बैंक पर निबंध

बैंक वित्तीय संस्थान हैं जो मौद्रिक लेनदेन में सौदा करते हैं। बैंक किसी भी समाज का अभिन्न अंग हैं। हमारे देश के विभिन्न हिस्सों में कई बैंक स्थित हैं।

हालांकि पहले भारत में बड़े शहरों और कस्बों में कुछ शाखाओं के साथ सीमित संख्या में बैंक थे पर पिछले कुछ दशकों में कई नए बैंकों ने देश के हर जगह और कोने-कोने में शाखाएं खोल दी हैं। जब भी आप को आवश्यकता हो इस विषय पर आपकी मदद करने के लिए बैंक पर विभिन्न लंबाई के निबंध उपलब्ध करवाए गए हैं। आप दिए गए अपनी पसंद के किसी भी बैंक पर निबंध का चयन कर सकते हैं:

बैंक पर लंबे और छोटे निबंध (Long and Short Essay on Bank in Hindi)

बैंक पर निबंध 1 (200 शब्द)

बैंकिंग प्रणाली वह प्रणाली है जिसमें पैसा जमा करना और उधार देना शामिल है। यह प्रक्रिया दुनिया के विभिन्न हिस्सों में सदियों पहले शुरू की गई थी। समय गुज़रने के साथ प्रणाली में बदलाव होते चले गए और बैंकों में काफ़ी सुधार हो गया और आज कल बैंक बुनियादी धन को जमा करने और उधार देने के अतिरिक्त कई अन्य सुविधाएं भी प्रदान करते हैं।

लोगों को बैंकों में अपने पैसे रखने के लिए प्रोत्साहित किया जाता है क्योंकि यह पैसा जमा करने का एक सुरक्षित और भय-रहित तरीका है। मियादी खाता और आवर्ती खाता के रूप बैंक में जमा धन ब्याज से अच्छी रकम लाता है। पैसे के अतिरिक्त बैंक लॉकरों में गहने और महत्वपूर्ण कागजात भी रख सकते हैं।

ऋण प्रदान करना, जो बैंकों का एक अन्य प्राथमिक कार्य है, भी कई तरीकों से व्यक्तियों और व्यवसायों के लिए फायदेमंद है। नौकरी करने वाले लोग बैंक के ऋण की मदद से संपत्ति जैसे कि ज़मीन, कार आदि आसानी से हासिल कर सकते हैं। व्यवसायी इस सुविधा के साथ अपने व्यवसाय का विस्तार कर सकते हैं। अपने वित्तीय लेनदेन को कम करने और अपने व्यापार के विकास में सहायता के लिए व्यापारियों को कई अन्य सेवाएं भी दी जाती हैं।

ऑनलाइन बैंकिंग ने बैंकिंग की प्रक्रिया को और बढ़ा दिया है। विभिन्न बैंकिंग सेवाओं जैसे कि खाते में पैसों की जांच, राशि का हस्तांतरण, ऋण के लिए आवेदन करना अब बैंक की वेबसाइट पर उपलब्ध कराया गया है। सभी ग्राहकों के लिए यह ज़रूरी है कि वे इंटरनेट बैंकिंग सेवा का चयन करें।


 

बैंक पर निबंध 2 (300 शब्द)

प्रस्तावना

सदियों से बैंकिंग प्रणाली चली आ रही है। यह प्रणाली भारत में और साथ ही दुनिया के अन्य भागों में भी प्रचलित है। उपलब्ध कराई जा रही सेवाएं और कार्य समय के साथ बढ़ते चले गए हैं।

बैंकों का इतिहास

14वीं सदी में इटली के कुछ हिस्सों में बैंकिंग सेवा शुरू हुई थी। यह प्राचीन युग के बाद से लोगों के बीच उधार देने और उधार लेने की अवधारणा की तर्ज पर शुरू की गई थी। प्राचीन समय में व्यापारियों ने बनियों और किसानों को अनाज का कर्ज दिया था। इसे वस्तु विनिमय प्रणाली कहा जाता था। समय बीतने के साथ धन जमा करने और धन उधार देने की प्रणाली विकसित होती चली गई।

फागर्स, मेडिसिस, बीरेनबर्ग्स, रोथस्चिल्स बैंकिंग राजवंशों में से हैं जो बैंकिंग के इतिहास में केंद्रीय भूमिका निभाने के लिए जाने जाते हैं। सदियों से उन्होंने इस क्षेत्र पर राज़ किया है। 17वीं सदी में बैंकनोट्स और रिजर्व बैंकिंग जारी करने जैसी कुछ आधुनिक बैंकिंग सेवाएं शुरू हुईं। बैंक ऑफ इंग्लैंड और द रॉयल बैंक ऑफ स्कॉटलैंड दुनिया के कुछ सबसे पुराने बैंकों में से एक हैं।

 

भारत में बैंकों का इतिहास

भारत में बैंकिंग प्रणाली वैदिक सभ्यता के ज़माने से है। उस युग में जरूरतमंदों को ऋण दिया जाता था। उस अवधि में ऋण को ऋणलेख या ऋणपत्र के नाम से जाना जाता था।

पहले के समय में बड़े व्यापारी और जमींदार छोटे व्यापारियों और किसानों को ब्याज पर पैसे देते थे। यह संस्कृति अभी भी देश के कुछ गांवों में प्रचलित है। जो लोग राशि का भुगतान करने में असमर्थ होते थे उन की भूमि या अन्य मूल्यवान संपत्ति जब्त कर ली जाती थी जैसे आज कल बैंक कर लेते हैं।

बैंक ऑफ हिंदुस्तान भारत में स्थापित पहला बैंक था। यह 1770 में कलकत्ता में खोला गया था। बैंक ऑफ बंबई, बैंक ऑफ कलकत्ता और बैंक ऑफ मद्रास की स्थापना 19वीं शताब्दी की शुरुआत में हुई थी।

निष्कर्ष

विभिन्न ग्राहकों की जरूरतों को पूरा करने के लिए हर देश में कई प्रकार के बैंक होते हैं। वे विभिन्न सेवाओं और देश की अर्थव्यवस्था के विकास में सहायता करते हैं।


 

बैंक पर निबंध 3 (400 शब्द)

प्रस्तावना

बैंक एक ऐसा संस्थान है जो जनता से धन जमा करता है और व्यक्तियों के साथ-साथ फर्मों को भी धन उपलब्ध कराता है। ये एक बैंक के प्राथमिक कार्य हैं लेकिन एकमात्र नहीं हैं। वे अपने ग्राहकों को कई अन्य सेवाएं भी प्रदान करते हैं जैसे कि लॉकर सुविधा, धन का हस्तांतरण, ड्राफ्ट और पोर्टफोलियो प्रबंधन जारी करना आदि।

बैंकों का महत्व

बैंक व्यक्तियों के लिए और साथ ही साथ देश की अर्थव्यवस्था के विकास के लिए महत्वपूर्ण हैं। यही कारण है कि इन संस्थानों का निम्न महत्व हैं:

 

  1. भय से राहत और सुरक्षा प्रदान करता है

घर पर रखा धन सुरक्षित नहीं है। इसकी चोरी होने का डर बना रहता है। जब आप अपने पैसे बैंक में रखते हैं तो बैंक की ज़िम्मेदारी इसकी रक्षा करना है। आपको इसकी सुरक्षा के बारे में चिंता करने की ज़रूरत नहीं है।

  1. बचत की आदतों को प्रोत्साहित करता है

बैंक समय-समय पर विभिन्न योजनाओं की पेशकश करते हैं ताकि लोगों में बचत की आदतों को प्रोत्साहित किया जा सके। बैंक में जमा धन सुरक्षित ही नहीं बल्कि बढ़ता है। आपके पास इसे किसी भी समय वापस लेने का विकल्प होता है।

  1. व्यापार और वाणिज्य को बढ़ाता है

व्यापारियों को ऋण और अग्रिम प्रदान करके बैंक देश में व्यापार को बढ़ावा देते हैं। यह विभिन्न देशों के बीच व्यापार की प्रक्रिया को आसान बनाता है। वे इस प्रक्रिया को आसान बनाने के लिए सरल तरीके से धन के लेनदेन का विकल्प प्रदान करते हैं। उन्नत बैंकिंग प्रणाली में कहीं भी धनराशि भेजना और प्राप्त करना आसान है।

  1. कृषि क्षेत्र को बढ़ावा देता है

कृषि क्षेत्र अर्थव्यवस्था का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है। विशेष बैंक हैं जो कृषि गतिविधियों को बढ़ावा देने के लिए कम ब्याज पर किसानों को ऋण प्रदान करते हैं। इस प्रकार कृषि क्षेत्र को बढ़ावा देने में बैंक सहायता प्रदान करते हैं।

  1. उद्योगों के विकास में सहायता करता है

बैंक व्यक्तियों और व्यवसायों से धन स्वीकार करते हैं और उद्योगों को ऋण देते हैं। इस प्रकार वे इस तरह से विभिन्न उद्योगों के विकास में सहायता करते हैं। ऋण को आसान किस्तों में चुकाया जा सकता है।

  1. रोजगार के अवसर प्रदान करता है

बैंक कृषि और औद्योगिक क्षेत्रों के विकास और प्रगति के लिए ऋण प्रदान करते हैं। जैसे-जैसे इन क्षेत्रों में विस्तार होता है वैसे-वैसे सार्वजनिक रूप से रोजगार के अवसर पैदा होते हैं।

निष्कर्ष

बैंक किसी भी देश का एक महत्वपूर्ण हिस्सा हैं। आधुनिक बैंकिंग सेवाओं ने व्यापार, उद्योगों के विकास और अन्य गतिविधियों की प्रक्रिया को आसान बनाने में मदद की है जो देश की अर्थव्यवस्था के विकास में मदद करते हैं। बैंक और अन्य वित्तीय संस्थान जो व्यवसायों के विकास को बढ़ावा देते हैं और व्यक्तियों के धन और अन्य मूल्यवान संपत्तियों की रक्षा करते हैं, निश्चित रूप से किसी देश की अर्थव्यवस्था के विकास में एक अभिन्न भूमिका निभाते हैं।


 

बैंक पर निबंध 4 (500 शब्द)

प्रस्तावना

देश में वित्तीय स्थिरता बनाए रखने में बैंक महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। वे अपने वित्त को बेहतर ढंग से प्रबंधित करने में आपकी सहायता करने के लिए कई सेवाएं प्रदान करते हैं। ये संस्थाएं समाज का एक महत्वपूर्ण हिस्सा हैं।

बैंकों के कार्य

बैंकों के कार्यों को मोटे तौर पर दो श्रेणियों में वर्गीकृत किया गया है। ये प्राथमिक कार्य और माध्यमिक कार्य हैं। यहां इन पर विस्तृत जानकारी दी गई है:

प्राथमिक कार्य

प्राथमिक कार्य बैंकों के मुख्य कार्य हैं। इनमें धन को स्वीकार करना और ऋण प्रदान करना शामिल है। यहां इन कार्यों का एक संक्षिप्त रूप है:

  1. धन स्वीकार करना

ये खाते मूल रूप से चार अलग-अलग प्रकार के होते हैं:

बचत खाते: ये खाते जनता को पैसे बचाने के लिए प्रोत्साहित करते हैं। इनसे पैसा आसानी से वापस लिया जा सकता है और बिना किसी प्रतिबंध के बचत खाते में जमा किया जा सकता है। इन खातों में ब्याज दर काफी कम है।

वर्तमान खाते: यह खाता विशेष रूप से व्यवसायियों के लिए हैं। ये खाते ओवरड्राफ्ट जैसी सुविधाएं प्रदान करते हैं जो व्यवसायों के लिए फायदेमंद होते हैं। इस खाते में कोई ब्याज भुगतान नहीं किया जाता है।

मियादी खाते: मियादी खाते में एक निश्चित धन राशि निश्चित अवधि के लिए जमा की जाती है। ऐसी जमा राशि में ब्याज दर अधिक है।

आवर्ती खाता: एक निश्चित राशि ऐसे खाते में नियमित अंतराल पर जमा की जाती है। ब्याज दर उच्च होती है। हालांकि किसी निश्चित अवधि से पहले राशि वापस नहीं ली जा सकती।

  1. ऋण प्रदान करना

यहां बैंकों द्वारा दिए गए ऋण और उधार के प्रकार हैं:

ऋण: थोड़े समय और ज्यादा समय दोनों के लिए ही ऋण दिया जाता है। शुल्क पर लगाए गए ब्याज की दर भिन्न-भिन्न प्रकार के ऋण और आधार पर अलग-अलग होती है। इसे किश्तों में चुकाया जा सकता है।

नकद क्रेडिट: ग्राहकों को एक निश्चित राशि की नकदी लेने की सुविधा है जो पैसों की सीमा में तय की गई है। इसके लिए एक अलग कैश क्रेडिट खाता बनाए रखा जाना चाहिए।

ओवरड्राफ्ट: यह सुविधा व्यापारियों के लिए है। इस प्रकार वर्तमान खाता धारकों को यह प्रदान किया जाता है। इस सुविधा का लाभ उठाने के लिए उन्हें अलग खाते बनाए रखने की आवश्यकता नहीं है।

द्वितीयक कार्य

द्वितीयक कार्य जिसे गैर-बैंकिंग कार्यों के रूप में भी जाना जाता है दो प्रकार के होते हैं। ये एजेंसी कार्य और सामान्य उपयोगिता कार्य हैं। यहां इन दोनों प्रकार के कार्यों पर एक संक्षिप्त नज़र डाली गई है:

  1. एजेंसी के कार्य

बैंक अपने ग्राहकों के लिए एक एजेंट के रूप में भी कार्य करता है। इस संस्था द्वारा कई एजेंसी कार्यों को अंजाम दिया जाता है। इसमें चेक, आवधिक भुगतान, पोर्टफोलियो प्रबंधन, आवधिक संग्रह और धन के हस्तांतरण का संग्रह शामिल है। बैंक अपने ग्राहकों के लिए निष्पादक, प्रशासक, सलाहकार और न्यासी के रूप में भी कार्य करते हैं। वे अपने ग्राहकों को अन्य संस्थानों से निपटने में भी मदद करते हैं।

  1. सामान्य उपयोगिता कार्य

बैंक सामान्य उपयोगिता कार्य भी करते हैं जिसमें लॉकर सुविधा, शेयरों का हिसाब-क़िताब, विदेशी मुद्रा में काम करना, क्रेडिट के पत्र और ड्राफ्ट जारी करना, परियोजना रिपोर्ट तैयार करना, सार्वजनिक कल्याण अभियान और वयस्क साक्षरता कार्यक्रम जैसे सामाजिक कल्याण कार्यक्रमों का उपक्रम शामिल हैं।

इस के अंतर्गत प्रदान की जाने वाली एक और सेवा बिल के एक्सचेंज की छूट है।

निष्कर्ष

हालांकि शुरू में बैंकों के कार्यों में केवल धन जमा करने और ऋण प्रदान करना शामिल था। उन्होंने अब कई अन्य सेवाएं भी मुहैया कराई हैं। इन सभी सुविधाओं का उद्देश्य ग्राहकों को अपने वित्त के साथ मदद करना है।


 

बैंक पर निबंध 5 (600 शब्द)

प्रस्तावना

बैंक वित्तीय संस्थाएं हैं जो आम जनता को धन उधार देते हैं और उनका धन जमा करने के लिए स्वीकार करते हैं। बैंक देश में धन के प्रवाह को बनाए रखते हैं और साथी ही देश के आर्थिक विकास के लिए भी महत्वपूर्ण हैं। विभिन्न प्रकार के बैंक हैं जो व्यक्तियों के साथ-साथ व्यवसायों के लिए विभिन्न प्रकार की सेवाएं प्रदान करते हैं।

बैंकों के प्रकार

यहां विभिन्न प्रकार के बैंक और उनके कार्य बताए गए हैं:

  1. नेशनल/राष्ट्रीय बैंक

इस नाम के अलावा इन बैंकों को केन्द्रीय या संघीय बैंक नाम से भी जाना जाता है। ये बैंक सरकार की वित्तीय प्रणाली का प्रबंधन करते हैं। ये गैर लाभकारी संस्थान दूसरे बैंकों में बैंकरों के रूप में सेवा करते हैं। प्रत्येक देश में एक सेंट्रल बैंक होता है। राष्ट्रीय बैंकों के कुछ कार्यों में विदेशी मुद्रा की निगरानी करना, देश की मुद्रा को नियंत्रित करना और कागजी मुद्रा जारी करना शामिल है। वे सामान्य जनता के साथ सौदा नहीं करते।

  1. रिटेल बैंक

यह बैंकों का सबसे सामान्य प्रकार है। ये आम तौर पर आम जनता की आवश्यकताओं पर ध्यान केंद्रित करने के लिए स्थापित किए गए हैं। ये बैंक बचत खाते खोलते हैं, क्रेडिट कार्ड उपलब्ध कराते हैं, ऋण प्रदान करते हैं और अन्य सेवाओं के साथ लॉकर सुविधा प्रदान करते हैं।

  1. सेविंग/बचत बैंक

ये विशेष रूप से लोगों के बीच पैसे बचाने की आदत पैदा करने के लिए स्थापित किए गए हैं। इन बैंकों में ग्राहकों से जमा धन को प्रतिभूतियों और बांड में बदल दिया जाता है। ये 18वीं सदी में यूरोपीय देशों में वापस स्थापित किए गए थे। इसके अलावा ये बैंक लोगों की जमाराशियां स्वीकार करते हुए कई अन्य सेवाएं भी प्रदान करते हैं।

  1. कमर्शियल/व्यवसायिक बैंक

इन बैंकों का मुख्य उद्देश्य व्यवसाय वर्ग को सहायता करना है। वे व्यापारियों को ऋण प्रदान करते हैं और उन्हें अन्य सेवाएं भी उपलब्ध कराते हैं जो व्यापारिक पुरुषों के लिए उपयोगी होती हैं। इनमें से कुछ सेवाओं में बिल का आदान-प्रदान, ओवरड्राफ्ट और चेक संग्रह शामिल है।

  1. इन्वेस्टमेंट/निवेश बैंक

इन बैंकों को भी व्यवसायों की सहायता के लिए स्थापित किया गया है। इन बैंकों की मदद से व्यापारियों ने वित्तीय बाजारों में मजबूती स्थापित की है। इन्वेस्टमेंट बैंक उन व्यवसायियों को सुविधा प्रदान करते हैं जिन्हें निवेशकों को कर्ज बेचने की आवश्यकता होती है या अपने व्यवसाय के लिए सार्वजनिक जनता से पैसे प्राप्त करना चाहते हैं।

  1. लैंड मोर्टगेज/भूमि बंधक बैंक

इन्हें कृषि बैंक या भूमि विकास बैंकों के रूप में भी जाना जाता है। मुख्य रूप से इसे वित्तपोषित करके कृषि क्षेत्र की सहायता के लिए स्थापित किया गया है। ये बैंक भूमि विकास में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। बैंकों की इस विशेष श्रेणी में आने का कारण यह है कि कृषि क्षेत्र के वित्तपोषण में बहुत जोखिम है और अन्य व्यवसायों का समर्थन करने वाले वाणिज्यिक बैंक ऐसे जोखिम लेने के लिए तैयार नहीं हैं।

  1. कोआपरेटिव/सहकारी बैंक

कोआपरेटिव/सहकारी बैंक छोटे-छोटे किसानों, छोटे-छोटे व्यवसायों और वेतनभोगी लोगों को ऋण प्रदान करते हैं। वे लोगों को वाणिज्यिक और खुदरा सेवाएं प्रदान करते हैं। ये बैंक सहकारी सोसायटी अधिनियम, 1912 के तहत पंजीकृत हैं।

  1. कंज्यूमर/उपभोक्ता बैंक

ये बैंक विशेष रूप से टिकाऊ उपभोक्ता वस्तुओं जैसे कि कार, वॉशिंग मशीन, रेफ्रिजरेटर, फर्नीचर आदि खरीदने के लिए ऋण प्रदान करने के लिए स्थापित किए गए हैं। ये बैंक अपने उपभोक्ताओं को आसानी से किश्तों में ऋण चुकाने का लाभ दे देते हैं। ये ज्यादातर दूसरे देशों में पाए जाते हैं।

  1. इंडस्ट्रियल/औद्योगिक बैंक

इन्हें विकास बैंक नाम से भी जाना जाता है। इन बैंकों की स्थापना औद्योगिक क्षेत्र की सहायता के लिए की गई है। ये बैंक शेयर और डिबेंचर जारी करके नकद धन स्वीकार करते हैं। ये बैंक उद्योगों को अपने विस्तार और उन्हें विकसित करने में मदद करने के लिए दीर्घकालिक ऋण प्रदान करते हैं। आजादी के बाद देश में ऐसे कई बैंक स्थापित किए गए हैं।

  1. एक्सचेंज/विनिमय बैंक

ये बैंक विशेष रूप से विदेशी व्यापार के वित्तपोषण का काम करते हैं। इन बैंकों के कुछ मुख्य कार्यों में विदेशी बिलों की छूट, चांदी और सोने की बिक्री और खरीद तथा निर्यात और आयात व्यापार को चलाने में सहायता प्रदान करना शामिल है।

निष्कर्ष

सामान्य जनता के साथ-साथ पूरे देश के वित्तीय मुद्दों को कम करने के लिए बैंकों की स्थापना की जाती है। विभिन्न प्रकार के बैंक विभिन्न उद्देश्यों की पूर्ति करते हैं और विभिन्न वर्गों की जरूरतों को पूरा करने के लिए स्थापित किए गए हैं।