का गुरमा

गेहूं का आटा 2 चम्मच, 1 कच्चा आम, लाल मिर्च 2, पंच फोरण (जीरा, सौंफ, जीरा, और मेथी), गुड़ 1 कप, तेल।

आम का गुरमा कैसे बनाये

  • सबसे पहले, आमों को छील लें और उन्हें क्यूब्स में काट लें।
  • एक पैन लें और आंच पर चढ़ाएं और उसमें थोड़ा सा तेल, पंच फ़ोरन, फिर आम के टुकड़े और गुड़ डालें और कुछ देर भूनें और इसी दौरान एक और पैन लें और उसमें गेहूं का आटा डालें और इसे कुछ समय के लिए भूनें जब तक कि इसका रंग न बदल जाए।
  • एक अन्य पैन ले लीजिये और उसमें गुड़ पाउडर और थोड़ा पानी डालकर उसका मिश्रण बनाएं।
  • इस गुड़ के पाउडर को आम के पैन में डालें और भुने हुए गेहूं का आटा भी डालें।
  • अब इसे अच्छी तरह से मिलाएं और मिश्रण में थक्का न जमे इसका ख्याल रखें, इसलिए इसे कुछ समय के लिए अच्छी तरह से हिलाएं और एक बार जब मिश्रण गाढ़ा हो जाए तो आंच बंद कर दें।

कच्चे आम के गुरमा के स्वास्थ्य लाभ

इसमें 72 ग्राम कैलोरी, विटामिन ए, सी, फाइबर, मैग्नीशियम, आदि होते हैं।

7. खट्टी-मिट्ठी

सामग्री

  • आम 3, गुड़ पाउडर 2 कप, जीरा 1 चम्मच, नमक, मिर्च 3, तेल।
  • कच्चे आम की खट्टी-मिट्ठी कैसे बनायें
  • आमों को छीलकर छोटे क्यूब्स में काट लें।
  • एक पैन लें और उसमें थोड़ा सा तेल डालें और फिर उसमें थोड़ा सा जीरा और मिर्च डालें।
  • इसके बाद अब आम को डालें और इसे पकने दें।
  • कुछ देर बाद कड़ाही में गुड़ का पाउडर और थोड़ा सा पानी डालें।
  • इसके अलावा इसमें एक चुटकी नमक डालें और अब मिश्रण आंच से उतार लीजिये।

कच्चे आम की खट्टी-मिट्टी के स्वास्थ्य लाभ

  • इसमें गुड़ होता है जो विटामिन बी12, बी6, फोलेट, फास्फोरस, मैग्नीशियम, आदि का बहुत अच्छा स्रोत है।
  • आम और गुड़ की खूबियाँ ढेर सारी कैलोरी मूल्यों के साथ एक अच्छा मिश्रण बनाती है, जिसमें बहुत कम कैलोरी और अधिक ऊर्जा होती है।

कच्चे आम के पोषण और अन्य स्वास्थ्य लाभ

इसके खट्टे स्वाद के अलावा इसमें कई पोषण संबंधी लाभ भी हैं जैसे:

  • इसमें 5 नींबू और संतरे से भी अधिक विटामिन सी पाया जाता है।
  • कच्चा आम निर्जलीकरण के इलाज के लिए बेहतर ढंग से जाना जाता है।
  • यह मधुमेह को कम करने में सहायक होता है, क्योंकि यह रक्त शर्करा के स्तर को कम करता है।
  • कुछ विशेष एसिड की उपस्थिति, इसके भीतर पाचन गुणों को जोड़ती है।
  • अच्छी मात्रा में विटामिन सी की उपस्थिति आपके रक्त को साफ करने में सक्षम बनाती है और सभी प्रकार के रक्त विकारों को दूर करती है।
  • यह स्कर्वी को भी रोकता है।
  • इसमें मैग्नीशियम, नियासिन, कैल्शियम, आदि खनिज पाए जाते हैं।
  • यह आपकी त्वचा, बालों और पित्त के रस के स्राव के लिए अच्छा है।
  • आम के सेवन से ह्रदय की बीमारियों के खतरे कम हो जाते है।

बहुत ज्यादा कच्चा आम खाने के नुकसान

हमारे शरीर को एक निश्चित मात्रा में सब कुछ चाहिए अन्यथा यह कुछ अनियमितताओं का कारण बन सकता है। भारतीय आयुर्वेद के अनुसार, हमारे शरीर में तीन प्रमुख चीजें हैं; वे वायु, पित्त और कफ हैं। इन तीनों का असंतुलन किसी भी बीमारी का कारण बनता है और आयुर्वेद इन तीनों पर ध्यान केंद्रित करते हुए आपको किसी भी बीमारी से छुटकारा दिलाता है। इसी तरह कच्चे आम का अधिक सेवन पित्त रस को बढ़ा सकता है और यह कई बीमारियों का कारण भी बन सकता है। मैंने कच्चे आम खाने की कुछ कमियों का भी यहाँ पर उल्लेख किया है।

  • खट्टा स्वाद गले में जलन पैदा कर सकता है।
  • पित्त रस की अधिकता से पेट में अल्सर भी हो सकता है।
  • इससे सिरदर्द और मिचली भी हो सकती है।
  • कच्चे आम से ओरल एलर्जी सिंड्रोम भी हो सकता है।
  • काफी अच्छी मात्रा में पाइरिडोक्सिन (B-6) की उपस्थिति मस्तिष्क में सेरोटोनिन स्त्राव करती है और यदि आप इसका भरपूर मात्रा में सेवन करते हैं तो यह आपको नींद का अहसास कराता है।
  • कच्चा आम खाने के बाद कभी भी पानी न पिएं, क्योंकि इससे आपके पेट में जलन पैदा हो सकती है।

निष्कर्ष

आम एक शानदार फल है फिर चाहे यह कच्चा हो या पका हुआ। इसमें कई तरह के पोषक तत्व होते हैं और यह लोगों द्वारा काफी पसंद भी किया जाता है। आम के मौसम के लिए लोग पूरे साल इंतजार करते हैं। इसके मीठे स्वाद के अलावा लोग इसके खट्टे स्वाद को भी खूब पसंद करते हैं। अपने आम को अधिक स्वादिष्ट बनाने के साथ-साथ पौष्टिक बनाने के लिए आपको भी उपरोक्त व्यंजनों को जरूर आजमाना चाहिए। ये सभी गुण वास्तव में "फलों के राजा" के शीर्षक को सही ठहराते हैं।