मैं डॉक्टर बनना चाहता हूं पर निबन्ध

ज्यादातर बच्चों का सपना होता है कि वो एक डॉक्टर बने और इसके पीछे उनके अपने कई विभिन्न कारण हो सकते है। डॉक्टर वास्तव मे बहुत साहसी होता है क्योकि वह अन्य सभी के घावों का इलाज करता है, जिसके लिए बहुत साहस की आवश्यकता होती है। डॉक्टर बहुत महान होता है, क्योकि वह हमारे शरीर के विभिन्न तरह की बीमारियों का सामाधान उनके पास होता है।

मैं डॉक्टर क्यों बनना चाहता हूं पर छोटे और बड़े निबन्ध (Short and Long Essays on Why I Want to Become a Doctor)

निबन्ध 1 (250 शब्द) - मैं एक डॉक्टर बनना चाहता हूं

परिचय

जिस तरह एक शिक्षक सिखने मे हमारी कई प्रकार की समस्याओं को हल करने मे हमारी मदद करता है, एक पुलिस हमारे सामाजिक समस्याओं के सामाधान मे हमारी मदद करता है, एक भिक्षु हमारी आत्मा को शांत करने मे हमारी मदद करता है, उसी तरह एक डॉक्टर हमारे शरीर मे कई प्रकार के अनियमितताओं से छुटकारा दिलाने मे हमारी मदद करता है।

वास्तव मे वो एक नायक की तरह होते है, क्योकि वो हमे पूरी तरह फिट और ठीक बनाने मे हमारी सहायता करते है। मुझें यह पेशा बहुत पसंद है, क्योकि मैने ऐसे कई गंभीर मामले देखे है, पर जब वो सभी डॉक्टर से मिलते है तो वो पूरी तरह से ठीक हो जाते है। वो एक जादूगर होते है और उनके पास सुपरपावर होते है, इसलिए मै भी एक डॉक्टर बनना चाहता हूं।

मेरी प्रेरणा कौन है? (Who is my Inspiration)

मेरी मां एक डॉक्टर है और वह सभी की मदद करती है, वह एक एन.जी.ओ. मे भी काम करती है। कई बूढ़े और गरीब लोग उनका शुक्रिया करने आते है, और यह सुनना बहुत अच्छा लगता है। मै भी लोगों की सहायता करना पसंद करता हूं। डॉक्टर्स धरती पर भगवान का रुप होते है, क्योकि वो आपको मृत्यु से वापस भी ला सकते है।

एक बार मेरा एक सहपाठी एक घटना मे बूरी तरह से घायल हो गया था और सभी ने अपनी आशाएं खो दी थी, लेकिन डॉक्टर ने उसे बचा लिया। मै इस घटना को अपनी मां के साथ आसानी से जोड़ सकता हूं, और वह दूसरों की किस तरह सहायता करती है। इसलिए मैं भी उनके जैसा ही बनना चाहता हूं।

निष्कर्ष

ऐसे कई पेशे है जिनके माध्यम से आप दूसरो की सहायता कर सकते है। जैसा कि मैने डॉक्टरों के पेशे मे कुछ जीवंत उदाहरण देखे है, इसलिए मै एक डॉक्टर बनना चाहता हूं। मै चाहता हूं कि मेरा राष्ट्र स्वस्थ और फिट रहे ताकि हम एक मजबूत राष्ट्र के रुप मे विकसित हो सकें। मै अपनी मां कि तरह ही दूसरों कि सेवा करना चाहता हूं, जैसे कि मेरी मां कोरोना महामारी मे करती है और अपने राष्ट्र के लिए अपना योगदान करती है।

निबन्ध 2 (400 शब्द) - मैं डॉक्टर क्यों बनना चाहता हूं?

परिचय

इन्द्रधनुष मे अलग-अलग रंग होते है, हर किसी को सफेद रंग पसंद नही होता है, यह आपकी औऱ हमारी पसंद पर निर्भर करता है। हममे से कुछ लोगों को पीला तो कुछ लोगों को लाल पसंद आता है। इसी तरह कई पेशे है और मुझे डॉक्टर बनना पसंद है। इस पेशे को चुनने के पीछे कई कारण है और सबसे महत्वपूर्ण बात है कि मुझे डॉक्टर बनना बहुत पसंद है।

मुझे डॉक्टरों मे क्या अच्छा लगता है (What I Like About Doctors)

जब मै छोटा था, तो मैनें अपनी दादी को खो दिया क्योकि उन्हे कैंसर हो गया था। मुझे बहुत दुख हुआ था क्योकि मै कुछ कर नही सकता था, और तब मैने डॉक्टर बनने का फैसला किया। मेरी इच्छा है कि मै एक ऐसी दवा बनाऊ जिससे कैंसर के कारण किसी कि मृत्यु न हो सके। डॉक्टर किसी का भी इलाज कर सकते है और उनके पास जीवन रक्षक दवाएं और नए रक्षक उपकरण की शक्ति भी होती है।

डॉक्टर हमेशा अपना सर्वश्रेष्ठ करने का प्रयास करते है और किसी को भी “ना” नही कहते है। वो एक शायद से शुरुआत करते है और अधिकतर बार वह अपने कार्य मे सफल होते है। मुझे मरीजों के प्रति उनका दृढ़ संकल्प बहुत अच्छा लगता है। यहां तक कि वो मरीजों के बारें मे कुछ नही जानते है फिर भी वो उन्हें एक परिवार की तरह मानते है।

कोविड-19 की इस महामारी मे सभी डॉक्टरों और अन्य चिकित्सा कर्मचारियों ने 24*7 काम किया है। वह अपने बारे मे भी नही सोचते है। ऐसा करने के लिए वास्तव मे साहस चाहिए होता है और मै उनके इस जज्बे को सलाम करता हूं। उनका भी परिवार है और हम सभी अपने परिवार से प्यार करते है, फिर भी उनके दृढ़ संकल्प के कारण ही हम इस महामारी मे रिकवरी की दर को अधिक कर पाए है।

मैं एक डॉक्टर के रुप मे (I as a Doctor)

एक डॉक्टर के तौर पर मैं हमेशा ही यह सुनिश्चित करने की कोशिश करुगां कि इलाज के अभाव मे किसी की मृत्यु न हो। मै एक ऐसी प्रणाली विकसित करना चाहता हूं, जिससे कि मै मरीज के क्षतिग्रस्त हिस्से को ठीक कर सकूं और मृत व्यक्ति को नया जीवन दे सकूं। क्योकि हर साल कई परिवार अपने प्रियजनों को खो देता है। इसलिए मै एक ऐसी प्रणाली को विकसित करना चाहता हूं जिससे कि कोई भी व्यक्ति सामान्य मृत्यु से पहले न मरें।

मै गरीबों के लिए सभी प्रकार की चिकित्सा सुविधा मुहैया करना चाहता हूं। जैसा कि कभी-कभी हर किसी के पास बेहतर इलाज के लिए पैसे नही होते है, हांलाकि सरकार ने उनके लिए कई ऐसी योजनाओं की घोषणा भी की है, जो कि जागरुकता की कमी के कारण वो इसका लाभ उठाने मे असमर्थ है।

निष्कर्ष

हम कोई भी पेशे का चुनाव करें, हमे उसे ईमानदारी से करना चाहिए। यह एक डॉक्टर का कर्तव्य होता है कि वह सरकार द्वारा योजना और नवीन घोषणाओं के बारे मे मरीजों को बताए। एक डॉक्टर को हमेशा अपने दिमाग का उपयोग कर सभी की मदद करनी चाहिए, किसी के पास उन्हे देने के लिए पैसे हो या न हो।

निबन्ध 3 (600 शब्द) - डॉक्टरः एक पेशे के रुप मे

परिचय

जब भी हम गिरते है और हमे दर्द या असहज महसूस होता है तो वह व्यक्ति केवल डॉक्टर को ही याद करता है। जब आप बड़े हो जाते है तो आप आसानी से समझ सकते है कि आपको क्या हुआ है, लेकिन क्या आपने कभी उन नन्हें बच्चों के बारे मे सोचा है। जो अपनी समस्या को बता भी नही सकते है और डॉक्टर आसानी से उनका इलाज कर देते है, वास्तव मे वो प्रतिभाशाली भी होते है।

एक डॉक्टर का कर्तव्य (Duty of a Doctor)

  • पृथ्वी पर डॉक्टर एक भगवान की तरह होते है और वो पृथ्वी पर हर किसी का भला चाहते है। यहां जानवरों तक के भी डॉक्टर उपलब्ध है। डॉक्टर शब्द एक घाव भरने वाला की तरह लगता है।
  • डॉक्टर को हमेशा दूसरो की मदद करनी चाहिए, चाहे उनके पास पैसे हो या ना हो।
  • डॉक्टर को हमेशा सही दवा की ही सलाह देनी चाहिए, क्योकि कुछ डॉक्टर बस पैसे कमाना चाहते है और वो अनावशयक जांच और परीक्षण कराने की सलाह देते है।
  • हर कोई डॉक्टर नही हो सकता है क्योकि इसके लिए कुछ अलग दिमागी स्तर की आवश्यकता होती है, और एक डॉक्टर बनने के लिए पैसे भी चाहिए होते है। और यदि किसी मे यह प्रतिभा है तो वह लोगों के लिए अपनी उस क्षमता का उपयोग कर सकता है।
  • डॉक्टर को सभी के लिए एक सा होना चाहिए, और पैसे के लिए अपने मरीजों से कोई भेदभाव नही करना चाहिए।
  • उन्हे हमेशा विभिन्न योजनाओं के बारे मे लोगों को जागरुक भी करना चाहिए क्योकि इन दिनों चिकित्सा काफी महंगी हो गयी है। इसीलिए सरकार के पास गरीबों के लिए कई योजनाएं है, लेकिन जानकारी न होने के कारण लोग इसका लाभ नही प्राप्त कर पाते है।
  • डॉक्टर को हमेशा ही विनम्र और व्यवहारिक होना चाहिए क्योकि कोई भी मरीज खुद अपनी बिमारी से निराश होता है। जब डॉक्टर उनके साथ अच्छा व्यवहार करता है तो उन्हे अच्छा लगता है।
  • एक डॉक्टर को हमेशा अपने रोगियों को प्रोत्साहित करना चाहिए क्योकि कभी-कभी दवा से अधिक उनका प्रोत्साहन और विश्वास मरीजों पर बहुत अच्छा काम करता है।
  • उन्हे अपने पेशे के प्रति बहादुर और ईमानदार होना चाहिए।
  • एक डॉक्टर को कभी लापरवाह नही होना चाहिए क्योकि उनकी एक छोटी सी लापरवाही किसी की जान ले सकती है।

डॉक्टरों के प्रकार (Types of Doctors)

डॉक्टर विभिन्न प्रकार के होते है, और यह परीक्षा मे उनकी रुचि और अंको के आधार पर निर्भर करता है। वह जो बच्चों का इलाज करते है उन्हें हम बाल रोग चिकित्सक कहते है, जबकि महिलाओं की इलाज करने वाले को स्त्रीरोग विशेषज्ञ के रुप मे जाना जाता है। इसी तरह मस्तिष्क व हृदय विशेषज्ञ को न्यूरोलाजिस्ट और कार्डियोलाजिस्ट के रुप मे जाना जाता है। शरीर के विभिन्न हिस्सों के लिए अलग-अलग डॉक्टर उपलब्ध होते है।

डॉक्टर कैसे बने (How to Become a Doctor)

हर वर्ष कई छात्र डॉक्टर बनने के लिए कड़ी मेहनत करते है, और वो अपनी तैयारी बहुत जल्द ही शुरु कर देते है। इसके लिए उन्हे अपनी 11वी और 12वी के शैक्षणिक वर्ष मे जीव विज्ञान को विषय के रुप मे चुनाव करना चहिए और उसके लिए उन्हे भावुक होना चाहिए। इस शिक्षा के बाद उन्हे NEET नामक परीक्षा देनी होगी, जिसे अखिल भारतीय पैरामेडिकल टेस्ट के नाम से भी जाना जाता है। इसके बाद कोई भी आसानी से अपने रैंक के अनुसार विभिन्न कालेजों के लिए काउंसलिंग मे भाग ले सकता है।

कालेज की शिक्षा पूरी करने के बाद उन्हे एक अनुभवी चिकित्सक के अधीन काम करना चाहिए और अपनी इंटर्नशिप पूरी करनी चाहिए, और तभी वो एक पूर्ण चिकित्सक बन पाएंगे। बस आपको एक दृढ़ संकल्प की जरुरत है और फिर कोई भी आपको रोक नही सकता है।

एलोपैथ के अलावा चिकित्सकीय दवा की कुछ अन्य शाखाएं भी होती है, जैसे होम्योपैथ, आयुर्वेद, प्रकृतिक चिकित्सा आदि। आप इनमे से किसी एक के विशेषज्ञ भी बन सकते है। आयुर्वेद भारतीय चिकित्सा की एक पद्धती है जो हम प्राचिन काल से उपयोग मे ला रहे है।

निष्कर्ष

एक डॉक्टर होते हुए आपके अन्दर अपनी जिम्मेदारी की भावना विकसित होती है, और यदि आप अनुशासित और केन्द्रित नही होते है तो डॉक्टर नही बन सकते है। एक डॉक्टर को बाहादुर और किसी भी स्थिति मे अपनी हिम्मत नही हारनी चाहिए। एक डॉक्टर का केवल एक उद्देश्य दूसरों की रक्षा करनी होनी चाहिए। आप जिस पेशे के भी चुनाव करते है उसके लिए आपको इमानदार और केन्द्रित होना चाहिए। डॉक्टर एक तरह से सामाजिक कार्यकर्ता होते है और जरुरत पड़ने पर उन्हें पूरे दिन काम भी करना पड़ सकता है। कोविड-19 महामारी ने कई युवाओं को डॉक्टर बनने के लिए प्रोत्साहित किया है। इस अवधि मे उन्होने जो कड़ी मेहनत की और साहस दिखाया है, वास्तव मे यह उल्लेखनीय है और इसे नजर अंदाज नही किया जा सकता है। यदि आज आप जिन्दा है तो इन्ही की वजह से है। इसलिए हमेशा डॉक्टर का सम्मान करें और जब भी आप डॉक्टर से मिले तो उन्हे एक मुस्कान अवश्य दें।