Essay on Generation Gap

जनरेशन गैप तब होता है जब दो लोगों के बीच उम्र (एक पूरी पीढ़ी) का काफी अंतर होता है। यह अक्सर माता-पिता और बच्चों के बीच टकराव का एक कारण बन जाता है।

जनरेशन गैप को दो अलग-अलग पीढ़ियों से संबंधित लोगों के बीच के विचारों और विचारधाराओं के अंतर के रूप में समझाया गया है। यह राजनीतिक विचारों, धार्मिक विश्वासों या जीवन के प्रति सामान्य दृष्टिकोण में अंतर हो सकता है। आपकी परीक्षा में इस विषय के साथ आपकी मदद करने के लिए हमने जनरेशन गैप पर अलग-अलग लंबाई के निबंध उपलब्ध करवाएं हैं। आप अपनी आवश्यकता के अनुसार इनमे से किसी भी जनरेशन गैप निबंध का चयन कर सकते हैं:

जनरेशन गैप (पीढ़ी अंतराल) पर निबंध (Essay on Generation Gap in Hindi)

जनरेशन गैप (पीढ़ी अंतराल) पर निबंध – 1 (200 शब्द)

अलग-अलग वर्षों में पैदा हुए लोग विभिन्न पहलुओं के हिसाब से एक-दूसरे से भिन्न होते हैं। दुनिया तेज़ गति से बदल रही है और इस तरह अलग-अलग समय में पैदा हुए लोगों के बीच अंतर अनिवार्य है। उदाहरण के लिए यदि हम भारत के बारे में बात करते हैं तो आजादी से पहले पैदा हुए लोग आज जन्मी पीढ़ी से अलग हैं। दो पीढ़ियों की सोच के बीच एक बड़ा अंतर होता है? सांस्कृतिक, आर्थिक और सामाजिक माहौल के बीच एक बड़ा अंतर है।

जनरेशन अंतर से तात्पर्य दो पीढ़ियों के बीच के अंतर से है। समाज निरंतर गति से बदलता है इसलिए जीवन शैली, विचारधारा, राय, विश्वास और लोगों के समग्र व्यवहार भी समय के साथ बदलते हैं। यह परिवर्तन नए विचारों को जन्म देता है और अनुचित रूढ़िवादिता को तोड़ता है और इसके बदले में समाज पर सकारात्मक प्रभाव पड़ता है। हालांकि कई बार यह दो पीढ़ियों के बीच संघर्ष का एक कारण बन जाता है।

पीढ़ी के अंतराल की वजह से माता-पिता और बच्चों के रिश्ते अक्सर प्रभावित होते हैं। यह देखा गया है कि माता-पिता बच्चों पर अपने मूल्यों और विचारधाराओं को लागू करने की कोशिश करते हैं जबकि बच्चे खुद की एक अलग दुनिया की खोज करना चाहते हैं। पीढ़ी के अंतराल के कारण कई रिश्तों में टकराव की स्थिति देखी गई है। कई अभिभावकों और बच्चों में उनके मतभेदों के कारण मनमुटाव होता है जिन्हें उन्हें समझना चाहिए कि यह स्वाभाविक है क्योंकि उनके बीच एक पीढ़ी का अंतर है।


 

जनरेशन गैप (पीढ़ी अंतराल) पर निबंध – 2 (300 शब्द)

प्रस्तावना

जनरेशन गैप को विभिन्न पीढ़ियों के लोगों के बीच विश्वास और विचारों के अंतर के रूप में जाना जाता है। यह एक सामान्य सी बात है जो कई वर्षों से जारी है। जनरेशन गैप अक्सर बच्चों और माता-पिता या दादा-दादी के बीच के विचारों के अंतर को बताता है।

जनरेशन गैप शब्द की उत्पत्ति

1960 के दशक में जनरेशन गैप के अंतर का सिद्धांत पेश किया गया था। उस समय के आसपास ऐसा देखा गया कि, युवा पीढ़ी से उनके माता-पिता के विश्वास के बारे में लगभग सभी चीजों के बारे में पूछताछ की गई और वे लगभग हर चीज़ में अपने माता-पिता से अलग निकले। इसमें उनके धार्मिक विश्वासों, राजनीतिक विचारों, नैतिक मूल्यों, रिश्ते की सलाह और यहां तक ​​कि उनका मनपसंद संगीत जो वे पसंद करते हैं शामिल थे। प्रतिष्ठित समाजशास्त्रियों जैसे कार्ल मैनहेम ने पीढ़ियों के बीच मतभेदों को देखा की कैसे विभिन्न स्थितियों में पीढ़ियों ने एक-दूसरे से खुद को अलग किया।

जनरेशन गैप - एक दिलचस्प अवधारणा

जनरेशन गैप आमतौर पर बच्चों और उनके माता-पिता के बीच संघर्ष का कारण है। यह वास्तव में एक दिलचस्प अवधारणा है। अगर दुनिया में इस तरह का अंतर नहीं होता तो दुनिया वास्तव में काफी अलग होती। प्रत्येक पीढ़ी अपनी फैशन प्रवृत्तियों को स्थापित करती है, अपनी मनपसंद भाषा में बात करती है, विज्ञान और प्रौद्योगिकी के विकास को बढ़ाती है और नए आविष्कारों की ख़ोज करती है।

जनरेशन गैप के कारण समाज में कई बदलाव हुए हैं विशेषकर भारत में जहां संयुक्त परिवार प्रथा पहले से ही प्रचलित थी। बाद में भारत में अलग परिवार बसाने की अवधारणा शुरू हो गई और यह भी पीढ़ी के अंतराल का ही एक परिणाम है। लोग इन दिनों गोपनीयता की लालसा रखते हैं और अपने जीवन को अपने तरीके से जीना चाहते हैं परन्तु संयुक्त परिवार प्रथा इसमें मुख्य बाधा है। इस प्रकार बहुत से लोग अलग-अलग परिवार बसा रहे हैं। इसी प्रकार समाज के विभिन्न स्तरों पर होने वाले कई बदलाव जनरेशन गैप के परिणाम हैं।

निष्कर्ष

जैसा की धरती पर सब कुछ अवधारणा है उसी तरह जनरेशन गैप में भी अच्छाई और बुराई है। इस अंतर को खत्म करने के लिए समझ और स्वीकृति को विकसित करने की आवश्यकता है।

जनरेशन गैप (पीढ़ी अंतराल) पर निबंध – 3 (400 शब्द)

प्रस्तावना

विज्ञान और प्रौद्योगिकी के क्षेत्र लगातार विकसित हो रहे हैं और यह भी लोगों, उनके विश्वासों, विचारों और उनके समग्र व्यवहार के जीवन का तरीका है। इस प्रकार विभिन्न पीढ़ियों के लोग अलग-अलग व्यवहार करते हैं और उनकी अपनी स्वयं की विचारधाराएँ हैं जिन्हें जनरेशन गैप के रूप में जाना जाता है।

कैसे पीढ़ी का अंतर स्पष्ट है?

विभिन्न पीढ़ियों से संबंधित लोगों को अलग-अलग नाम दिए गए हैं। जहाँ आजादी से पहले पैदा हुए लोगों को परंपरावादी करार दिया गया है वहीँ इसके बाद जन्में लोगों को बेबी बुमेरर्स कहा जाता है, जो 1965 और 1980 के बीच पैदा हुए उन्हें जनरेशन एक्स और 1980 से 1999 को जनरेशन वाई के नाम से जाना जाता है। यहाँ कुछ ऐसी चीजें हैं जो स्पष्ट रूप से इन पीढ़ियों के बीच अंतर को दिखाती हैं। यहां उन पर एक नजर है:

  1. पारिवारिक प्रणाली

पुरानी पीढ़ी से जुड़े लोग एक संयुक्त परिवार में रहते थे और वे चीजों को साझा करने और उनकी देखभाल करने में विश्वास रखते थे। हालांकि समय के साथ यह विचारधारा बिगड़ती चली गई। वर्तमान पीढ़ी स्वतंत्रता चाहती है और बहुत कम लोग संयुक्त परिवार में रहने के परंपरागत तरीके का पालन करना चाहते हैं। लोगों की समग्र जीवन शैली में काफी बदलाव आया है।

  1. भाषा

आजादी के पूर्व समय के लोगों द्वारा बोली जाने वाली हिंदी आज की हिंदी भाषा से काफी अलग है और यह बदलाव अचानक नहीं आया। यह बदलाव पीढ़ी दर पीढ़ी अस्तित्व में आया। प्रत्येक पीढ़ी अपनी भाषा की अलग पहचान बना लेती है। भाषा में इस परिवर्तन के कारण घर और साथ ही कार्यस्थल पर विभिन्न पीढ़ियों से संबंधित लोगों के बीच संचार कभी-कभी मुश्किल हो जाता है।

  1. कार्यस्थल पर रवैया

जहाँ पिछली पीढ़ी के लोग बड़े-बुजुर्गों से दिशा-निर्देश लेने में अच्छे थे और अपने अधिकारियों के प्रति वफादार थे वहीँ इन दिनों लोग बहुत जल्दी अपने काम से ऊब जाते हैं और कुछ साल के भीतर ही अपनी नौकरी बदलने या नौकरी छोड़ने की कोशिश करते हैं। जनरेशन वाई के लोग अविष्कार करने में महारथ रखते हैं और अपने अधिकारियों से अपने स्वयं के अनूठे विचार साझा और लागू करना चाहते हैं बजाए आँख बंद करके उनके दिशा-निर्देश मानने के।

  1. महिलाओं के प्रति व्यवहार

पुरानी पीढ़ियों की महिलाएं ज्यादातर घर तक ही सीमित थीं। उन्हें केवल एक दासी की तरह देखा जाता था जिसे घर का ख्याल रखना चाहिए जबकि बाहर जाकर काम करना पुरुषों का काम था। हालांकि समय बदलने के साथ महिलाओं के प्रति समाज का रवैया भी बदल गया है। आज महिलाओं को अपनी पसंद के किसी भी क्षेत्र में काम करने और पुरुषों के साथ काम करने का अधिकार है।

निष्कर्ष

एक पीढ़ी के लोग दूसरी पीढ़ी के लोगों से काफी अलग होते हैं जो कि प्राकृतिक है। हालांकि समस्या तब पैदा होती है जब विभिन्न पीढ़ियों के लोग दूसरी पीढ़ी के लोगों के विचारों और विश्वासों की निंदा करते हुए अपने विचारों और विश्वासों को थोपने की कोशिश करते हैं।

जनरेशन गैप (पीढ़ी अंतराल) पर निबंध – 4 (500 शब्द)

प्रस्तावना

जनरेशन गैप मूल रूप से विभिन्न पीढ़ियों के बीच का अंतर है। 1960 के दशक में जनरेशन गैप के अंतर के सिद्धांत ने कहा कि युवा पीढ़ी हमेशा पुराने पीढ़ियों के विचारों, दृष्टिकोणों और विश्वासों पर सवाल उठाते और चुनौती देते हैं।

पीढ़ियों का वर्गीकरण

ऐसा देखा गया है कि अलग-अलग स्थिति में विभिन्न पीढ़ी के लोग अलग-अलग तरह से व्यवहार करते हैं। उनके दृष्टिकोण, विश्वास, विचार और सभी मान्यताओं के आधार पर पीढ़ियों को विभिन्न श्रेणियों में वर्गीकृत किया गया है। इस वर्गीकरण का विस्तार इस तरह से है:

  • परंपरावादी
  • बेबी बुमेरर्स
  • जनरेशन एक्स
  • जनरेशन वाई

इन पीढ़ियों में से प्रत्येक के बारे में संक्षिप्त जानकारी इस प्रकार है:

परंपरावादी

ये लोग उस समूह से संबंधित हैं जो 1946 से पहले पैदा हुए थे और अभी 70 साल से ऊपर हैं। ऐसा कहा जाता है कि ये लोग आदेश का अच्छी तरह से पालन करते हैं और कुशलता से काम करके संतुष्ट हो जाते हैं। वे युवा पीढ़ियों के साथ अपने अनुभवों को बांटने और उन लोगों के आस-पास होना पसंद करते हैं जो उनके ज्ञान और अनुभव की सराहना करते हैं। वे अपने अधिकारी के प्रति वफादार होने के लिए जाने जाते हैं। इनमें से ज्यादातर एक ही संगठन के लिए अपना पूरा जीवन व्यतीत करते हैं और उस संगठन के प्रति वफादार रहते हैं।

बेबी बुमेरर्स

ये लोग 1946 और 1965 के बीच पैदा हुए थे। इस पीढ़ी के लोग कड़ी मेहनत करने वाले हैं लेकिन ज्यादातर फीडबैक से परिचित नहीं हैं। उन्हें पुरस्कार के रूप में पैसा और प्रचार भी चाहिए। चूंकि इनमें से अधिकतर ऐशो-आराम से नहीं जिए इसलिए वे सुनिश्चित करते हैं कि उनके बच्चों को वह सब कुछ मिले जो वे चाहते हैं। वे चाहते हैं कि उनकी सराहना की जाए। वे चाहते हैं कि उनके अधिकारी और बच्चें यह समझे कि वे मूल्यवान और आवश्यक हैं। इन सभी चीजों की कमी उनके बीच असंतोष पैदा करती है।

जनरेशन एक्स

इस पीढ़ी के लोग 1965 और 1980 के बीच पैदा हुए थे। जनरेशन एक्स अपनी पहचान चाहता है। उनके लिए सबसे अच्छा इनाम समय बंद के रूप में है। वे चीजों को अपने तरीके से करना चाहते हैं और किसी भी नियम का पालन करना पसंद नहीं करते हैं। वे यह कहना चाहते हैं कि वे जिस तरह से चाहते हैं उस तरह से चीजों को कर सकते हैं। इनमें से अधिकांश लोगों ने अपने माता-पिता दोनों को काम पर जाते देखा है और इस चीज़ का जो उन पर प्रभाव पड़ा है वह अच्छा नहीं था। इसलिए वे अपने परिवार के जीवन को अपनी नौकरी पर प्राथमिकता देते हैं। इस पीढ़ी के लोगों को ज्यादा काम करने के लिए प्रोत्साहित किया जाता है।

जनरेशन वाई

यह 1981 और 1999 के बीच पैदा हुए लोगों का समूह है। इनमें से अधिकांश ने अभी काम करने की उम्र में प्रवेश किया है। यह समूह सार्थक काम में शामिल होने में दिलचस्पी लेता है और अपने काम के प्रति अपनी फीडबैक देने में भी आगे रहता है। इस पीढ़ी के लोग काफी रचनात्मक होते हैं। वे रचनात्मक व्यक्तियों और उन स्थानों पर काम करना पसंद करते हैं जहां उनकी रचनात्मकता का पता लगाने की अनुमति होती है। यह उनके लिए प्रेरणा का एक स्रोत है और उन्हें जिंदा रखता है। यह एक ऐसी पीढ़ी है जो बहुत जल्दी ऊब जाती है। परंपरावादियों के विपरीत वे अपनी नौकरी काफी बार बदलते हैं।

निष्कर्ष

मानव जाति लगातार विकसित हो रही है और इसलिए विभिन्न पीढ़ियों से संबंधित लोगों की विचारधाराओं में बदलाव आया है। हालांकि किसी अन्य से अलग राय होना पूरी तरह से ठीक है लेकिन कभी-कभी यह संघर्ष का एक कारण भी बन सकता है।


 

जनरेशन गैप (पीढ़ी अंतराल) पर निबंध – 5 (600 शब्द)

प्रस्तावना

जनरेशन गैप एक प्राकृतिक क्रिया है। इस दिशा में किए गए अध्ययनों से पता चला है कि एक पीढ़ी दूसरी पीढ़ी से अलग क्यों है? ऐसा कुछ है जो स्वाभाविक रूप से उनमें आता है और यह एक तरह से एक अच्छी बात है क्योंकि इस तरह से मानव प्रजाति विकसित हो रही है।

जनरेशन गैप-रिश्तों पर प्रभाव

नए विचार और तथ्य हमेशा अच्छे होते हैं। इस तरह हमारे चारों तरफ की दुनिया अलग-अलग स्तरों पर विकसित होती है। हालांकि दो पीढ़ियां विशेष रूप से माता-पिता और बच्चों के बीच सोच और विचारों में अंतर अक्सर संघर्ष का एक मुद्दा बन जाता है। इस संघर्ष की वजह से संबंधों में तनाव आ जाता है।

माता-पिता को अपने बच्चों से बड़ी उम्मीदें होती हैं। उनकी एक निर्धारित छवि है कि कैसे उनके बच्चों को उनकी परंपरा, मूल्यों के साथ-साथ उनके विस्तारित परिवार के अन्य सदस्यों से व्यवहार करना चाहिए। उन्हें लगता है कि वे जानते हैं कि उनके बच्चों को अपने जीवन में क्या करना चाहिए। अब समस्या तब होती है जब बच्चे के मन में एक अलग सोच बसी होती है (जो ज्यादातर मामलों में होती है)। ऐसा होने की वजह से संघर्ष शुरू होता है। यह कहना सही नहीं है कि माता-पिता हर बार पूरी तरह से गलत हैं। वे बड़े हैं और निश्चित रूप से अपने बच्चों के लिए आदर्श निर्देशक हैं और कई बार वे अपने बच्चों के लिए सही निर्णय भी लेते हैं। हालांकि युवा पीढ़ी शायद ही कभी इस चीज़ को समझ पाए। यह दुख की बात है कि जनरेशन गैप कई रिश्तों में खटास का कारण रहा है।

कैसे इस अंतर को भरा जाए?

माता-पिता का रिश्ता दुनिया में सबसे सुंदर संबंध है। इसका प्यार से पालन पोषण करना चाहिए और देखभाल के साथ संभाला जाना चाहिए। यह देखना जरुरी है कि कैसे ये रिश्ते जनरेशन गैप की वजह से कमज़ोर पड़ रहे हैं।

ऐसा देखा जाता है कि पुरानी पीढ़ी हमेशा एक बेहतर निर्णायक और निर्णय निर्माता होने का दावा करती है और युवा पीढ़ी अक्सर ख़ुद को अपराधी की तरह महसूस करती है। यह समझने का समय है कि जो भी कुछ वे करते हैं न तो वे इसमें पूरी तरह से गलत हैं और ना ही पूरी तरह से सही हैं। वास्तव में इस मामले में सही और गलत की परिभाषा अलग-अलग पीढ़ियों के लिए अलग है। इसके लिए स्वीकृति और समझने की आवश्यकता है।

पुरानी पीढ़ी के लोगों को यह समझना चाहिए कि उनके बच्चे दूसरे युग में पैदा हुए हैं और इसलिए उनकी मानसिकता उनसे अलग है। माता-पिता और दादा-दादी को, उनके नियमों और विचारों को अंधाधुंध रूप से लागू करने के बजाय, ध्यान देना होगा कि उनके बच्चे क्यों अलग व्यवहार कर रहे हैं और अलग-अलग राय क्यों रखते हैं।

माता-पिता को अपने बच्चों की मनोदशा को समझने के लिए उनका दोस्त बनना चाहिए। दूसरी ओर बच्चों को अपने माता-पिता का सम्मान करना चाहिए। उन्हें अपने माता-पिता पर भरोसा करना चाहिए और उनके साथ अपने विचार साझा करना चाहिए। बच्चों को अपने माता-पिता से बातचीत के लिए हमेशा तैयार रहना चाहिए और समझना चाहिए कि उनको उनके माता-पिता से मिलने वाली सलाह गलत नहीं है। यह उन्हें उनके जीवन में प्रगति करने में मदद करेगा।

माता-पिता को हर बार अपने बच्चों पर नज़र नहीं रखनी चाहिए और उन्हें हर चीज में टोकने की बजाए उन्हें प्रोत्साहित करना चाहिए। माता-पिता को अपने बच्चों को छूट देते समय कुछ सीमाएं निर्धारित करनी चाहिए जिसका बच्चों को भी सम्मान करना चाहिए। दो-तरफा संचार एक मजबूत संबंध का आधार है और दोनों माता-पिता और बच्चों को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि वे इसे बनाए रखें। हर गंभीर मुद्दे पर चर्चा की जानी चाहिए और दोनों पार्टियों को इस पर बहस के बजाए एक दूसरे के दृष्टिकोण को समझने की कोशिश करनी चाहिए।

निष्कर्ष

जनरेशन गैप इसलिए होता है क्योंकि दुनिया लगातार बदलती रहती है। हमें यह समझना चाहिए कि अलग-अलग समय में पैदा हुए लोग एक-दूसरे से अलग होते हैं। लोगों को एक-दूसरे पर अपने विचारों और विश्वासों को थोपने के बजाए एक-दूसरे के व्यक्तित्व का सम्मान करना चाहिए।