छुट्टी का दिन पर निबंध

छुट्टियां वर्ष का वह समय होता है जिसकी सबसे अधिक प्रतीक्षा की जाती है। हम छुट्टियों के लिए हमारी नीरस दिनचर्या से एक ब्रेक लेने के लिए कई योजनाएं बनाते हैं। हमारी योजनाओं में से कुछ तो सफल हो जाती हैं पर कुछ छुट्टियों की योजनाएं स्थगित हो जाती हैं।

छुट्टियां हर किसी के जीवन में एक विशेष जगह रखती हैं। इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ता कि हम कितने पुराने हैं या किस पेशे में शामिल हैं। हम हमेशा छुट्टियों के लिए तत्पर रहते हैं। आपकी आवश्यकता के अनुसार छुट्टी का दिन पर विभिन्न निबंध अलग-अलग शब्द सीमा के तहत यहां उपलब्ध कराएं गए हैं। आप नीचे दिए गए किसी भी छुट्टी के निबंध का चयन कर सकते हैं:

छुट्टी का दिन पर लंबे और छोटे निबंध (Long and Short Essay on Holiday in Hindi)

छुट्टी का दिन पर निबंध 1 (200 शब्द)

स्कूल के दिनों को किसी भी व्यक्ति के जीवन का सबसे अच्छा हिस्सा माना जाता है। यद्यपि छात्रों पर पढाई का बहुत अधिक दबाव रहता है लेकिन छुट्टियां पूरे जीवन भर के लिए कई अन्य पहलुओं की पेशकश करती है। अन्य बातों के अलावा ग्रीष्म, सर्दियां और शरद ऋतु की छुट्टियां जो छात्रों को अकादमिक सत्र के दौरान मिलती हैं वह उनकी स्कूली उनकी यात्रा का सबसे अच्छा हिस्सा है। छात्र भाग्यशाली हैं कि साल के दौरान उन्हें कई अवकाश मिलते हैं। उन्हें आराम करने, अपने शौक में व्यस्त होने और मनोरंजन से भरी यात्राएं करने के लिए पर्याप्त समय मिलता है।

कॉरपोरेट सेक्टर में पांच दिनों के सप्ताह की संस्कृति पनप रही है जिसके कारण आजकल काम कर रहे लोग भी थोड़े-थोड़े समय में छुट्टी की यात्रा करने में सक्षम हो गए हैं। शनिवार और रविवार के साथ एक और छुट्टी मिलना सैर के लिए एक अच्छा सप्ताहांत बनाता है। कार्यरत पेशेवरों को इन दिनों एक दिन में 9-10 घंटे काम करने की आवश्यकता है। इस तरह के व्यस्त काम के घंटे अक्सर तनाव को जन्म देते हैं और स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं पैदा कर सकते हैं। छुट्टियां इस व्यस्त दिनचर्या से राहत प्रदान करती हैं। यह आराम करने और फिर से जीवंत होने का समय है। यह परिवार और दोस्तों के साथ बैठक करने का भी समय है।

छुट्टियों वास्तव में प्रत्येक व्यक्ति के लिए एक विशेष महत्व रखती हैं। अलग-अलग गतिविधियों में शामिल होने के अलावा आपको छुट्टियों के दौरान आराम करने और चिंतामुक्त होने के लिए भी पर्याप्त समय निकालना होगा।


 

छुट्टी का दिन पर निबंध 2 (300 शब्द)

प्रस्तावना

एक छात्र का जीवन होमवर्क, परीक्षा की तैयारी और परीक्षाओं के आसपास घूमती है तो मूल रूप से छात्र के जीवन का अर्थ है अध्ययन, अध्ययन और अधिक अध्ययन। हम स्कूल जाते हैं फिर कोचिंग सेंटर जाते हैं और फिर घर पर अध्ययन करते हैं। विशेष रूप से बड़ी कक्षाओं में अन्य गतिविधियों के लिए कोई समय नहीं मिल पाता। रविवार के आने से राहत मिलती है लेकिन ज्यादातर बार सोमवार को कुछ कक्षा परीक्षण होते हैं इसलिए हम एक सप्ताह में भी एक दिन से ज्यादा पढ़ाई से बच नहीं सकते।

गर्मी की छुट्टियों से जुड़ी मेरी प्यारी यादें

गर्मी की छुट्टियां हर छात्र के लिए वर्ष का सर्वश्रेष्ठ समय है। हम हर साल अपनी गर्मी की छुट्टियों के दौरान परिवार यात्रा की योजना बनाते हैं। हमारी परिवार की यात्रा इन अवकाशों का सबसे अच्छा हिस्सा है और मैं हमेशा इसके लिए तत्पर रहता हूं। ज्यादातर बार मेरे पिता, मां, भाई और मैं इन यात्राओं पर जाते हैं लेकिन कई बार मेरे चचेरे भाई भी हमारे साथ जुड़ जाते हैं। ये यात्राएं हमेशा आनन्दित होती हैं पिछले साल हम छह दिनों के लिए ऊटी और मैसूर गए। दोनों जगहें शानदार थीं।

 

ऊटी विशेष रूप से मज़ेदार जगह थी। इन जगहों पर कई खूबसूरत उद्यान और अद्भुत भवन हैं। हम इन्हें देखने के लिए गए, शानदार भोजन किया और एक दूसरे के साथ अच्छा समय बिताया। यह एक बढ़िया अनुभव था। यह सबसे अच्छी पारिवारिक यात्राओं में से एक थी जो हमने अब तक की थी। यह सबसे लंबी यात्रा भी थी। हम अक्सर केवल 2-3 दिनों के लिए अवकाश की योजना बनाते थे लेकिन यह 6 दिनों की यात्रा जिससे यह और अधिक मजेदार बन गई थी। मैं वहाँ बिताए दिनों को अक्सर याद करता हूं। ये मेरी गर्मियों की छुट्टियों की यादें हैंI

निष्कर्ष

छुट्टियां दिनचर्या से ब्रेक लेने का एक अच्छा समय है। यह हमारे शौक में शामिल होने और हमारे पुराने मित्रों तथा विस्तारित परिवार के सदस्यों से मिलने का समय है। हालांकि हमें इस समय के दौरान हमारी पढ़ाई को छोड़ना नहीं चाहिए। हमें छुट्टियों के दौरान भी अध्ययन करने के लिए कुछ समय निकालना चाहिए।


 

छुट्टी का दिन पर निबंध 3 (400 शब्द)

प्रस्तावना

छुट्टियां परिवार और दोस्तों के साथ रहने का समय है। यह हमारे पसंदीदा खेल में शामिल होने या अपने शौक पूरा करने का भी समय है। हम अपनी छुट्टियों के लिए कई योजनाएं बनाते हैं लेकिन उनमें से अधिकतर पूरी नहीं हो पाती। इसके लिए मुख्य कारणों में से एक है विलंब। हम अपनी छुट्टियों के दौरान बहुत कुछ करना चाहते हैं लेकिन आलस और ढीलेपन की वजह से छुट्टियों के अंत में केवल अफसोस करके रह जाते हैं।

छुट्टियों का आनंद उठाने के तरीके

अपनी अधिकांश छुट्टियों का आनंद उठाकर ताजा दिमाग से वापसी कर काम करने के कुछ तरीके यहां दिए गए हैं:

  1. अपने कार्य को मत छोड़ों

छुट्टी अपने अध्ययन या काम से ब्रेक लेने का समय नहीं है वास्तव में यह इन चीजों पर सुधार करने का समय है। यदि आप अपनी छुट्टियों (विशेष रूप से लंबी छुट्टियों के दौरान) के दौरान अपना काम छोड़ते हैं या अध्ययन नहीं करते हैं तो जब आपका कार्यालय/स्कूल फिर से शुरू होगा तो वापस सही रफ़्तार पकड़ना आपके लिए बहुत मुश्किल हो जाएगा। यह आपके मन में असंतोष पैदा करेगा और आप चीजों को ठीक करने के लिए फिर से अवकाश का इंतजार करेंगे। तो क्यों नहीं अपने ब्रेक के दौरान चीजों को व्यवस्थित करें और आत्मविश्वास और उत्साह के साथ काम करने के लिए वापस आएं।

अपने काम में ज्यादा ना डूबें। बस एक या दो घंटे ही दिन में काम को दें ताकि आप काम से संपर्क में रहें।

 

  1. अपने शौक/रुचि का पालन करें

अपने शौक पूरे करने के लिए विभिन्न कक्षाओं में शामिल होने का विचार अच्छा है। आप नृत्य, तैराकी, योगा, पेंटिंग, स्केचिंग या संगीत जैसे किसी भी पसंद की कक्षा में शामिल हों सकते हैं। आप अपनी छुट्टियों की संख्या के हिसाब से एक हफ्ते या 10 दिन के थोड़े से समय का कोर्स कर सकते हैं।

  1. मित्रों और रिश्तेदारों से मिलें

लोगों से घुलना-मिलना बहुत महत्वपूर्ण है। हमारी व्यस्त दिनचर्या के कारण हमें अपने मित्रों और रिश्तेदारों की यात्रा के लिए पर्याप्त समय नहीं मिलता है लेकिन हम छुट्टियों के दौरान निश्चित रूप से ऐसा कर सकते हैं। इसलिए उन्हें पूरा करने के लिए समय निकालें।

  1. यात्रा पर जाएं

अपने नियमित जीवन से एक ब्रेक लेने के लिए अपने परिवार या दोस्तों के साथ किसी हिल स्टेशन की यात्रा के लिए जाएं। यात्राएं दिमाग को तरो-ताज़ा रखती हैं। मैं हमेशा अपनी गर्मियों और सर्दियों की छुट्टियों के दौरान यात्रा पर जाने के लिए कार्यक्रम बनाता रहता हूं।

  1. अपने परिवार के साथ समय बिताएं

सबसे महत्वपूर्ण बात अपने परिवार के साथ समय बिताएं। परिवार सबसे पहले है! इसलिए आपको अपने प्रत्येक परिवार के सदस्यों के साथ गुणवत्ता का समय बिताना होगा। अपने दादा-दादी, माता-पिता और भाई-बहनों के साथ अपने रिश्तों को मजबूत करने के लिए उनके साथ समय व्यतीत करें।

निष्कर्ष

छुट्टियां परिवार और दोस्तों के साथ संबंध सुधारने का सही समय है। यह आपके हितों का पालन करने और खुद को फिर से जीवंत करने का समय है। तो इस समय का सबसे अधिक फायदा उठाएं।


 

छुट्टी का दिन पर निबंध 4 (500 शब्द

प्रस्तावना

छुट्टियां किसी व्यक्ति के जीवन में बहुत महत्व रखती हैं। चाहे वह छात्र हो, एक कामकाजी पेशेवर हो या व्यापारी हो - हर कोई अपने काम से एक ब्रेक चाहता है। छुट्टियां ऐसे इंतज़ार करने वाले ब्रेक प्रदान करती हैं। वे कई अन्य कारणों के लिए भी महत्वपूर्ण हैं।

छात्रों के लिए छुट्टियों का महत्व

छुट्टियां एक ऐसा समय है जब हम अंततः हमारी अति व्यस्त दिनचर्या से एक ब्रेक ले सकते हैं और हमारे शौक और हितों का पालन कर सकते हैं। छुट्टियों के दौरान मैं हमेशा एक शौक पूरा करने वाले पाठ्यक्रम में शामिल होने की योजना बनाता हूं। मैं कला और शिल्प से प्यार करता हूं और इस प्रकार मेरे कौशल को सुधारने के लिए अलग-अलग कला और शिल्प कक्षाओं में शामिल होता हूं। पिछले साल मैंने ग्लास पेंटिंग क्लासेस में दाखिला लिया था। उससे पहले मैंने मूर्तियां बनाना सीखा था और इस साल मैं मोमबत्ती बनाने की कला सीखने की योजना बना रहा हूं। मेरे दोस्त भी अपने विभिन्न हितों के अनुसार विभिन्न कक्षाओं में शामिल होते हैं। उनमें से कुछ नृत्य कक्षाओं में शामिल होते हैं अन्य मुखर / वाद्य संगीत कक्षा में शामिल होते हैं जबकि कुछ अन्य खेल जैसे स्केटिंग, तैराकी और बास्केट बॉल में शामिल होते हैं।

छुट्टी एक ऐसा एक समय होती हैं जब हम दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ बातचीत कर सकते हैं और हमारे परिवार के साथ समय बिता सकते हैं। मुझे पारिवारिक गतिविधियों से प्यार है। हम गर्मियों की छुट्टियों के दौरान कम से कम एक परिवार की यात्रा की योजना ज़रूर बनाते हैं। मैं अपने दोस्तों के साथ भी थोड़ा समय ज़रूर बिताता हूँ। मुझे वह समय बहुत अच्छा लगता है जब मेरे चचेरे भाई मेरे घर रहने के लिए आते हैं। विशेष रूप से वे दिन गर्मियों की छुट्टियों का सबसे अच्छा हिस्सा हैं।

सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि छुट्टियों का समय वह समय होता है जब हम आराम से यह सोच और समझ सकते हैं कि अपनी परीक्षाओं और साथ ही अन्य गतिविधियों में बेहतर प्रदर्शन करने के लिए हमारे कौशल में कैसे सुधार किया जाए। मुझे यकीन है कि मैं छुट्टियों के दौरान अध्ययन करने के लिए दिन में कम से कम 2-3 घंटे अलग रखूं। जब मैं छुट्टियाँ खत्म कर वापिस आता हूँ तो इससे मुझे अपनी पढ़ाई के साथ तालमेल बनाए रखने में मदद मिलती है।

कार्यरत लोगों के लिए छुट्टियों का महत्व

नौकरी करने वाले पेशेवरों और व्यापारियों को भी छुट्टियां चाहिए लेकिन स्कूल और कॉलेज जाने वाले बच्चों की तरह उन्हें लंबी छुट्टियां नहीं मिल पाती। हालांकि जितनी भी छुट्टियाँ उन्हें मिलती हैं उन्हें अपनी पसंद की गतिविधि में शामिल होने की कोशिश करनी चाहिए।

नौकरी करने वाले पेशेवर ज्यादातर समय काम करते हैं। इन दिनों बहुत से लोगों को अपने घर जाकर भी काम करना पड़ता है। यह व्यस्त पेशेवर जीवन अक्सर उनके अपने व्यक्तिगत जीवन पर नकारात्मक प्रभाव डालता है। वे अपने परिवार के सदस्यों के साथ थोड़ा सा भी समय बिताने में सक्षम नहीं हो पाते और इसका परिणाम संघर्ष और तनावपूर्ण व्यक्तिगत संबंध हैं। छुट्टियां उन्हें व्यक्तिगत बंधनों को मजबूत करने के लिए अपने परिवार के साथ समय बिताने का अवसर देती हैं। परिवार के साथ छुट्टियों की योजना बनाना एक अच्छा विचार है। सामाजिककरण भी बहुत महत्वपूर्ण है और ऐसा छुट्टियों के दौरान भी किया जा सकता है क्योंकि व्यस्त दिनचर्या की वजह से नियमित दिनों के दौरान सामाजिक जिम्मेदारियों को निभाने का मौका नहीं मिल पाता। अपने दोस्तों और रिश्तेदारों से मिलने का यह एक अच्छा समय है। छुट्टियां आराम करने और साथ ही शारीरिक तथा मानसिक स्वास्थ्य पर ध्यान देने का सही समय है।

निष्कर्ष

छुट्टियां महत्वपूर्ण हैं क्योंकि ये हमारे व्यक्तिगत और पेशेवर जीवन के बीच संतुलन बनाए रखने में मदद करती हैं। हमें छुट्टियों का समय बुद्धिमानी से बिताना चाहिए।


 

छुट्टी का दिन पर निबंध 5 (600 शब्द)

प्रस्तावना

छुट्टियां वर्ष का सबसे अच्छा समय है। मैं हमेशा अपनी गर्मी की छुट्टियों के लिए उत्सुक रहता हूं क्योंकि ये साल की सबसे लंबी छुट्टियां होती हैं। मैं ज्यादातर उन्हें अपने परिवार और विस्तारित परिवार के साथ बिताता हूँ। अगर मैं अच्छे से पढाई करता हूं और अच्छा व्यवहार करता हूं तो मेरे माता-पिता मुझे छुट्टियों के दौरान दोस्तों के साथ घूमने की इज़ाज़त भी देते हैं।

स्कूल के दोस्तों के साथ मेरी पहली छुट्टियाँ

5वीं कक्षा तक मेरे माता-पिता ने मुझे स्कूल की तरफ से आयोजित यात्रा पर जाने की इजाजत नहीं दी थी लेकिन जैसे ही मैंने 6वीं कक्षा में प्रवेश किया था तब मुझे स्कूल की यात्रा पर जाने का मौका मिला। मेरे स्कूल ने गर्मियों की छुट्टियों के दौरान शिमला में तीन दिन की यात्रा का आयोजन किया था। मेरे कई दोस्तों ने यात्रा के लिए जाने के लिए अपनी इच्छा जताई। मैं भी जाना चाहता था लेकिन मुझे डर था कि मेरे माता-पिता इसके लिए सहमत नहीं होंगे। पहले मैंने सोचा कि इस यात्रा के लिए मुझे उनसे इज़ाज़त नहीं लेनी चाहिए क्योंकि उनका जवाब ना में होगा लेकिन मेरे दोस्तों ने मुझे पूछने के लिए विवश कर दिया।

मुझे अभी भी याद है कि कैसे मैंने इस यात्रा के लिए सहमति पत्र अपने पिता को हिचकिचाते हुए दिया था और यात्रा के विवरण के बारे में उन्हें बताया था। मैंने उन्हें यह भी बताया कि मेरे कई सहपाठी इस यात्रा के लिए जा रहे हैं और मैं भी जाना चाहता हूं। शुरू में उन्होंने इनकार कर दिया क्योंकि उन्होंने महसूस किया कि मैं अकेले बाहर घूमने के लिहाज़ से उम्र में बहुत छोटा हूँ। मुझे मेरी मां से यात्रा के लिए जाने की अनुमति लेने के लिए लगभग 2 दिन लग गए और उन्होंने ही मेरे पिता को इसके लिए राज़ी किया। सहमति मिलने से मैं बेहद खुश और यात्रा के बारे में उत्साहित हो गया था। मैंने उनसे वादा किया था कि मैं अजनबियों से बात नहीं करूंगा, हमेशा समूह के साथ रहूँगा और यात्रा के दौरान सब चीजों के प्रति सावधान रहूँगा।

हमने ट्रेन से दिल्ली से कालका तक यात्रा की और फिर शिमला तक पहुंचने के लिए एक बस ली। हम दोपहर तक हमारे होटल में पहुंचे। पहले दिन हम मॉल रोड पर गए। मौसम सुखद था और जगह अद्भुत थी। इससे पहले भी मैं कई हिल स्टेशनों पर गया था लेकिन यह जगह मेरे लिए बिलकुल नई थी। दोस्तों के साथ ने इसे और अधिक अद्भुत बना दिया। हम मॉल रोड पर घूम रहे थे और हमने होटल में वापस जाकर रेस्तरां में खाना खाने की योजना बनाई थी लेकिन ताजे मोमोस की खुशबू ने हमारा मूड बदल दिया। वे अति स्वादिष्ट थे और हमने इतने मोमोस खा लिए कि पेट में रात के खाने के लिए कोई जगह नहीं बची।

अगले दिन हम जाखू मंदिर गए। मंदिर के लिए सड़क काफी खड़ी थी और हमें अपने रास्ते में सैकड़ों लंगूरों का सामना करना पड़ा। यह मंज़र थोड़ा डरावना था लेकिन साथ ही रोमांचक भी था। मंदिर बहुत ही शांत जगह पर स्थापित है और हम कुछ समय के लिए शांति से वहां बैठ गए। हमने वापस आते वक़्त सड़क पर घूमने का फैसला किया और वह अनुभव वाकई अद्भुत था। शाम में हमने चर्च का दौरा किया और फिर मॉल रोड पर समय बिताया। हमारी यात्रा के तीसरे दिन हमारे शिक्षकों ने हमें शॉपिंग के लिए जाने दिया। हम कुछ अच्छा सामान खरीदने के लिए तिब्बती बाजार में गए। मैंने अपने लिए स्कार्फ,हेयर क्लिप और एक जैकेट खरीदा। मैंने अपने भाई-बहनों और दोस्तों के लिए भी स्मृति चिन्ह खरीदे।

आख़िरकार वह समय आ ही गया जब हमने शिमला के सुंदर पहाड़ों और घाटी के दृश्य को अलविदा कहा। हमनें दिल्ली के लिए सीधे रात की बस पकड़ी और सुरक्षित घर पहुंच गए।

निष्कर्ष

मैं इससे पहले कई बार अपने परिवार के साथ घूमने गया हूँ और मुझे अपने परिवार के साथ बिताया वक़्त अच्छा भी लगा लेकिन दोस्तों के साथ यात्रा पर जाने की खुशी और उत्साह कुछ अलग ही है। तब से मैं अपने दोस्तों के साथ कई यात्राएं कर रहा हूं लेकिन मैं उनके साथ मेरी पहली यात्रा पर बिताए अद्भुत क्षणों को कभी नहीं भूल सकता।

 

 

सम्बंधित जानकारी:

छुट्टी पर निबंध

गर्मी की छुट्टी पर निबंध

ग्रीष्म शिविर पर निबंध

मैनें अपनी गर्मी की छुट्टी कैसे बितायी पर निबंध

गर्मी की छुट्टी के लिए मेरी योजनाएँ पर निबंध