राष्ट्रिय चिकित्सक दिवस पर निबंध

चिकित्सकों के कार्य और स्वास्थ्य सेवा उद्योग में उनके योगदान का सम्मान करने के लिए राष्ट्रीय चिकित्सक दिवस मनाया जाता है। संयुक्त राज्य अमेरिका में 1933 में पहली बार राष्ट्रीय चिकित्सक दिवस मनाया गया था, तब से यह अन्य देशों में भी मनाया जाने लगा है। इसके अवलोकन के लिए कोई विशेष तारीख नहीं है और यह हर देशों के लिए अलग-अलग है।

राष्ट्रीय चिकित्सक दिवस पर लघु और दीर्घ निबंध (Short and Long Essay on National Doctors’ Day in Hindi)

निबंध 1 (250 शब्द)

परिचय

भारत में, डॉ. बिधान चंद्र रॉय की जयंती के उपलक्ष्य पर प्रति वर्ष 1 जुलाई को राष्ट्रीय चिकित्सक दिवस मनाया जाता है, जिन्होंने पश्चिम बंगाल के दूसरे मुख्यमंत्री के रूप में भी काम किया था। श्री रॉय एक बहुत ही सम्मानित डॉक्टर, परोपकारी व्यक्ति और राजनीतिज्ञ भी थे।

डॉक्टर्स डे कैसे मनाया जाता है?

1991 से भारत में चिकित्सक दिवस मनाया जा रहा है। सरकारी और गैर-सरकारी स्वास्थ्य सेवा संगठन, चिकात्सिकों को उनके योगदान के लिए धन्यवाद देने का इस अवसर का इस्तेमाल करते हैं।

पूरे देशभर में अस्पतालों तथा क्लबों में छोटे से लेकर बड़े आयोजन किए जाते हैं। चुंकि डॉ. बिधान चंद्र रॉय पश्चिम बंगाल से ताल्लुख रखते हैं, इसलिए यहाँ की राजधानी कोलकाता में डॉक्टर्स डे रोटरी क्लब में भव्य आयोजन किया जाता है।

कई गैर-सरकारी संगठनों के साथ समन्वय में अस्पताल आम जनता के लिए मुफ्त चिकित्सा जांच शिविर की व्यवस्था उपलब्ध कराते हैं। साथ ही, डॉक्टरों के लिए कई स्तरों पर पुरस्कार और स्मृति कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं।

राष्ट्रीय चिकत्सक दिवस कैसे मनाएं

राष्ट्रीय चिकत्सक दिवस मनाने के कई तरीके हैं जिनमे से कुछ को हमने यहाँ नीचे सूचीबद्ध किया है-

  • अपने परिवार के डॉक्टर को थैंक यू कार्ड या फूल भेजें।
  • चिकित्सा विज्ञान के इतिहास के बारे में जानिए और कुछ दिग्गज डॉक्टरों के साथ खुद को जागरूक करें।
  • एक स्थानीय कार्यक्रम में शामिल हों या अपने समाज में डॉक्टरों को सम्मानित करने के लिए एक छोटी सी घटना की मेजबानी करें।
  • अपने आप से प्रतिज्ञा करें कि जो भी परिस्थिति हो, आप कभी भी डॉक्टर के पेशे को बदनाम नहीं करेंगे।
  • समाज के समग्र कल्याण में डॉक्टरों के प्रयासों का सम्मान करने और उन्हें स्वीकार करने के लिए दूसरों को प्रेरित करें।

निष्कर्ष

राष्ट्रीय चिकित्सक दिवस का दिन डॉक्टरों के साथ-साथ समाज के लिए भी बेहद महत्वपूर्ण अवसर होता है।

निबंध 2 (400 शब्द)

परिचय

डॉक्टरों द्वारा समाज के लिए किए गए प्रयासों को स्वीकारने और उनका सम्मान करने के लिए राष्ट्रीय चिकित्सक दिवस मनाया जाता है। डॉक्टर किसी भी स्वास्थ्य प्रणाली का मस्तिष्क और एक महत्वपूर्ण सदस्य होता है। राष्ट्रीय चिकित्सक दिवस की कोई निश्चित तिथि नहीं है और प्रत्येक राष्ट्र अपने स्थानीय इतिहास या संस्कृति के अनुसार विभिन्न तिथियों पर इसका पालन करते है।

दुनिया भर में अंतर

राष्ट्रीय चिकित्सक दिवस के अवलोकन की तारीखें हर देश के लिए अलग हैं। हालांकि, डॉक्टरों को समर्पित एक दिन मनाने का रिवाज पहली बार संयुक्त राज्य अमेरिका में यूडोरा ब्राउन आलमंड द्वारा शुरू हुआ था। इस प्रकार 30 मार्च को अमेरिका में राष्ट्रीय चिकित्सक दिवस मनाने की परंपरा शुरू हुई, जिसमें पहली चेतनाशून्य सर्जरी की गई थी।

ब्राजील में 18 अक्टूबर को कैथोलिक चर्चों द्वारा मनाए गए संत ल्यूक के जन्मदिन को मनाने के लिए इसे मनाया जाता है।

इसी तरह, हर दूसरे राष्ट्र में इस अवसर को मनाने के लिए अपनी अलग तिथि होती है और भारत में यह 1 जुलाई को मनाया जाता है।

राष्ट्रीय चिकित्सक दिवस - भारत

भारत में वर्ष 1991 से हर साल 1 जुलाई को राष्ट्रीय चिकित्सक दिवस मनाया जा रहा है, जब से इसे भारत सरकार द्वारा आधिकारिक रूप से घोषित किया गया था। पश्चिम बंगाल के एक प्रसिद्ध चिकित्सक डॉ. बिधान चंद्र रॉय के सम्मान में इस तारीख का चयन किया गया था। डॉ. रॉय ने पश्चिम बंगाल राज्य के दूसरे मुख्यमंत्री के रूप में भी काम किया और यह संयोग ही है कि 1 जुलाई को उनकी पुण्यतिथि भी थी।

एक डॉक्टर होने के अलावा, श्री रॉय एक परोपकारी, स्वतंत्रता सेनानी भी थे, और उन्हें आधुनिक बंगाल का स्वरुप प्रदान करने वाले व्यक्ति के रूप में भी जाना जाता है। वह उन चुनिंदा व्यक्तियों में थे जिन्हें एफ.आर.सी.एस. (रॉयल कॉलेजों के सर्जन की फैलोशिप) और एम.आर.सी.पी. (यूनाइटेड किंगडम के चिकित्सकों के रॉयल कॉलेजों की सदस्यता) दोनों ही डिग्री एक साथ प्राप्त थी।

अवलोकन

हर साल अवलोकन के लिए एक विषय इंडियन मेडिकल एसोसिएशन द्वारा घोषित किया जाता है जिसके इर्द गिर्द कई कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं। 2019 में विषय था "डॉक्टरों के खिलाफ हिंसा और नैदानिक ​​स्थापना के लिए शून्य सहिष्णुता"। यह रोगियों या उनके दुःख पर शोक जाहिर करने वाले रिश्तेदारों द्वारा डॉक्टरों के खिलाफ हिंसा के कृत्यों पर अंकुश लगाने के लिए था।

स्वास्थ्य पेशेवरों द्वारा डॉक्टरों को सम्मानित करने और उनके प्रयासों और कड़ी मेहनत को स्वीकार करने के लिए कई कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं।

निष्कर्ष

राष्ट्रीय चिकित्सक दिवस उन डॉक्टरों को धन्यवाद देने का दिन है जो समाज के लिए अथक परिश्रम करते हैं और चौबीसो घंटे तथा सातो पहर फोन पर उपलब्ध रहते हैं। डॉक्टरों के बिना, समाज रोगों से ग्रस्त हो जाएगा और जल्द ही समाप्त भी हो जाएगा। यह आवश्यक है कि डॉक्टरों के प्रयासों की सराहना की जानी चाहिए और उन्हें समाज की सेवा के मार्ग पर गर्व से चलने के लिए प्रेरित किया जाए।

निबंध 3 (600 शब्द)

परिचय

राष्ट्रीय चिकित्सक दिवस को दुनिया भर के विभिन्न देशों द्वारा अलग-अलग तारीख पर स्वास्थ्य सेवा उद्योग में चिकित्सकों द्वारा दिए गए योगदान के महत्त्व को समाज के सामने लाने के लिए मनाया जाता है। यह मरीजों और अस्पताल के अन्य कर्मचारियों द्वारा डॉक्टरों के प्रयासों का सम्मान करने और उन्हें स्वीकार करने के लिए मनाया जाता है।

चिक्तिसक दिवस - इतिहास

सबसे पहले, डॉ. चार्ल्स बी. आलमंड की पत्नी यूडोरा ब्राउन द्वारा राष्ट्रीय चिकित्सक दिवस पर विचार करने का प्रस्ताव किया गया था। यह प्रस्ताव 1933 में डॉ. क्रॉफर्ड विलियमसन लॉन्ग ने अपनी पहली असंवेदनकारी सर्जरी के लगभग एक दशक बाद किया था। यह सर्जरी 30 मार्च 1842 को जॉर्जिया में जेम्स वेनबल नामक मरीज पर की गई थी। डॉ. लांग ने रोगी की गर्दन से ट्यूमर को सफलतापूर्वक निकालने के लिए एक चेतनाशून्य करनेवाली औषधि के रूप में ईथर का उपयोग किया।

यूडोरा ने यह भी प्रस्ताव दिया कि 30 मार्च को यह खास दिन मनाया जाए, जो डॉ. लोंग की जयंती है।

इसके अलावा, राष्ट्रीय चिकित्सक दिवस को संयुक्त राज्य अमेरिका में लोकप्रियता मिली। 10 मई, 1934 को जॉर्जिया राज्य चिकित्सा गठबंधन ने अगस्त्या, जॉर्जिया में एक बैठक में इस संबंध में एक प्रस्ताव अपनाया।

इसके बाद, राष्ट्रीय चिकित्सक दिवस 30 अक्टूबर, 1990 को एक राष्ट्रीय अवकाश के रूप में नामित किया गया था जब राष्ट्रपति बुश ने इस प्रभाव में एस.जे. आरईएस #366 प्रस्ताव पर हस्ताक्षर किए थे। इस प्रस्ताव में, डॉ. लोंग को सम्मानित करने के लिए 30 मार्च को राष्ट्रीय चिकित्सक दिवस मनाने का उल्लेख किया गया था।

2017 में डॉ. मैरियन मास और डॉ. किम्बरली जैक्सन की अपील पर चिकित्सकों के दिन को चिकित्सकों के सप्ताह में बदल दिया गया।

पहला चिक्तिसक दिवस

28 मार्च, 1933 को जॉर्जिया के विंडर में पहला चिकित्सक दिवस मनाया गया। डॉक्टरों और उनकी पत्नियों को कार्ड भेजे गए। मृतक डॉक्टरों को याद किया गया और उनकी कब्रों पर फूल चढ़ाए गए। डॉ. लोंग की कब्र पर भी फूल चढ़ाए गए और चिकित्सा क्षेत्र से जुड़े लोगों द्वारा उन्हें सम्मान दिया गया।

डॉ. विलियम रैंडोल्फ और उनकी पत्नी ने डॉक्टरों के लिए एक रात्रिभोज की मेजबानी की और हर वर्ष चिकित्सक दिवस का पालन करने की अपनी प्रतिबद्धता की पुष्टि भी की।

दुनियाभर के आसपास का अवलोकन

कई देशों में अलग-अलग तारीखों पर राष्ट्रीय चिकित्सक दिवस मनाया जाता है। कुछ महत्वपूर्ण राष्ट्रों में अवलोकन और तिथियों का संक्षिप्त विवरण नीचे दिया गया है-

भारत

भारत के प्रसिद्ध चिकित्सक डॉ. बिधान चंद्र रॉय की जयंती मनाने के लिए 1 जुलाई को राष्ट्रीय चिकित्सक दिवस मनाया जाता है, जिन्होंने पश्चिम बंगाल के दूसरे मुख्यमंत्री के रूप में भी काम किया था।

कनाडा

कनाडा में राष्ट्रीय चिकित्सक दिवस 1 मई को मनाया जाता है। यह तारीख इसलिए चुनी गई क्योंकि यह कनाडा में अभ्यास करने वाली पहली महिला चिकित्सक की जन्म तिथि है जिनका नाम डॉ. एमिली स्टोव है।

ऑस्ट्रेलिया

ऑस्ट्रेलिया में, 30 मार्च को सेंट ल्यूक की याद में राष्ट्रीय चिकित्सक दिवस मनाया जाता है जो एक डॉक्टर भी थे।

कुवैट

कुवैत के डॉ. सुंदरस अल-मजीदी के जन्मदिन पर हर वर्ष 3 मार्च को राष्ट्रीय चिकित्सक दिवस मनाया जाता है। यह विचार उनकी मां ज़हरा सुलेमान अल-मौसावी द्वारा लाया गया था।

संयुक्त राज्य अमेरिका

संयुक्त राज्य में राष्ट्रीय चिकित्सक दिवस 30 मार्च को मनाया जाता है। चुनी गई तारीख वो तारीख थी जब 30 मार्च, 1842 को डॉ. क्रॉफर्ड विलियमसन लॉन्ग द्वारा अमेरिका में पहली बार चेतनाशून्य सर्जरी की गई थी।

वियतनाम

वियतनाम वर्ष 1955 से 28 फरवरी को चिकित्सक दिवस मना रहा है; हालांकि, कभी-कभी तारीख में कुछ दिनों का अंतर हो सकता है।

नेपाल

नेपाल प्रतिवर्ष 4 मार्च को नेपाल मेडिकल एसोसिएशन की स्थापना के उपलक्ष्य में राष्ट्रीय चिकित्सक दिवस मनाता है।

निष्कर्ष

चिकित्सक, समाज के बेहद महत्वपूर्ण सदस्य हैं। वे वास्तव में बीमारी और हल्के स्वास्थ्य के वक़्त एकमात्र रक्षक होते हैं। समाज को बीमारियों और दुखों से मुक्त रखने के उनके प्रयास को स्वीकार किया जाना चाहिए। लम्बे वक़्त से, डॉक्टरों ने अपनी क्षमताओं के अनुसार समाज की सेवा की है और इसे स्वस्थ और खुश रखने में मदद की है।