मेरे पिता मेरे हीरो पर निबंध

पिता हमेशा अपने बच्चों के लिए विशेष होते हैं लेकिन कुछ के लिए वे प्रेरणा का स्रोत हैं। अपने जीवन निर्वाह के तरीकों से वे अपने बच्चों के लिए हीरो बन जाते हैं।

हर बच्चा अपने पिता को प्यार करता है लेकिन हर कोई अपने पिता को हीरो नहीं कह सकता है। वे लोग भाग्यशाली हैं जिनके पिता उन्हें प्रेरित करते हैं और इसी वजह से वे उन्हें एक हीरो के रूप में देखते हैं। आपके परीक्षा में इस विषय पर आपकी मदद करने के लिए हमने अलग-अलग लंबाई के 'मेरे पिता मेरे हीरो' पर निबंध उपलब्ध करवाएं हैं। अपनी आवश्यकता के मुताबिक आप किसी भी मेरे पिता मेरे हीरो पर निबंध को चुन सकते हैं:

मेरे पिता मेरे हीरो पर लंबे और छोटे निबंध (Long and Short Essay on My Father My Hero in Hindi)

मेरे पिता मेरे हीरो पर निबंध 1 (200 शब्द)

मेरे पिता एक अद्भुत इंसान हैं और एक महान पिता हैं। मैं उन्हें मेरे नायक के रूप में देखता हूँ। वे हमारे परिवार के लिए समर्थन का एक आधार है। मेरी दादी अक्सर हमें बताती है कि जब वे छोटे बच्चे थे तो वे कितने आज्ञाकारी थे। मेरे पिता हमेशा अपने माता-पिता की हर आज्ञा का पालन करते थे और लगातार अपने अकादमिक लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए प्रयासरत रहते थे। वे खेल-कूद में भी बहुत अच्छे थे। इसके अलावा वे अपने साथी विद्यार्थियों की मदद करने के लिए भी हमेशा तैयार रहते थे। उन्होंने हमेशा मेरी दादी की अपने खाली समय में घर के काम में उनकी मदद की। अपने काम के प्रति उनके समर्पण और उनकी सहायक प्रकृति हमें बेहतर इंसान बनने के लिए प्रेरित करती है।

आज भी उनका स्वभाव बिल्कुल भी नहीं बदला है। उनकी कड़ी मेहनत करने वाले स्वभाव के लिए हमेशा उनकी सराहना की जाती है और उन्होंने अपने विभाग के लिए कई मील के पत्थर हासिल करने में मदद की है। उनके अधिकारियों और अन्य सहकर्मियों ने हमेशा काम की दिशा में अपने समर्पण के लिए उनकी प्रशंसा की है। वे घरेलू कार्यों को भी बराबर का महत्व देते हैं। वे मेरी माँ को उनके घर के कामों में भी मदद करते हैं। वे हमारे होमवर्क और अन्य असाइनमेंट में भी हमारी मदद करते हैं। जब भी समय मिलता है वे हमारे साथ खेलते हैं और हमें नियमित रूप से हमारे मनोरंजन के लिए बाहर ले जाते हैं। इसके अलावा जब भी हमारे पड़ोसी और रिश्तेदारों को सहायता की ज़रूरत होती है तो वे हमेशा हमारी मदद करने के लिए तैयार रहते हैं।

मेरे पिता का एक और गुण यह है कि वे समग्र जीवित विश्वास के आस्तिक हैं। वह सही भोजन खाकर, उचित आराम करके और कसरत के द्वारा हमें सिखाता हैं कि कैसे अपने शारीरिक स्वास्थ्य का अत्यधिक ध्यान रखना है। आख़िरकार एक स्वस्थ शरीर ही एक स्वस्थ मन पैदा करता है।


 

मेरे पिता मेरे हीरो पर निबंध 2 (300 शब्द)

प्रस्तावना

मेरे पिता मेरे गुरु हैं, मेरा हीरो हैं और मेरे सबसे अच्छे दोस्त हैं। वह जीवन के हर चरण में मेरे साथ खड़े रहे हैं और मेरे सभी निर्णयों में उन्होंने मुझे समर्थन दिया है। उन्होंने मुझे बहुत कुछ सिखाया है और हमेशा अपने ज्ञान के शब्दों से मुझ पर अपनी कृपा दृष्टि बनाई रखी है।

मेरे पिता का विश्वास जीवन को सरल बनाए रखना है

मेरे पिताजी एक सरल जीवन जीने में विश्वास करते हैं। हालांकि उनकी कमाई अच्छी हैं और वे आराम से लक्जरी कार और एक बड़ा बंगला खरीद सकते हैं पर फिर भी वे अभी तक एक छोटे से फ्लैट में रह रहे हैं। उनकी ज़रूरतें कम हैं और हमें भी उन्होंने यही मूल्य सिखाए हैं। वे सामाजिक कार्य करने के लिए अपने वेतन का एक अच्छा हिस्सा खर्च करने में विश्वास रखते हैं। मेरे पिता एक गैर-लाभकारी संगठन का भी हिस्सा हैं जो वंचित बच्चों को भोजन और शिक्षा प्रदान करने के लिए समर्पित है। हर शनिवार वे इन बच्चों से मिलते हैं और उनके बीच फल और अन्य खाने की चीजें वितरित करते हैं। वह संगठन द्वारा चलाए गए दान स्कूल में इन छात्रों को मुफ्त गणित कक्षाएं भी प्रदान करते हैं। कई बार वे हमें भी अपने साथ ले जाते हैं। उन्होंने हमें सिखाया है कि कैसे चीजों को साझा और उनकी देखभाल करें। मुझे और मेरी बहन को उनके ये मूल्य विरासत में मिले हैं। हम इन बच्चों के चेहरे पर मुस्कुराहट लाने के लिए भी बहुत कुछ करते हैं। हमारे लिए यही सच्ची खुशी है। कोई भी राशि, कहीं घूमने के लिए यात्रा और रेस्तरां में खाने से ऐसी खुशी महसूस नहीं हो सकती है।

 

मेरे पिता की तरह मैं भी जिंदगी को सरल बनाए रखने में विश्वास करता हूँ। मुझे पता है कि "जरूरतों को पूरा किया जा सकता है लेकिन लालच को नहीं"। अब मैं हर बार नए बैग, कपड़े और सामान खरीदने के लिए उत्सुक नहीं होता हूं। मैं केवल वही चीजें खरीदता हूं जिनकी मुझे वास्तव में ज़रूरत होती है। मुझे अपने पिता के साथ उनके दान करने वाली जगहों पर जाने से प्यार है और बड़े होकर मैं भी ऐसे ही गैर-लाभकारी संगठन में शामिल होना चाहता हूं।

निष्कर्ष

मुझे अपने पिता पर गर्व है। वे बहुत बेहतरीन इंसान हैं जो दूसरों की मदद करने के लिए हमेशा समर्पित रहते हैं। उनकी शिक्षाओं और मूल्यों ने मुझे एक बेहतर इंसान बनने के लिए प्रेरित किया है।


 

मेरे पिता मेरे हीरो पर निबंध 3 (400 शब्द)

प्रस्तावना

मेरे पिता ऐसे व्यक्ति हैं जिनका मैं बेहद सम्मान करता हूं। वह अत्यधिक योग्य इंसान है और अपने काम के प्रति बेहद समर्पित भी हैं। परिवार के प्रति उनका समर्पण उतना है जितना उनके अपने काम की ओर है और यही उनका एक ऐसा गुण है जिसकी मैं सबसे ज्यादा प्रशंसा करता हूं।

मेरे पिता सर्वश्रेष्ठ सलाह देते हैं

जब भी मुझे एक सलाह की आवश्यकता होती है तो मुझे पता है कि यह किससे लेनी है। इसके लिए मुझे मेरे पिता के पास जाना होता है। बच्चे अपनी मां से अधिक जुड़े हुए होते हैं और अधिकतर उनके साथ अपने सारे रहस्य साझा करते हैं। हालांकि मेरे मामले में यह तथ्य जरा अलग है। मैं अपने पिता के साथ अपने सभी रहस्यों को साझा करता हूं और जब भी मैं जीवन में किसी चीज के बारे में उलझन महसूस करता हूं तो उनके पास चला जाता हूं। उनका जीवन के प्रति अपना एक स्पष्ट दृष्टिकोण है और वे जानते हैं कि कैसे अपने अराजक विचारों को शांत करना चाहिए। चाहे मेरी अपने दोस्तों के साथ लड़ाई हो या मैं पढ़ाई पर ध्यान केंद्रित करने में असमर्थ हूँ या मैं कौन सा सह-पाठ्यचर्या की गतिविधियों को चुनना हो उसमें असमर्थ हूँ - मुझे पता है कि इसका समाधान किससे पूछना है। वे मुझे बहुत अच्छी तरह से जानते हैं और वे सांसारिक रूप से भी बहुत बुद्धिमान हैं। इस तरह मेरे पिता मेरे अनुभव और मेरे स्वभाव को ध्यान में रखते हुए सलाह देते हैं।

 

मेरे पिता - हमारे परिवार की रीढ़ की हड्डी

मेरे पिताजी अपनी जिम्मेदारियों को अच्छी तरह जानते हैं और कभी भी उनसे बचने की कोशिश नहीं करते हैं। वे लगातार हमारे लिए अपने परिवार की प्रत्येक जिम्मेदारी को पूरा करने के लिए तैयार रहते हैं। वह हमारे परिवार की रीढ़ की हड्डी की तरह हैं। भावनात्मक उथल-पुथल का ख्याल रखने से लेकर हमारी वित्तीय जरूरतों को पूरा करने तक – वे हमेशा हमारे साथ मजबूती के साथ खड़े रहें हैं। मैंने उनके इस दृष्टिकोण से बहुत कुछ सीखा है। उन्होंने हमें सिखाया है कि कैसे हम सभी को अपनी जिम्मेदारियों को गंभीरता से लेना चाहिए और उन्हें खुशी से पूरा करना चाहिए। उनसे प्रेरणा लेते हुए मैंने और मेरे भाई ने हर छोटे से काम को बेहद जिम्मेदारीपूर्वक पूरा किया। अगर परिवार का हर सदस्य अपनी ज़िम्मेदारी को गंभीरता से लेता है तो सब कुछ अच्छी तरह समन्वित रहेगा। वहाँ तनाव कम होगा और रिश्तें मीठे बने रहेंगे। वे उन लोगों की तरह नहीं है जिन्हें अपनी जिम्मेदारियों को याद दिलाना पड़ता है और फिर भी वे उन्हें पूरा नहीं करते हैं। ऐसे परिवारों में बच्चे सबसे ज्यादा पीड़ित हैं। पारिवारिक सदस्यों के बीच निरंतर संघर्ष होता है जो एक तनावग्रस्त माहौल पैदा करते हैं। मैं भाग्यशाली हूं कि मैं एक ऐसे परिवार में पैदा हुआ हूँ जहां लोग अपनी ज़िम्मेदारियों को समझने के लिए पर्याप्त परिपक्व हैं और हमें भी यही सिखाया गया है।

निष्कर्ष

मेरे पिता वास्तव में मेरे हीरो हैं। उन्होंने हमें अच्छी शिक्षा दी हैं और हमें अपना सर्वश्रेष्ठ करने के लिए प्रेरित करते है। वे सिर्फ मेरे पिता ही नहीं हैं बल्कि मेरे सबसे अच्छे दोस्त और मेरे हीरो भी हैं।


 

मेरे पिता मेरे हीरो पर निबंध 4 (500 शब्द)

प्रस्तावना

हम सभी अपने माता-पिता से प्यार करते हैं लेकिन मैं भाग्यशाली हूं कि मैं उनसे प्रेरणा भी लेता हूं। मैं प्रेरणा के स्रोत के रूप में अपने पिता को देखता हूं। वे सही मायने में मेरे हीरो हैं। मैं अपने परिवार के प्रति उनके प्यार, काम के प्रति उनके समर्पण और पर्यावरण तथा आसपास के लोगों के प्रति चिंता की प्रशंसा करता हूं।

पर्यावरण को सुधारने के प्रति समर्पण

मेरे पिता एक सच्चे प्रकृति प्रेमी हैं। वे पौधों से प्यार करते हैं और यही कारण है कि हमने अपनी छत को एक बगीचे में बदल दिया है। पहले हमारे पास छत पर कुछ ही गमले थे जो एक दूसरे से कुछ दूरी पर रखे थे लेकिन अब हमारे पास कई गमले हैं। हालांकि प्रकृति के प्रति उनका प्यार घर पर बागवानी तक ही सीमित नहीं है वे आसपास के क्षेत्रों में अधिक से अधिक पेड़ों और पौधों को रोपण करके पर्यावरण को बेहतर बनाने में भी शामिल है। वे एक गैर-लाभकारी संगठन का भी हिस्सा हैं जो पर्यावरण को साफ और हरा-भरा बनाने का काम करता है। वे हर सप्ताहांत संगठन में शामिल होने से उनके मिशन को आगे बढ़ाने में मदद करते हैं। वे और उनकी टीम हर हफ्ते एक क्षेत्र का चयन करते हैं और वहां से सूखे पत्ते और अन्य अपशिष्ट उत्पादों को साफ करने की अपनी पूरी कोशिश करते हैं। वे एक सफाई कर्मचारी को किराए पर लेते हैं जो उनकी मदद करता है और जो भी उनसे बन पाता है वे करते है। सफाई अभियान के बाद वे उस क्षेत्र के उपयुक्त स्थानों पर पेड़ों और पौधों को लगाते हैं। कई बार वह हमें मदद के लिए ले जाते हैं।

उन्हें हमारे स्कूल में भी आमंत्रित किया गया था ताकि छात्रों को पर्यावरण को स्वच्छ और हरा-भरा बनाने में संवेदनशील किया जा सके। उन्होंने विद्यार्थियों को इस मुद्दे के महत्व को समझने में मदद करने के लिए इस विषय पर व्याख्यान दिया। यह मेरे लिए गर्व का क्षण था।

टीम की तरह काम करने में विश्वास

मेरे पिता एक टीम के रूप में काम करने में विश्वास करते हैं। उन्होंने यह अपेक्षा नहीं की कि मेरी मां सभी घरेलू कार्यों को पूरा करेगी और खुद ही सभी बच्चों को संभालेंगी। वे प्रत्येक चरण में उनकी मदद करते हैं और उन्हें समर्थन देते हैं। वे दोनों एक होकर सारे काम करते हैं ताकि हमारे घर को बेहतर जगह बनाया जा सके। जब भी हमें कुछ ऐसे असाइनमेंट पर काम करने की आवश्यकता होती है जिससे हम परिचित नहीं हैं तब भी हमारे पिता हमारे साथ काम करते हैं। सिर्फ़ हमें निर्देश देकर और हमारे कौशल को दूर से देखने की बजाए वे उस कार्य में शामिल होकर हमारी मदद करने और काम को बेहतर ढंग से समझने में मदद करते हैं। मुझे मेरे कई दोस्तों से पता चला है कि उनके माता-पिता उन्हें कुछ काम करने के निर्देश देते हैं और उम्मीद करते हैं कि वे उसे सही तरीके से पूरा करें। वे काम पूरा करने की प्रक्रिया में उनकी मदद नहीं करते हैं और यदि कार्य ठीक से नहीं किया जाता है तो उन्हें डांटते भी हैं। उन्होंने उन कार्यों की परिभाषा भी तय की है जिन्हें घर में केवल महिलाओं द्वारा ही किया जाना चाहिए और जिनकी पुरुष सदस्यों को जिम्मेदारी लेनी चाहिए। मैं भाग्यशाली हूं कि मेरे पिता की ऐसी मानसिकता नहीं है। हमने एक टीम के रूप में काम करने की कला सीख ली है और इससे हमें जीवन के विभिन्न चरणों में मदद मिली है।

निष्कर्ष

पर्यावरण में सुधार लाने के लिए टीम के रूप में काम करने की उनकी सोच और पृथ्वी को एक बेहतर स्थान बनाने के लिए उनकी अवधारणा दो सर्वोत्तम गुणों में से एक हैं। मैंने अपने पिता से बहुत कुछ सीखा है।


 

मेरे पिता मेरे हीरो पर निबंध 5 (600 शब्द)

प्रस्तावना

मेरे पिता सिर्फ मेरे ही हीरो नहीं हैं बल्कि सभी के लिए एक प्रेरणा है। महान पिता होने के अलावा वे एक अच्छे पति और आज्ञाकारी पुत्र भी हैं। इसके अलावा वे बहुत ही महान इंसान भी हैं। वे हर किसी के साथ समान व्यवहार करते हैं और किसी के भी साथ जाति, धर्म या सामाजिक स्थिति के आधार पर भेदभाव नहीं करते हैं। हमारे परिवार के सभी सदस्य और आस पड़ोस के लोग उनके बेहद मैत्रीपूर्ण और मददगार स्वभाव के कारण उनके बारे में अत्यधिक बातचीत करते हैं। लोग उनसे सलाह लेने के साथ-साथ उनसे मदद लेने के लिए भी आते हैं क्योंकि वे जानते हैं कि उनके पास हर समस्या का समाधान है।

हमेशा दूसरों की मदद करने के लिए तैयार रहते है

बॉलीवुड की फिल्मों में नायकों की तरह मेरे पिता हमेशा हर किसी की मदद करने के लिए तैयार रहते हैं। मुझे अभी भी वह घटना याद है जब मेरे पिता के सहयोगियों में से एक साथी गंभीर रूप से बीमार हो गया था तब मेरे पिता ने पूरे परिवार की मदद की थी। उनके सहयोगी का परिवार आर्थिक रूप से मज़बूत नहीं था। वह परिवार में एकमात्र कमाई वाला सदस्य था। उनके माता-पिता और पत्नी न केवल आर्थिक रूप से उस पर निर्भर थे बल्कि यह भी नहीं जानते थे कि अस्पताल की औपचारिकताओं और अन्य व्यवस्थाओं से कैसे निपटें। मेरे पिता ने जरूरत के समय उनकी मदद की। उन्होंने अस्पताल में कई-कई घंटे बिताए अपने सहकर्मी के परिवार को अस्पताल की औपचारिकताओं से निपटने में मदद की। उन्होंने अपने सहयोगी के इलाज के लिए भी पैसे की व्यवस्था की। वे जितना योगदान कर सकते थे उतना उन्होंने किया और अपने कार्यालय के सहयोगियों से इसके लिए योगदान करने का अनुरोध किया। उन्होंने दूसरों के लिए भी एक प्रेरणा के रूप में काम किया। उनके कई सहयोगी इलाज के लिए अपना योगदान करने हेतु आगे आए। जल्द ही जितना धन जरुरी था उतना मिल गया और इलाज पूरा हो गया था। मुझे वह दिन अब भी याद है जब उनका सहकर्मी और उसका परिवार हमारे घर आया और उनकी मदद के लिए अपने पूरे दिल से मेरे पिता को धन्यवाद दिया। इस घटना ने मेरे दिल पर एक गहरा असर छोड़ा है। जब भी मैं इसके बारे में सोचता हूं तब मुझे अपने पिता पर गर्व महसूस होता है।

मेरे पिताजी ने मुझे सिखाया है कि कैसे हम अपने आस-पास के लोगों की मदद करने के लिए तैयार रहें और हमारे द्वारा की गई थोड़ी सी मदद कैसे दूसरे लोगों के जीवन में अंतर पैदा कर सकती है?

काम और जीवन का संतुलन

मेरे पिता के एक और गुण जिसकी मैं सचमुच प्रशंसा करता हूं वह है कि वे बहुत मेहनती व्यक्ति हैं। काम के प्रति उनकी कड़ी मेहनत और समर्पण के लिए उनकी सराहना की जाती है। उन्होंने अपने स्कूल और कॉलेज के दिनों के दौरान कई पुरस्कार जीते और उनका यही गुण मुझे कड़ी मेहनत करने और प्रशंसा हासिल करने के लिए प्रेरित करती है। यहां तक ​​कि उन्हें अपने कार्यालय में कई वार्षिक कर्मचारी के पुरस्कार, सबसे मेहनती टीम के सदस्य पुरस्कार और कई अन्य मान्यता प्राप्त पुरस्कार भी मिले हैं। मैंने देखा है कि जब भी उनसे काम की मांग होती है तो वे बिना रुके घंटों काम करते हैं। कई बार वे छुट्टियों में भी काम करते हैं। हालांकि इसका अर्थ यह नहीं है कि वे अपने परिवार की उपेक्षा करते हैं और अपने काम को प्राथमिकता देते हैं। वह जानते हैं कि काम के जीवन का संतुलन कैसे बनाए रखना है और मैं उनकी इसी खूबी से प्यार करता हूँ।

मेरे कई दोस्तों का कहना है कि उनके पिता अपने कार्यालय के कार्यों में बेहद व्यस्त रहते हैं। वे दफ्तर से देरी से घर आते हैं और अक्सर उन्हें सप्ताहांत पर सहकर्मियों के साथ बाहर जाना पड़ता है लेकिन मैं भाग्यशाली हूं कि मेरे पिता अपने व्यक्तिगत संबंधों को अपने काम के जितना महत्व देते हैं। वह अपने परिवार को बेवजह निराश नहीं करते हैं। वे सुनिश्चित करते हैं कि वे समय से घर पर आए और हमारे साथ समय बिताएं। वह हमें नियमित रूप से बाहर ले जाते हैं। इसके अलावा वे मेरी माँ को भी उनके छोटे-छोटे कार्यों में मदद करते हैं।

निष्कर्ष

मेरे पिता इस तथ्य के बारे में बहुत स्पष्ट हैं कि सबसे पहले परिवार है। इसलिए भले ही वे दूसरों की सहायता करने के लिए तैयार रहे हैं और अपने कार्यालय के काम के प्रति बेहद समर्पित हो वे किसी भी प्रकार हमारी अनदेखी नहीं करते हैं। वे वास्तव में हमें पीछे छोड़ इंतज़ार करने की बजाए अपने कई कामों में शामिल करते हैं। इस प्रकार दो तरीकों से हमारी मदद होती है। पहले तो हम उनके करीब रहते हैं और दूसरे हम उनके अच्छे कर्मों से बहुत कुछ सीखते हैं।