मेरा स्कूल फेट/कार्निवल पर निबंध

स्कूली फेट या कार्निवल पूरे शैक्षणिक वर्ष के सबसे अपेक्षित समयों में से एक है। यह आनन्दित होने और जश्न मनाने का समय है। स्कूल का प्रत्येक बच्चा इस दिन का बड़ी बेसब्री के साथ इंतजार करता है। स्कूल कार्निवल/फेट पर हम यहां कुछ छोटे और बड़े निबंध उपलब्ध करा रहें हैं जोकि इस विषय में निबंध लिखने में सहायक सिध्द होगें।

मेरा स्कूल फेट/कार्निवल पर छोटे-बड़े निबंध (Short and Long Essay on My School Fete/Carnival in Hindi)

निबंध – 1 (300 शब्द)

प्रस्तावना

स्कूल फेट अपने साथ ढ़ेर सारी उत्सुकता और खुशी लेकर आता है। हमारे विद्यालय में यह समारोह फरवरी माह में होता है। गुलाबी-गुलाबी ठंडी के बीच इसका आयोजन सभी बच्चों के साथ-साथ शिक्षकों और अभिभावकों को भी नयी उर्जा से भर देता है। स्कूली कार्निवल छात्रों को व्यावहारिक ज्ञान के बारे में बहुत कुछ सिखाने का एक अच्छा आयोजन है।

क्या है स्कूल कार्निवल?

स्कूल कार्निवल वास्तव में एक उत्सव का अवसर होता है। बच्चे अपने स्कूल बैग के बिना स्कूल जाते हैं। कोई शिक्षण कार्यक्रम नहीं होता है। छात्र अपने दोस्तों के साथ आते हैं। दिन भर छात्र दोस्तों के संग मस्ती करते है। परिवार भी इस आयोजन में शामिल होते हैं। वे विभिन्न खेल और खाद्य की दुकानों पर जाते हैं और विभिन्न खेल खेलते हैं और नमकीन खाते हैं। पृष्ठभूमि (बैकग्राउंड) में संगीत बजता रहता है। दुकानों (स्टालों) का प्रबंधन करने वाले छात्र और शिक्षक ग्राहक छात्रों से निपटने में व्यस्त रहते हैं।

छात्र डीजे बिंदु पर अपने दोस्तों और शिक्षकों को नाचने और गाने समर्पित करने का आनंद लेते हैं। शाम तक स्टालों का प्रबंधन करने वाले छात्र थक कर चूर हो जाते हैं। और मस्ती भरा दिन खत्म होने को आता है। बच्चों को ऐसे दिन बहुत पसंद आते हैं और उसका उत्सुकता से इंतजार करते हैं।

यह किसी भी स्कूल का सबसे बड़ा कार्यक्रम होता है। इसकी तैयारी में हमारा विद्यालय कई महीने पहले से ही जुट जाता है। इसमें हिस्सा लेने के लिए आवेदन करना होता है। इसमें नाच, गाना, नाटक, खेलकूद आदि सभी प्रतियोगिताएं होती हैं। इसके लिए ऑडिशन लिए जाते हैं, जिसमें पास होने पर ही इसमें भाग लेने दिया जाता है।

उपसंहार

कार्निवल छात्रों को कर्तव्यों का आवंटन करता है जो उन्हें अधिक जिम्मेदार बनाते हैं। कर्तव्यों का यह आवंटन बच्चों को सीखता है कि काम के साथ मज़ा कैसे संतुलित किया जाय। यह हमें जीवन में सही संतुलन बनाने का महत्व सिखाता है। जब हम अपने कर्तव्यों को पूरा करते हैं, तो इससे हमें यह भी पता चलता है कि लोगों और वास्तविक दुनिया को कैसे संभालना चाहिए।

 

निबंध - 2 (400 शब्द)

प्रस्तावना

स्कूल के कार्निवल में बहुत मज़ा आता है। यह पढ़ाई से बहुत जरूरी विराम देता है और छात्रों को विभिन्न गतिविधियों में शामिल होने का अवसर देता है। कई स्कूल साल में कम से कम एक कार्निवल का आयोजन करते ही हैं। हमारा विद्यालय भी इसका अपवाद नहीं है।

मेरे स्कूल का कार्निवल

मुझे हमेशा स्कूली फेट से लगाव रहा है। मैं हर साल इसके लिए तत्पर रहती हूं और यह सुनिश्चित करती हूं कि मैं बिना असफल हुए उसमें भाग लूं। मेरे स्कूल का फेट और वार्षिक समारोह मेरे विद्यालय में दो सबसे विशेष कार्यक्रम हैं।

मेरे स्कूल में प्रतिवर्ष स्कूली फेट अथवा कार्निवल का आयोजन होता है। हमें दोस्तों के साथ अपना समय बिताने और अपने दिन का आनंद लेने का मौका मिलता है। यह बात पिछले साल के फेट की है। हमारे विद्यालय में यह आयोजन जनवरी या फरवरी में सर्दियों के दौरान होता है, इसलिए उस समय मौसम भी बहुत सुहावना होता है। यह हमारे प्रिंसिपल के भाषण से शुरू हुआ और उन्होंने हम सभी को हमारे कड़े मेहनत करने के लिए बधाई दी।

उसके बाद जश्न शुरू हुआ। हम अपने दोस्तों के समूह के साथ इतने सारे भोजन स्टालों पर गए। मैंने व्यंजनों को आजमाया, जो बहुत स्वादिष्ट थे। मुझे ब्रेड रोल खाना बहुत पसंद है, और कक्षा 8 का स्टाल उसे बहुत ही उचित मूल्य पर बेच रहा था।

इसके बाद, हमने खेल खेलने में अपने हाथ आजमाए। बहुत सारे खेल थे; उन सभी को खेलना कठिन हो गया। ‘अपने भाग्य को आजमाएं’ का खेल मेरा सबसे पसंदीदा था। मैंने उस स्टाल से बहुत सारे उपहार जीते। इसके बाद, हमने डार्ट्स के खेल में निशाना लगाया, हालांकि हम जीते नहीं । फिर भी यह एक सुखद अनुभव था।

मैंने देखा कि एक अनोखा फोटो बूथ स्टाल था जो लोगों की तस्वीरें खीचनें के लिए मजेदार और विचित्र आग्रह कर रहा था। मेरे दोस्तों और मेरे बीच उस स्टाल पर मेरी लड़ाई हो गयी कि पहले कौन अपने फोटो क्लिक कराएगा। हमने उससे बहुत सी तस्वीरें खिचवायीं, मेरे पास अब भी हैं जो हमें हमारे फेट पर बिताए महान मज़ेदार दिन की याद दिलाती हैं।

उपसंहार

स्कूल फेट और कार्निवलो की वजह से ही कई बार छात्र अपने अंदर छिपी प्रतिभा को पहचान पाते हैं। कई बार हमें खुद ही नहीं पता होता है कि, हम किन-किन विषयों और क्षेत्रों में अच्छे है। कार्निवल के दौरान विभिन्न प्रतियोगिताओं में भाग लेने से मुझे मालूम चला कि पढ़ाई के अलावा चित्रकारी और शास्त्रीय संगीत में भी मेरी रुचि है।

 

निबंध - 3 (500 शब्द)

प्रस्तावना

स्कूल कार्निवल पूरी तरह से छात्रों के लिए आयोजित होता है। इसके लिए समस्त विद्यालय प्रशासन और शिक्षक गण प्रयासरत रहते हैं। विद्यार्थियों की प्रतिभा का असली आकलन यहीं आकर होता है, जब अलग अलग विद्यालयों के छात्र आपस में टकराते है। और अपने-अपने स्कूल के सम्मान के लिए संघर्ष करते है।

स्कूलों को कार्निवाल का आयोजन क्यों करना चाहिए?

विद्यालय कार्निवाल विभिन्न कारणों से आयोजित किए जाते हैं। ये स्कूल, शिक्षकों के साथ-साथ छात्रों के लिए भी फायदेमंद हैं। यही कारण है कि प्रत्येक स्कूल को कार्निवाल में निवेश करना चाहिए। हमारा विद्यालय भी हर साल इसका आयोजन करता है। छात्रों को अपनी प्रतिभा दिखाने का मंच मिलता है।

अकेले शिक्षाविद और शिक्षक इन दिनों छात्रों के लिए पर्याप्त नहीं हैं। प्रतियोगिता बढ़ रही है और केवल वे सफल हो सकते हैं, जो विभिन्न कौशल हासिल करते हैं और खुद को अच्छी तरह से प्रस्तुत कर सकते हैं। कार्निवाल विभिन्न गतिविधियों में लिप्त होने और कई नई चीजें सीखने का अवसर प्रदान करते हैं। ये गतिविधियाँ छात्रों में आत्मविश्वास पैदा करती हैं और उनके ज्ञान का विस्तार करती हैं। वे छात्रों को सही प्रकार का प्रदर्शन प्रदान करते हैं और इस प्रकार उनके लिए उपयोगी होते हैं।

प्रतिष्ठा भवन

कार्निवाल अपनी प्रतिष्ठा बनाने के लिए स्कूलों के लिए एक अच्छा मंच है। यही कारण है कि वे इन आयोजनों में इतना निवेश करने के लिए तैयार होते हैं। इन आयोजनों के लिए कई लोगों को आमंत्रित किया जाता है। जिस तरह से स्कूल छात्रों का पालन-पोषण कर रहा है, उससे बहुत अच्छा अंदाजा लगाया जा सकता है कि प्रदर्शन इन कार्यक्रम का एक हिस्सा है। इन आयोजन के दौरान शिक्षकों द्वारा लगाए गए प्रयासों की मात्रा को भी देखा जा सकता है। यह उद्योग में सद्भावना अर्जित करने और अधिक प्रवेश को आकर्षित करने का एक अच्छा तरीका है।

अभिभावक का सहयोग एवं समावेशन

माता-पिता अक्सर इस बारे में स्पष्ट तस्वीर नहीं होने की शिकायत करते हैं कि स्कूल में यह सब क्या हो रहा है और उनके बच्चों को कितनी अच्छी तरह तैयार किया जा रहा है। अभिभावक-शिक्षक बैठकों के दौरान, उन्हें छात्रों की प्रगति और स्कूल में संचालित गतिविधियों का एक मौखिक विवरण दिया जाता है।

हालांकि, मौखिक जानकारी शायद ही कभी संतोषजनक होती है। स्कूल कार्निवाल माता-पिता के साथ संबंध स्थापित करने और उन्हें यह दिखाने के लिए एक अच्छा तरीका है कि उनके बच्चे किस तरह की गतिविधियों में शामिल हैं और उन्हें उसी में प्रशिक्षित किया जा रहा है। माता-पिता भी शिक्षकों से मिलते हैं और देखते हैं कि वे अपने छात्रों के विकास और विकास के लिए कितने समर्पित होकर काम कर रहे हैं।

स्कूल कार्निवल में कई गतिविधियों में माता-पिता और छात्र दोनों शामिल होते हैं। इससे माता-पिता को अपने बच्चों के साथ भी एक अच्छा संबंध स्थापित करने में मदद मिलती है।

निष्कर्ष

इस प्रकार विद्यालय कार्निवाल छात्रों को विभिन्न प्रकार की गतिविधियों में शामिल करने, स्कूल की प्रतिष्ठा बनाने और स्कूल में माता-पिता के विश्वास को स्थापित करने का एक अच्छा अवसर है। ऐसे कार्यक्रमों से जहां बच्चों को कुछ दिन पढ़ाई से विराम मिलता है, वहीं दूसरी ओर विद्यालय का भी नाम रौशन होता है। इतना ही नहीं जिन स्कूलों में ऐसे कार्यक्रम होते है, उससे अभिभावको के बीच उनकी बहुत अच्छी छवि बनती है। तभी तो कार्निवलों के अत्यधिक खर्चीले होने के बाद भी स्कूल प्रशासन इतना भव्य आयोजन करते है।