अंतरराष्ट्रीय मांसहीन दिवस पर 10 वाक्य

वर्तमान समय में रहन-सहन एवं खानपान में काफी परिवर्तन हुआ है, लोगों ने तमाम प्रकार के जंकफूड के साथ-साथ अनेक जानवरों के मांस को भी खाना प्रारम्भ कर दिया है। मांसाहार हमेशा से ही मानव स्वास्थ्य के लिए हानिकारक रहा है, यह लोगों में कैंसर, मधुमेह, रक्तचाप, अस्थमा तथा हड्डी आदि से संबंधित रोगों का कारक होता है। इन सब बातों के मद्दे नज़र बहुमुखी प्रतिभा के धनी टी एल वासवानी जी द्वारा वैश्विक स्तर पर खाद्य पदार्थ के रूप में मांस के विरोध के लिए एक मिशन चलाया गया, इसलिए प्रतिवर्ष 25 नवम्बर को उनके जन्मदिन को अंतरराष्ट्रीय मांसहीन दिवस के रूप में मनाया जाता है।

अंतरराष्ट्रीय मांसहीन दिवस 10 लाइन (10 Lines on International Meatless Day in Hindi)

साथियों आज मैं आप लोगों के समक्ष अंतरराष्ट्रीय मांसहीन दिवस पर 10 लाइन लेकर उपस्थित हुआ हूँ, मुझे उम्मीद है कि ये लाइन आपको पसंद आएंगी तथा आपके स्कूल एवं कॉलेजों में उपयोग लायक होंगी।

Set 1

1) अंतर्राष्ट्रीय मीटलेस डे (International Meatless Day) प्रतिवर्ष 25 नवम्बर को मनाया जाता है।

2) यह दिवस बहुमुखी प्रतिभा के धनी साधु टी एल वासवानी के जन्म दिवस का प्रतीक है।

3) साधु टी एल वासवानी ने वैश्विक स्तर पर एक मिशन चलाया था जिसका मुख्य उद्देश्य था खाद्य पदार्थों के रूप में मांस का बहिष्कार करना।

4) साधु टी एल वासवानी एक शिक्षाविद् भी थे उन्होंने भारतीय शिक्षा के उत्थान के लिए मीरा मिशन चलाया था।

5) वासवानी जी ने दुनिया भर के लोगों से शाकाहार अपनाने के लिए दृढ़ता से आग्रह किया था।

6) शुरुआत में ही इस मिशन को बहुत सफलता मिली, लोग बहुत तेजी से इससे जुड़ते चले गए।

7) अंतर्राष्ट्रीय मीटलेस डे पर लाखों लोग मिलकर एक साथ शाकाहार अपनाने की प्रतिज्ञा लेते हैं।

8) अंतर्राष्ट्रीय मीटलेस डे का संचालन, साधु वासवानी मिशन द्वारा संचालित Stop All Killing (SAK) एसोसिएशन द्वारा होता है।

9) इस दिन SAK से जुड़े सभी लोग विश्व भर में लोगों को शाकाहार अपनाने का सलाह देते हैं तथा उससे संबंधित नुकसान एवं फायदे का भी वर्णन करते हैं।

10) यह मिशन समस्त प्राणियों के जीवन को सम्मानित एवं पवित्र मानता है, जो इस बात को प्रदर्शित करता है कि इसका उद्देश्य सिर्फ पशु वध को रोकने तक ही सीमित नहीं है।


Set 2

1) साधु वासवानी द्वारा चलाए गए इस मिशन को आज वैश्विक स्तर पर मान्यता मिल चुकी है तथा विदेशों में भी लाखों लोग इससे जुड़े हुए है।

2) इस मिशन के सदस्य लोगों से आग्रह करते हैं कि कम से कम इस दिन मांस का सेवन ना करें।

3) वासवानी मिशन का कहना है कि इंसान के साथ-साथ जानवर भी कुछ मौलिक अधिकार के हकदार है।

4) SAK समूह के लोग वर्ष भर पूरी दुनिया में भ्रमण करते रहते हैं तथा लोगों को शाकाहार के प्रति जागरूक करते रहते हैं।

5) अंतरराष्ट्रीय मांसहीन दिवस के अलावा भी SAK समूह साप्ताहिक तथा मासिक पत्र पत्रिकाओं में लेख आदि लिखकर लोगों तक अपने मिशन का संदेश पहुंचाते रहते हैं।

6) वासवानी मिशन द्वारा इस दिन जानवरों के लिए चिकित्सा शिविर तथा घातक बीमारियों से बचाने के लिए टीकाकरण शिविर का भी आयोजन किया जाता है।

7) SAK समूह द्वारा अंतरराष्ट्रीय मांसहीन दिवस पर जानवरों तथा शाकाहार के प्रति लोगों में जागरूकता लाने के लिए शांति मार्च तथा रैलियों आदि का भी आयोजन किया जाता है।

8) Stop All Killing समूह के कुछ सदस्य स्कूलों में कार्यक्रमों के माध्यम से बच्चों में पशुओं के लिए दया भाव विकसित करने की कोशिश करते हैं।

9) इस दिन जानवरों की सुरक्षा हेतु नियम तथा कानून बनाने के लिए, सड़कों पर बैनर तथा पोस्टर लगाकर सरकार का ध्यान इस ओर खींचने की कोशिश करते हैं।

10) Stop All Killing समूह के सदस्य इस दिन होटलों तथा कैटरर्स से मांसाहारी भोजन न बनने का आग्रह करते हैं।


निष्कर्ष

मांसाहार से बचना जानवरों के लिए अति आवश्यक है इसमें कोई शक नहीं है परन्तु यह मानव जीवन के लिए उससे कहीं ज्यादा उपयोगी है क्योंकि वर्तमान में बढ़ती बीमारियां तथा बिगड़ता पारिस्थितिकी तंत्र बार-बार मानव को सूचित कर रखा है कि अपने विनाश को रोक लो, रोक लो नहीं तो अनर्थ होने में अब ज्यादा समय नहीं लगेगा, इसकी एक छोटी सी झलक कोविड-19 ने दिखा भी दिया है। ऐसे में अगर मानव चेत जाता है तो अंतरराष्ट्रीय मांसहीन दिवस मानव जाति के लिए वरदान साबित हो सकता है।

मैं आशा करता हूँ कि अंतरराष्ट्रीय मांसहीन दिवस पर 10 वाक्य (10 points on International Meatless Day) आपको पसंद आया होगा तथा इसे आप अच्छी तरह से समझ गए होंगे।

धन्यवाद !

यह भी पढ़े :

अंतरराष्ट्रीय मांसहीन दिवस पर अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न (Frequently Asked Questions on International Meatless Day in Hindi)

प्रश्न.1 अंतरराष्ट्रीय मांसहीन दिवस किसके जन्मदिन के उपलक्ष्य  मनाया जाता है?

उत्तर- अंतरराष्ट्रीय मांसहीन दिवस साधु टी एल वासवानी के जन्मदिन के उपलक्ष्य मनाया जाता है।

प्रश्न.2 साधु टी एल वासवानी का जन्म कब हुआ था?

उत्तर- साधु टी एल वासवानी का जन्म 25 नवम्बर 1879 को हुआ था।