भ्रष्टाचार मुक्त भारत पर निबंध

भारत विभिन्न स्तरों पर भ्रष्टाचार की समस्या का सामना करता है। यह समस्या आंतरिक रूप से हमारे देश को खा रही है। यह सही समय है कि हम में से हर एक को हमारे देश पर पड़ते भ्रष्टाचार के नकारात्मक प्रभावों को महसूस करना चाहिए और हमारे देश को भ्रष्टाचार मुक्त बनाने के लिए अपना योगदान देना चाहिए। ऐसा अक्सर कहा जाता है कि भारतीय राजनीतिज्ञ भ्रष्ट हैं लेकिन यह एकमात्र ऐसा क्षेत्र नहीं है जहां भ्रष्टाचार निहित है। भ्रष्टाचार हर क्षेत्र में मौजूद है और यह हमारे देश को बर्बाद कर रहा है।

भ्रष्टाचार मुक्त भारत पर छोटे तथा लंबे निबंध (Short and Long Essay on Corruption Free India in Hindi)

निबंध 1 (300 शब्द)

प्रस्तावना

भारत, एक देश जो उच्च मूल्यों, नैतिकता और परंपराओं का दावा करता है, को भ्रष्टाचार की समस्या का सामना करना पड़ रहा है। ये हमारे देश में विभिन्न बुरी प्रथाओं में से एक है जिनसे हमारा देश संघर्ष कर रहा है। देश की पूरी व्यवस्था विभिन्न स्तरों के भ्रष्टाचार पर आधारित है।

भारत सरकार को एक उदाहरण स्थापित करना चाहिए

भारत में सरकार और राजनीतिक दल अपने भ्रष्ट तरीकों के लिए जाने जाते हैं। भ्रष्ट प्रथाओं में लिप्त होने की बजाए उन्हें भ्रष्टाचार की समस्या पर काबू पाने के लिए काम करना चाहिए। उन्हें नागरिकों के लिए एक उदाहरण तैयार करना चाहिए और भ्रष्ट तरीकों से काम करने के बजाए उन्हें अपने लक्ष्यों तक पहुंचने के लिए ईमानदारी और समर्पण के साथ काम करने के लिए उन्हें प्रेरित करना चाहिए।

राजनीतिक दलों और मंत्रियों का चयन

भारत में कोई भी चुनाव के लिए खड़ा हो सकता है और अपना राजनीतिक दल बना सकता है। पात्रता मानदंड में किसी व्यक्ति की शैक्षणिक योग्यता शामिल नहीं है। ऐसे भी मंत्री हैं जो कभी स्कूल नहीं गए हैं और राजनीतिक व्यवस्था के बारे में उनका ज्ञान पूरी तरह से शून्य है।

कुछ नेता ऐसे भी हैं जिनका पिछला रिकॉर्ड अपराधी प्रवृत्ति का है। जब देश ऐसे लोगों द्वारा नियंत्रित किया जाएगा तो भ्रष्टाचार होना लाज़मी है। एक न्यूनतम शैक्षिक योग्यता मानदंड निर्धारित किया जाना चाहिए। केवल वे अभ्यर्थी, जो शैक्षिक मानदंडों को पूरा करते हैं और जिनका रिकॉर्ड साफ़ सुथरा है, उन्हें चुनाव लड़ने की अनुमति दी जानी चाहिए। चुनाव जीतने वाले उम्मीदवारों को उनके द्वारा नियुक्त विभिन्न कर्तव्यों और जिम्मेदारियों को संभालने के लिए प्रशिक्षित किया जाना चाहिए। अच्छी तरह से प्रशिक्षित और एक शिक्षित व्यक्ति ही निश्चित रूप से देश को बेहतर तरीके से चला सकता है।

सभी के लिए एक निर्धारित प्रोटोकॉल होना चाहिए और मंत्रियों की गतिविधियों को उच्च अधिकारियों द्वारा निगरानी की जानी चाहिए कि इसका पालन किया जा रहा है या नहीं।

निष्कर्ष

हालांकि हम में से हर एक व्यक्ति भ्रष्टाचार मुक्त भारत चाहता है लेकिन कोई भी इस प्रयास के लिए योगदान करने को तैयार नहीं है। भ्रष्टाचार कम करने की बजाए हम इसे बढ़ा रहे हैं। हमारे देश को इस बुरी प्रथा से मुक्त करने के लिए हमें एकजुट होना चाहिए और हमारे प्रयासों में ईमानदार लानी चाहिए।

 

निबंध 2 (400 शब्द)

प्रस्तावना

दुनिया भर के कई देश भ्रष्टाचार की समस्या का सामना करते हैं। भारत एक ऐसा देश है जो इस समस्या से गंभीर रूप से प्रभावित है। भ्रष्टाचार हमारे देश में कई अन्य गंभीर समस्याओं का मूल कारण है।

भ्रष्टाचार मुक्त भारत करने के तरीके

अगर हम एकजुट हो जाते हैं और इस बुराई को दूर करने के लिए दृढ़ हैं तो हम भ्रष्टाचार से लड़ सकते हैं। देश को भ्रष्टाचार से छुटकारा दिलाने के कुछ तरीके यहां दिए गए हैं:

  • शिक्षा का प्रसार करें

बढ़ते भ्रष्टाचार के लिए शिक्षा का अभाव मुख्य कारणों में से एक है। अशिक्षित वर्ग से जुड़े कई लोग अपनी आजीविका कमाने के लिए अवैध और भ्रष्ट तरीकों का इस्तेमाल करते हैं। फैलाई जाने वाली शिक्षा इस समस्या को काफी हद तक कम करने में मदद कर सकती है। सरकार को यह सुनिश्चित करने के लिए नीतियां बनाना चाहिए कि देश में हर बच्चा स्कूल जाए और शिक्षा हासिल करे।

  • सख्त दंड देना

ऐसे लोगों के लिए सख्त कानून बनाये जाने चाहिए जो भ्रष्ट प्रथाओं जैसे रिश्वत लेने और देने, गैरकानूनी तरीके से अपने व्यवसाय को बढ़ाने, काले धन इकट्ठा करने आदि का इस्तेमाल करते हैं। इन लोगों को गंभीर रूप से दंडित किया जाना चाहिए।

  • स्टिंग ऑपरेशन करे

विभिन्न क्षेत्रों में भ्रष्ट लोगों को उजागर करने के लिए मीडिया और सरकार को स्टिंग ऑपरेशन करना चाहिए। इस तरह के स्टिंग परिचालन में न केवल भ्रष्ट लोग उजागर हो जाएंगे बल्कि ऐसे व्यवहारों में शामिल होने वाले दूसरे लोग भी हतोत्साहित हो जायेंगे।

  • सही रास्ते का पालन करें

हम में से हर एक को इसे अपनी जिम्मेदारी के रूप में लेना चाहिए ताकि भ्रष्टाचार को बढ़ावा देने वाली चीजों या जुर्माना से बचने की बजाए हम सही तरीकों का पालन करें।

  • कैमरा और रिकार्डर स्थापित करें

भ्रष्टाचार को कम करने में प्रौद्योगिकी भी मदद कर सकती है। सरकारी कार्यालयों और सड़क चौराहों तथा अन्य जगहों पर सीसीटीवी कैमरे स्थापित किए जाने चाहिए जहां रिश्वत लेने और देने के मामले अधिक पाए जाते हैं। रिकार्डर उन जगहों पर इंस्टॉल किए जा सकते हैं जहां कैमरों को स्थापित करना मुश्किल है। लोग अपने मोबाइल में अपने चारों ओर चल रही भ्रष्ट प्रथाओं को रिकॉर्ड करने और अपने आस-पास के पुलिस स्टेशन में इसे साझा करने की भी पहल कर सकते हैं।

  • विश्वास बनाए

भारत में लोग किसी के खिलाफ शिकायत दर्ज करने के लिए पुलिस के पास जाने से डरते हैं। वे पुलिस स्टेशन पर जाने से बचना चाहते हैं क्योंकि उन्हें डर है कि उन्हें पुलिस की पूछताछ के मामले में गिरफ्तार किया जा सकता है और इससे उनकी समाज में बुरी छवि बन सकती है। पुलिस स्टेशन की प्रक्रियाओं को ऐसा होना चाहिए कि जो लोग पुलिस की मदद करना चाहते हैं उन्हें किसी भी असुविधा का सामना नहीं करना पड़े।

निष्कर्ष

भ्रष्टाचार से भारत को मुक्त कराने के कई तरीके हैं केवल इन तरीकों को लागू करने की इच्छा जरूरी है।


 

निबंध 3 (500 शब्द)

प्रस्तावना

भारत में भ्रष्टाचार की दर काफी अधिक है। अन्य बातों के अलावा देश के विकास और प्रगति पर भ्रष्टाचार का नकारात्मक प्रभाव पड़ता है। अधिकांश विकासशील देश इस समस्या का सामना कर रहे हैं। इन देशों में सरकार और व्यक्ति यह समझ नहीं पा रहे हैं कि भ्रष्टाचार के तरीकों से उन्हें कुछ हद तक फायदा हो सकता है लेकिन वास्तव में यह पूरी तरह से देश के विकास को बाधित करता है और अंततः उनके लिए बुरा है।

भारत में भ्रष्टाचार के कारण

हमारे देश में भ्रष्टाचार का स्तर बहुत अधिक है। इसके कई कारण हैं। यहां इन कारणों पर एक संक्षिप्त नज़र डाली गई है:

  1. नौकरी के अवसरों की कमी

बाजार में नौकरी योग्य युवाओं की संख्या की तुलना में कम है हालांकि कई युवक इन दिनों बिना किसी काम के घूमते हैं, जबकि अन्य नौकरी लेते हैं जो उनकी योग्यता के बराबर नहीं हैं। इन लोगों में असंतोष और अधिक कमाई का लालच उन्हें भ्रष्ट तरीकों को अपनाने के लिए प्रेरित करती है।

  1. सख्त दंड की कमी

हमारे देश के लोग भ्रष्ट प्रथाओं जैसे कि रिश्वत देना और लेना, आयकर का भुगतान नहीं करना, व्यवसाय चलाने के लिए भ्रष्ट माध्यमों का सहारा लेना आदि का पालन करते हैं। लोगों की गतिविधियों पर नजर रखने के लिए कोई सख्त कानून नहीं है। यहां तक ​​कि अगर लोग पकड़े भी जाते हैं तो उन्हें इसके लिए गंभीर रूप से दंडित नहीं किया जाता है। यही कारण है कि देश में भ्रष्टाचार बहुत अधिक है।

  1. शिक्षा की कमी

शिक्षित लोगों से भरे समाज को कम भ्रष्टाचार का सामना करना पड़ सकता है। अगर लोग शिक्षित नहीं होंगे तो वे अपनी आजीविका कमाने के लिए अनुचित और भ्रष्ट तरीकों का उपयोग करेंगे। हमारे देश का निम्न वर्ग शिक्षा के महत्व को कमजोर करता है और इससे भ्रष्टाचार में वृद्धि होती है।

  1. लालच और बढ़ती प्रतियोगिता

बाजार में लालच और बढ़ती प्रतिस्पर्धा भ्रष्टाचार के बढ़ने के कारण भी हैं। लोग इन दिनों बेहद लालची बन गए हैं। वे अपने रिश्तेदारों और मित्रों से ज्यादा कमाना चाहते हैं और इस पागल भीड़ में वे अपने सपनों को पूरा करने के लिए भ्रष्ट तरीकों को अपनाने में संकोच नहीं करते हैं।

  1. पहल का अभाव

हर कोई देश को भ्रष्टाचार मुक्त बनाना चाहता है और इस दिशा में कुछ भी नहीं करने के लिए सरकार की आलोचना करता है। लेकिन क्या हम अपने स्तर पर इस मुद्दे को रोकने की कोशिश कर रहे हैं? नहीं हम नहीं कर रहे। जानबूझकर या अनजाने में हम सब भ्रष्टाचार को जन्म दे रहे हैं। कोई भी देश से इस बुराई को दूर करने के लिए पहल करने और टीम के रूप में काम करने के लिए तैयार नहीं है।

भ्रष्टाचार मुक्त भारत का निर्माण

भ्रष्टाचार के कारणों के बारे में सभी को पता है। ऐसा कहा जाता है कि एक बार समस्या के कारण को पहचान लिया तो आधा काम तो वैसे ही पूरा हो जाता है। अब समस्या पर चर्चा करने की बजाए समाधान ढूंढने का समय है।

सरकार को भारत को भ्रष्टाचार से मुक्त करने की जिम्मेदारी लेनी चाहिए क्योंकि अगर यह समस्या ऐसी ही चलती रही तो हमारा देश प्रगति नहीं कर सकता। भ्रष्टाचार की ओर बढ़ने वाली प्रत्येक समस्या को उसकी जड़ों समेत हटा दिया जाना चाहिए। उदाहरण के लिए जनसंख्या की बढ़ती दर के कारण अच्छे रोजगार के अवसरों की कमी होती है जो भ्रष्टाचार का कारण बनता है। सरकार को देश की आबादी को नियंत्रित करने के लिए सख्त कदम उठाने चाहिए। इसी तरह भ्रष्टाचार मुक्त भारत के निर्माण के लिए हर पहलू पर काम करना चाहिए।

निष्कर्ष

हमारे देश भ्रष्टाचार की समस्या से छुटकारा पा सकता है और बेहतर हो सकता है। इसलिए हम सभी को वह सब कुछ करना चाहिए जो हम इस बड़े मुद्दे को सुलझाने के लिए कर सकते हैं।

 

निबंध 4 (600 शब्द)

प्रस्तावना

हर क्षेत्र में और देश के हर स्तर पर भ्रष्टाचार का प्रचलन है। सरकार और साथ ही निजी क्षेत्र के लोगों द्वारा कई बड़े और छोटे कार्यों को पूरा करने के लिए भ्रष्ट मार्गों और अनुचित तरीकों का उपयोग किया जाता है। इसका एक कारण यह है कि लोग कड़ी मेहनत किए बिना बड़ी रकम पाना चाहते हैं लेकिन हम ऐसी बुरी प्रथाओं को प्रयोग में लाकर कहां जा रहे हैं? निश्चित रूप से विनाश की ओर! हम में से हर एक को किसी भी प्रकार का भ्रष्ट व्यवहार नहीं करना चाहिए। यह भ्रष्टाचार मुक्त भारत के निर्माण की दिशा में पहला कदम होगा।

भ्रष्टाचार मुक्त भारत की स्थापना में सरकार की भूमिका

हालांकि व्यक्तिगत प्रयास देश को भ्रष्टाचार से मुक्त करने की दिशा में काम कर सकते हैं लेकिन अगर समस्या को अपनी जड़ों से खत्म कर दिया जाए तो सरकार का हस्तक्षेप आवश्यक है। भारत सरकार को इस समस्या से छुटकारा पाने के लिए सख्त कानून बनाने चाहिए। किसी भी तरह की भ्रष्ट प्रथाओं में शामिल लोगों को गंभीर रूप से दंडित किया जाना चाहिए।

देश के सरकारी अधिकारी काम के प्रति अपने प्रतिरक्षित दृष्टिकोण के लिए जाने जाते हैं। लोगों को विभिन्न सरकारी सेवाएं प्रदान करने के लिए वे बिना किसी झिझक के रिश्वत लेते हैं। इन गैर-प्रथाओं पर कोई जांच नहीं की जाती। सरकारी दफ्तरों में रिश्वत लेना और सत्ता में बैठे लोगों के लिए काम करना एक आम प्रवृत्ति है। ऐसा ज़रूरी नहीं है कि हर सरकारी अधिकारी भ्रष्ट है। कुछ अधिकारी ईमानदारी से अपने कर्तव्यों का पालन करते हैं लेकिन विडंबना यह है कि जो लोग सही तरीके से काम करते हैं वे कम मात्रा में पैसा कमाते हैं और जो लोग भ्रष्ट तरीकों का इस्तेमाल करते हैं वे अच्छा मात्रा में पैसा कमाते हैं तथा बेहतर जीवन जीते हैं। इस रास्ते पर चल कर मिलने वाले लाभों को देखते हुए जिन लोगों को भ्रष्ट तरीकों का पालन मंज़ूर नहीं था वे भी इस मार्ग पर चलने के लिए तैयार हैं।

इसका मुख्य कारण यह है कि इन प्रथाओं में शामिल लोगों को पकड़ने या दंडित करने के लिए कोई भी नहीं है। अगर सरकार इन कर्मचारियों की बारीकी से निगरानी करती है और उन्हें सज़ा देती है तभी ये प्रथाएं समाप्त हो सकती हैं। रिश्वत देना भी रिश्वत लेने जितना बुरा है। हम इस तथ्य से इनकार नहीं कर सकते हैं कि हम रिश्वत देने या हमारे माता-पिता या रिश्तेदारों को किसी समय रिश्वत देते हुए देखा है। चौराहों पर लाल बत्ती को पार करने के लिए यातायात पुलिस को धन की पेशकश करने या तारीख निकलने के बाद फार्म जमा करने के लिए पैसे की पेशकश करना आम बात है।

यद्यपि हम जानते हैं कि यह नैतिक रूप से गलत है और हम भ्रष्टाचार को बढ़ावा दे रहे हैं लेकिन फिर भी हम यह सोचते हैं कि इससे हमें लाभ मिलेगा और यह कुछ समय के लिए है तथा शायद ही इसका कोई बड़ा प्रभाव भविष्य में पड़ेगा। हालांकि अगर हमें यह पता चल जाए कि इससे हमें बहुत बड़ा नुकसान पहुंचेगा और ऐसा करने से हम संकट में पड़ सकते हैं तो हम ऐसा बिल्कुल भी नहीं करेंगे। अगर हमें यह पता चल जाए कि ऐसा करने से हम पर जुर्माना लगाया जा सकता है या हमारे लाइसेंस को जब्त किया जा सकता है या हम ऐसी किसी भी चीज में शामिल होने के लिए सलाखों के पीछे डाला जा सकता है तो हम उसमें शामिल होने की हिम्मत नहीं करेंगे।

इसलिए सरकार इसमें बहुत बड़ी भूमिका निभाती है। सरकार को देश को भ्रष्टाचार से मुक्त करने की जिम्मेदारी लेनी चाहिए।

भ्रष्टाचार मुक्त भारत की स्थापना में मीडिया की भूमिका

हमारे देश का मीडिया काफी मजबूत है। इसे बोलने और अपनी राय व्यक्त करने का पूरा अधिकार है। भ्रष्ट अधिकारियों को बेनकाब करने के लिए इस अधिकार का पूरा उपयोग किया जाना चाहिए। मीडिया को नियमित रूप से स्टिंग ऑपरेशन करने चाहिए और भ्रष्ट प्रथाओं में शामिल होने वाले लोगों का नाम उजागर करना चाहिए। यह केवल दोषी को सबक ही नहीं सिखाएगा बल्कि आम जनता में डर भी पैदा करेगा। वे भ्रष्ट तरीकों का उपयोग करने से पहले दो बार सोचेंगे।

निष्कर्ष

यह आम व्यक्तियों, मीडिया और सरकार का संयुक्त प्रयास है जो भ्रष्टाचार मुक्त भारत के निर्माण में मदद कर सकता है। उन्हें देश को जीने के लिए बेहतर स्थान बनाने के लिए साथ मिलकर काम करने की जिम्मेदारी लेनी चाहिए।

 

 

संबंधित जानकारी:

भ्रष्टाचार पर निबंध