भारतीय गाँव में जीवन पर निबंध

60 प्रतिशत भारतीय नागरिक गावों में रहते हैं और यदि मैं एक गाँव को असली भारत कहता हूँ तो यह गलत नहीं होगा, क्योंकि गाँव ही भारत की वास्तविक परंपरा और संस्कृति को आगे बढ़ाते हैं। गाँव कई मायनों में सर्वश्रेष्ठ हैं और गाँव का जीवन एक परिष्कृत शहर के जीवन से कहीं ज्यादा बेहतर है, लेकिन लोग अपनी कुछ बुनियादी जरूरतों को पूरा करने के लिए शहरों में रहते हैं; अन्यथा, उनका दिल अभी भी गांवों में बसा हुआ है। आज इस विषय पर हम आपके लिए अलग-अलग शब्द सीमा में विस्तृत परिप्रेक्ष्य प्राप्त करने के लिए कुछ निबंध लेकर आये हैं:

भारतीय गाँव में जीवन पर लघु और दीर्घ निबंध (Short and Long Essays on Life in an Indian Village in Hindi)

निबंध 1 (250 शब्द) - भारतीय गाँव में जीवन

परिचय

गाँव भारत के अभिन्न अंग हैं क्योंकि 60 प्रतिशत से अधिक भारतीय आबादी गाँव में ही रहती है। भारत में एक समृद्ध कृषि विरासत है और हम पूरे राष्ट्र के लिए भोजन का उत्पादन करने में सक्षम हैं। हमें चावल, गेहूं, मक्का, इत्यादि जैसे बुनियादी खाद्य पदार्थों का आयात नहीं करना पड़ता। कृषि, भारतीय अर्थव्यवस्था की रीढ़ है। इतनी बड़ी मात्रा में भोजन का उत्पादन करने के लिए हमारे किसान सभी मौसमों में लगातार काम करते हैं। वे हर साल विभिन्न फसलें उगाते हैं और लोगों का एक समूह गांवों में रहता है। उनकी एक अलग जीवन शैली और संस्कृति है।

कृषि: हमारी रीढ़

हम सभी किसी न किसी एक निश्चित गाँव से ताल्लुख रखते हैं, लेकिन विकास और नौकरी की तलाश में हमारे पूर्वजों ने गाँवों को जल्दी छोड़ दिया। नतीजतन, हम आज शहर के जीवन का एक हिस्सा हैं। फिर भी, कई ऐसे लोग भी हैं जो गाँवों में रहते हैं और खेती पर निर्भर हैं। हमारे किसान खेतों में कड़ी मेहनत करते हैं और हमारे लिए भोजन उपलब्ध कराते हैं और निश्चित रूप से हमें भोजन प्रदान करने के लिए उनका आभारी होना चाहिए। इन फसलों को तैयार करने के लिए बहुत श्रम और देखभाल की आवश्यकता होती है। फसल की देखभाल करने के लिए उन्हें सर्दियां और चिलचिलाती गर्मी के दिनों का सामना करना पड़ता है।

हमारे किसानों को धन्यवाद कि हमारे पास पर्याप्त भोजन है और हम विभिन्न देशों को गेहूं और चावल भी निर्यात करते हैं। वर्ष 2019 में, हमने विभिन्न देशों में 38.49 बिलियन अमेरिकी डॉलर के कृषि उत्पादों का निर्यात किया है। वास्तव में यह हमारी अर्थव्यवस्था की रीढ़ है।

सांस्कृतिक समृद्धि

हमारी खाद्य आवश्यकता के अलावा गाँव कुछ सांस्कृतिक महत्व भी रखते हैं। हमने अपनी कई परंपराओं और कुछ सांस्कृतिक गतिविधियों को छोड़ दिया है जो अभी भी गांवों में जीवित हैं। वे त्योहारों को उसी तरह मनाते हैं जैसे वे पुराने दिनों में मनाया करते हैं और हम गांवों में एकता भी देख सकते हैं जो अमूमन शहरों में काफी कम देखने को मिलती है। जब लोग किसी अवसर पर इकट्ठा होते हैं तो यह विशेष हो जाता है। वे प्रार्थना करते हैं, अच्छा खाना खाते हैं, और किसी भी अवसर को एक साथ मनाते हैं और यह एकता को दर्शाता है।

निष्कर्ष

एक भारतीय गांव में एक ही समय में जीवन काफी सरल और कठिन हो सकता है। वे शहरों से पूरी तरह से अलग हैं और एक गांव के जीवन के कई फायदे और नुकसान होते हैं। कुल मिलाकर, मैं कह सकता हूं कि शहरों की तुलना में गाँव अधिक शांत और स्वच्छ हैं।

निबंध 2 (400 शब्द) - एक नया भारतीय गाँव

परिचय

भारत एक खूबसूरत देश है और इस पूरे देश में खूबसूरत गाँव और उनका इतिहास भी है। यह भारत का उत्तरी भाग हो या दक्षिणी, गाँव हर जगह हैं और उनके पास जीवन जीने का एक अलग ही स्वाद है। ये भूमि 80 प्रतिशत कृषि उत्पादों का उत्पादन करती है; यह केवल हमारे किसानों की वजह से ही संभव है, वे कड़ी मेहनत करते हैं और इन गांवों में रहते हैं। वे न केवल हमारे लिए भोजन का उत्पादन करते हैं बल्कि हमारी अर्थव्यवस्था के निर्माण में भी अहम योगदान देते हैं। हर साल वे कई लाभदायक सौदे करते हैं और कई उत्पादों को विभिन्न देशों में निर्यात किया जाता है। मैंने यहाँ पर गाँव के जीवन के कुछ खूबसूरत पहलुओं का उल्लेख किया है और आधुनिक भारतीय गाँवों की सच्ची दृष्टि को आपके समक्ष रखा है।

सामाजिक जीवन

यहाँ हर जगह शांति होती है क्योंकि यहाँ पर शहरों की तरह भीड़-भाड़ नहीं होता। यहाँ जीवन सरल है और किसी भी तरह की बात-विवाद से दूर है। शहरों में लोग हमेशा अच्छे कपड़े पहनते हैं, परिष्कृत समाजों में रहते हैं। जबकि गाँवों में लोग बहुत सादा जीवन जीते हैं और वे हमसे ज्यादा सामाजिक होते हैं, और वे किसी भी तरह के दिखावे से होते हैं। वे एक स्वस्थ और वास्तविक जीवन जीते हैं।

अर्थव्यवस्था

उनकी आय का मुख्य स्रोत गांवों में कृषि है और वे दो प्रकार के हैं। एक जो आंशिक रूप से शहरों से जुड़ा हुआ है और दूसरा वह है जो शहरों से पूरी तरह दूर हैं। जो लोग शहरों से जुड़े हुए हैं वे दैनिक आवश्यकताओं को पूरा करने में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं जैसे कि सब्जियां, पोल्ट्री फार्म, आदि प्रदान करना, वे हमारी अर्थव्यवस्था को विकसित करने में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। दूसरा वह है जो शहरों से दूर हैं। ये गाँव कुछ मौसमी फ़सलें जैसे गेहूँ, चावल, मक्का, आदि उपलब्ध कराते हैं। लॉकडाउन में, यह कृषि ही थी जिसने डूबती अर्थव्यवस्था को बचाया।

विकास

विकास वो है जो अभी भी कुछ गांवों तक नहीं पहुँच पाया है,  अच्छी सड़कें, स्कूल, अस्पताल, आदि की सुविधाएँ कई गाँव में उपलब्ध नहीं हो पाई हैं। ये एक गांव की कुछ बड़ी कमियां हैं। हालाँकि शहरों ने बहुत विकास किया है, गाँव अभी भी कई दशकों से पहले जैसे ही हैं। यहाँ पर केवल कुछ मामूली बदलाव हैं और यही वजह है कि लोग शहरों की ओर बढ़ते हैं। अगर उन्हें कुछ बुनियादी सुविधाएं मिलेंगी तो लोग खुशी-खुशी गांवों में भी रह सकते हैं।

शिक्षा

गांवों में लोग शिक्षा के बारे में ज्यादा परवाह नहीं करते हैं क्योंकि वे कृषि विरासत का पालन करने में विश्वास करते हैं। लेकिन यह अर्ध्य्सत्य है, वास्तव में, गांवों में अच्छे शैक्षणिक संस्थान नहीं हैं। उनके पास पर्याप्त धन और उचित सुविधाएं भी नहीं हैं। सरकार को इन गांवों को विकसित करने पर भी ध्यान देना चाहिए और बुनियादी सुविधाएं प्रदान करनी चाहिए। गाँवों में सरकारी स्कूल हैं लेकिन रखरखाव के अभाव और शिक्षकों की अनुपस्थिति के कारण वे बेकार हैं।

निष्कर्ष

गाँव का जीवन कई मायनों में बेहतर है और शुद्ध वायु और प्रदूषण रहित वातावरण लोगों को गाँव में घर बनाने के लिए आकर्षित करता है। यहाँ पर शांति और एक विशेष प्रकार की स्थिरता है, जिसे शब्दों में व्यक्त नहीं किया जा सकता है। मुझे गांव और यहाँ के पर्यावरण से बेहद प्यार है; यह हर जगह हरा है और मुझे ताजी हवा के लिए एक पार्क में नहीं जाना पड़ता है।

निबंध 3 (600 शब्द) - गांव में रहने के कुछ सकारात्मक और नकारात्मक पहलू

परिचय

एक उपनगरीय क्षेत्र जहां लोग रहते हैं और चारों ओर कृषि भूमि है, उसे एक गांव के रूप में जाना जाता है। गांवों के प्रति हमारे दिमाग में एक विशेष छवि है और जैसे ही इसकी बात उठती है तो यह स्वतः ही हमें हरे-भरे खेतों और आम के पेड़ों की झलक दिखलाता है। वाकई, गाँव बेहद अद्भुत हैं। मुझे याद है कि जब मैं अपनी गर्मी की छुट्टी के दौरान हर वर्ष अपने गांव का दौरा किया करता था, धीरे-धीरे चीजें बदल गईं और लोग शहरों की ओर चले गए। मुझे याद है कि हम कभी सब्जी खरीदने नहीं जाया करते हैं क्योंकि हम उन्हें अपनी जमीन पर ही उगाया करते थे हैं। इसी तरह, कई और भी चीजें हैं जो एक गांव को शहरों से अलग बनाती हैं। यहाँ पर नीचे मैंने गाँव के जीवन के बारे में कुछ सकारात्मक और नकारात्मक दोनों ही पहलुओं का उल्लेख किया है।

ग्रामीण जीवन के कुछ सकारात्मक पहलू

  • कम प्रदूषण

यह सच है कि गाँवों में वायु प्रदूषण नहीं है, शहरों की तुलना में यहाँ का पर्यावरण 90 प्रतिशत स्वच्छ है और यहाँ आपको ताज़ी हवा के लिए हरियाली की तलाश नहीं करनी होती है। शहर यातायात, लोगों और सभी तरह के प्रदूषण से प्रभावित होता है। शहर में ज्यादा लोग, ज्यादा शोर, ज्यादा प्रदूषण होता है जबकि गांवों में कम लोग हैं इसलिए यहाँ का पर्यावरण शहर से कहीं ज्यादा बेहतर है।

  • शांतिपूर्ण जीवन

गावों में लोग मेट्रो पकड़ने या किसी जरूरी मीटिंग में शामिल होने की जल्दी में नहीं होते हैं। यहाँ जीवन आसान और तनाव मुक्त दिखता है। वे भी खाना खाते हैं, सोते हैं, कमाते हैं, अच्छे कपड़े पहनते हैं लेकिन शांतिपूर्ण जीवन जीते हैं। गांवों में, लोगों के पास दूध के लिए अपने जानवर हैं, भोजन के लिए अपनी जमीन है, और वहां पर जीवन अधिक शांतिपूर्ण दिखती है।

  • दिखावे से दूर

गांवों में ज्यादातर लोग सादगी पर विश्वास करते हैं, उनके पास औपचारिक और आकस्मिक रूप से परिधानों या कीमती सामानों के लिए अलग अलमारी नहीं होती है। वे खुद को ठीक ऐसे पेश करते हैं जैसा कि वे वास्तव में होते हैं और वे चीजों को छिपाते नहीं हैं और साझा करने में ज्यादा विश्वास करते हैं। जबकि, शहरों में लोग एक गरीब व्यक्ति को अपने दोस्त के रूप में संबोधित करने में भी शर्म महसूस करते हैं। गाँवों के लोग सरल और किसी भी प्रकार के अभिव्यक्ति से दूर हैं।

  • लोगों का मददगार व्यवहार

अगर किसी घर में शादी होती है तो गाँव के सभी लोग इकट्ठा होते हैं और मदद करते हैं कुछ इस तरह से जैसे कि यह उनका अपना ही कार्य हो। जबकि शहरों में इस तरह के किसी भी कार्य आदि के लिए हमें मदद के लिए किराए पर लोगों को बुलवाना पड़ता हैं। वास्तव में गाँव इन मामलों में अच्छे हैं। वे स्वभाव से वफादार, मददगार और भरोसेमंद होते हैं।

ग्रामीण जीवन के कुछ नकारात्मक पहलू

  • विकास

गाँवों की सबसे बड़ी कमियाँ जो ग्रामीण क्षेत्रों में जीवन को कठिन बनाती हैं। यहाँ आपको शैक्षणिक संस्थान, अस्पताल इत्यादि तक़रीबन न के बराबर मिलते हैं, जिनमें प्रवेश का कोई तरीका नहीं है और ये सभी चीजें लोगों को शहरों की तरफ पलायन के लिए उकसाती हैं। बड़ी कंपनियों को इसे एक अवसर के रूप में लेना चाहिए और ग्रामीण क्षेत्रों में अपनी शाखाएं लगाने की योजना भी बनानी चाहिए। इससे हमारे गाँव कई तरह से विकसित होंगे। मैं यह कह सकता हूं कि विकास हमारे गांवों की सबसे बड़ी कमियों में से एक है।

  • उचित शैक्षिक संस्थानों का अभाव

यहाँ पर स्कूल तो हैं लेकिन कोई उच्चतर शिक्षण संस्था नहीं होती है जिसके परिणामस्वरूप लोगों को अपने बच्चों को बड़े शहरों में भेजना पड़ता है। इन दिनों उचित शिक्षा हर किसी की पहली आवश्यकता है। हालांकि छात्रों के लिए गाँव का वातावरण अधिक शांतिपूर्ण है, फिर भी उन्हें शहरों में जाना पड़ता है।

  • करियर के सिमित अवसर

गाँव में करियर के अवसर शून्य के समान हैं क्योंकि यहाँ पर किसी तरह की कोई नौकरी नहीं है। नौकरियों के अलावा यदि आप किसी तरह का कोई व्यवसाय शुरू करने की योजना बना रहे है तो सड़क, माल की उपलब्धता, आदि को लेकर कई तरह की समस्याएँ आती हैं। लोगों को कई चीजों के लिए शहरों पर निर्भर रहना पड़ता है; नतीजतन, वे बेहतर जगह पर रहकर आगे बढ़ना ज्यादा उचित समझते हैं।

  • अच्छी चिकित्सा सुविधाओं का अभाव

यहाँ पर एक चिकित्सकीय आपातकाल एकदम से अंधेरे में है, यह तो आप कभी नहीं जानते है कि कब अस्पताल या चिकित्सक की तत्काल आवश्यकता पड़ जाएगी। चिकित्सकीय लाभों के लिए लोगों को हमेशा पास के शहरों में जाना पड़ता हैं। सरकार को वास्तव में इस क्षेत्र पर ध्यान देना चाहिए क्योंकि जनसंख्या दिन-प्रतिदिन बढ़ रही है; वास्तव में किसी भी व्यक्ति के लिए उचित दवा आदि की सुविधा उसके नजदीक ही होनी चाहिए। अन्यथा, राष्ट्र को कभी भी विकसित राष्ट्र नहीं कहा जा सकता है।

  • अनुचित परिवहन

आज भी, ऐसे कई गाँव हैं जहाँ सड़कें नहीं हैं; सड़कों की कमी कई मायनों में विकास में बाधक है। इसलिए, सड़क बेहद महत्वपूर्ण है और गाँवों में एक जगह से दूसरी जगह की यात्रा करना इतना आसान नहीं है, क्योंकि जब भी आपको ज़रूरत हो, बस या परिवहन के अन्य साधन नहीं मिल सकते हैं। या तो आपको अपने खुद के साधन से यात्रा करनी होगी जो गावों में हर किसी के लिए संभव नही होता या फिर लंबे समय तक इंतजार करना होगा।

निष्कर्ष

गाँव अच्छे हैं और उन्हें बचाने की हमें पूरी कोशिश करनी चाहिए। हमें विकासशील गांवों पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए ताकि कम लोग शहरों की ओर पलायन करें। शहरों में जनसंख्या दिन-प्रतिदिन बढ़ रही है और आधी से अधिक आबादी गांव से ही आती है। वे शिक्षा, नौकरी और अन्य बुनियादी जरूरतों को पूरा करने के लिए शहरों की ओर बढ़ते हैं। शहर अत्यधिक आबादी वाले होते जा रहे हैं, सरकार को इसके बारे में सोचना चाहिए। गांवों में विकास शहरों में आबादी को नियंत्रित करने के सर्वोत्तम तरीकों में से एक है।