अच्छा दोस्त पर निबंध

आजकल के दौर में यदि आपके पास एक ऐसा मित्र है, जिसे आपने सदैव अपनी आवश्यकता के दौरान अपने समीप पाया हो। तो यकीन मानिये आप बहुत ही भाग्यशाली हैं और ऐसे ही मित्र सच्चे मित्र कहलाते हैं।

अच्छा दोस्त पर छोटे-बडे निबंध (Short and Long Essay on A Good Friend in Hindi)

निबंध – 1 (300 शब्द)

परिचय

एक अच्छा दोस्त 100 पुस्तकों के बराबर होता है; ऐसा स्वयं श्री ए. पी. जे. अब्दुल कलाम जी का मानना था। क्योंकि हम पुस्तकों को पढ़ सकते हैं, उनसे सीख सकते हैं परंतु उन बातों को प्रयोग में ला रहे हैं कि नहीं यह कोई और नहीं अपितु हमारे दोस्त ही समझ पाते हैं। हमपर हमारे संगत का असर इस कदर पड़ता है कि, कोई बच्चा या तो बन ही जाता है या बिगड़ ही जाता है।

अच्छा दोस्त - हमारासच्चा मार्गदर्शक

अच्छे दोस्तों का होना जीवन में बहुत आवश्यक होता है। बच्चे जितना आपने अध्यापक या माता-पिता से नहीं सीखते, उससे कई गुना वे अपने दोस्तों से सीखते हैं। और ऐसे स्थिति में दोस्तों के महत्व को आप समझ ही सकते हैं।

कई बार जो एक अभिभावक नहीं सिखा पाते, बच्चे अपने दोस्तों से सीख आते हैं। एक अच्छा दोस्त खुद तो अच्छे पथ पर चलता ही है और साथ ही अपने दोस्तों को भी अच्छी आदतें सिखाता है। और अपने दोस्तों को भी गलत मार्ग पर जाने से रोकता है। शायद इसी वजह से जीवन में अच्छे दोस्तों का होना बेहद आवश्यक होता है।

एक सच्चे मित्र के कुछ गुण होते हैं जैसे कि; वे कभी भी किसी से अपने मित्रों कि बुराई नहीं करते, वे आपके पीठ पीछे आपकी बातें नहीं करते, किसी भी तरह कि मुसीबत में आपको अकेला नहीं छोड़ते, बेमतलब की बातों पर बहस नहीं करते, आपकी हालातों का कभी फायदा नहीं उठाते, आदि।

हर व्यक्ति को जीवन के किसी न किसी पड़ाव में एक अच्छे साथी कि आवश्यकता होती है। जो कि उचित समय पर हमारा उचित मार्गदर्शन करा के हमारे जीवन को भी रोशन करते हैं।

निष्कर्ष

आजकल के दौर में सच्चे दोस्तों का मिलना बेहद मुश्किल है। इसी वजह से यदि आपके पास कोई सच्चा मित्र है तो अपनी दोस्ती को संभाल कर रखें और सदैव उसकी कद्र करें। अच्छा दोस्त मिलना किसी वरदान से कम नहीं होता।


निबंध – 2 (400 शब्द)

परिचय

एक व्यक्ति के जीवन में कई महत्वपूर्ण रिश्ते होते हैं और दोस्ती उन सब में सबसे अहम भूमिका निभाती है। कोई भी इंसान अपनी सारी समस्याओं को केवल अपने दोस्तों से ही साझा कर पाता है। कुल मिलाकर हम यह कह सकते हैं कि दोस्त वह इंसान होता है जो हम सब के जीवन में बहुत अहम भूमिका निभाता है। और कहीं न कहीं हम सब के जीवन को प्रभावित करता है।

अच्छे दोस्त कि परिभाषा

एक अच्छा दोस्त वह नहीं जो सदैव आपके हां में हां मिलाये, अपितु वे आपकी गलती पर आपको टोकता भी रहें। वे आपको प्रेरित भी करते हैं, और आपको आगे बढ़ाने के लिए अपना पूरा प्रयास भी करते हैं। एक सच्चा मित्र खुद भी प्रगति के पथ पर चलता है और अपने सहयोगियों की भी भरपूर मदद करता है।

एक अच्छा दोस्त सदैव अपने साथियों का भला चाहता है और सब को अपने साथ लेकर चलता है। वे कभी किसी से अपने दोस्तों कि बुराई नहीं करता, न तो उन्हें नीचा दिखाता है। एक अच्छा दोस्त पाना सच में किसी वरदान से कम नहीं।

जीवन में अच्छे दोस्त का महत्व

सभी माता–पिता अपने बच्चों को अच्छा आचरण सिखाते हैं, परंतु उनको अमल में लाना बच्चों पर निर्भर करता है। आपका आचरण ठीक वैसा ही होता है जैसे कि आपके दोस्त होते हैं, अर्थात हमारे जीवन में किसी भी प्रकार के बदलाव के लिए सबसे ज्यादा जिम्मेदार हमारे दोस्त ही होते हैं।

आपकी संगत या तो आपका जीवन बना ही देती है, या तो उसे बिगाड़ ही देती है। कोई भी व्यक्ति अपने हम उम्र दोस्तों के साथ अपनी बातें आसानी से साझा कर पाता है, और एक दूसरे के गुण एवं दोषों में पूरी तरह रच-बस जाता है। इसलिए अच्छे दोस्तों का होना जीवन में बहुत आवश्यक होता है।

अच्छे दोस्त के फायदे

आपने दोस्तों के ऊपर ढेरों कहावतें तो सुनी ही होंगी, और आपने स्वयं भी आपने दोस्तों का आपके जीवन में योगदान भी देखा ही होगा। एक अच्छे दोस्त का हमारी सफलता में बहुत बड़ा योगदान होता है। वे सदैव अपने दोस्तों के अवगुणों को उजागर करते हैं और उन्हें खत्म करते हैं साथ ही साथ उनके गुणों को निखारने में उनकी मदद करते हैं। और यह जरूरी नहीं कि आपका कोई हम उम्र हो, वह आपके अध्यापक, अभिभावक, कोई भी हो सकते हैं।

निष्कर्ष

हम यह कह सकते हैं कि जीवन का सफर दोस्तों के बगैर अधूरा है और हमें स्वयं भी इन गुणों को जरूर अपनाना चाहिये। और हमें यदि कोई ऐसा शख्स मिलता है जो हमारे लिए सोचे और हर परिस्थिति में हमारा साथ दे, तो यकीन मानिये कि आप बहुत किस्मत वाले हैं।

निबंध – 3 (500 शब्द)

परिचय

दोस्ती एक ऐसा रिश्ता है जिसे चंद शब्दों में परिभाषित नहीं किया जा सकता। यह कभी-कभी एक भाई से बढ़ कर प्रेम देता है, तो कभी मां का आंचल बन हमें मुसीबतों से निकालता है। ऐसा कोई कार्य नहीं जो एक मित्र न कर सके और यदि आपके जीवन में ऐसा कोई हो तो आप वाकई में भाग्यशाली हैं, क्यों कि आज कल के दौर में मित्र तो बहुत मिल जाएंगे परंतु अच्छे दोस्तों का मिलना आसान बात नहीं।

अच्छे दोस्त के गुण

  • यह एक निश्छल रिश्ता होता है, जिसमें लोग एक दूसरे कि मदद खुशी से करते हैं और सब के आगे बढ़ने कि कामना करते हैं। वे जीवन के किसी भी क्षेत्र में आपको अकेला नहीं छोड़ते एवं सदैव आपके साथ रहते हैं।
  • एक अच्छा दोस्त सदैव आपको सही राह पर चलने को प्रेरित करता है, चाहे वह राह कितना भी कठिन ही क्यों न हो।
  • वे आपकी सामाजिक एवं भावनात्मक दोनों रूप से मदद करते हैं।
  • एक अच्छा दोस्त कभी भी आपके अनुपस्थिति में, आपके लिए अनुचित शब्दों का प्रयोग नहीं करता।
  • अच्छे दोस्त कभी भी मुसीबत आने पर आपको कभी अकेला नहीं छोड़ते।
  • एक अच्छा दोस्त आपसे अपेक्षा तो कर सकता है परंतु कभी आपकी उपेक्षा नहीं करता।
  • हम अपने मित्रों से अपनी सभी बातें आसानी से साझा कर पाते हैं और आशा करते हैं कि वे हमें इस दुनिया में सबसे अधिक समझते हैं।
  • एक अच्छा दोस्त किसी भी आयु, लिंग और जाती का हो सकता है। कई बार हमारे अभिभावक हमारे सबसे अच्छे मित्र बन जाते हैं, जो हमारा सही मार्गदर्शन तो करते ही हैं साथ ही साथ हमें सबसे अधिक समझते भी हैं।
  • जीवन में अच्छे दोस्तों का होना किसी वरदान से कम नहीं होता। उन्हें सदैव सजो के रखें और उनका आदर करें।

अच्छा दोस्त - वफादारी का दूसरा नाम

दोस्तों को वफादारी का दूसरा नाम कहना गलत नहीं होगा। क्योंकि वे कभी आपको धोका नहीं देते और समय-समय पर कुछ ऐसे मिसाल कायम कर जाते हैं कि, हमारे दिल के और भी करीब हो जाते हैं।

कई बार हम देखते हैं कि उम्र व समय के साथ हमारे कई नए दोस्त बनते हैं और खत्म हो जाते हैं। पर जो हमारे साथ रह जाते हैं वे ही हमारे परम मित्र बन जाते हैं। और ज्यादातर देखा गया है कि ऐसी दोस्ती बहुत आगे तक जाती है। ऐसे लोग जो जीवन के हर पड़ाव पर हमारे साथ होते हैं वे हमारे और भी करीब हो जाते हैं।

हम किसी के साथ अपना सुख-दुख तभी साझा करते हैं जब वह भरोसेमंद होता है और एक वफादार इंसान सदैव हमारे दिल में अलग स्थान रखता है जो एक सच्चा दोस्त कहलाता है।

निष्कर्ष

दोस्ती के बारे में जितना कहा जाए कम ही होगा। वह एक ऐसा व्यक्ति होता है जो भले ही दूसरी मां से जन्मा हो पर आप दोनों कि सोच एक समान होती है। शायद यही वजह है कि हमारे बड़े बुजुर्ग कह गये हैं कि ‘जैसी संगत वैसी रंगत’। अर्थात हम पर अपने दोस्तों का असर बहुत ही जल्दी पड़ता है। इसलिए जीवन में एक अच्छा मित्र अवश्य कमायें। दोस्ती कमानी पड़ती है, ठीक उन्हीं आदतों को अपना कर जिसकी कामना आप अपने मित्र से करते हैं।


निबंध – 4  (600 शब्द)

परिचय

दोस्ती शब्द अपने आप में इतना समृद्ध है कि इसका कोई एक अर्थ निकालना इसे कम आंकना कहलाएगा। शायद दुनिया में माता-पिता के बाद दोस्त ही होते हैं जो हमारे सबसे करीब होते हैं। और हमें सबसे अच्छे से समझते हैं, तथा ऐसे में किसी बेहतरीन व्यक्ति का साथ मिल जाए तो जीवन संवर जाता है। दुनिया का हर दूसरा व्यक्ति देखने, सुनने और समझने में एक दूसरे से भिन्न होता है। पर जहां दो लोगों कि सोच थोड़ी मेल खाए वहीं दोस्ती पनपती है।

अच्छे दोस्तों का हमारे जीवन पर असर

ज्यादातर लोग अपना पहला दोस्त अपने स्कूल में बनाते हैं और यकीन मानिये, यह ये भी दर्शाता है कि आप दुनियादारी सीख रहे हैं। जब बच्चे अपने बल-बूते पर दोस्त बनाते हैं तो उनमें एक अलग प्रकार का आत्मविश्वास जन्म लेता है। जो कि आगे चल कर उनके जीवन में बहुत ही महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

चूंकि बच्चे बहुत जल्दी सीखते हैं, इस लिए ऐसा पाया गया है कि जिन बच्चों ने स्कूल आकर सबसे पहले दोस्त बनाये उनमें सीखने कि क्षमता भी अधिक पाई गई। वे अपने दोस्तों का नकल करने लगते और नई-नई आदतें व बातें एक दूसरे से सीखते हैं।

मान लीजिए की एक बच्चे का परिवेश ऐसा है कि वह आए दिन अपने घर के आस-पास कहीं न कहीं गालियां सुनता रहता हो। तो वहीं एक ऐसा बच्चा भी हो जिसके घर अनुचित शब्दों के प्रयोग पर डाटा जाए तो यकीन मानिये वह अपने दोस्त को भी समझाएगा कि वह गलत है। ठीक इसी प्रकार चाहे वह जीवन का कोई भी पड़ाव क्यों न हो, दोस्तों से हम सीखते हैं।

दोस्त बनाना भी एक कला होता है जो शायद सब को नहीं आता। जिसमें खुद को भी झोंकना पड़ता है, तब जा के भरोसे कि चाशनी तैयार होती है और एक बार यह चाशनी तैयार हो जाए आप इसका आनंद सारी उम्र उठा सकते हैं।

अच्छी मित्रता के कुछ खास उदाहरण

यह जरूरी नहीं कि आप अपने दोस्तों से रोज बात करें परंतु आवश्यकता पड़ने पर आप सदैव उन्हें अपने समीप पाएंगे। हमारे इतिहास में कुछ ऐसे उदाहरण हैं जो वाकई अच्छी दोस्ती के मिसाल हैं।

कृष्ण और सुदामा: शायद ही कोई ऐसा भारतीय होगा जो इतिहास के इस किस्से को नहीं जानता होगा। इनकी दोस्ती बाल्यावस्था में हुई थी जब दोनों बालक थे और अपनी-अपनी शिक्षा प्राप्त की। परंतु बाद में कृष्ण राजा बन गये और सुदामा एक गरीब ब्राह्मण। परंतु जब सुदामा श्री कृष्ण से मिलने गये, तो श्री कृष्ण ने उनके सारे कष्ट हर कर अपनी मित्रता को अमर कर दिया।

राम एवं सुग्रीव, कृष्ण एवं अर्जुन, दुर्योधन एवं कर्ण, कुछ ऐसे ऐतिहासिक उदाहरण हैं जो मित्रता के रिश्ते को और भी खास बना देते हैं और जीवन में अच्छे दोस्तों के महत्व को और बढ़ा देते हैं।

निष्कर्ष

जीवन में अच्छे दोस्तों का होना बेहद आवश्यक होता है, उनके होने मात्र से मन में हिम्मत आ जाती है, क्योंकि कई बार हमारे फैसले ऐसे होते हैं जिससे घर वाले हमारे खिलाफ हो जाते हैं, तब वे हमारे दोस्त ही होते हैं जो हमारी भावना को समझते हैं और सब को हमारे नजरिये से समझाने का प्रयास करते हैं। या फिर हमारे गलत होने पर हमें भी समझाते हैं।

एक अच्छा मित्र इतनी आसानी से नहीं मिलता थोड़ा त्याग खुद भी करना पड़ता है और अगर आपके पास ऐसा मित्र है तो उसकी कद्र अवश्य करें। वे स्वयं भगवान का प्रसाद होते हैं, जो जीवन के कठिन परिस्थितियों में इस कदर मदद कर जाते हैं कि आप आजीवन उन्हें भूल नहीं पाते। अगर भगवान ने आपको कुछ अधिक दिया है तो सदैव दूसरों कि मदद करें और एक अच्छे मित्र का उदाहरण आप भी बनें।