ग्लोबल वार्मिंग के कारण पर निबंध

ग्लोबल वार्मिंग शब्द का उपयोग धरती की सतह के औसत तापमान में बढ़ोतरी होने के लिए किया जाता है, जो मानव क्रियाओं द्वारा उत्पन्न होता है। ग्लोबल वार्मिंग सीधे तौर पर एक प्राकृतिक घटना है जिसे ग्रीनहाउस इफ़ेक्ट भी कहा जाता है जो ग्रीनहाउस गैसों की वजह से होता है। आज हम आपके लिए कुछ निबंध लेकर आये हैं जो ग्लोबल वार्मिंग के प्रभाव के कारणों से निपटने के बारे में बताएगा।

ग्लोबल वार्मिंग के कारणों पर लघु और दीर्घ निबंध (Short and Long Essay on Causes of Global Warming in Hindi)

निबंध 1 (250 शब्द)

परिचय

ग्लोबल वार्मिंग पृथ्वी के सतह के औसत तापमान में वृद्धि को संदर्भित करता है। पृथ्वी अपने स्वाभाविक रूप से होने वाले वायुमंडलीय आवरण की मदद से एक औसत तापमान बनाए रखती है। लेकिन किन्ही कारणों से, मुख्य रूप से मानव-प्रेरित कार्यों से, यह तापमान लगातार बढ़ रहा है और इस घटना को ही ग्लोबल वार्मिंग कहा जाता है।

ग्लोबल वार्मिंग का प्राथमिक कारण

ग्लोबल वार्मिंग का पहला और सबसे महत्वपूर्ण कारण ग्रीनहाउस इफ़ेक्ट है। बता दें कि पृथ्वी पर कार्बन डाइऑक्साइड, कार्बन मोनोऑक्साइड, सल्फर डाइऑक्साइड, नाइट्रस ऑक्साइड जैसी गैसों की एक प्राकृतिक एकाग्रता होती है। ये सभी गैसें पृथ्वी की सतह से सूरज की गर्मी को वातावरण में वापस लौटने से रोकती हैं। इस प्रक्रिया से पृथ्वी पर लगातार औसत तापमान बना रहता है, जो इस ग्रह पर जीवन के लिए अनुकूल है। इस प्रक्रिया को ग्रीनहाउस इफ़ेक्ट कहा जाता है और इन गैसों को ग्रीनहाउस गैसों के रूप में जाना जाता है।

आपको बताना चाहेंगे कि कई मानव गतिविधियाँ इन ग्रीनहाउस गैसों का उत्पादन भी करती हैं, जो अंततः उनके वायुमंडलीय एकाग्रता को बढ़ाता है। अत्यधिक ग्रीनहाउस गैसों का निर्माण गर्मी को वापिस वायुमंडल में जाने से बाधित करेगा, परिणामस्वरूप पृथ्वी के तापमान में वृद्धि होगी। इसके अलावा, निरंतर मानवीय गतिविधियां भी यह सुनिश्चित करती हैं कि अधिक ग्रीनहाउस गैसों को लगातार वायुमंडल में छोड़ा जा रहा है, जिससे ग्रीनहाउस इफ़ेक्ट में लगातार इजाफा हो रहा है। ग्रीनहाउस इफ़ेक्ट में निरंतर वृद्धि से धरती के तापमान में वृद्धि हो रही है, जो ग्रह की पारिस्थितिकी के लिए कहीं से भी अनुकूल नहीं है।

निष्कर्ष

यदि पृथ्वी पर तापमान वृद्धि को इस वर्तमान दर से बढ़ते रहने दिया जायेगा, तो निश्चित रूप से इसके प्रभाव जल्द ही देखने को मिलेंगे और वे कुछ भी हो सकते हैं लेकिन हमारे लिए किसी भी तरह से बेहतर नहीं होंगे। चरम जलवायु परिस्थितियां, बाढ़ और सूखा, आदि ये सब कुछ ग्लोबल वार्मिंग के ही कुछ नतीजे हैं।

निबंध 2 (400 शब्द)

परिचय

ग्लोबल वार्मिंग की मुख्य वजह मानवीय है, यानी कि यह मानवीय क्रियाओं द्वारा उभरी है। मानव गतिविधियाँ ग्रीनहाउस गैसों का उत्पादन करती हैं जिसके परिणामस्वरूप ग्रीनहाउस इफ़ेक्ट और ग्लोबल वार्मिंग की स्थिति उत्पन्न होती है। ग्रीनहाउस गैस, ग्रीनहाउस इफ़ेक्ट और ग्लोबल वार्मिंग इन तीनों के बीच का संबंध सीधे तौर पर एक समान अनुपात का है।

ग्लोबल वार्मिंग के विभिन्न कारण

ग्लोबल वार्मिंग के कई कारण हो सकते है जिनमे से कुछ का जिक्र हमने यहाँ पर नीचे किया है। हालाँकि यह आवश्यक रूप से ध्यान में रखा जाना चाहिए कि ग्लोबल वार्मिंग के सभी महत्वपूर्ण वजह केवल मानवीय गतिविधियों के कारण होते हैं।

  • परिवहन

परिवहन उद्योग विश्व स्तर पर एक संपन्न उद्योग है। हर रोज, हर तरह के आकार-प्रकार और क्षमता वाले लाखों परिवहन वाहन सड़क पर गुजरते हैं। साथ ही हर दिन लाखों नए वाहनों को मौजूदा वाहनों के साथ शामिल कर दिया जाता है। इनमें छोटे, व्यक्तिगत परिवहन से लेकर बड़े विमान तक शामिल होते हैं। वाहनों द्वारा प्रयुक्त ईंधन कार्बन डाइऑक्साइड और कार्बन मोनोऑक्साइड, नाइट्रोजन ऑक्साइड, सल्फर डाइऑक्साइड और ऐसी ही अन्य कई गैसों का उत्पादन करता है। ये गैस, वाहन के इंजन में होने वाली ज्वलन प्रक्रिया से उत्पन्न होती हैं और शक्तिशाली ग्रीनहाउस गैसें होती हैं। इसलिए, परिवहन वाहनों द्वारा ग्रीनहाउस गैसों की एकाग्रता में वृद्धि के परिणामस्वरूप ग्लोबल वार्मिंग होती है।

  • लैंडफ़िल

आमतौर पर एक शहर के बाहर फैलाए गए कचरे के बड़े ढेर को लैंडफिल कहते हैं। वे एक बेकार कचरा प्रबंधन प्रणाली के उत्पाद होते हैं। वे सभी प्रकार के ठोस कचरा पदार्थों को जमा करते हैं। प्लास्टिक, लकड़ी, पौधों सहित अर्ध-ठोस और तरल कचरा, ये सब कुछ भी इसमें शामिल होता है। जब इन्हें खुले में जमीन के अन्दर दबने के लिए छोड़ दिया जाता है, तो यह लैंडफिल मीथेन (CH4) का एक अच्छा स्रोत माना जाता है, जो एक ग्रीनहाउस गैस भी है। इसलिए, लैंडफिल भी वातावरण में बड़ी मात्रा में मीथेन उत्पादन करके ग्लोबल वार्मिंग में अपना योगदान करते हैं।

  • कारखाने

फैक्टरियों में कई तरह की रासायनिक प्रक्रियाएं शामिल होती हैं, जिसके परिणामस्वरूप कार्बन डाइऑक्साइड, कार्बन मोनोऑक्साइड, नाइट्रस ऑक्साइड और सल्फर डाइऑक्साइड जैसी गैसें उत्पन्न होती हैं। जीवाश्म ईंधन उत्पादन उद्योग भी ग्रीनहाउस गैसों का एक अच्छा स्रोत होता है। नियामक तंत्र की अनुपस्थिति में इन सभी गैसीय उत्पादों को ऊँची चिमिनी की मदद से सीधे वायुमंडल में छोड़ा जाता है, जिसके परिणामस्वरूप ग्लोबल वार्मिंग में बढ़ोतरी होती है।

  • खनन गतिविधियाँ

खनन उद्योग आज मानव सभ्यताओं की रीढ़ की हड्डी के रूप में खड़ा है। यह उपयोगी रोजमर्रा के उत्पादों के निर्माण के लिए कच्चे माल और अन्य आवश्यक खनिज उपलब्ध कराता है। कई उद्योग अपने कच्चे माल की आपूर्ति के लिए खनन पर निर्भर हैं। खनन उद्योग, सीधे तौर पर अपने परिवहन से लेकर खनिजों के निष्कर्षण तक, ग्रीनहाउस गैसों का उत्पादन करता है, जिससे ग्लोबल वार्मिंग में योगदान होता है।

निष्कर्ष

विश्व शक्ति को इस स्थिति पर ध्यान देना चाहिए और विभिन्न मानवीय गतिविधियों के कारण उत्पन्न ग्रीनहाउस गैसों के उत्सर्जन को कम करने के लिए एक प्रभावी योजना तैयार करनी चाहिए।

निबंध 3 (600 शब्द)

परिचय

"ग्लोबल वार्मिंग" आज दुनिया भर में सबसे ज्यादा चर्चा का विषय बना हुआ है। यह पारिस्थितिकी को प्रभावित करता है और कई तरीकों से पृथ्वी पर जीवन के अस्तित्व को खतरे में डालता है। इस निबंध में, हम आपके लिए ग्लोबल वार्मिंग के कारणों के बारे में विस्तार से बताएँगे।

ग्लोबल वार्मिंग क्या है?

ग्लोबल वार्मिंग पृथ्वी के औसत तापमान में लगातार हो रही वृद्धि को संदर्भित करता है। पृथ्वी सतह और वायुमंडल में एक औसत तापमान बनाए रखती है, जो जीवित प्राणियों के योग्य होता है। लेकिन कुछ वजहों के कारण, यह तापमान अब धीरे-धीरे बढ़ रहा है, हालांकि, इसके बढ़ने की गति काफी धीमी है लेकिन इसमें लगातार बढ़ोतरी देखी जा रही है।

पिछली शताब्दी से धरती के साथ के तापमान में 0.8 °सेंटीग्रेड या 1.4 °फारेनहाईट के आसपास वृद्धि नापी गयी थी। असल में, पिछला हर एक दशक पहले की तुलना में गर्म महसूस किया जा रहा है।

ग्लोबल वार्मिंग का मुख्य कारण प्राकृतिक घटना से जुड़ा है जिसे 'ग्रीनहाउस इफ़ेक्ट' कहा जाता है। ग्रीनहाउस इफ़ेक्ट ग्रीनहाउस गैसों के कारण होता है जो प्राकृतिक रूप से वायुमंडल में मौजूद होते हैं; हालाँकि, कुछ मानवीय गतिविधियाँ भी ग्रीनहाउस गैसों को जन्म देती हैं, जिससे ग्रीनहाउस इफ़ेक्ट तीव्र होता है। ग्लोबल वार्मिंग और ग्रीनहाउस इफ़ेक्ट एक-दूसरे के लिए सीधे तौर पर आनुपातिक हैं, यानी आप ऐसा कह सकते हैं कि ग्रीनहाउस इफ़ेक्ट बढ़ता है तो ग्लोबल वार्मिंग भी बढ़ेगा।

ग्रीनहाउस इफ़ेक्ट को आप पृथ्वी की सतह का एक कंबल की तरह से समझ सकते है जो पृथ्वी के सतह की गर्मी को वायुमंडल में जाने से रोकता है, जिससे सतह के तापमान में वृद्धि होती है। ऐसे में वायुमंडल में जितनी अधिक ग्रीनहाउस गैसें होंगी, उतना ही ज्यादा ग्रीनहाउस इफ़ेक्ट होगा जिसके परिणामस्वरुप ग्लोबल वार्मिंग होगा।

ग्लोबल वार्मिंग के कारण क्या हैं?

ग्लोबल वार्मिंग के कई मानव जनित कारण हैं। मुख्य रूप से ग्रीनहाउस गैसों की उत्पत्ति के परिणामस्वरूप होने वाली मानवीय गतिविधियां ग्लोबल वार्मिंग के लिए जिम्मेदार हैं। हमने यहाँ पर नीचे ग्लोबल वार्मिंग के कुछ मुख्य कारणों को सूचीबद्ध किया हैं।

जीवाश्म ईंधन

जीवाश्म ईंधन का व्यापक उपयोग ग्लोबल वार्मिंग का सबसे बड़ा कारण बनते जा रहा है। आज जीवाश्म ईंधन उद्योग एक संपन्न उद्योग है, जिसमें इसका उत्पादन और खपत दोनों ही शामिल है। परिवहन में प्रयुक्त पेट्रोल और डीजल भी एक जीवाश्म ईंधन है। जीवाश्म ईंधन के जलने से कार्बन मोनोऑक्साइड, कार्बन डाइऑक्साइड और नाइट्रस ऑक्साइड जैसी गैसें उत्पन्न होती हैं। ये सभी एक शक्तिशाली ग्रीनहाउस गैस के रूप में जानी जाती हैं जो ग्रीनहाउस इफ़ेक्ट को बढ़ाती हैं, जिसकी वजह से पृथ्वी का तापमान भी बढ़ता है, यानी ग्लोबल वार्मिंग।

वनों की कटाई

निरंतर रूप से पेड़ों की कटाई और वनों को साफ़ कर के उसका इस्तेमाल अन्य रूप में करना भी ग्लोबल वार्मिंग को बढ़ने में बहुत बड़ा योगदान देता है। पेड़ प्राकृतिक रूप से धरती और वातावरण को शीतलता पहुँचाने के रूप में कार्य करते हैं और कार्बन डाइऑक्साइड को अवशोषित करते हैं और ऑक्सीजन का उत्सर्जन करते हैं। वनों को काटने का अर्थ है कि कार्बन डाइऑक्साइड को अवशोषित करने के लिए कम पेड़ रहेंगे और इसलिए इसकी वायुमंडलीय मात्रा में वृद्धि होगी। चूंकि कार्बन डाइऑक्साइड एक ग्रीनहाउस गैस है, इसकी वायुमंडलीय एकाग्रता में वृद्धि का अर्थ है कि अधिक ग्रीनहाउस इफ़ेक्ट का होना, अंततः पृथ्वी के तापमान में वृद्धि होगी। पृथ्वी के तापमान में यह वृद्धि ग्लोबल वार्मिंग के अलावा और कुछ नहीं है।

खेत की गतिविधियाँ

खेती वैश्विक स्तर पर किया जाने वाला सबसे आम पेशा है। दुनिया भर के लाखों लोग अपनी आजीविका के लिए आज भी पूरी तरह से खेती और कृषि गतिविधियों पर ही निर्भर हैं। दूध और अन्य उत्पादों के लिए दुनिया भर में मवेशियों का अधिकता से उपयोग किया जाता है। कृषि गतिविधियों में उपयोग किए जाने वाले रासायनिक उर्वरक और कीटनाशक अपघटन पर नाइट्रस ऑक्साइड छोड़ते हैं, जो एक शक्तिशाली ग्रीनहाउस गैस होती है। साथ ही, मवेशी मीथेन गैस का एक बेहतर स्रोत होते है जो उनके पाचन तंत्र में उत्पन्न होता है। मीथेन भी एक ग्रीनहाउस गैस है जो ग्रीनहाउस इफ़ेक्ट और ग्लोबल वार्मिंग बढ़ोतरी में योगदान देता है।

निष्कर्ष

ग्लोबल वार्मिंग एक गंभीर पर्यावरणीय चिंता का विषय है जो इस ग्रह पर जीवन के अस्तित्व को खतरे में डालते जा रहा है। यदि तापमान मौजूदा दर से बढ़ना जारी रहता है, तो अगले 100 वर्षों में या उससे कुछ अधिक वक़्त में, तापमान तमाम तरह के भूमि और जल प्रजातियों के लिए असहनीय रूप से गर्म हो जाएगा। ग्लोबल वार्मिंग को नियंत्रित करने के लिए हमें पहले अपनी गतिविधियों को नियंत्रित करना होगा और ग्रह पर अपने कार्बन का उत्सर्जन करने वाले उत्पादों के इस्तेमाल को कम करना होगा।