सद्भावना दिवस पर 10 वाक्य

भारतीय राजनीति के आधुनिक इतिहास में भूतपूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी को आधुनिकता का जनक भी कहा जाता है। वह सदैव सद्भावना और शांति से जीने के मत में थें। पड़ोसी देशों साथ अपने शांतिपूर्ण नीतियों के लिए वे प्रसिद्ध थें। उन्होंने सदैव ही देश को आधुनिक बनाने का प्रयास किया था और उनके द्वारा किये बहुत से योगदान है जो आज भी देश को विकास के मार्ग पर रखे हुए है। राजीव गांधी के जन्मदिवस 20 अगस्त को 1992 से सद्भावना दिवस के रूप में मनाया जाता है।

आज इस लेख के माध्यम से मैं सद्भावना दिवस के बारे में आपको अवगत कराता हूँ।

सद्भावना दिवस पर 10 लाइन (10 Lines on Sadbhavna Diwas in Hindi)

Set 1

1) भारत के दिवंगत भूतपूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की याद में प्रत्येक वर्ष 20 अगस्त को सद्भावना दिवस मनाया जाता है।

2) 20 अगस्त 1944 को भारत रत्न सम्मानित राजीव गांधी का जन्म को मुंबई में हुआ था।

3) सद्भावना दिवस राजीव गांधी की मृत्यु के बाद 1992 से प्रत्येक वर्ष मनाया जाता है।

4) सद्भावना शब्द का अर्थ होता है प्रेम, शांति और समानता।

5) इस दिन राजीव गांधी की तस्वीर और मूर्तियों पर माल्यार्पण किये जाते हैं।

6) इस दिन पर देश में कई राष्ट्रीय कार्यक्रम तथा पुरस्कार वितरण किये जाते हैं।

7) यह दिन देश के साथ-साथ कांग्रेस पार्टी के लिए बहुत महत्वपूर्ण दिन होता है।

8) भारत में इस दिन मुख्य रूप से सेवा कार्य और वृक्षारोपण किये जाते हैं।

9) सद्भावना दिवस का उद्देश्य देश की अखंडता और एकता को बनाये रखना है।

10) सद्भावना दिवस राजीव गांधी द्वारा किये गये देश के लिए महान कार्यों और उनके योगदान की याद दिलाता है।


Set 2

1) सद्भावना दिवस को हम “राजीव गांधी अक्षय ऊर्जा दिवस” या “समरसता दिवस” के नाम से भी जानते हैं।

2) इस दिन बहुत से लोग राजीव गांधी की दिल्ली में स्थित समाधि स्थल ‘वीर भूमि’ पर श्रद्धांजलि देते हैं।

3) भारतीय कांग्रेस पार्टी के कार्यकर्ता इस दिन जगह-जगह रैली व समाजसेवा का कार्य करते हैं।

4) राजीव गांधी अबतक के सबसे युवा प्रधानमंत्री थे जो सर्वदा ही युवाओं को अपने विचारों से प्रभावित करते रहेंगे।

5) राजीव गांधी का यह सपना था कि भारत आत्मनिर्भर बने और विश्व का मार्गदर्शन करे।

6) भारत में कंप्यूटर और तकनीकी का आगमन राजीव गांधी का ही योगदान है।

7) राजीव गांधी के देश के विकास और सम्मान में दिए भाषण आज भी याद किये जाते हैं।

8) इस दिन बड़ी संख्या में लोग बिना किसी भेदभाव के देश की निस्वार्थ सेवा करने का संकल्प लेते हैं।

9) सद्भावना दिवस पर समाज के प्रति उत्कृष्ट योगदान के लिए हर वर्ष सद्भावना पुरस्कार दिया जाता है।

10) समाज में लोगों की सहायता और उनके उत्थान में किये गये कार्यों के लिए 1992 में मदर टेरेसा को प्रथम सद्भावना पुरस्कार दिया गया था।


भारत के छठे प्रधानमंत्री और आधुनिक भारत की नींव रखने वाले स्वर्गीय राजीव गांधी की शांतिप्रिय नीतियों और योगदानों के लिए उनकी मृत्यु के बाद उनके जन्मदिन को सद्भावना दिवस के रूप में मनाया जाने लगा जो उनके लिए देश की तरफ से सम्मान का प्रतीक है। यह दिन देश को साम्प्रदायिक और सामाजिक सद्भाव बनाये रखने के लिए प्रेरित करता है।