मैं एक पुलिस अधिकारी क्यों बनना चाहता हूँ पर निबंध

पुलिस का काम एक बहुत ही दिलचस्प पेशा है और हमारे भारतीय सिनेमा में हमारे हीरों या नायक ने फिल्मों में पुलिस की बहुत ही महत्वपूर्ण भूमिका निभाने का कार्य किया है। पुलिस हमारी सुरक्षा को सुनिश्चित करती है, और हमारे लिए दिन-रात काम करती रहती है। हमने यहां पुलिस पर कुछ छोटे और बड़े निबंध और समाज में उनके महत्व के बारे में चर्चा की है, आशा है कि यह आपको अवश्य पसंद आएगा।

मैं एक पुलिस अधिकारी क्यों बनना चाहता हूँ पर लघु और दीर्घ निबंध (Short and Long Essays on Why I Want to Become a Police Officer)

निबंध 1 (250 शब्द) – मैं पुलिस क्यों बनना चाहता हूँ

परिचय

हमारे सामाज के लोगों को जैसे इलाज के लिए डॉक्टर की जरुरत होती है, इमारतों के निर्माण के लिए एक इंजीनियर की जरुरत होती है, उसी तरह अपने आस-पास के इलाकों में शांति और सौहार्द के बनाए रखने के लिए एक पुलिस की आवश्यकता होती है। हमारे सामाज में विभिन्न तरह के लोग एक साथ रहते है और एक साथ रहना भी उनके लिए आपसी संघर्ष को भी बढ़ा सकता है। इसलिए समाज में शांति बनाए रखने और किसी भी तरह के अपराध की घटना को रोकने के लिए ही हमारी पुलिस दिन-रात कार्य करती है।

पुलिस के कुछ प्रमुख गुण

पुलिस सामाज का सबसे भरोसेमंद अधिकारी होता है। वो अपने जीवन की परवाह किये बिना दूसरों की मदद करते है। हमारी मदद करते हुए उन्हे विभिन्न प्रकार की समस्याओं का सामना करना पड़ता है, वो इन सब चीजों से कभी नही झिझकते है, और उनकी यही बाते मुझे पुलिस अधिकारी बनने का हौसला देती है। पुलिस के कुछ प्रमुख गुण है –

  • अमिर हो या गरीब वे सभी की मदद करते है। वो कभी भी पैसों के लिए लोगों में भेदभाव नहीं करते है।
  • उनके पास अपराधियों को पकड़ने की पावर (शक्ति) होती है और ये समाज में एक सकारात्मक सोच और दृष्टिकोण विकसित करते है, क्योंकि कुछ लोगों को उनके गलत होने या अवैध होने पर पकड़े जाने का डर होता है।
  • वे कभी भी किसी मामले को सम्भालते हुए घबराते या संकोच नहीं करते है क्योंकि वे बहादुर और साहसी होते है।
  • जबकि लोगों की मदद करना उनका कर्तव्य है, फिर भी कभी-कभी वो अपना और अपने परिवार के बारे में कुछ सोचे बिना लोगों के लिए ओवरटाइम काम करते है।

निष्कर्ष

मैं वास्तव में एक पुलिस अधिकारी बनना चाहता हूँ और मैं अपने राष्ट्र के लिए मदद करना चाहता हूँ। मैं भी मजबूत हूँ और किसी भी चोर या अपराधी को बाहर घुमने नही देना चाहता हूँ। इससे हमारी माताएं और बहने सड़कों पर खुद को सुरक्षित महसूस करेंगी और अपराध की दर में भी कमी आएगी। मैं वास्तव में अपने समाज के साथ-साथ राष्ट्र के लिए कुछ करना चाहता हूँ, और एक पुलिस अधिकारी बनकर दूसरों की मदद करना सर्वोत्तम तरीकों में से एक है।

निबंध 2 (400 शब्द) – पुलिस अधिकारी कैसे हमारी मदद करता है

परिचय

हर देश के अपने ही नियम और कानून होते है और ये नियम ही देश के सोहार्द (सद्भाव) को कायम रखने के लिए बनाए जाते है। कभी-कभी लोग इन नियमों को नकारते है, और कुछ अवांछित चीज करते है और दूसरों को परेशान करते है। इसलिए समाज पर नजर रखने के लिए सरकार ने पुलिस को बनाया है। पुलिस समाज में शांति बनाए रखने वाली एक सरकारी संस्था है। ये अलग-अलग तरीकों से लोगों की मदद करती है और लोगों को कभी भी परेशानी का सामना नही करने देती है।

पुलिस लोगों की मदद कैसे करती है

मुझे नही लगता है कि मैं एक छोटे से निबंध को लिखते हुए, उनके सभी कर्तव्यों का उल्लेख कर सकूंगा। लेकिन यहां मैं पुलिस की जिम्मेदारियों को दिखाने की पूरी कोशिश करूंगा।

  • हर इलाके का अपना एक अलग थाना होता है, और वो हमेशा आपकी परेशानियों को सुनने के लिए ही होता है। कभी-कभी हम कुछ परेशानियों का सामना करते है, जैसे कि पड़ोसियों से हुई परेशानी, किसी तरह की चोरी, जमीन विवाद, इत्यादि। ऐसी परिस्थिति में हम अपने नजदीकी पुलिस थाने में पुलिस के पास जाते है, और वो आपकी मदद करते है।
  • वो आपके लिए 24x7 काम करते है और ये सुनिश्चित करते है कि आप चाहे सड़क पर हो या घर में आप सुरक्षित रहें।
  • वो कई अनसुलझें मामलों को भी हल करते है और वास्तविक चोर को पकड़ कर कानून की मदद से जेल में डालते है।
  • पुलिस आपको जानकारियां भी प्राप्त करवाती है, उदाहरण के लिए कोरोना महामारी में मैनें पुलिस को कई विभिन्न सूचनाओं की घोषणा करते देखा है।
  • वे हमेशा आपकी सुरक्षा सुनिश्चित करते हुए आपकी रक्षा करते है। हालांकि यह उनका कर्तव्य है कि वो अपने परिवार की तरह आपके साथ व्यवहार करें।
  • वे पूरे राष्ट्र की सुरक्षा करना अपना कर्तव्य समझते है और वो यह भूमिका पूरी ईमानदारी के साथ अच्छे से निभाते है।
  • वे इसके साथ-साथ बहुत चतुर भी होते है और अपनी सामाजिक शक्ति और अपने दिमाग का इस्तेमाल करके किसी भी समस्या को आसानी से हल कर सकते है।

पुलिस : एक असली हीरो

ऐसे कई मामले है जिसके कारण स्पष्ट रुप से यह दिखता है कि हमारी पुलिस कितनी बहादुर है। यहां कई फिल्में ऐसी है जो कि योद्धाओं के वास्तविक जीवन पर बनाई गयी है। वास्तव में पुलिस पेशे का चयन करने के लिए बहुत ही साहस की जरुरत होती है। कौन किसी मामले को सुलझाने के लिए कई दिनों तक अपने परिवार से दूर रहना चाहता है? वो हमे प्रेरित करते है और वो हमारे समाज के साथ-साथ हमारे राष्ट्र के वास्तविक नायक है।

ये हमारे सामाज के लिए एक सकारात्मक छवि बनाते है और हम में से अधिकांश लोग उनके जैसा बनना चाहते है। वे किसी भी अपराधी या चोर को कभी नहीं छोड़ते है। वो हमेशा यह सुनिश्चत करते है कि हम सभी सुरक्षित है। उन्होंने इस कोरोना महामारी में एक योद्धा की तरह काम किया है। वास्तव में हमें उनकी और उनके कामों का सम्मान और उनकी सराहना करनी चाहिए।

निष्कर्ष

यदि आप मुसीबत में हो और उसी समय सौभाग्य से आपको पुलिस के सायरन की आवाज सुनाई दें, तो सचमुच में यह घटना आपके आंखों में आंसू ला सकती है। यह सायरन ही सुनिश्चित कर देता है कि वो आपकी मदद के लिए आ रहे है। पुलिस हमें सुरक्षित महसुस कराती है और सुरक्षा ही एक ऐसी चीज है जिसको लेकर आप दुसरों पर भरोसा नहीं कर सकते है। आप कभी भी यह सुनिश्चित नहीं कर पाते है कि आपका नौकर आपके प्रति हमेशा वफादार रहेगा, लेकिन आप पुलिस के बारे में सुनिश्चित हो सकते है। मैं भी एक पुलिस आफिसर बनना चाहता हूँ और लोगों की सहायता करना चाहता हूँ।

निबंध 3 (600 शब्द) – समाज के लिए पुलिस अधिकारी का महत्व

परिचय

पुलिस एक सरकारी संस्थान है जो हमारे शहरों और समाज का निर्माण करते है, ताकि अपराध के दरों को कम कर सके। वे अपना कर्तव्य निभाते है और यह जांचते है कि क्या उनके इलाके में सबकुछ ठीक है। वे विभिन्न प्रकार के होते है, उनमें से कुछ अपराधियों को संभालते है, वही कुछ लाइसेंस की जांच करते है। आपने कुछ पुलिस अधिकारीयों को सड़क के किनारे ड्राइविंग लाइसेंस और कुछ महत्वपूर्ण चीजों की जांच करते हुए देखा ही होगा। वही दूसरी तरफ आपने कुछ पुलिस अधिकारियों को एक मामले की जांच कर सुलझाने और चोर या अपराधी को जेल ले जाते हुए भी देखा होगा। सभी एक साथ मिलकर हमारे देश के सामंजस्य को बनाए रखते है।

एक पुलिस अधिकारी का महत्व

एक पुलिस अधिकारी की कई जिम्मेदारियां होती है, एक तरफ जहां उन्हें समाज में शांति बनाए रखनी होती है और वही दूसरी ओर उन्हें अपराधियों को भी पकड़ना होता है। यदि किसी भी इलाके का अपराधिक दर बढ़ता है तो उन्हें अपने उच्च अधिकारीयों को उसका जवाब देना होता है। पुलिस वह नहीं होती है जो कि पुलिस थाने में बैठती है और रिपोर्ट लिखती है। ये कई मामलों को सुलझाते है और कुछ अनसुलझे हत्या के रहस्य को भी सुलझाते है।

वे बहुत स्मार्ट, बहादुर, चालाक होने के साथ ही साथ बहुत चौकन्ने भी होते है, क्योंकि एक भी गलती मामले को अनसुलझा ही रख सकती है। वास्तव में ये ही एक वास्तविक नायक होते है। बहुत से लोगों का कहना है कि इनके काम के कारण ही हमारे सामाज में सौहार्द है और अपराधिक दरों में भी कमी होती है। लेकिन मेरे विचार से हर एक को कोशिश करनी चाहिए कि हम पुलिस अधिकारीयों के कार्य में अपना सहयोग दें। क्योंकि हम सभी इसी समाज में रहते है और घर से बाहर रहने पर हर किसी को अपनी आंखे खुली रखनी चाहिए।

पुलिस का सहयोग कैसे करें

  • जब आप घर से बाहर निकलते है तो हमेशा सावधान रहे। कभी-कभी चेन-स्नेचर या पर्स-स्नेचर आप पर हमला कर सकते हैं। इसलिए पुलिस को कोसने के बजाय आप सड़क पर खुद ही चौकन्ने रहें। क्योंकि पुलिस हर जगह मौजूद नही रह सकती है, यहां भारत में 135 करोड़ से ज्यादा लोग रहते है और यहां हर एक को सुरक्षा मुहैया करवाना बहुत ही मुश्किल है।
  • कभी-कभी पुलिस आपको रोकती है और कुछ सवाल करती है, इसलिए उनके काम में कभी बाधा न बने और उनका सहयोग करे, क्योंकि कभी-कभी किसी मामले की छानबिन में कुछ विवरण बहुत आवश्यक होता है। इसलिए उनके साथ कभी दुर्व्यवहार या बहस न करें, उनका सम्मान करें और उनके सवालों का उत्तर दें।
  • सबसे महत्वपूर्ण चीजों में से एक यह है कि आप नियमों का पालन करें, यदि सरकार ने कुछ नियम बनाए है तो आपको उन नियमों का पालन करना चाहिए। आप यह नहीं जानते है कि पुलिस के लिए कितना मुश्किल और कष्टप्रद है, हमेशा यह सुनिश्चित करने के लिए कि आपने हेलमेट पहना है या नहीं। यह सब केवल आपकी सुरक्षा के लिए है, वो तो बस यह सुनिश्चित करते है कि बनाए गए नियमों का आप पालन करे।
  • आप एक सच्चे नागरिक बने। मान लीजिए कि आप किसी को कुछ गलत करते हुए देखते है तो आप उन्हें रोके। देश के एक नागरिक होने के नाते आपके पास किसी भी गलत कार्य के खिलाफ आवाज उठाने का पूरा हक़ है। आजकल लोग पुलिस का इंतजार करते है और विडियों बनाने लगते है। विडियों को बनाने और सोशल मिडिया पर पोस्ट करने के बजाय आप अपने स्तर पर उसकी मदद करने की कोशिश करें।

निष्कर्ष

हम में से कई लोग एक छोटी सी घटना के लिए भी बस पुलिस को ही कोसते है, किसी मानसिक और शारीरिक दबाव को सोचे बिना वो रोज अपना कार्य करते है। यह संभव है कि हम कभी-कभी तनाव लेते है लेकिन आपको पता भी नहीं होगा कि वह रोजाना कितने तनाव को संभालते होंगे। उनको सम्मान दे और उनके कार्यों की सराहना करें। कोरोना महामारी में अस्पताल के कर्मचारियों के अलावा अन्य योद्धाओं में पुलिस अधिकारी भी शामिल थे। उन्होंने अपने जीवन के बारे में सोचे बिना 24x7 काम किया और इसके लिए वास्तव में दिल से सलामी और ढ़ेर सारी शुभकामनाओं के पात्र है। उन्होंने हम में से कई लोगों को प्रेरित भी किया है और मैं उनमें से एक हूँ। मैं एक पुलिस अधिकारी बनना चाहता हूँ और अपने देश की रक्षा करना चाहता हूँ, यह मेरे लिए काफी गर्व की बात होगी।