सद्भावना दिवस पर निबंध

सद्भावना दिवस भारत में 20 अगस्त को मनाया जाता है। इसे सौहार्द दिवस के नाम से भी जाना जाता है और यह भारत के 6वें प्रधानमंत्री राजीव गाँधी के जन्मदिवस के उपलक्ष में मनाया जाता है। यह राजीव गाँधी के सौहार्द और शांति के लिए किये प्रयासों को याद करने के लिए मनाया जाता है। यहाँ पर हम आपके लिए इस विषय से सम्बन्धित और भी अधिक जानकारी के लिए कुछ निबंध लेकर आये हैं।

सद्भावना दिवस पर लघु और दीर्घ निबंध (Short and Long Essays on Sadbhavana Diwas in Hindi)

निबंध 1 (250 शब्द)

परिचय

भारत के 6वें प्रधानमंत्री और भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के सदस्य राजीव गांधी की जयंती पर समस्त भारतियों द्वारा 20 अगस्त को सद्भावना दिवस या सद्भाव दिवस मनाया जाता है।

कांग्रेस पार्टी के लिए विशेष दिन

भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस का कोई भी कार्यकर्ता चाहे जमीनी स्तर या राष्ट्रीय स्तर का हो, सदभावना दिवस को हर्ष और उत्साह के साथ मनाना चाहिए। उस दिन राजीव गांधी का जन्मदिन भी था, उनकी पार्टी के सदस्य उनकी याद में केक काटते हैं और जश्न भी मनाते हैं।

प्रधान मंत्री के रूप में अपने कार्यकाल के दौरान राजिव गांधी द्वारा किए गए शांति प्रयासों पर पार्टी गर्व करती है। राजीव गाँधी ने न केवल भारतीय जमीन पर सांप्रदायिक सद्भाव को बहाल करने की कोशिश की, बल्कि अन्य देशों में भी शांति और व्यवस्था बहाल करने के प्रयास किए। व्यवस्था और सामंजस्य लाने में उनकी दृष्टि भारत को विश्व में अग्रणी बनाने की थी।

कैसे मनाएं?

वास्तविक रूप से सदभावना दिवस, राजीव गांधी द्वारा समाज में सौहार्द लाने की दिशा में उनके जन्मदिन को मनाने की तुलना में कहीं अधिक है।

देश और दुनिया में शांति बहाल करने की दिशा में राजीव गांधी और उनकी सरकार के प्रयासों से खुद को अवगत करायें। साथ ही, समाज में समरसता और शांति स्थापित करने के महत्व पर अन्य लोगों को भी जागरूक करें।

निष्कर्ष

सद्भावना दिवस न केवल कांग्रेस पार्टी के लिए अपने महान नेता को लेकर उत्सव मनाने का अवसर है, बल्कि भारत के लोगों के लिए भी हर पहलू में सबसे आगे है। यह दुनिया में समानता और सद्भाव के भारतीय दर्शन के लिए एक श्रद्धांजलि है।

निबंध 2 (400 शब्द)

परिचय

भारत के 6वें प्रधानमंत्री श्री राजीव गांधी के जन्मदिन के अवसर पर 20 अगस्त को सद्भावना दिवस मनाया जाता है। राजीव गाँधी एक दूरदर्शी प्रधानमंत्री थे जिन्होंने सैन्य तख्तापलट और आतंकी संगठनों के खिलाफ मदद बढ़ाकर कई देशों में शांति बहाल करने का सराहनीय प्रयास किया था।

सदभावना दिवस क्यों मनाया जाता है?

1984 से 1989 तक भारत के 6वें प्रधानमंत्री के रूप में उनके कार्यकाल के दौरान, राजीव गांधी के नेतृत्व में सरकार ने देश और दुनिया में शांति और सद्भाव स्थापित करने के लिए एक मुखर नीति अपनाई।

सद्भावना एक हिंदी शब्द है जिसका अर्थ है शांति और सद्भाव। सद्भावना दिवस राजीव गांधी के जन्मदिन के रूप में मनाया जाता है और साथ ही साथ शांति बहाल करने के लिए उनकी सरकार के प्रयासों की सराहना भी की जाती है।

भारत के प्रधानमंत्री के रूप में, राजीव गाँधी ने मालदीव, सेशेल्स में सैन्य तख्तापलट को सफलतापूर्वक दबाने के लिए हस्तक्षेप किया, और पड़ोसी देश श्रीलंका में आतंकवादी संगठन लिट्टे (लिबरेशन ऑफ तमिल टाइगर्स ईलम) को भी दबा दिया। 1991 में भारत में एक चुनाव अभियान के दौरान उन्हें अपनी जान गंवानी पड़ी, जब एलटीटीई के एक आत्मघाती हमलावर ने उनके पैर छूने के दौरान उनके साथ-साथ खुद को भी उड़ा लिया था।

उन्होंने दुनिया को परमाणु हथियारों से मुक्त बनाने के लिए संयुक्त राष्ट्र महासभा के सत्र के दौरान एक कार्य योजना की वकालत भी की थी।

यह शांति बहाल करने के लिए राजीव गांधी के प्रयासों को मनाने के प्रमुख उद्देश्य है जो सद्भावना दिवस के रूप में मनाया जाता है।

विशेष घटनाएँ

सदभावना दिवस पर कई कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं, मुख्य रूप से भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस पार्टी, जिसमें राजीव गाँधी आजीवन सदस्य हैं। पार्टी का प्रत्येक सदस्य, जमीनी स्तर से लेकर शीर्ष पटल तक, सक्रिय रूप से पार्टी के क्षेत्रीय कार्यालयों और अन्य स्थानों पर संपन्न होने वाले कार्यक्रमों में भाग लेता है और साथ ही उनका आयोजन भी करता है।

पार्टी के कई नेता आयोजनों में हिस्सा लेते हैं और राजीव गांधी की प्रतिमा और चित्र पर माल्यार्पण करते हैं। भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के हर कार्यालय में राजीव गांधी का चित्र या मूर्ति स्थापित है।

राजीव गांधी का अंतिम संस्कार नई दिल्ली में स्थित वीर भूमि पर किया गया था, इस तरह से वहां पर एक प्रमुख कार्यक्रम भी आयोजित किया जाता है। कांग्रेस पार्टी के मौजूदा सदस्य और अन्य दलों के लोग भी राजीव गांधी को सम्मान देने के लिए वीर भूमि पर जाते हैं।

कांग्रेस पार्टी सांप्रदायिक सद्भाव और शांति में योगदान के लिए नागरिकों को राजीव गांधी राष्ट्रीय सद्भावना पुरस्कार भी वितरित करती है। इस पुरस्कार को 1992 में स्थापित किया गया था और इसमें 10 लाख रुपये तक का नकद इनाम भी दिया जाता है।

निष्कर्ष

सदभावना दिवस राजीव गांधी द्वारा शांति प्रयासों को याद करने और उनके जन्मदिन को मनाने का दिन है। यद्यपि यह दिन कांग्रेस पार्टी के लिए विशेष महत्व रखता है, लेकिन यह सांप्रदायिक सौहार्द और शांति में विश्वास रखने वाले प्रत्येक भारतीय के लिए एक महत्वपूर्ण दिन है।

निबंध 3 (600 शब्द)

परिचय

भारत के 6वें प्रधानमंत्री राजीव गांधी की जयंती के उपलक्ष्य में हर वर्ष 20 अगस्त को सद्भावना दिवस मनाया जाता है। वह श्रीमती इंदिरा गाँधी के पुत्र थे। इंदिरा गांधी, भारत की तीसरी प्रधानमंत्री थीं जो भारत के पहले प्रधानमंत्री श्री जवाहरलाल नेहरू की बेटी थीं।

राजीव के शांति प्रयासों के लिए एक श्रद्धांजलि

सदभावना दिवस को भारत के प्रधानमंत्री और भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के अध्यक्ष के रूप में राजीव गांधी द्वारा भारत और पड़ोसी देशों में शांति की बहाली की दिशा में किए गए तमाम प्रयासों के लिए मनाया जाता है।

प्रधानमंत्री के रूप में अपने कार्यकाल के दौरान, 31 अक्टूबर 1984 से 2 दिसंबर 1986 तक, उन्होंने एक ऐसी विदेश नीति अपनाई, जिसने भारत को दुनिया में अग्रणी स्थान पर ला खड़ा किया। उनकी विदेश नीति असाधारण रूप से बेहतर तरह से तैयार की गई थी और भारत को एक अभिभावक राष्ट्र के रूप में तैनात किया गया था, जो संकट, दरार, आतंकवाद, आदि का सामना करने वाले अन्य लोगों को समर्थन प्रदान करता है। उनकी सरकार की सभी नीति में भारत के साथ-साथ आसपास के देशों में शांति बहाल करना भी शामिल था।

राजीव गाँधी का शांति प्रयास

प्रधानमंत्री के रूप में अपने कार्यकाल के दौरान, राजीव गाँधी ने अन्य राष्ट्रों में शांति बहाल करने के लिए कई लीक से हटकर और क्रांतिकारी उपाय किए।

उन्होंने सेशेल्स, जिसे द्वीप देश कहा जाता है, वहां पर सैन्य तख्तापलट को दबाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। 1986 में सेशेल्स की सेना द्वारा तख्तापलट की धमकी मिलने के बाद, सेशेल्स के तत्कालीन राष्ट्रपति, फ्रांस अल्बर्ट रेने ने राजीव गाँधी से मदद के लिए अनुरोध किया था। विश्व व्यवस्था को बहाल करने के लिए अपनी मुखर विदेश नीति पर काम करते हुए, राजीव गाँधी ने सेशेल्स में भारतीय नौसेना को एक ऑपरेशन कोड पर भेजा, जिसका नाम 'फूल इज ब्लूमिंग' था। ऑपरेशन सफल रहा और संकट टल गया था।

राजीव गाँधी ने सैन्य तख्तापलट को सफलतापूर्वक दबाने और मौमून अब्दुल गयूम की सरकार को बहाल करने के लिए 1988 में मालदीव में 1500 भारतीय सैनिकों को भी भेजा था, जिन्होंने राजीव गाँधी से मदद मांगी थी।

इसी तरह, उन्होंने जुलाई 1987 में भारत-श्रीलंका समझौते के माध्यम से तमिल बहुमत वाले क्षेत्रों में श्रीलंका की शांति शक्ति को बहाल करने में मदद की थी। इस समझौते ने लिट्टे (तमिल टाइगर्स ईलम की मुक्ति) को तोड़ने में भी मदद की, जो श्रीलंका में अलग तमिल राज्य की मांग करने वाला एक आतंकी संगठन था।

1988 में संयुक्त राष्ट्र महासभा के सत्र में भारत का प्रतिनिधित्व करते हुए, राजीव गाँधी ने एक परमाणु हथियार मुक्त विश्व पर अपने विचार व्यक्त किए और प्रस्तावित किया कि इस संबंध में एक कार्य योजना बनाई जाए।

दुनिया में शांति और व्यवस्था बहाल करने के लिए इसी तरह के कई अन्य प्रयासों ने राजीव गांधी को अपने समय का एक दूरदर्शी नेता बना दिया था।

सदभावना दिवस समारोह

भारत के कई राजनेता और दुनिया भर से तमाम नेतागण राजीव गांधी और दुनिया में शांति व्यवस्था बहाल करने के उनके प्रयासों को याद करते हैं। कई स्थानों पर राजीव गांधी की मूर्तियों को सद्भावना दिवस पर उनके प्रशंसकों और राजनेताओं द्वारा अलंकृत भी किया किया जाता है।

यह दिन विशेष रूप से भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस पार्टी के लिए महत्वपूर्ण है, जिसमें राजीव गांधी सक्रीय रूप से 1985 से 1991 तक एक सफल नेता और अध्यक्ष थे। वह भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस से संबंधित राजनीतिज्ञों के एक ही परिवार से प्रधानमंत्री के रूप में तीसरे स्थान पर थे।

नई दिल्ली स्थित वीर भूमि पर इस दिन एक विशेष कार्यक्रम आयोजित किया जाता है जहां राजीव गाँधी का अंतिम संस्कार किया गया था। उनके तत्काल परिवार के सदस्य और कांग्रेस पार्टी के अन्य वरिष्ठ नेता उनके सम्मान और उनके उत्कृष्ट कार्य और दूरदर्शी दृष्टि को याद करने के लिए वहां उपस्थित होते हैं।

भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस भारत की सबसे बड़ी पार्टियों में से एक है और इसमें भारत की उपस्थिति है। राजीव गांधी के सम्मान में कई कार्यक्रम पूरे देश में फैले कांग्रेस के सभी क्षेत्रीय कार्यालयों में आयोजित किए जाते हैं।

निष्कर्ष

सदभावना दिवस राजीव गांधी के जन्मदिन को मनाने से ज्यादा उनके द्वारा किये गए शांति प्रयासों के लिए एक श्रद्धांजलि है। यह एक शांतिपूर्ण और परमाणु-हथियार-मुक्त दुनिया के लिए भारतीय प्रधानमंत्री के दृष्टिकोण और प्रयासों के लिए एक श्रद्धांजलि है।