हमारी ज़िंदगी में दोस्त का महत्व पर निबंध

किसी ने सही ही कहा है, "दोस्त परिवार हैं जिन्हें हम चुनते हैं"। जितना महत्वपूर्ण अपनी जिंदगी में परिवार का होना है उतना ही महत्वपूर्ण अपने पास मित्र का होना है। अच्छे दोस्त हर चरण में हमें सहायता, मार्गदर्शन और समर्थन देते हैं।

दोस्त हमें भावनात्मक समर्थन देते हैं। वे मुश्किल घड़ी के दौरान हमारी मदद करते हैं और हमें विशेष महसूस कराते हैं। वे लोग धन्य हैं जिनके पास सच्चे दोस्त हैं। यहाँ हमने हमारे जीवन में दोस्तों के महत्व पर अलग-अलग लंबाई कुछ निबंध उपलब्ध करवाएं हैं। आप अपनी आवश्यकता के मुताबिक किसी भी निबंध का चयन कर सकते हैं:

हमारी ज़िंदगी में दोस्त का महत्व पर लंबे और छोटे निबंध (Long and Short Essay on Importance of Friends in our Life in Hindi)

हमारी ज़िंदगी में दोस्त का महत्व पर निबंध 1 (200 शब्द)

सभी के लिए मित्र अत्यंत महत्वपूर्ण हैं। चाहे वह कोई बच्चा हो या कोई किशोर, एक मध्यम आयु वर्ग का व्यक्ति या कोई बूढ़ा व्यक्ति हो - हर किसी के पास अच्छे दोस्त होने चाहिए जो जीवन को पूरी तरह जीने में मदद करते हैं।

बचपन के दौरान मित्रता हमें साझा करने और देखभाल करने की आदत को समझने और विकसित करने में सहायता करती है। छोटे बच्चे तेजी से दोस्ती को विकसित करते हैं और अपने दोस्तों के साथ का आनंद लेते हैं। वे एक साथ खेलते हैं और सीखते हैं। मित्र अपने उचित विकास और प्रगति के लिए महत्वपूर्ण हैं। किशोरावस्था के रूप में मित्र हमारे लिए सबसे अधिक महत्वपूर्ण हो जाते हैं। हम अपनी किशोरावस्था के दौरान कई भावनात्मक, शारीरिक और मानसिक बदलावों से गुज़रते हैं। इस उम्र के दौरान कई समस्याएँ देखने को मिलती हैं जिनकी हमारे माता-पिता और परिवार के अन्य सदस्यों के साथ चर्चा नहीं की जा सकती। हालांकि हम अपने दोस्तों के साथ इन्हें साझा करने में काफी सहज महसूस करते हैं। अच्छे दोस्त जो हमारे मुद्दों को सुने तथा हमें सहायता और मार्गदर्शन प्रदान करें वे वास्तव में हमारे लिए ईश्वर का एक आशीर्वाद हैं।

हमने सभी ने मध्य जीवन संकट के बारे में सुना है। अधिक से अधिक लोग इन दिनों से इस समस्या से पीड़ित हैं। इस उम्र में उन्हें अपना परिवार, नौकरी,बच्चे और लगभग हर कोई बोझ के रूप में प्रकट होने लगता है। इस समय में अपने आसपास अच्छे दोस्त होने से इस भावुक उथल-पुथल के बीच सकारात्मक रहने में मदद मिल सकती है। बड़ी उम्र के दौरान मित्र भी समान रूप से महत्वपूर्ण हैं। बढती एकल परिवार प्रणाली की वजह से कई पति-पत्नी बुढ़ापे में अपने आप को अकेला महसूस करते हैं। अगर उनके पास दोस्त हैं तो उनका जीवन निराशाजनक होने की बजाए खुशहाल और दिलचस्प रहता है।


 

हमारी ज़िंदगी में दोस्त का महत्व पर निबंध 2 (300 शब्द)

प्रस्तावना

मित्र हमारे जीवन का एक महत्वपूर्ण हिस्सा हैं। अगर हमारे पास अच्छे दोस्त हैं तो जीवन अधिक मनोरंजक और सहनशील बन जाता है। यहां तक ​​कि एक सच्चा दोस्त हमारे जीवन में सकारात्मक परिवर्तन ला सकता है। यही कारण है कि मित्र महत्वपूर्ण हैं:

  1. समर्थन

सच्चे दोस्त एक-दूसरे के बेहद सहायक होते हैं। वे विभिन्न स्तरों पर एक दूसरे का समर्थन करते हैं। वे पढ़ाई और अन्य गतिविधियों की बात करते समय सहायता प्रदान करते हुए एक-दूसरे को सर्वोत्तम लाभ पहुँचाने में मदद करते हैं। जब भी मैं किसी कक्षा में उपस्थित नहीं हो पाता तो मेरे मित्र हमेशा अपने नोट्स को मेरे साथ साझा करने के लिए तैयार रहते हैं। यह मेरे लिए बहुत बड़ी मदद है। वे एक भावनात्मक समर्थन के रूप में भी कार्य करते हैं। जब भी मैं भावनात्मक रूप से कमज़ोर महसूस करता हूं तो मैं अपने सबसे अच्छे दोस्त के पास जाता हूं। वह जानता है कि मुझे कैसे शांत करना है और उस समय मेरी सहायता करता है।

 

  1. दिशा निर्देश

अच्छे दोस्त हमारे सर्वश्रेष्ठ मार्गदर्शक भी होते हैं। वे हमें हर कदम पर मार्गदर्शन करने के लिए हमारे साथ मौजूद रहते हैं। जब भी मुझे अपने रिश्तों की बारे में बात करने, मेरे अध्ययन के समय का प्रबंधन करने या अन्य गतिविधियों में भाग लेने के बारे में सलाह की ज़रूरत होती है तो मेरे दोस्त मेरा मार्गदर्शन करने के लिए हमेशा मौजूद होते हैं। जब भी मैं भावनात्मक रूप से टूट जाता हूं तब भी वे मेरा मार्गदर्शन करने के लिए तैयार रहते हैं। वे मुझे जीवन में सकारात्मक देखने और नकारात्मकता को दूर करने में मदद करते हैं।

  1. आनदं

यह तथ्य बिल्कुल सच है कि दोस्त होने से जीवन और अधिक मजेदार और सुखद बन जाता है। दोस्तों का आसपास होना बहुत ही मजेदार और रोमांचक है। मैं दोस्तों के साथ यात्राएं करना पसंद करता हूँ। हालांकि मैं परिवार के साथ घूमने का भी आनंद लेता हूं लेकिन मित्रों के साथ करने वाली यात्राओं का आनंद बेमिसाल होता है। दोस्तों के साथ पार्टी करना, घंटों उनके साथ गपशप करना, खरीदारी करना और उनके साथ फिल्में देखने जाना और उटपटांग गतिविधियों में शामिल होना, जो केवल आपके दोस्त समझ सकते हैं, करना बहुत मज़ेदार होता है।

निष्कर्ष

मैं भाग्यशाली हूं कि दोस्तों के रूप में मुझे एक पागल झुंड मिला है जिनके पागलपन का स्तर सभी तरह से मुझसे मेल खाता है। वे मेरे जीवन को अद्भुत और खुशियों से भरा बनाते हैं।


 

हमारी ज़िंदगी में दोस्त का महत्व पर निबंध 3 (400 शब्द)

प्रस्तावना

मित्रता दुनिया में सबसे सुंदर रिश्ते के रूप में जाना जाता है। हम अपने दोस्तों को, अपने परिवार के सदस्यों और रिश्तेदारों से अलग, खुद चुनते हैं जिन्हें हम चाहे या ना चाहे पर वे हमारे परिवार का हिस्सा बन जाते है। वे व्यक्ति जिनके पास अच्छे दोस्त हैं, ज्यादा खुश रहते है, उन लोगों के मुकाबले जिनके   पास अच्छे दोस्त नहीं हैं।

मित्र भावनात्मक समर्थन देते हैं

यदि आपके जीवन में आपका कोई अच्छा दोस्त है तो आपको पता चलेगा कि मेरे बात का क्या मतलब है। अन्य बातों के अलावा मैं अपने दोस्तों को भावुक समर्थन देता हूं। जीवन में कई उदाहरण देखने को मिलते हैं जब हम भावनात्मक हो जाते हैं या किसी से अपने दिल की बात करना चाहते हैं। कई चीजें हैं जिन्हें हम अपने माता-पिता और भाई-बहनों के साथ साझा नहीं कर सकते क्योंकि हमें डर लगता है कि कहीं उन्हें धक्का ना लगे या उन्हें गुस्सा ना आ जाएँ। ऐसा तब होता है जब हम अपने दोस्तों के करीब जाते हैं। अच्छे दोस्त हमेशा आपको सुनने के लिए तैयार रहते हैं। जब भी आप भावनात्मक रूप से परेशान होते हैं या किसी मुश्किल दौर से गुज़रते हैं तो वे आपका साथ देने के लिए आपके पास मौजूद रहते हैं। कभी-कभी हमें उन लोगों की आवश्यकता होती है जो बिना किसी निर्णय पर पहुंचे और हमारे बारे में बिना कोई राय बनाए हमारी बातों को सुन सकते हों। इस तरह का आराम स्तर केवल मित्रों में पाया जाता है। वे हमारी बात सुनते हैं और उसी तरह के भावनात्मक सुख को प्राप्त करने में हमारी मदद करते हैं।

 

मुझे वह समय अब भी याद है जब मेरी मां या बहन के साथ मेरी नोकझोंक हो जाती थी या किसी कारण से मुझे पिताजी या शिक्षकों से मुझे डांट पड़ती थी और जब तक चीजें हल नहीं हो जातीं तब तक मुझे अपनी पढाई पर ध्यान केंद्रित करना बहुत मुश्किल हो जाता था। उस समय मैं यही सोचता था कि मुझे ऐसा कुछ नहीं कहना या करना चाहिए था जिसके कारण ऐसी स्थिति उत्पन्न हुई। उस समय मैं लगभग भावनात्मक रूप से टूट जाता था और खुद को अपराधी की तरह महसूस करता था। यह ऐसा समय होता है जब मुझे अपने दोस्तों की सबसे अधिक जरूरत पड़ती है। मैं चीजों को सुलझाने के लिए उनसे सलाह लेता हूँ। कभी-कभी उनकी सलाह काम कर जाती है पर कभी-कभी ऐसा नहीं हो पाता। हालांकि सिर्फ अपनी भावनाओं को उनके सामने व्यक्त कर मैं खुद को बेहतर महसूस करता हूँ। मुझे पता है कि मेरे पास कोई ऐसा व्यक्ति है जिसे मैं अपनी भावनात्मक स्थिति के बारे में बता सकता हूं। वे स्थिति को बदलने में सक्षम नहीं हैं लेकिन कम से कम वे यह याद दिलाकर मुझे दोषमुक्त महसूस कराने में सहायता कर सकते हैं कि मैं सिर्फ एक इंसान हूं और मुझे खुद पर बहुत ज्यादा दबाव डालने की ज़रूरत नहीं है।

निष्कर्ष

मैं भाग्यशाली हूं कि मेरे दोस्त वाकई अद्भुत हैं। वे मेरे ताकत का स्तंभ हैं और मेरे परिवार के रूप में मेरे लिए बहुत महत्वपूर्ण हैं। उनके बिना मेरी ज़िंदगी बेहद उदासी भरी थी।


 

हमारी ज़िंदगी में दोस्त का महत्व पर निबंध 4 (500 शब्द)

प्रस्तावना

किसी ने सही ही कहा है, "सच्ची दोस्ती जीवन में अच्छाई को बढ़ाती है और बुराइयों को विभाजित करती है। दोस्त बनाने की कोशिश करें, दोस्तों के बिना जीवन एक रेगिस्तानी द्वीप पर जीवन की तरह है"। मित्रता वास्तव में हमारे जीवन में बहुत महत्वपूर्ण हैं। सच्चे दोस्त भगवान का आशीर्वाद हैं। वे हमारी ज़िंदगी को जीने लायक बनाते हैं।

बच्चों के लिए मित्रों का महत्व

ऐसा देखा गया है कि जब घर में एक ही आयु के दो बच्चे होते हैं तो वे परिवार में अकेले बच्चे की तुलना में विभिन्न स्तरों पर विकसित होते हैं और तेज़ी से उनका विकास होता है। इसका कारण यह है कि वे समान रुचियां साझा करते हैं, समान गतिविधियों में शामिल होते हैं, एक-दूसरे के साथ खेलते हैं, आनंद लेते हैं और बहुत सीखते हैं। दुर्भाग्य से आज के समय में अधिकांश परिवारों में बच्चे अकेले होते हैं। अधिकांश बच्चे अकेले नौकरानियों के भरोसे या अपनी मां के भरोसे छोड़ दिए जाते हैं जिन पर पहले से ही कई अन्य जिम्मेदारियां हैं और वे अपने बच्चों पर पर्याप्त ध्यान देने में असमर्थ हैं। यह स्थिति उनकी शारीरिक और साथ ही मानसिक विकास को रोकता है। जहाँ एकल परिवार प्रणाली समय की आवश्यकता बन गई है वहीँ हम बच्चों के साथ दोस्ती बनाकर उनकी उचित वृद्धि को सुनिश्चित कर सकते हैं। माता-पिता को अपने बच्चों को पार्क में ले जाना चाहिए जहां वे उसी उम्र के बच्चों से मिल सकते हैं। अपनी उम्र के बच्चों के आस-पास होना उनके लिए एक रमणीय अनुभव है। जब वे दोस्तों के साथ घिरे होते हैं तो वे खेलते हैं, सीखते हैं और उनका सही तरीके से विकास होता है।

आजकल इतने सारे स्कूलों की स्थापना के पीछे भी यही मुख्य कारण है। बच्चे जो प्ले स्कूल जाते हैं वे देखभाल करना और बेहतर तरीके से बढ़ना सीखते हैं। वे नियमित रूप से स्कूल जाने के लिए बेहतर तरीके से तैयार रहते हैं बजाए उनके जो प्ले स्कूलों में भाग नहीं लेते हैं।

बुढ़ापे में दोस्तों का महत्व

पहले संयुक्त परिवार प्रणाली थी। लोग अपने विस्तारित परिवारों के साथ रहते थे और उनके साथ हर अवसर का आनंद उठाते थे। उन्होंने विभिन्न कार्यों में एक दूसरे की मदद और सहायता की। मित्र भी महत्वपूर्ण थे और उनकी उपस्थिति हर अवसर की समग्र मनोदशा में शामिल होती थी। इसके अलावा ऐसी कई चीजें हैं जो एक व्यक्ति अपने परिवार के सदस्यों के साथ साझा नहीं कर सकता हैं लेकिन दोस्तों के साथ आसानी से साझा कर सकता है। हालांकि बढ़ती अलग परिवार प्रणाली ने लोगों को अपने दोस्तों के महत्व को महसूस करवाया है। न सिर्फ युवा जोड़े और बच्चे, वृद्ध पुरुष और महिलाएं भी अच्छी दोस्त मंडली की आवश्यकता को महसूस करते हैं। बूढ़े लोग इन दिनों अकेले रह गए हैं क्योंकि उनके बच्चे पेशेवर और व्यक्तिगत कारणों से बाहर देश चले जाते हैं। जिनके पास एक अच्छी मित्र मंडली है वे अपने बच्चों को उनके जीवन में व्यस्त हो जाने के बाद भी अच्छी तरह से जीवित रह सकते हैं पर जिनके पास दोस्त नहीं हैं वे अक्सर अकेला महसूस करते हैं और अवसाद से घिर जाते हैं या ऐसी अन्य बीमारियों का सामना करते हैं।

इसलिए पुरानी पीढ़ी के लोगों को इन दिनों गंभीरता से कुछ अच्छे दोस्तों की जरूरत है। वृद्ध और बूढ़े लोगों को एक दूसरे के साथ जुड़ने में मदद करने के लिए कई क्लबों और सामाजिक समूहों का गठन किया गया है।

निष्कर्ष

जहाँ बच्चों को उनकी बढ़ती उम्र में और बूढ़ी पीढ़ी के लोगों के लिए दोस्तों का साथ बेहद महत्वपूर्ण हैं वहीँ अन्य आयु वर्ग के लोगों को भी दोस्ती के उपहार की जरूरत होती है। दोस्त हमें जीवन में बहुत कुछ सिखाते हैं और हमें मजबूत बनाते हैं। वे हमारे परिवार के समान महत्वपूर्ण हैं।


 

हमारी ज़िंदगी में दोस्त का महत्व पर निबंध 5 (600 शब्द)

प्रस्तावना

मित्र हमारे जीवन को विशेष बनाते हैं। यदि आपके पास मित्र नहीं हैं तो आप जीवन का बोझ ढो रहे हैं और आप सही अर्थों में जीवन नहीं जी रहे। दोस्ती के महत्व पर बार-बार जोर दिया गया है और इसकी अवधारणा पर ध्यान नहीं दिया गया है।

ऑफिस में दोस्त होना महत्वपूर्ण क्यों है?

आजकल कॉर्पोरेट ऑफिस में बहुत प्रतिस्पर्धा होती है। लोगों को लंबे समय तक काम करने की ज़रूरत है। सप्ताहांत पर काम करने के लिए और आधिकारिक काम के लिए नियमित रूप से बाहर जाने की ज़रूरत होती है। ऐसी स्थिति में काम का बहुत दबाव होता है और जीवन बेहद तनावपूर्ण हो सकता है। हालांकि ऐसा तब नहीं होता जब काम की जगह पर दोस्त होते हैं। जब आप अपने सहयोगियों में मित्र खोज लेते हैं तो आपका दफ़्तर एक दिलचस्प जगह बन जाती है और आप अपने कार्यालय में जाने के लिए तत्पर रहते हैं। आप जानते हैं कि ऐसे कई लोग हैं जो काम के दबाव और तनाव से गुजर रहे हैं। उनके साथ बातचीत, काम के माहौल के बारे में अपनी भावनाओं को उजागर करना और उन्हें काम के दबाव को कैसे संभालना है, पर सुझाव देने से आपको बेहतर महसूस हो सकता है।

जब आपके अधिकारी किसी कारण से आप पर चिल्लाते हैं या आप को छुट्टी देने में आनाकानी करते हैं या आपके लिए अवास्तविक लक्ष्य निर्धारित करते हैं तो आपको भावनात्मक समर्थन की आवश्यकता है। कार्यालय में दोस्त होने की वजह से ऐसे कारणों से तनाव को कम करने में मदद मिल सकती है क्योंकि वे आपकी स्थिति को सबसे अच्छी तरह से समझते हैं। कार्यालय बस अपने काम में व्यस्त रहने या अपने मालिक से निर्देश लेने की एक जगह मात्र नहीं रहता है यह जीवंत स्थल बन जाता है। यह भी देखा गया है कि जिनके पास कार्यालय में दोस्त हैं वे लंबे समय तक दफ़्तर में टिके रहते हैं और कम छुट्टियाँ लेते हैं।

हालांकि कॉरपोरेट दुनिया में लोग अक्सर स्वार्थी प्रकृति के साथ दोस्त बनाते हैं। इसलिए किसी भी महत्वपूर्ण जानकारी को साझा करने या अपने सहकर्मियों के साथ भावनात्मक रूप से संलग्न होने से पहले आप मित्र बनाए तो आपको यह सुनिश्चित करना होगा कि वे आपकी दोस्ती में वास्तव में दिलचस्पी रखते हैं और आपका दोस्त सिर्फ़ इसलिए नहीं बनना चाहते कि उन्हें आपकी दोस्ती से किसी तरह का लाभ मिले।

मित्र हमारे व्यक्तित्व को उभारने में मदद करता हैं

कल्पना कीजिए कि आप किस तरह के व्यक्ति बनेंगे यदि आपको अपनी जिंदगी में केवल स्कूल जाना और घर वापस आना हो तो। यदि आप स्कूल में अध्ययन करते रहे और बाहर की दुनिया के साथ कम से कम बातचीत कर अपने ही घर तक सीमित रहेंगे तो आपका जीवन बेहद नीरस और उबाऊ हो जाएगा। बहुत से लोग जैसे-जैसे वृद्ध हो जाते हैं वैसे-वैसे इन दिनों वे ऐसा ही जीवन जीते हैं। ऐसा विशेषकर गृहिणियों के साथ है जो अपने घरों तक सीमित रहकर अधिकांश समय किसी से दोस्ती नहीं कर पाते हैं। इस तरह वे अपना आत्मविश्वास खो देती हैं। लोग सामाजिक रूप से अजीब हो जाते हैं और अंततः वे बाहर जाना और लोगों से मिलना पसंद नहीं करते हैं। भले ही उन्हें ऐसा करने का मौका मिल जाए। कई लोग इससे अवसाद में आते हैं। मित्र होने से जीवन को पूर्ण रूप से जीने का मौका मिलता है। वे हमारे व्यक्तित्व को सुधारने में भी मदद करते हैं। जो लोग दोस्तों से घिरे रहते हैं वे भावनात्मक रूप से मजबूत होते हैं। वे उन लोगों की तुलना में भी अधिक आत्मविश्वास से भरे रहते हैं जिनके पास दोस्त नहीं है। इसका कारण यह है कि उनके पास लोगों से मुद्दों पर चर्चा करने, अपनी भावनाओं को उजागर करना, सलाह लेना और बाहर जाने का विकल्प रहता है।

हॉस्टल के जीवन को सबसे अच्छा माना जाता है

छात्रावास के जीवन को किसी भी व्यक्ति के जीवन में सबसे अच्छा समय माना जाता है और ऐसा मुख्य रूप से इसलिए है क्योंकि वे इस समय के दौरान मित्रों से घिरे हुए रहते हैं। दोस्तों का आस-पास होना बेहद मजेदार हो सकता है। यही कारण है कि जब हम परिवार से दूर रहते हैं तो भी हम सबसे अच्छे कैसे अच्छे दिख सकते हैं। इस समय दोस्तों के महत्व को महसूस किया जा सकता है और आस पास अच्छे दोस्त का होना एक आशीर्वाद हो सकता है। हॉस्टल में बनाई गई अधिकांश दोस्ती के रिश्ते जीवनकाल में आखिरी वक़्त तक रहती हैं। दोस्त एक-दूसरे को भावनात्मक सहायता प्रदान करने के लिए हैं। जब हम कमज़ोर महसूस करते हैं तब वे हमें खुश करते हैं, पढ़ाई में हमारी सहायता करते हैं, खरीदारी के लिए हमारे साथ लंबी दूरी तय करते हैं और विभिन्न मजेदार गतिविधियों में हमारे साथ शामिल होते हैं।

निष्कर्ष

मित्र हमारे जीवन का एक अनिवार्य हिस्सा हैं। वे हमारे जीवन में जीवंतता जोड़ते हैं। दोस्तों के बिना जीवन काफी सुस्त और उबाऊ हो सकता है।

 

 

सम्बंधित जानकारी:

मेरा अच्छा दोस्त पर निबंध

दोस्ती पर निबंध

दोस्तों के लिए विदाई भाषण

दोस्ती पर भाषण

दोस्ती पर कविता

मित्रता पर स्लोगन