सादा जीवन उच्च विचार पर निबंध

सरल जीवन उच्च विचार से पता चलता है कि हमें एक सादा जीवन जीना चाहिए लेकिन साथ ही हमारी सोच भी सीमित नहीं होनी चाहिए। यह तथ्य सही है कि हमें अपनी सोच को केवल रोज़ाना के कामों के इर्द-गिर्द तक ही सीमित नहीं करना चाहिए। हमें अपनी जिन्दगी के साथ-साथ हमारे आसपास के सकारात्मक बदलावों के बारे में भी सोचना चाहिए।

यह नीतिवचन किसी भी प्रकार के दिखावे के बिना एक साधारण जीवन जीने के महत्व पर जोर देती है। हमें अपनी इच्छाओं और ज़रूरतों की जांच करना चाहिए। हालांकि जब सोच और विचारों की बात आती है तो ये बड़े होने चाहिए। हमें केवल स्वयं के बारे में ही नहीं सोचना चाहिए बल्कि अपने आस-पास के लोगों के बारे में भी सोचना चाहिए। यहां आपकी परीक्षा में इस विषय के साथ आपकी मदद करने के लिए सादा जीवन उच्च विचार पर विभिन्न लंबाई के निबंध उपलब्ध कराए गए हैं। आप अपनी पसंद के अनुसार किसी भी सरल जीवन उच्च सोच निबंध का चयन कर सकते हैं:

सादा जीवन उच्च विचार पर लंबे और छोटे निबंध (Long and Short Essay on Simple Living High Thinking in Hindi)

सादा जीवन उच्च विचार पर निबंध 1 (200 शब्द)

सरल जीवन और उच्च विचार की सोच का पालन साथ-साथ किया जा सकता है। केवल वे लोग जो एक साधारण जीवन जीने में विश्वास रखते हैं वे ही जीवन में अच्छे कर्म कर सकते हैं। जो लोग अकेले रहते हैं वे केवल अपनी इच्छाओं को पूरा करने के बारे में सोचते हैं और इन इच्छाओं का कोई अंत नहीं है। ऐसे लोग अपनी इच्छाओं को संतुष्ट करने और दूसरों को अपनी संपत्तियां दिखाकर उन्हें प्रभावित करते हैं जिससे उनकी सोच सीमित हो जाती है। जो लोग बड़ा नहीं सोच सकते हैं वे व्यापक मानसिकता का विकास नहीं कर सकते।

दूसरी ओर जो लोग समझते हैं कि उन्हें केवल अपनी जरूरतों पर ध्यान देना चाहिए और हर भौतिकवादी चीज़ों के पीछे नहीं भागना चाहिए वे सरल जीवन जीते हैं। वे केवल ज़रूरत की चीजें खरीदते हैं और अपने कर्मों के जरिए बेहतर इंसान बनने पर ध्यान केंद्रित करते हैं न कि दूसरों की तरह ऐशो-आराम की जिंदगी का व्याखान करने के। वे अपने आस-पास के लोगों की मदद करते हैं, दान करते हैं, पर्यावरण में सुधार लाने के लिए अलग-अलग गतिविधियों में शामिल होते हैं और अपने प्रियजनों के साथ अच्छा समय बिताते हैं।

अब इसका मतलब यह नहीं है कि महत्वाकांक्षी होना और एक आरामदायक जीवन जीने के लिए पैसे कमाना गलत है। आरामदायक जीवन जीने और एक शानदार जीवन शैली के बीच में अंतर है। दुनिया भर में कई अमीर लोग हैं जो एक सरल जीवन जीते हैं और उच्च सोच रखते हैं। वे खुद पर खर्च करने के बजाय चैरिटी में पैसा दान देते हैं।


 

सादा जीवन उच्च विचार पर निबंध 2 (300 शब्द)

प्रस्तावना

यह नीतिवचन मनुष्य को अपनी ज़रूरतों और इच्छाओं को सीमित करने की सलाह देती है क्योंकि इनका कोई अंत नहीं है। यदि हम अपनी हर इच्छा को पूरा करते हैं तो हम कभी भी संतुष्ट नहीं होंगे क्योंकि इनका कोई अंत नहीं है।

सादा जीवन व्यतीत करें - दूसरों को प्रभावित करें

हम सभी इस बात से सहमत हैं कि जिन चीजों को हम चाहते हैं वे वास्तव में हमारे लिए नहीं हैं। हम चाहते हैं कि हम अपने पड़ोसियों, मित्रों और रिश्तेदारों को प्रभावित करें। इस तरह का जीवन कभी भी संतुष्टिपूर्ण या सुखद नहीं हो सकता है। इसका कारण यह है कि हम दूसरों को खुश करने या प्रभावित करने के लिए जन्म नहीं लेते हैं और ना ही हम ऐसा कभी भी कर सकते हैं। हम जो कुछ भी करते हैं उससे केवल लोगों को हमारे अंदर खामियां ढूँढ़ने के अवसर मिलते हैं और इससे हमें और अधिक असंतुष्टता होती है। हम अधिक से अधिक पैसा कमाने की सोचते हैं, कंपनी में एक बड़े पद पर आसीन होने की कोशिश करते हैं, समाज में अपनी सामाजिक उपस्थिति को बढ़ाते हैं और महंगे कपड़ों और घरेलू सामानों की खरीदारी करते हैं – यह सब किसके लिए? यह सब अपनी एक अच्छी सामाजिक छवि बनाने  के लिए किया जाता है।

 

अब यह कहना सही नहीं है कि महत्वाकांक्षी होना और अच्छा जीवन जीने में कुछ खराबी है। यह सब हमारी जिंदगी में संतुष्टि ला सकता है लेकिन यह दूसरी चीजों से हमें बहुत दूर ले जाता है। हालांकि इस वजह से पेशेवर बड़ा रुतबा हासिल करने और अधिक से अधिक कमाई करने के लिए काम पर बहुत अधिक समय व्यतीत करते हैं और अपने माता-पिता, जीवन साथी और बच्चों को नज़रंदाज़ करते हैं। यह चीज़ उन्हें परिवार से उन्हें दूर करती है और उनके व्यक्तिगत संबंधों में परेशानी पैदा करती है और इससे केवल तनाव ही उत्पन्न होता है।

निष्कर्ष

अगर हम अपनी भौतिकवादी इच्छाओं को कम करते हैं और अपनी जरूरतों को पूरा करते हैं तो हम अपने निजी और पेशेवर जीवन के बीच एक संतुलन बना सकते हैं। इस तरह हम अपने परिवार के साथ और अधिक से अधिक समय बिताने में सक्षम होंगे जिससे सच्चा आनन्द प्राप्त होता है। इससे हमारे पास स्वयं के लिए भी पर्याप्त समय होगा, अपना आंकलन करने का मौका मिलेगा और हमारे जीवन के सही उद्देश्य का पता लगाने का अवसर प्राप्त होगा।


 

सादा जीवन उच्च विचार पर निबंध 3 (400 शब्द)

प्रस्तावना

अतीत में कई समझदार लोगों ने इस कहावत के अर्थ का पालन किया और इतिहास में अपना एक स्थान बना लिया है। ऐसे ही कुछ लोगों में संत कबीरदास, महात्मा गांधी, पोप फ्रांसिस और अब्राहम लिंकन शामिल हैं। इन सभी लोगों ने बहुत ही सरल जीवन व्यतीत किया है और ऐसा करने के लिए अपने आसपास के कई लोगों को भी प्रेरित किया है।

सादा जीवन क्यों जीना चाहिए?

बहुत कम लोग सामान्य जीवन जीते हैं, कुछ अपनी इच्छाओं को पूरा करना चाहते हैं और अपनी बड़ी संपत्तियों से दूसरों को प्रभावित करने की कोशिश करते हैं। यहां बताया गया है कि क्यों एक सादा जीवन जीना चाहिए:

  1. परिवार के करीब आ जाते है

जब आप एक कृत्रिम जीवन जीना, जहाँ आप दूसरों को प्रभावित करने की कोशिश करते हैं, छोड़ते हैं और एक साधारण जीवन जीने की ओर बढ़ते हैं तो आप अपने संस्कारों के और करीब रहते हैं। इससे आप अपने परिवार के सदस्यों के करीब आते हैं और उनके द्वारा दिए प्रेम से बहुत खुशी होती है।

 

  1. अपने आप को पहचाने

जब आप अपने आप को संतुष्ट करने वाली अधिक से अधिक चीजों की तलाश करना बंद कर देते हैं और अपने साथ समय बिताते हैं तो आप अंततः पहचान लेते हैं कि आप वास्तव में कौन हैं।

  1. नियंत्रण की भावना

जब आप एक साधारण जीवन जीते हैं तो आपको जीने के लिए न्यूनतम चीजों की आवश्यकता होती है। जब आपके सिर पर विभिन्न चीजों को खरीदने के लिए कोई ऋण नहीं होता है तो आप अपने आप में अधिक आत्मविश्वास महसूस करते हैं। इस कारण आपको अपने कर्ज और बिलों का भुगतान करने के लिए अधिक से अधिक पैसा अर्जित करने के लिए अपने काम में व्यस्त होने की आवश्यकता नहीं है। आपके पास जीवन पर नियंत्रण की अधिक भावना होती है।

  1. निम्न तनाव स्तर

आप अपने भाई-बहनों, दोस्तों और पड़ोसियों की तुलना में अधिक कमाई करने के दबाव में नहीं हैं। अब आप अपने बारे में अच्छा महसूस करने के लिए एक बड़ा घर, बड़ी कार या अधिक से अधिक बैंक बैलेंस नहीं चाहेंगे। जब आपने एक साधारण जीवन जीना चुना तो इस कोशिश के कारण सभी तनाव खत्म हो गए।

  1. संतुलित जीवन

अब आपको शीर्ष पद पर पहुंचने के लिए अपने कार्यालय में बहुत कठिन परिश्रम नहीं करना पड़ेगा। इसका कारण यह है कि आपकी इच्छाएं सीमित होंगी और अपनी ज़रूरतों को पूरा कर सकते हैं भले ही आप काफी अच्छी कमाई कर रहे हों। इस प्रकार आप समय पर घर पहुंच पाएंगे और अपने परिवार के साथ समय बिता पाएंगे। यह जीवन संतुलन को बनाए रखने में मदद करता है।

निष्कर्ष

जहाँ बहुत से लोग एक भव्य जिंदगी जीने में कामयाब रहे हैं वहीँ बहुत से लोग पहले ही भयावह परिणामों को देखकर सरल जीवन की ओर अग्रसर हो गए हैं। यह सही समय है जब हमें यह समझना चाहिए कि हमें अपने लिए जीना चाहिए ना कि दूसरों को प्रभावित करने के लिए। हमें समझना चाहिए कि खुशी केवल अपने भीतर मिल सकती है ना कि बाहर। अगर हम एक सादा जीवन जीते हैं और बड़ी सोच रखते हैं तो केवल तब ही आंतरिक शांति और खुशी पाई जा सकती है जो हमें दूसरों के लिए अच्छा करने के लिए प्रेरित करती है।


 

सादा जीवन उच्च विचार पर निबंध 4 (500 शब्द)

प्रस्तावना

सादा जीवन और उच्च विचार प्रत्येक व्यक्ति के जीवन का आदर्श होना चाहिए। हालांकि लोग इन दिनों अपनी सोच के साथ शानदार जीवन व्यतीत करते हैं और केवल उन चीजों तक ही सीमित रहते हैं जिनसे उन्हें सांसारिक सुख प्राप्त होता है।

महान हस्ती जिन्होंने सादा जीवन और उच्च विचार के स्वर्णिम सिद्धांत को अपनाया

  1. महात्मा गांधी

महात्मा गांधी का उदाहरण इस कहावत के सर्वश्रेष्ठ उदाहरणों में से एक है। उन्होंने बेहद सादा जीवन व्यतीत किया और बड़े सपने देखे। उनकी जीवनशैली बेहद सरल थी लेकिन उनकी सोच व्यापक थी। उन्होंने न केवल अंग्रेजों को देश से बाहर करने की दिशा में काम किया बल्कि इसके समर्थन के लिए उन्होंने अपने चारों ओर कई अन्य लोगों को भी प्रेरित किया। उन्होंने साधारण सी चीज़ अहिंसा को अपना हथियार बनाया और अंग्रेजों को हिंदुस्तान से बाहर किया।

  1. बुद्ध

बुद्ध एक राजा थे जिनकी एक आवाज़ पर उनके अनगिनत नौकर-चाकर आगे-पीछे खड़े रहते थे। उनके पास प्रेमपूर्ण परिवार और जीवन की सभी विलासिताएं थी लेकिन उन्होंने जंगलों में एक सरल जीवन जीने के लिए इन सभी को छोड़ दिया। वे ध्यान केंद्रित कर सके, अपने भीतर झाँक सके और सोच सके और यह केवल तभी हो सका जब उन्होंने सरल जीवन व्यतीत किया। अगर वे महलों में रहते और विलासितापूर्ण जीवन जीते तो वे कभी भी ज्ञान प्राप्त नहीं कर पाते।

  1. अब्राहम लिंकन

अमेरिकी राष्ट्रपति अब्राहम लिंकन ऐसे व्यक्ति थे जो जीवन की सभी विलासिता को खरीद सकते थे और शाही जीवन जी सकते थे लेकिन उन्होंने सरल जीवन शैली को अपनाया। उन्होंने अपने किसी भी काम का ख्याल रखने के लिए कोई नौकर को नियुक्त नहीं किया। उसने अपने सभी निजी कार्यों को अपने दम पर पूरा किया।

सरल जीवन जीने के तरीके

  1. अपनी आवश्यकताओं और इच्छाओं के बीच अंतर पहचानें

पहली और सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि आपको अपनी आवश्यकताओं और इच्छाओं के बीच भेद करना है। याद रखें कि आपकी ज़रूरतें सीमित हैं लेकिन इच्छाएं असीमित हैं। एक सरल जीवन जीने के लिए आपको केवल आवश्यक वस्तुएं ही खरीदनी चाहिए और हर भौतिक इच्छा को पूरा करने की कोशिश नहीं करनी चाहिए।

  1. आंतरिक शांति पर ध्यान दें

हम सब बाहरी खुशी की तलाश करते हैं। हम दोस्तों के साथ घूमने, मॉल्स में जाने की कोशिश करते हैं, विभिन्न व्यंजनों को खाने की कोशिश करते हैं, अनावश्यक खरीदारी करते हैं और ऐसी कई एनी गतिविधियों में शामिल होते हैं। हालांकि ये सभी चीजें अस्थायी रूप से खुशी दे सकती हैं लेकिन अगर आप भीतरी शांति नहीं रखते तो आप वास्तव में खुश नहीं हो पाएंगे। एक सरल और सादा जीवन को जीने के लिए आपको अपने भीतरी ओर ध्यान केंद्रित करना चाहिए।

  1. दूसरों को प्रभावित करने वाली चीजें मत करें

आप दूसरों को प्रभावित करने के लिए पैदा नहीं हुए हैं। यदि आप अन्य लोगों को प्रभावित करने के तरीकों की तलाश जारी रखते हैं तो आपका जीवन बेहतर नहीं होगा। जब आप अपने आप पर ध्यान केंद्रित करते हैं तो आपका जीवन पूरा होगा।

  1. दूसरों की मदद करें

दिखावे के लिए खर्च करने की बजाए आपको चैरिटी में दान करना चाहिए। इसका मतलब यह नहीं है कि आपको हर महीने एक बड़ी रकम दान करनी होगी। गरीब और जरूरतमंदों की मदद करने के लिए जो कुछ भी आप कर सकते हैं उतना दान करें।

  1. आराम करें

बस अपने दिमाग में बसे सभी नकारात्मक विचारों का त्याग करें। आपको अपने मन को सकारात्मक चीजों की ओर ध्यान केंद्रित करना चाहिए।

निष्कर्ष

सादा जीवन जीना मुश्किल नहीं है। यह बहुत आसान है। आपको बस अपनी इच्छाओं को सीमित करना होगा और दूसरों को प्रभावित करने की ज़रूरत से दूर रहना होगा। जब आप केवल एक साधारण जीवन जीते हैं तो आप उच्च विचार रख सकते हैं जिससे आप केवल खुद को संतुष्ट करने में व्यस्त हो पाएंगे।

-------------------

सादा जीवन उच्च विचार पर निबंध 5 (600 शब्द)

प्रस्तावना

सादा जीवन उच्च विचार एक सामान्य नीतिवचन है जो सामान्य जीवन को आगे बढ़ाने और उच्च सोच रखने के महत्व पर जोर देने के लिए प्रयोग किया जाता है। अगर हममें से हर एक ऐसा जीवन जीने की सोचता है तो विश्व एक बेहतर स्थान बन जाएगा।

महात्मा गांधी की जिंदगी सादा जीवन उच्च विचार का उदाहरण है

जब हम सादा जीवन उच्च विचार कहावत सुनते हैं तो महात्मा गांधी निस्संदेह पहला नाम है जो मन में आता है। प्राय: बापू के रूप में मशहूर इस महान हस्ती ने एक अत्यंत सरल जीवन जिया। वे बहुत ही शिक्षित व्यक्ति थे और उन्हें आसानी से एक अच्छे वेतन वाली नौकरी मिल सकती थी। वे एक शानदार बंगले में रह सकते थे और महंगी कारें रख सकते थे। पर उन्होंने एक सामान्य सी झोपड़ी में रहने का फैसला किया। उन्होंने सादी सी धोती पहनी और पूरी जिंदगी सरल भोजन खाया। जहाँ उनकी भौतिकवादी ज़रूरतें सीमित थीं वहीँ उनकी दृष्टि व्यापक थी। वह उच्च सोच के आदमी थे। उन्होंने अपनी ज़िंदगी देश को समर्पित की।

भारत की आजादी उनका मिशन बन गई थी और उन्होंने अहिंसा के मार्ग पर चल कर उसे हासिल किया। उनकी इच्छाशक्ति इतनी ताकतवर थी कि उन्होंने हजारों भारतीयों को प्रेरित किया जिससे वे स्वतंत्रता के लिए उनके संघर्ष में उनके साथ शामिल हो गए। उन्होंने विभिन्न आंदोलनों की शुरुआत की और कई भारतीयों ने सक्रिय रूप से इन आंदोलनों में भाग लिया। उन्होंने जनता से अपने ज्ञानपूर्वक शब्दों को साझा करने के लिए समय-समय पर उन्हें संबोधित किया और उन्हें अपने जीवन को स्वतंत्रता संग्राम में समर्पित करने के लिए प्रोत्साहित किया। ब्रिटिश अधिकारियों के अत्याचार से निपटने के उनके सरल लेकिन प्रभावी तरीकों की लोग बहुत सराहना करते थे। अंग्रेजों को देश से बाहर निकालने के लिए महात्मा गांधी मुख्य शक्तियों में से एक थे।

क्यों लोग सादा जीवन उच्च विचार का अभ्यास करने में असमर्थ हैं?

दुनिया सचमुच दिखावे की एक जगह बन गई है। सादा जीवन और उच्च विचार एक अवधारणा है जो आप शायद ही कभी किसी और में देख सकते हैं। लोग बहुत खुश हैं कि उन्हें कितनी ख़ुशी, धन और अच्छा जीवन मिला है। हालांकि पहले वे पार्टी और समारोहों का आयोजन करते थे, लोगों को आमंत्रित करते थे और सोशल मीडिया पर अपने चारों ओर के लोगों को प्रभावित करने के लिए ख़रीदी नई-नई चीजों का जिक्र करते थे ताकि दूसरों को प्रभावित करने की तलाश एक नए स्तर पर पहुंच जाए। लोग विदेशी स्थानों पर जाते हैं, भव्य रात्रिभोज के लिए बाहर जाते हैं, दोस्तों के साथ पार्टी करते हैं, नए सामान खरीदते हैं और यह सब कुछ ही समय के भीतर सोशल मीडिया पर अपलोड कर देते हैं। इस क्षण का आनंद लेने की बजाए अब लोग दूसरों को अपना रुतबा दिखाने में अधिक रुचि रखते हैं ताकि दिखा सके कि उनका जीवन कितना अच्छा है।

जो लोग इस तरह की गतिविधियों में नियमित रूप से लिप्त होते हैं वे जोशीला जीवन जीने के लिए जाने जाते हैं और हर कोई उन्हें दोस्ती करना चाहता है तथा उनके साथ बाहर जाना चाहता है। दूसरी तरफ जो लोग सक्रिय नहीं रहते हैं वे बहुत सुस्त और उबाऊ हैं। ऐसे लोगों के आसपास रहना कोई भी पसंद नहीं करता। तो खुद का दिखावा करने और ज्यादा बोलना वास्तव में इस समय की आवश्यकता बन गया है। कोई भी व्यक्ति सरल जीवन जीना नहीं चाहता है। सादा जीवन वास्तव में उबाऊ माना जाता है। उच्च विचार करना प्रश्न से परे है क्योंकि लोग दूसरों को प्रभावित करने में इतने तल्लीन हैं कि वे यह नहीं समझते हैं कि असली खुशी हमारे वास्तविक जीवन को खोजने और आसपास के लोगों की सहायता करने में है।

जो कोई भी समाज के इन नए गठित मानदंडों को खारिज करने की कोशिश करता है वह सामाजिक-विरोधी या सिर्फ सादा और उबाऊ माना जाता है। जो लोग इस नई जीवन शैली के साथ समानता नहीं रखते हैं वे अक्सर अकेले रह जाते हैं। यहां तक ​​कि अगर कोई व्यक्ति भव्य रात्रिभोज का इंतजाम नहीं कर पाता या उसके पास अच्छे दोस्त नहीं है और सादा जीवन जीता है तो वह सोशल मीडिया पर नकली तस्वीरों और पोस्ट अपलोड करके लोगों को प्रभावित करने का भी प्रयास करता है।

निष्कर्ष

सुखद जीवन जीने के लिए सरल जीवन उच्च सोच एक मंत्र है। हमें भीड़ का हिस्सा बनने से रुकने की कोशिश करनी चाहिए। इस तरह हम समझ पाएंगे कि जो चीजें हमें खुशी दे सकती हैं और एक स्वस्थ जीवन जीने में हमारी मदद कर सकती हैं वे सादी चीजें हैं।

 

 

सम्बंधित जानकारी:

शहरी जीवन बनाम ग्रामीण जीवन पर निबंध

स्वस्थ जीवन शैली पर निबंध

विद्यार्थी जीवन में अनुशासन के महत्व पर भाषण

मेरे स्कूली जीवन पर भाषण

जीवन पर भाषण

जीवन पर स्लोगन