दयालुता पर निबंध

दया एक पुण्य है जो शायद ही इन दिनों कभी देखी जाती है। लोग इन दिनों अपने आप में इतने व्यस्त हैं कि वे अपनी जरूरतों और इच्छाओं को पूरी करते हैं और दूसरों की प्राय: अनदेखी करते हैं। दूसरों के प्रति दयालु होना बड़ा मुश्किल सवाल बन गया है।

दया दूसरों की ओर विनम्र और विचारशील होने का गुण है। यह एक ऐसा गुण है जो हर किसी के पास नहीं है। इस दुनिया में बहुत कम लोगों को ऐसे गुण से नवाज़ा गया है और उनकी उपस्थिति उनके चारों ओर के लोगों के लिए एक वरदान है। आपकी परीक्षा में इस विषय पर आपकी सहायता करने के लिए यहाँ विभिन्न लंबाई के दयालुता पर निबंध दिए गए हैं। आप अपनी आवश्यकता के अनुसार नीचे दिए गए किसी भी दयालुता पर निबंध का चयन कर सकते हैं:

दयालुता पर लंबे और छोटे निबंध (Long and Short Essay on Kindness in Hindi)

दयालुता पर निबंध 1 (200 शब्द)

दया से तात्पर्य हमारे आसपास के लोगों के प्रति अच्छा होना है। दयालु उनकी तरफ विनम्र बनकर, उन्हें भावनात्मक समर्थन देकर, उनकी आर्थिक रूप से सहायता कर, उनके मनोबल को बढ़ा कर या बस उनके प्रति सहायक होकर बना जा सकता है। हमारे द्वारा किए गए अच्छे कृत्य और दयालु कृत्य न केवल मदद की आस लगाए बैठे लोगों के लिए वरदान हैं बल्कि हमारे लिए भी एक वरदान हैं। जब हम दूसरों को उनके कार्यों में सहायता करते हैं, उनके प्रति विनम्र होते हैं और ऐसे अच्छे कृत्य करते हैं तो हमें सिद्धि और खुशी का अहसास मिलता है।

अतीत में दयालुता को अलग-अलग धार्मिक पुस्तकों और साहित्य में वर्णित किया गया है। हालांकि इन सभी विचार का विचार एक ही है। इन सभी के हिसाब से मनुष्य को अन्य मनुष्यों और साथ ही अन्य प्राणियों के लिए दयालुता दिखानी चाहिए। हमें विनम्र, मैत्रीपूर्ण और सहायक होना चाहिए। हमें दयालुता दिखानी चाहिए और बदले में कुछ पाने का उद्देश्य निर्धारित नहीं करना चाहिए। दया एक निःस्वार्थ कार्य है।

अगर भगवान दयालु है और जो चीज़ हमें चाहिए वह हमें दे देता है तो हमें ऐसे ही दूसरों के प्रति दयालु होना चाहिए और जिस तरह से हम कर सकें उस प्रकार सहायता प्रदान करनी चाहिए। भगवान बुद्ध ने कहा है, "एक उदार दिल, दयालु भाषण, सेवा और करुणा का जीवन वे चीजें हैं जो मानवता को नवीनीकृत करते हैं"।


 

दयालुता पर निबंध 2 (300 शब्द)

प्रस्तावना

एक सुखद स्वभाव वाले और दूसरों के लिए चिंता करने वाले व्यक्ति को दयालु होना कहा जाता है। ऐसे लोग दूसरों के प्रति संवेदनशील होते हैं। जब भी लोगों को उनकी ज़रूरत होती है वे अपने आसपास के लोगों की मदद करते हैं और कभी भी दूसरे लोगों के चेहरे पर मुस्कुराहट लाने के लिए अपनी सीमा से बाहर जाने से संकोच नहीं करते हैं।

दया के छोटे कदम बड़ा अंतर कर सकते हैं

दूसरों के प्रति दया दिखाने का मतलब जरूरी नहीं है कि उनके लिए कुछ बड़ा करना। यह विनम्र होने और या किसी को भावनात्मक समर्थन देने के रूप में छोटे से योगदान के रूप में कुछ भी हो सकता है। यह कुछ भी हो सकता है जैसे उस बूढ़ी औरत को मुस्कुराहट देना जो अपनी बालकनी में अकेले बैठकर लोगों को आता जाता देखती है या किसी चिड़िया को रोटी का छोटा सा टुकड़ा देना जो आपकी छत पर हर दिन आकर चहचहाट करती है। दयालुता के इस तरह के कृत्यों में ज्यादा मेहनत नहीं लगती हैं लेकिन दूसरे व्यक्ति के जीवन में इससे एक बड़ा अंतर उत्पन्न हो सकता है।

 

आपको आसपास के लोगों को सहायता प्रदान करने और उनसे अच्छा व्यवहार करने के लिए करोड़पति होने की ज़रूरत नहीं है। इन सबके लिए आपके पास सिर्फ अच्छे दिल की ज़रूरत है। हम में से हर एक के पास दुनिया को देने के लिए कुछ है। हमें यह समझना होगा कि यह क्या है। इसके अलावा हमें अपने आस-पास के लोगों के प्रति दयालु होना चाहिए। हमें यह समझने की ज़रूरत है कि अगर लोग एक दूसरे के प्रति दयालु हो तो दुनिया एक बेहतर जगह बन जाएगी।

दूसरे लोगों के प्रति दयालु होकर हम न केवल उनकी मदद करते हैं बल्कि उनके चेहरे पर मुस्कुराहट भी लाते हैं जिससे वे अपने दिल से अच्छा महसूस करते हैं। यह संतोष की भावना देता है।

निष्कर्ष

हम दयालु लोग बड़ी मुश्किल से मिलते हैं। वास्तव में अगर हम खुद को देखें तो क्या हम खुद को दयालु कहेंगे? हम अपने आस-पास के लोगों का दर्द महसूस करते हैं लेकिन कितनी बार हम उनकी मदद कर पाते हैं? अगर हम यह अपेक्षा करते हैं कि दूसरे लोग हमारे प्रति दयालु हो तो हमें पहले इस आदत को अपने आप में डालना होगा।


 

दयालुता पर निबंध 3 (400 शब्द)

प्रस्तावना

किसी ने ठीक ही कहा है, "यदि आप कम से कम एक बार दया दिखाते हैं तो कभी भी आपका दिन बुरा नहीं जाएगा"। दूसरों के प्रति दयालु और करुणामय होने से बहुत खुशी होती है। लेने की बजाए दूसरों को देने की खुशी बहुत अधिक है। दया हमें भगवान के करीब ले जाती है और आंतरिक शांति प्रदान करती है।

दयालुता का काम कभी अनदेखा नहीं होता है

हालांकि हमें बिना बदले में कुछ उम्मीद किए बिना दयालुता के कृत्यों में लिप्त होना चाहिए लेकिन ऐसा कहा जाता है कि दयालुता के किसी भी कार्य, यहां तक ​​कि छोटा सा भी, की और किसी का ध्यान नहीं जाता है। इसका कारण यह है कि भगवान हमें हर समय देखते हैं और वे अपने तरीके से निष्पक्ष होने के लिए जाने जाते हैं।

सामान्य रूप से दयालु और दूसरों के साथ विनम्र रहकर हमारा मूड अच्छा रहता है बजाए उन दिनों के जब हम दूसरों से उलझ जाते थे, दूसरों को अपनी नज़र से देखते थे या ऊँची आवाज़ में बात करते थे। इसी तरह किसी को भी एक छोटी सी मदद करने से हमें अपने बारे में अच्छा लगता है। दूसरों की मदद करने और उनके प्रति दया दिखाने से हमें एक संतुष्टि की भावना मिलती है और जो भी हम देते हैं वह जल्द ही हमारे पास बहुतायत में आ जाता है। इसे कर्म के कानून के रूप में भी जाना जाता है।

हालांकि अगर हम दूसरों के प्रति यह सोचकर दया दिखाने की उम्मीद करते हैं कि हमें बदले में कुछ मिलेगा तो उसे दयालुता का कार्य नहीं माना जाएगा। यह बल्कि स्वार्थ से भरा कार्य है।

 

जानवरों के प्रति दयालुता

न सिर्फ मनुष्यों के प्रति बल्कि हमें जानवरों पर भी दया दिखानी चाहिए। कई लोग सड़क के कुत्तों और गायों पर पत्थर फेंकते हैं ताकि वे उन्हें डरा सकें। अगर आत्मरक्षा के रूप में किया गया है तो ठीक है लेकिन कई लोग सिर्फ मज़े के लिए ऐसा करते हैं। हमें उनके प्रति दयालु होना चाहिए। जानवरों का उचित तरीके से इलाज करना और उन्हें खाना खिलाना उनके प्रति दया दिखाने के दो तरीके हैं। हम बहुत सारा भोजन व्यर्थ कर देते हैं। हम कचरे के डिब्बे में हमारा बचा हुआ भोजन फेंक देते हैं। इसे फेंकने की बजाए हमें इसे हमारे घर के आसपास चारों ओर घूमते बिल्लियों, कुत्तों और गायों को खिलाना चाहिए। हम उन्हें अपनाने के द्वारा उनके प्रति दया दिखा सकते हैं। इसी तरह हमारी बालकनी या बगीचे में बैठे पक्षियों को हम अनाज के दाने डाल सकते हैं। दया के ये छोटे और यादृच्छिक कृत्य न केवल इन पक्षियों और जानवरों के लिए अच्छे होंगे बल्कि आप अपने बारे में भी बेहतर महसूस करेंगे।

निष्कर्ष

जो लोग धर्मार्थ कार्य करते हैं और विभिन्न लोगों की उनके बड़े और छोटे कार्यों में मदद करते हैं वे उन लोगों से ज्यादा खुश रहते हैं जो केवल खुद के लिए काम करते हैं।


 

दयालुता पर निबंध 4 (500 शब्द)

प्रस्तावना

कई संस्कृतियों में दया को एक आवश्यक गुण माना जाता है। ऐसा कहा जाता है कि दया मनुष्य को ईश्वर से वरदान में मिले सात महत्वपूर्ण गुणों में से एक है। अन्य गुणों में अंतरात्मा, सम्मान, सहिष्णुता, आत्म-नियंत्रण, निष्पक्षता और सहानुभूति शामिल हैं। दयालु होने से तात्पर्य हमारे आसपास के लोगों के प्रति विनम्र और मैत्रीपूर्ण होना तथा उनकी सहायता करना है।

दया एक असामान्य विशेषता है

हालांकि आवश्यकता के हिसाब से दया एक विशेष गुण नहीं है जो सामान्यतः इन दिनों लोगों में पाई जाती है। आज के समय में लोग बेहद आत्म-अवशोषित हो गए हैं। वे केवल स्वयं के बारे में सोचते हैं। हमारे जीवन में विभिन्न चरणों में बढ़ती प्रतिस्पर्धा के मुख्य कारणों में से एक यह है कि लोग इस तरह से आगे बढ़ रहे हैं। हर कोई अपने आप को बेहतर बनाने में व्यस्त है और दुनिया को यह दिखाना चाह रहा है कि उनकी ज़िंदगी दूसरों की तुलना में कितनी बेहतर है। वे जो चाहते हैं उसे प्राप्त करने के लिए वे कोई भी रास्ता चुनने में नहीं झिझकते हैं। हालांकि अपने आप को सुधारने में कुछ भी गलत नहीं है लेकिन यह समझना चाहिए कि जीवन बहुत बड़ा है और जरुरी नहीं है कि जो वे सोच रहे हैं वही सब कुछ है। लोग इतने मतलबी हो गए हैं और यह नहीं समझ पाते कि भगवान बहुत दयालु है और उन्हें भी दूसरों के प्रति दयालु होना चाहिए।

अब जहाँ अधिकांश लोगों में दयालुता के गुण नहीं देखे जाते तो ये गुण बहुत कम प्रयासों के साथ उनमें डाले जा सकते हैं। इसकी शुरुआत इसके महत्व के बारे में शिक्षित करके किया जा सकती है। दयालुता का महत्व विद्यालय में पढ़ाया जाना चाहिए। कार्यशालाएं आयोजित की जानी चाहिए और बच्चों को इसके बारे में बताने के लिए व्याख्यान दिए जाने चाहिए कि लोगों के प्रति दयालु होना क्यों आवश्यक है। स्कूलों में इस विषय को पाठ्यक्रम का एक हिस्सा बनाना अनिवार्य करना होगा। लोगों को इसे समझने और इसे मानने के लिए बहुत शुरुआत से ही इसके महत्व पर जोर डालना होगा।

रिश्ते में दयालुता अनिवार्य है

लोगों के रिश्ते में सबसे आम लक्षण क्या है? यह और कुछ नहीं बल्कि दयालुता है। कोई भी व्यक्ति अशिष्ट, अभिमानी, स्वार्थी और घमंडी लोगों के साथ दोस्ती करना पसंद नहीं करता है। हर कोई उन लोगों को पसंद करता है जो नम्र, विनम्र, दयालु और उदार हैं। हमें लोगों के प्रति दयालु होना चाहिए लेकिन जैसा कि कहा जाता है कि शुरुआत घर से होती है इसलिए हमें अपने निकट और प्यारे लोगों से शुरू करना चाहिए।

बहुत से लोग अपने पड़ोसियों, दोस्तों और सहकर्मियों के प्रति उदार और विनम्र होते हैं लेकिन अपने परिवार, माता-पिता, बच्चों और भाई-बहनों आदि सदस्यों के साथ वे असभ्य व्यवहार करते हैं। वे उन्हें डांटते हैं, उनकी ओर ज्यादा ध्यान नहीं देते हैं और अक्सर उनके साथ तर्क करते हैं। इस तरह के लोगों को दयालु नहीं कहा जा सकता है। चाहे वे बाहर के लोगों के प्रति कितने भी अच्छे हों या चाहे वे कितना दान देते हो। यदि वे घर के सदस्यों के प्रति दयालु नहीं हैं तो उन्होंने केवल एक अच्छी छवि को बनाए रखने के लिए अपने चेहरे पर मुखौटा लगा रखा है। वास्तव में वे अंदर से हताश हैं और उनकी सारी निराशा घर के सदस्यों पर उतरती है।

यदि कोई व्यक्ति दिल से बहुत दयालु है तो वह घर पर और साथ ही बाहर भी दयालु होगा। बदले में किसी चीज की उम्मीद किए बिना लोगों के प्रति दयालु होने के कारण आंतरिक शांति और खुशी मिलती है। यह जीवन को सुखदायी बनाता है।

निष्कर्ष

दया व्यवहार करना मुश्किल नहीं है। हमारे आस-पास के लोगों पर दयालुता को बरकरार रखना हम में से हर एक का अंतिम लक्ष्य होना चाहिए। इसे आज़माएं और देखें कि यह जीवन में सबसे ज्यादा खुशहाल अनुभवों में से एक क्यों हो सकता है।


 

दयालुता पर निबंध 5 (600 शब्द)

प्रस्तावना

एक व्यक्ति जो दयालु है उसे अच्छे नैतिक चरित्र वाला व्यक्ति माना जाता है। उसे हर कोई प्यार करता है और आस-पास के लोग उसके बारे में चर्चा करना पसंद करते हैं। हालांकि दयालुता के कृत्यों में लिप्त होने का कारण ऐसा नहीं होना चाहिए। दया एक ऐसी चीज है जिसे निस्वार्थ भाव किया जाना चाहिए। अगर हम उम्मीद करते हैं कि लोग हमारी सराहना करें या हमेशा हमारा पक्ष ले तो यह दया नहीं है। यह स्पष्ट रूप से इंगित करता है कि यह स्वार्थ है।

दया की अलग - अलग परिभाषाएं

अलग-अलग तरीके के शिक्षा पाए लोगों ने और धार्मिक शास्त्रों ने दयालुता को अतीत में अलग- अलग ढंग से परिभाषित किया है:

  • चीनी शिक्षक और दार्शनिक कन्फ्यूशियस के अनुसार, "दयालुता सबसे अच्छी चीज है। मनुष्य को कैसे बुद्धिमान माना जा सकता है जिसने उस वक़्त दयालुता नहीं अपनाई जब वह अपना सकता था"। वह आग्रह करता है कि "दयालुता के लिए दयालुता करें।"
  • प्राचीन ग्रीक दार्शनिक और वैज्ञानिक अरस्तू के अनुसार दया का मतलब है "न ही किसी चीज़ के बदले और न ही सहायता के बदले बल्कि किसी की ज़रूरत के मुताबिक उस व्यक्ति की मदद करना"।
  • अमेरिकी लेखक और हास्यकार मार्क ट्वेन के अनुसार, "दया एक भाषा है जो गूंगा बोल सकता है, बधिर सुन सकता है और अंधा देख सकता है।" रब्बीनिक यहूदी धर्म का केंद्रीय पाठ टैलमुद के अनुसार, "सभी प्रकार की आज्ञाओं में दया के कर्म समान हैं।
  • अमेरिकी दार्शनिक विलियम पेन के अनुसार "मुझे उम्मीद है कि जीवन की सभी अवस्थाओं से मेरा सामना हो लेकिन एक बार जी हां एक बार अगर मैं दया दिखा सका जो मैं दिखा सकता हूं या किसी मददगार की मदद कर सकता हूँ तो मुझे यह अभी करना है और इसे अधिक स्थगित या इसकी उपेक्षा न करें क्योंकि मैं इस तरह की अवस्था से फिर नहीं गुज़रूंगा"।

दया की परिभाषा भिन्न हो सकती है लेकिन इन सभी का सार एक समान है। दया एक आवश्यक गुण के रूप में संदर्भित है।

भगवान आपके प्रति दयालु है: आपको दूसरों के लिए दयालु होना चाहिए

यदि भगवान ने आपको बहुत अच्छा जीवन देकर दयालुता दिखाई है तो आपको भी अपने आसपास के लोगों की मदद कर दयालुता दिखानी चाहिए ताकि आप भी उनके अच्छे जीवन का निर्माण कर सकें। यह कहना सही होगा कि यदि आप अच्छा धन कमाते हैं तो आपको दान में आपनी आय का एक छोटा सा हिस्सा देना चाहिए। यदि आप पढ़ाई में अच्छे हैं और आपके साथी किसी भी तरह की सहायता के लिए आपके पास आते हैं तो आपको अपने साथी छात्रों की मदद करने में संकोच नहीं करना चाहिए। अगर भगवान ने आपको शारीरिक रूप से सक्षम बनाया है तो उन लोगों की सहायता करें जो सक्षम नहीं हैं।

उदाहरण के लिए आप अपने पड़ोस में रहने वाली किसी बूढ़ी औरत, जो दुकान से अपना सामान खरीद कर ला रही है, उसकी मदद कर सकते हैं या किसी अंधे व्यक्ति को सड़क पार करने में मदद कर सकते हैं। यदि आपके पास अपनी बालकनी या बगीचे में पर्याप्त जगह है तो वहां पक्षियों के लिए पानी का एक कटोरा रखना ना भूलें। गरीब और जरूरतमंदों के लिए अपने पुराने कपड़े और जूते दान करें। ऐसे कई गरीब बच्चे हैं जो जूते और कपड़े के बिना घूमते हैं। कई गैर-सरकारी संगठन ऐसे लोगों की सेवा में मदद करने के लिए लोगों से अनुरोध करते हैं। यहां तक ​​कि आपकी तरफ से एक छोटा योगदान भी बहुत बड़ा अंतर उत्पन्न कर सकता है। इसी तरह खाना मत बर्बाद करें। कचरे के डिब्बे बचा हुआ भोजन डालने की बजाए उसे गरीब बच्चों में दान कर दें।

यदि आप अपने वयस्त दिनचर्या से कुछ समय निकाल सकते हैं तो सामाजिक सेवा में शामिल होने का प्रयास करें। आप अपने घर के आसपास छोटे गरीब बच्चों, जो स्कूल में नहीं पढ़ सकते, को बुनियादी शिक्षा प्रदान करके एक शुरूआत कर सकते हैं।

ये सभी कुछ छोटे उदाहरण हैं कि किस प्रकार आप दयालुता फ़ैला सकते हैं। कल्पना कीजिए कि हम में से हर किसी के पास अगर यह गुण हो और हर किसी के प्रति हम दयालु हो तो यह दुनिया जीने के लिए एक बेहतर जगह बन जाएगी।

निष्कर्ष

लोगों को उनके आसपास के लोगों के प्रति दयालु होना चाहिए और देखना चाहिए कि कैसे चीजें हमेशा के लिए बदलती हैं। दूसरों के प्रति दयालु होना, उनकी मदद करना और मुस्कुराहट फैलाना ना सिर्फ लोगों के लिए अच्छा होता है बल्कि इन कार्यों को करने वाले व्यक्ति को भी संतुष्ट करने वाली गहरी समझ प्रदान करता है।