मुझे अपने परिवार से प्यार है पर निबंध

“परिवार प्यार का दूसरा नाम हैं।”

इंसान हो या जानवर, सभी को अपने परिवार से प्रेम होता है। आखिर परिवार ही तो हमारे अस्तित्व का आधार होता है। हम सभी अपने परिवार में ही जन्म लेते है, और हमारा परिवार ही हमें पाल-पोष कर बड़ा करता है। परिवार में ही हमें नया जीवन मिलता है, हमारें सपनों में रंग भरता है। परिवार और परिवार के प्रेम के बिना कोई जीवित नहीं रह सकता।

‘मुझे अपने परिवार से प्यार है’ पर छोटे-बड़े निबंध (Short and Long Essay on I Love My Family in Hindi)

निबंध – 1 (300 शब्द)

परिचय

“एक सुखी परिवार कुछ नहीं बस स्वर्ग से पहले का स्वर्ग हैं।”

प्रत्येक मनुष्य के लिए महत्वपूर्ण होता है परिवार। यह कहा जाता है कि मानव प्रजातियां इस दुनिया में जीवित हैं क्योंकि वे एक परिवार या समुदाय या एक समूह में रह रहे हैं। यही कारण है, जो एक आदमी को, एक जानवर से अलग करती है। हालांकि कुछ जानवर हैं जो एक समूह में रहने का आनंद लेते हैं।

परिवार का अर्थ

मानव ही एकमात्र ऐसा है जो जीने के साथ-साथ सोच सकता है। परिवार का एक सरल अर्थ भावनाओं से है। यदि आप एक घर में समूह के साथ रह रहे हैं तो इसे परिवार नहीं कहा जा सकता है। इसे एक समुदाय या एक साधारण समूह के रूप में कहा जा सकता है। लेकिन अगर आप एक ऐसे समूह में रह रहे हैं जिसमें आप अपनी खुशी, दुःख और बहुत सारी अन्य चीजें बिना किसी अड़चन के साझा करते हैं तो इसे परिवार कहा जा सकता है।

मैं अपने परिवार से प्यार क्यों करती हूँ

1) मेरा परिवार मुझे बहुत स्नेह करता है। परिवार सभी के लिए प्यार और स्नेह का अंतिम स्रोत होता है।

2) सबसे ज्यादा सुरक्षित हम अपने परिवार के साथ ही होते हैं। क्योंकि परिवार संरक्षण का स्रोत होता है। यह बाहरी दुनिया से हर इंसान को आश्रय प्रदान करता है।

3) परिवार कठिन समय में सबसे अच्छा दोस्त होता है, यह हमारे साथ तब भी खड़ा होता है, जब हम सभी के द्वारा अकेले छोड़ दिये जातें हैं।

4) एक मजबूत और प्यार करने वाला परिवार सभी कठिनाइयों के खिलाफ एक व्यक्ति की सफलता के पीछे मजबूत कारक होता है।

5) परिवार का प्रेम और साथ होने से हम किसी भी मुश्किल का सामना आसानी से कर सकते है।

6) सभी मनुष्यों में परिवार का प्रेम स्वाभाविक है।

निष्कर्ष

परिवार हर इंसान की अमूल्य निधि होती है। आदमी जनम परिवार में लेता है, परिवार में ही पलता और बढ़ता है। परिवार ही हमें बीज से सींच कर एक विशाल वृक्ष में परिणत करता है। कोई भी व्यक्ति अपने परिवार के बिना जीवित नहीं रह सकता। परिवार इंसान का ताकत होता है।

निबंध – 2 (400 शब्द)

परिचय

प्रेम किसी भी चीज़ के लिए स्वाभाविक मानवीय प्रतिक्रिया है जिसे वह सबसे अधिक पसंद करता है। ऐसी कई चीजें हैं जो एक आदमी को पसंद होती है। लेकिन परिवार का प्यार सभी से बेहतर है। पारिवारिक प्रेम मनुष्य के लिए पवित्र प्रेम है जिसके लिए सभी चीजों का त्याग कर सकते हैं। इसलिए, एक आदमी के लिए अपने परिवार से सबसे ज्यादा प्यार करना स्वाभाविक है।

पूर्ण परिवार की परिभाषा

मैं अपने परिवार को सम्पूर्ण मानती हूँ। यह महत्वपूर्ण नहीं है कि आपके पास बहुत से लोग हैं जिन्हें आप एक परिवार में ले जाते हैं लेकिन यह अधिक महत्वपूर्ण है कि परिवार के सदस्यों के बीच अच्छी समझ, परस्पर प्रेम और सम्मान हो। महत्वपूर्ण यह है कि वे कठिन परिस्थितियों में कैसे व्यवहार करते हैं और महत्वपूर्ण समय आने पर एक-दूसरे की मदद करते हैं। यदि इन सभी उद्देश्यों को पूरा किया जाता है, तो इसे मीठा और खुशहाल परिवार कहा जा सकता है।

यह पूर्ण परिवार की सही परिभाषा है। प्रत्येक व्यक्ति एक परिवार का पालन-पोषण करता है और प्रत्येक व्यक्ति गर्व से कहता है "मुझे अपने परिवार से प्यार है"।

मेरा परिवार

मेरे परिवार में पाँच लोग - माता-पिता, एक भाई, एक बहन और मैं शामिल हूँ। इसे मैं पूरा परिवार मानती हूं। मेरी सभी आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए मेरे माता-पिता हैं। वे जीवन के हर मुश्किल दौर में मेरी मदद करते हैं। जब भी मैं किसी प्रयास में असफल होती हूं तो वे मुझे प्रेरित करते हैं। वे मुझे जीवन के कठिन रास्तों में चलने की शक्ति प्रदान करते हैं।

मेरे भाई-बहन

इसके अलावा मेरे एक भाई है जो मुझसे रोज लड़ते है। लेकिन साथ ही मेरा ख्याल भी रखते हैं। वह मुझे परीक्षा में मदद करते है और मुझे हर अवसर पर जीतने के लिए कुछ रहस्य बताते रहते है। एक भाई के अलावा, मेरी एक बहन भी है जो मेरे लिए दूसरी माँ है। बड़े भाई-बहन हमेशा माता-पिता की जगह होते है। वह हमेशा मुझे सिखाती है कि शांत मन से महत्वपूर्ण निर्णय कैसे लिया जाता है। जब भी मेरे माता-पिता मुझे डांटते हैं तो वह मेरी रक्षा करती है। मैं निडर महसूस करती हूं क्योंकि वह हर मुश्किल स्थिति में मेरी मदद करने के लिए है।

निष्कर्ष

परिवार एक समूह का नाम है जो एक ही छत के नीचे एक साथ रह रहे हैं। एक परिवार के सदस्य एक दूसरे के साथ विभिन्न भूमिकाओं से जुड़े होते हैं। एक परिवार में सदस्यों में माता-पिता, बेटे, बेटियां, पत्नी, दादा-दादी आदि शामिल हो सकते हैं।

निबंध – 3 (500 शब्द)

परिचय

हर कोई अपने परिवार से प्यार करता है, मैं भी बहुत करती हूँ। मेरे माता-पिता भी हमसे बहुत प्यार करते हैं। उन्होंने हम दोनों भाई-बहन को बहुत लाड़-प्यार से पाला हैं। इसके अलावा, मेरा परिवार हमारे द्वारा की जाने वाली किसी भी चीज में बहुत सहायक और मददगार है।

मेरे परिवार के सभी सदस्य

मेरे दादा-दादी हमारे साथ रहते हैं। मेरे परिवार में छह सदस्य हैं मेरे माता, पिता, मेरे दादा, दादी, बड़ा भाई और मैं। इसके अलावा, मेरे कई चचेरे भाई पास में रहते हैं और अक्सर सप्ताहांत पर हमारे घर आते हैं।

मेरी दादीजी

मेरी दादी एक उत्कृष्ट रसोइया है, जो स्वादिष्ट भोजन बनाती है। इसके अलावा, वह यह सुनिश्चित करती है कि हम प्रत्येक दिन पौष्टिक और स्वास्थ्यवर्धक भोजन खाएं। दादी हमें हर रात को बहुत ही रोचक और ज्ञानवर्धक कहानियां सुनाती है, जिसे हम सभी को सुनना बहुत अच्छा लगता है।

मेरे दादाजी

मेरे दादा एक उच्च साक्षर व्यक्ति हैं। वो हम दोनों भाई-बहन की पढ़ाई में बहुत मदद करते हैं। इसके अलावा, वह सुबह की सैर से प्यार करते है और हर सुबह हमें अपने साथ ले जाते हैं। सैर के दौरान, वह अपने जीवन के अनुभवों को साझा करते है और हमे उनके बारे में सुनना बहुत अच्छा लगता हैं।

मेरे पिता

मेरे पिता एक मेहनती व्यक्ति हैं। जिन्होंने यह सुनिश्चित करने के लिए कि हम अपनी सहूलियत से समझौता न करें, अपना पूरा जीवन समर्पित कर दिया । हालाँकि वह हमसे कभी भी रूखेपन से बात नहीं करते हैं, लेकिन हम बच्चे हमेशा उनसे डरते हैं, चाहे वह कोई भी कारण हो। लेकिन, वह हमारे साथ सप्ताहांत बिताते है और शाम के समय वह घंटों हमसे बातें करते हैं। वह आम तौर पर इस बारे में पूछते है कि हमने इस सप्ताह क्या किया है और हमारे स्कूल के जीवन में क्या नया हो रहा है।

मेरी माँ

मेरी माँ हम सबका सबसे ज्यादा ख्याल रखती है। वह सुनिश्चित करती है कि घर साफ-सुथरा हो और हम साफ-सुथरे हों। इसके अलावा, वह घर में सब कुछ आयोजित करती है ताकि हमें अपना समय यथास्थान मिल जाये। सबसे बढ़कर, वह हमारी सभी जरूरतों का ख्याल रखती है और हमें अत्यधिक प्यार भी करती है।

मेरा बड़ा भाई

मेरे भाई चूंकि मुझसे बड़े है, फिर भी हमारा रिश्ता काफी दोस्ताना है। वो मुझसे हर मुद्दे पर बात करते है, और मेरी बात पसंद आने पर मानते भी है। वो मेरा बहुत ध्यान रखते हैं। वो मेरी पढ़ाई में बहुत मदद करते है। गलती करने से पहले ही वो मुझे सजग कर देते है। पढ़ाई में मेरा हमेशा हौसलाअफज़ाई करते है।

परिवार का सहयोग

हर बच्चे के कुछ सपने और अरमान होते हैं। हमारे भी कुछ सपने हैं, जिसे पूरा करने में मेरा परिवार भरपूर सहयोग करता है। इसके अलावा, हर कोई खुशकिस्मत नहीं होता कि उन्हें अपने परिवार का समर्थन मिले। लेकिन, मैं उन भाग्यशाली लोगों में से एक हूं, जिन्हें अपने परिवार का पूरा समर्थन मिलता है।

निष्कर्ष

हमारा परिवार प्यार और हँसी से भरा हुआ है, जहाँ हर कोई परस्पर प्यार करता है और एक दूसरे की परवाह करता है। इसके अलावा, हमारे दादा-दादी हमें अच्छी आदतें और शिष्टाचार और जीवन का पाठ पढ़ाते हैं। जबकि हमारे माता-पिता हमें अपनी सभी जरूरतें प्रदान करते हैं।