बसंत पंचमी/सरस्वती पूजा पर निबंध

बसंत पंचमी एक हिंदू त्योहार है, जो ज्ञान, संगीत और कला की देवी सरस्वती का उत्सव है। यह पूरे भारत में बड़ी धूमधाम से मनाया जाता है। यह हर साल माघ महीने के पांचवें दिन (पंचमी) को हिंदू कैलंडर के अनुसार मनाया जाता है। इस वर्ष यह 29 या 30 जनवरी, 2020 को पूरे देश में मनाया जाएगा।

बसंत पंचमी/सरस्वती पूजा पर छोटे-बड़े निबंध (Short and Long Essay on Basant Panchami in Hindi)

निबंध - 1 (300 शब्द)

परिचय

बसंत पंचमी सर्दियों के मौसम के अंत का और बसंत के आगमन का प्रतीक है। इस त्योहार में बच्चों को हिंदू रीति-रिवाज के अनुसार अपने पहले शब्द लिखना सिखाया जाता है। इस त्योहार पर लोग आमतौर पर पीले वस्त्र पहनते हैं।

बसंत पंचमी और इसका महत्व

बसंत पंचमी का त्योहार ज्ञान की देवी सरस्वती को समर्पित है। हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार, देवी कला, बुध्दि और ज्ञान के निरंतर प्रवाह का प्रतीक है। बसंत पंचमी को देवी सरस्वती के जन्मदिन के रूप में भी माना जाता है। बसंत पंचमी का त्योहार विशेष रूप से शिक्षण संस्थानों में मनाया जाता है। चूँकि सरस्वती विद्या की देवी हैं, अतः छात्र माँ सरस्वती से आशीर्वाद प्राप्त करते हैं। बसंत का मौसम है, जब फसलें पूरी तरह से खिल जाती हैं, इसलिए लोग पतंग उड़ाकर भी इस अवसर को मनाते हैं।

इस दिन पीला रंग ही क्यों पहनते है?

वसंत की शुरुआत को चिह्नित करने वाला त्यौहार कई मायनों में खास होता है। लोग रंगीन कपड़ों में तैयार होते हैं और मौसमी खाद्य पदार्थों का आनंद लेते हैं। कई समुदाय पतंग उड़ाते हैं और विभिन्न खेल खेलते हैं। त्योहार में पीला रंग एक गहरा महत्व रखता है। बसंत (वसंत) का रंग पीला है, जिसे 'बसंती' रंग के रूप में भी जाना जाता है। यह समृद्धि, प्रकाश, ऊर्जा और आशावाद का प्रतीक है। यही कारण है कि लोग पीले कपड़े पहनते हैं और पीले रंग की वेशभूषा में पारंपरिक व्यंजन बनाते हैं। इस शुभ अवसर पर तैयार किए जाने वाले पारंपरिक व्यंजन स्वादिष्ट होने के साथ-साथ काफी पौष्टिक और सेहतमंद भी होते हैं।

उपसंहार

बसंत पंचमी मौसमी त्योहारों में से एक है जो बसंत के मौसम के आगमन का प्रतीक है। यह सर्दियों को विदाई देता है और सर्दियों की ठंडी लहरों से हमें राहत देता है। बर्फ के बादलों के नीचे जो प्रकृति छिपी रहती है, वह बाहर निकलती है और उसकी सुंदरता पूरे स्वरुप में खिलने के साथ चमकती है।

 

निबंध - 2 (400 शब्द)

परिचय

बसंत पंचमी, बसंत ऋतु की शुरुआत का प्रतीक है। बसंत का त्यौहार हिंदू लोगों में पूरी जीवंतता और खुशी के साथ मनाया जाता है। हिंदी भाषा में, “बसंत / वसन्त” का अर्थ है '' बसंत'' और “पंचमी” का अर्थ है पांचवें दिन। संक्षेप में, बसंत पंचमी को बसंत ऋतु के पांचवें दिन के रूप में मनाया जाता है। बसंत पंचमी भारतीय महीने के पांचवें दिन माघ (जनवरी-फरवरी) में आती है। इस त्योहार को सरस्वती पूजा के नाम से भी जाना जाता है।

बसंत पंचमी का त्यौहार कैसे मनाया जाता है?

“या देवी सर्वभूतेषु, विद्या रुपेण संस्थिता।

नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः

वसंत या बसंत पंचमी को ऋतुओं के राजा वसंत का आगमन माना जाता है। मनुष्य ही नहीं, अन्य जीव-जन्तु, पेड़-पौधे भी खुशी से नाच रहे होते हैं। इस समय मौसम बहुत ही सुहावना हो जाता है। बसंत पंचमी को माँ सरस्वती के जन्मदिवस के रुप में भी मनाया जाता है। इस दिन कोई भी शुभ काम शुरु करने का सबसे शुभ मुहूर्त माना जाता है। खास इस दिन को सबसे श्रेष्ठ मुहूर्त की उपमा दी गयी है।

भारत के अलग-अलग राज्यों में इसे मनाने का तरीका भी अलग-अलग ही है। लेकिन भावना सबकी वाग्देवी से आशीर्वाद पाने की ही होती है। संगीत की देवी होने के कारण इस दिन को सभी कलाकार बहुत जोश-खरोश से इस दिवस को मनाते हैं और माँ सरस्वती की पूजा करते हैं।

रीति-रिवाज

हिन्दू रीति में ऐसी मान्यता है कि इस दिन सुबह-सुबह बेसन के उबटन के स्नान करना चाहिए, तत्पश्चात पीले वस्त्र धारण कर माँ सरस्वती की पूजा-अर्चना करनी चाहिए, और पीले व्यंजनों का भोग लगाना चाहिए। चूंकि पीला रंग वसंत ऋतु का प्रतीक है और माता सरस्वती को पसंद भी है, ऐसा कहा जाता है।

पूरे भारत में सभी शिक्षण-संस्थानों में सरस्वती-पूजा की धूम रहती है, पूरे रीति-रीवाज से शिक्षण-संस्थानों में विधिवत पूजा-अर्चना सम्पन्न कराई जाती है। बच्चे इस दिन बहुत ही उत्साहित रहते है। इसके अलावा, जगह-जगह पर पंडाल बनाकर भी पूजा होती है। पंडालो में बड़ी-बड़ी मूर्तियां बिठायी जाती है। इसका पूरा आयोजन घरों से चंदा मांगकर किया जाता है। ऐसा प्रतीत होता है, कि जैसे माँ सच में धरती पर उतर आयीं हों और अपने आशीष की वर्षा कर रही हों।

उपसंहार

ज्ञान की देवी, देवी सरस्वती की पूरे देश में पूजा की जाती है। परिवारों में पीली मिठाई का सेवन करने का भी कहीं-कहीं चलन है। सभी लोग त्योहार को बड़े आनंद और उत्साह के साथ मनाते हैं। इस शुभ दिन पर बच्चों को पढ़ने और लिखने के लिए तैयार किया जाता है। इसे ज्ञान और ज्ञान की देवी - सरस्वती के साथ सीखने की एक शुभ शुरुआत माना जाता है।

 

निबंध - 3 (500 शब्द)

परिचय

बसंत पंचमी एक महत्वपूर्ण भारतीय त्योहार है जो हर साल माघ महीने में हिंदू कैलेंडर के अनुसार मनाया जाता है। माघ के पांचवें दिन मनाया जाता है, यह दिन ग्रेगेरियन कैलेंडर के अनुसार फरवरी या मार्च के महीनों में आता है। दिन का महत्व ज्ञान की प्रतीक देवी सरस्वती की पूजा और बसंत के मौसम की शुरुआत में निहित है।

बसंत पंचमी मनाने का पौराणिक कारण

प्रचलित मान्यता के अनुसार, इस त्योहार की उत्पत्ति आर्य काल में हुई। आर्य लोग कई अन्य लोगों के बीच सरस्वती नदी को पार करते हुए खैबर दर्रे से होकर भारत में आकर बस गए। एक आदिम सभ्यता होने के नाते, उनका अधिकांश विकास सरस्वती नदी के किनारे हुआ। इस प्रकार, सरस्वती नदी को उर्वरता और ज्ञान के साथ जोड़ा जाने लगा। तब से यह दिन मनाया जाने लगा।

पौराणिक कथाओं के अनुसार, इस दिन से जुड़ा एक लोकप्रिय कालिदास कवि के साथ जुड़ा हुआ है। छल के माध्यम से एक सुंदर राजकुमारी से शादी करने के बाद, राजकुमारी ने उसे अपने बिस्तर से बाहर निकाल दिया क्योंकि उसे पता चला कि वह मूर्ख था। इसके बाद, कालिदास आत्महत्या करने के लिए चले गए, जिस पर सरस्वती पानी से बाहर निकलीं और उन्हें वहां स्नान करने के लिए कहा। पवित्र जल में डुबकी लगाने के बाद, कालिदास ज्ञानी हो गए और उन्होंने कविता लिखना शुरू कर दिया। इस प्रकार, बसंत पंचमी को शिक्षा और शिक्षा की देवी माँ सरस्वती की वंदना करने के लिए मनाया जाता है।

इस त्योहार का आधुनिक स्वरुप

आज के समय में, यह त्यौहार किसानों द्वारा बसंत के मौसम के आने पर मनाया जाता है। यह दिन बड़े पैमाने पर भारत के उत्तरी भागों में मनाया जाता है। यहां, लोग ब्राह्मणों को भोजन कराते हैं और देवी सरस्वती के नाम पर अनुष्ठान आयोजित करते हैं।

रंग पीला त्यौहार के साथ जुड़ा हुआ प्रमुख रंग है, जिसका मूल सरसों के खेतों को माना जाता है जो इस अवधि के दौरान पंजाब और हरियाणा में देखा जा सकता है। पतंगबाजी भी आमतौर पर इस त्योहार से जुड़ी होती है। बच्चों के साथ-साथ वयस्क भी इस दिन पतंग उड़ाते हैं ताकि आजादी और आनंद मनाया जा सके।

इस दिन से जुड़ी एक और परंपरा युवा में पढ़ाई शुरू करने की है। छोटे बच्चे अक्सर इस दिन से लिखना सीखना शुरू करते हैं, जिसका कारण यह माना जाता है कि मार्च के महीने में स्कूल सत्र शुरू होते हैं। इस दिन पीले रंग की मिठाई भी वितरित की जाती है और लोगों को गरीबों को किताबें और अन्य साहित्यिक सामग्री दान करते हुए भी देखा जा सकता है।

उपसंहार

छोटे पक्षी हमें अपने मीठे संगीत से आनंदित करते हैं जिससे हमारा मनोरंजन भी होता हैं। कोयल के शानदार गीतों से हमारा दिल और आत्मा भर जाती है। सब कुछ उज्ज्वल और सुंदर दिखता है। यही कारण है कि हम बसंत पंचमी बड़े उत्साह और उमंग के साथ मनाते हैं। गांवों में खेतों में पीली सरसों खिलने से खेतों को सुंदर रूप मिलता है। बागीचों में खूबसूरत रंग-बिरंगे फूल दिखाई देते हैं।