वृक्षारोपण के महत्व पर निबंध

वृक्षारोपण के महत्व पर समय-समय पर जोर दिया गया है। पर्यावरण में बढ़ते प्रदूषण की वजह से वृक्षारोपण की आवश्यकता इन दिनों अधिक हो गई है।

वृक्षारोपण से तात्पर्य वृक्षों के विकास के लिए पौधों को लगाना और हरियाली को फैलाना है। पर्यावरण के लिए वृक्षारोपण की प्रक्रिया महत्वपूर्ण क्यों है इसके कई कारण हैं। आपकी परीक्षा में इस विषय के साथ आपकी मदद करने के लिए विभिन्न लंबाई के वृक्षारोपण के महत्व पर निबंध यहाँ उपलब्ध कराए गए हैं। आप अपनी आवश्यकता के अनुसार किसी भी वृक्षारोपण के महत्व पर निबंध को चुन सकते हैं:

Long and Short Essay on Importance of Tree Plantation in Hindi

वृक्षारोपण के महत्व पर निबंध 1 (200 शब्द)

वृक्षारोपण पर्यावरण के लिए अच्छा है। हर कोई जानता है कि पेड़ ऑक्सीजन का स्रोत हैं। वे कार्बन डाइऑक्साइड लेते हैं और ऑक्सीजन छोड़ते हैं जिसके बिना पृथ्वी पर जीवित प्राणियों का अस्तित्व संभव नहीं है।

कार्बन डाइऑक्साइड लेने के अलावा पेड़ सल्फर डाइऑक्साइड और कार्बन मोनोऑक्साइड सहित कई हानिकारक गैसों को भी अवशोषित करते हैं और वातावरण से हानिकारक प्रदूषक को भी फिल्टर करते हैं जिससे हमें ताज़ा और साफ़-सुथरी हवा सांस लेने के लिए मिलती है। वाहनों और कारखानों द्वारा उत्सर्जित धुएं के कारण वायु प्रदूषण की बढ़ती मात्रा केवल तभी नियंत्रित की जा सकती है जब हम अधिक से अधिक पेड़ लगाएंगे। हालांकि यह कारण एकमात्र नहीं है कि वृक्षारोपण महत्वपूर्ण क्यों है। यह कई अन्य लाभ भी प्रदान करता है। वृक्षारोपण के कुछ लाभ इस प्रकार हैं:

  • पक्षियों, जानवरों और मनुष्य के लिए भोजन के रूप में फलों और पत्तियों को प्रदान करना।
  • जैव विविधता को बनाए रखना।
  • फर्नीचर, दरवाजे, खिड़कियां, बर्तन, स्टेशनरी वस्तुएं और सजावटी वस्तुओं जैसी विभिन्न चीजों के निर्माण के लिए लकड़ी, रबड़ और अन्य कच्ची सामग्रियों का उपयोग किया जाता है।
  • पानी का संरक्षण
  • पक्षियों और जानवरों के लिए आवास
  • वातावरण नियंत्रण
  • मिट्टी का संरक्षण
  • हालांकि पेड़ बहुत सारे लाभ प्रदान करते हैं और पारिस्थितिक संतुलन बनाए रखने के लिए बहुत महत्वपूर्ण हैं पर हम इन क्रूरता से काटते जा रहे हैं। इस नुकसान की क्षतिपूर्ति करने के लिए वृक्षारोपण आवश्यक है।

 

वृक्षारोपण के महत्व पर निबंध 2 (300 शब्द)

प्रस्तावना

वृक्षारोपण महत्वपूर्ण क्यों है इसके पीछे कई कारण हैं। मुख्य कारणों में से एक कारण यह है कि वृक्ष जीवन-प्रदान करने वाली ऑक्सीजन प्रदान करते हैं जिसके बिना मानव जाति का अस्तित्व असंभव है।

पेड़ जीवनदायिनी ऑक्सीजन देते हैं

एक प्रसिद्ध कहावत इस प्रकार है, "कल्पना कीजिए कि अगर पेड़ वाईफाई सिग्नल देते तो हम कितने सारे पेड़ लगाते, शायद हम ग्रह को बचाते। बहुत दुख की बात है कि वे केवल ऑक्सीजन का सृजन करते हैं"। कितना दुखद है कि हम प्रौद्योगिकी के इतने आदी हो गए हैं कि हम अपने पर्यावरण पर होने वाले हानिकारक प्रभावों की अनदेखी करते हैं। न केवल प्रौद्योगिकी का इस्तेमाल प्रकृति को नष्ट कर रहा है बल्कि यह हमें उससे अलग भी कर रहा है।

अगर हम वास्तव में जीवित रहना चाहते हैं और अच्छे जीवनयापन करना चाहते हैं तो अधिक से अधिक पेड़ लगाए जाने चाहिए। ऑक्सीजन लेने और कार्बन डाइऑक्साइड को छोड़ने के अलावा पेड़ पर्यावरण से अन्य हानिकारक गैसों को अवशोषित करते हैं जिससे वायु शुद्ध और ताज़ी बनती है। जितने हरे-भरे पेड़ होंगे उतना अधिक ऑक्सीजन का उत्पादन होगा और अधिक विषैली गैसों को यह अवशोषित करेंगे।

 

प्रदूषण का स्तर इन दिनों बहुत अधिक बढ़ रहा है। इससे लड़ने का एकमात्र तरीका अधिक से अधिक पेड़ लगाना है। उदाहरण के लिए पेड़ों से घिरे क्षेत्र, गांव और जंगल शुद्ध पर्यावरण को बढ़ावा देते हैं। ऐसा इसलिए है क्योंकि ये कम प्रदूषण से प्रभावित क्षेत्र हैं। दूसरी ओर शहरी आवासीय और औद्योगिक क्षेत्रों में खराब प्रदूषण और कम पेड़ों की संख्या के कारण ख़राब गुणवत्ता की वायु है।

निष्कर्ष

वृक्षारोपण का महत्व इतना स्पष्ट है तब भी कुछ ही मुट्ठी भर लोग हैं जो वास्तव में इस गतिविधि में शामिल होने का प्रण लेते हैं। बाकी अपने जीवन में इतने तल्लीन हो चुके हैं कि वे यह नहीं समझते कि बिना पर्याप्त पेड़ों के हम लंबे समय तक जीवित नहीं रह पाएंगे। यह सही समय है जब हमें वृक्षारोपण के महत्व को पहचानना चाहिए और उसकी ओर अपना योगदान देना चाहिए।


 

वृक्षारोपण के महत्व पर निबंध 3 (400 शब्द)

प्रस्तावना

पर्यावरण को बेहतर बनाने में वृक्ष और पौधे मदद करते हैं। ये हवा को शुद्ध करते हैं, पानी को संरक्षित करते हैं, जलवायु नियंत्रण में मदद करते हैं, मिट्टी की शक्ति को बरकरार रखते हैं और कई अन्य तरीकों से समग्र पर्यावरण को लाभ पहुंचाते हैं।

वृक्षारोपण में शामिल गैर-सरकारी संगठन

उद्योगपति और मंत्री पैसों के लालच में अंधे हो चुके हैं। वे चाहते हैं कि वे अपने व्यवसाय का विस्तार करें और पैसा कमाएं। वे पेड़ों को काटने, धरती पर वनों को खत्म करने और प्रदूषण के स्तर को बढ़ाने के बारे में नहीं सोचते। दूसरी तरफ ऐसे लोग हैं जो पर्यावरण के बारे में ध्यान रखते हैं और नि: स्वार्थ भाव से अपनी स्थिति को सुधारने के लिए काम कर रहे हैं। वे पर्यावरण को स्वच्छ और हरा-भरा बनाने के लिए पेड़ों का रोपण, जल निकायों और अन्य गतिविधियों की सफाई में शामिल हैं। ऐसे लोगों के संयुक्त प्रयासों से दुनिया भर में कई गैर-लाभकारी संगठन बनाए गए हैं। इनमें से कुछ में ग्रीन यात्रा, ग्रो ट्री, संकल्प तरु, ग्रीन लाइफ, से ट्रीज, सेव ग्रीन, कुदम्बन, बीइंग ग्रीन और गो सकथी शामिल हैं।

पर्यावरण विभाग समय-समय पर इन एनजीओ को अपना समर्थन प्रदान करता है। वृक्षारोपण की प्रक्रिया में शामिल होने और अन्य ऐसी गतिविधियां करने के अलावा कई गैर-सरकारी संगठन भी सड़क के किनारे नाटक प्रदर्शन और अपने सोशल पेजों को अपडेट करने और स्कूलों और कॉलेजों में इस वजह के बारे में बताने के लिए इस कारण को फैलाने के लिए बढ़ावा देते हैं।

 

स्कूल स्तर पर वृक्षारोपण का महत्व संवेदनशील होना चाहिए

छात्रों को वृक्षारोपण के महत्व और उनके पर्यावरण विज्ञान वर्ग में पर्यावरण को साफ रखने के बारे में संक्षिप्त ज्ञान दिया जाता है। वे अपनी परीक्षा के लिए सबक सीखते हैं और इसके बारे में बाद में भूल जाते हैं। यह ऐसे नहीं होना चाहिए। बढ़ते पेड़ों और पौधों के महत्व के बारे में उन्हें संवेदनशील बनाने के लिए विशेष कक्षाएं आयोजित की जानी चाहिए। इन सत्रों में शिक्षकों को वृक्षारोपण के महत्व पर जोर देना चाहिए और छात्रों को समझना चाहिए कि वे अच्छे के लिए पर्यावरण को बदलने में कैसे मदद कर सकते हैं। स्कूलों और कॉलेजों के लिए कुछ गैर-सरकारी संगठनों के साथ सहयोग करना और छात्रों से स्वच्छता अभियान के लिए और साथ ही वृक्षारोपण के लिए प्रत्येक महीने मिलना एक अच्छा विचार है। सैद्धांतिक ज्ञान की तुलना में व्यावहारिक अनुभव हमेशा अधिक प्रभावशाली होता है। इससे इस क्षेत्र में उनकी रुचि उत्पन्न होगी और वे इस दिशा में प्रयास करने के लिए प्रोत्साहित होंगे।

इसके अलावा यदि देश में हर स्कूल और कॉलेज का प्रत्येक छात्र हर महीने वृक्षारोपण अभियान में हिस्सा लेता है तो हम कई पेड़ों को लगाने में सफल होंगे।

निष्कर्ष

हमें अधिक से अधिक पेड़ लगाने चाहिए और हमें ऐसा करने के लिए आसपास के लोगों को भी प्रोत्साहित करना चाहिए। इस दिशा में कुशलता से काम करने के लिए काम करने वाले निकट गैर-सरकारी संगठन में शामिल होना सबसे अच्छा है।


 

वृक्षारोपण के महत्व पर निबंध 4 (500 शब्द)

प्रस्तावना

वृक्षारोपण मानव जाति को कई लाभ प्रदान करता है और हम सभी इस बारे में अच्छी तरह जानते हैं। हम यह भी जानते हैं कि हम में से प्रत्येक के द्वारा किए गए छोटे-छोटे प्रयास पृथ्वी पर समग्र पर्यावरण के लिए बहुत बड़ा अंतर उत्पन्न कर सकते हैं।

अर्थव्यवस्था को मज़बूत करने में वृक्षारोपण मदद करता है

हम विभिन्न वस्तुओं के उत्पादन के लिए पेड़ों पर निर्भर हैं। पेड़ लकड़ी, रबड़ आदि जैसा कच्चा माल प्रदान करते हैं जो कि फर्नीचर, बर्तन, कागज़, सजावटी वस्तुओं और पता नहीं किस किस में बदल जाता है। इसका उपयोग घरों के निर्माण में भी किया जाता है। पेड़ फल प्रदान करते हैं जिन्हें संसाधित कर जैम, जेली, जूस, सॉस आदि के उत्पादन में इस्तेमाल किया जाता है। पेड़ों से निकाले जाने वाले कच्चे माल के साथ उत्पादित कई वस्तुएं अन्य देशों में निर्यात की जाती हैं ताकि देश के व्यवसायों और देश की संपूर्ण अर्थव्यवस्था को बढ़ावा मिल सके। इसलिए जितना अधिक से अधिक हम पेड़ों को लगायेंगे उतना ही अधिक हम इस तरह के सामानों का उत्पादन कर सकेंगे।

पेड़ पक्षी और जंगली जीवन के लिए एक वरदान है

पेड़ पक्षियों के साथ-साथ कई जानवरों के लिए भी एक आवास के रूप में सहायता करते हैं। पेड़ पर रहने वाले कुछ जानवरों में ट्री कंगारू, ट्री फ्रॉग, स्पाइडर मंकी, उड़नेवाला लामूर, ग्रीन ट्री पाइथन और कोआला शामिल हैं। वे पेड़ों के नजदीक और आसपास रहते हैं और उनसे भोजन प्राप्त करते हैं। इनमें से कुछ पेड़ों के फलों का सेवन करते हैं जो उन पर लगे होते हैं जबकि दूसरे जानवरों को उन पर लगी हरी पत्तियां अच्छी लगती हैं। इसके अलावा वन जंगली जानवरों के लिए एक प्राकृतिक आवास भी है। यह वह जगह है जहां वे रहते हैं। वनों की कटाई ने पक्षियों और जानवरों की विभिन्न प्रजातियों को विलुप्त होने की ओर अग्रसर किया है। कई अन्य प्रजातियाँ विलुप्त होने की कगार पर हैं। जानवरों और पक्षियों के लिए यह स्वाभाविक है कि अगर हम उनके भोजन के स्रोतों को छीन लेते हैं और उनके निवास स्थान को बर्बाद कर देते हैं तो उनके विलुप्त होने का खतरा बढ़ जाता है।

वृक्षारोपण उन्हें जीवित रहने और शांति से रहने में मदद कर सकता है। पर्यावरण में जैव विविधता को बनाए रखने के लिए यह महत्वपूर्ण है। पर्यावरण में पारिस्थितिक संतुलन बनाए रखने के लिए जैव विविधता अत्यंत आवश्यक है।

वृक्षारोपण बनाम वनों की कटाई

हालांकि वनों की कटाई रोकना और पेड़ों को बचाना लकड़ी, रबर और पेड़ों से बने विभिन्न उत्पादों की बढ़ती मांग की वजह से इसे कुछ हद तक सीमित किया जा सकता है। हम इसे पूरी तरह से नहीं बचा सकते। माल की उच्च मांग के अलावा शहरीकरण की आवश्यकता भी बढ़ गई है। यहां अधिक से अधिक लोगों को समायोजित करने के लिए शहरों में आवासीय क्षेत्रों का निर्माण करने के लिए वन काटे जा रहे हैं। उद्योगों की स्थापना के लिए भूमि का भी उपयोग किया जा रहा है। बढ़ती हुई प्रौद्योगिकी के इस युग में यह समय की आवश्यकता बन गई है। हालांकि हम इन सब से बच नहीं सकते हैं लेकिन हम वृक्षारोपण के माध्यम से नुकसान की भरपाई कर सकते हैं। यह केवल सरकार की ही ज़िम्मेदारी नहीं है कि वह शहर को हरा-भरा बनाने के लिए पेड़ लगाए। हमें भी इस ओर काम करना चाहिए।

निष्कर्ष

हम सभी जानते हैं कि हमारे अस्तित्व और कल्याण के लिए पेड़ और पौधे कितने महत्वपूर्ण हैं लेकिन हम में से कितने लोग नियमित रूप से पेड़ लगाते हैं? यदि आप ऐसा नहीं कर रहे हैं तो यह समय है जब आपको इसे गंभीरता से लेना चाहिए और पर्यावरण को बेहतर बनाने के लिए जो कुछ भी प्रयास कर सके उन्हें करना चाहिए।


 

वृक्षारोपण के महत्व पर निबंध 5 (600 शब्द)

प्रस्तावना

वृक्षारोपण मूल रूप से पौधों को पेड़ का रूप देने की प्रक्रिया है और इसीलिए उनका अलग-अलग स्थानों पर रोपण किया जाता है। वृक्षारोपण के पीछे का कारण ज्यादातर वनों को बढ़ावा देना, भूनिर्माण और भूमि सुधार है। वृक्षारोपण के इन उद्देश्यों में से प्रत्येक अपने स्वयं के अनूठे कारण के लिए महत्वपूर्ण है।

वनों को बढ़ावा देने के लिए वृक्षारोपण का महत्व

वृक्षारोपण के सबसे सामान्य उद्देश्यों में से एक वनों को बढ़ावा देना है। पृथ्वी पर पारिस्थितिक संतुलन बनाए रखने के लिए वन अत्यंत महत्वपूर्ण हैं। हमारे ग्रह का एक प्रमुख हिस्सा जंगलों के साथ ढंका गया है। हालांकि औद्योगिक युग की शुरुआत के बाद से वन तीव्र गति से काटे जा रहे हैं। हालांकि वृक्ष स्वाभाविक रूप से विकसित होते हैं लेकिन वनों की कटाई की वजह से होने वाले नुकसान की भरपाई के लिए हमें अपनी ओर से अपना योगदान देना जरूरी है। वृक्षारोपण इस प्रयोजन के लिए किया जाता है। वृक्षारोपण की मदद से वन तेजी से उगाए जा सकते हैं।

भूदृश्य के लिए वृक्षारोपण का महत्व

वृक्षारोपण बागवानी के उद्देश्य के लिए भी किया जाता है। आजकल शहरी क्षेत्र ज्यादातर पेड़ों और पौधों से रहित होते हैं। इन जगहों का भूनिर्माण इन जगहों को रहने लायक बनाने के साथ-साथ उन्हें एक अच्छा कारक बनाने के लिए किया जाता है। वृक्षारोपण परिवेश को सुशोभित करने का सर्वोत्तम और आसान तरीका है। ये अक्सर सड़क के किनारे, सोसाइटीयों में, पार्कों के साथ-साथ भूनिर्माण के प्रयोजन के लिए शहर में अन्य स्थानों पर लगाए जाते हैं। इससे न केवल जगह सुंदर दिखती है बल्कि गर्मी को कम करने में भी मदद करती है और तथा कई अन्य लाभ भी प्रदान करती है।

गैर-लाभकारी संगठन स्वयंसेवी का योगदान

वृक्षारोपण हरियाली को फैलाने के सबसे आसान और तेज़ तरीके से एक है। दुनिया भर के लोगों ने समय-समय पर पर्यावरण की ओर योगदान करने के लिए स्वयंसेवा की है। उनमें से कई ने संयुक्त प्रयासों के साथ गैर-लाभकारी संस्थाएं स्थापित की हैं और पृथ्वी को रहने के लिए बेहतर जगह बनाने के लिए काम किया है। इन संगठनों ने न केवल वृक्षारोपण गतिविधियों बल्कि अन्य कार्यवाही से भी हरियाली को फैलाने के लिए अन्य लोगों को इस उद्देश्य के लिए काम करने हेतु प्रेरित किया है। वे वृक्षारोपण के महत्त्व को समझाने के लिए स्कीट्स का आयोजन करते हैं और अपने पड़ोसियों, दोस्तों और सहकर्मियों के बीच प्रचार करते हैं। सोशल मीडिया और इंटरनेट के आगमन से वृक्षारोपण के महत्व के बारे में ज्ञान फैलाना और लोगों को इस ओर भाग लेने के लिए प्रोत्साहित करना आसान हो गया है।

वृक्षारोपण के लिए आवश्यक सरकारी सहायता

जहाँ गैर-सरकारी संगठन पर्यावरण को साफ़-सुथरा और हरा-भरा बनाने की दिशा में काम कर रहे हैं वही उनसे कही-कही गलती भी हो रही हैं। इस अभियान हेतु काम करने के लिए अधिक से अधिक लोगों को शामिल करने के लिए प्रचार व्यापक पैमाने पर किया जाना चाहिए। चूंकि ये सभी गैर-लाभकारी संगठन हैं इसलिए उनके पास ऐसा करने के लिए पर्याप्त धन नहीं है। सरकार को उनके उद्देश्यों को सहारा देने के लिए पूरी तरह से उनका समर्थन करना चाहिए। आखिरकार ये संगठन बेहतर राष्ट्र बनाने के लिए काम कर रहे हैं। सरकार द्वारा प्रदान की गई वित्तीय सहायता के साथ ये संगठन बड़ी परियोजनाओं को बढ़ावा दे सकते हैं और टेलीविजन, समाचार पत्रों और सड़क के किनारें लगे बड़े होर्डिंग विज्ञापनों में अन्य लोगों को प्रोत्साहित कर सकते हैं।

लोगों को इस बारे में संवेदनशील होना चाहिए ताकि वे बड़ी संख्या में भाग लें सके। इस दिशा में एक बड़ा परिवर्तन केवल तभी संभव है जब हम में से हर एक पेड़ को लगाने की जिम्मेदारी लेता है। यहां तक ​​कि अगर हमारे पास गैर-सरकारी संगठन में शामिल होने और नियमित रूप से इस उद्देश्य के लिए काम करने का समय नहीं है तो भी हम अपने आस-पास के क्षेत्रों में पेड़ लगाकर अपना छोटा सा योगदान दे सकते हैं।

निष्कर्ष

यह सही समय है जब लोगों को वृक्षारोपण के महत्व को पहचानना चाहिए और इसके लिए योगदान करना चाहिए। सरकार को इस मुद्दे को गंभीरता से लेना चाहिए और अधिक से अधिक लोगों को इस उद्देश्य को आगे बढ़ाने के लिए काम करना चाहिए।

 

Related Information:

पेड़ बचाओ पर निबंध

प्रकृति संरक्षण पर निबंध

पर्यावरण पर निबंध

जंगल पर निबंध

वनोन्मूलन पर निबंध

पर्यावरण बचाओ पर भाषण