डॉक्टर पर निबंध (Doctor Essay in Hindi)

डॉक्टर एक चिकित्सा व्यवसायी है जो स्वास्थ्य की जांच-पड़ताल करता है और किसी व्यक्ति की मानसिक या शारीरिक स्वास्थ्य से संबंधित मुद्दों से जुडी परेशानी को दूर करता है। डॉक्टर समाज का अभिन्न अंग हैं। विभिन्न प्रकार के स्वास्थ्य समस्याओं का इलाज करने के लिए डॉक्टर विभिन्न क्षेत्रों में विशेषज्ञ हैं। चिकित्सा विज्ञान का क्षेत्र विशाल है और इस पेशे में आने के लिए शिक्षा पूरी करने और कठोर प्रशिक्षण लेने में वर्षों लगते हैं।

डॉक्टर पर छोटे तथा बड़े निबंध (Short and Long Essay on Doctor in Hindi, Doctorpar Nibandh Hindi mein)

निबंध – 1 (300 शब्द)

प्रस्तावना

डॉक्टरों को हमारे समाज में एक उच्च दर्जा दिया गया है। चिकित्सा पेशे को सबसे अच्छे व्यवसायों में से एक माना जाता है। यह एक व्यवसाय भी है जो अच्छी आय कमाने में मदद करता है।

डॉक्टर जीवन उद्धारकर्ता हैं

किसी भी समाज के लिए डॉक्टर आवश्यक हैं I उन्हें जीवन उद्धारकर्ता माना जाता है हमारे दैनिक जीवन में हम अक्सर उन स्वास्थ्य समस्याओं का सामना करते हैं जो हमारी समझ से बाहर हैं। हमें इन समस्याओं को समझने और इसे ठीक करने के लिए डॉक्टर से मदद की ज़रूरत है। मेडिकल हस्तक्षेप के बिना स्थिति खराब हो सकती है। इस प्रकार डॉक्टरों को जीवन सौहार्य माना जाता है। वे चिकित्सा विज्ञान के अध्ययन में अपने जीवन के कई साल लगाते हैं। एक बार जब वे इस क्षेत्र के बारे में सैद्धांतिक और व्यावहारिक ज्ञान प्राप्त कर लेते हैं तो उन्हें इस पेशे को संभालने के लिए पूरी तरह से प्रशिक्षण दिया जाता है जो उनका लक्ष्य है।

चिकित्सा व्यवसाय सदियों से विकसित हुआ है और अभी भी विकसित हो रहा है। विभिन्न बीमारियों की दवाएं तथा उपचार जो पहले उपलब्ध नहीं थे अब विकसित हुए हैं। चिकित्सा प्रौद्योगिकी ने भी समय गुजरने के साथ प्रगति की है। अगर हमारे पास अच्छे डॉक्टर हैं और हमारे आसपास के क्षेत्र में चिकित्सा सुविधाएं हैं तो यह राहत की भावना देता है क्योंकि हमें पता है कि हमारे पास तत्काल सहायता का साधन है।

एक योग्य डॉक्टर कैसे बने?

कई छात्र चिकित्सकीय पेशे में जाने और डॉक्टर बनने की इच्छा रखते हैं। इस दिशा में पहला कदम देश भर में सरकारी और निजी मेडिकल संस्थानों में एमबीबीएस और बीडीएस पाठ्यक्रमों के लिए छात्रों का चयन करने के लिए हर साल राष्ट्रीय पात्रता सह प्रवेश परीक्षा (एनईईटी) के लिए उपस्थित होना है। यदि आप इस प्रवेश परीक्षा में उपस्थित होना चाहते हैं तो अपनी 11वीं और 12वीं कक्षा के दौरान आपके पास भौतिक विज्ञान, रसायन विज्ञान और जीव विज्ञान प्रमुख विषयों के रूप में होना आवश्यक है। एक न्यूनतम प्रतिशत कसौटी भी निर्धारित है। जो छात्र प्रवेश परीक्षा पास करते हैं उन्हें काउंसलिंग में भी पास होना जरुरी है ताकि उनका दाखिला पक्का माना जाए।

निष्कर्ष

जहाँ लोग अपने जीवन को लेकर डॉक्टरों पर भरोसा करते हैं वहीँ अतीत में कुछ मामलों ने उनके विश्वास को हिला कर दिया है। डॉक्टरों को अपने पेशे के प्रति वफ़ादार रहना आवश्यक है।

निबंध – 2 (400 शब्द)

प्रस्तावना

भारत में डॉक्टरों को ऊँचा दर्जा दिया जाता है। हालांकि भारत में स्वास्थ्य सेवा उद्योग विश्व के विकसित देशों के समान नहीं है परन्तु हमारे पास चिकित्सा का अध्ययन करने के लिए अच्छी सुविधा है और इसके लिए प्रतिभाशाली डॉक्टरों का एक समूह भी है फिर भी भारत को स्वास्थ्य सेवा में लंबा रास्ता तय करना है।

भारत में डॉक्टर और हेल्थकेयर

यहां स्वास्थ्य सेवा उद्योग की स्थिति और हमारे देश के डॉक्टरों पर एक संक्षिप्त नज़र डाली गई है:

भारत में कई निजी नर्सिंग होम और अस्पतालों की स्थापना की जा रही है। विडंबना यह है कि इनमें से कोई भी जनता की सेवा के उद्देश्य से स्थापित नहीं किया जा रहा है। ये सिर्फ व्यापार करने के लिए हैं।

सरकार ने कई सरकारी अस्पतालों का गठन किया है। इनमें से कई में एक अच्छा बुनियादी ढांचा है पर अधिकांश को अच्छी तरह प्रबंधित नहीं किया जा रहा है। स्वास्थ्य सेवा उद्योग में विभिन्न स्तरों पर बहुत भ्रष्टाचार है। हर कोई पैसे कमाना चाहता है भले ही इसके लिए किसी के स्वास्थ्य की कीमत चुकानी पड़े।

सरकारी अस्पतालों में कार्यरत कर्मचारी भी रोगियों को ठीक से सेवा देने के लिए प्रतिबद्ध नहीं हैं। ऐसे कई मामले देखने को मिले हैं जहां रिपोर्ट गलत साबित हो जाती है और रोगियों को समय पर दवा नहीं मिल पाती। इसके अलावा जब अस्पताल में दवाएं और चिकित्सा उपकरणों की आपूर्ति की बात आती है तो कुप्रबंधन देखने को मिलता है।

न केवल मरीजों, डॉक्टरों को भी इस तरह की समस्याओं का सामना करना पड़ता है। डॉक्टरों का कर्तव्य रोगी की जांच करना, समस्या को दूर करना, इलाज करना और रोगी की स्थिति की निगरानी करना है। हालांकि नर्सों और कर्मचारियों की कमी के कारण डॉक्टरों को भी विभिन्न कार्यों को करने के लिए मजबूर किया जाता है। डॉक्टरों को रिपोर्टों का विश्लेषण करने और रोगी की स्थिति की निगरानी करने के लिए खर्च करने का समय फालतू के कार्यों में खर्च होता है जैसे इंजेक्शन देना और मरीजों को एक वार्ड से दूसरे में लेना ले जाना। यह काम डॉक्टरों पर बोझ और उनके बीच असंतोष पैदा करता है।

क्या हम डॉक्टरों पर विश्वास कर सकते हैं?

जैसा कि ऊपर बताया गया है निजी अस्पतालों और नर्सिंग होम को व्यवसाय करने के उद्देश्य से स्थापित किया जा रहा है न कि जनता की सेवा के इरादे से। बार-बार धोखाधड़ी के कई मामलों के माध्यम से यह साबित हो गया है। विश्वास के पहलू के कारण भारत में लोग इन दिनों डॉक्टरों से इलाज करवाने में संकोच करते हैं। बहुत से लोग आम सर्दी, फ्लू और बुखार के लिए घर पर ही दवाओं को लेना पसंद करते हैं क्योंकि उनका मानना है कि चिकित्सक इस मुद्दे को अनावश्यक रूप से बढ़ा सकते हैं।

निष्कर्ष

हालाँकि कोई व्यक्ति सामान्य सर्दी और हल्के बुखार के लिए डॉक्टर से नहीं मिले तो चलता है पर अगर स्थिति बिगड़ जाती है तो अनदेखी नहीं करनी चाहिए। डॉक्टरों को ईमानदारी से अपना कर्तव्य पूरा करते हुए विश्वास का निर्माण करना महत्वपूर्ण है।

Essay on Doctor in Hindi

निबंध – 3 (500 शब्द)

प्रस्तावना

दवा का क्षेत्र समय बीतने के साथ विकसित हुआ है और डॉक्टरों के ज्ञान में बढ़ोतरी हुई है। भारत ने प्राचीन काल से ही विभिन्न बीमारियों के इलाज की खोज की है। यहां पर चमत्कारी चिकित्सा पद्धतियां प्रचलित हैं जो कि लोगों को नया जीवन देने में सहायता देती थी। उनके पास मोतियाबिंद ठीक करने, दंत चिकित्सा सर्जरी, प्लास्टिक सर्जरी और ना जाने कितने तरीके थे।

प्राचीन भारत में चिकित्सा पद्धतियां

प्राचीन भारत में शल्यक्रिया करने की कला को शास्त्रीकर्मा कहा जाता था। यह मूल रूप से आयुर्वेद की आठ शाखाओं में से एक है। उपलब्ध आंकड़ों के मुताबिक 2011-12 से हमारे देश में शास्त्रीकर्मा का अभ्यास किया जा रहा था। शुश्रुत, चरक और अटराय पहले भारतीय चिकित्सकों में से एक थे।

आयुर्वेद, चिकित्सा का प्राचीन विज्ञान, को अभी भी विभिन्न बीमारियों के उपचार के लिए प्राथमिकता दी जाती है। यह देश के विभिन्न हिस्सों में प्रचलित है और उपचार के लिए इन चिकित्सकों के पास दूर-दूर से यात्रा करके लोग आते हैं। आयुर्वेद शब्द का अर्थ लंबे समय तक रहने का विज्ञान है। आधुनिक दवाइयों के विपरीत आयुर्वेदिक दवाइयों और उपचारों का कोई दुष्प्रभाव नहीं है। आयुर्वेदिक दवाएं पूरी तरह से जड़ी-बूटियों और हर्बल यौगिकों से बनाई गई हैं।

अच्छे और जिम्मेदार डॉक्टरों की आवश्यकता

भारत अपने प्रतिभाशाली दिमाग की गुणवत्ता के लिए जाना जाता है। न केवल दुनिया के विभिन्न हिस्सों के लोग हमारे देश में प्राचीन चिकित्सा विज्ञान और आयुर्वेद की मदद पाने आते हैं बल्कि आधुनिक चिकित्सा की पद्धतियों के बारे में ज्ञान रखने वाले भारतीय डॉक्टरों के अभ्यास के माध्यम से उपचार पाने के लिए भी आते हैं जिनकी दुनिया भर में बहुत अधिक मांग है। चूंकि भारतीय विश्वविद्यालयों में दी जाने वाली चिकित्सा की डिग्री दुनिया के कई हिस्सों में मान्यता प्राप्त नहीं है, इसलिए हमारे देश के कई मेडिकल छात्र अब विदेशों में चिकित्सा पाठ्यक्रमों को पूरा करने के लिए जाते हैं।

लोग विकसित देशों की ओर आकर्षित होते हैं क्योंकि वे उच्च आय और रहने वाले जीवन का बेहतर स्तर मुहैया कराते हैं। बेहतर योग्यता की संभावनाओं को देखकर कई योग्य डॉक्टर हर साल भारत से विदेश से चले जाते हैं। कई अन्य लोग अंततः वहां बसने के उद्देश्य से विदेशों में दवा का अध्ययन करने जाते हैं। हमारे देश में स्वास्थ्य देखभाल प्रणाली में सुधार की बुनियादी आवश्यकताओं में से एक अच्छा डॉक्टर होना है। भारत सरकार को देश में चिकित्सा सुविधाओं में सुधार के साथ-साथ प्रतिभा पलायन को रोकने के लिए कदम उठाने चाहिए।

क्यों आकांक्षी डॉक्टर विदेश में बस रहे हैं?

पिछले कुछ वर्षों में मेडिकल की डिग्री के लिए विदेश जाने वाले भारतीय छात्रों की संख्या में वृद्धि हुई है। इन छात्रों के विदेश बसने के कई कारण हैं। इसके अलावा बेहतर नौकरी की संभावनाएं, विदेश में प्रवेश पाने में आसानी भी मुख्य कारणों में से एक है। राष्ट्रीय पात्रता सह प्रवेश परीक्षा (NEET) देश भर में मेडिकल कॉलेजों में मेडिकल और दंत पाठ्यक्रमों के लिए छात्रों का चयन करने के लिए आयोजित किया जाता है जो अपेक्षाकृत काफी कठिन है। हर साल इस परीक्षा में भाग लेने वाले अधिकांश छात्र प्रवेश पाने में असफल रहते हैं और इस प्रकार उनमें से बहुत से मेडिकल की डिग्री लेने के लिए विदेश जाना चुनते हैं।

चिकित्सा महाविद्यालयों का इंफ्रास्ट्रक्चर और विदेशों में शोध के अवसर भारत से कहीं ज्यादा बेहतर है और डॉक्टरों की कार्य स्थिति भी यही है।

निष्कर्ष

जहाँ भारत में डॉक्टरों को उच्च सम्मान दिया जाता है लेकिन ऊपर बताए कारणों की वजह से विदेशों में जाना हमेशा चिकित्सा पेशेवरों को आकर्षित करता है। डॉक्टरों के लिए बेहतर काम की स्थिति प्रदान करने के लिए भारत सरकार को कदम उठाने चाहिए।

निबंध – 4 (600 शब्द)

प्रस्तावना

चिकित्सकों को भगवान के समक्ष माना जाता है। इसका कारण यह है कि वे लोगों को नया जीवन देते हैं। वे विभिन्न चिकित्सा परेशानियों को दूर और उपचार करने के लिए आवश्यक ज्ञान और उपकरणों से लैस होते हैं। वे अन्य चिकित्सा कर्मचारियों की मदद से उपचार करते हैं। मरीजों की देखभाल करने के लिए उन्हें अस्पताल और नर्सिंग होम में तरह-तरह की सुविधाएँ मुहैया कराई जाती हैं।

इन दिनों डॉक्टर कितने जिम्मेदार हैं?

लोग अपने स्वास्थ्य को अच्छी तरह से सुनिश्चित करने के लिए डॉक्टरों पर भरोसा करते हैं। उनका मानना ​​है कि जब तक उनके पास डॉक्टर है तो उन्हें किसी भी प्रकार की वैद्यकीय समस्या की चिंता करने की ज़रूरत नहीं है। डॉक्टर सुरक्षा का माहौल बनाते हैं। हालांकि कुछ ऐसी घटनाओं, जो पिछले कुछ दशकों से प्रचलित हैं, ने इस महान पेशे में लोगों के विश्वास को हिला कर रख दिया है।

अब सवाल यह है कि इन दिनों डॉक्टर खुद कितने ज़िम्मेदार हैं? अब लोग इन दिनों डॉक्टरों को गलत समझने लगते हैं और उनके पास ऐसा करने के सभी कारण भी हैं तो हम पूरी तरह इस बात को झुठला भी नहीं सकते। प्रत्येक व्यक्ति दूसरे व्यक्ति से अलग है। कुछ ऐसे लोग हो सकते हैं जो भ्रष्ट तरीकों का इस्तेमाल करते हैं लेकिन उनमें से बहुत से लोग जिम्मेदारी से काम करते हैं और इस पेशे को पैसा कमाने के एक साधन के रूप में इस्तेमाल नहीं करते।

मेडिकल व्यवसाय और डॉक्टरों के स्तर में गिरावट

तकनीकी दृष्टि से चिकित्सा व्यवसाय ने नए चिकित्सा उपकरणों के विकास और विभिन्न चिकित्सा संबंधी मुद्दों से निपटने के बेहतर तरीकों की प्रगति के साथ काफी उन्नति की है परन्तु नैतिक रूप से इसको बहुत अपमानित होना पड़ा है। जब-जब चिकित्सा प्रणाली की बात आती है तब-तब भारत में पहले से ही कई समस्याओं का मुद्दा उठता है (भले ही यहाँ दुनिया भर के कुछ अच्छे डॉक्टर हैं) और यह भ्रष्टाचार जैसी स्थिति को बढ़ावा देने में भी सबसे ऊपर है।

भारत के नागरिकों के पास कोई राष्ट्रीय स्वास्थ्य बीमा प्रणाली नहीं है और निजी क्षेत्र हमारे देश की स्वास्थ्य सेवा क्षेत्र पर हावी है। हालांकि सरकार ने कई सरकारी अस्पतालों और नर्सिंग होम की स्थापना की है पर उनकी संरचना और समग्र स्थिति खराब है और इसलिए ज्यादातर लोग वहां जाना पसंद नहीं करते हैं। भारत सरकार स्वास्थ्य देखभाल पर बहुत कम खर्च करती है। यह भ्रष्टाचार का मूल कारण है। लोग बेहतर सुविधा और सेवाएं पाने के लिए निजी क्षेत्र की ओर आकर्षित होते हैं। हालांकि इस क्षेत्र का मुख्य उद्देश्य मरीजों के इलाज के बजाए पैसा कमाना है।

यह सामान्य बात है कि मरीजों को सभी तरह के रक्त परीक्षण, एक्स-रे और अन्य परीक्षण कराने का सुझाव दिया जाता है भले ही वे साधारण बुखार या खाँसी के लिए उनसे संपर्क करते हो। चिकित्सक स्वास्थ्य ठीक करने और विभिन्न चिकित्सा स्थितियों के बारे में ज्ञान की कमी के कारण लोगों की जरूरतों का फायदा उठाते हैं। यहां तक ​​कि अगर लोग इन परीक्षणों का खर्चा वहन नहीं कर सकते तब भी वे इन परीक्षणों को कराते हैं। कई दवाइयां और स्वास्थ्य संबंधी टॉनिकों को निर्धारित करना भी काफी आम हो गया है। ये सिर्फ पैसे कमाने का एक तरीका है। इनमें से कुछ का रोगियों पर भी साइड इफेक्ट होता है लेकिन इन दिनों डॉक्टरों को इसकी चिंता नहीं होती है। रोगियों की समस्याएं बस डॉक्टरों के लिए पैसे कमाने का जरिया है।

ऐसे मामले देखने को मिलते हैं जिनमें लोगों को अस्पताल में भर्ती कराया जाता है और आवश्यक अवधि से अधिक समय तक रहने को कहा जाता है ताकि अस्पताल उनसे लाभ कमा सके। लोगों को उनकी बीमारियों के बारे में गलत तरीके से बताया जाता है ताकि उनसे पैसे निकाले जाएं। लोगों की सेवा करने बजाए आजकल मेडिकल व्यवसाय पैसे कमाने का जरिया बन गया है। इसके अलावा अंग तस्करी जैसी ख़राब प्रथाओं ने लोगों के बीच असुरक्षा को जन्म दिया है।

निष्कर्ष

देश में चिकित्सा प्रणाली की स्थिति को देखना बहुत दुखदाई है। सरकार को इस स्थिति को बेहतर बनाने के लिए पहल करनी चाहिए। चिकित्सकों को जिम्मेदारी से कार्य करना चाहिए और इस पेशे की गरिमा बनाई रखनी चाहिए।