प्रेरणास्रोत पर निबंध

हम सभी के जीवन में कोई न कोई ऐसा व्यक्ति होता है जो हमें बहुत प्रेरित करता है, यह हमारे माता-पिता, शिक्षक, दोस्त या कोई भी हो सकता है। कभी-कभी वे हमारे जीवन में बेहद ही महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं और हमें अपने जीवन में बहुत अच्छा करने के लिए प्रेरित करते हैं। अपने जीवन में अपने प्रेरणास्रोत के बारे में यहाँ पर कुछ अच्छी तरह से लिखे गए निबंध आपके लिए उपलब्ध कराये गए हैं।

रोल मॉडल पर लघु और दीर्घ निबंध (Short and Long Essays on Role Model in Hindi)

निबंध 1 (250 शब्द) - प्रेरणास्रोत

परिचय

हमारा प्रेरणास्रोत एक ऐसा व्यक्ति है जो हमें प्रेरित करता है और हम उनके जैसा बनना चाहते हैं। यह हमारे दिलचस्पी के आधार पर कोई भी हो सकता है। मेरा रोल मॉडल मेरा भाई है; वह एक सेना का अधिकारी है और हमारे राष्ट्र की रक्षा करने में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। उनका पेशा और साथ ही वह खुद एक आश्चर्यजनक व्यक्ति हैं। उससे सीखने के लिए बहुत कुछ है और मैं वास्तव में उसके जैसा बनना चाहता हूं।

मुझे मेरे प्रेरणास्रोत के बारे में क्या पसंद है

मेरा भाई मुझसे दस साल बड़ा है और मैं हमेशा उसके जैसा बनना चाहता हूं। वह अनुशासित है और अपनी चीजों को हमेशा सही जगह पर रखता है। इससे उसे जल्दी तैयार होने में मदद मिलती है और कमरा भी प्रबंधित और साफ दिखता है।

वह कभी भी व्यायाम करने में नहीं चूकता, जिससे वह फिट और स्मार्ट दिखता है। एक सेना के व्यक्ति को शारीरिक रूप से मजबूत और फिट होना चाहिए। उनकी पोशाक सबसे अधिक आकर्षित करती है और उन्हें एक सभ्य रूप देती है, यह देशभक्ति की भावना भी भरती है और मुझे राष्ट्र की सेवा करने के लिए प्रोत्साहित करती है।

वह न केवल हमारे लिए बल्कि पूरे राष्ट्र के लिए कड़ी मेहनत करता है और यह हिस्सा मुझे बहुत ही ज्यादा प्रोत्साहित करता है। हम अपनी सेना के बारे में समाचार भी सुनते हैं और मुझे वास्तव में गर्व महसूस होता है कि मेरा भाई इसका हिस्सा है। मैं वास्तव में उसके जैसा बनना चाहता हूं और अपनी सर्वश्रेष्ठ आदतों को अपनाने की पूरी कोशिश करता हूं।

निष्कर्ष

मैं वास्तव में खुद को काफी खुशकिस्मत समझता हूँ कि जो मुझे ऐसा भाई मिला और वह हमेशा मुझे प्रेरित करता है और जब भी घर पर होता है तो मेरी पढ़ाई में भी मदद करता है। अपने कैरियर के अलावा वह एक शानदार छात्र भी था और उसके सभी शिक्षक हमेशा उसकी प्रशंसा करते हैं।

निबंध 2 (400 शब्द) - मेरी माँ: मेरी प्रेरणास्रोत

परिचय

मेरी प्रेरणास्रोत मेरी मां है, वह एक पायलट है और वह आसमान में ऊंची उड़ान भरती है। यह वाकई में आश्चर्यजनक है और मैं हमेशा उनके जैसा बनना चाहता हूं। मैं उनसे बहुत कुछ सीखता हूं और मैं उनकी बात मानता हूं क्योंकि मेरा मानना ​​है कि अगर मैं वह सब करूंगा जो वह कहती है, तो एक दिन मैं भी उनके जैसा बन सकता हूं। वह एक ही समय में एक माँ, एक पायलट, एक ड्राइवर, एक कुक, एक अच्छी इंसान है। मैं केवल उनके जैसा एक पायलट नहीं बनना चाहता हूं, बल्कि उनके पूरे व्यक्तित्व की नकल करना चाहता हूं।

मुझे सबसे ज्यादा क्या प्रेरित करता है?

मुझे उनका अनुशासन पसंद है, हालाँकि वह एक कामकाजी व्यक्ति है, वह सब कुछ इतने शानदार तरीके से करती हैं कि मेरे दोस्त के माता-पिता भी उनकी प्रशंसा करते हैं। मैंने अपने कई मित्रों के घरों को बुरी तरह से प्रबंधित होते देखा है; लेकिन उन्होंने हमें कुछ इस तरह से प्रशिक्षण दिया है कि मेरा छोटा भाई भी अपना सामान बेहतर तरीके से रखता है।

वह बहुत अच्छी रसोइया भी है और वह कई तरह की रेसिपी भी आजमाती हैं और हमें घर पर ही रेस्टोरेंट जैसा खाना मिलता है। उन्होंने अपनी शादी के बाद खाना बनाना सीखा और आज वह सर्वश्रेष्ठ में से एक है और मुझे यकीन है कि वह मास्टर शेफ भी हो सकती हैं। वास्तव में, वह एक अद्भुत व्यक्तित्व वाली हैं और उनसे सीखने के लिए बहुत कुछ है।

उनकी फैशन की सोच, वह मानती है कि अगर कोई व्यक्ति व्यस्त है, तो उन्हें अपने तय कार्यक्रम के अनुसार एक स्टाइल रखना चाहिए, जैसे अगर आपके पास काफी कम समय है, तो एक घड़ी और एक ढीले सिफान कपड़े और एक अव्यवस्थित हेयर स्टाइल व अव्यवस्थित लुक के साथ जाएं।

ऐसा कोई क्षेत्र नहीं जहाँ वह पूर्ण नहीं है, वाकई में केवल मैं ही नहीं, अन्य भी उससे सीखते हैं। वास्तव में, वह कभी निराश नहीं होती और न ही कभी अतीत पर मंथन करती है। यह बहुत अच्छी बात है और व्यक्ति को अपने जीवन में इसे आजमाना चाहिए।

निष्कर्ष

सौभाग्य से, मुझे मेरे घर पर मेरी प्रेरणा मिली। वह मेरी मां, गुरु, बहुत अच्छी दोस्त, आदि सब हैं। लेकिन सभी में वह एक अद्भुत व्यक्तित्व वाली हैं और हम सभी के लिए एक आदर्श हैं। मैं कल्पना करती हूँ कि काश में उसके जैसा कम से कम थोड़ा भी बन पाता। मैं कभी निराश नहीं होता क्योंकि वह हमेशा मेरी देखभाल करने के लिए मेरे साथ है और मुझे कुछ अलग करने के लिए प्रोत्साहित भी करती हैं। हम सभी अलग अलग लोगों से सीखते हैं और वह उनमें से एक है। उनके अलावा मैं अपने शिक्षक और दोस्तों की भी सराहना करना चाहता हूं जो मुझे प्रेरित करने में बहुत ही महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।

निबंध 3 (600 शब्द) - डॉ. ए. पी. जे. अब्दुल कलाम: मेरे प्रेरणास्रोत

परिचय

कक्षा एक के बाद से, मैं एक व्याकुल लड़का था, लेकिन जब मैं कक्षा 5 में पहुंचा, तो मैं किसी ऐसे व्यक्ति से मिला जिसने वास्तव में मेरा जीवन बदल दिया। मैं उनके जैसा सोचने और व्यवहार करने लगा। वह डॉ. ए. पी. जे. अबुल कलाम थे, जिन्हें दुनियाभर में 'मिसाइल मैन' के नाम से जाना जाता है। प्रेरणा का एक भण्डार और उनका हेयर स्टाइल, ड्रेसिंग सेंस, करियर, व्यक्तित्व, और हर एक विवरण प्रसिद्ध है। वह एक मल्टीविटामिन की तरह थे और यदि आप एक बार उनके संपर्क में आते, तो वह निश्चित रूप से आपको भी प्रेरित करते।

मैं उनसे कैसे मिला?

असल में, हमारे स्कूल में वार्षिक समारोह था और हर साल हमारी स्कूल समिति विभिन्न लोगों को बुलाती है। एक बार, उन्हें डॉ. कलाम को आमंत्रित करने का मौका मिला और उन्होंने सिर्फ एक बार में ही अनुरोध स्वीकार कर लिया। जब वह हमसे मिलने आये, तो उन्होंने हमारे साथ समय बिताया और हमें प्रेरित भी किया। उन्होंने हमें एक छात्र के रूप में अपनी जीवन यात्रा के बारे में बताया जो प्रेरणादायक होने के साथ-साथ काफी रोचक भी था।

उनकी यात्रा के बाद, वास्तव में मैंने पाया कि वो बेहद ही प्रेरणादायक थे और वह वास्तव में हमारे देश के एक रोल मॉडल हैं। हर छात्र उनकी तरह ही बनना चाहता है। वह एक शानदार व्यक्तित्व थे।

उनके जीवन का सबसे प्रेरणादायक हिस्सा क्या है?

कई घटनाएं होती हैं जो हमें बहुत कुछ सीखने के लिए प्रेरित करती हैं, वह भारत के 11वें राष्ट्रपति थे लेकिन राष्ट्रपति पद पर काबिज होने के दौरान भी उनके दरवाजे सभी के लिए खुले थे। उन्होंने कभी भी अपने पेशे या पैसे के अनुसार लोगों के साथ भेदभाव नहीं किया। उनके लिए सभी समान थे, साथ ही वह खुद भी कभी दूसरों से श्रेष्ठ होने का ढोंग नहीं करते थे।

एक बार जब उन्हें केरल में आयोजित एक समारोह में अपने कुछ परिचित लोगों को बुलाने के लिए कहा गया, तो आश्चर्यजनक रूप से उन्होंने एक मोची और एक छोटे होटल के मालिक को आमंत्रित किया। उन्होंने उन्हें बुलाया क्योंकि वे दोनों उनके दिल के बहुत ही करीब थे। जब वह केरल में थे, तो वह हमेशा मोची से मिलने जाते थे और छोटे होटल में अपना दोपहर का भोजन करते थे। मैंने कभी किसी को इतना दयालु नहीं देखा और वास्तव में यह हमें जमीन से जुड़े रहना और सभी के प्रति अपना आभार प्रकट करना सिखाता है।

एक अन्य घटना, जब वे एक समारोह में मुख्य अतिथि के रूप में आईआईटी-वाराणसी आये थे। क्योंकि वह समारोह के मुख्य अतिथि थे, इसलिए उनके लिए एक विशेष कुर्सी थी, लेकिन जब वे गए, तो उन्होंने कुर्सी पर बैठने से इनकार कर दिया। उन्होंने वीसी से कहा कि कुर्सी के सम्मान को और बढ़ाया जाए, परिणामस्वरूप, वहां पर एक और कुर्सी की व्यवस्था की गयी जो अन्य कुर्सियों के समान थी। उन्होंने कभी खुद को श्रेष्ठ नहीं माना और वो भारत के सर्वश्रेष्ठ राष्ट्रपतियों में से एक थे।

डॉ. कलाम एक प्रेरणास्रोत क्यों हैं?

यह केवल एक पद नहीं है जो किसी व्यक्ति को प्रसिद्ध बनाता है, बल्कि कुछ अतिरिक्त कारक भी हैं जो एक व्यक्ति को अलग बनाता है। वह ऐसे व्यक्ति थे जिनको नफरत करने वाला एक भी इंसान नही था। वह अपने कर्मों के कारण लोगों के राष्ट्रपति के रूप में भी जाने जाते हैं।

वह एक महान वैज्ञानिक थे जिन्होंने भारत को मिसाइल तकनीक दी। उन्होंने डीआरडीओ और इसरो के साथ काम किया। इस दौरान, वह लोगों को प्रेरित करने और स्कूलों का दौरा करने तथा बच्चों के साथ बातचीत किया करते थे। वे एक गरीब परिवार से थे फिर भी उन्होंने अपनी आर्थिक स्थिति को कभी दोष नहीं दिया; उनके पिता ने हमेशा उनके लिए चीजों का प्रबंधन किया।

अगर मैं उन्हें एक महान प्रेरक वक्ता कहता हूं तो यह गलत नहीं होगा, यहाँ तक कि आज भी जब मैं हताश महसूस करता हूं, तो मैं बस यू ट्यूब पर उनके भाषण को सुनना शुरू कर देता हूं, और वे इतने अच्छे और प्रेरक हैं कि उन्हें सुनते ही मैं ऊर्जावान महसूस करना शुरू कर देता हूं।

उनकी दयालुता कुछ ऐसी थी जिसे कभी भी उपेक्षित नहीं किया जा सकता है, वास्तव में उनसे सीखने के लिए बहुत कुछ है और अगर हम उन्हें प्रेरणास्रोत के रूप में दर्शाते हैं तो यह कहीं से भी गलत नहीं होगा। एक व्यक्ति को न केवल अपने करियर के प्रति समर्पित होना चाहिए बल्कि उसे अपने समग्र विकास पर भी ध्यान देना चाहिए।

निष्कर्ष

केवल उन लोगों से सीखना आवश्यक नहीं है जो प्रसिद्ध हैं, लेकिन एक चींटी के साथ-साथ एक बच्चे से भी सीख सकते हैं। सीखना कभी न खत्म होने वाली प्रक्रिया होनी चाहिए। डॉ. कलाम वास्तव में एक अद्भुत व्यक्तित्व वाले व्यक्ति थे और उनका हर एक दिन एक नया सबक था और निश्चित रूप से हमें उनसे सीखना चाहिए।