Categories: नारा

शिक्षक पर स्लोगन (नारा)

शिक्षक वह होते हैं, जो हमारे मन में सीखने की ललक पैदा करते हैं और हमें ज्ञान प्रदान करतें है। भारतीय संस्कृति समेत विश्व की कई अन्य संसकृतियों में शिक्षकों को ईश्वर के बराबर या उससे बड़ा स्थान दिया गया है। शिक्षकों का समाज में बहुत ही महत्वपूर्ण स्थान है क्योंकि उन्हें आने वाले कल का निर्माता माना जाता है। यही कारण है शिक्षक के पद को काफी गौरवपूर्ण स्थान माना जाता है, भले ही एक शिक्षक को अन्य बड़े कर्मियों के तरह कई महत्वपूर्ण सुविधाएं ना मिलती हो पर फिर भी सम्मान के मामले में यह पद दूसरे किसी पद से कही बड़ा है।

मेरे शिक्षक पर निबंध के लिए यहां क्लिक करें

शिक्षक पर नारा (Slogans on Teacher in Hindi)

ऐसे कई अवसर आते हैं जब आपको शिक्षक पद से संबंधित भाषणों, निबंधो या स्लोगन की आवश्यकता होती है। यदि आपको भी शिक्षक से जुड़ी ऐसे ही सामग्रियों की आवश्यकता है तो परेशान मत होइये हम आपकी मदद करेंगे।

हमारे वेबसाइट पर शिक्षक से जुड़ी तमाम तरह की सामग्रियां उपलब्ध हैं, जिनका आप अपनी आवश्यकता अनुसार उपयोग कर सकते हैं।

हमारे वेबसाइट पर शिक्षक के लिए विशेष रुप से तैयार किए गये कई सारे स्लोगन उपलब्ध हैं। जिनका उपयोग आप अपने भाषणों या अन्य कार्यों के लिए अपनी आवश्यकता के अनुसार कर सकते हैं।

ऐसे ही अन्य सामग्रियों के लिए भी आप हमारे वेबसाइट का उपयोग कर सकते हैं।

Unique and Catchy Slogans on Teacher in Hindi Language

 

 

शिक्षक छात्रों को प्रदान करते है नये विचार, इसीलिए शिक्षकों का सम्मान है सर्वप्रथम अधिकार।

 

 

शिक्षक देते है छात्रों को शिक्षा का आधार, जिसके बिना है जीवन बेकार।

 

 

शिक्षको का सदैव करो सम्मान, इनके कार्यों के विषय में चलाओ जागरुकता अभियान।

 

 

शिक्षक हैं शिक्षा का मूल, इनकी अवज्ञा की ना करना भूल।

 

 

शिक्षकों के बिना हो जायेगा ज्ञान का अभाव, छात्रों को शिक्षा देकर शिक्षक पैदा करते हैं समाज सद्‌भाव।

 

 

 

छात्रों को शिक्षा देने में शिक्षक नही रखते कोई स्वार्थ, क्योंकि शिक्षक होने का कार्य है अपने में परमार्थ।

 

 

सच्चे शिक्षक कभी नही करते अपने ज्ञान का दंभ, अपने ज्ञान द्वारा करते हैं नवयुग का आरंभ।

 

 

शिक्षक कर देते हैं छात्रों की हर समस्या का समाधान, छात्रों के तरक्की के लिए करते हैं अपना बहुमूल्य समय कुर्बान।

 

 

छात्रों को शिक्षा देकर शिक्षक पूरा करते अपना धर्म, इनके कठिन परिश्रम को देखकर समझों अपना मर्म।

 

 

शिक्षक हैं शिक्षा के प्राण, जो करते छात्रों के भविष्य का निर्माण।

 

 

शिक्षक कहो या गुरु, इन्ही से होता है जीवन शुरू ।

 

महान शिक्षक और उनके ज्ञान, इनसे बनता है देश महान ।

 

नन्हे मस्तिष्क में ज्ञान को संजोते हैं, यूँ ही नहीं शिक्षक महान होते हैं ।

 

गुरु से बढ़कर इस दुनिया में कोई नहीं इंसान, गुरु की महिमा अपरंपार है कहते वेद पुराण।

 

जो हर युवक को सत्य का राह दिखाता है, वही सच्चा शिक्षक कहलाता है।

 

हमारे अवगुणों को गुणों में बदल देता है, शिक्षक हमें एक सुनहरा कल देता है ।

 

ज्ञान, धैर्य और स्नेह, इनसे पूरित शिक्षक है सबसे महान निसन्देह ।

 

शिक्षक ज्ञान का है आधार, इनके बिना है सब बेकार ।

 

जो दे शिष्य को सही एवं गलत की पहचान, मेरी नजर में वही शिक्षक है सबसे महान ।

 

अपने सभी शिक्षकों का मैं करता हूँ आभार, उनके तेज प्रताप से मेरा जीवन हुआ साकार।

 

कोई भी मुश्किल हो पर शिक्षक सदा करते हैं संघर्ष, अपने मेहनत और लगन से छात्रों के जीवन में लाते हैं नया उत्कर्ष।

 

छात्रों को समझना होगा शिक्षकों के महत्ता का अर्थ, तभी उनका किया परिश्रम नही होगा व्यर्थ।

 

शिक्षा के कार्यों में सदा शिक्षक रहते हैं व्यस्त, यही कारण है सदैव शिक्षक शिक्षा पा जाते हैं समस्त।

 

शिक्षक सबको देते शिक्षा का पाने का विचार, अपने कार्यों से छात्रों की शिक्षा को करते साकार।

 

शिक्षक करते हैं छात्रों को शिक्षा देने का चुनाव, क्योंकि उन्हें होता है अपने कार्य से लगाव।

 

आओ मिलकर ले शिक्षकों को सम्मान देने का संकल्प, उन्हें सम्मान देने का नही है कोई दूसरा विकल्प।

 

शिक्षकों में हो रहा है दिन प्रतिदिन मौलिकता का लोप, यही कारण है कि इस कार्य पर लगने लगा है नित्य आरोप।

 

शिक्षक के लिए सबसे बढ़कर होता है ज्ञान, यही कारण है सच्चे शिक्षक पाते है जग में सम्मान।

 

आओ मिलकर करें शिक्षक पद के गरिमा का विस्तार, उनके बातों को मानकर उन्हें दे खुशी का उपहार।

 

शिक्षक करते छात्रों को अपने बच्चों सा प्यार, उनका प्रेम और वात्सल्य ही है इस पद का आधार।

 

शिक्षक करते है अपने छात्रों से प्यार, उठाते हैं छात्रों को शिक्षित करने का महत्वपूर्ण भार।

 

शिक्षक का पद एक कार्य नही एक दायित्व है।

 

एक शिक्षक अपने कार्य के साथ ही विद्यालय में बच्चों के माता-पिता का भी कर्तव्य निभाता है।

 

करो तुम बीसों अच्छे कार्य, पर यदि नही करते अपने शिक्षक का सम्मान तो सब है बेकार।

 

 

More Information:

शिक्षक दिवस पर निबंध

शिक्षक दिवस का उत्सव पर निबंध

शिक्षक दिवस पर छात्र द्वारा स्वागत भाषण

शिक्षक दिवस के अवसर पर शिक्षक द्वारा छात्रों के लिए धन्यवाद भाषण

शिक्षक दिवस पर भाषण

शिक्षक दिवस का उत्सव पर भाषण

बाल दिवस पर शिक्षकों के लिए भाषण

Yogesh Singh

Yogesh Singh, is a Graduate in Computer Science, Who has passion for Hindi blogs and articles writing. He is writing passionately for Hindikiduniya.com for many years on various topics. He always tries to do things differently and share his knowledge among people through his writings.

Recent Posts

मेरी माँ पर भाषण

माँ के रिश्ते की व्याख्या कुछ शब्दों करना लगभग असंभव है। वास्तव में माँ वह व्यक्ति है जो अपने प्रेम…

5 months ago

श्रमिक दिवस/मजदूर दिवस पर कविता

अंतरराष्ट्रीय मजदूर दिवस का दिन विश्व भर के कामगारों और नौकरीपेशा लोगों को समर्पित हैं। 1 मई को मनाये जाने…

5 months ago

मेरी माँ पर निबंध

माँ वह है जो हमें जन्म देने के साथ ही हमारा लालन-पालन भी करती हैं। माँ के इस रिश्तें को…

5 months ago

चुनाव पर स्लोगन (नारा)

चुनाव किसी भी लोकतांत्रिक देश की एक महत्वपूर्ण प्रक्रिया है, यहीं कारण है कि इसे लोकतंत्र के पवित्र पर्व के…

5 months ago

भारत निर्वाचन आयोग पर निबंध

भारत में चुनावों का आयोजन भारतीय संविधान के द्वारा गठित किये गये भारत निर्वाचन आयोग द्वारा किया जाता है। भारत…

5 months ago

चुनाव पर निबंध (Essay on Election)

चुनाव या फिर जिसे निर्वाचन प्रक्रिया के नाम से भी जाना जाता है, लोकतंत्र का एक अहम हिस्सा है और…

5 months ago