शिष्टाचार पर निबंध

मानव एक सामाजिक प्राणी है। अतः समाज के हिसाब से ही उसका आचरण होना चाहिए। ‘स्तुति किम् न तुष्यते’ अर्थात तारीफ किसे नहीं अच्छी लगती, मतलब सभी को अच्छी लगती है। तारीफ बटोरने का सबसे आसान तरीका है – शिष्टाचार। शिष्ट आचरण से हर कोई प्रभावित होता है। सम्मान पाना और देना ही तो शिष्टाचार का नाम होता है।

शिष्टाचार पर छोटे-बड़े निबंध (Short and Long Essay on Good Manners in Hindi)

निबंध - 1 (300 शब्द)

प्रस्तावना

मनुष्य पृथ्वी पर ईश्वर की सबसे बुद्धिमान रचना है। चूंकि हम सभी समाज में रहते है, इसलिए उसके अनुसार सोचने, बात करने और कार्य करने के बारे में हमें पता होना चाहिए। माता-पिता को अपने बच्चों को परिवार के सदस्यों, पड़ोसियों, दोस्तों, शिक्षकों, आदि के साथ उनके व्यवहार के बारे में सिखाना चाहिए।

शिष्टाचार का अर्थ

अच्छे शिष्टाचार वाला व्यक्ति भावनाओं और परिवेश में रहने वाले दूसरों की भावनाओं के प्रति सम्मान दिखाता है। वह कभी भी लोगों को अलग नहीं करता है और सभी के लिए समान संबंध दिखाता है। शील, विनम्रता, दया और शिष्टाचार एक अच्छे व्यवहार वाले व्यक्ति के अनिवार्य लक्षण हैं। इसलिए, एक अच्छा व्यवहार करने वाला व्यक्ति कभी भी गर्व या अभिमानी महसूस नहीं करता है और हमेशा दूसरों की भावनाओं का ख्याल रखता है। अच्छे शिष्टाचार का अभ्यास करना और दिन भर इनका पालन करना निश्चित रूप से जीवन को पल्लवित करता है और जीवन में गुणों को जोड़ देता है।

हालांकि अच्छे शिष्टाचार के भीतर बेशुमार लक्षण हैं । ये अच्छे शिष्टाचार सभी के लिए आवश्यक हैं। ऐसे कुछ अच्छे शिष्टाचार जिनका हम अपने दैनिक जीवन में अभ्यास कर सकते हैं। जैसे -

  • हमें दूसरों के साथ चीजें साझा करने की आदत सीखनी चाहिए।
  • हमें हर संभव तरीके से दूसरों के लिए मददगार, और विनम्र होना चाहिए।
  • हमें दूसरे की संपत्ति का सम्मान करना चाहिए और उपयोग करने से पहले हमेशा अनुमति लेनी चाहिए।
  • हमें अपने शिक्षकों, माता-पिता, अन्य बुजुर्गों और वरिष्ठ नागरिकों के साथ विनम्र व्यवहार करना चाहिए।

उपसंहार

कुछ लोग केवल आपके आगे मीठे शब्दों के साथ अच्छा व्यवहार करते हैं, न कि पीछे। यह अच्छा तरीका नहीं है। जीवन में अच्छे शिष्टाचार बहुत आवश्यक हैं क्योंकि वे हमें समाज में अच्छा व्यवहार करने में मदद करते हैं। अच्छे शिष्टाचार हमें सार्वजनिक स्थान पर लोगों का दिल जीतने में मदद करते हैं। इसलिए, एक अच्छा और शिष्ट व्यवहार एक अद्वितीय व्यक्तित्व बनाने की क्षमता रखता है।

 

निबंध - 2 (400 शब्द)

प्रस्तावना

अच्छे शिष्टाचार हमारे दैनिक जीवन में बहुत महत्वपूर्ण हैं। जीवन में इनका महत्व सर्वविदित है। अच्छा तरीका दोस्तों के साथ एक प्रभावी बातचीत बनाता है और साथ ही एक सार्वजनिक मंच पर एक अच्छी छाप छोड़ता है। यह हमें दिन भर सकारात्मक रहने में मदद करता है। इसलिए, माता-पिता को अपने बच्चों को उनकी आदत में सभी संभव अच्छे शिष्टाचारों को शामिल करने में मदद करनी चाहिए।

शिष्टाचार के नियम

शिष्टाचार एक आदमी के लिए आचरण या व्यवहार के नियम सिखाकर उसे समाज में रहने के लिए सक्षम बनाते हैं। अच्छे शिष्टाचार किसी व्यक्ति को विशिष्ट परिस्थितियों में व्यवहार, प्रतिक्रिया या कार्य करने का तरीका सिखाते हैं। वे मानव जीवन के आवश्यक अंग हैं जिनके बिना मानव जीवन, प्रगति और समृद्धि रुक सकती है। कुछ शिष्टाचार के नियम हैं जिनका पालन हम सभी को करना चाहिए। जैसे -

  1. सभी को नमस्कार जो घर आए या कॉल करता है

शिष्टाचार के अन्तर्गत हमारे दोस्त, हमारे माता-पिता या दादा-दादी, या कोई और, हमेशा अपने से बड़ो का सम्मान खड़े होकर करना चाहिए। जब कोई हमारे घर आए और जब वे निकलते हैं। भारत में, हम बड़ो के पैर छूकर आशीर्वाद भी मांगते हैं।

  1. 'कृपया' (प्लीज)

किसी से कुछ भी कहने या मांगने से पहले ‘कृपया’ कहना चाहिए।

  1. ‘धन्यवाद’ (थैंक्यू)

हमेशा अपने बच्चे को बताना चाहिए कि जब भी कोई आपको कुछ देता है तब उसे ‘धन्यवाद’ कहकर आभार प्रकट करना चाहिए।

  1. बड़ो के बीच में न बोलना

जब आपके बच्चे कुछ कहना चाहते हैं - तो उन्हें कहना सीखाएं ‘कृपया माफ कीजिए’। उन्हें बताएं कि जब बड़े बात कर रहे हों तो कभी भी बड़ों को बीच में न रोकें। बड़ो को भी अपने बच्चों की बात ध्यान से सुननी चाहिए। क्योंकि बच्चे हमेशा बड़ो का देखकर ही सीखते हैं।

  1. दूसरों की राय का सम्मान करें

कभी भी किसी पर अपनी राय थोपने की कोशिश न करना चाहिए। सभी की राय का सम्मान करना चाहिए। हर व्यक्ति अलग और अनोखा होता है।

  1. बाहरी स्वरुप को देखकर मज़ाक न उड़ाएं

बच्चों को शारीरिक सुंदरता से परे देखना सिखाना चाहिए। हर इंसान अपने में खास होता है। सभी की रचना विधाता ने की है। उसका सम्मान करना सिखाना चाहिए।

  1. दरवाजा खटखटाना

हमेशा एक कमरे में प्रवेश करने से पहले दरवाजा खटखटाना सुनिश्चित करें। यह मूल शिष्टाचार है जो सभी लोगों को उनकी छोटी उम्र से ही सिखाया जाना चाहिए।

उपसंहार

अच्छे शिष्टाचार समाज में प्रत्येक के लिए महत्वपूर्ण हैं। ये निश्चित रूप से हमें लोकप्रियता और जीवन में सफलता पाने में मदद करते हैं। क्योंकि किसी को भी शरारत और दुर्व्यवहार पसंद नहीं होता है। अच्छे शिष्टाचार समाज में रहने वाले लोगों के लिए एक टॉनिक की तरह काम करता हैं।

 

निबंध - 3 (500 शब्द)

प्रस्तावना

विनम्र और सुखद स्वभाव वाले लोग हमेशा बड़ी संख्या में लोगों द्वारा लोकप्रिय और सम्मानित होते हैं। जाहिर है, ऐसे लोग दूसरों पर चुंबकीय प्रभाव डाल रहे हैं। इस प्रकार, हमें अपने जीवन में हमेशा अच्छे व्यवहार का अभ्यास करना चाहिए।

अच्छे शिष्टाचार हमेशा लोगों के साथ एक नई बातचीत का अवसर देते हैं और यह आगे चलकर हमारा मार्ग प्रशस्त करती है। अगर कोई आपसे बुरी तरह से बात करता है, तो फिर भी उससे उसी तरह से बात न करें। उसे बदलने का मौका देने के लिए हमेशा अपने सकारात्मक तरीके से उससे बात करें।

कार्यालय शिष्टाचार

कार्यालय शिष्टाचार एक कंपनी की संस्कृति को बदलने में मदद कर सकता है और यहां तक कि व्यावसायिक सफलता और व्यावसायिक विफलता के बीच अंतर भी कर सकता है।

1) एक कार्यालय में शोर को न्यूनतम रखें

आवश्यकता से इतर, जैसे फोन पर बात करना और सहकर्मियों के साथ बात करना, एक कार्यालय में शोर कम रखना चाहिए।

2) एक सहयोगी के रूप में सहकर्मी के संदेशों का उत्तर दें

सहकर्मियों से ईमेल, वॉयस मैसेज, टेक्स्ट और अन्य प्रकार के पत्राचार प्राप्त करते समय, उन्हें प्रतीक्षा करते रहने के बजाय समय पर उत्तर देना चाहिए।

3) सहकर्मियों के प्रति सम्मान प्रकट करें

एक खुले कार्यालय के माहौल में काम करते समय, सम्मान, मिलनसार व्यवहार प्रभावी कंपनी संस्कृति का मूल है। सहकर्मियों के साथ उसी तरह का सम्मान करें, जिसकी हम स्वयं अपेक्षा करते हैं।

5) ऑफिस के दूसरे लोगों के प्रति विनम्र रहें

सभी से विनम्रता पूर्वक बात करनी चाहिए। बहुत बार हो सकता है कि, आपको किसी की बात अच्छी न लगी हो। धैर्य से काम लें, बाद में बेहद शालीनता से अपनी बात रखें।

6) कार्यालय में दूसरों के लिए सुखद बनें

सहकर्मियों के लिए सुखद और मैत्रीपूर्ण होना एक कंपनी संस्कृति को सफल बनाता है और जो इस प्रकार काम करने के लिए वांछनीय है। इस प्रकार कर्मचारियों को बनाए रखने और आकर्षित करने में मदद मिलेगी।

8) अन्य सहकर्मियों के साथ अपने खुद के हितों को साझा करें

अपने साथी कर्मचारियों के साथ अपने स्वयं के हितों और शौक को साझा करने के लिए तैयार होकर मित्रता दिखाना चाहिए।

9) अच्छे काम के लिए क्रेडिट साझा करें

यदि आपने एक सफल परियोजना या कार्य पर सह-काम किया है, तो सहयोगियों और टीमों के बीच क्रेडिट साझा करना चाहिए।

10) टीम के खिलाड़ी बनें

सहकर्मियों के साथ अच्छी तरह से काम करना और एक टीम का हिस्सा होने से हमारे सहकर्मियों के बीच अच्छी इच्छाशक्ति उत्पन्न होती है जो अक्सर पारस्परिक होती है।

11) उन्हें नियम दिखा कर नए कर्मचारियों और प्रशिक्षुओं की मदद करें

हम सभी एक नौकरी में अपने पहले कुछ दिन घबराते हैं। नए कर्मचारियों को कुछ निश्चित 'नियमों' के बारे में बताकर सम्मान दिखाना चाहिए, जैसे कि ब्रेक और लंच के समय।

उपसंहार

शिष्टाचार व्यक्ति का आंतरिक गुण होता है, जिसके माध्यम से सभी के दिल में एक अच्छी छवि का निर्माण किया जा सकता है। भले ही आप भौतिक रुप से सुंदर न हो, किन्तु आपका कुशल शिष्ट व्यवहार आपको सबका चहेता बना सकता है। भौतिक सुंदरता तो क्षणभंगुर होती है, परंतु आपकी व्यवहारिक सुंदरता आजीवन साथ निभाती है।