मानव अधिकार दिवस

भारत में मानव अधिकार दिवस

मानव अधिकार दिवस हर साल 10 दिसंबर को दुनिया भर में मनाया जाता है। वर्ष 1948 में पहली बार संयुक्त राष्ट्र महासभा द्वारा 10 दिसंबर को हर साल इसे मनाये जाने की घोषणा की गयी थी। इसे सार्वभौमिक मानव अधिकार घोषित करने के लिए संयुक्त राष्ट्र महासभा के सम्मान में प्रतिवर्ष इसे विशेष तिथि पर मनाया जाता है। संयुक्त राष्ट्र महासभा की बैठक में मानव अधिकार दिवस आधिकारिक तौर पर 1950 में 4 दिसंबर को स्थापित किया गया था।

सभी सदस्य देशों और रुचि लेने वाले संगठनों को इस दिन को मनाने के लिए आमंत्रित किया गया। मानवाधिकार का उच्चायुक्त कार्यालय मानवाधिकारों की घोषणा का (380 के आसपास भाषाओं) में अनुवाद संग्रह और दुनिया भर में वितरण में के लिए गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकार्ड द्वारा सम्मानित किया गया। इस कार्यक्रम समारोह में, उच्चायुक्त द्वारा मानव अधिकारों पर एक वैश्विक चर्चा भी सामाजिक मीडिया वेबसाइटों के माध्यम से आयोजित की जाती है।

मानवाधिकार दिवस 2018

मानवाधिकार दिवस 2018 में सोमवार 10 दिसम्बर को मनाया जायेगा।

मानव अधिकार दिवस

विश्व मानवाधिकार दिवस 2018 विशेष

हर वर्ष 10 दिसंबर के दिन मनाये जाने वाला विश्व मनवाधिकार दिवस 2018 इस बार काफी खास है क्योंकि इस बार संयुक्त राष्ट्र ने शांति, सुरक्षा, मानवता, मानवाधिकार और सतत विकास के लिए नयी रुपरेखा तैयार की है। इस कार्यक्रम को संयुक्त राष्ट्र द्वारा ‘संयुक्त राष्ट्र वैश्विक आतंकवाद निरोधक समन्वय प्रभाव' नाम दिया गया है। इस योजना के कार्यान्वयन के बाद इंटरपोल तथा अन्य जांच एजेंसियों को अंतरराष्ट्रीय अंतकवाद से निपटने में मदद मिलेगी।

इसके साथ ही विश्व मानवाधिकार दिवस के इस विशेष दिन को देखते हुए विशेष तैयारियां की गई है, जिसके तहत जगह-जगह जागरुकता रैलियों का आयोजन किया गया ताकि लोगों को मानवाधिकारों के विषय में समझाया जा सके। इसी तरह विद्यालयों और कालेजों में भी इस दिन पर भाषण और संगोष्ठी कार्यक्रमों का आयोजन किया जायेगा ताकि छात्रों को इस विषय पर अधिक से अधिक ज्ञान प्रदान किया जा सके।

विश्व मानवाधिकार दिवस पर संस्थाओं की अनोखी पहल

दरभंगा में हुई यूनेस्को क्लब की बैठक में 10 दिसंबर को विश्व मानवाधिकार दिवस के अवसर पर मानवाधिकारों के लिए जन जागरुकता अभियान चलाया जायेगा। इसके साथ ही लोगों को पर्यावरण के प्रति जागरुक करने के लिए उनमें जूट कैरी बैग भी बांटे जायेंगे।

जैसा कि हम जानते हैं कि गरीबी मानव अधिकारों के हनन का सबसे बड़ा कारण है, इसलिए गरीबी को खत्म कर मूलभूत सुविधाएं मुहैया कराए बिना मानव अधिकार के लिए लड़ाई नहीं लड़ी जा सकती है। गरीबी की इसी समस्या को देखते विश्व मानवाधिकार दिवस पर कई सारे गैर सरकारी संस्थाओं द्वारा गरीबी से लड़ने के रुपरेखा तैयार करने का कार्य किया जायेगा। इसके साथ ही शोषित समाज के लोगों को उनके मानवाअधिकारों के विषय में जानकारी देकर उन्हें उनके अधिकारों के प्रति जागरुक किया जायेगा।

जानिये क्या हैं मुख्य मानवाअधिकार

मानव अधिकार का अर्थ उन मूल अधिकारों से है, जो सभी को समान रुप से जीवन जीने, स्वतंत्रता, प्रतिष्ठा और एक समान व्यवहार की प्राप्ति का अधिकार प्रदान करता है। ऐसे में कुछ ऐसे मौलिक अधिकार है जो हर व्यक्ति के लिए आवश्यक है, यह नियम कानून युद्ध बंदियों, कैदियों से लेकर सामान्य नागरिकों तक के लिए बनाए गये है।

  1. बोलने की आजादी
  2. आजादी और सुरक्षा का अधिकार
  3. आर्थिक शोषण के खिलाफ आजाव उठाने का अधिकार
  4. रंग, नस्ल, भाषा, धर्म के आधार पर समानता का अधिकार
  5. कानून के सामने समानता का अधिकार
  6. कानून के सामने अपना पक्ष रखने का अधिकार
  7. अभिव्यक्ति की आजादी का अधिकार

 

मानवाधिकार दिवस कैसे मनाया जाता है?

ये दिन मानव अधिकारों के सभी मुद्दों पर चर्चा करने के लिए राजनीतिक सम्मेलनों, बैठकों, प्रदर्शनियों, सांस्कृतिक कार्यक्रमों, वाद-विवाद और कई और कार्यक्रमों का आयोजन करके मनाया जाता है। कई सरकारी सिविल और गैर सरकारी संगठन सक्रिय रूप से मानव अधिकार कार्यक्रमों में भाग लेते हैं।

मानवाधिकार दिवस पर कार्यक्रम को अधिक प्रभावशाली और सफल करने के लिये एक विशेष विषय का निर्धारण करके इसे मनाया जाता है। किसी भी देश में मानव गरीबी सबसे बड़ी मानव अधिकार चुनौती है। मानव अधिकार दिवस मनाने का मुख्य लक्ष्य या उद्देश्य मानव जीवन से गरीबी का उन्मूलन और जीवन को अच्छी तरह से जीने में मदद करना है। विभिन्न कार्यक्रम जैसे: संगीत, नाटक, नृत्य, कला सहित आदि कार्यक्रम लोगों को अपने अधिकारों को जानने में मदद करने और ध्यान केन्द्रित करने के लिये आयोजित किये जाते हैं।

बहुत से कार्यक्रम लोगों, बच्चों के साथ ही साथ युवाओं को अपने मानवाधिकारों के बारे में सीख देने के उद्देश्य से आयोजित किये जाते हैं। कुछ विरोधी गतिविधियों का आयोजन उन क्षेत्रों के लोगों को अवगत कराने के लिये किया जाता है जहाँ मानवाधिकार गैर मान्यता प्राप्त और अपमानित है।

मानवाधिकार दिवस को मनाने के कारण और उद्देश्य

मानव अधिकार दिवस मनुष्य के लिए वास्तविक अधिकार प्राप्त करने के लिए दुनिया भर में लोगों द्वारा मनाया जाता है। यह दिन दुनिया भर में लोगों के शारीरिक, सामाजिक, सांस्कृतिक और आध्यात्मिक भलें और कल्याण में सुधार करने के लिए मनाया जाता है। इसे मनाने के कुछ महत्वपूर्ण उद्देश्य और कारण निम्न है:

  • दुनिया भर के लोगों के बीच में मानव अधिकारों के बारे में जागरूकता को बढ़ावा देना।
  • समग्र मानव अधिकारों की स्थिति में प्रगति के लिये संयुक्त राष्ट्र महासभा के प्रयासों पर जोर देना।
  • एक साथ मानव अधिकारों के विशिष्ट मुद्दों को उजागर करने के लिए सहयोग और चर्चा करना।
  • इस कार्यक्रम में अल्पसंख्यक समूहों जैसे: महिलाओं, नाबालिगों, युवाओं, गरीबों, विकलांग व्यक्तियों और आदि अन्य को राजनीतिक निर्णय लेने में भाग लेने और मनाने के लिये प्रोत्साहित करना।

 

मानव अधिकार दिवस के उद्धरण

  • "नागरिकों को राज्य की संपत्ति बनाने के लिए संघर्ष करना हमारे लिए वास्तविक संघर्ष है।"
  • “हम में से बहुत से मानवाधिकारों और कलात्मक स्वतंत्रता की परवाह में रंगने के लिये प्रोत्साहित करते हैं।”
  • "लोगों को उनके मानव अधिकारों से वंचित करना उनके द्वारा मानवता को बहुत बड़ी चुनौती है।"
  • "एक व्यक्ति के अधिकार वहाँ समाप्त हो जाते हैं जब वो किसी अन्य व्यक्ति की स्वतंत्रता में हस्तक्षेप करते हैं।"
  • "युद्ध के समय में नियम शान्त होते हैं।"
  • "ज्ञान एक आदमी को एक गुलाम होने के लिए अयोग्य बनाता है।"
  • "जब भी पुरुषों और महिलाओं को उनकी जाति, धर्म, या राजनीतिक विचारों की वजह से सताया जाता है, वो जगह - उस पल में - ब्रह्मांड का केंद्र बन जाना चाहिये।"
  • "सबसे बड़ी त्रासदी बुरे व्यक्तियों का अत्याचार और दमन नहीं बल्कि इस पर अच्छे लोगों का मौन रहना है।"
  • "हम सिर्फ दो लोग हैं। ऐसा नहीं है कि हमें बहुत ज्यादा अलग करती है। जैसा मैनें सोचा था उससे ज्यादा, लगभग नहीं के बराबर।"
  • "कोई फर्क नहीं पड़ता कि कितना करुणाजनक या दयनीय है, हर मानव को अपने जीवन में एक पल नसीब होता है जिसमें वो अपने भाग्य को बदल सकते हैं।"
  • "दूसरों को बढ़ावा देने के लिए अपनी स्वतंत्रता का उपयोग करें।"
  • "आप मानवाधिकारों को अधिकृत नहीं कर सकते हैं।"
  • "आज मानव अधिकारों का उल्लंघन कल के संघर्षों का कारण हो सकते हैं।"
  • "हम विश्वास करते हैं कि मानव अधिकार सीमाओं के पार और राज्य की संप्रभुता से अधिक प्रबल होने चाहिए।"
  • "किसी एक के खिलाफ अन्याय प्रतिबद्ध हर किसी के लिए एक खतरा है।"
  • "हम एक साथ होकर नरसंहार को फिर से होने से रोक सकते हैं। एक साथ हम अपने बच्चों के लिए एक बेहतर भविष्य बना सकते हैं।"
  • "आप एक इंसान हैं। वास्तविकता में आपको जन्मजात अधिकार प्राप्त है। आप कानून से पहले मौजूद गरिमा और श्रेय के लिए हैं।"
  • "याद रखें जो परिवर्तन आप दुनिया में और अपने स्कूल में देखना चाहते हैं, , वो आप से शुरू हो।"
  • "यदि कैदी पीटा जाता है, ये एक भय की अभिमानी अभिव्यक्ति है।"
  • "स्वास्थ्य एक मानवीय आवश्यकता है; स्वास्थ्य एक मानव अधिकार है।”

मानव अधिकार दिवस के विषय (थीम)

  • 2012 का विषय "समावेशन और सार्वजनिक जीवन में भाग लेने का अधिकार” और मानव अधिकारों की सार्वभौम घोषणा" था।
  • 2013 का विषय "20 साल: अपने अधिकारों के लिए काम” था।
  • 2014 का विषय "मानवाधिकार के माध्यम से जीवन को बदलने के 20 साल" था।
  • वर्ष 2015 में मानव अधिकार दिवस के लिए थीम "हमारा अधिकार, हमारी स्वतंत्रता, हमेशा" था।
  • वर्ष 2016 में मानव अधिकार दिवस के लिए थीम "आज किसी के अधिकारों के लिए खड़ा था"।
  • वर्ष 2017 में मानव अधिकार दिवस के लिए थीम "चलो समानता, न्याय और मानव गरिमा के लिए खड़े हो जाओ" था।