मेरा पालतू कुत्ता पर निबंध

पालतू जानवर विशेष होते हैं और अगर पालतू जानवर कुत्ता हो तो यह अपने मालिक के लिए और अधिक विशेष हो जाते हैं। ऐसा इसलिए है क्योंकि जितना प्यार हम कुत्तों को देते हैं वे उसका सौ गुना प्यार हमें वापिस देते हैं और अपने जीवन के अंत तक हमारे प्रति वफादार बने रहते हैं।

मेरा पालतू कुत्ता मुझे बहुत प्यारा है। यह घर की रखवाली करता है, वफादार है और मुझे तहे दिल से प्यार करता है। मुझे इसके साथ समय व्यतीत करना पसंद है। केवल मैं ही नहीं मेरे परिवार का प्रत्येक सदस्य इसे पसंद करता है। ‘मेरे पालतू कुत्ते’ के विषय पर हमने यहाँ अलग-अलग लम्बाई के निबंध उपलब्ध करवाएं हैं। आप अपनी आवश्यकता के अनुसार किसी भी निबंध को चुन सकते हैं:

मेरा पालतू कुत्ता पर निबंध (Essay on My Pet Dog in Hindi)

मेरा पालतू कुत्ता पर निबंध 1 (200 शब्द)

मेरा पालतू कुत्ता एक पग है। इसका रंग हल्का पीला है तथा कद-काठी छोटी है। हमने इसे स्विगी नाम दिया है। यह हमारे साथ पिछले 2 वर्षों से रह रहा है। मुझे अब भी वह दिन याद है जब मैं और मेरी बहन अपने पिता के साथ पालतू जानवरों की दुकान में गये थे। मैं पालतू जानवर के रूप में बिल्ली को लाना चाहता था लेकिन मेरी बड़ी बहन रिया कुत्तों के पीछे लगभग पागल थी और चाहती थी कि किसी भी तरह से हम कुत्ते को ही घर लाएं। मेरे परिवार के अन्य सदस्यों का भी यही मानना ​​था कि पालतू जानवर के रूप में एक कुत्ते को लाएं और इसलिए हम एक महीने का प्यारा कुत्ता पग उस दिन हमारे घर ले आए और तब से वह हमारे परिवार का हिस्सा बन गया।

हालांकि परिवार में हर कोई स्विगी का ख्याल रखता है और मेरी बहन विशेष रूप से इसकी सफाई, टीकाकरण और खाने की आदतों के बारे में ध्यान रखती है। हम एक हफ्ते में दो बार स्विगी को नहलाते हैं। वास्तव में यह मेरा पसंदीदा समय होता है। हम इसे छत पर ले जाते हैं और उसे पाइप से नहलाते हैं। हम यह सुनिश्चित करते हैं कि इसको समय पर अपना भोजन मिले और हर दिन दो बार टहलाने के लिए ले जाए। हम जहाँ-जहाँ जाते हैं स्विगी भी हमारे साथ जाता है।

स्विगी काफी सक्रिय कुत्ता है और गेंद के साथ खेलना पसंद करता है। इसके साथ खेलना बहुत मज़ेदार है।


 

मेरा पालतू कुत्ता पर निबंध 2 (300 शब्द)

प्रस्तावना

मेरा पालतू कुत्ता बार्नी एक लैब्राडोर है। यह हल्के भूरे रंग का है तथा इसके शरीर की बनावट बहुत मजबूत है। एक पालतू पशु के रूप में लैब्राडोर दोहरे उद्देश्य की पूर्ति करता है। आपको न केवल एक वफ़ादार दोस्त मिलता है जो हमेशा आपके साथ खेलने के लिए तैयार रहता है बल्कि यह आपके घर के लिए सुरक्षा गार्ड के रूप में भी काम करता है। बार्नी की उपस्थिति के कारण हमारा घर अधिक सुरक्षित स्थान है।

डॉग शो में भागीदारी

बहुत से लोग घर में पालतू जानवरों को लाते हैं पर उन्हें जल्दी ही भूल जाते हैं। हम उन लोगों जैसे नहीं हैं। हम बार्नी की अच्छी देखभाल करते हैं और हमेशा विभिन्न गतिविधियों में इसे शामिल करना पसंद करते हैं। यह पिछले 5 सालों से हमारे साथ रह रहा है और इस बीच इसने तीन डॉग शो में भाग लिया है। हमने बार्नी को इन डॉग शो के लिए प्रशिक्षित किया और इसने भी सभी कार्यक्रमों में पुरस्कार जीत कर हमें इस पर गर्व करने का मौका दिया। पहले शो के समय बार्नी सिर्फ 10 महीने का था। उस समय यह अति सक्रिय था और तब इसने बाधा दौड़ जीती थी। दूसरी कार्यक्रम के दौरान यह 2 साल का था और तब इसने बर्ड हंट का खेल जीता। तीसरी शो में इसने फिर से एक दौड़ में भाग लिया और तीसरे नम्बर पर आया। उस समय बार्नी 4 साल का था।

मेरा पालतू कुत्ता बहुत सतर्क है

बार्नी हर समय सतर्क रहता है। यह विशेष रूप से रात में घर के पास किसी की भी आवाज को आसानी से सुन लेता है। इसकी सूंघने की शक्ति बहुत तेज़ है और यह आसानी से कुछ भी सूंघ लेता है खासकर तब जब एक कोई अजीब या अपरिचित गंध आस-पास से आ रही है। कुत्ते बहुत विश्वासयोग्य होते हैं और अपने स्वामी के लिए कुछ भी करने से पीछे नहीं हटते। बार्नी कोई अपवाद नहीं है। यह हमारे परिवार के बारे में बहुत सुरक्षात्मक है और हर समय हमारे घर की रक्षा करता है।

निष्कर्ष

मुझे बार्नी के साथ समय बिताना अच्छा लगता है। यह मेरे सभी तनावों और चिंताओं को दूर कर देता है। जब मेरा स्कूल से घर आने का वक़्त होता है तो यह घर के दरवाज़े के पास खड़े होकर मेरा इंतजार करता है और मुझे देख कर यह अपनी पूँछ हिलाना शुरू कर देता है। हम दोनों एक दूसरे को देख कर बहुत खुश होते हैं।

मेरा पालतू कुत्ता पर निबंध 3 (400 शब्द)

प्रस्तावना

मेरे पास पालतू जानवर के रूप में प्यारा सा डचशुंड है। यह एक बहुत ही जीवंत कुत्ता है और जब भी हम इसके साथ खेलना चाहते हैं तो यह हमेशा खेलने के लिए तैयार रहता है। हमने इसे बडी नाम दिया है और यह वाकई हमारा सबसे अच्छा दोस्त है। डचशुंड बहुत दोस्ताना और हंसमुख हैं। बडी हमारे परिवार के साथ बहुत अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है और हम सभी को बहुत प्यार करता है। हम भी इसे तहे दिल से प्यार करते हैं।

मेरे पालतू कुत्ते की विशेषताएं

अपने लंबे और निचले शरीर के कारण डचशुंड कुत्तों की नस्ल अन्य नस्लों से काफी अलग दिखती हैं। यहां आगे बताया है कि मेरा बडी कैसा दिखता है और कैसे व्यवहार करता है:

  • बडी का रंग चॉकलेटी भूरा है और बाल लंबे है।
  • यह छोटे आकार का डाचशुंड है।
  • इसकी बहुत मजबूत गंध सूंघने की शक्ति है।
  • यह बहुत ही शांत और मैत्रीपूर्ण स्वभाव का है। यह हमारे सभी दोस्तों, पड़ोसियों और रिश्तेदारों से दोस्ती बना लेता है जो घर आते हैं और उनके साथ खेलने के लिए उत्सुक रहता है।
  • यह बहुत बहादुर और चतुर है। कौन-कौन हमारे घर के आसपास घूम रहा है तथा अनजान और अपरिचित लोगों को लेकर यह हमेशा सतर्क रहता है। किसी भी संदिग्ध या अपरिचित व्यक्ति के दिखते ही यह तुरंत भौंक पड़ता है।
  • यह चीजों के बारे में भी बहुत उत्सुक है।

बडी के साथ खेलने में मज़ा आता है

डचशुंड बहुत ज्यादा सक्रिय रहते हैं और हमेशा अलग-अलग गेम खेलने के लिए उत्सुक रहते हैं I बडी विशेष रूप से गेंद के साथ खेलना पसंद करता है। इसलिए हर शाम हम इसे करीब आधे घंटे तक गेंद के साथ खिलाते हैं। यह ना केवल बडी के लिए मजेदार पल होते है बल्कि मेरे और मेरे भाई के लिए भी बहुत अद्भुत अनुभव के क्षण होते हैं।

बडी को यात्रा करना बहुत पसंद है। हम अक्सर सप्ताह के आखिर में सैर के लिए जाते हैं और बडी हमेशा हमारे साथ जाने के लिए उत्साहित रहता है। चूंकि यह आकार में छोटा है इसलिए इसे ले जाना परेशानी भरा नहीं है। बडी को ज्यादा भोजन की भी आवश्यकता नहीं है जो इसे काफी यात्रा करने के लिए अनुकूल बनाता है।

बडी को हमारे घर आये हुए एक साल से अधिक का वक़्त हो गया है और इसके आने के बाद से हमारे मित्र और चचेरे भाई हमारे घर अधिक आने लगे हैं। बडी एक हंसमुख दोस्त है। हर कोई इसे चाहता है और इसके साथ समय बिताना चाहता है।

जब हम घर पर होते हैं तो हम ज्यादातर इसे चेन से बांध कर रखते हैं। मेरी मां ने इस बात का विशेष रूप से ध्यान रखा है कि बडी छज्जे के साथ बालकनी के पास बंधा हुआ रहे। इसका कारण यह है कि जिस क्षण हम इसे खोलते हैं वह हर चीज, जो उसके रास्ते में आती है, को तोड़ते हुए घर के चारों ओर भागता रहता है ।

निष्कर्ष

पालतू कुत्तों के आसपास रहने से आनंद की अनुभूति होती है खासकर तब जब वह डचसुंड हो तो आपको बोरियत महसूस नहीं हो सकती। हर दिन इनका साथ बेहद रोमांचदायक और मजेदार लगता है। बडी हमारे परिवार की जीवन रेखा है।

मेरा पालतू कुत्ता पर निबंध 4 (500 शब्द)

प्रस्तावना

जब मैं छोटा था तब हमारे पास पालतू जानवर के रूप में एक डोबरमैन था। मेरे जन्म के पहले ही यह मेरे परिवार का एक हिस्सा बन गया था। तो मैं इसे उस समय से जानता था जब मैं पैदा हुआ था। डोबरमैन की इन्द्रियां बहुत अच्छी होती है और वे हमेशा सतर्क रहते हैं। हालांकि अगर डोबरमैन नस्ल के छोटे बच्चों को देखेंगे तो आपको उनका नरम पक्ष दिखाई देगा और मुझे अपने पालतू डोबरमैन के इस पक्ष का अनुभव है जिसे हम प्यार से ब्रूनो बुलाते हैं।

मेरे माता पिता ने पालतू कुत्ते को लाने का फैसला क्यों किया?

शादी के तुरंत बाद मेरे माता-पिता गोवा में स्थानांतरित हो गए थे। गोवा में उन्होंने किराए पर घर लिया। यह एक सुंदर घर था जो दो परिवारों के लिए अच्छी तरह से अनुकूल था। हालांकि एकमात्र समस्या यह थी कि घर थोड़ा अलग-थलग था। यह आसपास के अन्य घरों से दूरी पर था। मेरी माता की सुरक्षा और हिफ़ाज़त को सुनिश्चित करने के लिए जब मेरे पिता कार्यालय में गए तो उन्होंने यह तय किया कि घर में एक पालतू कुत्ता लाएंगे। उन्होंने एक डोबरमैन नस्ल का कुत्ता लाने का फैसला किया क्योंकि यह निडर, बहादुर और मजबूत कद-काठी का कुत्ता है। इसी ख़ूबी के कारण दुनिया भर में पुलिस और सैन्य सेवाओं में डोबरमैन कुत्ते को पसंद किया जाता है।

मेरी मां को पहले से ही कुत्तों का बहुत शौक था और ब्रूनो नए शहर में उनका सबसे अच्छा दोस्त बन गया था। चूंकि डोबरमैन को रोजाना व्यायाम की आवश्यकता होती है तो मेरी माँ हर दिन इसे दो बार घुमाने के लिए ले जाती थी। मेरे पिताजी भी इसकी कंपनी का आनंद लेते थे। ब्रूनो मुझसे बहुत प्यार करता था और जब से मेरा जन्म हुआ था तब से वह मेरी हर समय सुरक्षा करता था तथा मेरे साथ खेलता भी था।

क्यों हमें अपने डोबरमैन को दूर करना पड़ा?

मेरा ब्रूनो से बहुत लगाव था और मेरी मां भी इससे बहुत जुड़ी हुई थी। हालांकि हमें इसे दूर करना पड़ा था क्योंकि मेरे पिता को संयुक्त राज्य में काम करने का मौका मिला जिस वजह हमें दो साल तक वहां रहना पड़ा था। दुखी दिल से हमें उसे हमारे एक पड़ोसी को देना पड़ा जो ख़ुशी से उसे अपने घर ले गए। हम अक्सर ब्रूनो का हाल-चाल पूछने के लिए उनसे बात करते थे।

मैं एक भारतीय स्पिट्ज कैसे मिला?

दो साल बाद हम भारत में वापस आ गए। इस बार एक अलग शहर में। मैं फिर से एक पालतू कुत्ते को रखना चाहता था लेकिन मेरी मां इसके लिए तैयार नहीं थी पर ऐसा लग रहा था जैसे भगवान ने मेरी इच्छा सुन ली और इसे पूरा किया दिया।

एक दिन जब मैं स्कूल से घर वापस आ रहा था तो मैंने एक स्पिट्ज कुत्ते को साइकिल के टायर से अपना पैर बाहर निकालने के लिए संघर्ष करते देखा। जैसे ही मैंने यह सब देखा मैं तुरंत मदद करने के लिए आगे आया। यह किसी का पालतू जानवर था लेकिन ऐसा लगता था कि यह अपना रास्ता खो चुका है। मैंने टायर से इसका पैर निकाला और उसके सिर को प्यार से सहलाया। स्पिट्ज काफी स्नेही हैं। उसने मेरा हाथ चाटना शुरू कर दिया। मैंने इसके मालिक के लिए चारों ओर देखा लेकिन वह मुझे दिखाई नहीं दिया। जैसा ही मैंने अपने घर की ओर चलना शुरू किया इसने मेरे पीछे-पीछे चलना शुरू कर दिया। मैं इसे वापिस उस स्थान पर ले गया जहाँ मैंने इसे पहली बार देखा था ताकि इसका मालिक इसे खोजते-खोजते वापिस आ जाए लेकिन कई हफ्तों कोई इसे लेने नहीं आया। तब से यह हमारे साथ रहता है। मैंने इसे जेगल्स नाम रख दिया।

निष्कर्ष

कुत्ते बहुत प्यारे और देखभाल करने वाले होते हैं। वे अपने स्वामी के प्रति वफादार होते हैं। पालतू जानवर के रूप में कुत्ते को रखना अपने आप में एक अद्भुत अनुभव है।


 

मेरा पालतू कुत्ता पर निबंध 5 (600 शब्द)

प्रस्तावना

मेरे पास रोजर नामक एक पालतू कुत्ता है। यह एक जर्मन शेफर्ड है और पिछले 3 सालों से मेरे परिवार का हिस्सा रहा है। यह बहुत जोशीला, मैत्रीपूर्ण और चंचल है। हालांकि बाहरी लोगों को यह अक्सर खतरनाक लगता है। ऐसा उसके शरीर की बनावट और रंग के कारण है। यह हर पल सतर्क रहता है और हर समय हमारे घर की रक्षा करता है।

मैं पालतू कुत्ते को क्यों रखना चाहता था?

मेरे परिवार में हर कोई रोजर को पसंद करता है। हम सब उससे एक परिवार के सदस्य की तरह व्यवहार करते हैं। हम उसके बिना जीवन की कल्पना भी नहीं कर सकते। हालांकि मुझे अभी भी वह समय याद है जब मैं पालतू कुत्ते को रखना चाहता था और मेरे परिवार के सभी सदस्य इस विचार के खिलाफ थे। जब मैं 8 वर्ष का था तब मेरे दोस्त अन्या के पास एक बहुत ही प्यारा पग था। वह हमेशा उसे पार्क में लाती थी। जब भी मैं उसके पर जाता था वह उसके साथ खेलती रहती थी। दोनों बहुत खुश दिखते थे और ऐसा लगता था कि दोनों को एक दूसरे का साथ पसंद है। कई बार मैंने अन्या को अपने घर साथ में खेलने के लिए बुलाया लेकिन वह हर बार यह कह कर इनकार कर देती कि वह रोजर को खिलाने या नहलाने में व्यस्त है। यह सुनकर मुझे बहुत बुरा लगता था और मैं हमेशा यही चाहता था कि मेरे पास भी दोस्त के रूप में एक कुत्ता हो। यही सोचकर तब मैंने घर में एक पालतू कुत्ते को लाने का फैसला किया।

कैसे मैंने अपने पालतू कुत्ते को पाने के लिए संघर्ष किया?

मुझे पता था कि मैं पालतू जानवर के रूप में एक कुत्ते को चाहता था लेकिन मुझे यह नहीं पता था कि उसे घर लाने के लिए मुझे मेरे माता-पिता से इतना संघर्ष करना पड़ेगा। जैसे ही एक पालतू कुत्ते को रखने का विचार मेरे मन में आया मैं अपनी माँ के पास गया और उनसे कहा कि मुझे घर में एक कुत्ता चाहिए। यह सुनते ही मेरी मां हँस दी और मेरे गाल पर थपकी देकर मेरे अनुरोध को खारिज कर दिया। मैंने अपनी इच्छा दोहराई और उन्होंने फिर से इसे हल्के ढंग में लिया। मेरी माँ के व्यवहार ने मुझे क्रोधित कर दिया और मैंने उनसे कहा कि मैं वास्तव में एक पालतू कुत्ता चाहता हूँ। तब मेरी मां को पता चला कि मैं इसके बारे में गंभीर हूं और फिर उन्होंने मुझे बैठकर समझाया कि हम पालतू कुत्ता क्यों नहीं रख सकते।

मेरे माता-पिता दोनों नौकरी करते हैं। हालांकि मेरे दादा दादी हमारे साथ रहते थे पर बूढ़े दादा-दादी से पालतू जानवरों की देखभाल करने के बारे में पूछना सही नहीं था। इसके अलावा जब मेरा भाई छोटा था तो मेरी मां को डर था कि वह उसे संक्रमण ना पकड़ ले। उन्होंने इन सभी बिंदुओं को मुझे समझाने की कोशिश की लेकिन मैंने उनके किसी भी स्पष्टीकरण को नहीं सुना। मैं अपनी दादी के पास गया और उससे अनुरोध किया कि वह एक पालतू कुत्ते को घर लाने के लिए माँ को मनाए। मेरी दादी ने भी मेरी माँ का समर्थन करने की कोशिश की लेकिन मैंने उन्हें कई दिन तक समझाना ज़ारी रखा और आखिरकार एक दिन मैंने उन्हें मना ही लिया। जब तक मैं स्कूल से घर वापिस नहीं आ जाता तब तक वह वे आधे दिन के लिए कुत्ते की देखभाल करने के लिए सहमत हो गई। इसके बाद बाकी सब मेरी ज़िम्मेदारी थी।

किसी तरह मैंने भी अपने पिता को आश्वस्त किया। चूंकि उन्हें भी कुत्ते बेहद पसंद है इसलिए उन्हें समझाना मुश्किल नहीं था। इन सबके मानने के बाद आखिरकार मेरी मां भी सहमत हो गई। हम पास की एक पालतू जानवरों की दुकान में गए और इस 2 महीने के जर्मन शेफर्ड, जो एक छोटे से पिंजरे में शांति से सो रहा था, को देखते ही मेरे दिल ने इसे पसंद कर लिया। मुझे इसे देखते ही पता चल गया था कि यह वही है जिसे मैं अपने घर रखना चाहता था।

रोजर ने हर व्यक्ति का दिल जीत लिया

रोजर इतना छोटा और प्यारा था कि जैसे ही उसे घर में लाए वैसे ही मेरे परिवार में लगभग हर कोई उससे प्यार करने लगा। मेरी मां जो पालतू कुत्ते को घर लाने के विचार से घृणा करती थी उन्हें भी समय गुज़रने के साथ वह प्यारा लगने लगा था। कुत्ते को शिशुओं से बहुत प्यार होता है और वह उनके बारे में बहुत सुरक्षात्मक होता है। रोजर और मेरा छोटा भाई इस प्रकार मित्र बन गए। रोजर को परिवार में शामिल करने के लिए मैं बेहद उत्साहित था। मैंने अपने सभी दोस्तों को इस दिन के बारे में पहले ही बता दिया था।

निष्कर्ष

रोजर आज हमारे जीवन का एक अविभाज्य हिस्सा बन गया है और मैं उसे बहुत पसंद करता हूँ। कुत्ते वास्तव में बहुत प्यारे होते हैं। मुझे लगता है कि हर किसी को एक पालतू कुत्ता रखना चाहिए।

 

 

More Information:

बाघ पर निबंध

गाय पर निबंध

मेरा पालतू जानवर पर निबंध

हाथी पर निबंध

कुत्ता पर निबंध

मेरी पालतू बिल्ली पर निबंध