डायबिटिज़ को नियंत्रित करने के 13 खास घरेलू उपाय (Ways to Control Diabetes Naturally at Home)

स्वास्थ्य हमारे जीवन में सबसे महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। स्वास्थ्य ही धन है - एक स्वस्थ शरीर में ही एक स्वस्थ दिमाग वास करता है।

मधुमेह (डायबिटीज) क्या है?

ग्लूकोज हमारे शरीर में ऊर्जा का मुख्य स्रोत है। जैसा कि हम जानते हैं कि हम जो भोजन करते हैं उससे हमें ग्लूकोज मिलता है, और जब हमारे रक्त में ग्लूकोज का स्तर बढ़ता है, तो इस अवस्था को मधुमेह के रूप में जाना जाता है। यह एक तरह की बीमारी है जिसमें रक्त में शर्करा अपने आप बढ़ जाती है और पचती नहीं है। इसे ब्लड शुगर के रूप में भी जाना जाता है।

मधुमेह (डायबिटीज) के विभिन्न प्रकार क्या हैं?

  • टाइप 1 डायबिटीज: इस प्रकार के डायबिटीज में हमारा अग्न्याशय बहुत कम मात्रा में इंसुलिन स्राव करता है। इस प्रकार के मधुमेह को ‘किशोर मधुमेह’ या ‘इंसुलिन-आश्रित मधुमेह मेलिटस’ (आईडीडीएम – Insulin Dependent Diabetes Mellitus) के रूप में भी जाना जाता है।
  • टाइप 2 डायबिटीज: यह एक प्रकार का डायबिटीज है जिसमें हमारा शरीर इंसुलिन का उत्पादन करता है, फिर भी हमारी कोशिकाएं इसका उपयोग नहीं कर पाती हैं। हमारे रक्त में ग्लूकोज बढ़ता है और इस प्रकार के मधुमेह का कारण बनता है। इसे वयस्क मधुमेह कहते हैं, और यह इंसुलिन प्रतिरोध के रूप में भी जाना जाता है।
  • गर्भावधि मधुमेह: तीसरे प्रकार का मधुमेह गर्भावस्था के दौरान होता है। यह आमतौर पर गर्भावस्था के 24वें से 28वें सप्ताह के बीच होता है। जिसमें गर्भावस्था के दौरान शुगर का स्तर बढ़ जाता है। आमतौर पर, इस प्रकार का मधुमेह बच्चे के जन्म के बाद चला जाता है। इस तरह का मधुमेह बच्चे के स्वास्थ्य को प्रभावित करता है। कभी-कभी, बच्चे समय से पूर्व पैदा हो जाते हैं।

हाई ब्लड सुगर लेवल से निपटने के बेहतरीन 13 उपाय (Best 13 Ways to Deal with High Blood Sugar Level)

अधिकांशतः रोग कुछ अनियमित जीवनशैली या अनुचित आहार के कारण होता है। एक बीमारी के लिए कई अन्य कारक भी जिम्मेदार हो सकते हैं लेकिन भोजन और जीवनशैली मुख्य हैं। अपने आहार में कुछ सरल परिवर्तन और कुछ स्वस्थ जीवन शैली को अपनाकर आप आसानी से अपने रक्त शर्करा को नियंत्रित कर सकते हैं।

मैंने कुछ स्वस्थ और सरल तरीके यहां प्रस्तुत कियें हैं, जिसे आपको स्वस्थ जीवन के लिए आज़माना चाहिए:

1. फाइबर (Fibre) का सेवन बढ़ाएं

फाइबर दो प्रकार के होते हैं; एक घुलनशील है और दूसरा अघुलनशील है। घुलनशील फाइबर रक्त शर्करा के अवशोषण के लिए जिम्मेदार होते हैं और रक्त शर्करा के स्तर को कम करते हैं।

जई (ओट्स), सब्जियां, साबुत अनाज, राज़मा आदि हमारे स्वास्थ्य के लिए सबसे मुख्य फाइबरों में से हैं।

हमें अपने शरीर के वजन के अनुसार ही फाइबर का सेवन करना चाहिए। 50 किलो वजन वाले व्यक्ति को एक दिन में 50 ग्राम फाइबर का सेवन करना चाहिए। इसी तरह, अनुपात अलग-अलग वजन के लोगों के लिए भिन्न होता है। यह केवल तभी लागू होता है जब आप अधिक वजन वाले नहीं होते हैं।

2. खूब पानी पिएं

मधुमेह वाले लोग प्रायः अधिक पेशाब करते हैं; इससे उनके शरीर में पानी का स्तर कम हो जाता है। पानी की अधिक मात्रा पीने से अतिरिक्त रक्त शर्करा बाहर निकल जाता है और शरीर के ग्लूकोज को बनाए रखने में सहायक सिध्द होता है। अतः ऐसे रोगियों को खूब पानी पीना चाहिए।

3. तनावग्रस्त न हों

तनावग्रस्त होने पर हमारा शरीर ग्लूकागन और कोर्टिसोल हार्मोन को स्रावित करता है। ये हार्मोन आपके ब्लड शुगर को बढ़ाने में सहायक होते हैं।

तनाव हमारे शरीर में चयापचय (metabolism) के काम को प्रभावित कर सकता है। इसलिए, अपने दिमाग पर जोर न डालें और अन्य चीजे जैसे संगीत सुनना, दूसरों के साथ बातें करना, एक फिल्म देखना, एक जगह पर जाना आदि, करें।

4. पर्याप्त नींद लें

खराब नींद वास्तव में आपको बीमार कर सकती है। आराम की कमी से ब्लड शुगर का स्तर बढ़ जाता है। नींद की कमी भी भूख को बढ़ाती है और आपके वजन बढ़ाने में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है।

5. अच्छी मात्रा में मैग्नीशियम लें

मैग्नीशियम आपके शर्करा के स्तर को बनाए रखने में बहुत मददगार होता है। अवसाद से लड़ता है, अनुत्तेजक (Anti-inflammatory property) आदि गुणों को वहन भी करता है।

यह हमारे शरीर में स्वाभाविक रूप से पाया जाता है लेकिन ब्लड शुगर के मामले में, हमारा शरीर मैग्नीशियम का उत्पादन करना बंद कर देता है। यह आसानी से हरी पत्तेदार सब्जियों, मछली, सेम, आदि में पाया जाता है।

6. भोजन पर नियंत्रण

डायबिटिज में हमारे शरीर में कैलोरी की मात्रा को नियंत्रित करना जरुरी होता है। कैलोरी का मुख्य स्रोत आमतौर पर कार्बोहाइड्रेट होता है। साथ ही यह शरीर के वजन को भी बढ़ा सकता है। शरीर का बढ़ा हुआ वजन ब्लड शुगर के लिए अच्छा नहीं है। तो, भोजन पर नियंत्रण के साथ कार्बोहाइड्रेट के सेवन को विनियमित करें।

7. जंक फूड से परहेज करें

जंक फूड किसी के लिए अच्छा नहीं है, भले ही आप रोगी हो या निरोगी। कई शोधकर्ताओं ने जंक फूड को मधुमेह के अहम कारणों में से एक बताया है। आजकल डायबिटीज युवाओं में भी आम हो गया है और विशेषकर उन लोगों में, जिन्हें मोटापे की दिक्कत है। इसलिए जंक फूड से दूर रहें और बाहर के खाने से बचें।

8. क्रोमियम का सेवन बढ़ाएं

क्रोमियम की कमी आमतौर पर एक मधुमेह रोगी में देखी जाती है। क्रोमियम शरीर की वसा और कार्बोहाइड्रेट पर काम करता है और आपके शरीर के वजन को बनाए रखता है। क्रोमियम युक्त भोजन, जैसे अंडे की जर्दी, ब्रोकोली, अनाज, आदि को ग्रहण करें।

9. जामुन लें

कई अध्ययनों में, यह साबित हुआ है कि जामुन में हाइपोग्लाइसेमिक प्रभाव की उपस्थिति रक्त शर्करा को 30% तक कम कर देती है। यह हमारे शरीर में इंसुलिन के प्रवाह को बनाए रखने में सहायक है। इसलिए कई डॉक्टर्स जामुन को अपने आहार में शामिल करने की सलाह देते हैं।

10. सेब का सिरका

सेब का सिरका (एप्पल साइडर विनेगर) ब्लड शुगर से निपटने में बहुत मददगार है। यह यकृत (लीवर) में तेजी से रक्त शर्करा को कम करता है। यह हमारे शरीर में इंसुलिन की गुणवत्ता और मात्रा में भी सुधार करता है।

अपने सलाद में सेब के सिरके को डालकर खाइए, इससे रक्त शर्करा को नियंत्रित करने में मदद मिलेगी। लेकिन इसे प्रतिदिन उपयोग न करें, बल्कि वैकल्पिक दिनों पर इस्तेमाल करें।

11. मिठाइयों से दूर रहें

मधुमेह  के रोगी के लिए सबसे अधिक परेशान करने वाली चीज है, मिठाई और मीठी चीजों से अलविदा कहना। माना यह अत्यंत कठिन है, लेकिन फिर भी मधुमेह के रोगी को चीनी, मीठे पेय पदार्थ, फलों के पेय, पीनट बटर, केक, शहद, जैम, जैली आदि का सेवन नहीं करना चाहिए।

फल और सब्जियां जैसे सेब, अंगूर, कीवी, मक्खन फल (एवोकैडो), ग्लास मेवा (चेरी), गोभी, मीठी मकई (स्वीट कॉर्न), आम, आलू, आदि से बचना चाहिए।

12. दवा

हालाँकि रक्त शर्करा को नियंत्रित करने के लिए लाखों उपाय हैं, फिर भी बिना देर किए, अपने डॉक्टर से अवश्य मिलें। प्रत्येक डायबिटीज रोगी की आवश्यकताएं अलग-अलग होती है, जिसे आपका डाक्टर ही बेहतर जान सकता है कि आपके लिए क्या अच्छा है।

उपरोक्त उपाय एक सामान्य मधुमेह व्यक्ति के लिए ठीक हैं, क्योंकि स्वस्थ रहने के लिए उन्हें दैनिक रूप से क्या करना चाहिए, उसकी भी जानकारी होना नितांत आवश्यक है।

हमेशा नियमित अंतराल पर अपनी शुगर की जांच करें और अपने ब्लड शुगर को दूर रखने के लिए इन सरल तकनीकों को आजमाएं।

13. कुछ अतिरिक्त

  • योग और ध्यान करें, इससे आपको चुस्त-दुरुस्त रहने में मदद मिलेगी।
  • अपने वजन को प्रबंधित करें, एक मधुमेह रोगी के लिए अपने वजन का प्रबंधन करना बहुत जरुरी होता है। इसलिए, हमेशा अपने वजन पर नियंत्रण रखें और नियमित अंतराल पर इसकी जाँच करें।
  • खुश रहने की कोशिश करें, खुश रहना स्वतः अच्छे चयापचय को बढ़ाता है और आपको स्वस्थ रखता है। आपके तनाव के पीछे जो भी कारण हो सकता है, फिर भी खुश रहने की कोशिश करें। क्योंकि समस्याएं हमारे जीवन का एक हिस्सा हैं और हम उन्हें बदल नहीं सकते हैं।
  • व्यायाम करना न भूलें। मधुमेह में शारीरिक रूप से सक्रिय होना बहुत आवश्यक है। तो, टहलने जाएं और कुछ सरल व्यायाम का अभ्यास करें और फिट रहें।

निष्कर्ष

डायबिटीज एक बीमारी है और किसी भी तरह की बीमारी हमारे लिए ठीक नहीं है। स्वस्थ जीवन जीने से आप किसी भी बीमारी से दूर रह सकते हैं। फिर भी, कुछ अनुवांशिक होते हैं और हम उनसे दूर नहीं भाग सकते हैं, लेकिन कुछ आसान तरीकों को अपनाकर आप उनके प्रभाव को कम जरुर कर सकते हैं।

मधुमेह के मामले में, सभी उपरोक्त चरणों का पालन करके स्वस्थ जीवन जी सकते हैं और बदलाव देख सकते हैं। इसके अलावा, लगातार अंतराल पर अपने डॉक्टर से मिलें। आशा है कि आप मेरे लेख को पसंद करेंगे और इसे अपने दोस्तों और ऐसे लोगों के साथ साझा करना न भूलें जिन्हें इसकी आवश्यकता है।