प्राकृतिक संसाधन पर निबंध

प्राकृतिक संसाधन सामान्य रुप से प्रकृति के द्वारा दिया गया एक उपहार हैं। सूरज की रोशनी, पानी, मिट्टी और हवा प्राकृतिक संसाधनों के कुछ ऐसे उदाहरण हैं जो मनुष्यों के हस्तक्षेप के बिना स्वाभाविक रूप से उत्पादित होते हैं। ये प्रकृति में प्रचुर मात्रा में पाए जाते है। हालांकि, ऐसे औऱ कई अन्य प्राकृतिक संसाधन भी हैं, जो आसानी से नहीं मिलते जैसे- खनिज और जीवाश्म ईंधन। यहां पे आपको लम्बे-छोटे दोनों तरह के प्राकृतिक संसाधन पर निबंध उपलब्ध कराए गए है, जो आपके परीक्षा में आपकी मदद कर सकता हैं। ये बहुत ही सरल भाषा में लिखा गया हैं। आप अपनी आवश्यकता के अनुसार किसी भी प्राकृतिक संसाधन पर निबंध का चयन कर सकते हैं।

प्राकृतिक संसाधन पर लम्बे और छोटे निबंध (Long and Short Essay on Natural Resources in Hindi)

प्राकृतिक संसाधन पर निबंध – 1 (200 शब्द)

प्रस्तावना

प्राकृतिक संसाधन हमारे ग्रह पर स्वाभाविक रूप से उपलब्ध हैं। हमें उन्हें प्राप्त करने के लिए किसी भी मानव हस्तक्षेप की आवश्यकता नहीं पड़ती। जीवित प्राणियों के अस्तित्व के लिए ये संसाधन आवश्यक हैं। कुछ प्राकृतिक संसाधन जैसे हवा, पानी और सूरज की रोशनी आदि सीधे उपयोग में लायी जाती है, वहीं अन्य संसाधन, कच्चा मॉल के रूप में अन्य आवश्यक चीजों को बनाने में प्रयोग किया जाता हैं।

कई प्राकृतिक संसाधन प्रचुर मात्रा तथा नवीकरणीय की स्थिती में मौजुद हैं, जिसका अर्थ है कि हम इनका पुनर्नवीनीकरण करके पुन: उपयोग में ला सकते है। हालांकि, ऐसे कई अन्य अनवीकरणीय पदार्थ भी हैं जिन्हें पुनर्नवीनीकरण करने में हजारों साल लग जाते हैं। कई प्राकृतिक संसाधन तेजी से कम हो रहे हैं। इसके कई कारण हैं उसमे से सबसे प्रमुख कारण हैं, जनसंख्या में प्रतिदिन वृद्धि, जिनकी वजह से प्राकृतिक संसाधन में तेजी से कमी आती जा रही हैं, तेजी से जनसंख्या की वृद्धि के कारण प्राकृतिक संसाधनों की खपत लगातार बढ़ते जा रही है।

वनों की कटाई प्राकृतिक संसाधनों में होने वाली कमी का एक और कारण है, तथा भूमि का उपयोग शहरीकरण के लिए किया जा रहा है, जिससे वन्यजीवन तथा पेड़ों में कमी आती जा रही है। उनके द्वारा उत्पन्न कच्चा मॉल में भी प्रतिदिन कमी होती जा रही है। बढ़ते प्रदूषण, नकारात्मक रूप से जल निकायों को प्रभावित कर रहा है, जिससे आने वाली पीढ़ियों को पानी की कमी का सामना करना पड़ सकता है, जो कभी प्रचुर मात्रा में हुआ करता था।

अब वो समय है जब हम मनुष्यों को प्राकृतिक संसाधनों को बर्बाद करने के बजाये उसका बुद्धिमानी, समझदारी और सावधानी से उपयोग करना चाहिए।


 

प्राकृतिक संसाधन पर निबंध – 2 (300 शब्द)

प्रस्तावना

प्राकृतिक संसाधन, वे संसाधन होते हैं जो प्रकृति द्वारा उपलब्ध कराए जाते हैं। प्राकृतिक संसाधनों के कुछ उदाहरण जैसे पानी, वायु,  सूरज की रोशनी, लकड़ी, खनिज और प्राकृतिक गैस इत्यादि हैं, जिन्हें प्राप्त करने के लिए मनुष्यों को काम करने की आवश्यकता नहीं पड़ती, जबकि कई ऐसे प्राकृतिक संसाधन भी है जो प्रकृति में प्रचुर मात्रा में उपलब्ध हैं, जिसे लोग अलग-अलग आवश्यक चीज बनाने के लिए उपयोग करते हैं। परन्तु उन्हें पूर्ण रूप से तैयार करने में लोगों को काफी समय लग जाता हैं और वो स्वतंत्र रूप से उपलब्ध भी नहीं हो पाते है।

 

प्राकृतिक संसाधनों के प्रकार

हालांकि प्रत्येक प्राकृतिक संसाधन की विशेषताएँ और उनके उपयोग एक दूसरे से अलग होते हैं, इसलिए इन्हें दो व्यापक श्रेणियों में वर्गीकृत किया गया है, जिन्हें नवीकरणीय तथा अनवीकरणीय प्राकृतिक संसाधन कहते हैं। आइये इन्हें यहां विस्तार से देखें:

नवीकरणीय प्राकृतिक संसाधन:- नवीकरणीय प्राकृतिक संसाधन, जैसा कि नाम से ही पता चलता है कि वे स्वाभाविक रूप से नवीनीकृत किए जा सकते हैं और बार-बार उपयोग में लाये जा सकते हैं, जैसे पानी, सौर ऊर्जा, लकड़ी, बायोमास, वायु और मिट्टी इत्यादि इस श्रेणी के अन्तरगत आते है। हालांकि इनमें से कई संसाधन जैसे पानी, वायु और सूरज की रोशनी आसानी से नवीकरणीय किये जा सकते है, परंतु लकड़ी और मिट्टी जैसे कुछ प्राकृतिक संसाधनों को नवीनीकृत करने में समय लगता है। नवीकरणीय संसाधनों को आगे जैविक और अजैविक में वर्गीकृत किया गया है।

जब नवीकरणीय संसाधन जानवरों और पौधों से उत्पन्न होते हैं तो इन्हें जैविक नवीकरणीय संसाधन कहा जाता है, वहीं जब नवीकरणीय संसाधन अजीवित चीजों से प्राप्त होते हैं, तो उन्हें अजैविक नवीकरणीय संसाधन कहा जाता है।

अनवीकरणीय प्राकृतिक संसाधन:- ये वे संसाधन हैं जिन्हें नवीनीकृत या पुनर्नवीनीकरण नहीं किया जा सकता या क्योकि इन्हें बनने में बहुत लंबा समय लग जाता है। कोयले, तेल, खनिज और प्राकृतिक गैस अनवीकरणीय प्राकृतिक संसाधनों के उदाहरण हैं। स्वाभाविक रूप से किसी भी मानव हस्तक्षेप के बिना, खनिज पदार्थों जैसे अनवीकरणीय प्राकृतिक संसाधनों को बनने में हजारों साल लग जाते हैं। इन्हें भी दो श्रेणियों में विभाजित किया गया है- जैविक और अजैविक।

अनवीकरणीय प्राकृतिक संसाधन, जीव जंतु से व्युत्पन्न होते है तो इन्हें जैविक प्राकृतिक संसाधन कहा जाता है। इसका एक उदाहरण जीवाश्म ईंधन हो सकता है।

अनवीकरणीय प्राकृतिक संसाधन जब अजीवित चीजों से उत्पन्न होती है तो उसे अजैविक प्राकृतिक संसाधन कहा जाता हैं जैसे- पवन, खनिज, भूमि और मिट्टी।

निष्कर्ष

प्राकृतिक संसाधन, विशेष रूप से अनवीकरणीय संसाधनों का उपयोग हमें समझदारी से करना चाहिए जिससे ये समाप्त न हों।

 

प्राकृतिक संसाधन पर निबंध -3 (400 शब्द)

प्रस्तावना

प्राकृतिक संसाधन ऐसे संसाधन हैं जो समय की शुरुआत से ही प्रकृति में उपस्थित हैं। ये संसाधन पृथ्वी पर जीवन को संभव और आसान बनाते हैं पृथ्वी पर प्राकृतिक संसाधन जैसे सूरज की रोशनी, हवा और पानी के बिना जीना हमारे लिए असंभव हैं। अन्य प्राकृतिक संसाधन भी हमारे जीवन का एक महवत्पूर्ण हिस्सा है जो हमारे लिए अनिवार्य बन गए हैं।

प्राकृतिक संसाधन के विभिन्न उपयोग

हालांकि प्राकृतिक संसाधन पृथ्वी पर मनुष्य और अन्य जीवित प्राणियों की मूलभूत आवश्यकताओं को पूरा करने तथा विभिन्न चीजों को प्राप्त करने का एक आधार हैं। ये चीजें मनुष्य के जीवन को सरल तथा आरामदायक बनाती हैं आज, मनुष्य इनमें से अधिकांश के बिना अपने जीवन की कल्पना भी नहीं कर सकता। चलिए देखते हैं प्राकृतिक संसाधनों के विभिन्न उपयोग के तरीके:

  • सूरज की रोशनी:- इसका उपयोग सौर ऊर्जा उत्पन्न करने के लिए किया जाता है जिससे विभिन्न उपकरणों के प्रयोग में मदद मिलती है। सनलाइट प्रकाश संश्लेषण की प्रक्रिया को भी सक्षम बनाता है।
  • वायु:- वायु का उपयोग वायु ऊर्जा उत्पन्न करने के लिए किया जाता है। इसका उपयोग विभिन्न उद्देश्यों जैसे अनाज पीसने और पानी को पंप करने के लिए किया जाता है।
  • पानी:- पानी का उपयोग हाइड्रोइलेक्ट्रिक ऊर्जा उत्पन्न करने तथा सफाई और खाना पकाने जैसे अनेक कार्यों के लिए किया जाता है।
  • खनिज:- खनिज का उपयोग कई वस्तुओं को उत्पन्न करने के लिए किया जाता है जैसे तार, एल्यूमीनियम के डिब्बे और ऑटोमोबाइल के कुछ हिस्से, जो विभिन्न प्रकार के खनिज पदार्थ है जिनका उपयोग हम हमारे दैनिक जीवन में करते है तथा सोने और चांदी जैसे खनिज पदार्थ जो आभूषण तैयार करने के लिए उपयोग में लाए जाते हैं।
  • प्राकृतिक गैसों:- इनका उपयोग बिजली उत्पन्न करने के लिए किया जाता है। साथ ही साथ रसोईघर में हीटिंग के लिए भी किया जाता है।
  • कोयला:- यह एक प्राकृतिक संसाधन है जिसका उपयोग बिजली उत्पन्न करने के उद्देश्य से किया जाता है।
  • पौधे:- पौधे लकड़ी, फल और सब्जियों जैसे कई प्राकृतिक संसाधन प्रदान करते हैं। फल और सब्जियां जो प्राणियों को जीवित रखने के लिए अति आवश्यक होती हैं वहीं लकड़ियों का इस्तेमाल फर्नीचर, कागज और अन्य उत्पादों के निर्माण के लिए किया जाता है।
  • पशु:- पशु भी कई प्राकृतिक संसाधन प्रदान करते हैं जैसे- दूध, जो दही, पनीर, मक्खन और कई अन्य डेयरी उत्पादों का उत्पादन करने के लिए प्रयोग किया जाता है। पशु फर और उनकी त्वचा का उपयोग विभिन्न कपड़ों के {सामान} और आवश्यकता की अन्य चीजों के निर्माण में प्रयोग किया जाता है। ऊनी स्वेटर और टोपी, चमड़े के बेल्ट और बैग, रेशमी साड़ियां और बिस्तरों के चादर आदि जैसे अनेक चीजें जो जानवरों से प्राप्त प्राकृतिक संसाधनों के बने होते हैं।

निष्कर्ष

प्राकृतिक संसाधन न केवल अपने रा मटेरियल के रुप में ही उपयोगी होते है बल्कि ये अन्य चीज़ें उत्पन्न करने में भी लाभदायक होते है मनुष्यों ने निश्चित रूप से जीवन को बेहतर बनाने के लिए इन संसाधनों को सर्वोत्तम तरीके से उपयोग करना प्रारम्भ कर दिया है।


 

प्राकृतिक संसाधन पर निबंध – 4 (500 शब्द)

प्रस्तावना

प्राकृतिक संसाधन, प्रकृति के तरफ से हमारे लिए अमुल्य उपहार हैं। ये मनुष्यों द्वारा प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से उपभोग किए जाते हैं। प्राकृतिक संसाधनों के प्रत्यक्ष उपयोग का तात्पर्य है उसके शुद्ध रूप में ही उसका उपभोग करना हैं जिसका सबसे अच्छा उदाहरण सूरज की रोशनी तथा ऑक्सीजन हैं। प्राकृतिक संसाधनों की अप्रत्यक्ष खपत का अर्थ है, उन्हें संशोधित करके या अन्य वस्तुओं और सेवाओं को उनकी सहायता से उत्पन्न करके, उनका उपयोग करना। उदाहरण: खनिजों, लकड़ीयों और अन्य कई प्राकृतिक संसाधनों को उपयोग में लाने से पहले विभिन्न तरीको से तैयार किया जाता है।

विभिन्न प्राकृतिक संसाधनों के उपयोग

प्राकृतिक संसाधन को हम अनेक तरह से प्रयोग करते हैं। जिसके बिना, पृथ्वी पर जीवन संभव नहीं होता। एक सर्वेक्षण के अनुसार यह पता चला है कि, विकसित देश, कम विकसित देशों की तुलना में अधिक से अधिक प्राकृतिक संसाधनों का उपयोग कर रहे हैं।

यहां पर बताया गया है कि इनका उपयोग विभिन्न उद्देश्यों के लिए कैसे किया जाता है:

  1. पशु-

जानवरों द्वारा उत्पादित प्राकृतिक संसाधन ऐसे संसाधन हैं जिनकी मांग बहुत अधिक हैं ऐसा इसलिए है क्योंकि वे हमें आहार प्रदान करते हैं जो हमारे अस्तित्व को बनाये रखने में मदद करता है। जानवरों को, उनके द्वारा जैविक प्राकृतिक संसाधन देने के लिए पाला जाता है। दूध और अन्य डेयरी उत्पाद जो प्राणियों को आवश्यक पोषक तत्व प्रदान करते हैं, वे पोषक तत्व जानवरों से प्राप्त होते हैं। पशु अपशिष्ट से उत्पन्न जीवाश्म ईंधन भी विभिन्न कार्यों जैसे हीटिंग, वाहन और बिजली उत्पन्न करने के लिए नियोजित किये जाते हैं। कपड़े, बैग, जूते, बेल्ट और अन्य ऐसी कुछ वस्तुएँ, जिनके निर्माण के लिए पशु फर और उनकी त्वचा का उपयोग किया जाता है।

  1. पौधे-

पौधे हमें फल और सब्जियां प्रदान करते हैं जो हमारे जिवन के लिए अति आवश्यक हैं। इन प्राकृतिक संसाधनों का उपयोग कर विभिन्न प्रकार की बीमारियों को ठीक करने के लिए दवाइयां भी उत्पादित की जाती हैं। पौधे कार्बन डाइऑक्साइड और कार्बन मोनोऑक्साइड जैसे हानिकारक और जहरीले गैसों को अवशोषित कर हमें ऑक्सीजन प्रदान करते हैं। ये मनुष्यों के हस्तक्षेप किये बिना कुदरती रूप से कार्य करती है। इसके अलावा, पौधों का अपशिष्ट जीवाश्म ईंधन के उत्पादन में भी योगदान देता है जिसका प्रयोग विभिन्न तरीकों से किया जाता है।

इसके अलावा, पेड़ हमें लकड़ीयां प्रदान करती हैं जिनका उपयोग हम विभिन्न उद्देश्यों तथा आवश्यकताओं के लिए करते है जैसे घरों के निर्माण, फर्नीचर, कागज तथा विभिन्न छोटी और बड़ी चीजों को बनाने के लिए करते हैं।

  1. खनिज और धातु

धातुओं और खनिजों का उपयोग विभिन्न उद्देश्यों के लिए किया जाता है। इन सभी में अद्वितीय गुण होते है जो बहुत उपयोगी होते हैं। खनिज और धातु के उपयोगों में, बैटरी बनाने, चिकित्सा उपकरणों के निर्माण, ऑटोमोबाइल पार्ट्स बनाने, आभूषण बनाने, भवनों और बर्तनों के निर्माण इत्यादि शामिल हैं। ये संसाधन सीमित हैं और अनवीकरणीय प्राकृतिक संसाधन श्रेणी के अंतर्गत आते हैं।

  1. सूरज की रोशनी, वायु और पानी

इन प्राकृतिक संसाधनों का महत्व और उपयोग सभी जानते है। ये वायुमंडल में प्रचुर मात्रा में उपलब्ध हैं और जीवित प्राणियों द्वारा सीधे अमिश्रित रूप में उपयोग किए जाते हैं। इन्हें संशोधित किया जाता है और विभिन्न प्रक्रियाओं को चलाने के लिए उपयोग किया जाता है। संयोग से, ये नवीकरणीय प्राकृतिक संसाधन हैं इनका पुनः इस्तेमाल किया जा सकता हैं।

निष्कर्ष

हम जानबूझकर या अनजाने में दैनिक आधार पर प्राकृतिक संसाधनों का उपभोग करते हैं। हालांकि इनमें से कुछ वातावरण में प्रचुर मात्रा में उपलब्ध होती हैं और कुछ बहुत तेजी से कम होती जा रही हैं। हमें प्राकृतिक संसाधनों का उपयोग समझदारी से करना चाहिए ताकि किसी भी प्रकार से संसाधनों की बर्बादी को रोका जा सके और यह सुनिश्चित किया जा सके कि ये हमारी आने वाली पीढ़ियों के लिए उपलब्ध रहे। प्रत्येक देश की सरकार को इन संसाधनों की खपत की जांच करनी चाहिए तथा इसके खपत को कम करना चाहिए।


 

प्राकृतिक संसाधन पर निबंध - 5 (600 शब्द)

प्रस्तावना

प्राकृतिक संसाधन मानव जाति के साथ-साथ अन्य जीवों के लिए भी आवश्यक हैं। ये हमारे जीवन का एक अनिवार्य हिस्सा हैं। वास्तव में, इन प्राकृतिक संसाधनों में से अधिकांश के बिना पृथ्वी पर हमारा जीवन संभव नहीं हैं।

प्राकृतिक संसाधनों का वितरण

प्राकृतिक संसाधन पृथ्वी पर अनियमित ढ़ंग से वितरित किए जाते हैं। पृथ्वी के विभिन्न हिस्से, विभिन्न प्रकार के प्राकृतिक संसाधनों से समृद्ध हैं। कुछ स्थानों में सूरज की रोशनी की प्रचुर मात्रा प्राप्त की जाती है, जबकि वहीं कुछ स्थान ऐसे भी है जहाँ लोग अधिकतर सूरज की रोशनी से वंचित रहते है, उसी प्रकार, कुछ स्थानों पर जल निकाय अनेक हैं, तो कुछ क्षेत्र खनिज पदार्थों से भरे हुए हैं। ऐसे कई कारक हैं जो प्राकृतिक संसाधनों के असमान वितरण को प्रभावित करते हैं। जलवायु और भूमि इनके मुख्य कारकों में से एक हैं।

कुछ देश जिनमे प्राकृतिक संसाधनों के समृद्ध भंडार हैं, उनमें चीन, इराक, वेनेजुएला, रूस, सऊदी अरब, संयुक्त राज्य अमेरिका, कनाडा और ब्राजील भी शामिल हैं। जो देश प्राकृतिक संसाधनों में समृद्ध हैं चलिए उन देशों के बारे में जानते हैं:-

  • रूस: रूस प्राकृतिक संसाधनों में नंबर एक स्थान पर आता है, इस देश में लकड़ी, तेल, प्राकृतिक गैस, कोयले और सोने की अधिकता है। इसके आर्थिक विकास का मुख्य कारण, मूल्यवान प्राकृतिक संसाधनों का निर्यात है।
  • चीन: चीन कोयले, लकड़ी और विभिन्न धातुओं से समृद्ध है। यह देश इन संसाधनों को दुनिया के विभिन्न हिस्सों में आपूर्ति करता है।
  • इराक: इराक को पुरे विश्व के तेल का 9% तेल जमा करने वाला देश माना जाता है। तेल के अलावा, यह देश फॉस्फेट चट्टान में भी समृद्ध है।
  • वेनेजुएला: यह देश प्राकृतिक संसाधनों जैसे प्राकृतिक गैस, लौह और तेल में समृद्ध है। जब तेल भंडार की बात आती है तो यह दुनिया भर में छठवें स्थान पर आता है। यह दुनिया भर के कई देशों को तेल निर्यात करता है।
  • सऊदी अरब: यह दुनिया में पांचवां सबसे बड़ा प्राकृतिक गैस रिजर्व करने वाला देश माना जाता है। सऊदी अरब में लकड़ी प्रचुर मात्रा में पाई जाती है।
  • संयुक्त राज्य अमेरिका: जब प्राकृतिक संसाधनों की उपलब्धता की बात आती है तो संयुक्त राज्य अमेरिका दूसरे स्थान पर आता है। यह अपने कोयले, प्राकृतिक गैस, तेल भंडार, सोने और तांबा के लिए जाना जाता है।
  • कनाडा: जब प्राकृतिक संसाधनों की उपलब्धता की बात आती है तो कनाडा नंबर चार पर आता है। यह अपने तेल रिज़र्व करने के लिए जाना जाता है। यह दुनिया भर के विभिन्न देशों को तेल की आपूर्ति कराता है। यह देश यूरेनियम, फॉस्फेट और प्राकृतिक गैस भंडार और लकड़ी के उत्पादन के लिए भी जाना जाता है।
  • ब्राज़िल: ब्राजील दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा लौह उत्पादक देश है। यह दुनिया भर के विभिन्न देशों को लकड़ी की अच्छी आपूर्ति कराता है। इसके अलावा, यह देश ब्रिल यूरेनियम और सोने के रिज़र्व के लिए भी जाना जाता है।

विभिन्न क्षेत्रों में विभिन्न प्रकार के फल और सब्जियां उगाई जाती हैं और उन्हें अन्य स्थानों पर निर्यात किया जाता है इसी तरह सभी प्रकार के जानवर हर जगह उपलब्ध नहीं होते, तो उन्हें भी इसी प्रकार निर्यात किया जाता है। ये देश कच्चे माल का उत्पादन भी इस प्रकार करके अन्य देशों के साथ आदान-प्रदान करते हैं।

प्राकृतिक संसाधनों के असमतल वितरण का प्रभाव

प्राकृतिक संसाधनों का यह असमतल वितरण अंतरराष्ट्रीय व्यापारों को मार्ग प्रदान करता है जिससे व्यवसायों को बढ़ावा मिलता है और दुनिया भर के विभिन्न देशों के आर्थिक विकास का दावा करता है जिन देशों में तेल, प्राकृतिक गैसों, खनिजों और अन्य प्राकृतिक संसाधन अधिक मात्रा में जमा होते है वो उनके विपरित जिनके पास इन संसाधनो की कमी होती हैं उनके साथ सत्ता खेलना शुरू कर देते है। इन्हीं कारणो की वजह से अमीर और अमीर तथा गरीब औऱ गरीब होते जा रहे हैं।

निष्कर्ष

प्राकृतिक संसाधन हमारे लिए बहुत जरूरी हैं इन संसाधनों के अस्तित्व के बिना, पृथ्वी पर हमारा जीवन संभव नहीं हैं तथा मनुष्य भी बिना नियंत्रण के इनका उपयोग कर रहा हैं, उन्हें इस तथ्य का एहसास नहीं है कि इनमें से अधिकतर संसाधन अनवीकरणीय हैं और इनका नवीनीकरण करने में हजारों साल लग जाते हैं। हमें प्राकृतिक संसाधनों का समझदारी से उपयोग करना चाहिए और इनको किसी भी प्रकार से बर्बाद होने से बचना चाहिए ताकि हमारी आने वाली पीढ़ियां भी इनका आनंद ले सकें।

 

 

संबंधित जानकारी:

ईंधन पर निबंध

प्रकृति संरक्षण पर निबंध

पर्यावरण पर निबंध

प्राकृतिक संसाधनों की कमी पर निबंध