प्रतिभा पलायन पर निबंध

प्रतिभा पलायन शिक्षित और प्रतिभाशाली व्यक्तियों के अपना देश छोड़ कर बेहतर सुविधाओं के लिए दूसरे देश जाने के लिए इस्तेमाल किया जाने वाला शब्द है। ऐसा भारत जैसे देशों में होता है जहां रोजगार के अवसर राष्ट्र के शिक्षित युवाओं के लिए समान नहीं होते हैं।

प्रतिभा पलायन एक कहावत या मुहावरा है जो अत्यधिक शिक्षित और प्रतिभाशाली व्यक्तियों के देश छोड़ने का वर्णन करता है। यह मुख्य रूप से किसी देश के भीतर अच्छे रोजगार के अवसरों की कमी का नतीजा है। जब भी आपको प्रतिभा पलायन से संबंधित किसी लेख की आवश्यकता होती है तो इस विषय के साथ आपकी मदद करने के लिए हमने यहां विभिन्न लंबाई के प्रतिभा पलायन पर निबंध उपलब्ध करवाएं हैं। आप अपनी आवश्यकता के अनुसार किसी भी प्रतिभा पलायन निबंध को चुन सकते हैं:

प्रतिभा पलायन पर निबंध (Essay on Brain Drain in Hindi)

प्रतिभा पलायन पर निबंध – 1 (200 शब्द)

किसी देश से शिक्षित और प्रतिभाशाली लोगों का अपने देश को छोड़कर दूसरे देश जाना प्रतिभा पलायन के नाम से जाना जाता है। यह अपने देश की तुलना में अन्य देशों में बेहतर नौकरी की संभावनाओं के कारण होता है। इसके अलावा औद्योगिक या संगठनात्मक स्तरों पर भी प्रतिभा पलायन जैसी स्थिति देखी जा सकती है, जब किसी कंपनी या उद्योग से बड़े पैमाने पर पलायन हो, क्योंकि अन्य कंपनी दूसरी कंपनी के मुकाबले बेहतर वेतन और अन्य लाभ प्रदान करती है। प्रतिभा पलायन देश, संगठन और उद्योग के लिए नुकसान है क्योंकि यह प्रतिभाशाली लोगों को दूर ले जाता है।

Brain Drain

शब्द प्रतिभा पलायन का इस्तेमाल अक्सर वैज्ञानिकों, डॉक्टरों, इंजीनियरों और अन्य उच्च प्रोफ़ाइल पेशेवरों जैसे कि बैंकिंग और वित्त क्षेत्र में प्रवासगमन का वर्णन करने के लिए किया जाता है। उनके देश छोड़ने से मूल स्थान पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है। भौगोलिक प्रतिभा पलायन के मामले में, विशेषज्ञता के नुकसान के अतिरिक्त, देश में उपभोक्ता व्यय में भी भारी नुकसान उठाना पड़ता है। इसलिए यह देश की अर्थव्यवस्था के लिए एक बड़ा नुकसान हो सकता है।

जहाँ भौगोलिक प्रतिभा पलायन बेहतर वित्तीय संभावनाओं और अन्य देशों में रहने के मानक के कारण होता है वहीँ संगठनात्मक प्रतिभा पलायन ख़राब नेतृत्व, अनुचित कार्य दबाव, कम वेतन पैकेज और व्यावसायिक विकास की कमी के कारण होता है।


 

प्रतिभा पलायन पर निबंध – 2 (300 शब्द)

प्रस्तावना

प्रतिभा पलायन किसी देश, संगठन या उद्योग से अनुभवी और प्रतिभाशाली लोगों के बड़े पैमाने पर प्रस्थान के लिए संदर्भित करता है। यह उनके मूल स्थान के लिए एक बड़ी समस्या का कारण बनता है क्योंकि इससे प्रतिभा का नुकसान होता है जिससे उनकी आर्थिक स्थिति पर प्रभाव पड़ता है। विभिन्न कारकों के कारण दुनिया भर के कई देश और संगठन इस गंभीर मुद्दे से जूझ रहे हैं।

प्रतिभा पलायन शब्द की उत्पत्ति

शब्द प्रतिभा पलायन रॉयल सोसाइटी द्वारा अस्तित्व में आया था। युद्ध के बाद यूरोप से उत्तरी अमरीका के वैज्ञानिकों और प्रौद्योगिकीविदों के बड़े पैमाने पर प्रस्थान का उल्लेख करने के लिए इसे शुरूआत में गढ़ा गया था। हालांकि एक अन्य स्रोत के अनुसार यह शब्द पहली बार यूनाइटेड किंगडम में उभरा था और यह भारतीय इंजीनियरों और वैज्ञानिकों के आगमन के संदर्भ में आया था। प्रतिभा का बेकार होना और प्रतिभा का परिसंचरण अन्य समान शब्द हैं।

प्रारंभ में इस शब्द का इस्तेमाल किसी दूसरे देश से आने वाले प्रौद्योगिकी के कर्मचारियों के लिए किया जाता था लेकिन समय के साथ यह एक सामान्य शब्द बन गया है जिसका उपयोग किसी देश, उद्योग या संगठन के प्रतिभाशाली और कुशल व्यक्तियों के बड़े पैमाने पर प्रस्थान करने, नौकरियों की तलाश करने और रहने का उच्च मानकों के लिए किया जाता है।

प्रतिभा पलायन विकसित देशों की एक सामान्य घटना है

जहाँ यूके जैसी कुछ प्रथम विश्व देशों ने भी बड़ी प्रतिभा पलायन का अनुभव किया है वहीं भारत और चीन जैसे विकासशील देशों में यह घटना आम बात है। ऐसे कई कारक हैं जो इन देशों में प्रतिभा पलायन के लिए ज़िम्मेदार हैं। उच्च वेतन, बेहतर चिकित्सा सुविधाएं, उन्नत प्रौद्योगिकी तक पहुंच, बेहतर मानक और अधिक स्थिर राजनीतिक परिस्थितियां कुछ ऐसी हैं जो विकसित देशों के प्रति पेशेवरों को आकर्षित करते हैं।

निष्कर्ष

दुनिया भर के कई देशों को प्रतिभा पलायन की समस्या का सामना करना पड़ रहा है और इन देशों की सरकार इस पर नियंत्रण रखने के लिए उपाय भी कर रही है पर समस्या अभी भी बनी हुई है। इस मुद्दे को नियंत्रित करने के लिए बेहतर योजनाएं बनाने की आवश्यकता है।

प्रतिभा पलायन पर निबंध – 3 (400 शब्द)

प्रस्तावना

प्रतिभा पलायन एक व्यापक शब्द है जिसका उपयोग एक देश से दूसरे देश में प्रतिभाशाली और कुशल व्यक्तियों के बसने का वर्णन करने के लिए किया जाता है। शब्द का इस्तेमाल एक उद्योग या संगठन से कुशल पेशेवरों के बड़े पैमाने पर प्रस्थान के लिए किया जाता है ताकि उन्हें बेहतर वेतन और अन्य लाभ मिल सके।

प्रतिभा पलायन के प्रकार

जैसा कि प्रतिभा पलायन ऊपर वर्णित किया गया है यह तीन स्तरों पर होता है - भौगोलिक, संगठनात्मक और औद्योगिक। यहां इन विभिन्न प्रकार के प्रतिभा पलायन को विस्तार से देखें:

  1. भौगोलिक प्रतिभा पलायन

बेहतर वेतन की नौकरियों की तलाश में अत्यधिक प्रतिभाशाली और कुशल व्यक्तियों का दूसरे देश में जाना भौगोलिक प्रतिभा पलायन है। इसका उनके देश की अर्थव्यवस्था और समग्र विकास पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है।

  1. संगठनात्मक प्रतिभा पलायन

एक संगठन के उच्च प्रतिभाशाली, कुशल और रचनात्मक कर्मचारियों के बड़े पैमाने पर पलायन करके दूसरे में शामिल होने को संगठनात्मक प्रतिभा पलायन कहा जाता है। इससे संगठन कमजोर पड़ता है और प्रतिस्पर्धा में तेजी आती है।

  1. औद्योगिक प्रतिभा पलायन

यह अन्य उद्योगों में बेहतर नौकरियों की तलाश में एक उद्योग के कर्मचारियों का प्रस्थान है। यह उन उद्योगों के काम के संतुलन को बिगाड़ता है जहां प्रतिभा पलायन होता है।

प्रतिभा पलायन के कारक

विभिन्न कारक हैं जो विभिन्न स्तरों पर प्रतिभा पलायन का कारण बनते हैं। हालांकि ये कारक लगभग समान हैं। यहां इन श्रेणियों पर एक नजर है:

  1. भौगोलिक प्रतिभा पलायन

यह आमतौर पर निम्नलिखित कारणों से होता है:

  • किसी देश की अस्थिर राजनीतिक परिस्थितियां
  • आरक्षण प्रणाली (भारत में) जो कि योग्य उम्मीदवारों को अच्छी नौकरी देने में नाकाम है और ज्यादातर गैर-योग्य लोगों को अच्छी नौकरी उपलब्ध करवाती है।
  • रहने की कम सुविधा
  • अच्छे रोजगार के अवसरों की कमी
  • अच्छी चिकित्सा सुविधाओं का अभाव
  1. संगठनात्मक प्रतिभा पलायन

यह आमतौर पर निम्नलिखित कारणों से होता है:

  • संगठन में अच्छे नेतृत्व और प्रबंधन का अभाव
  • विकास की कम या ना के बराबर गुंजाइश
  • बाजार मानकों से कम वेतन
  • निष्पक्ष रूप से पदोन्नति देने का अभाव
  • काम की प्रशंसा ना होना
  • लगातार कई घंटे काम
  • अनुचित काम का दबाव
  • दूरदराज के स्थान पर पुनर्वास के कारण भी लोगों को कहीं और नौकरी तलाशनी पड़ सकती है
  1. औद्योगिक प्रतिभा पलायन

यह आमतौर पर निम्नलिखित कारणों से होता है:

  • कम वेतन पैकेज
  • कम वृद्धि की संभावनाएं
  • अनुचित कार्य भार
  • उद्योगों से जुड़े स्वास्थ्य संबंधी खतरें

निष्कर्ष

प्रतिभा पलायन के लिए जिम्मेदार कारकों को स्पष्ट रूप से पहचान लिया गया है। जो कुछ भी करने की जरूरत है वह इस मुद्दे पर काबू पाने के लिए इन्हें नियंत्रित करना है। अन्य बातों के अलावा बाजार में बेहतर रोजगार के अवसरों को पैदा करने, एक व्यक्ति के कौशल के बराबर वेतन पैकेज की पेशकश करने और इस मुद्दे से बचने के लिए एक स्वस्थ कार्य वातावरण बनाने की आवश्यकता है।

प्रतिभा पलायन पर निबंध – 4 (500 शब्द)

प्रस्तावना

बेहतर काम की संभावनाओं और बढ़ते जीवन स्तर की तलाश में प्रतिभा पलायन अपने देश से दूसरे देशों में जाने वाले प्रतिभाशाली व्यक्तियों की प्रक्रिया है। इन दिनों यह समस्या बहुत ज्यादा बढ़ गई है। यह देश के लिए एक नुकसान है क्योंकि प्रतिभाशाली व्यक्तियों के जाने से अर्थव्यवस्था पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है। दुनिया भर के कई देशों में प्रतिभाशाली व्यक्तियों को एक देश से दूसरे देश में जाना देखा जा सकता है।

प्रतिभा पलायन से पीड़ित देश

जहाँ दुनिया के कई देश प्रतिभा पलायन के मुद्दे से बड़े पैमाने पर पीड़ित हैं वहीँ विकसित देश भी इससे सुरक्षित नहीं हैं। यहां प्रमुख प्रतिभा पलायन वाले देशों पर एक नजर है:

  1. यूनाइटेड किंगडम

यूनाइटेड किंगडम प्रत्येक साल कई आकर्षक आप्रवासियों को उचित पैकेजों और जीवन के उच्च स्तर के साथ आकर्षित करता है। यहाँ प्रतिभा पलायन का असर साफ़ देखा जा सकता है। विश्वविद्यालय की डिग्री लिए कई व्यक्ति दुनिया के अन्य भागों में नौकरियों की तलाश में अपने मूल देश ब्रिटेन को छोड़ चुके हैं।

  1. भारत

भारत की शिक्षा प्रणाली को काफी मजबूत माना जाता है और जो बेहद प्रतिभाशाली और बुद्धिमान युवा पैदा करता है। जिनकी मांग दुनिया के कोने-कोने में हैं। भारतीयों को बाहरी देशों में अच्छे स्तर के जीवन के साथ अच्छे पैकेज प्राप्त होते हैं और इस तरह वे अपने देश को छोड़ देते हैं।

  1. ग्रीस

ग्रीस को हाल ही में प्रतिभा पलायन की समस्या से जूझ रहे देशों की सूची में शामिल किया गया है। 2008 में ऋण के संकट से इस मुद्दे में तेजी से वृद्धि हुई। ग्रीस के अधिकांश लोग हर साल जर्मनी में प्रवास करते हैं।

  1. ईरान

ईरान धार्मिक तानाशाही और राजनीतिक दमन के लिए जाना जाता है और इसने 4 मिलियन से अधिक ईरानियों को अन्य देशों में स्थानांतरित करने को मजबूर किया है। शोध से पता चला है कि लगभग 15,000 विश्वविद्यालय से शिक्षित व्यक्ति हर साल दुनिया के दूसरे भागों में बसने के लिए ईरान छोड़ देते हैं।

  1. नाइजीरिया

नाइजीरिया में गृहयुद्ध देश प्रतिभा पलायन के मुख्य कारणों में से एक है। बड़ी संख्या में नाइजीरियाई युवक बेहतर नौकरी की संभावनाओं और बेहतर जीवन स्तर की खोज में हर साल अमेरिका में स्थानांतरित हो जाते हैं।

  1. मलेशिया

मलेशिया भी प्रतिभा पलायन की समस्या का सामना कर रहा है क्योंकि इसका पड़ोसी देश सिंगापुर प्रतिभाओं की जांच परख कर बेहतर वेतन प्रदान करता है।

चीन, इथियोपिया, केन्या, मैक्सिको और जमैका जैसे अन्य देश भी हैं जो प्रतिभा पलायन की समस्या से ग्रस्त हैं।

उत्पत्ति के स्थान पर प्रभाव

प्रतिभा पलायन न केवल भौगोलिक है बल्कि बड़ी संख्या में प्रतिभाशाली व्यक्तियों को एक संगठन से दूसरे या एक उद्योग से दूसरे में स्थानांतरित होने को भी प्रतिभा पलायन के रूप में जाना जाता है। जब उच्च प्रतिभाशाली और कुशल व्यक्तियों का एक समूह अपने देश, संगठन या उद्योग को छोड़ देता है और बेहतर संभावनाओं की तलाश में किसी अन्य व्यक्ति को स्थानांतरित करता है तो यह उनके मूल स्थान के लिए एक स्पष्ट हानि है क्योंकि इससे काम-काज प्रभावित होता है। भौगोलिक प्रतिभा पलायन के मामले में डॉक्टरों और इंजीनियरों के जाने से पूरी तरह से समाज पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है।

निष्कर्ष

प्रतिभा पलायन की समस्या का सामना करने वाले देशों और संगठनों को इसके लिए जिम्मेदार कारकों का विश्लेषण करना चाहिए और इस समस्या से बचने के लिए योजनाओं को सुधारने पर कार्य करना चाहिए। इससे आर्थिक रूप से अपने मूल स्थान को बढ़ावा देने में मदद मिलेगी।


 

प्रतिभा पलायन पर निबंध – 5 (600 शब्द)

प्रस्तावना

जब शिक्षित और प्रतिभाशाली पेशेवरों का समूह, विशेष रूप से डॉक्टर, इंजीनियर और वित्तीय क्षेत्र से संबंधित लोग, बेहतर रोजगार के अवसर तलाशने के लिए अपना देश छोड़ कर दूसरे देश बस जाते हैं तो इसे प्रतिभा पलायन के रूप में जाना जाता है। भारत जैसे विकासशील देशों में यह समस्या काफी आम है। एक कंपनी या उद्योग से दूसरे में शामिल होने के लिए कर्मचारियों के बड़े पैमाने पर पलायन को प्रतिभा पलायन कहा जाता है।

भारत प्रतिभा पलायन से बहुत ज्यादा ग्रस्त है

भारतीय अलग-अलग क्षेत्रों में उत्कृष्टता और दुनिया के विभिन्न हिस्सों में उच्च वेतन वाली नौकरियों को हासिल करके देश का नाम रोशन कर रहे हैं। वे व्यापार और प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में उत्कृष्ट होने के लिए जाने जाते हैं और कई रिपोर्ट के अनुसार संयुक्त राज्य के प्रौद्योगिकी उद्योग का एक बड़ा हिस्सा भारतीय है। इस प्रकार भारतीयों ने अमरीकी प्रौद्योगिकी के निर्माण के लिए प्रमुख रूप से योगदान दिया है और अर्थव्यवस्था को भी बदल कर रख दिया है। यदि उन्होंने भारत के विकास में इसका आधा भी योगदान दिया होता तो देश की वर्तमान स्थिति बेहतर होती।

भारत में प्रतिभा पलायन की समस्या गंभीर है क्योंकि यहां उपलब्ध रोजगार के अवसर शिक्षा की गुणवत्ता के अनुरूप नहीं हैं। अन्य कारकों में से कुछ अनुचित रिज़र्वेशन सिस्टम, ज्यादा टैक्स और जीवन के निम्न स्तर शामिल हैं।

प्रतिभा पलायन को नियंत्रित करने के तरीके

प्रतिभा पलायन जो भौगोलिक और साथ ही संगठनात्मक स्तर पर हो रहा है उससे निपटना भी मुश्किल है। तो क्यों ना इससे बचने के तरीके खोजें। भौगोलिक और संगठनात्मक प्रतिभा पलायन की समस्या को दूर करने के लिए यहां कुछ तरीके बताएं गए हैं:

  1. आरक्षण प्रथा बंद हो

भारत जैसे देशों में प्रतिभाशाली युवक कोटा प्रणाली से पीड़ित हैं। आरक्षित वर्ग के कई अयोग्य लोगों को उच्च वेतन वाली नौकरियां मिलती हैं जबकि योग्य उम्मीदवारों को कम वेतन वाली नौकरी से संतुष्ट होना पड़ता है। योग्य व्यक्तियों के लिए ऐसा स्वाभाविक है जो अलग देश में अपनी प्रतिभा के समान नौकरी तलाशने के लिए वहां स्थानांतरित हो जाते हैं। यह सही समय है कि भारत सरकार को इस पक्षपाती कोटा प्रणाली को खत्म करना चाहिए।

  1. मेरिट एकमात्र फ़ैसले का जरिया बने

कोटा प्रणाली के अलावा लोगों को उनके पंथ, जाति और अन्य चीजों के आधार पर भी प्राथमिकता दी जाती है जिनका नौकरी से कुछ लेना-देना नहीं है। बहुत से लोग अपने समुदाय या शहर से संबंधित लोगों को नौकरी देते हैं। यह सब बंद कर दिया जाना चाहिए और एक व्यक्ति को उसकी योग्यता और क्षमता के आधार पर नौकरी मिलनी चाहिए।

  1. उचित प्रचार

कई बॉस अपने कुछ कर्मचारियों को दूसरों के मुकाबले ज्यादा पसंद करते हैं। कई बार ऐसा देखा जाता है कि अगर कोई कर्मचारी कड़ी मेहनत कर रहा है और नौकरी अच्छे तरीके से कर रहा है तो भी उसे पदोन्नति देते वक़्त ध्यान में नहीं रखा जाता और जो बॉस का पसंदीदा है वह आसानी से पदोन्नत हो जाता है बेशक वह मापदंडों पर खरा नहीं उतरता हो। इससे कर्मचारियों के बीच असंतोष का कारण बनता है और वे बेहतर अवसरों की तलाश करते हैं।

  1. नेतृत्व में सुधार

ऐसा कहा जाता है कि कर्मचारी कंपनी नहीं छोड़ता बल्कि वह अपने बॉस को छोड़ता है। अच्छे बॉस और प्रबंधकों की कमी के कारण कंपनी को कई प्रतिभाशाली कर्मचारियों के जाने का नुकसान उठाना पड़ता है। लोगों को अपने काम के लिए प्रोत्साहित किया जाना चाहिए और पुरस्कृत किया जाना चाहिए और यदि ऐसा सही समय पर नहीं होता है तो वे निराश हो जाते हैं और बाहर अवसरों की तलाश करते हैं।

  1. वेतन पैकेज

वेतन पैकेजों का निर्णय लेने के लिए संगठन को निष्पक्ष होना चाहिए एक ही स्तर पर काम कर रहे कर्मचारियों के वेतन पैकेज की बात करते समय ज्यादा बदलाव नहीं होने चाहिए। इसके अलावा वेतन पैकेज बाजार के मानकों के बराबर होना चाहिए नहीं तो कर्मचारी नौकरी छोड़ कर वहां चले जायेंगे जहाँ उन्हें योग्य पैकेज मिल जाएगा।

निष्कर्ष

भारत जैसे विकासशील देशों की अर्थव्यवस्था को बढ़ावा देने के तरीकों का उद्देश्य प्रतिभा पलायन की समस्या को नियंत्रित करना है। लोगों को इस समस्या को नियंत्रित करने के तरीकों को गंभीरता से लेना चाहिए तथा सरकार और संगठनों द्वारा कार्यान्वित किया जाना चाहिए।