हैंड वॉश पर 10 वाक्य

हाथ धोना मानव जीवन की एक सामान्य प्रक्रिया है, मानव इसे प्रतिदिन समय-समय पर करता रहता है। वास्तव में यह जितना आसान लगता है और लोग इसे जितना हल्के में लेते हैं यह उतना आसान नहीं है। इसीलिए ने विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) हैंड वॉश (हाथ धोना) करने के फायदे एवं न करने के नुकसानों के साथ-साथ हैंड वॉश करने के लिए भी बकायदा गाइडलाइन (Guideline) जारी कर रखा है।

हैंड वॉश पर 10 लाइन (10 Lines on Hand wash in Hindi)

साथियों आज मैं आप लोगों के समक्ष हाथ धोने पर आसान शब्दों में 10 लाइन लेकर उपस्थित हुआ हूँ, मुझे उम्मीद है कि ये आपको पसंद आएंगी तथा स्कूल एवं कॉलेजों में आपके उपयोग लायक होंगी।

Set 1

1) मानव स्वास्थ्य की दृष्टि से हैंड वॉश एक महत्वपूर्ण क्रिया है।

2) विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने भी बीमारियों से बचने तथा स्वस्थ रहने के लिए लोगों को एक निश्चित समयांतराल पर हाथ धोने की सलाह दी है।

3) WHO के अनुसार हाथों को धोते समय कम से कम 20 से 30 सेकेंड का समय लेना चाहिए।

4) हाथों को धोते समय साबुन लगाकर उनको अच्छी तरह से रगड़ना चाहिए तथा उंगलियों के बीच वाले हिस्से को भी अच्छी तरह से साफ करना चाहिए।

5) साबुन से हाथों को धोते समय नाखूनों में फंसी गंदगी को भी साफ करना चाहिए।

6) साबुन से हाथों को अच्छी तरह से आपस में मलने के बाद उन्हें साफ एवं स्वच्छ पानी से धोना चाहिए।

7) स्वच्छ पानी से हाथों को धोने के बाद उन्हें एक साफ तौलिये या कपड़े से पोंछना चाहिए।

8) नियमित हाथ धोने की आदत हमें बीमार होने से बचाती है जिससे दवाइयों में कम पैसा खर्च होता है तथा घर की आर्थिक स्थिति में सुधार आता है। 

9) हैंड वॉश करना एक अच्छी आदत है, इसे बच्चे, बूढ़े, जवान सभी को अपनाना चाहिए।

10) कोविड-19 से लड़ने के लिए विश्व भर के लोगों ने हाथ धोने की आदत को एक हथियार के रूप में इस्तेमाल किया था।


Set 2

1) हाथों को साफ तथा स्वच्छ रखना बीमारियों से बचने का एक प्रभावी तरीका है।

2) हाथों को धोते समय हमें यह ध्यान रखना चाहिए कि साबुन की गुणवत्ता अच्छी हो नहीं तो इससे हमारे हाथों के चमड़े को नुकसान पहुंच सकता है।

3) अस्पताल से बाहर निकलने पर भी हमें हाथ और मुंह को अच्छी तरह से धोना चाहिए।

4) हाथ धोने के लिए 20 से 30 सेकंड का ही समय लेना चाहिए इससे कम या अधिक समय लेना नुकसानदायक हो सकता है।

5) हानिकारक विषाणुओं तथा कीटाणुओं से सुरक्षा के लिए हम सैनिटाइजर का भी प्रयोग कर सकते हैं।

6) हमे इस बात को ध्यान रखना चाहिए की हाथ धोने के लिए इस्तेमाल किए जाने वाले सैनिटाइजर में कम से कम 60% अल्कोहल की मात्रा होनी चाहिए।

7) कोविड-19 जैसे संक्रामक रोगों से बचने के लिए हाथ धोना बहुत ही महत्वपूर्ण उपाय हो जाता है।

8) बार संक्रामक बीमारियों की चपेट में आने से हमारी रोग प्रतिरोधक क्षमता प्रभावित होती है, हैंड वॉश  हमें इससे बचा सकता है।

9) भोजन से पहले, शौच के बाद, खांसने, छींकने तथा कूड़ा कचरा आदि को छूने  के बाद हाथों को धोना एक अच्छी आदत मानी जाती है तथा यह हमें बीमारियों से सुरक्षित भी रखती है।

10) हाथ धोना एक एक अच्छी आदत है इसे खुद भी अपनाना चाहिए तथा दूसरों को भी इसके लाभों के बारे में समझाना चाहिए।


निष्कर्ष

सामान्यतः देखने में हैंड वॉश एक छोटी सी आदत है जिसे लगभग सभी लोगों ने अपना रखा है पर उनमें से अधिकांश लोग इसे सही समय तथा सही तरीके से नहीं करते हैं। यही कारण है कि वो बीमारियों की चपेट में आ जाते हैं तथा अपने स्वास्थ्य तथा धन दोनों से हाथ धो लेते हैं और अपने परिवार के कलह का कारण भी बन जाते हैं।

मैं आशा करता हूँ कि हाथ धोने पर 10 लाइन (10 Points on Hand Wash) आपको पसंद आयी होंगी तथा इससे आप समझ गए होंगे की अगर आपको अपने स्वास्थ्य तथा धन से हाथ नहीं धोना है तो आपको नियमित एवं सही समय पर साबुन से हाथ धोना है।

धन्यवाद !