सर्दियों में शरीर को प्राकृतिक रूप से गर्म कैसे रखें? (How to Keep Body Warm in Winter Naturally)

जरूरी नहीं की ठंड के बढ़ने के साथ-साथ आप भी अपने कपड़े बढ़ाना शुरू कर दें। कई बार कुछ भोज्य पदार्थ भी आपके शरीर में इतनी गर्मी ला देते हैं की आप मौसम की मार से बच सकते हैं। और ये आपके शरीर को गर्म रखने के लिये ईंधन के रूप में काम करते हैं। दरअसल इन खाद्य पदार्थों को पचाने के लिये ज्यादा समय लगता है जिसकी वजह से शरीर का तापमान भी बढ़ जाता है।

वह प्रक्रिया जिससे शरीर गर्मी उत्पन्न करता है उसे हम “थर्मोजेनेसिस” (Thermogenesis) कहते हैं। ठंड के मौसम में वह भोज्य पदार्थ जिसमें ज्यादा प्रोटीन और कार्ब्स होते हैं आपको गर्म रखने में मददगार होते हैं।

7 सर्वश्रेष्ठ खाद्य पदार्थ जो सर्दियों में शरीर को गर्म रखते हैं (7 Best Foods to Keep Body Warm in Winter Season)

How to Keep Body Warm in Winter Naturally
How to Keep Body Warm in Winter Naturally

जैसा की हम सब जानते हैं की हर मौसम में कुछ विशेष फल और सब्जियां मिलती हैं और हमेशा मौसमी भोज्य पदार्थों को अपनाने पर जोर भी दिया जाता है। ऐसा इस लिये होता है क्यों की किसी विशेष मौसम में पाए जाने वाले फल व् सब्जियों में कुछ विशेष गुण व पौष्टिकता पायी जाती है, जो आपके शरीर को उस मौसम अनुसार ढालने की कोशिश करता है।

आमतौर पर, मौसमी फल और सब्जियां किसी विशेष मौसम के लिए सबसे अच्छे होते हैं और हमेशा उन्हें खाने का सुझाव दिया जाता है, क्योंकि उनमें कुछ गुण होते हैं जो हमें उस मौसम में फिट रहने में मदद करते हैं। आपके भोजन को पौष्टिक और स्वस्थ बनाने के कई तरीके होते हैं और हमने उनमें से कुछ के बारे में नीचे चर्चा की है। कुछ सरल स्टेप्स का पालन करके, आप अपने भोजन के पोषण मूल्यों को बढ़ा सकते हैं और आसानी से स्वस्थ रह सकते हैं।

1. अदरक (Ginger)

पीले-हरे फूलों वाला एक फूलदार पौधा के जड़ में अदरक पाया जाता है। इसका उपयोग मसाले के साथ-साथ औषधि के रूप में भी किया जाता है। इसका उपयोग कई सौंदर्य प्रसाधनों में भी किया जाता है। अदरक में 79% पानी और 18% कार्ब, 2% प्रोटीन और 1% वसा होता है; इसमें विटामिन बी6 और मैग्नीशियम, आदि प्रचुर मात्र में होते हैं। आमतौर पर, सर्दियों में हमें अपनी प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ावा देने की आवश्यकता होती है और यह अदरक है जो आपके शरीर को गर्म रखता है। तो, अदरक को अपनी चाय में शामिल करें क्योंकि इसमें जीवाणुरोधी गुण होते हैं जो हमारी प्रतिरक्षा प्रणाली में सुधार करते हैं। यह कहा गया है कि अदरक एक गर्म पृष्ठभूमि का होता है, जिसे "तासीर" के रूप में जाना जाता है, इसलिए इसे सर्दियों में पसंद किया जाता है।

वोलेटाइल ऑयल (volatile oil) की उपस्थिति दर्द से राहत देती है, क्योंकि इसमें औषधीय प्रयोजनों के लिए उपयोग किया जाने वाला एंटी-इंफ्लेमेटरी और एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं, विशेष रूप से पुराने ऑस्टियोआर्थराइटिस, सिरदर्द, मासिक धर्म के दर्द के लिए। अदरक, लिपोप्रोटीन की उपस्थिति को कम करके कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करता है, जो खराब कोलेस्ट्रॉल हैं और हृदय रोग के जोखिम को कम करते हैं। अदरक एक प्राकृतिक दर्द निवारक के रूप में काम करता है, इसलिए इसका उपयोग किसी भी प्रकार के दर्द को कम करने के लिए किया जाता है। इसलिए, यह माइग्रेन से राहत के लिए भी उपयोग किया जाता है।

  • ऑस्टियोआर्थराइटिस: यह पाया गया है कि हर दिन अदरक का सेवन करने से ऑस्टियोआर्थराइटिस के रोगियों में दर्द कम हो सकता है। अदरक जेल या तेल से घुटने की मालिश करने से दर्द से राहत मिलती है।
  • अपच: नियमित रूप से अदरक खाने से पाचन में सुधार होता है।
  • यह मतली, थकान, पेट की ख़राबी, गैस, सर्जरी के बाद की उल्टी, दस्त, भूख न लगना, चिड़चिड़ापन, एसिडिटी, मासिक धर्म में होने वाले ऐंठन आदि को रोकने में सहायक होता है।

आप अदरक का सेवन स्वस्थ तरीके से कैसे कर सकते हैं (How to Consume Ginger in a Healthy Way)

अपने दैनिक आहार में अदरक का उपयोग करने के कई तरीके हैं, हमने हर दिन अदरक का सेवन करने के कुछ सरल और स्वस्थ तरीके नीचे बताये हैं।

  • अदरक गुड़ (Ginger Jaggery)

एक पैन लें और इसमें थोड़ा सा घी डालें और फिर इसमें पिसा हुआ अदरक और एक चम्मच गुड़ का पाउडर मिलाएं और मिश्रण को 3 मिनट तक पकाएं फिर आंच बंद कर दें, अब आप इसे खा सकते हैं।

जिन लोगों को खांसी या जुकाम होता है वे इसका रोजाना सेवन कर सकते हैं, या कम रोग प्रतिरोधक क्षमता वाले लोगों को इस मिश्रण का सेवन हर रोज करना चाहिए, इससे आपके शरीर में सर्दियों में भी गर्मी बनी रहेगी और आप सुरक्षित रहेंगे।

  • अदरक वाली चाय (Ginger Tea)

एक कंटेनर लें और एक कप पानी डालें फिर चाय की पत्ती, अदरक, शहद डालें और कुछ मिनट के लिए मिश्रण को पकाएँ और परोसें।

  • भुना हुआ अदरक (Roasted Ginger)

अदरक की त्वचा को छीलें और उसे छोटे-छोटे चौकोर आकर में काट लें और फिर उस पर थोड़ी सी काली मिर्च छिड़कें और बिना तेल डाले भूनें। एक बार जब यह थोड़े भूरे हो जाएं तो आंच बंद कर दें और आप रोजाना एक टुकड़ा खा सकते हैं।

  • अदरक का पानी (Ginger Water)

एक कंटेनर में अदरक और पानी लें और इसे 10 मिनट के लिए उबाल लें, पानी को छान लें और इसे हर सुबह पिएं। यह आपके पेट के लिए बहुत फायदेमंद होता है और इसके कई अन्य फायदे भी हैं।

  • अदरक नींबू पानी (Ginger Lemon Water)

एक गिलास लें और उसमें अदरक डालें और इसे 2 घंटे के लिए भिगो दें, फिर भीगे हुए पानी में कटा हुआ नींबू डालें। आप स्वाद के लिए शहद भी डाल सकते हैं। यह सबसे अच्छे उपचारों में से एक है।

2. शहद (Honey)

शहद प्रकृति का एक अद्भुत उपहार है, क्योंकि एक किलोग्राम शहद बनाने में लगभग 50,000 मधुमक्खियों की सहभागिता होती है। मधुमक्खी करीब 50,000 मील की यात्रा तय कर के लाखों फूलों से होकर इस अमृत को इकट्ठा करते हैं।

यह आमतौर पर फूलों का अमृत है जो स्वाद में चिपचिपा और मीठा होता है। जिसमें विभिन्न खनिज जैसे आयरन, मैग्नीशियम, आदि होते हैं। इसमें शून्य कोलेस्ट्रॉल, सोडियम और वसा होता है। यह डाइट पर रहने वाले लोगों के लिए बहुत अच्छा होता है। इसमें 38.2% फ्रुक्टोज, 31% ग्लूकोज, 17% पानी, 7.1% माल्टोस होता है।

  • प्राकृतिक ऊर्जा बूस्टर: शहद प्राकृतिक ऊर्जा बूस्टर होता है, क्योंकि हमारा शरीर शहद में ग्लूकोज को जल्दी अवशोषित करता है, जो एक त्वरित ऊर्जा बूस्टर के रूप में काम करता है। जबकि फ्रुक्टोज को धीरे-धीरे अवशोषित किया जाता है इसलिए यह निरंतर ऊर्जा प्रदान करता है। शहद रक्त शर्करा के स्तर को बनाए रखता है और प्राकृतिक शर्करा की उपस्थिति भी थकान को रोकती है, जिसका हम व्यायाम के दौरान सामना करते हैं।
  • घाव और जलन का इलाज करता है: शहद एक प्राकृतिक प्राथमिक उपचार है क्योंकि इसमें ग्लूकोज और फ्रुक्टोज की मौजूदगी के कारण हीलिंग पावर होती है, ये घाव, जलने या किसी भी तरह के कटने पर, प्राकृतिक प्राथमिक उपचार के रूप में काम करता है। शहद के एंटीसेप्टिक गुण किसी भी प्रकार के बैक्टीरिया के विकास को रोकते हैं और संक्रमण से रक्षा करते हैं।
  • प्रतिरक्षा के लिए अच्छा: शहद के जीवाणुरोधी और एंटीऑक्सीडेंट गुण अच्छे पाचन तंत्र को मजबूत बनाने में बढ़ावा देते हैं, और इससे हमारी रोग प्रतिरोधक क्षमता भी मजबूत होती है। एंटीऑक्सीडेंट की उपस्थिति से हमारे शरीर से बेकार के पदार्थ आसानी से निकल जाते हैं।
  • हृदय रोग के लिए अच्छा: पॉलीफेनिक एंटीऑक्सीडेंट (polyphonic antioxidants) हमारे दिल के लिए अच्छे होते हैं और हृदय रोगों को रोकते हैं और ये एंटीऑक्सीडेंट स्वाभाविक रूप से शहद में पाए जाते हैं। यह कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करने में भी मदद करता है।
  • स्वस्थ त्वचा: शहद में मॉइस्चराइजिंग गुण होते हैं, इसलिए आप इसे सर्दियों के दौरान अपने होंठ, घुटनों और कोहनी पर इसका इस्तेमाल कर सकते हैं। स्वस्थ और नमी युक्त त्वचा पाने के लिए आप अपने चेहरे पर शहद लगा सकते हैं।
  • शहद में कई अन्य गुण भी हैं जैसे कि यह अनिद्रा, रूसी, खांसी, वजन घटाने, आदि के लिए बहुत अच्छा है।

स्वस्थ तरीके से आप हनी का उपभोग कैसे कर सकते हैं (How to Consume Honey in a Healthy Way)

आप विभिन्न व्यंजनों में शहद का उपयोग कर सकते हैं, लेकिन हमने सर्दियों में स्वस्थ और गर्म रहने के लिए शहद खाने के कुछ स्वस्थ तरीके प्रदान किए हैं।

  • अदरक और शहद (Ginger & Honey)

एक चम्मच अदरक के रस में दो चम्मच शहद मिलाएं और आप इस मिश्रण को खांसी या सर्दी या किसी भी प्रकार के गले के संक्रमण से पीड़ित व्यक्ति को दे सकते हैं।

  • शहद और पानी (Honey Water)

एक गिलास गर्म पानी लें और उसमें एक चम्मच नींबू का रस और दो चम्मच शहद मिलाएं। इस मिश्रण को रोज सुबह लें और वजन कम करने के लिए यह सबसे अच्छा है।

  • शहद आंवला (Indian Gooseberry Honey)

आंवले को थोड़ा उबालें और पानी को छान लें और इसे कुछ मिनट के लिए सूखने दें और फिर इसमें शहद मिलाएं। मिश्रण को जार में रखें और आप हर सुबह एक आंवले का सेवन कर सकते हैं। यह शहद के सेवन का सर्वोत्तम तरीका है। आंवला और शहद बेहद पौष्टिक होते हैं। यह सर्दियों के लिए बेहतरीन होते हैं।

3. लहसुन (Garlic)

हमारी रसोई में आमतौर पर कई सामग्रियां होती हैं, जो बेहद पौष्टिक होते हैं। उनमें से एक लहसुन है, जो हर रसोई में पाया जाता है। यह अपने तेज़ गंध और स्वाद के लिए बहुत अच्छी तरह से जाना जाता है। प्राचीन काल में भी इसका उपयोग औषधीय और स्वास्थ्य उद्देश्यों के लिए किया जाता था। इसमें 2% मैंगनीज, विटामिन बी6, सी, सेलेनियम और कुछ मात्रा में पोटेशियम, कैल्शियम, फास्फोरस, कॉपर और आयरन शामिल हैं। ये गुण सर्दियों के दौरान हमें गर्म रखते हैं। इसमें कैलोरी भी बहुत कम होती है।

  • रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाये: लहसुन में सल्फर की मौजूदगी सफेद रक्त कोशिकाओं को हानिकारक कीटाणुओं और विषाणुओं से लड़ने और आम सर्दी, फ्लू जैसी बीमारियों से बचाने में मदद करती है। प्रतिदिन लहसुन खाने से आपकी प्रतिरोधक क्षमता बेहतर बन सकती है।
  • रक्तचाप: यह आपके रक्तचाप को सामान्य बनाने में मददगार होता है और इसके परिणामस्वरूप यह आपके दिल के लिए भी अच्छा होता है।
  • प्राकृतिक एंटीबायोटिक: कच्चे लहसुन में एंटीबायोटिक गुण होते हैं जो हमारी आंत के लिए बहुत अच्छे होते हैं और किसी भी तरह के बैक्टीरिया के विकास को रोकते हैं। इसमें एंटीबायोटिक और एंटिफंगल सल्फर यौगिक होते हैं जैसे कि एलिसिन, एनज़ीन और एलिन। यह खांसी और सर्दी के इलाज के लिए भी फायदेमंद होते है।
  • उच्च रक्तचाप: सल्फर की उपस्थिति हमारे रक्तचाप को नियंत्रित करती है और उच्च रक्तचाप से राहत दिलाती है। हार्ट अटैक का सबसे बड़ा कारण है ब्लड प्रेशर का बढ़ना और एक बार ब्लड प्रेशर नियंत्रण में होने के बाद ही आप दिल की बीमारियों से भी लड़ सकते हैं।

आप एक स्वस्थ तरीके से लहसुन कैसे खा सकते हैं (How to Eat Garlic in a Healthy Way)

अपने दैनिक आहार में लहसुन के उपयोग के कई तरीके हैं; हमने हर दिन लहसुन का सेवन करने के कुछ सरल और स्वस्थ तरीकों का वर्णन नीचे किया है।

  • लहसुन और सरसों का तेल (Garlic & Mustard oil)

3 चम्मच सरसों का तेल और 2 लहसुन की कलियां को तब तक पकाएं जब तक लहसुन भूरा न हो जाए और आंच बंद कर दें। एक बार जब मिश्रण ठंडा हो जाने पर, आप हर दिन मिश्रण का एक चम्मच खा सकते हैं। इसे बच्चों के लिए विशेष रूप से बताया जाता है, क्योंकि सरसों के तेल में बहुत अधिक वसा होता है। यह खांसी और सर्दी को ठीक करने के सर्वोत्तम तरीकों में से एक है।

  • पालक लहसुन का सलाद (Spinach Garlic Salad)

एक कटोरा पालक लें और इसे थोड़ा उबालें और पानी को छान दें। लहसुन की 3 कलियां लें और इसे छोटे टुकड़ों में काट लें, फिर दो कटी हुई हरी मिर्च लें। उन्हें उबले हुए पालक में मिलाएं और अपने स्वाद के अनुसार नमक डालें। यह एक बेहद पौष्टिक सलाद है, जिसमें आपको पालक के साथ-साथ कच्चा लहसुन भी मिलता है, यहाँ तक कि हरी मिर्च में भी विटामिन सी होता है।

  • कच्चा लहसुन (Raw Garlic)

लहसुन को कच्चा खाना सबसे फायदेमंद होता है, इसका स्वाद बेहद तेज़ होता है और जरूरी नहीं की यह सबको पसंद आये, परन्तु यह बेहद गुणकारी होता है। आप इसमें विभिन्न सॉस मिला के भी खा सकते हैं।

  • लहसुन को मसल कर टमाटर और बेसिल के पत्तों के साथ मिलाएं और इस मिश्रण को ब्रेड पर लगाएं और खाएं।
  • लहसुन को छोटे-छोटे टुकड़ों में काट लें और इसमें एक चम्मच शहद मिलाएं और इसे रोज सुबह लें।

4. गुड़ (Jaggery)

हमें सर्दियों में ताजा गुड़ मिलता है और इसलिए इस समय इसमें विटामिन और खनिज भरपूर होते हैं, इस लिये सर्दियों में इसका सेवन जरूर करना चाहिए। यह इम्यूनिटी बढ़ाने में मदद करता है और सर्दियों के दौरान हमें गर्म रखता है। गुड़ में गर्म शक्ति है; इसलिए यह ज्यादातर सर्दियों में परोसा जाता है। इसकी ताप शक्ति के कारण, यह सर्दियों में रक्त के प्रवाह को बनाए रखता है। यह आपको विभिन्न बीमारियों से बचाने के लिए आपकी रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने के लिए भी फायदेमंद होता है। यह आपके शरीर के लिए एक प्राकृतिक डिटॉक्सीफायर (detoxifier) के रूप में काम करता है।

  • जोड़ों के दर्द में मदद करता है: गुड़ गठिया के दर्द के लिए अच्छा है और हड्डियों को मजबूत करता है, इसलिए भोजन के बाद गुड़ का एक टुकड़ा खाएं, जैसा कि हमने अपने दादा-दादी को उनके भोजन के बाद गुड़ खाते हुए देखा ही होगा।
  • एनीमिया: गुड़ आयरन का एक उत्कृष्ट स्रोत है और शरीर में रक्त के स्तर को बनाए रखता है। इस लिये गर्भवती महिलाओं को इसे जरूर खाना चाहिए।
  • श्वसन में सहायक: इसमें एंटी-एलर्जिक गुण होता है, जो हमारे शरीर को किसी भी तरह की एलर्जी से आपके फेफड़े, पेट और किडनी को मुक्त रखता है। यह आपको अस्थमा, ब्रोंकाइटिस, आदि जैसी बीमारियों से भी बचाता है।
  • सुंदर बाल: आयरन की उपस्थिति हमारे बालों के लिए भी बहुत अच्छा होता हैं, इसलिए आमतौर पर गुड़ खाने की सलाह दी जाती है, खासकर सर्दियों में आंवले के साथ। इसे हेयर टोनर के रूप में भी जाना जाता है।

आप स्वस्थ तरीके से गुड़ का सेवन कैसे कर सकते हैं (How to Consume Jaggery in a Healthy Way)

आपके भोजन के बाद गुड़ का एक टुकड़ा खाने से आपके पाचन, श्वसन और कई अन्य समस्याओं में सुधार लाया जा सकता है, फिर भी उन्हें स्वस्थ और अधिक पौष्टिक बनाने के कुछ सरल तरीके हैं।

  • तिल के लड्डू और गुड़ (Jaggery with Sesame Seeds Laddu)

एक कप तिल लें और उन्हें एक पैन में बिना तेल डाले भूने। एक बार जब वे भूरे हो जाएं तो आंच बंद कर दें और उन्हें एक तरफ रख दें। गुड़ का पाउडर लें और इसमें थोड़ा पानी डालें और इसे तब तक पकाएं जब तक यह एक जैली न बन जाए, फिर आंच बंद कर दें और इसमें तिल डालकर अच्छे से मिलाएं। फिर छोटी-छोटी बॉल्स बनाकर उन्हें ठंडा होने दें। आपके लड्डू तैयार हैं और इन्हें हर दिन खाएं।

  • मूंगफली पट्टी (Peanut Chikki)

एक पैन लें और एक कप मूंगफली को तब तक भूनें जब तक कि वे समान रूप से भुन न जाएं। फिर मूंगफली की उपरी त्वचा निकाल दें। फिर एक कड़ाही में 3/4 कप गुड़ पाउडर और कुछ चम्मच घी और 1 चम्मच पानी डालें और धीमी आंच पर पकाएं। एक बार जब गुड़ पिघल जाए तो वे आँच बंद कर दें और मूंगफली डाल दें और इसे अच्छी तरह मिलाते रहें, जब तक कि गुड़ और मूंगफली आपस में मिल न जाए। मिश्रण को घी लगी प्लेट में निकाल लें और फैला लें और ठंडा होने दें और एक बार ठंडा होने पर इसे छोटे टुकड़ों में काट लें और इसे हर दिन खाएं। यह आपको सर्दियों में गर्म रखेगा और आपकी रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है।

  • गुड़ की आंवला कैंडी (Jaggery Amala Candy)

10 आंवले लें और उन्हें नरम होने तक उबालें ताकि हम उनके बीज आसानी से निकाल सकें। एक बार उबल जाने पर बीज निकाल लें और एक पैन लें और उसमें एक तिहाई गुड का पाउडर डालें और एक कप पानी डाल कर पकाएं।

एक बार मिश्रण उबलने लगे तो गुड़ की चाशनी में आंवले डालें और तब तक उस मिश्रण को ऐसे ही रखें जब तक की वह चाशनी सोख न ले। मिश्रण को एक एयर-टाइट कंटेनर में रखें। इसे रोज सुबह खाएं; यह आपके बालों, त्वचा, आंत, आदि के लिए फायदेमंद है।

5. पानी (Water)

हमारा शरीर 60% पानी से बना है, जबकि हमारे दिल और दिमाग में हमारे शरीर का 73% पानी और हमारे रक्त का 90% हिस्सा पानी होता है। डेटा दिखाता है कि हमारे शरीर को हाइड्रेटेड रखना कितना आवश्यक है क्योंकि यह सीधे आपके मस्तिष्क, हृदय और रक्त को प्रभावित कर सकता है।

हमारे शरीर में आसानी से सर्दियों में जल की कमी हो जाती है, क्योंकि आमतौर पर, लोग इस मौसम में ज्यादा पानी नहीं पीते हैं। यह विभिन्न समस्याओं जैसे मांसपेशियों की थकान, ऐंठन, चक्कर आना आदि का कारण बन सकता है, यह हमारी रोग प्रतिरोधक क्षमता को प्रभावित कर सकता है और इससे कई स्वास्थ्य समस्याएं हो सकती हैं। इसलिए, हमारे शरीर को सर्दियों में भी हाइड्रेटेड रखना आवश्यक है।

  • पाचन के लिए अच्छा: पानी पाचन में मदद करता है और जब हमारा शरीर हाइड्रेटेड हो जाता है, तो ऐसी गतिविधियों को करना शरीर के लिये बहुत मुश्किल होता है। इसलिए, हाइड्रेटेड को रोकने के लिए रोजाना 2 लीटर पानी पीने की सलाह दी जाती है।
  • त्वचा को मॉइस्चराइज करता है: आमतौर पर, हम मौसम की वजह से सर्दियों में सुखी त्वचा का सामना करते हैं, जो आपके शरीर को शुष्क और त्वचा को रूखा बनाता है। पानी की पर्याप्त मात्रा होने से, आप अपनी त्वचा को नमीयुक्त बना सकते हैं।
  • पावर बूस्टर: कभी-कभी हम थका हुआ महसूस करते हैं और ऐसा लगता है कि दिमाग ने काम करना बंद कर दिया है। ऐसे मामलों में, एक गिलास पानी लें क्योंकि कभी-कभी अनुचित ऑक्सीजन की आपूर्ति के कारण हमारा मस्तिष्क ठीक से काम नहीं करता है और ऐसे में पानी मात्र पीने से ही, यह पावर बूस्टर के रूप में काम करता है। इसलिए, अगली बार जब आप विशेष रूप से परीक्षा के समय जब दिमाग काम करना बंद कर दे, तो एक गिलास पानी अवश्य लें।
  • ब्लड-प्रेशर बनाए रखता है: जैसा कि हम जानते हैं कि हमारे रक्त का 90% हिस्सा पानी से बना होता है और पानी की कमी से हमारा रक्त गाढ़ा बन सकता है और इससे रक्त का थक्का जम सकता है और इससे ब्लड प्रेशर का खतरा बढ़ सकता है। इसलिए हर दिन कम से कम 2 लीटर पानी जरूर पिएं।

सर्दियों के दौरान हाइड्रेटेड कैसे रहें (How to Stay Hydrated During Winte?)

अपने आप को हाइड्रेटेड रखने के लिए हर बार केवल सादा पानी पीना आवश्यक नहीं है, आप विभिन्न रूपों में भी पानी ले सकते हैं, कुछ सबसे महत्वपूर्ण और स्वास्थ्यप्रद तरीकों के बारे में नीचे चर्चा की गई है।

  • फलों का रस (Fruits Juice)

2 संतरे लें और रस बनाएं और चीनी के बजाय शहद डालें और इसका आनंद लें। अलग-अलग तरीकों से पानी पीने से आपका शरीर हाइड्रेटेड रहता है। आप कोई दूसरा मौसमी फल भी डाल सकते हैं।

  • सूप पिएं (Drink Soup)

एक गाजर, एक कप पालक, 1 कटा हुआ प्याज लें, उन्हें एक साथ उबालें फिर आंच से उतार कर पीस लें। अब एक पैन लें और उसमें एक चम्मच घी और कुछ जीरा और एक बारीक कटा हुआ प्याज डालें और इसे एक मिनट के लिए भूनें। फिर पीसा हुआ मिश्रण और अपने स्वाद के अनुसार थोड़ा नमक डालें। सूप तैयार है इसे कटोरे में परोसें और धनिया पत्ती डालें।

  • स्ट्रॉबेरी हनी वाटर (Strawberry Honey Water)

कुछ स्ट्रॉबेरी लें और इसके स्लाइस बनाएं। एक लीटर गुनगुना पानी लें और उसमें ये स्ट्रॉबेरी और थोड़ा शहद मिलाएं। इसे एक घंटे के लिए छोड़ दें और लगातार अंतराल पर पानी पिएं।

आमतौर पर, सादा पानी हमारे शरीर में बहुत कम समय के लिए रहता है क्योंकि यह आसानी से पच जाता है और जल्द ही बाहर निकल जाता है और जब हम कुछ पदार्थों को जोड़कर उसी पानी को पीते हैं, तो यह शरीर में लंबे समय तक रहता है और इस तरह से, हम लंबे समय तक हाइड्रेटेड रह सकते हैं।

6. केसर (Saffron)

यह भारत में पाए जाने वाले सबसे महंगे मसालों में से एक है; इसका नाम एक फूल 'क्रोकस सैटियस' (Crocus sativus) से लिया गया है। जिसे 'केसर क्रोकस' के नाम से भी जाना जाता है। पौधे का स्टिग्मा और स्टाइल ही केसर होता है।

इसमें मैंगनीज, पोटेशियम, कैल्शियम, मैग्नीशियम, जिंक, सेलेनियम और आयरन जैसे खनिज होते हैं। ये खनिज आपकी त्वचा और सर की ऊपरी सतह को सर्दियों में सूखने से बचाते हैं। ईरान में ही दुनिया के 76% केसर का उत्पादन होता है।

केसर खांसी, जुकाम, पेट की किसी भी तरह की समस्या, अनिद्रा, गर्भाशय में रक्तस्राव आदि का इलाज करने के लिए उत्कृष्ट है, इसका ज्यादातर उपयोग सौंदर्य प्रसाधनों में किया जाता है। यह आपकी त्वचा के लिए बहुत अच्छा होता है और आपको विशेष रूप से सर्दियों में त्वचा को नमी युक्त बनाता है। यह आपके शरीर को सर्दियों में गर्म रखता है; इसलिए सर्दियों में केसर खाना पसंद किया जाता है। क्रोकिन (crocin) और क्रोकेटिन (crocetin) कैरोटीनॉयड वे पिगमेंट हैं जो इसके लाल रंग के लिए जिम्मेदार होते हैं।

  • उत्कृष्ट एंटीऑक्सीडेंट: केसर एक पौधे का कण है, जो आपकी कोशिकाओं को मुक्त कणों और ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस से बचाता है। क्रोकिन और क्रोकेटिन जैसे यौगिकों में एंटीडिप्रेसेंट कारक भी होते हैं, जो आपके मस्तिष्क की कोशिकाओं को किसी भी तरह के नुकसान से बचाते हैं। केसर की ताज़ी महक और बढ़िया स्वाद, आपके मूड को भी बेहतर बनाता है और आपकी याददाश्त के लिए बहुत अच्छा होता है।
  • केसर में कैमफेरोल (kaempferol) की मौजूदगी से इसमें कैंसर ठीक करने के गुण आते हैं और साथ ही यह अवसाद विरोधी गतिविधियों के लिए जिम्मेदार होता है। इसमें क्रोकिन, क्रोकेटिन, सफ़रानल (safranal) और केम्पफेरोल जैसे एंटीऑक्सीडेंट होते हैं।
  • प्रीमेंस्ट्रुअल सिंड्रोम (PMS): यह आमतौर पर एक मूड डिसऑर्डर होता है, जो मासिक धर्म से पहले होता है और ऐसे में केसर सबसे अच्छे उपचारों में से एक है, यह पीएमएस के लक्षण जैसे की सिरदर्द, दर्द, मूड स्विंग का इलाज करता है। ताजा केसर को सूंघने से भी मानसिक चिंता दूर होती है और तनाव उत्पन्न करने वाले हार्मोन को नियंत्रित करने में बहुत मदद मिलती है।
  • आंखों के लिए अच्छा: केसर आपके रेटिना के लिए अच्छा है, क्योंकि यह रॉड और शंकु कोशिकाओं में फोटोरिसेप्टर के नुकसान को कम करता है। इसलिए हमेशा केसर का सेवन करें।
  • केसर के कई अन्य स्वास्थ्य लाभ भी हैं जैसे कि यह हृदय रोग के जोखिम को कम करता है, रक्त शर्करा के स्तर को कम करता है, कैंसर से लड़ने में सक्षम, याददाश्त में सुधार करता है, आदि।

केसर को स्वस्थ तरीके से कैसे खाएं (How to Eat Saffron in a Healthy Way)

केसर सर्दियों के लिए बहुत अच्छा है क्योंकि यह आपको गर्म रखता है और शरीर के तापमान को बनाए रखता है। हमने केसर के सेवन के कुछ स्वस्थ तरीके नीचे बताये हैं, ताकि आप केसर में मौजूद सभी मूल्यवान पोषक तत्व प्राप्त कर सकें।

  • केसर की चाय (Saffron Tea)

एक कप पानी लें और एक कुटा हुआ लहसुन और इलायची डालें। अब केसर के 8 से 10 धागे डालकर कुछ और मिनट तक पकाएं और आंच बंद कर दें और अपने स्वाद के अनुसार थोड़ा शहद डालें और इसे परोसें।

  • केसर वाला दूध (Saffron Milk)

एक कप दूध लें और इसे उबालें, जब यह उबल जाए तो इसमें कुछ बादाम और एक चम्मच केसर मिलाएं। इसमें इलायची और शहद मिलाएं। अपने केसर दूध का आनंद लें, यह स्वादिष्ट होने के साथ-साथ बेहद पौष्टिक भी होता है।

  • केसर वाला जल (Saffron Water)

एक कप गुनगुना पानी लें और उसमें केसर के 8 से 10 धागे डालें और आप अपनी स्वाद अनुसार शहद भी मिला सकते हैं। लेकिन इसे बिना शहद के पीना और बेहतर होता है। हर सुबह इस मिश्रण को जरूर लें।

केसर आपकी स्मृति को सुधरता है, पीओएस सिंड्रोम (POS syndrome), आपकी त्वचा पर चमक ला सकता है, आपके बालों की गुणवत्ता को सुधारता है, आदि जैसे केसर पानी के कई फायदे हैं।

  • केसरी (Kesari)

एक पैन और 2 चम्मच घी लें और इसमें एक कप सूजी डालें और धीमी आंच पर भूरे होने तक भूनें और इसे एक तरफ रख दें। फिर से एक पैन लें और उसमें थोड़ा सा घी डालें और अपनी पसंद के कुछ सूखे मेवों को भूनें और उन्हें एक तरफ रख दें।

इस बीच, 2 कप पानी उबालें। एक पैन लें और सूजी डालें और पानी डालें, सूजी को लगातार हिलाएं ताकि गांठ न पड़े। फिर चीनी, केसर, इलायची पाउडर, घी डालें और एक और कुछ मिनट तक पकाएं जब तक कि सूजी पैन न छोड़ दें। आंच बंद कर दें और रेसिपी परोसें।

आमतौर पर बच्चों को हलवा बहुत पसंद होता है, लेकिन आप उन्हें सर्दियों में हलवा बनाने के बजाय केसरी खिलाएं और इस तरह से आप केसर के गुण भी प्राप्त कर सकते हैं।

7. घी (Ghee)

घी सर्दियों में बेहद पसंद किया जाता है, आमतौर पर हम इसका उपयोग हर व्यंजन में करते हैं, यहाँ तक की अपनी रोटी या सब्जी में भी। आमतौर पर घी दूध में मिलने वाले वसा से बनता है और भारतीय परिवार अपने भोजन में घी परोसना पसंद करते हैं। यह गर्म तासीर का होता है, इसलिए विशेष रूप से सर्दियों में पसंद की जाती है। इसमें संतृप्त वसा और फैटी एसिड होता है जो सीधे ऊर्जा में परिवर्तित हो जाता है।

एक चम्मच घी में 115 कैलोरी, 14.9 ग्राम वसा होता है। इसमें वसा में घुलनशील विटामिन होते हैं और यह विटामिन ए, डी, ई और के का बेहतरीन स्त्रोत होता है। घी में प्रचुर मात्रा में ओमेगा-3 एसिड होता है, जो अच्छे कोलेस्ट्रॉल को बढ़ाने और खराब कोलेस्ट्रॉल को कम करने में बहुत सहायक होता है। स्वस्थ आहार के लिए एक दिन में 15 ग्राम से अधिक घी न खाने की सलाह दी जाती है। नीचे हमने घी के कई स्वास्थ्य लाभों की चर्चा की है।

  • स्वस्थ त्वचा और बाल: सर्दियों में शुष्क मौसम के कारण हम अपनी त्वचा और बालों में नमी की कमी महसूस कर सकते हैं। अपने आहार में घी शामिल करके आप इन समस्याओं से आसानी से छुटकारा पा सकते हैं और अपनी त्वचा और बालों में खोई नमी को आसानी से पा सकते हैं।
  • अच्छा पाचन: घी में बहुत अधिक मात्रा में ब्यूटिरिक एसिड होता है, और यह एक छोटे आकर का फैटी एसिड होता है। ब्यूटिरिक एसिड पेट में अच्छे बैक्टीरिया द्वारा फाइबर से बनता है और एसिड का उपयोग शरीर में ऊर्जा के रूप में किया जाता है, जो अच्छे पाचन को बढ़ावा देता है और पेट में टी कोशिकाओं (T cells) का उत्पादन करता है, जो पाचन में सुधार करता है।
  • प्राकृतिक एंटी-डैंड्रफ: रूसी से छुटकारा पाने के लिए सबसे अच्छे घरेलू उपचारों में से एक। सर पर घी से मालिश करें और सुबह अपने बालों को धो लें। 15 दिनों तक लगातार ऐसा करने से आपके बाल डैंड्रफ मुक्त हो जायेंगे।

घी को स्वस्थ तरीके से कैसे खाएं (How to Eat Ghee in a Healthy Way)

अपने दैनिक आहार में घी के उपयोग के कई तरीके हैं; हमने हर दिन घी के सेवन के कुछ सरल और स्वस्थ तरीके नीचे बताये हैं।

  • घी और गुड़ (Ghee & Jaggery)

एक पैन लें और उसमें 2 चम्मच घी और 3 चम्मच गुड़ पाउडर डालें। इसे अच्छे से मिलाएं और 2 मिनट बाद आँच बंद कर दें। मिश्रण तैयार है और आप इसे अपनी रोटी के साथ जैम की तरह खा सकते हैं। यह बेहद स्वादिष्ट भी होता है।

  • दूध और घी (Milk & Ghee)

एक गिलास उबला हुआ दूध लें और उसमें एक चम्मच घी डालें। यह थकान दूर करने के लिए सबसे अच्छा है। यह बच्चों के लिए ख़ास कर के अच्छा है। यह मिश्रण उन लोगों को भी दिया जाता है जिन्हे अपना वजह बढ़ाना होता है।

निष्कर्ष

पौष्टिक भोजन करने से आप हमेशा किसी भी मौसम या बीमारियों से सुरक्षित रह सकते हैं। सर्दी हमारी प्रतिरक्षा को बढ़ाने के लिए सबसे अच्छे मौसमों में से एक है क्योंकि एक तरफ प्रकृति विभिन्न स्वस्थ खाद्य पदार्थों को प्रदान करती है और दूसरी तरफ हमारा पाचन तंत्र भी ठीक से काम करता है। एक मजबूत प्रतिरक्षा प्रणाली आपको किसी भी मौसम से बचा सकती है और आप आसानी से सर्दियों में गर्म रह सकते हैं।

कुछ सामान्य फ्लू और थकान के इलाज के लिए दवाओं का सेवन हमेशा आवश्यक नहीं होता है, हमारे रसोई घर में कई तरह के मसाले होते हैं जो इस तरह के रोगों का इलाज करने में सक्षम हैं। हमें हमेशा किसी विशेष फूड चार्ट पर नहीं रहना चाहिए, हमें इसे हर सीज़न बदलते रहना चाहिए। जिस तरह से हम लंबे समय तक एक खेत में एक ही फसल नहीं उगाते हैं, उसी तरह हमारे शरीर को भी बदलाव की जरूरत होती है। इसलिए, यह हमेशा सुझाव दिया जाता है कि आपकी प्लेट में विभिन्न प्रकार के भोजन हों, रंगीन सब्जियां, नट्स और सर्दियों में उपलब्ध सभी चीजें खाने की कोशिश करें। इससे आप स्वस्थ रहेंगे और स्वस्थ शरीर हमेशा खुशहाल रहेगा। आप देख सकते हैं कि कैसे चीजें एक दूसरे से इंटरलिंक्ड हैं। हमने ऊपर विभिन्न तरीकों और स्वस्थ खाद्य पदार्थों के बारे में चर्चा की है, जो आपके शरीर को सर्दियों में गर्म रखने के लिए बहुत अच्छे हैं।