मैं फार्मासिस्ट क्यों बनना चाहता हूँ पर निबंध

एक व्यक्ति जो अलग अलग तरह की दवाओं के बारे में जानता है और साथ ही उसकी संरचना के बारे में भी जानता है वही एक फार्मासिस्ट है। एक डॉक्टर आपको उक्त दवा लेने के लिए कहता है मगर फार्मासिस्ट वह व्यक्ति होता है जो न सिर्फ इसे बनाता है बल्कि इसके साथ-साथ दवा को आपके लिए उपलब्ध भी कराता है। आज हम आपके लिए फार्मासिस्ट के बारे में जानने के लिए कुछ निबंध लेकर आये हैं और यह भी कि मैं फार्मासिस्ट क्यों बनना चाहता हूँ?

मैं फार्मासिस्ट क्यों बनना चाहता हूँ पर लघु और दीर्घ निबंध (Short and Long Essays on Why I want to Become a Pharmacist in Hindi)

निबंध 1 (250 शब्द) - मैं फार्मासिस्ट क्यों बनना चाहता हूँ?

परिचय

यकीनन यह एक बहुत अच्छा पेशा है और एक फार्मासिस्ट बनने के लिए काफी ज्यादा पढ़ाई करनी पड़ती है। किसी भी बीमारी से निपटने के लिए उन्हें रसायन और यौगिकों से जूझना पड़ता हैं। फार्मासिस्ट वाकई में काफी प्रतिभाशाली होते हैं क्योंकि वे हमें तरह तरह की बीमारियों से बचाते हैं। फार्मेसी की पढ़ाई करने के लिए कई अलग-अलग संस्थान भी मौजूद हैं।

मैं फार्मासिस्ट क्यों बनना चाहता हूँ?

हम सभी के पास अपना करियर चुनने के अलग अलग वजह होते हैं, इसी तरह, इस एक घटना की वजह से मैं फार्मासिस्ट बनना चाहता हूं।

एक वर्ष पहले कैंसर की वजह से मेरी दादी गुजर गयी थी। हालाँकि इसका इलाज मौजूद है, मगर यह कोई रामबाण इलाज नहीं है। अलग-अलग लोगों पर दवाओं का अलग-अलग प्रभाव भी पड़ता है। सिर्फ मेरी दादी ही नहीं बल्कि मैंने अपना एक दोस्त भी कैंसर की वजह से खोया है।

इन दोनों घटनाओं ने मुझे काफी ज्यादा प्रभावित किया और तब मैंने एक ऐसी दवा बनाने का फैसला किया जो हर किसी को ठीक कर सके। इलाज काफी महंगा है और हर कोई इसका खर्च नहीं उठा सकता। इसलिए, मैं चाहता हूँ कि कम कीमत पर उपलब्ध करा सकूँ और इस सन्दर्भ में एक अभियान भी चलाना चाहता हूं। यहाँ पर कुछ चुनिन्दा एन.जी.ओ ही हैं जो जानकारी देते हैं और जागरूकता फैलाते हैं। एक बार जब मैं मान्यता प्राप्त फार्मासिस्ट बन जाऊंगा, तब गरीब लोगों के लिए मैं भी एक अभियान चलाऊंगा।

जीवन का एक वक़्त आता है जब हम एकदम असहाय महसूस करते हैं और मैंने इसका सामना किया है। इसलिए, मैं एक फार्मासिस्ट बनना चाहता हूं और दूसरों की मदद करना चाहता हूं।

निष्कर्ष

यदि आप दृढ़ हैं और आपके विचार भी साफ़ हैं तो आप कुछ भी कर सकते हैं। इसी तरह, एक दिन मैं भी फार्मासिस्ट बनूंगा। फार्मासिस्ट बनने के बाद, मैं भी नई दवाएं बना सकता हूँ और अलग अलग बीमारियों पर शोध कर सकता हूं।

निबंध 2 (400 शब्द) - फार्मेसी: एक अच्छा पेशा है

परिचय

जिस तरह अलग-अलग मसालों का स्वाद भी अलग-अलग होता हैं; उसी तरह, अलग-अलग लोगों की पसंद भी अलग होती है और उसी के अनुसार वे अपना पेशा भी चुनते हैं। मेरी रूचि चिकित्सा क्षेत्र में है, लेकिन मुझे इंजेक्शन से डर भी लगता है। ऐसे में, मैं इस क्षेत्र में कैसे योगदान कर सकता हूं? आप एक फार्मासिस्ट हो सकते हैं; वह जो दवाओं और इसके उत्पादन से संबंधित है। उन्हें रिकॉर्ड बना कर रखना होता है और हमारे लिए सही दवा लाने के लिए उन्हें तरह तरह के शोध भी करने होते हैं। उन्हें इंजेक्शन देने के लिए भी प्रशिक्षित किया जाता है, लेकिन ये काम उन्हें कभी-कभार ही करना है।

एक फार्मासिस्ट क्या करता है?

सही दवा बनाने के लिए वे अलग अलग घटकों और रासायनिक मिश्रणों का गहराई से शोध करते हैं। जब भी आपको बुखार महसूस होता है और साथ सिरदर्द भी हो तब आप पेरासिटामोल लेना उचित समझते हैं। क्या आपने कभी सोचा है कि यह दवाई आती कहाँ से है? इसके लिए आपको हमारे फार्मासिस्टों को धन्यवाद देना चहिये जो लगातार इसके लिए काम करते रहते हैं।

इसी तरह, तमाम बीमारियां हैं और इसका जीता जागता उदाहरण है COVID-19, दुनियाभर के अलग अलग हिस्सों में फार्मासिस्ट अभी भी तमाम तरह के रिसर्च कर रहे हैं; ताकि वे वैक्सीन के साथ-साथ दवा भी विकसित कर सकें।

इन सबके अलावा सदियों से हमने तमाम तरह की मौतें पैदा करने वाली बीमारियों का सामना किया है और यह हमारी फार्मेसी टीम ही है जो हमेशा इन सभी का इलाज बनाती है। हमने पोलियो, प्लेग, आदि जैसी कई बीमारियों को दूर किया है और ये हमारे फार्मासिस्ट द्वारा किए गए महान काम के कुछ उदाहरण हैं।

फार्मासिस्ट की शैक्षिक योग्यता

  • भारत में फार्मास्युटिकल शिक्षा प्राप्त करने के कई तरीके हैं, जो स्कूल के दिनों से ही शुरू हो जाते हैं, इसके लिए आपको विज्ञान विषय लेना चाहिए।
  • उन्हें गणित या बायोलाजी को अतिरिक्त विषयों के रूप में लेना होता है या दोनों को लेना ज्यादा बेहतर होगा।
  • इसके अलावा 4 वर्ष का बैचलर डिग्री के साथ-साथ 2 साल का डिप्लोमा कोर्स भी उपलब्ध है, आप अपनी रुचि के अनुसार इनमें से किसी का भी चुनाव कर सकते हैं।
  • आप M.Pharm के साथ-साथ पोस्ट-बैकलॉरिएट को भी चुन सकते हैं।
  • आपको बायोटेक्नोलॉजी, फार्माकोलॉजी, फार्मास्युटिकल केमिस्ट्री, क्वालिटी एश्योरेंस इत्यादि में मास्टर्स की तरह अपना विषय चुनना होगा।

निष्कर्ष

अगर आप रसायन विज्ञान में वाकई अच्छे हैं, तो आपको इस क्षेत्र में जाना चाहिए। यह एक अच्छा पेशा है जहाँ आपको वेतन भी अच्छा मिलता है। ऐसे कई फार्मेसी मौजूद हैं जहाँ आपको आसानी से नौकरी मिल सकती है जहाँ आप अपनी किस्मत आज़मा सकते हैं। वास्तव में एक प्रकार का सामाजिक कार्य है क्योंकि आमतौर पर एक फार्मासिस्ट लोगों और उनकी बेहतरी के लिए काम करता है। कभी-कभी कुछ मामले का विश्लेषण करने और अपना शोध करने के लिए उन्हें अस्पतालों का दौरा भी करना पड़ता हैं।

निबंध 3 (600 शब्द) - अच्छा फार्मासिस्ट कैसे बनें?

परिचय

हम में से ज्यादातर लोग उस तरह के पेशे को ज्यादा पसंद करते हैं जिसमें हम कुछ भी रचनात्मक करने के लिए स्वछंद हों। जहां हम अपने खुद के विचारों या कौशल का उपयोग कर सकते हैं और फार्मेसी भी कुछ इसी तरह की है। असल में, इस क्षेत्र में, किसी को विभिन्न बीमारियों से निपटना होता है और उपाय ढूँढना होता है। उन्हें अलग-अलग समाधानों के साथ प्रयोग भी करना होता है और किसी खास बीमारी के लिए एक नया संयोजन भी खोजना पड़ता है। वास्तव में इसके लिए काफी धैर्य चाहिए। शैक्षिक योग्यता के अलावा, एक अच्छे फार्मासिस्ट में कुछ विशेष गुण भी होने चाहिए।

एक फार्मासिस्ट की विशेष योग्यता

  • धर्यवान होना चाहिये

मुझे लगता है कि धर्यवान होना किसी भी फार्मासिस्ट के सबसे महत्वपूर्ण गुणों में से एक है। हम एक दिन में एक किसी भी बीमारी की दवा नहीं बना सकते हैं, इसके लिए धर्य की सबसे ज्यादा आवश्यकता होती है। इसमें समय लगता है और कभी-कभी तो वर्षों लग जाते हैं। उदाहरण के लिए, आज तक डेंगू के लिए कोई विशिष्ट दवा नहीं है। वर्षों हो गए हैं और अभी भी हमारी मेडिकल टीम इस पर काम कर रही है।

इसलिए, एक फार्मासिस्ट के पास ढेर सारा धैर्य होना चाहिए और हर बार उसी उत्साह के साथ उसे तैयार रहना चाहिए, भले ही यह उसका 100वां प्रयास हो।

  • केंद्रित होना चाहिए

दवा बनाने के लिए बहुत ही सावधान और सतर्क होना आवश्यक है और एक फार्मासिस्ट हमेशा केंद्रित होना चाहिए। आमतौर पर, हम लगातार असफल होते जाते हैं तो हम उतना ध्यान देना बंद कर देते है। लेकिन एक वैज्ञानिक या फार्मासिस्ट होने के लिए आपका ध्यान केंद्रित किया जाना बेहद जरूरी है। इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि वे कितनी बार असफल हुए लेकिन हर बार जब वे नई शुरुआत करते हैं, तो उन्हें हर चीज पर ध्यान देना होता है और प्रत्येक जानकारी को लिखना होता है।

हम एक छोटी सी गोली खाते हैं जिसमें बहुत सारी चीजें होती हैं। इस सब के लिए बहुत सारा प्रयास और एक साथ विस्तृत चीजों की आवश्यकता होती है और मात्रा में एक छोटा सा परिवर्तन हमारे लिए परेशानी उत्पन्न कर सकता है। इसलिए, फार्मासिस्ट होने के लिए बहुत ज्यादा ध्यान केंद्रित करने की आवश्यकता होती है।

  • लक्ष्य उन्मुखी

हर किसी की अपनी निजी जिंदगी के साथ-साथ पेशेवर ज़िंदगी भी होती है और उन्हें इसके बीच संतुलन बनाये रखना पड़ता है। मगर एक शोध फार्मासिस्ट केवल अपने बारे में नहीं सोच सकता है। कभी-कभी उन्हें सिर्फ परिणाम देखने के लिए अपने सामान्य कार्य अवधी से काफी ज्यादा वक़्त तक इंतजार करना पड़ता है। वे लक्ष्य-उन्मुख होते हैं और किसी भी कीमत पर अपना काम खत्म करना उनके लिए आवश्यक होता है।

मान लीजिए किसी शोध के दौरान आपको 6 घंटे के बाद एक और यौगिक को जोड़ना है, तो इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि रात के 12 बज रहे या सुबह के 5 बजे है। आपको रुकना है और अपना कार्य पूरा करना होगा अन्यथा पूरा अनुसंधान बेकार चला जाएगा।

  • जानकार होना चाहिए

ज्ञान एक ऐसी चीज है जो आपको इस क्षेत्र में सफल बनाती है। जितना अधिक आप विभिन्न दवाओं के बारे में पढ़ते है आप उतने ज्यादा अपडेट रहते हैं। इससे आपको अपनी गतिविधियों को सही दिशा में करने में भी मदद मिलती है। इसके साथ ही, केस स्टडी पढ़ने से आपका ज्ञान तो बढ़ता ही है साथ ही साथ यही ज्ञान आपको और ज्यादा सटीकता प्रदान करता है।

  • प्रबंधन में बेहतर होना चाहिए

एक फार्मासिस्ट के पास बेहतर प्रबंधन कौशल होना आवश्यक है। उन्हें एक ही समय में कई चीजों पर शोध करना हो सकता है; एसे में उन्हें अन्य चीजों के लिए प्रबंधन करना होता है। यदि आप एक टीम में काम कर रहे हैं, तो आपको पता होना चाहिए कि प्रबंधन और सहयोग कैसे करना चाहिए। एक अच्छे प्रबंधन के साथ टीम हमेशा जीतती है। इसलिए, हमेशा पहले से ही सामग्री की सूची के बारे में सुनिश्चित कर लेना चाहिए और अपनी टीम के सदस्यों की अन्य छोटी बातों का भी ध्यान रखना चाहिए; यह निश्चित रूप से आपको एक अच्छा प्रबंधक बनाता है।

  • मल्टीटास्किंग

एक फार्मासिस्ट वो नहीं होता जो हमेशा सिर्फ विभिन्न तरह के शोध करता है, बल्कि उसे अन्य कार्यों को करने में भी सक्षम होना चाहिए, जैसे कि उन्हें विभिन्न दवाओं और उनकी रचनाओं के बारे में भी बेहतर जानकारी होनी चाहिए। जरूरत पड़ने पर वे केमिस्ट शॉप पर काम भी कर सकते हैं और लोगों को सही दवा लेने में मदद भी कर सकते हैं। वे विभिन्न दवाओं के निर्माण और समाप्ति की तारीख आदि के रिकॉर्ड रखने के रूप में भी काम कर सकते हैं। उन्हें कंप्यूटर का भी बेहतर ज्ञान होना चाहिए। ये सभी चीजें आपको मल्टीटास्किंग बनाती हैं।

निष्कर्ष

आजकल आपने देखा होगा कि लोग अपनी रुचि के अनुसार वाला करियर चुनने पर ज्यादा ध्यान केंद्रित करते हैं, सिर्फ इसलिए कि अपनी रुचि बनाए रखें। मान लीजिए कि आप अपने पिता की मर्जी से फार्मासिस्ट बन गए हैं और फिर इस क्षेत्र में आने के बाद, आपको विभिन्न कार्यों और शोध करना होगा। निश्चित रूप से आप कुछ ही महीनों में ऊब जाएंगे और आपका ही काम आपके लिए बोझिल हो जायेगा। यह आपको जीवन में सफल होने में कभी मदद नहीं करेगा। इसलिए, हमेशा अपने पेशे को सतर्कता से चुने।